Articles by "कुंवारी चूत की chudai"

adult stories in hindi Antarvasna Story baap beti ki chudai ki kahani bahan ki chudayi balatkar ki kahani behen ki chudayi bhabhi ki chudai bhai bahan ki chudai bhai bahan sex story in hindi bollywood actress ki chudai ki kahani bollywoos sex stories in hindi chacha bhatiji ki chudai ki kahani chachi ki chudai ki kahani chhoti bahan ki chudai chhoti ladkai ki chudai chudai ki kahaniya dehati chudai ki kahani devar bhabhi ki chudai ki kahani Didi ki Chudai Free Sex Kahani gand chudai gand chudai ki kahani gangbang ki kahani Ghode ke sath desi aurat ki sex story girlfriend ki chudai gujarati bhabhi habshi lund se chudai hindi sex stories Hindi Sex Stories Nonveg hindi urdu sex story jija saali sex jija sali ki chudai ki kahani Kahani kunwari choot chudai ki kahani Losing virginity sex story mama bhanji ki chudai ki kahani mama ki ladaki ki chudai marathi sex story mote lund se chudai ki kahani muslim ladaki ki chudai muslim ladki ki chuadi nana ne choda naukarani ki chudai New Hindi Sex Story | Free Sex Kahani Nonveg Kahani Nonveg Sex Story Padosi Ki Beti pahali chudai pakistani ladaki ki chudai Pakistani Sex Stories panjaban ladki ki chudai sali ki chudai samuhik chudai sasur bahu ki chudai sasur bahu ki sex story sasural sex story school girl ki chudai ki kahani seal tod chudai sex story in marathi suhagraat ki chudai urdu chudai ki kahani in urdu Virgin Chut wife ki chudai zabardasti chudai ki kahaniya एडल्ट स्टोरी कुंवारी चूत की chudai गर्लफ्रेंड की चुदाई गांड चुदाई की कहानियाँ जीजा साली सेक्स पहलवान से चुदाई बलात्कार की कहानी बाप बेटी की chudai की सेक्सी कहानी मामा भांजी चुदाई की कहानी ससुर बहु चुदाई सेक्स स्टोरी
Showing posts with label कुंवारी चूत की chudai. Show all posts

Punjabi Girl Bahut Jyada Garam Thi

Punjabi Girl Bahut Jyada Garam Thi


Adult Stories Mai ek 31 saal ka hatta katta shadishuda mard hu aur mere 2 bacche bhi hai, par jaise2 shadi thodi purani hoti hai biwi se mann ubne lagta haior biwio ka patio se hamari shadi bhi kuch alag nahi thi. Mai senior manager ki post pe job karta hu aur fit hone ki wajah se 27-28 sal ka hi lagta hu. Tight Gand Desi Porn

Meri company ne mere ko mba karne ke liye fund kia, jiske liye mere ko weekend class lene jana hota tha, ye hindi sex stories meri mba class ki hi hai. Meri pehli class thi aur mai har ladke ki tarah prarthna karaha tha ki is class mai khub ladkia ho, shadi ke bad mai sach mai sex ka bhukha ho gaya tha, mere liye sundarta zyada mayne nahi rakhti, bas jism kasa huya hona chaiye.

Mai pahuchne ke baad baki students ka intzar kar raha tha, dhere-2 kafi students aye aur mene apna nishana ek ladki pe tika liya jo ki kareeb 25 saal ki hogi, kad uska acha tha heels ke sath wo 5’7″ lag rahi thi. Uske simple sa lal top pehna tha aur blue jeans pehni thi.

Wo kafi gori thi aur nain naksh bhi theek the, meri class mai sundar ladkia to aur bhi thi par usne mera dhyan akarshit kia kyuki wo kafi patli thi aur kasa hua mal tha uske boobs zyada mote nahi the par ubhare huye the. Uske chehre pe masumiat thi, aur uski kaamr tak lambi choti thi jis se mujhe pata chal gaya ki wo sardarni hai.

Mere sabhi readers ko to pata hi hoga ki sardarnia kitni garam hoti hai, uske bare mai sochte hi mera lund tanna gaya aur mere usko pane ka irada bana liya. Sab ne lecturer ko introduction dia, usne apna naam Jasveen bataya, ab mene usko peeche se dekha kyuki wo mere aage bethi thi aur khade hote sir se bat karahi thi.
Mast Hindi Sex Story : Truck Driver Ka Mota Dick Chata

Uski gand kafi tight thi uski figure 32-28-36 hogi uski thighs bhi badi moti thi. Wo software engineer thi, kismat se mai bhi software development company mai manager hu to mene apne introduction mai bataya ki main sr,manager hu aur single bhi hu aur company ke bare mai bataya taki mai uska dhyan kheech saku ya job ka lalach de saku.

Usko mai akser dekhta aur class mai meri smartness dekh wo samjh gayi ki mere sath dosti karke usko fayeda hai. Hum aksar sath bethte aur mai uski padai mai madad karta par kabhi kuch aur hint nahidia taki usko lage ki main bahut serious hu.

Mene uska resume bhi le liye is bahane se uski personal details bhi agayi aur usse lagr aha tha ki main bahut koshish karaha hu usko apni company mai lane ko. Hum mobile no, exchange kar chuke the lekin aksar mai usko kam ki bat ke liye hi msg karta jaise ki class timing wagerah, uska ek rat mere pass joke aya whatsapp pe, mene sad smiley bana ke bhej dia.

Jasveen::( kyu.

Mai: kuch nahi.

Jasveen: batao to.

Mai: kal class mai bat karein?.

Jasveen : ok.

Mene usko rat bhar mere bare mai sochne ke liye chod dia, agle din sham ko jab class khatam hui to wo mere sath bat karne ko ruk gayi. Mene usko bataya ki mere friends valentine day party mana rahe hai aur mere pass koi date nahi hai, sab mere ko chidate hai is sal bhi mai single hi hu, kya tum mere sath chaloge?

Jasveen: 14th feb ko?Yaar mai zarur apki madad karti par mera fiance’ mere ko phone karga wo us mai hai.

Mai: yaar ap phone pe bat karlena mai tab dosto ke sath beth jaunga kahunga apki mom ka phone hai.

Jasveen: thoda sochte huye,kaha ka plan hai.

Mai: hum gurgaon mai farm house pe party karenge wahi se fir mai apko pg drop kardunga.

Jasveen: farm house???Nahi I cant go to farm houses.

Mai: arre tension na lo mere sare dost married ya comitted hai, mai usko kuch pic fb ki dkhayi. Please ajao yaar warna fir mai bhi plan cancel kardunga, agar mere pe bharosa hai to chalo.

Jasveen : theek hai soch ke batati hu.

Agle din meri jan atki huyi thi mene excitment mai Jasveen ko msg kia.

Mai: so what have u decided.
Chudai Ki Garam Desi Kahani : Tara Sutaria Aur Kriti Sanon Sexy Figure

Uska koi reply nahi aya, mujhe laga ki wo mana kar degi, sham ko jab mai ghar pahcuha to uska msg aya hua tha, meri dhadkane tez ho gayi aur dekhte hi mai khush ho gaya usme likha tha “yes”. Mene turant apne sare kamine dosto ko conference call pe leke kahani batai aur sabko apni gf lane ko bola kyuki mere office ki aisi koi partyy nahi thi.

Ab mere dost mere collegue ki acting karne wale the, mai to bas usko apni party mai lana chahta tha aur apni banana chahta tha, mene fat fat amazon se uske liye ek red dress khareedi aur uske pg pe delivery karwai, valentine day mai abhi 2 din baki the, mene usko whatsapp pe dress ki pic bhej di. Wo hairan ho gayi aur khush bhi thi kyuki dress bahut sundar thi.

Mai: “thank you for my help, ye dress pehnke chalna”.

Fir agle din hum class mai mile mere chehre ki khushi chup nahi rahi thi wo bhi khush thi ki wo meri madad kar rahi hai. Mene usko class ke bad firse thanks bola aur bataya ki kal mai apko pg se 8pm pic karlunga for party. Agle din mai ready hoke office gaya waha hi change kia aur wife ko dost ke accident ka baahana bata ke apni jaan ko lene chala gaya.

Raste mai mene durex ultra-thin ka ek pack liya, mene apne dosto ko plan bata dia tha ki wo kaise bhi karke apni gf ke sath Jasveen ko bhi thodi pila de baki mai sambhal lunga. Mai uske pg ke bahar intzar karaha tha, aur usko whatsapp ki.

Mai: waiting in black corolla.

Jasveen: please wait.

Mere man mai bahut khab saj rahe the aur intzar nahi ho raha tha, mujhe uspe ab gussa ane laga tha kyu ki 40 min beet gaye the, mene gusse ko shant ki aur bed pe nikalne ka irada banaya. Kareeb ek ghante bad wo bahar ayi, usko dekh mera sara gussa utar gaya.

Usne wahi red dress pehni thi usme uski halki si cleavage dikh rahi thi aur gori-2 bahein bhi kyu wo sleeveless dress thi. Khud ko chupane ko usne upar shawl le rakah tha lekin gadi mai shawl uat dia to mujhe uske husn ke dashan huye.

Usne apne baal curl karwaye the aur dress ke matching red lipstick bhi lagayi thi, uski red dress mai se uski red bra strap bhi dikh rahi thi, mera man to tha ki gadi mai hi uska sar pakad ke apne lund pe daba du aur chuswau, par mai apna plan kharab nahi karna chata tha.

Hum log zayda bat na karte huye farm house pahcuhe wo samajh gayi ki main uski sundarta dekh nervous hu, usko shayd ye acha bhi lag raha tha, mere dosto aur unki gf ne humko great kia aur mene Jasveen ko comfortable feel karwa, usko bhi sase mil acha lag raha tha.

Mene der na karte huye bon fire jalayi aur hum log as pas beth gaye qki farm house mai thand thi. Mere dost ki gf Zoya boli ki chalo hum girls apna enjoy karenge aur tum boys apna drinks ka program karo. Mai yahi chata tha ki ladkia force karke usko wine pila de, mene bhi dosto ke sath whiskey ke 4 peg laga liye. Mera lund ab bekabu ho raha tha aur Jasveen hi usko thanda kar sakti thi.

Mere ko Zoya ka msg aya ” apki darling ab tyar hai usne kafi pee li hai”.

Fir mai Jasveen ke pass gaya aur usko shoulder se pakad ke puch “are u ok baby”.
Mastaram Ki Gandi Chudai Ki Kahani : Baat Aage Badhi Toh Chudai Pe Jakar Ruki

Usne smile kia aur yes kaha, shayad use mera otuch acha laga aur shayad wo man hi man mujhe chahti thi. Fir mere dost ne sabko kaha chalo dance karte hai, mene bhi Jasveen ko dance ke liye kheech liya. Na chahte huye bhi usko meri zabardasti achi lag rahi thi. “Tight Gand Desi Porn”

Usne mere shoulder pe sir rakh lia aur hum dnace karne lage, mene mauka pakar uski kamar mai hath rakha aur kareeb kheech lia, usne ankh utha ke meri aur dekha. “i love u, ur so bfull” mene halke se uske kan mai kehdia.

Ab uski pakad mujhpe mazboot ho gayi. Mai apne hath se dance karte huye uski peeth ko sehla raha tha kyuki kafi thand thi aur uski dress backless thi, use acha lagne laga. Mene chehra uske pass le gaya aur uske galo ko chuma, uski eyes band thi, meri harkatein dekh baki dost bhi hamara video banane lage.

Jasveen man ho rakhi thi, mene apna hath uski puri nangi peeth pe fera aur gallo ko chumte hye pakda aur lips pe halke se kiss kia, usne apne hoth khol diye, mene apni jeebh ko pehle uske nichle hoth pe fera aur fir upar wale hoth ko chusa ahhhhhhhhhhhhh usne siskari bhari.

Hum dono dance karte huye ruk gaye aur smooch karne lage wo bahut pyari kisser thi usne halki si jeebh nikali aur mere muh danto pe feri, mene uski gand ko dono hatho se jakad lia aur uske muh mai jeebh dalke kiss karne laga.

Ab hum dono se ruka nahi ja raha tha, mene usko baho mai utha liye aur ander bedroom mai le gyaa, mere baki dost bhi apni gf ke sath alg gaye, jab mene Jasveen ko letyaa usne eyes kholi, mene apne right hand ko uski gal pe rakh ke masla aur uske muh mai apna angutha dala, Jasveen ab garam ho chuki thi, wo apni jeebh mere anguthe pe fer rahi thi.

Mai vishwas nahi kar pa raha tha ki 20 din mai wo garam sardarni mai bistar pe thi, mene uske galo ko chuma, uski eyes ko chuma aur uske boobs ko dress ke upar se dabaya, mene uski dress neeche khiskane ki koshish ki to wo dheeme awaz mai boli “nahi pleaseeeeeeee”. “Tight Gand Desi Porn”

Mai samajh gaya ki abhi usko tadpana padega, mai uske booobs ko dress ke upar se daba raha tha aur lips chus raha tha, dusre hath ko mene uski chut pe rakha aur kass ke masla, “uffffffffffffffffffffff oh my god”.

Mene uski dukhti rag pakad li, mai niche khisakta huya gaya aur uske pet ko chuma gand ko masla aur legs ke pass gaya uski heels utari aur pairo ko chumne chatne laga, uske pair gulabi the, mene uske tango ko uthaya aur thigh pe hath ferne lgaa aur tango ko chatne laga, uski dress kamar tak utha ke mai uski jango ke beech gaya.

Mene uski panty ko geela paya usne matching red color ki panty pehni thi, mene uski dono jagho ko choda kia aur dono pe halke se kata, “ohhh jaan what r u doing”making mai crazy” kha jao mujhe. Mene usi gili panty pe apne hoth tika diye aur use chusne laga.
Antarvasna Hindi Sex Stories : Antarvasna Chikni Chut Ki Mehak Madhosh Kiya

Wo mere bal kheech rahi thi, chatpata rahi thi, mai uski chut ko kha raha tha, usne shayd ye anubhav kabhi nahi liya tha. Fir mere se raha na gaya mene uski panty utar di, aur uski 2-4 photo khech li jisme wo nangi leti hai, tabhi uska phone jo viberation pe tha baja wo usa ka no, tha jo shayd uske fiance ka tha.

Mene uske pick kar lia taki Jasveen ko pata na chale aur uska mangetar awazein sun sake. Mene Jasveen ki chut mai apni ungali dal di, wo cheekhi”ohhhhhhhhhhhhhhh god kya karahe ho”mere pass ao na, mai uski thighs ko daba ke usi chut mai ungali karhaa tha. “Tight Gand Desi Porn”

Wo siskia le rahi thi ahhhhhhhhhhhh oh my god zor se chilayi aur uska pani nikal gaya. Ye sari awazein uske mangetar ne zarur suni hongi, mene phone kat dia aur uske pani se apna lund gila kia, aur uski chut pe mara, mera lund bahut mota aur garam tha, 7″ lamba aur 3″ golai mai.

Jasveeni: please fuck mai I cant control.

Mai; aise kaise I want a blowjob.

Jasveen: what???

Mai: chus na yaar, mai uske upar agay aur uski parwah kiye bin uske muh pe apna lund ragadne laga, uske galo pe hotho pe kass ke lund mara jo mota aur bhari bhi hai, usne kiss kia uspe, shayd kabhi chusa nahi tha.

Mene uske bal pakde aur ungali dal ke muh khuwaya, jaise hi usne thoda muh khola mai pura lund uske muh mai dal dia, pura lund muh mai jate hi uske gale mai laga, aur usne chatpata ke nikal dia.

Mai: arre chus na yaar, kyu tadpa rahi ho.

Usne mera lund pakda aur kass ke dabaya, mujhe bahut maza aya usne abki bar meri skin peeche kheechi aur tope ko chata, us pe jeebh ferai aur muh mai leke chusne lagi. Uska chota sa muh mai mera adha bhi nahi ja raha tha, par wo mere balls ko sehla rahi thi jo mujhe bahut acha laga, mera thoda sa muth uspe muh mai nikal gaya. Ab mene usko dhaka mara aur bistar pe litaya, aur uski chut pe lund tika ke ek jor dar jhatka mara.

Jasveen: aaaucchhhhhhhhhhh kya karahe ho.

Mai uski ek na suni uski shoulder pakde aur 4-5 jhatke mare aur raka nahi jab tak mai balls uso na chu gaye. Wo bahut chapata rahi thi, is liye mene ab uko chuma pyar se, ilove u bola, uski gand ko dbaaya boobs ko chusa taki wo thoda control mai asake. “Tight Gand Desi Porn”
Kamukata Hindi Sex Story : Uncle Maa Ko Garam Kar Rahe The Pelne Ke Liye

Fir mai dobra jhtke dena shuru kia ahhhh ahhhhhhh ahhhhh ahhhhh honey, ap bahut payre ho, I love u too. Ab wo mere lund ki diwani ho gayi thi, wo khud ulchal-2 ke mere lund ko achi ragad de rahi thi, mera bhi ab jhadne wala tha, mene jaldi se condom hatya aur bahar nikal ke hilana shuru kar diya.

Jaise hi Jasveen uthi mene sara verya uske muh pe nikal dia, jo usko acha na lga, par mere ko apna veerya chatwana bahut pasand hai. Ab Jasveen thodi hosh mai thi, uthi aur shower lene gayi, mai bhi uske sath ghus gaya aur hum dono ne ek sath shower lia, ab hum dono couple hai mera ya uska jab man hota hai mai uske pg mai jake usko chodta hu, mai usko apni compnay mai bhi lgwa raha hu taki hame aur time mile sath bitane ko.

स्कूल में कुंवारी चूत चोदी

स्कूल में कुंवारी चूत चोदी


बात स्कूल के दिनों की है जब मैं बारहवीं कक्षा में पढ़ता था, तब हमारी क्लास में एक बहुत ही खूबसूरत लड़की पढ़ती थी, जिस पर हर कोई लाइन मारता था लेकिन वो मुझ पर मरती थी और मेरा भी दिल उसे चोदने को बहुत करता था। लड़की इतनी खूबसूरत थी कि हर एक का लन उसे देख कर खड़ा हो जाता था।


एक दिन मैंने उस लड़की से अपने प्यार का इजहार कर ही दिया और वो भी झट से मान गई जैसे वो पहले ही तैयार बैठी थी। उस दिन हम दोनों इकट्ठे पैदल स्कूल से आये तो रास्ते में प्यार भरी बातें ही की। धीरे धीरे हमारा प्यार आगे बढ़ा तो मैंने उसे हाथ भी लगाना शुरू किया। आखिर वो घड़ी आ गई जिसका मुझे बेसब्री से इंतजार था, मैं उसके नाम की कई बार मुठ भी मार चुका था।


एक दिन जब हम घर को वापिस आ रहे थे, रास्ते में मैंने उसको पकड़ कर किस की। पहले तो उसने ना की लेकिन जब मैंने उसके होंटों को अच्छे से चूमा तो वो भी मेरा साथ देने लगी। उसने स्कर्ट और कमीज पहनी हुई थी, मेरा हाथ धीरे धीरे उसके मम्मों पर गया और मैंने उन्हें मसलना शुरू कर दिया।


वो भी गर्म हो गई, मैंने उसकी कमीज के ऊपर वाले दो बटन खोल कर अन्दर हाथ डाल दिया और उसके मम्मों को जोर से मसलने लगा। पहले तो उसने मुझसे छुटने की कोशिश की लेकिन मैंने सोचा कि अगर मैं अब कुछ न कर पाया तो कभी भी कुछ नहीं कर पाऊँगा।


फिर मैंने होंसला सा करके उसकी स्कर्ट के अन्दर भी हाथ डाल दिया। वो और गर्म हो गई। फिर मैंने अपना लन अपनी पैंट में से बाहर निकाल दिया। तब तक उसे भी मजा आने लग गया था। जब मैंने अपना लन उसे पकड़ा दिया तो वि शरमा गईई और मेरी ओर देखने लगी। मैंने उसकी शर्म दूर करने के लिए उसका हाथ पकड़ कर आगे पीछे करना शुरू कर दिया और उसकी स्कर्ट को ऊपर उठा दिया और उसकी फुद्दी के साथ अपना लन रगड़ दिया। वो भी अब पूरी तैयार हो गई थी। मैंने उसकी गीली हुई फुद्दी में अपना लन घुसाने की कोशिश की लेकिन उसकी फुद्दी बड़ी कसी थी क्योंकि अभी तक उसका मुहूर्त नहीं हुआ था, फिर मैंने जोर लगा कर अपना सुपारा उसके अन्दर थोड़ा घुसो दिया तो वो दर्द से बिलबिला उठी। मैंने उसे दर्द से निजात दिलाने के लिए उसकी चूची अपने मुँह में ले ली और उसे मजा आने लगा।


फिर मैंने अहिस्ता अहिस्ता अपना लन उसकी फुद्दी में घुसेड़ना शुरू किया और वो भी मेरा साथ देने लगी। अभी मैंने अपना आधा लन ही उसके अन्दर डाला था, वो मजा लेने लगी, फिर मैंने आहिस्ता से अपना पूरा लन उसकी फुद्दी में डाल दिया और अन्दर-बाहर करने लगा।

School Me Kuwari Choot Chodi


इस चुदाई का मजा मैंने उसे घोड़ी बना कर लिया तो वो थोड़े ही समय के बाद झड़ गई और उसे बहुत मजा आया लेकिन झड़ने के बाद जैसे ही वो मेरा लन बाहर निकलने लगी तो मैंने उसे पीछे से पकड़ लिया।


उसने मुझे छोड़ने को कहा तो मैंने कहा- रानी, अभी तो तेरा काम हुआ है, मेरा अभी बाकी है।


उसने कहा- तेरा काम कैसे होगा?


तो मैंने उसे कहा- जब तू मेरा लन अपने मुँह में डाले तब !


उसने कहा- फिर क्या होगा?


मैंने कहा- जैसे तेरे को मजा आया है, वैसे जब मेरे को मजा आएगा, तब मेरा काम होगा।


फिर उसने मेरे गीले लन को, जिस पर थोड़ा सा खून भी लगा हुआ था, को अच्छी तरह साफ़ किया और कहा- यह खून कहाँ से लगा? तो मैंने कहा- तेरी फुद्दी फटी है, उसमें से खून निकला है।


और जब उसने अपनी फुद्दी को हाथ लगाया तो उसमें से थोड़ा खून निकला, जिसे देख कर वो रोने लगी।


मैंने सोचा कि यह तो पंगा खड़ा कर लिया है, इसे बताने की जरूरत ही नहीं थी।


उसने कहा- अब यह खून निकलता रहेगा और मेरे घर वालों को पता चल जायेगा।


मैंने उसे समझाया- ऐसा सब लड़कियों के साथ होता है लेकिन किसी को कोई पता नहीं चलता।


फिर वो थोड़ा सा चुप हो गई और सिसकारियाँ लेती हुई मेरे लन को अपने मुँह में डालने लगी।


फिर क्या था, वो बड़ी मस्ती से अपने मुँह में लोलीपोप की तरह मजा लेने लगी और करीब पाँच मिनट के बाद मेरा भी काम जब होने लगा तो मैंने जोर जोर से उसके मुँह में धक्के मारने शुरू किये।


और जैसे ही मेरा काम हुआ तो मैंने अपना सारा माल उसके मुँह में ही उड़ेल दिया, जिसके बाद उसने भी उसे बड़े मजे से पी लिया और कहने लगी- बड़ा मजा आया ! हम रोज ऐसा करेंगे !


उसके बाद हम लोग अपने अपने घर को चले गए।


हमारा चोदा-चोदाई का सिलसला इस तरह ही स्कूल से आते-जाते हुए चलता रहा और अब वो भी पूरी तरह तजुर्बेकार हो चुकी थी।


यह कहानी मैं आप सब के साथ इस लिए बाँट रहा हूँ कि कभी भी खुले में सेक्स नहीं करना चाहिए नहीं तो कभी न कभी आप फंस सकते हैं। ऐसा ही कुछ हमारे साथ भी हुआ।


उस दिन हम दोनों रोज की तरह घर वापिस आ रहे थे, हमारे दोनों की कहानी अब तक स्कूल में सभी को पता चल गई थी और हम जब घर वापिस आ रहे थे तभी हमारा मूड बन गया और हम दोनों अपनी उसी जगह पर चले गए जहाँ पर हम चोदा-चोदाई करते थे। फिर हम बिना दर के वहाँ पर एक दूसरे के साथ लिपट कर वही सब कुछ करने लगे जो एक लड़का लड़की करते हैं लेकिन हमें नहीं पता था कि हमें कोई देख भी रहा है।


अभी हमें लगे हुए करीब दस मिनट ही हुए थे कि हमारी क्लास के दो और लड़के जो कई दिनों से हम पर नजर रखे हुए थे, आ गए और उन्होंने हमें सेक्स करते हुए ऊपर से ही पकड़ लिया जिन्हें देख कर हम पहले थोड़ा से डर गए लेकिन मैंने उन्हें समझाया कि यार किसी से मत कहना क्योंकि वो रोने लग पड़ी थी।


उन लड़कों ने कहा- हम किसी से कुछ नहीं कहेंगे अगर यह हमें भी फुद्दी दे !


पहले तो वो नहीं मानी लेकिन मैंने उसे मना ही लिया।


फिर क्या था, उसके हाँ करते ही उन दोनों ने अपनी पैंट में से फटाफट अपने लन निकाले जो पहले से ही फर्राटे मार रहे थे।


इतना देख कर वो बोली- मैं दोनों के साथ कैसे कर सकती हूँ एक साथ?


तभी उन में से एक बोला- अब दो नहीं, हम तीनों मिल कर तुम्हें चोदेंगे रानी !


फिर क्या था, मैं तो पहले से ही लगा हुआ था, मैंने अपना लन उसके मुँह में डाल दिया, एक ने उसके हाथ में पकड़ा दिया और एक ने उसकी फुद्दी में घुसा दिया जिसे देख कर अब तो वो बिल्कुल रंडी ही बन गई थी।


अब हम तीनों मिल कर उसे चोद रहे थे और वो भी पूरा साथ दे रही थी। तभी हम बारी बारी झड़ गए और जाने लगे। तभी मेरे दोनों सहपाठियों ने उससे कहा- रानी, अब हम तीनों ही तुझे चोदा करेंगे !


तब उसने भी हाँ में सर हिला दिया, फिर उसके बाद हम जब तीनों इकट्ठे होते तो उसे चोदते थे और वो भी बड़े मजे से फुद्दी देती थी।


यह सिलसला काफी लम्बे समय तक चलता रहा। आखिर जब हमारी बारहवीं की क्लास खत्म हो गई तब वो गर्ल्स कॉलेज में पढ़ने के लिए चली गई तो हम बॉयस कोलेज में !


उसके बाद करीब एक महीने के बाद उसकी शादी हो गई और आजकल वो दिल्ली में है लेकिन हम अभी तक कुंवारे ही हैं। उसकी पढ़ाई भी बीच में ही रह गई। यह थी मेरी सच्ची कहानी जो मेरे साथ बीत चुकी है। मुझे कमेंट करके जरूर, बताएँ कि कहानी कैसी है।

Sasur Ji Ka Mota Lund Meri Chut Mein Ghusa

 

sasur-ji-ka-mota-lund-meri-chut-mein-ghusa,ससुर जी का मोटा लंड मेरी चूत में घुसा

मैं शादी सुदा हूँ ये स्टोरी आज से २ साल पहले की है जब मै नई नई सुसराल आयी थी. मेरे सुसराल में केवल ४ लोग है मेरी सास ४० वर्ष की ससुर ४५ वर्ष के ननद १८ साल की और मेरे पति का मार्किटिंग का काम था इसलिए वो जयादातर शहर से बाहर ही रहते थे मेरी शादी को केवल ४ महीने ही हुए थे और मेने केवल ८-१० बार ही सेक्स किया था एक दिन की बात है, घर में मै और मेरी ननद ही थी मै अपने रूम में टी.वी देख रही थी मुझे पेशाब लगी और मैं अपने रूम से निकल कर टोलिट जाने लगी तभी मुझे ऐसा लगा की मेरी नंनद पूजा रो रही है मुझे ये आवाज उसके रूम से आ रही थी मेने सोचा आवाज लगाउ फिर कुछ सोच कर रूम के की होल से देखने लगी.

अंदर का नज़ारा देख कर में तो सन्न रह गयी अंदर पूजा फर्श पर नंगी पडी थी और हमारा कुत्ता उसकी चुत चाट रहा था ये देख कर मेरे तो होश हे उड़ गए फिर मेने देखा पूजा ने कुत्ते का लंड पकड़ कर अपनी चुत में डाल लिया और टौमी किसी पक्के चुद्दकद आदमी की तरह धकके लगाने लगा और पूजा भी अपनी गांड उछाल उछाल कर उसका साथ दे रही थी मुझसे ये सब देखा नहीं गया और में वहा से हट गयी !
थोड़ी देर बाद टौमी वहा से बाहर निकल आया फिर ….…पूजा भी बाहर आ गयी. मुझे उस पे बहुत गुस्सा आ रहा था मुझे देख कर वो डर गयी मेने उसे बताया मेने सब देख लिया है अंदर क्या चल रहा था

तो वो रोने लगी और कहने लगे मुझसे कण्ट्रोल नहीं होता तो मै चुप हो गयी मैने उस को समझाया कोई बॉय फ्रेंड बना लो और उसके साथ सेक्स का मज़ा लो फिर वो कहने लगी बॉय फ्रेंड तो है लेकिन डर लगता है क्योकी आदमी का लंड तो बहुत बड़ा होता है मैने कहा किसने कहा आदमी का लंड तो बहुत बड़ा होता है तो वो बोली की मैने देखा है मैने कहा किसका देखा है वो बोली पापा का देखा है और उसने बताया पापा का लंड गधे जितना लंबा और मोटा है ,.
मुझे विश्वास नहीं हुआ मैने किसी तरह उसको समझा कर कसम दिलाई आगे से कुते से मत चुदना लेकिन मेरे दिमाग में तो ससुर जी का लंड घूमने लगा था मैने सोचा एक बार ससुर जी का लंड देखा जावे फिर एक दिन मोका मिल ही गया घर के सब लोग बाहर गए हुए थे और दो दिन बाद आने वाले थे केवल में और ससुर जी घर पे थे मैने सोचा अच्छा मोका है,

मैने रात को उनके दूध में नीद की गोलिया मिला दी वो रात को दूध पी कर सो गए एक घंटे बाद ससुर जी के रूम में गयी उनको हिलाया मगर वो नहीं हिले में समझ गयी अब वो जागने वाले नहीं है

मैने उनकी लूंगी हटा कर कचछे का नाडा खोला और ……उनका लंड देखा और हैरानी से सन रह गयी उनका लंड सोया हुआ भी करीब 5 ईच लंबा होगा फिर मेरी चुत में भे चीटिया दोडने लगी मेरे मन में आया इसे खडा कर के देखती हूँ मैने लंड को मुह में ले कर थोडा गीला किया और दोनों हाथो से मुठ मारने लगी लंड में जैसे बिजली का करंट दोड गया वो खडा हो कर लगभग १२ ईच लंबा हो गया फिर सोचा देखती हू अगर लंड मेरी चुत में घुसा तो कहा तक जवेगा मैने अपनी साडी और पेटीकोट निकल कर अलग रख दिया और ऊपर से नापने लगी,.

वो मेरी चुत से पेट के बीच तक आया ये सब देख कर मेरी तो हवा खराब हो गयी जेसे मेंने हटना चाहा तो ससुर जी का हाथ अपनी जाँगो पर पाया उन्होंने मेरी जाँगो को मजबूती से पकड़ लिया था उनकी आँख खुली हुई थे और मेरी और देख कर मुस्करा रहे थे..

वो कहने लगे अब नाप तो लिया है चुत में तो लेकर देखो बड़ा मज़ा आयेगा में डर गयी और वहा से हटना चाहा लेकिन ससुर जी ने मुझे बेड पर पटक दिया और मेरी चूची दबाने लगे में तो उस समय मदहोस सी हो गयी थी चुत भी गीली हो गयी थी मैने उनको रोकने की कोशिश की लेकीन ससुर जी ने मेरी एक नहीं सूनी और मेरा ब्लाउज और ब्रा निकल कर फैक दी और मेरी एक चूची मुह में ले कर चूसने लगे में तो जैसे पागल सी हो गयी !

मेरी चुत में एक उंगली डाल कर अंदर ……बाहर करने लगे थोड़ी देर ऐसा करने से मेरी चुत पनिया गयी थी अब ससुर जी मेरी टांगो के बीच में आ गए और मेरी चुत जोरो से चाटने लगे मुझे लगा मेरा पानी निकल जावेगा मैने ना चाह कर भी ससुर जी का लंड हाथ में पकड़ लिया और आगे पीछे जोरो से करने लगी ससुर जी का लंड इस समय एक मोटी लोहे की राड जेसा लग रहा था अचानक ससुर जी ने लंड को अपने हाथ में पकड़ा और मेरी गीली चुत के दाने पर घिसने लगे मेरी तो जान ही निकल गयी और मेरे मुँह से कामुक सिसकियाँ निकलने लगी लग रहा था,

चुत का लावा अभी बाहर आ जवेगा और ५ मिनट बाद ही मेरी चुत से बरसात होने लगी ससुर जी मेरी तरफ मुस्करा कर देखा और बोले बहु अभी तो लंड चुत के अंदर भी नहीं गया तेरी चुत ने तो ढेर सारा पानी भी छोड दिया यह सुन कर मेरे गाल शर्म से लाल हो गए और मैने धीरे से ससुर जी के कान में कहा पापा जी मेरी चुत बहुत दिनों से पयासी है इसकी प्यास बुझा दो प्लीज

ससुर जी प्यार से मेरे होठ चूसने लगे फिर मेरी चुत चाटने लगे और अपनी जीभ मेरी चूत में घुमाने लगे , अचानक उसने अपनी जीभ मेरे चूत के दाने पर लगाई और कस कर चूस दिया। मेरे मुँह से जोर की सीत्कार निकल गई “उईई ….… माँ………. और…….. चूसो….. न….… ।”
ससुर जी ने अब दो उंगली चुत में डाल दी और अंदर बाहर …करते हुए मेरे चूत के दाने को चूसते रहे मेरी चुत में तो अब जेसे आग लगी थी लगता था एक बार फिर चुत का रस बाहर आ जावेगा ! मैने ससुर जी को कहा पापा जी मेरी चुत मुझे बहुत ही तंग करती है, मुझे ! बहुत ही खुजली मचती है इसमें !

बस अब मेरी चूत में अपना लन्ड डाल कर कस कर चोद डालो !” मेरी प्यास बुझा दो ना अब सहा नहीं जा रहा और ससुर जी के हलंबी लंड को हाथ में ले कर मसलने लगी लंड की मोटाई मेरी मुठी में नहीं आ रही थी ये सोच कर की मेरी चुत आज जरूर फट जवेगी में थोडा डर भी गयी ससुर जी ने ये मेरे चेहरे को देख कर भाँप लिया और प्यार से बोले बहु घबरा मत आज तुझ्रे वो मज़ा दूगा फिर कभी दूसरे लंड से नहीं चुदवाओगी!

लेकिन पापा जी आज आप मेरी चूत को ऐसे चोदना कि इस साली को चैन पड़ जाये !” ससुर जी ये सुन कर थोड़े मुस्कराए और कहा बहु चल अब लंड को मुह में ले कर चूस ! लंड तो पहले से ही लोहे की राड जेसा था मै अब लंड को चूसने लगी ससुर जी भी पुरे जोश में आ गए थे और मेरे मुह को लंड से चोदने लगे मेरी तो साँस ही रुकने लगी ! कुछ देर ऐसा करने के बाद अब ससुर जी ने अपना लंड मेरी चुत के मुह पर रखा और थोडा धीरे से अंदर किया पक की आवाज से लंड का टोपा चुत में चला गया और एक जोर का धकका मारा लंड करीब ३-४ इंच अंदर चला गया .…

मेरी तो जान ही निकल गयी ! ससुर जी पुराने खिलाडी थे लंड पूरा अंदर ना कर के धीरे धीरे धकके लगाने लगे ! लन्ड काफ़ी मोटा और तगड़ा था जिससे मेरी चूत कसी हुई थी। जैसे ही वो अपना लन्ड बाहर निकालता मेरी चूत के अन्दर का छल्ला बाहर तक खिंच कर आता और लन्ड के साथ अन्दर चला जाता। कुछ देर तक ऐसे चोदने के बाद उन्होंने एक तकिया मेरी गाँड के नीचे लगा दिया जिससे मेरी चूत ऊपर उठ गई और चूत का छेद थोड़ा सा खुल गया.!

अपना लन्ड मेरे योनि-द्वार पर रखा और कमर को पकड कर एक जोर से झटका दिया,ससुर जी का पूरा लन्ड मेरी चूत को चीरता हुआ अन्दर के आखिरी हिस्से पर जा टकराया। में उत्तेजना में भर गई, और उनके सीने से चिपक गई और मेरे मुँह से निकल पड़ा,”ओह्ह्ह्…… …हाय्… ………अब……मजा मिला है ! बस पापा जी ऐसे ही चोदते रहो बहुत मज़ा आ रहा है !फिर उन्होंने मेरी दोनों टाँगों को ऊपर उठाया और मेरी चूत में लन्ड तेज रफ़्तार से आगे पीछे करने लगे। पुरे कमरे में फचा फच …. ….फचा फच की आवाज आ रही थी मेरी कामोत्तेजना इतनी तीव्र हो गयी थी कि मेरा सारा शरीर तप रहा था, मैने उन्माद में अपनी दोनों आँखें बन्द कर रखी थी, मेरा शरीर मछली की तरह तड़प रहा था और मुझे कुछ होश नहीं था.

जैसे ही ससुर जी का लन्ड मेरी …चूत में जाता,में अपनी कमर उठा कर लन्ड को अन्दर तक समा लेती, लन्ड के हर प्रहार का जबाव में अपने चूतड़ उठा उठा कर दे रही थी। कमरे में मेरे मुँह से उत्तेजना भरी आवाजें गूंज रही थीं,” आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ! उईईईईई………उम्म्म्म्म्म्म्……… ।आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्……… ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्…… चोद ! मुझे ! कस कर ! हाँ ………और तेज ! जोर जोर से चोद मुझे ! अन्दर तक पेल दे अपने लन्ड को ! फ़ाड डाल मेरी चूत को ! बहुत मजा आ रहा है। और चोद , कस कर चोद, सारा लन्ड डाल कर पेल !

मेरी चूत बहुत ही तंग करती है मुझे ! आज इसको शान्त कर दो अपने लन्ड से ! बहुत दिन बाद चूत की खुजली मिट रही है ! हाँ और तेज ! और तेज ! उईईईईईईइ………आआआअहाआअ………उह्ह्ह्ह्ह्ह्… ह्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्……………ओफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्……………हाँ…………” अचानक मेरा पूरा जिस्म अकडने लगा और में झड़ गई इतनी जोर से स्खलित हुई की गर्म गर्म रस से मेरी चुत भर गयी। अभी भी ससुर जी लगातार मुझे तेजी से चोदे जा रहे थे और करीब १५ मिनट तक चोदने के बाद मेरी चुत में ही झड गए! मुझ में अब उठ कर बैठने की भी हिम्मत नहीं थी! ससुर जी ने मुझे गोद में उठाया और बाथरूम में ले गए मुझे जोर का पेसाब लगा था.

मैने ससुर जी को कहा आप बाहर जाओ मुझे …पेसाब करना है लेकीन ससुर जी नहीं माने और कहा बहु तेरी चुत से पेसाब निकलता हुआ मुझे देखना है! में शरमा गयी ससुर जी बोले बहु अब क्यों शरमा रही हो और में सर नीचे कर के कमोड पर बैठ कर उनके सामने मूतने लगी और मैने देखा मेरी चुत से पेसाब के साथ खून भी आ रहा था मैने ससुर जी पर नाराजगी दिखाते हुए कहा आपने मेरी चुत फाड दी है देखो खून भी आ रहा है .

ससुर जी ने नीचे झुक कर मेरी चुत के दाने पर उंगली रगड़ दी अब मेरी चुत में जोर से खुजली हुई और मैने ससुर जी को देखा उनका हलंबी लंड पुरे जोरो से खडा था एक बार तो में लंड को देखते ही डर गयी लेकीन क्या करती मेरी चुत में भी तो जोरो की खुजली लगी थी अब में बेशरम बन गयी थी ससुर जी के लन्ड को मुह मे ले कर चुसने लगी और देखते ही देखते लन्ड महाराज मेरी पकड़ से बहार होने लगे.!

ससुर जी बोले बहु एक बार और चुदाई कर लेने दो मेने चुपचाप लन्ड को चुत के दाने से रगडना शुरु कर दिया मेरी चुत मे तो जेसे आग लगी थी अब ससुर जी ने एक ही झटके पुरा का पुरा लन्ड चुत मे डाल दिया मेरी तो जान ही निकल गई और मेने कहा पापा जी मज़ा आ गया चोदो अपनी बहु को जोर से चोदो! कमोड पर बैठे हुए ससुर जी ने मेरी दोनो टागे अपने कधे पर रखी हुई थी

इस तरह से मेरी गान्ड का भुरा .……छेद साफ़ दिखाई दे रहा था ससुर जी ने चुत से लन्ड निकाला और मेरी गान्ड मे पुरे जोर से अनदर कर दिया मेरी जोरो से चीख निकल गई हाय माँ मर गई! ससुर जी का लन्ड मेरी गान्ड मे पिसटन की तरह चल रहा था! मुझ से बरदाश्त नहीं हुआ और मेरी चुत ने लबालब रस छोड दिया!

आधे घंटे की घमसान गान्ड चुदाई के बाद ससुर जी ने मेरी गान्ड लन्ड रस से भर दी! अब तो ससुर जी का हलंबी लंड मेरी मुनिया चुत को भा गया था और रोज़ ही रात को चुदाई का खेल होने लगा ! एक रात को मेरी नंनद पूजा ने मेरी चुदाई का खेल देख लिया और मेने पूजा को ससुर जी यानी पूजा के पापा से केसे चुदवाया वो फिर कभी और नंनद भाभी एक साथ चुदाई का मजा लेने लगे ……….धन्यवाद

17 साल की कुंवारी लड़की की सील तोड़कर चुदाई

17 saal ki kuwari ladki ki chudai,17 साल की कुंवारी लड़की की सील तोड़कर चुदाई,कुंवारी लड़की की सील तोड़कर चुदाई


हमने अपने घर के नीचे के हिस्से को किराये पर दिया हुआ है। वहाँ पर तीन परिवार रहते हैं। एक परिवार में एक पुरुष और दो नेपाली लड़कियाँ रहती हैं, जो बहुत सुन्दर हैं। दूसरे परिवार में एक मियां-बीवी रहते हैं। उसकी तो बात ही मत पूछो। चूचे मध्यम आकार के लेकिन एकदम तने हुए, रंग गोरा। हमारे नीचे वाले बाथरूम के ऊपर तक दरवाजा नहीं है इसी लिए मैं उसके गोरे गोरे मलाई जैसे चूचों के दर्शन कई बार कर चुका हूँ। लेकिन उसकी मेरे साथ सेट्टिंग नहीं हो सकती थी।

अब बात तीसरे परिवार की, उसमें पांच लोग हैं आदमी-औरत उनके दो 10-12 साल के दो लड़के और एक 17 साल की लड़की जिसका नाम कीर्ति है। कीर्ति का रंग सांवला है लेकिन फिगर का क्या कहना, चूचे एकदम तने हुए। यह तो थी जान-पहचान ! अब आता हूँ कहानी या यों कहो की आपबीती पर। कीर्ति बारहवीं क्लास में पढ़ती है। वो रोज शाम को कपड़े सुखाने छत पर आती है। सेक्स कहानी एक दिन मेरी मम्मी ने कहा- कीर्ति आई थी, वो बोल रही थी कि उसने कंप्यूटर सीखना है। मैं मन ही मन खुश होने लगा। वो शाम को 7.00 बजे कंप्यूटर सीखने के लिए आई। मैं उसे कंप्यूटर सिखाने लगा वो मेरी दांई और बैठी थी इसलिए कभी कभी जानबूझ कर मैं माउस चलते समय उसके छाती से अपनी कोहनी लगा देता।उसने कंप्यूटर पर लिख दिया- मनीष आई लव यू। सेक्स कहानी मैंने उससे पूछा तो उसने बताया कि मनीष उसकी क्लास में पढ़ता है।

मैंने उससे बोला- मैं इसके बारे में तेरी मम्मी को बताऊँगा। वो मुझसे कहने लगी- आपको इससे क्या मिलेगा? लेकिन मैं फंस जाऊँगी, मैंने तो गलती से लिख दिया, मैं अब मनीष से प्यार नहीं करती। फिर उसकी मम्मी ने बुला लिया और वो चली गई।अगले दिन उसने ऊपर छत पर जाते समय मेरे कमरे में एक पर्चा फेंक दिया। उसमें लिखा था कि मैं उसकी मम्मी से शिकायत न करूँ, और वो रात को कंप्यूटर सीखने आएगी। मैं शाम को उसका इंतजार करने लगा, वो 7.00 बजे आ गई। सेक्स कहानी वो मुझसे पूछने लगी कि क्या मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है। तो मैंने उसे न में जवाब दिया। उसने मुझे हमारी गली की लड़कियों के चक्करों के बारे में बताया। उसने बोला- न तो आप किसी से प्यार करते हैं और न ही मैं।

17 saal ki kuwari ladki ki chudai


मुझे लगा कि उसका इशारा मेरी ओर था। तो मैंने उसे आई लव यू बोल दिया। उसने शरमाते हुए हाँ कर दी। और इस तरह से हमरी प्रेम कहानी शुरू हो गई। जब भी वो छत पर जाने लगती वो मुझसे मिलने आ जाती। कुछ दिनों के बाद मैंने उसके गाल पर चुम्बन कर लिया। मेरी बहन एक साल से होस्टल में रहती थी और मम्मी पापा का भी विचार बन गया पुणे रहते रिश्तेदारों से मिलने का। मेरे कॉलेज शुरु होने वाले थे इस लिए मैंने जाना रद्द दिया। वो दो हफ्ते के लिए जा रहे थे।सेक्स कहानी कीर्ति और उसका परिवार रोज़ रात को सोने के लिए छत पर आते थे। मैंने कीर्ति को बोल दिया रात को नीचे मुझसे मिलने के लिए आये।वो रात के करीब सवा एक बजे मुझसे मिलने आ गई। मैंने उसे अन्दर बुलकर दरवाजा बंद कर लिया।

मैं उसके गाल पर चुम्बन करने लगा, फिर उसके होंठ चूसने लगा।

उसने अपनी ऑंखें बंद कर ली, मैंने उसके छाती पर हाथ फिराया। तो उसने मुझे ऐसा करने से रोका।

लेकिन मैं उसे समझाते हुए उसके चूचे दबाने लगा और वो गर्म होने लगी, मुझे जोर जोर के पकड़ने लगी।

मैंने उसका कमीज उतार दिया। वो शरमा रही थी और अपने हाथों से अपने आप को छुपा रही थी।

मैंने उसके हाथ फ़ैलाए और उसे अपनी बाहों में समां लिया। मैंने उसकी पजामी ब्रा और चड्डी उतार दी। और खुद तो मैं निक्कर में था मैंने उसे इसको उतारने के लिए कहा तो पहले तो उसने मना किया लेकिन मेरे कहने पर उसने उतार दी। सेक्स कहानी फिर मैंने उसे बिस्तर पर लिटाकर चूमना चालू कर दिया। वो मदहोश हो रही थी, मेरे चूमते हुए उसने मुझे जोर से जकड़ लिया और उसकी चूत से पानी बहने लगा। मैं उसका पूरा शरीर चूमने लगा, वो कहने लगी- प्लीज़ ! मेरी प्यास बुझा दो।

उसने मुझे बताया कि वो पहले किसी लड़के के इतना करीब नहीं आई और इस पर मुझे विश्वास तब आया जब मैंने अपना 7 इंच का लंड उसकी कसी हुई चूत में डाला और उसकी चीखें निकल गई।

मैंने अपनी रफ़्तार कम की और उसके होठों को चूसने लगा इससे वो थोड़ी शांत हुई। उसके बाद मैंने अपनी गति बढ़ा दी उसे भी मजा आने लगा और वो भी चूतड़ उठा कर मेरा लंड अपनी चूत की गहराई तक ले जाने लगी। जब उसकी चूत की दीवारे मेरे लंड को दबा रही थी तो मुझे बहुत अच्छा लग रहा था।

अगले 15 मिनट में वो दो बार अपना कामरस छोड़ चुकी थी। अब मेरी बारी थी, मैंने उसे कहा- मैं झड़ने वाला हूँ। तो उसने बोला कि वो प्रेग्नेंट नहीं होना चाहती।

तो मैंने अपना लंड निकाल कर उसके मुंह पर अपना पानी छोड़ दिया। उसके बाद मैंने 2 बार उसकी चूत और गांड भी मारी। यह मेरी जिंदगी का पहला सेक्स अनुभव था। अब हमें जब भी मौका मिलता है हम सेक्स जरूर करते हैं।

Cousin Ke Rape ki kahani in urdu/hindi

Cousin Ke Rape ki kahani


Hello readers Mara Name Irfan khan ha aur men Abbottabad, kpk ,Pakistan ka Rena wala Hun

Start Mara introductions sa Karate Han Men ak Bohat he Handsome larka Hun aur mari Hight 5'11 ha r completion bilkul fair ha age 19 years ha aur ab tak men 8 bar sex experience kar Chuka Hun ab storie pa ata Han

Ya tab tk bat ha jab men second Year ka papers da ka farag ho chuka tha and feture planing kar raha tha ya bat men phela be mention kar chuka Hun ka men ak handsome larka Hun r mari abi b 10 Girl friends Han (Jin ko manage krna kafi mushkal ha )

Mari ak Bohat he cute se cousin the jis ka name Marosha (change) Tha men hemasha us pa line Marta tha but men us ko patana men nakam tha kuion ka wo Bohat strict the r boys pa bilkul be trust NHe karati the us ke hight 5'6 the aur breast 32-34 (guess) the mari sub girl Friends he cute the but ya Un sa muja zada payari lagati the

Ham logo ka ak dosarey ka gar Ana Jana Bohat free the hm log aksar rat ko dar tak ak dosarey ka gar ruk jata Tha ak bat Jo men batana bhool Gaia ka ham dono ak he college men ak he class men be tha

2nd year ka bad ham Dono combine studies karata  tha aur medical college ka entry test ke tayari karata tha ham dono Bohat zada kosshesh kar raha tha ka medical college men selection ho jay is laia rat kafi dar tak ak sath studies karata tha aur rat ka khana ka bad men usa gar chorana chala jata tha Hamara gar ak dosarey ka gar ka karib tha aur 5-10 min men poncha jata tha


Cousin Ka Rape kiya pakistani sex stories


Ak din rat ko jab men usa chorna Ja raha tha to us ka andara ke waja sa paio slip ho Gaia aur wo gair gaie aur men samaja ka us ka paio nakal Gaia men na apna hath usa daia ka usa utha lun but wo uth NHe paa rahe the men na usa support Kaia r wo ak gali men wall ka sath Beth gaie luck asi the ka us din Marosha apna cell gar bhool ai the aur Mara cell ke charging khatam hona ke waja sa gar chor ka Ayia hoia tha men na usa bola ha ka ab Kaia karey wo Bol rahe the ka wo khud uth ka chali jay ge but wo chal Nhe pa rahe the is waja sa men na usa bola ka men tuma utha ka gar tak la ja raha Hun but us na muja rok daia men na usa bola ka betcho wali batey mat karo men tuma la jata Hun but us na Rona start kar laia men usa khamoesh karwa raha tha 20 min samjana ka bad wo man gaie aur men na usa utha laia apna bazio pa jesa chota sa betcha ko uthata Han wo musalsal ro rahe the r men usa khamoesh karwa raha tha Mara ak hath us ke hibs ka necha tha r dosara kamara sa r Mara hath bar bar
 us ke breast ko touch kr raha tha jis ke waja sa Mara lun khara ho Gaia us ke breast Bohat zada soft the jis ko men na Zara sa touch sa feel kar laia tha actually ya Mara 2nd experience tha Kuion ka men is sa phela men ak gashtee (call girl ) ka sath sex kar chuka tha but wo itna enjoyfull NHe tha

Rasata ka pata he NHe chala tha ka men us ka gar ponch Gaia us ko us ka bedroom men lata ka wapas aa Gaia us rat muja need bilkul b nahe ai aur men na 2-3 bar us ka name ka muth mari aur us din ka bad us ka sath sex karana ka khawab dekhana laga

Well wo kuch din nahe aie aur men seperate studies karana laga raha us na 6-7 din bad dobara Ana start kar laia aur ham normal routine men studies karana laga Mara Mamo ke shadi aa gaie aur Un ke shadi Lahore sa honi the gar men shadi ka mahool tha aur ham dono us men be studies ka pora khayal rakh raha tha ab jab Mara mamo ke Mandhi ke rat ai to sub ko Lahore Jana tha aur ham dono NHe jay kuion ka Suba Hamara entrance test tha gar men sirf wo men aur nani tha nani ke age 75 above ha jab Sara din 12 Beja nakal gay to men na plane Kaia ha aj ka Moka hath sa Jana NHe dun ga r is ka sath lazami sex karu ga


zabardasti chudai ki kahaniya

Rat ko jab ham dono studies kar raha tha to men na Bohat himat kar ka us ka hath parka ka kiss kar daia aur us na ak min be zayia Kaia bagar Mara muu pa ak chanta laga daia aur bola ka limit men raho men kuch be NHe bola aur ua ka pas betha raha thori dar bad men kamara sa bahir chala Gaia

Takrabeen 5 min bad men kamara men Ayia r Mara pas room ke keys the ya guest room tha aur dono sides sa lock hota tha wo muja dekh rahe the men room men Ata he men na room lock Kaia aur keys door ka necha sa bahir phenka de wo kuch dar se gaie aur boli ya Kaia kar rahe ho men na bola ka apna insult ka badala wo ak dam uth ka khari ho gaie men us ka pas Gaia aur us ko pakar ka gara daia ham room men para mature  pa tha wo gaie gaie to men na apna sath lai hoi rasi ka sath us ka hath us ke kamar ka pecha kar ka band daia aur us ka muu pa tap laga de wo Bohat zada harkat kar rahe the men na usa Utha Laia aur bed pa la Gaia aur neck pa biting karana laga us ka muu sa dard ke Waja sa uhhhhhhhhhhh uhhhhhhhhh ke awaza nakal rahe the men ak hath ka sath us ke chute ko shalwar ka uper sa he daba raha tha men bitting aur kissing kar raha tha ayista ayista men na us ke breast pa kissing krna start kar daia wo be ab kuch garam ho chuki the aur hilana Kam kar daia tha men musalsal us ke c
 hute ko duba raha tha

Ab men usa thora sa uth Gaia aur us ke shalwar utar de aur chut ko dubana sharu kar daia ab wo bilkul harkat nahe kar rahe the aur musalsal koeshes sa us ka hath khul gay tha aur us ka apna muu sa tap be hata de wo Mara balo sa muja pakar ka kuud ko kiss karwa rahe tha ab men na apni shirt be utar de aur us ke kameez be us na red colour ka bra phena hoia tha men na wo be utar daia aur ham dono kiss Kara lag gay

Wo bar bar mari neck ko bite kr rahe the aur men usa French kiss kar raha tha ab wo sex ka laia wo bilkul tayar the men na us ke kamar ka necha ak takyia rakh daia ha wo mari taraf ak betab nagio sa dekhana lagi Mara lun Jo ka bilkul tight ho Gaia tha men na us ke chute pa ragarana sharu kar daia ha aur wo release ho gaie aur us ke chute sa pani nakal Ayia


pakistani ladaki ki chudai


Ab men na us ke chute men apna lun gusa daia Mara lun ka sirf sar he us ke chute men Gaia aur us na ak Zor dar chenk mar de aaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaa bahir nakalo plzzzzzzzzzz men na apna ak hath us ka muu pa rakh daia jis sa us ke awaz kuch Kam ho gaie men musalsal kosshesh kar raha tha aur Mara thora sa lun aur us ke chute men chala Gaia aur kuch 5 ak min men Mara Sara lun us ke chute men tha aur phela to wo dard sa tarap rahe the but ab wo bilkul bejan ho ka gair gaie tha us ka jism sa dam nakal Gaia tha kuch daie bad men na apna lun us ke chute men andar bahir karna sharu kar daia jo ka Bohat mushkal sa ho raha tha thori dar bad usa be kuch maza Ana laga r wo be kuch reply Dana lagi r us ka muu sa kuch ahhhhhhhhhhh ehhhhhhhhhhhh ahhhhhhhhhhh aurrrrrrrrrrerrrrrrr araaaaaammmmm saaaaaaa pllzzzzzzzzzzzzzz aurrrrrrr is taraha ke awaza us ka muu sa nakal rahe the
Takrabeen 5 min ke chudai ka bad wo Mara pora pora sath da rahe the pori kamara uta le the r men jataka mar raha tha muja to ya wo marosha lag he NHe rahe the us na apna dono hatho sa mari kamar ko pakara hoia tha r men na apna hath us ka mu ka pas  ak hath ka sath us ke mammo ko duba raha tha

Wo ak bar phr sa releas ho gaie the aur apni kamar necha kr de aur kuch Aram sa ho gaie lakan men musalsal us ke chute ke chudai kr raha tha ab men be release hona wala tha men na apna lun us ke chute sa nakala aur us ka chute ka bahir apna sari mane nakal de aur us ka uper gaie Gaia


Ham 1 hour tk Asa he par raha aur us ka bad us na muja phr sa kiss karana start kar de men na be usa pora sath daia aur 10 min kr kissing ka bad Mara lun phr sa khara ho Gaia aur us na phr sa chudai ke request ke aur men tayar ho Gaia ab ham dono bed sa uth ka couch(sofa) pa chala gaie aur men na us ke dono tango ko utha ka apna shoulder pa rakh laia aur lun ko ak jataka sa us ke chute men dala par Pheli bar sa Kam Zor laga aur chute men chala Gaia ab men usa roz roz sa chod raha tha aur wo enjoy kar rahe the aur us ka muu sa aaaaaaaaa ohhhhhhhhhhhhhh ahhhhhhhhhhhhh ahhhhhhhhhha aaaaaaaa ke awaza phr sa nakal rahe the takrabeen 10 min ke chudai ka bad wo release ho gaie aur us ke chute sa pani nakal Gaia aur patch patch ka awaza Ana lagi lakan men musalsal us ka ke chudai karana laga. Raha aur takrabeen us ka release hona ka 10 min bad men be release ho Gaia aur sb us ke chute men ge gara Gaia

Us rat us ham na takrabeen 5 bar chudai ke aur Suba 4 Beja tak chudai karata raha usi rat men na us ke Gand ke be chudai ke Jis pa us na Bohat zada shore Kaia us ab ham dono Bohat frank Han aur jab be chance milta ha ham dono sex karata Han
Ak maza ke bat ya ka ham dono ka entrance fail ho Gaia ha aur ham dono ak private univestry men parata Han aur jab be chance Mila sex ka moka NHe chorta Han

Koi be cute se girl Mara sath sex ka experience karana chati ho most welcome men sex men exper Hun.
My email address ya ha

Mera kidnap aur Gand Chudai

Mera kidnap aur Gand Chudai


Hello Dosto, ye baat tab ki hai jab main college ke pehle year me padhta tha. Main apne bare me bta dun to meri age 19 thi aur meri body thodi bhari hui hai, aur meri gol gol gand bahar ki aur nikali hui hai.

Jise dekh kar kisi se bhi raha nhi jata hai, aur wo moka milte hi use jor se daba deta hai. Subah subah main college paidal jata tha, kyoki koi bhi mere sath jana pasand nhi karta tha.

College jane ke liye raste me khali jagah padhi hai. Ek din main college ja rha tha, tabhi kuch logo ne piche se meri gand ko daba diya. Wo char log the, aur charo ek badh kar ek sexy jism ki malik the.

Unko dekh kar kisi ki bhi niyat bigad skati thi, toh un logo ne jan meri gand dabayi toh main bola – Ye kya kar rhe ho?

Un me se ek bola – Rani ruk ja itna kyo uchal rhi hai, aaj tujhe hum jannat dikhayegen.

Uske baad baki sab hasne lag gye, main ab dar gya. Fir wo log mujhe paakd kar samne ganne ke khet me le gye. Jo ki ek side se khali tha, un logo ne mujhe whan par gira diya.

Ab wo charo apni apni pant utarne lag gye, haye unke lund bahot bade aur damadar lag rhe the. Ab wo sab ke sab karib 8 inch lambe lund ke malik the, aur aise lund dekh kar kisi ke muh me bhi pani aa skata tha.

Un sab logo ne mere aage apne apne lund kar diye, aur wo mujhe bole – Chal ab inhe chus.

Ise pehle main kuch sochta, tabhi ek ne jabardasti apna lund mere muh me daal diya. Mera man ab ulti jesa hone lag gya, par ab main kuch nhi kar skata tha.


Fir ek ek karke chao ne mujhe apna apna lund ache se chuswaya. Fir un me se ek ne mujhe khada kiya aur usne meri pant ko utar diya, fir usne mera underwear bhi utar diya.

Ab main un sab logo ke samne nanga ho gya tha, mujhe bahot sharam aa rhi thi. Par aise main marta aur karta bhi kya, un me se ek ne meri gand ko daba diya aur wo bola.

Wo – Haye kya sexy maal hai tu, aaj toh teri gand ka darwaja hum khol hi degen tu bas aaj dekhta ja.

Main ab kafi jara dar gya tha, fir usne mujhe leta diya aur apne lund par thooka lagane lag gya. Fir usne meri gand ko failaya aur usne ek jordar dhaka mara aur apna pura lund meri gand me daal diya.

Main bahot jor se chailaya par tabhi dusre ne mere muh ke samne aa kar apna lund mere muh me daal diya. Ab main uska lund chusne lag gya, aur piche wala jor jor se meri gand mar rha tha.

Main ab sanse bhi nhi le pa rha tha… Aage wala apne balwan lund se mere muh ko chod kar lund ko mere muh me aage piche kar rha tha. Sath hi piche wala admi bhi meri gand ko jor jor se mar rha tha.

Karib 15 minute ke bad piche wala admi jhad gya… Aur usne ek akhir dhake ke sath apna pura maal meri gand me nikal diya. Uske baad bari aayi age wali ki jo mere ko muh ko chod rha tha.

Ab main iske lund ki baat karun toh iska lund pehle wale lund se bhi jyada bada aur mota tha. Meri toh dar ke mare ab halat hi kharab ho rhi thi, usne apna lund meri gand me daal diya.

Main ab itni jor se chilaya ki meri awaj pure khet me gunj gyi hogi, meri toh ab jaan hi nikal gyi thi. Dosto mera haal itna jyada bura tha, ki main aapko bta nhi sakata.

Us time mujhe aisa lag rha tha, ki kahin aaj meri jaan na nikal jaye. Uske baad wo ghode ki speed me mujhe chod rha tha, aur ek banda apna lund mere muh me dalne lag gya.


Aur ek meri chudai dekhte hue muth mar rha tha, piche wala admi ghode ki speed se mujhe bas chodi hi ja rha tha. Dheere dheere mujhe ab thoda thoda maja bhi aa rha tha.

Uske baad us admi ne pure 10 minute tak mujhe choda… Aur uske baad wo bhi jhad gya. Ab usne apna sala mal meri gand me hi nikal diya.

Dosto mujhe umeed hai, ki aap ko meri kahani achi lag rhi hogi. Agar aap ko ache me meri kahani achi lag rhi hai. Toh please mujhe kahani puri padhne ke baad mail jarur karna. Kyoki mujhe aapke comments aur mail ki bahot jarurt hai.

Fir tisare admi ki bari aayi, usne bhi mujhe khush karne ke liye apna pura jor laga diya. Wo bhi mujhe ghode ki speed me chod rha tha. karib 10 minute tak chodne ke baad usne apna pura maal meri gand me chhod diya.

Ab whan se sab apne apne kapade pehen kar chale gye the. Mujhse ab utha tak nhi ja rha tha, maine apni puri koshish kari ki main khud ko sambhal sakun.

Fir kuch der rest karne ke baad mere ander kuch takat aayi, aur fir main khada hua. Maine apne kapade kisi tarah se pehne aur fir main dheere dheere chal kar apne ghar chala gya.

Meri gand bahot jyada dard kar rhi thi, main ek ek kadam bahot mushkil se chal rha tha. Meri chal dekh kar saaf pata chal rha tha, ki aaj main gand chudwa kar aaya hun.

Sach kehun toh meri gand ka khula hua hole ab mujhe saaf mehsus ho rha tha. Kyoki aaj meri gand sans le rhi thi, wo khud khul aur band ho rhi thi.

Khair dosto mujhe umeed hai, aapko meri gand chudai ki kahani padh kar sach me maja aaya hoga. Aapka lund aur ladkiyo ki gand jarur ek baar harkat me aa gyi hogi.

Chhoti Bahan Nisha Ki Seal Todi

Chhoti Bahan Nisha Ki Seal Todi,छोटी बहन निशा की सील तोड़ी,

दोस्तो, यह मेरी पहली कहानी है.. जो एकदम सच्ची है, मुझे उम्मीद है कि आपको मेरी कहानी पसंद आएगी।

मेरा नाम आयुष है.. मैं इंदौर का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र 22 वर्ष है, मेरे परिवार में मेरे अलावा एक बड़ा भाई.. माँ-पापा और एक छोटी बहन है।
मेरी बहन का नाम निशा है.. उसकी उम्र 19 साल है। उसका फिगर मस्त था शायद 34-30-34 का रहा होगा। वो कॉलेज जाती थी।
मेरे मन में उसके लिए कभी ऐसा कुछ नहीं आया था।

बात उन दिनों की है.. जब वह 12वीं में थी। बड़े भाई की शादी हो गई थी.. वो अब हम लोगों के साथ नहीं रहते थे।
हम इतने बड़े हो जाने के बाद भी साथ में मस्ती किया करते थे, हमारा एक ही रूम था.. जिसमें दो बेड लगे थे।

एक बार हम मस्ती कर रहे थे कि गलती से मेरा हाथ उसके ‘दूध कलशों’ पर छू गया, वो कसमसा गई और भाग गई।
मुझे हाथों पर बहुत मुलायम सा अहसास हुआ, उसके बाद मैंने उसके बोबों को नग्न देखने का इरादा बना लिया।
मैं मौका ढूंढने लगा कि कब मैं निशा के बोबों को देखूँ।

अब जब भी हम मस्ती करते.. मैं जानबूझ कर उसके मम्मों को छू देता।
एक दिन मैंने हिम्मत करके उससे पूछा- तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड है क्या?
उसने ‘न’ में जवाब दिया।
मैंने पूछा- क्यों नहीं है?
तो निशा ने जवाब दिया- भैया, मुझे ये सब बातें पसंद नहीं हैं।
वह उधर से चली गई।

अब मुझे रात में नींद नहीं आती.. मैं अपनी बहन को सोच कर मुठ्ठ मारने लगा।

एक दिन की बात है.. जब मैं रात में पानी पीने के लिए उठा.. तो मैंने देखा कि निशा की टी-शर्ट ऊपर को हो गई थी और उसका पूरा पेट दिखाई दे रहा था।
मेरा लंड खड़ा हो गया.. मैं हिम्मत करके उसके पास बैठा और उसके कमर को छुआ.. वो हिल गई.. पर वो उठी नहीं।

मैंने अपना एक हाथ उसके मम्मों पर रखा और धीरे से सहलाने लगा। मुझे बहुत मजा आ रहा था। मैंने फिर अपना हाथ उसके टी-शर्ट के अन्दर डाला.. वो रात में ब्रा नहीं पहनती थी। मेरा हाथ ने जैसे ही उसके मम्मों को छुआ.. मेरे शरीर में मानो करंट दौड़ गया। मेरा मन नहीं हुआ.. पर मैंने उसके मम्मों को जोर से दबा दिया।

वो उठ कर बैठ गई.. मेरी फट गई.. कि अब तो गया।
वो उठी और चिल्लाने लगी- भैया, यह आप क्या कर रहे हैं.. कोई अपनी बहन के साथ ऐसा करता है क्या?
मैंने बोला- देख निशा.. बस मैं तो पानी पीने के लिए उठा था.. पर तेरा पेट देख कर मेरा मन नहीं माना।

निशा ने जवाब दिया- पर भैया.. मैं आपकी सगी बहन हूँ.. आप मेरे साथ ऐसा करने की सोच भी कैसे सकते हैं।
मैंने पटाने की कोशिश करते हुए उससे बोला- देख निशा.. इस उम्र में ये सब करने का सबका मन करता है.. तेरा नहीं करता क्या?
निशा पलट कर बोली- मन करे तो क्या तुम अपनी बहन के साथ ऐसा करोगे?
मैंने उसे समझाया- निशा प्लीज़ समझ न.. मेरी भावनाएं.. तेरा मन नहीं करता क्या?
निशा- नहीं करता.. आप जाओ यहाँ से..

मैं उसके पास गया और उसके होंठों पर हाथ फिराते हुए बोला- बस निशा.. एक बार साथ दे.. देख तुझे भी मज़ा आएगा।
निशा- नहीं भैया.. आप जाओ मुझे नहीं करना.. ये सब..


छोटी बहन निशा की सील तोड़ी


पर मैंने कुछ नहीं सुना और उसे बिस्तर पर धकेल कर उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उसे किस करने लगा। उसने अपने आपको छुड़ाने की पूरी कोशिश की। इससे पहले कि वो अपने आपको मुझसे छुड़ा पाती.. मैं उसके लोअर में हाथ डाल कर उसकी कुंवारी चूत को दबाने लगा। वो गरम हो गई और मेरा साथ देने लगी।

मैंने अपना एक हाथ उसके मम्मों पर रखा और मसलने लगा। निशा की सिसकारियाँ निकलने लगीं- आह भाई.. मत करो ऐसा.. ये ठीक नहीं.. आह्ह..
मैंने उसकी टी-शर्ट को उतार दिया और मुझे उनके दीदार हुए.. जिनके लिए मैं मरा जा रहा था। क्या बताऊँ दोस्तो.. क्या मस्त उठे हुए मम्मे थे..

मैं तो देखते ही टूट पड़ा.. उसके मम्मों को चूसते हुए मैंने अपने एक हाथ से उसकी चूत को सहलाना जारी रखा।
अब उसे अहसास होने लगा कि कुछ भी हो जाए.. आज वो पक्के में चुदने वाली है..
तो उसने भी मेरा साथ देने में अपनी भलाई समझी और मेरे खड़े 8 इंच लंड को अपने हाथों में पकड़ लिया।

मेरी ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा और मैंने अब उसके लोअर और पैन्टी को भी उतार दिया। हाय.. क्या मस्त नजारा था.. कुंवारी चूत.. और उसके ऊपर भूरी झांटों का जमावड़ा।
मैंने उसे कहा- निशा अपने भाई का लंड कैसा लगा?
उसने कहा- भाई.. आपका मस्त है।
यह कहानी आप adultstories.co.in पर पढ़ रहे हैं !

मैं बोला- फिर निशा अपने भाई का मुँह में लोगी न?
उसने ‘हाँ’ में सर हिलाया। मैंने अपना लंड उसके मुँह में दे दिया और वो चूसने लगी।

जब उसने चूस कर मेरा पानी निकाल दिया.. तो मैंने उसकी कुंवारी चूत को चूसना शुरू किया.. वो सिसकारियाँ भरने लगी- अहह.. ऊईई.. उम्म..
कुछ देर में ही उसने पानी छोड़ दिया।

अब मैंने अपना लंड उसकी चूत में डालने के लिए तैयार किया.. तो निशा डरने लगी- भाई मत करो.. आगे कुछ हो जाएगा तो?
मैंने समझाया- बेबी ऐसा कुछ भी नहीं होगा.. बस थोड़ा सा दर्द होगा शुरू में.. फिर बहुत मज़ा आएगा।
निशा- नहीं भाई मत करो।
मैंने बोला- चल नहीं करता.. बस ऊपर से थोड़ा कर लेने दे.. अन्दर नहीं डालूँगा।

वो मान गई, मैंने अपना लंड उसकी चूत पर फिराना शुरू किया.. थोड़ी देर में निशा ज्यादा गरम हो गई और बोली- भाई अब मत तड़पाओ.. अन्दर डाल ही दो..
मुझे इसी पल का इंतज़ार था.. मैंने अपना लंड उसकी चूत पर जमाया और एक जोरदार धक्का मार कर अपना आधा लण्ड उसकी चूत में डाल दिया।
‘अहह.. ऊईई.. भाई.. निकालो इसे.. मुझे दर्द हो रहा है।’

मैंने उसे और मौका नहीं दिया और उसके होंठों पर अपने होंठ जमा दिए और अपना बचा आधा लण्ड उसकी चूत में डाल दिया। उसे बहुत दर्द हुआ.. पर मैंने उसे चिल्लाने का मौका नहीं दिया। जब उसका दर्द थोड़ा कम हुआ.. तो मैंने अपने लण्ड को हिला कर चोदने लगा। उसकी चूत से खून निकला.. पर मैंने उसे बताया नहीं.. वर्ना वो ज्यादा डर जाती।

अब उसे मज़ा आने लगा और वो मेरी संगत करने लगी। लगभग 15 मिनट बाद हम दोनों साथ में झड़ गए और मैंने अपना पानी उसकी चूत में ही झड़ा दिया।

अब हम थक चुके थे। हम थोड़ी देर वैसे ही पड़े रहे..
उसके बाद वो उठी और उसने अपना खून देखा.. तो वो रोने लगी- देखो भाई तुमने क्या किया.. अब मैं क्या करूंगी.. मुझे दर्द होगा।
मैंने उसका डर दूर किया- नहीं छोटी.. कुछ नहीं होगा.. मैं तुझे गोली ला दूँगा.. फिर तुझे कुछ नहीं होगा.. दर्द भी नहीं होगा और बच्चा भी नहीं.. ओके?
उसने ‘हाँ’ में जवाब दिया। उसके बाद वो उठी और अपने आपको साफ किया और हम दोनों सो गए।

उसके बाद हम रोज़ चुदाई करने लगे और मज़े लेने लगे।

अब मेरी जॉब लग गई और मैं घर नहीं जा पाता.. पर जब भी मैं घर जाता हूँ.. तो अपनी छोटी बहन को मौका देख के मज़ा दे कर आता हूँ।

छोटी बहन की सील तोड़ी वियाग्रा खिला के

chhoti bahan ki chudai story, छोटी बहन की सील तोड़ी, छोटी बहन की सील तोड़ी वियाग्रा खिला के,वियाग्रा खिला के छोटी बहन की सील तोड़ी


मेरे प्यारे दोस्त मैं आज मैं आपको एक मस्त कहानी सुना रहा हु जो की मेरे बहन के बारे मैं है आज मैं आपको बताऊंगा मैंने कैसे अपने बहन का सील तोडा, खूब चुदाई की साली की, मजा आ गया तो सोचा क्यों ना मैं अपने एडल्ट स्टोरीज डॉट को डॉट इन बाले फ्रेंड को भी अपनी बहन की चुदाई के बारे में बताऊँ, तो देर किस बात का दोस्त हाज़िर हु अपनी कहानी लिए क्यों की जब मैं यहाँ दूसरों की कहानी पढता हु तो मेरा भी फ़र्ज़ बनता है की मैं भी अपनी कहानी आप लोगो से शेयर करूँ.

ये एडल्ट स्टोरी मेरी बहन के साथ हुए एनकाउंटर की हे उसका रंग गोरा बाल काले ओर घुंघराले ओर फिगर की क्या बात करू दोस्तो देख के ही खड़ा हो जाय सभी का ओर उसी वक़्त मूठ मार लो उसका फिगर 34 28 36 हे हेना पर्फेक्ट सेक्स फिगर चलो देर ना करके सीधा स्टोरी पर आता हू

मैं मुंबई में रहता हु, और मैं जिगोलो हु, मैं अपने घर का खर्च भी उसी से उठता हु, क्यों की मुझे अपने घर चलने के लिए काफी पैसे की जरूरत होती है और कोई छोटी मोटी नौकरी में कितना कम लेगा इसलिए मुझे जिगोलो बनने के लिए मजबूर होना पड़ा, पर मुझे मस्ती रहती है रोज रोज मैं भाभी आंटी लड़की को जो की हॉस्टल में या किसी काम से मुंबई में रहती है, कॉलेज गर्ल को, बड़े घर के औरत को जिसका पति बिज़नेस टूर पे हमेशा रहता है उसकी वाइफ को मैं चुदाई से संतुष्ट करता हु और उसके बदले में मुझे पैसे मिलते है , मेरे घर मे मेरी मा मैं बहन ओर पापा हे पापा एलेक्ट्रॉनिक डिपार्टमेंट मे है जिनकी सैलरी कुछ खास नहीं हे |

viyagra khila kar chhoti bahan ki seal todi


इस साल ही मेरी बहन बारह्वी पास की तो मैंने उसको गिफ्ट में एक अच्छा सा मोबाइल फ़ोन गिफ्ट किया, रात को फिर वो मेरे पास आई और फिर एंड्राइड पे कुछ नयी नयी सॉफ्टवेयर डाउनलोड करने के लिए बोली.मैं उसके मोबाइल में सॉफ्टवेयर डालने लगा तभी मेरे क्लाइंट का फ़ोन आने लगा था, उसी समय मैं अपनी बहन की चूची देख ली उस समय वो एक ढीली ढली सी टी शर्ट पहनी थी मेरा मन तो बहक गया मैं क्या करता मेरा तो लैंड खड़ा होने लगा कोई चारा भी नहीं था मस्त मस्त गदराई हुयी सी चूची जो थी मैं भी क्या करता तुरंत बाथरूम में गया और मूठ मार ली.

एक दिन मे अपन कमरे मे नंगा था कपड़े बदला रहा था तभी अचानक से वो कमरे मे घुस आई मे डोर लॉक करना भी भूल गया था ओर उसने मूज़े नंगा देख लिया फिर वो तुरंत ही चली गयी ओर बाद मे मुझे से माफी माँगी उसकी भूल केलिए मेने भी माफ़ कर दिया

वो अपने न्यू सेल पे एक बार पॉर्न देख रही थी तो मेने देख लिया उसे लेकिन कुछ कहा नहीं क्यू की मे भी उसे चोदना चाहता था तो उसे गरम होने दे रहा था जैसे से ही उसने पॉर्न बंद की मे उसके पीछे से पास जाकर बैठ गया उसे ये लगा की मे उसे वीडियो देखते हुए देखलिया हे लेकिन मे अनजान बना रहा वो गरम हो चुकी थी ये देख के मेरा लंड पायजामे मे ही टेंट बना दिए था वो ये देख सके इसतरह मे पास ही बैठ गया ओर टीवी देख ने लगा बात बात ओर मैं उसके कमर ओर बदन को फील करने लगा ओर वो ओर गरम होती गई ऐसा व्यवहार मेने कई दीनो तक किया आख़िर सब्रका फल मीठा जो होता हे फिर उसकी नज़र मे मेने कुछ प्यास देखी की जो मे ही बुझा सकता था फिर मेने जान भुज कर जब मे क्लाइंट से बात करता तो वो सुन सके उस समय मैं और भी सेक्सी सेक्सी बात करता था.

छोटी बहन की सील तोड़ी


आख़िर मे मेरा इंतजार खत्म हुआ ओर वो घड़ी आयी गई की जब मे उसकी चूत का भोसड़ा बना डू उस रत मे अपने घर पर था ओर मां ओर पापा बाहर गये थे और वो एक हफ्ते बाद आने वाले थे मेरी सिस का भी वाकेशन था सो वो भी घर पर ही थी हम रोज रत को बाहर खाना खाने जाते थे मेरी बाइक पे तो मे जान बुजकर ब्रेक मरता ताकि उसे गर्म कर सकु लेकिन वो भी क्या खुद को कंट्रोल करती थी उसे लंड की प्यास थी

लेकिन वो उस चूत की प्यास को बुझाना ही नहीं चाहती थी फिर मेने वियाग्रा उसे रात को खिलाई ओर बोला की इसे नींद अच्छी आती हे ओर उसके गरम होने का वेट किया जैसे ही वो गरमा हुई मे उसके सामने नंगा हो गया ओर वो मेरा खड़ा लंड देख के पागल हो गई ओर लोलीपोप की तरह चूस ने लगी दोस्तो क्या बतौ की क्या मज़ा अरहा था जैसे जन्नत मे हू मे फिर मेने उसको लेटया ओर उसकी अनचुई चूत को चाट कर मज़ा लिया मे ओर उसको सातवे आसमान की सेर कराई

chhoti bahan ki chudai story


फिर हमारा सम्बन्ध ही बदल सा गया हो फिर वो रह नहीं पा रही थी मेरे लंड की बगैर वो मुझे ज़ोर ज़ोर से बोल रही थी की मे कब से तेरे से चुदबाना चाहती थी आज मेरी ये ख्वाहिस पूरी कर दे ओर मेरी चूत को फाड़ दे मेरी चूत चोद दे उसे भोसड़ा बना दे मुझे आज कच्ची कली से फूल ओर देरी मत कर फाड़ दे चूत मेरी ये सब सुन कर मुज मे नया जोश जेसे अगया हो वो पहली बार चुद रही थी इसलिए मेने पास मे रखी पेट्रोलियम जेल ली

ओर थोड़ी उसकी चूत पर ओर मेरे लंड पर लगाई पहले तीन चार धक्के मारे लेकिन लंड फिसल ही जाता था फिर क्या जैसे मे भाभी को चोदता वैसे ही लॅंड लगाया चूत पे ओर ज़ोर का ढाका मारा पूरा लंड एक जटके मे अंडर गुसा दिया ओर जैसे ही मेरा लंड घुसा कुछ फटा हो ऐसा महसूस हुवा मुहे ओर मे समझ आ गया की मेने इसकी सील तोड़ दी ओर वो ज़ोर से चिल्ला उठी ओर बोलने लगी की निकालो अपने लण्ड को मेरे चूत से बहुत दर्द हो रहा है, मैं रो दूंगी प्लीज निकालो मुझे सहन नहीं हो रहा है.

फिर मे उसी पोज़िशन्स मे रहा ओर उसका मूह अपने मूह से बाँध किया वो थोड़ी देर तड़पदै बाद मे नॉर्मल हो गई उसकी आँख से आँशु निकल गये थे फिर मे उसे धीरे धीरे फिर से उसके चूत में डालने लगा और उसकी चूची को दबाने लगा, वो फिर भी दर्द से कराह रही थी पर करीब दस मिनट के बाद वो नार्मल हो गयी और फिर वो अपना गांड उठा उठा के चुदवाने लगी, मैंने उसको फिर अलग अलग पोसिशन में चुदाई की, और चूच के निप्पल को अपने दांत से दबाता तो वो और भी कामुक हो जाती.

उस दिन मैंने कई बार उसको चोदा उस दिन वो ठीक से चल भी नहीं पा रही थी क्यों की वो काली से फूल बानी थी, उसके चूत में कॅाफ़ी दर्द हो रहा था, फिर शाम को मैंने दर्द की टेबलेट के साथ साथ मैंने गर्भ निरोधक गोली भी खिलाया ताकि वो प्रेग्नेंट ना हो जाये, फिर क्या अब तो मैं रोज उसको चोदता हु

Punjaban ladki choot ki seal todi boss ne

 

पंजाबन की चूत की सील बॉस ने तोड़ी

सभी दोस्तों को मेरा प्यार भरा नमस्कार. मैं पंजाब के मोगा जिले के एक गॉव से जसदीप कौर हूँ. अभी मेरी उम्र २४ वर्ष है. मैंने कंप्यूटर की पढाई की इसलिए मुझे आसानी से नौकरी मिल गयी थी. लेकिन इस नौकरी से मैं कुछ खुश नहीं थी. मैं वेब डेवलपर की नौकरी करना चाहती थी लेकिन मेरे घर वाले मुझे दूर भेजना नहीं चाहते थे.

फिर मैंने उन सभी को किसी तरह मना लिया और मैं नौकरी के लिए चंडीगढ़ चली गयी.

मैं अब आपको अपनी देहयष्टि के बारे में बता देती हूँ. मेरा कद 5 फ़ीट 7 इंच है. रंग एकदम दूध सा गोरा है और मेरा शरीर भरा हुआ है. मैं जब टीचर थी, तब भी सूट ही पहनती थी और चंडीगढ़ में भी सूट ही पहनती थी.

इसके बाद मुझे नौकरी के लिए दिल्ली से ऑफर आया. इधर मुझे वेतन भी बहुत अच्छा मिल रहा था. मैंने अपने घर बात की, पर वो मान नहीं रहे थे. किसी तरह मैंने उनको समझाया और मना लिया.

मैं नौकरी करने के लिए दिल्ली आ गयी. मुझे कंपनी ने रहने के लिए कमरा भी दिलवा दिया. मेरे साथ एक लड़की और रहती थी. वो भी दिल्ली की ही एक सरदारनी थी. उसकी उम्र 26 साल थी और वो बहुत खूबसूरत थी.

मैंने तो अब तक सूट ही पहने थे, पर यहाँ मेरी साथ वाली बहुत मॉडर्न थी. वो कई बार बहुत छोटे कपड़े पहनती थी. उसने मुझे भी छोटे कपड़े पहनने की आदत लगा दी.

आपको मैंने उसका नाम नहीं बताया, उसका पूरा नाम तो मनप्रीत कौर था, लेकिन सब उसको मनु ही कहते थे. हम दोनों कमरे में छोटी स्कर्ट ही डालते थे. मैं अब उसको देखकर अपने पूरे शरीर पर वैक्सिंग करवाने लग गयी थी. मेरे ऑफिस में सभी लड़कियां बहुत चालू थीं. मेरा बॉस, जिसकी उम्र 30 साल थी, उसने बहुत अच्छी बॉडी बनाई हुई थी. वो मुझे बहुत ध्यान से देखता था. लेकिन मैंने कभी उसको मौका नहीं दिया था कि वो मेरे साथ कुछ आगे बढ़ सके. मैंने यही बात मनु को बताई, तो उसने कहा कि वो तुमसे दोस्ती करना चाहता होगा और कुछ नहीं.

धीरे धीरे मेरी अपने बॉस से दोस्ती हो गयी और वो मुझसे फ़ोन पर भी बात करने लगा.

एक दिन मनु ने मुझसे कहा- क्या तुमने और तुम्हारे बॉस ने अब तक कुछ किया है या नहीं?

मुझे मनु की ये बात सुनकर बड़ा गुस्सा आया. मैं बोली- हमारे बीच ऐसा कुछ नहीं है, हम सिर्फ दोस्त हैं.
मनु बोली- तुम्हारे बॉस ने तुमसे दोस्ती सिर्फ तुमको चोदने के लिए की है.

यह सुनकर मेरा गुस्सा और बढ़ गया, मैंने तमतमामते हुए उससे कहा- मैं तुम्हारे जैसी नहीं हूँ.
इस पर मनु हंसकर बोली- तुम जो मर्ज़ी कर लो, वो तुम्हारी चूत में अपना लंड घुसेड़ कर ही मानेगा.
मैंने भी कह दिया- मैं एक पंजाबन सरदारनी हूँ. ऐसे कोई मुझे छू भी नहीं सकता.
तभी मनु बोली- मैं तुम्हारे जैसी बहुत सरदारों की लड़कियों को जानती हूँ, जो पहले तुम्हारी तरह ही नखरे दिखाती थीं, पर अब वो खुद लंड को अपने हाथों में लेकर उसे अपनी चूत में डालती हैं.

मैंने उससे इस बात पर और बहस करना ठीक नहीं समझा. हमारी ये बात समाप्त हो गई.

कुछ दिन बाद मेरे बॉस ने मुझसे रात का खाना किसी होटल में करने के लिए पूछा, तो मैंने हाँ कर दी. मैं डिनर पर बैकलेस सूट पहन कर गयी.

उस दिन मनु ने मुझसे कहा- आज तुम बहुत गजब की माल लग रही हो, अपने बॉस से बच कर रहना.

मैंने अपने आपको शीशे में देखा. मेरे चूचे बहुत कसे हुए थे और चूतड़ भी पूरे बाहर को निकले हुए थे. मुझे कहीं न कहीं अपने ऊपर गर्व हो रहा था. मैं डिनर के लिए होटल गयी और मैंने महसूस किया कि मेरा बॉस मुझे काम भरी निगाहों से देख रहा था. वहां पर उसके और दोस्त भी थे वे सब अपनी गर्ल फ्रेंड्स के साथ उधर आए हुए थे. वो मेरे साथ बहुत मज़ाक कर रहे थे.

तभी उनमें से बॉस के एक दोस्त ने मुझसे कहा- मेरा जन्मदिन आ रहा है, मेरी पार्टी पर तुम जरूर आना.
मैंने कहा- ठीक है.

होटल से आने के बाद मैंने मनु को पूरी बात बताई. साथ ही बॉस के दोस्त के जन्मदिन की पार्टी पर जाने लिए भी बताया.
उसने मुझसे कहा- तुम पार्टी में जरूर जाना.

इसके बाद बर्थडे पार्टी वाले दिन मेरे बॉस ने मुझे एक गिफ्ट दिया और कहा- यह तुम्हारा पार्टी गिफ्ट है, आज तुम इसको ही पहन कर आना.

मैंने गिफ्ट खोला, तो उसमें क्रॉस बैक कैमी ड्रेस थी, वो बहुत सेक्सी थी. उसके साथ एक सफ़ेद ब्रा भी थी और एक जी स्ट्रिंग स्टाइल की चड्डी भी थी.

मैंने पार्टी वाले दिन शाम को ड्रेस पहन ली. उसमें मेरी पूरी टांगें दिख रही थीं और मेरी पीठ भी दिख रही थी.

मेरे बॉस ने मुझे पिक किया और वो मुझे देखते ही बोला- वाह आज तुम बहुत सेक्सी लग रही हो.
मैंने हंस कर बॉस की बात पर उनको थैंक्स बोला.

पार्टी उसके दोस्त के किसी फार्महाउस पर थी, वहां पर सिर्फ उसके दोस्त और उनकी गर्ल फ्रेंड्स थीं. सभी ने बहुत सेक्सी कपड़े पहने हुए थे. पार्टी शुरू हो गयी और उसके दोस्त मेरे पास ड्रिंक ले कर आ गए. मैंने शराब पीने से इंकार किया, पर उन्होंने मुझे मना लिया और कुछ ड्रिंक्स पिला दी.

फिर हम सभी डांस करने में लग गए. मैं अपने बॉस के साथ डांस कर रही थी. रात के 10 बजे का टाइम हुआ था. डांस करते हुए मेरे चूचे उसकी छाती से टच हो रहे थे. मेरी जांघें उसकी जांघों से टच हो रही थीं. हम दोनों नशे में थे.

तभी उसने मेरी पीठ पर प्यार से सहलाना शुरू कर दिया. अब मैं मस्त होती जा रही थी. तभी मैंने देखा उसका एक दोस्त अपनी सहेली को गोद में उठाकर ऊपर किसी कमरे में ले गया. इसी बीच मेरे बॉस ने मुझे अपनी तरफ खींचा और मुझे कसकर अपनी छाती से लगा लिया. इससे मेरे शरीर में एक कम्पन सी होने लगी. मेरे बॉस के सभी दोस्त हमारी तरफ देख रहे थे. मुझे बहुत गुस्सा आया, पर मैंने सोचा यह मेरा बॉस है. अगर मैंने कुछ कहा, तो काम खराब हो सकता है, मुझे नौकरी में भी दिक्कत आ सकती है.

बॉस ने अपना हाथ मेरी पीठ से चूतड़ों पर सहलाना शुरू कर दिया. मैंने सोचा कि चलो इतना तो मैं झेल सकती हूँ. मुझे मजा भी आ रहा था.

तभी उसने मेरी ड्रेस को ऊपर कर दिया, जिससे मेरी पेंटी दिखने लगी. उसके सभी दोस्त मेरी सफ़ेद चड्डी को घूर कर देख रहे थे.
मेरे गोरे गोरे चूतड़ों को देख कर उसके दोस्त बोलने लगे थे- वाह क्या माल है.

तभी मेरे बॉस ने मेरे कान में मुझसे कहा- मैं तुमसे प्यार करता हूँ.
यह कह कर उसने अपने होंठ मेरे होंठों से जोड़ दिए. यह मेरी पहली किस थी. मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा था. मैं अभी भी यही मान रही थी कि इससे ज्यादा कुछ नहीं होगा.

कुछ देर किस करने के बाद मैंने कहा- सब देख रहे हैं.

तभी मेरे बॉस ने मुझे अपनी गोद में उठा लिया. तब भी मैं यही सोच रही थी यह मुझे कहीं और ले जा कर किस करेगा. मैंने अपनी आंखें बंद कर लीं और वो मुझे ऊपर किसी कमरे में ले गया.

उसने मुझे बेड पर लिटा दिया और दरवाज़े को बंद कर दिया. जब दरवाजा बंद हुआ, तब मुझे अहसास हुआ.

मैं भगवान को स्मरण करने लगी- हे भगवान . … आज तो मेरी सील पक्के में टूटेगी.

इससे पहले मैं कुछ कहती, बॉस मेरे ऊपर चढ़ गया. वो मुझे किस करने लगा. मुझे भी नशे की मदहोशी में उसका साथ अच्छा लगने लगा. कुछ ही देर में हम दोनों पागलों की तरह एक दूसरे के होंठों को चूसने में मस्त हो गए थे.

कुछ देर बाद उसने मेरी गालों को चूसना शुरू कर दिया. उसने अपने दांतों से मेरे गालों को दबा दबा कर उनका पूरा रस पी लिया. उसके बाद मुझे पता ही नहीं चला कि कब उसने मुझे पूरी नंगी कर दिया और खुद भी पूरा नंगा हो गया.

मैंने आंखें खोलीं और उसका लंड देखा, तो मैं हैरान सी हो गई. बॉस का लंड बहुत मोटा और लम्बा था.

जब एक लड़की किसी मर्द के सामने नंगी हो जाती है. उसके बाद लड़की के हाथ में कुछ नहीं बचता है. फिर मर्ज़ी उसी मर्द की होती है कि वो लड़की की चुदाई कितने टाइम तक करता है.

मैंने अपने हाथ अपनी चूत पर रख दिए. मेरा बॉस मुस्करा रहा था. उसे मेरे चूचे दिख रहे थे, वो कसे हुए थे.

तभी उसने मेरे मम्मों को अपने हाथों में लेकर निचोड़ना शुरू कर दिया. मैं ज़ोर ज़ोर से मादक सिसकारियां लेने लगी थी. वो मेरे निप्पलों को अपने दांतों से दबा कर बड़े प्यार से काट रहा था. कभी निप्पल काटता, कभी उनको चूसता.

अब तक मेरे दिमाग पर भी वासना चढ़ चुकी थी. सब कुछ बहुत तेज़ी से हो रहा था. बॉस के हाथ में एक खूबसूरत कुंवारी सरदारनी थी. मेरे जिस्म को वो एक भूखे भेड़िए की तरह नोंच रहा था. मैं अब कुछ नहीं कर सकती थी, उसके दांतों के निशान मुझे अपने शरीर पर महसूस होने लगे थे.

कुछ पल बाद उसने मुझे उल्टा कर दिया और मेरे चूतड़ों को चूसना शुरू कर दिया.

मुझे कोई होश नहीं रह गया था. बॉस ने मेरी टांगों को उठाया और मेरी फूल जैसी चूत को चूसना शुरू कर दिया. चूत पर बॉस की जीभ का अहसास होते ही मेरे पूरे शरीर में कम्पन होने लग गयी.

मेरी आवाजें आने लगी थीं- आह … आई … उह ओह शीउई!

कुछ देर तक मेरी कुंवारी बुर चूसने के बाद उसने मेरी टांगों को उठाकर मुझे बोला कि इनको पकड़ो.

मैंने न जाने किस मद में मस्त होकर अपनी दोनों टांगें पकड़ लीं.
इसके बाद बॉस ने अपना लंड मेरी चूत पर रगड़ना चालू कर दिया.
मैंने बॉस से कहा- प्लीज़ अन्दर मत डालना.
वो बोला- कुछ नहीं होगा मेरी जान … बस ऊपर ऊपर ही करूंगा, पूरा अन्दर नहीं डालूँगा.

मैं आश्वस्त हो गई कि चलो चुत की सील नहीं टूटेगी. वो अपना लंड मेरी चूत पर रगड़ता जा रहा था. जितना ज्यादा वो सुपारे को मेरी चूत की फांकों में घिसता, मैं उतनी ही अधिक मदहोश होती जा रही थी. मेरी धड़कनें बहुत तेज़ हो गयी थीं. मुझे समझ में आने लगा था कि आज यह मेरी चूत को फाड़ ही देगा … मनु ने जो कहा था, वही हो भी रहा था. शायद मेरे दिल के किसी कोने में खुद भी चूत का फीता कटवाने की मंशा बलवती होने लगी थी.

बॉस भी मेरी चुदाई ही करना चाहता था. इसलिए मैंने भी सोचना बंद कर दिया था. चूंकि मुझे भी मज़ा आ रहा था, इसलिए मैंने प्रारब्ध को छेड़ना बंद कर दिया था और सोचने लगी थी कि जो भी होना होगा, हो जाने दूंगी.

बॉस अपने कड़क लंड को मेरी चूत के अन्दर डालने की कोशिश कर रहा था. पर कुंवारी चूत में उसका मोटा लंड अन्दर नहीं जा पा रहा था. बॉस ने मेरे होंठों पर अपना हाथ रख दिया और लंड को ज़ोर से मेरी चूत के अन्दर पेल दिया.

मोटे लंड के इस आक्रमण से मेरी आँखों से आंसू आ गए. आधा लंड अन्दर जा चुका था. मैं दर्द से छटपटाने लगी थी. मेरी हालत देख कर कुछ देर तक बॉस रुका रहा. फिर उसने आधे लंड को धीरे धीरे करके चूत के अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया.

मैं तो बेहोश जैसी ही हो गयी थी. कुछ देर बाद मुझे होश आया. मैंने देखा कि मेरी चूत में से खून निकल कर चादर पर लगा हुआ था. मैंने नीचे हाथ लगाया, तो खून की बूंदें मेरी उंगलियों में लग गईं. मैंने समझ लिया कि मेरी चूत लाल हो चुकी है.

चूत में कुछ चिकनाहट हो जाने से लंड अब जल्दी जल्दी अन्दर बाहर होने लगा था … मेरी सील टूट गयी थी. बॉस ने अपना पूरा लंड अन्दर तक पेल दिया था. मुझे भी दर्द का अहसास कम हो चला था.

कोई 10 मिनट के बाद मुझे भी मज़ा आना चालू हो गया. उसका पूरा लंड मेरी चूत के अन्दर जड़ तक जा रहा था. फिर बॉस ने दोनों हाथों से मेरे मम्मों को कसकर पकड़ लिया और ज़ोर ज़ोर से चूत में धक्के मारने चालू कर दिए.

उसने मेरी चूचियों को मसल मसल कर उनका हलवा सा बना दिया था, मेरी चूचियों का बुरा हाल हो चुका था. पर इससे मेरी चुदाई से होने वाला दर्द मुझे कम महसूस हो रहा था.

अब मेरे मुँह से मादक आवाजें निकलने लगी थीं- उम्म्ह… अहह… हय… याह… मर गई … आहह …

इसके बाद मेरे बॉस ने मुझे छोड़ दिया और मुझे घोड़ी बना दिया. फिर पीछे से लंड पेल कर मुझे ज़ोर ज़ोर से चोदना चालू कर दिया. मुझे लग रहा था कि मेरी चुदाई की कामुक आवाजें कमरे से भी बाहर तक जाने लगी थीं.

यह मेरी पहली चुदाई थी, पर मेरे बॉस को मुझ पर कोई तरस नहीं था. वो इतनी ज़ोर से मेरी ठुकाई कर रहा था, जिससे मेरा पेट और टांगें कांप रही थीं.

बस इन सब में जो अपनी चूत में लंड लेने का मज़ा था, उसके सामने यह दर्द कुछ भी नहीं था. मुझे भी मजा आ रहा था. साथ ही मुझे ऐसा महसूस हो रहा था कि काश मेरी चूत में पहले ही कोई लंड घुस गया होता. मेरा दिल कर रहा था बस मेरी चुदाई यूं ही चलती रहे. लंड क्या मज़ा देता है, इसका पता तो चूत में जाने के बाद ही चलता है.

बॉस ने मेरे गोरे चूतड़ों पर थप्पड़ मार मार कर लाल कर दिए थे.

तभी मैंने देखा मेरे फ़ोन पर मेरी मम्मी की कॉल आ रही थी. मैंने फ़ोन उठाया मेरी मम्मी बोलीं- तुम फ़ोन क्यों नहीं उठा रही थी?
मैंने जवाब दिया कि मुझे नींद आ गयी थी.
मम्मी बोलीं- तुम्हारी साँस फूली हुई क्यों है?
मैंने कहा- अभी मेरी आंख खुली है, मैं कोई सपना देख रही थी … और शायद इसलिए ही ऐसा हो गया होगा.

इस दौरान बॉस का लंड मेरी चूत के अन्दर ही था. अब मुझे दर्द भी महसूस हो रहा था और मज़ा भी बहुत आ रहा था.

तभी बॉस ने धीरे धीरे लंड को अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया. मैं बहुत कण्ट्रोल कर रही थी कि कहीं मेरी आवाज़ से मम्मी को शक न हो जाए.

मेरी मम्मी मेरा हाल चाल पूछ रही थीं. वो मेरी बहुत तारीफ़ कर रही थीं, पर उनको क्या पता था कि उनकी लड़की तो अपने बॉस से चुदाई करवा रही है.

तभी मेरे बॉस ने अपनी स्पीड को तेज़ कर दिया और पचक पचक की आवाजें आने लग गईं.

मेरी मम्मी बोलीं- बीच में कोई आवाज़ आ रही है, ये किस चीज की आवाज है?
मैंने कहा- कुछ नहीं मेरे साथ वाली इशारा कर रही है कि सो जाओ.
मम्मी ने कहा- ठीक है बेटा, अपना ख्याल रखना बाय.

फ़ोन काटते ही मैंने बॉस से कहा- यार, तुम से कुछ देर के लिए सब्र भी नहीं हुआ … तुम्हारे सामने नंगी सरदारनी लेटी है … वो हर तरह से तुमको मजा देने को राजी है. अगर मम्मी को पता चल जाता तो मेरा क्या होता, अब जो करना है … जल्दी कर लो.
बॉस ने मेरे चूतड़ों पर ज़ोर से थप्पड़ मारे और बोला- तुमको क्या लगता है, मैं तुम्हें ऐसे ही छोड़ दूंगा. मेरी जान अभी तो पूरी रात पड़ी है. मैं सारी रात तुम्हारी चूत को चोद कर इसका भोसड़ा बना दूंगा. वैसे भी कुंवारी सरदारनी की चूत रोज़ नहीं मिलती है.

उसने ये कहते हुए ज़ोर ज़ोर से झटके मारने शुरू कर दिए.

मेरी चूत अब परपराने लगी थी, ये दो बार झड़ चुकी थी. कोई दो मिनट तक बॉस ने मुझे तेज रफ्तार से चोदा और अपना सारा वीर्य मेरी चूत में ही निकाल दिया.

उसने झड़ते हुए कहा- कुछ देर हम आराम करते हैं … और फिर तुम्हारी चुदाई शुरू करेंगे.
वो मुझसे चुदाई को लेकर बात कर रहा था. वो बोला- तुमको मज़ा आया?
मैंने कहा- हां मजा बहुत आया, पर दर्द भी हुआ.

उसने कहा- जब मैंने पहली बार तुमको देखा था, उसी वक्त सोच लिया था कि इस सरदारनी की चूत तो मैं ही फाड़ूंगा. मैंने पहले भी कई सरदारनियों की चुदाई की है, पर जो स्वाद एक कुंवारी सरदारनी की चुदाई में मुझे आया, वो उन चुदी-पिटी फुद्दियों में नहीं आया था.

तभी मेरे मन में आया कि यह बंदा तो शिकारी है, इसने तो मेरा शिकार कर लिया है. अब मैं कुछ नहीं कर सकती थी. मेरी चूत तो अब उसके लंड की हो चुकी थी. बेड पर मेरी चूत का खून लगा हुआ था. मैंने कभी सोचा नहीं था कि मेरी पहली चुदाई ऐसी होगी.

उसने मुझे चूमते हुए कहा- तुम्हारे गोल गोल चूतड़ और गोल गोल मम्मों पर मैं फ़िदा हो गया था.
मैं उसको सुन भर रही थी.

उसने आगे कहा- डिनर पर तुम एक माल लग रही थी, तभी मैंने तुमको चोदने का प्लान बना लिया था. अब तुम्हारी गांड और चूचे पहले से और बड़े हो जाएंगे.
मैं बस मस्त पड़ी थी.
बॉस ने कहा- अब तुमको मेरे लंड को फिर से खड़ा करना है. लंड को अपने मुँह में ले लो.

उसने अपना लंड कपड़े से साफ़ करके मेरे मुँह में दे दिया और मेरी चूत को अपने मुँह में ले लिया. उसका लंड बहुत मोटा था. मेरे चूसने से वो बहुत सख्त हो गया.

तभी उसने मुझे उठाकर अपने ऊपर लिटा लिया. अपना लंड फिर से मेरी चूत में डाल दिया और फिर से मेरी चुदाई शुरू हो गयी. अब मुझे दर्द भी कम हो रहा था और पहली चुदाई का मज़ा भी बहुत आ रहा था.

बॉस ने मेरे होंठों को अपने होंठों से बंद कर दिया और एक ज़ोरदार चुदाई शुरू कर दी. पचक पचक की आवाजें पूरे कमरे में गूँज रही थीं. मेरी चूत अब काफी खुल गयी थी.

बॉस मुझे बहुत तेज़ पेल रहा था. इसी बीच उसका लंड मेरी चूत से बाहर निकल गया, तभी मैंने अपने हाथों से लंड को अपनी चूत में डाल लिया.

उसी वक्त मुझे मनु की बात याद आ गयी, जब उसने कहा था कि तुम्हारे जैसी खुद लंड को अपनी चूत में डालती हैं. मैं मन ही मन मुस्कुरा दी.

कुछ देर बाद बॉस खड़ा हो गया और मुझे अपनी गोद में उठा उठा कर चोदने लगा. उस रात मेरे बॉस ने मुझे बहुत सारे आसनों में चोदा. वो मुझसे खिलौने की तरह खेल रहा था. कभी मुझे उल्टा करके चोदता, कभी मेरी टांगें उठाकर ज़ोर ज़ोर से चुदाई करने लगता.

बॉस ने मेरे मम्मों को इतना ज्यादा मसला, मेरे निप्पलों को इतना काटा और अपनी उंगलियों से दबाया कि मैं उनका दर्द ही भूल गयी थी. क्योंकि मैं अपनी चुदाई में मदहोश हो चुकी थी. मेरी चूत सुन्न पड़ गयी थी. मुझे तो यह भी नहीं पता था कि मैं अब तक कितनी बार झड़ चुकी थी.

चुदाई के बीच बॉस ने मुझे कई बार पैग पिलाए, जिससे मुझे होश आ जाता था. मेरे होश में आते ही मेरी चुदाई फिर से शुरू हो जाती थी. सारी रात वो मुझे चोदता रहा.

रात 3 बजे मेरी चुदाई बंद हुई. उसने अपने वीर्य से मेरी चूत को भर दिया था. बॉस ने कसकर मुझे अपनी छाती से लगा लिया. मुझे कोई होश नहीं था, बस इतना पता था कि आज मेरी चूत का भोसड़ा बन गया है. अब यह पहले जैसी कभी नहीं होगी.

हम दोनों नंगे ही चिपक कर सो गए.

अगले दिन सुबह 10 बजे जब मेरी आंख खुली, तो मैंने देखा कि बॉस पहले ही उठ गया था. मैंने अपने आपको देखा, तो ऐसा लग रहा था कि जैसे मेरा पूरा रस निचोड़ लिया गया हो. मेरे मम्मों में दर्द हो रहा था … वो एकदम लाल थे. मेरी चूत सूज गयी थी. जब मैं चलने लगी तो मुझे पूरे शरीर में दर्द हुआ.

मैंने अपने आपको शीशे में देखा. मेरा शरीर पूरा लाल हो चुका था. बॉस ने मुझे सारी रात चोद कर मेरा बुरा हाल कर दिया था.

तभी मेरा बॉस कमरे में आया. उसने मुझे उठाया और बाथरूम में ले गया. मुझे पेशाब करते हुए भी दर्द हो रहा था.
मैंने उसकी तरफ कातर भाव से देखा, तो उसने कहा- घबराओ मत, पहली बार में ऐसा होता ही है.

उसने मेरी चूत पर एक क्रीम भी लगाई. उस दिन मेरा पेट भी ख़राब हो गया था. मुझे प्रेग्नेंसी रोकने के लिए गोलियां खानी पड़ीं.

बॉस मुझे मेरे कमरे में छोड़ कर आया. जब मनु आयी और उसने मुझे देखा तो वो बोली- अरे, तुम्हारे बॉस ने तो तुम्हारा पूरा रस ही पी लिया.

उसके बाद मैं बहुत बदल गयी. अब मेरे चूचे बड़े हो गए हैं और मेरे चूतड़ बाहर को निकल आए थे.

बॉस अब मुझे हर शनिवार को कहीं ले जाने लगा था और मेरी खूब चुदाई करता था.



Kuwari aur jawan naukrani ki chudai

Kuwari aur jawan naukrani ki chudai


मेरे पति राकेश की ड्यूटी शिफ़्ट में लगती थी। घर में काम करने के लिये हमने एक नौकरानी रख ली थी। उसका नाम पूनम था। उसकी उम्र लगभग 20 साल होगी। भरपूर जवान, सुन्दर, सेक्सी फ़िगर… बदन पर जवानी की लुनाई … चिकनापन … झलकता था।

राकेश तो पहले दिन से ही उस पर फ़िदा था। मुझसे अक्सर वो उसकी तारीफ़ करता रहता था। मैं उसके दिल की बात अच्छी तरह समझती थी। राकेश की नजरें अक्सर उसके बदन का मुआयना करती रहती थी… शायद अन्दर तक का अहसास करती थी। मैं भी उसकी जवानी देख कर चकित थी। उसके उभार छोटे छोटे पर नुकीले थे। उसके होठं पतले लेकिन फ़ूल की पन्खुडियों जैसे थे।

एक दिन राकेश ने रात को चुदाई के समय मुझे अपने दिल की बात बता ही दी। उसने कहा -‘नेहा… पूनम कितनी सेक्सी है ना…’

‘हं आ… हां… है तो … जवान लडकियां तो सेक्सी होती ही है…’ मैं उसका मतलब समझ रही थी।

‘उसका बदन देखा … उसे देख कर तो… यार मन मचल जाता है…’ राकेश ने कुछ अपना मतलब साधते हुए कहा।

‘अच्छा जी… बता भी दो जानू… जी क्या करता है…’ मैं हंस पड़ी… मुझे पता था वो क्या कहेगा…

‘सुनो नेहा … उसे पटाओ ना … उसे चोदने का मन करता है…’

‘हाय… नौकरानी को चोदोगे … पर हां …वो चीज़ तो चोदने जैसी तो है…’

‘तो बोलो … मेरी मदद करोगी ना …’

‘चलो यार …तुम भी क्या याद करोगे … कल से ही उसे पानी पानी करती हूं…’

फिर मै सोच में पड़ गयी कि क्या तरीका निकाला जाये। सेक्स तो सभी की कमजोरी होती ही है। मुझे एक तरकीब समझ में आयी।

दूसरे दिन पूनम के आने का समय हो रहा था… मैने अपने टीवी पर एक ब्ल्यू हिन्दी फ़िल्म लगा दी। उस फ़िल्म में चुदाई के साथ हिन्दी डायलोग भी थे। पूनम कमरे में सफ़ाई करने आयी तो मै बाथरूम में चली गयी। सफ़ाई करने के लिये जैसे ही वो कमरे के अन्दर आयी तो उसकी नजर टीवी पर पडी… चुदाई के सीन देख कर वो खडी रह गयी। और सीन देखती रही।

मैं बाथरूम से सब देख रही थी। उसे मेरा वीडियो प्लेयर नजर नहीं आया क्योंकि वह लकडी के केस में था। वो धीरे से बिस्तर पर बैठ गयी। उसे पिक्चर देख कर मजा आने लग गया था। चूत में लन्ड जाता देख कर उसे और भी अधिक मजा आ रहा था। धीरे धीरे उसका हाथ अब उसके स्तनो पर आ गया था.. वह गरम हो रही थी। मेरी तरकीब सटीक बैठी। मैने मौका उचित समझा और बथरूम से बाहर आ गयी…

‘अरे… टीवी पर ये क्या आने लगा है…’

‘दीदी… साब तो है नहीं…चलने दो ना…अपन ही तो है…’

‘अरे नहीं पूनम… इसे देख कर दिल में कुछ होने लगता है…’ मैं मुस्करा कर बोली

मैने चैनल बदल दिया… पूनम के दिल में हलचल मच गयी थी … उसके जवान जिस्म में वासना ने जन्म ले लिया था।

‘दीदी… ये किस चेनल से आता है …’उसकी उत्सुकता बढ रही थी।

‘अरे तुझे देखना है ना तो दिन को फ़्री हो कर आना … फिर अपन दोनो देखेंगे… ठीक है ना…’

‘हां दीदी…तुम कितनी अच्छी हो…’ उसने मुझे जोश में आकर प्यार कर लिया। मैं रोमांचित हो उठी… आज उसके चुम्बन में सेक्स था। उसने अपना काम जल्दी से निपटा लिया… और चली गयी। तीर निशाने पर लग चुका था।

कुंवारी नौकरानी की चुदाई


करीब दिन को एक बजे पूनम वापस आ गयी। मैने उसे प्यार से बिस्तर पर बैठाया और नीचे से केस खोल कर प्लेयर में सीडी लगा दी और मैं भी बिस्तर पर बैठ गयी। ये दूसरी फ़िल्म थी। फ़िल्म शुरू हो चुकी थी। मैं पूनम के चेहरे का रंग बदलते देख रही थी। उसकी आंखो में वासना के डोरे आ रहे थे। मैने थोडा और इन्तजार किया… चुदाई के सीन चल रहे थे।

मेरे शरीर में भी वासना जाग उठी थी। पूनम का बदन भी रह रह कर सिहर उठता था। मैने अब धीरे से उसकी पीठ पर हाथ रखा। उसकी धडकने तक महसूस हो रही थी। मैने उसकी पीठ सहलानी चालू कर दी।

मैने उसे हल्के से अपनी ओर खींचने की कोशिश की… तो वो मेरे से सट गयी। उसका कसा हुआ बदन…उसकी बदन की खुशबू… मुझे महसूस होने लगी थी। टीवी पर शानदार चुदाई का सीन चल रहा था। पूनम का पल्लू उसके सीने से नीचे गिर चुका था… मैने धीरे से उसके स्तनों पर हाथ रख दिया… उसने मेरा हाथ स्तनों के ऊपर ही दबा दिया। और सिसक पडी।

‘पूनम… कैसा लग रहा है…’

‘दीदी… बहुत ही अच्छा लग रहा है…कितना मजा आ रहा है…’ कहते हुए उसने मेरी तरफ़ देखा … मैने उसकी चूंचियां सहलानी शुरू कर दी… उसने मेरा हाथ पकड लिया…

‘बस दीदी… अब नहीं …’

‘अरे मजे ले ले … ऐसे मौके बार बार नहीं आते……’ मैने उसके थरथराते होंठों पर अपने होंठ रख दिये… पूनम उत्तेजना से भरी हुयी थी। पूनम ने मेरे स्तनों को अपने हाथों में भर लिया और धीरे धीरे दबाने लगी। मैने उसका लहंगा ऊपर उठा दिया… और उसकी चिकनी जांघों पर हाथ से सहलाने लगी… अब मेरे हाथ उसकी चूत पर आ चुके थे। चूत चिकनाई और पानी छोड रही थी। मेरे हाथ लगाते ही पूनम मेरे से लिपट गयी। मुझे लगा मेरा काम हो गया।

‘दीदी… हाय… नहीं करो ना … मां…री… कैसा लग रहा है…’

मैने उसकी चूत के दाने को हल्के हल्के से हिलाने लगी…। वो नीचे झुकती जा रही थी… उसकी आंखे नशे में बन्द हो रही थी।

उधर राकेश लन्च पर आ चुका था। उसने अन्दर कमरे में झांक कर देखा। मैने उसे इशारा किया कि अभी रुको। मैने पूनम को और उत्तेजित करने के लिये उससे कहा- ‘पूनम … आ मैं तेरा बदन सहला दूं…… कपड़े उतार दे …’

‘दीदी … ऊपर से ही मेर बदन दबा दो ना…’ वो बिस्तर पर लेट गयी। मैं उसके उभारों को दबाती रही…उसकी सिसकियां बढती रही… मैने अब उसकी उत्तेजना देख कर उसका ब्लाऊज उतार दिया… उसने कुछ नहीं कहा… मैने भी यह देख कर अपने कपडे तुरन्त उतार दिये। अब मैं उसकी चूत पर अपनी उंगली से दबा कर सहलाने लगी… और धीरे से एक उंगली उसकी चूत में डाल दी। उसके मुख से आनन्द की सिसकारी निकल पड़ी…

‘पूनम … हाय कितना मजा आ रहा है… है ना…’

‘हां दीदी… हाय रे… मैं मर गयी…’

‘लन्ड से चुदोगी पूनम… मजा आयेगा…’

‘कैसे दीदी … लन्ड कहां से लाओगी…’

‘कहो तो राकेश को बुला दूं … तुम्हे चोद कर मस्त कर देगा’

‘नहीं …नहीं … साब से नहीं …’

‘अच्छा उल्टी लेट जाओ … अब पीछे से तुम्हारे चूतड़ भी मसल दूं…’

वो उल्टी लेट गयी। मैने उसकी चूत के नीचे तकिया लगा दिया। और उसकी गान्ड ऊपर कर दी। अब मैने उसके दोनो पैर चौड़ा दिये और उसके गान्ड के छेद पर और उसके आस पास सहलाने लगी। वो आनन्द से सिसकारियां भरने लगी।

राकेश दरवाजे के पास खडा हुआ सब देख रहा था। उसने अपने कपड़े भी उतार लिये। ये सब कुछ देख कर राकेश का लन्ड टाईट हो चुका था। उसने अपना लन्ड पर उंगलियों से चमड़ी को ऊपर नीचे करने लगा। मैं पूनम की गान्ड और चूतडों को प्यार से सहला रही थी। उसकी उत्तेजना बहुत बढ चुकी थी। मैने राकेश को इशारा कर दिया… कि लोहा गरम है…… आ जाओ…।

राकेश दबे पांव अन्दर आ गया। मैने इशारा किया कि अब चोद डालो इसे। उसके फ़ैले हुये पांव और खुली हुयी चूत राकेश को नजर आ रही थी। ये देख कर उसका लन्ड और भी तन्नाने लगा।

राकेश उसकी पैरों के बीच में आ गया। मैं पूनम के पीछे आ गयी… राकेश ने पूनम के चूतडों के पास आकर लन्ड को उसकी चूत पर रख दिया। पूनम को तुरन्त ही होश आया…पर तब तक देर हो चुकी थी। राकेश ने उस काबू पा लिया था। वो उसके चूतडों से नीचे लन्ड चूत पर अड़ा चुका था। उसके हाथों और शरीर को अपने हाथों में कस चुका था।

पूनम चीख उठी…पर तब तक राकेश का हाथ उसका मुँह दबा चुका था। मैने तुरन्त ही राकेश का लन्ड का निशाना उसकी चूत पर साध दिया। राकेश हरकत में आ गया।

उसका लन्ड चूत को चीरता हुआ अन्दर घुस गया। चूत गीली थी…चिकनी थी पर अभी तक चुदी नहीं थी। दूसरे ही धक्के में लन्ड गहराई में उतरता चला गया। पूनम की आंखे फ़टी पड़ रही थी। घू घू की आवाजें निकल रही थी। उसने अपने हाथों से जोर लगा कर मेरा हाथ अपने मुह से हटा लिया। और जोर से रो पडी… उसकी आंखो से आंसू निकल रहे थे… चूत से खून टपकने लगा था।

‘बाबूजी … छोड दो मुझे… मत करो ये……’ उसने विनती भरे स्वर में रोते हुये कहा। पर लन्ड अपना काम कर चुका था।

‘बस…बस… अभी सब ठीक हो जायेगा… रो मत…’ मैने उसे प्यार से समझाया।

‘नहीं बस… छोड़ दो अब … मैं तो बरबाद हो गयी दीदी… आपने ये क्या कर दिया…’ वो नीचे दबी हुयी छटपटाती रही। हम दोनों ने मिलकर उसे दबोच लिया। दबी चीखें उसके मुह से निकलती रही। राकेश ने लन्ड को धीरे धीरे से अन्दर बाहर करना शुरु कर दिया।

‘साब…छोड़ दो ना … मैं तो बरबाद हो गयी…… हाऽऽऽय…’ वो रो रो कर… विनती करती रही। राकेश ने अब उसकी चूंचियां भी भींच ली। वो हाय हाय करके रोती रही …नीचे से अपने बदन को छटपटाकर कर हिलाती कर निकलने की कोशिश करती रही। लेकिन वो राकेश के शरीर और हाथों में बुरी तरह से दबी थी। अन्तत: उसने कोशिश छोड दी और निढाल हो कर रोती रही।

राकेश ने अपनी चुदाई अब तेज कर दी … उसका कुंवारापन देख कर राकेश और भी उत्तेजित होता जा रहा था। धक्के तेजी पर आ गये थे। कुछ ही देर में पूनम का रोना बन्द हो गया … और अन्दर ही अन्दर शायद उसे मस्ती चढने लगी…

‘हाय मैं लुट गयी… मेरी इज़्ज़त चली गयी…।’ बस आंखे बन्द करके यही बोलती जा रही थी… नीचे तकिया खून से सन गया था। अब राकेश ने उसकी चूंचियां फिर से पकड ली और उन्हे दबा दबा कर चोदने लगा। पूनम अब चुप हो गयी थी… शायद वो समझ चुकी थी कि उसकी झिल्ली फ़ट चुकी है और अब बचने का भी कोई रास्ता नही है। पर अब उसके चेहरे से लग लग रहा था कि उसे मजा आ रहा है। मैने भी चैन की सांस ली…।

मैने देखा कि राकेश का लन्ड खून से लाल हो चुका था। उसकी कुँवारी चूत पहली बार चुद रही थी। उसकी टाईट चूत का असर ये हुआ कि राकेश जल्दी ही चरमसीमा पर पहुंच गया। अचानक नीचे से पूनम की सिसकारी निकल पडी और वो झड़ने लगी। राकेश को लगा कि पूनम को अन्तत: मजा आने लगा था और वो उसी कारण वो झड़ गयी थी।

अब राकेश ने अपना लन्ड बाहर निकाल लिया और अपनी पिचकारी छोड दी। सारा वीर्य पूनम के चूतडों पर फ़ैलने लगा। मैने जल्दी से सारा वीर्य पूनम की चूतडों पर फ़ैला दिया। राकेश अब शान्त हो चुका था।

राकेश बिस्तर से नीचे उतर आया। पूनम को भी चुदने के बाद अब होश आया… वो वैसी ही लेटी हुई अब रोने लगी थी।

‘बस अब तो हो गया … चुप हो जा…देख तेरी इच्छा भी तो पूरी हो गयी ना…’

‘दीदी… आपने मेरे साथ अच्छा नहीं किया… मैं अब कल से काम पर नहीं आऊंगी…’ वो उठते हुये रोती हुई बोली… उसने अपने कपडे उठाये और पहनने लगी… राकेश भी कपडे पहन चुका था।

मैने राकेश को तुरन्त इशारा किया … वो समझ चुका था… जैसे ही पूनम जाने को मुडी मैने उसे रोक लिया…’सुनो पूनम… राकेश क्या कह रहा है……’

‘पूनम … मुझे माफ़ कर दो … देखो मुझसे रहा नही गया तुम्हे उस हालत में देख कर… प्लीज…’

‘नहीं… नहीं साब… आपने तो मुझे बरबाद कर दिया है … मैं आपको कभी माफ़ नहीं करूंगी…’ उसका चेहरा आंसुओं से तर था।

राकेश ने अपनी जेब से सौ सौ के दो नोट निकाल कर उसे दिये…पर उसने देख कर मुह फ़ेर लिया… उसने फिर और सौ सौ के पाँच नोट निकाल दिये… उसकी आंखो में एकबारगी चमक आ गयी… मैने तुरन्त उसे पहचान लिया। मैने राकेश के हाथ से नोट लिये और अपने पर्स से सौ सौ के कुल एक हज़ार रुपये निकाल कर उसके हाथ में पकड़ा दिये। उसका चेहरा खिल उठा।

‘देख … ये साब ने गलती की ये उसका हरज़ाना है… हां अगर साब से और गलती करवाना हो तो इतने ही नोट और मिलेंगे…’

‘दीदी … मैं आपकी आज से बहन हूं… मुझे पैसों की जरूरत किसे नहीं होती है…’ मैने उसे पूनम को गले लगा लिया…

‘पूनम …… माफ़ कर देना… तू सच में आज से मेरी बहन है… तेरी इच्छा हो … तभी ये करना…’ पूनम खुश हो कर जाने लगी… दरवाजे से उसने एक बार फिर मुड़ कर देखा … फिर भाग कर आयी … और मेरे से लिपट गयी… और मेरे कान में कहा- दीदी… साब से कहना … धन्यवाद…’

‘ अब साब नहीं ! जीजाजी बोल ! और धन्यवाद किस लिये… पैसों के लिये …’

‘ नहीं … मेरी चुदाई के लिये…’

वो मुड़ी और बाहर भाग गयी…… मैं उसे देखती रह गयी… तो क्या ये सब खेल खेल रही थी। मेरी नजर ज्योंही मेज़ पर पड़ी तो देखा कि सारे नोट वहीं पड़े हुए थे … राकेश असमंजस में था

मामा की लड़की की चुदाई

मामा की लड़की की चुदाई


mama ki ladki ki chudai , मामा की लड़की की कुवारी चूत की चुदाई, Mama ki ladki ki kuwari chut ki chudai, मामा की बेटी की चुदाई - Bhai Bahan Sex, मामा की लड़की की चुदाई, मामा की बेटी की चुत चुदाई, सगे मामा की बेटी को चोदा, मामा की बेटी की चूत फाड़ी, मामा की लड़की के साथ चुदाई की कहानी हिंदी में, मामा के लड़की के साथ सेक्स, मामा की लड़की की गरम चूत, मामा के लड़की की प्यास, मामा की लड़की की चूची चुसाई, मामा की लड़की की फुदी चुदाई, Mama Ki Ladki ki Chudai, Mama Ke Ladki Ke Sath Sex, Mama Ki Ladki ki Garam Chut, Mama Ke Ladki Ki Pyas Mama Ki ladki Ki chuchi Chusai, Mama Ki Ladki Ki Fudi Chudai Ki Kahaniya

मेरे मामा को बेटा नहीं था, वो मुझे बेटे की तरह मानते थे और प्यार भी करते थे। इसलिए मैं ज्यादा समय मामा जी के घर ही रहता था। मामी भी बहुत प्यार करती थीं और मुझे रोज अच्छे-अच्छे पकवान बना कर खिलाती थीं। उनकी सिर्फ एक बेटी है, उसका नाम निधि है। वह पढ़ती थी और अगले साल उसे बोर्ड का एग्जाम देना था, जिसके कारण वह भी मन लगा कर पढ़ाई करती थी। वह सुबह आठ बजे से बारह बजे तक कोचिंग के लिए जाती थी। उसे घर आते-आते 12:30 हो जाते थे।
मुझे मामाजी ने मेरी पढ़ाई के लिए एक अलग कमरा दे रखा था। मामाजी शाम 6 बजे अपने ऑफिस से लौटते थे।


एक दिन मैं मामाजी के यहाँ पढा़ई कर रहा था, तभी मेरी मामी मेरे कमरे मे आईं और बोलीं- अमित देखो, रसोई में गैस खत्म हो गई है और नया सिलेंडर लगाना मुझे नहीं आता है.. प्लीज़ चलो न.. लगा दो ना..! आई एम वेरी सॉरी.. तुम्हारी पढ़ाई में दखल करने के लिए। आप यह कहानी adultstories वेबसाइट पर पढ़ रहे है।

मैंने कहा- इसमें सॉरी बोलने की क्या बात है.. मामी चलिए, मैं नया सिलेंडर लगा देता हूँ।

मैंने जाकर नया सिलेंडर लगा दिया तो उन्होंने कहा- चाय पी लो, पढ़ते-पढ़ते थक गए होगे। मामी चाय बनाने लगीं और मैं रसोई से सटे कमरे में बैठ गया और चाय का इंतजार करने लगा। थोड़ी देर बाद मामी चाय लेकर आईं और कहा- अमित, अगर प्रेशर-कुकर तीन सीटी दे दे तो गैस बन्द कर देना, थोड़ी देर में निधि कोचिंग से आ जाएगी। और इतना कहने के बाद वो बाथरूम के अन्दर नहाने चली गईं।

एक बात आप सभी को बता दूँ कि मेरी मामी की उम्र अधिक नहीं थी और उनकी जवानी अभी चरम सीमा पर थी। वो काफी गोरी थीं और उनके लम्बे-लम्बे बाल थे। वो मुझे अपने दोस्त की तरह समझती थीं क्योंकि दिन भर मैं और मेरी मामी घर पर रहते थे, सो उनसे मेरा लगाव बहुत ज्यादा था। मैं मन ही मन मामी के बारे में सोचा करता था कि मामा कितने भाग्यशाली है कि उन्हें मामी जैसी खूबसूरत औरत मिली।

उस समय मेरी जवानी अपनी शुरूआत में थी और मैं अपने और मामी के बारे में सोच कर मुठ मारा करता था। उस समय मेरी कोई गर्ल-फ्रेंड नहीं थी। मैं मामी को चोदना चाहता था लेकिन डर था कि मेरे कुछ करने पर वो मामा को बता देंगी, तब क्या होगा? तीन सीटी देने के बाद मैंने गैस बन्द कर दी और अपने ऊपर वाले रूम में जाने लगा। पता नहीं मेरे मन में क्या आया और मैंने सोचा कि मामी की बिंदास जवानी को ऊपर रूम से सटे हुए बाथरूम के वेंटीलेटर से देखा जाए, सो मैं ऊपर सीढ़ी वाले वेंटीलेटर से अपनी जवान मामी को देखने लगा, लेकिन मेरी मामी को यह पता नहीं था कि मैं ऊपर चला गया हूँ।

मैंने जैसे ही वेंटीलेटर के एक छोटे से छिद्र से देखा तो दंग रह गया वो अपनी दोनों चूचियों पर साबुन लगा कर झाग पैदा कर रही थीं और जोर-जोर से अपनी चूचियों को दबा रही थीं। यह देखते ही मेरा लंड लोहे की तरह सख्त हो गया। क्या बताऊँ दोस्तो, उस समय लगा कि मैं अपनी मामी को यहीं पटक कर चोद दूँ, बाद जो होगा सो देखा जाएगा। इतने में बेल बजी तो देखा कि निधि आ गई थी। मैं झट से अपने कमरे में चला आया और पढ़ने के लिए बैठ गया, लेकिन मेरे मन में मामी की गोल-गोल चूचियाँ ही दिख रही थीं।

रात 12 बजे जब मैं पेशाब करने के लिए उठ कर बाथरूम की ओर जैसे ही बढ़ा कि मुझे कुछ खुसुर-फुसुर की आवाज सुनाई दी। वो आवाज मामाजी के कमरे से आ रही थी। मैंने दरवाजे के एक छोटे से छेद से देखा तो देखकर दंग ही रह गया। मैंने देखा कि मामा नीचे लेटे हुए थे और मामी ऊपर चढ़ी हुई थीं और जोर-जोर से सिसकारियाँ ले रही थीं। मामा नीचे से मामी के बुर को जोर-जोर से चोद रहे थे। मामा का लौड़ा काफी बड़ा और लम्बा दिख रहा था। मामी पूरी तरह से नंगी थी।

Mama ki ladki ki chudai



कुछ देर बाद मामा ने उठ कर मामी को बेड पर पटक दिया और उनकी मस्त भीगी हुई बुर को चाटने लगे और मामी को बड़ा मजा आ रहा था। मामी अपने मुँह से ‘आह-ह आह..उई उई इइइईईई’ निकाल रही थीं। यह सब देख मेरा लंड एकदम लोहे की तरह खड़ा हो कर फुंफकारने लगा था और पानी-पानी हो गया था। फिर मामी अपने मुँह से मामाजी का लंबा लंड को चूसने लगीं। मामा भी मामी के बाल पकड़कर सहला रहे थे ओैर मामी जोर-जोर से मुँह ऊपर-नीचे कर रही थीं। अंततः मामा जी ने मामी को इशारे में कहा कि लंड को छोड़ो और मेरे नीचे आ जाओ।

फिर मामी नीचे आ गईं, मामा ने अपने लंड को जोर से हिलाया और मामी की गुलाबी बुर के ऊपर रगड़ने लगे। मामी की आँख में एक प्यासी कशिश थी, जो मामा को मन ही मन कह रही थी कि अब कितना तड़पाओगे.. जल्दी मेरी बुर में पेलो न.. ! मामा ने धीरे-धीरे रगड़ते हुए अपने लम्बे लौड़े को जोर से झटका मारते हुए मामी की बुर के अन्दर अपना लंड पेल दिया। मामी जोर से चिल्ला उठीं और मामी के आँखों से पानी आ गया। फिर उन्होंने अपने आप को संभालते हुए मामा को जोर से पकड़ लिया और मामा का साथ देने लगीं। मामा उस समय तो कसाई जैसे लग रहे थे। मामी दर्द से चिल्ला रही थीं और मस्त चुदवा रही थीं। मामा भी अपना लंड को बिना रोके चोद रहे थे।

इतने मे पीछे से किसी ने मुझे आवाज लगाई। मैंने पलट कर देखा तो पीछे निधि खड़ी थी। मैं तो उसे देख कर सहम गया। वो बोली- आप यहाँ क्या कर रहे हैं भैया.. और दरवाजे से क्या झांक रहे है? आप यह कहानी हिंदी सेक्स स्टोरीज वेबसाइट पर पढ़ रहे है।

मैंने उसे टालने की कोशिश की, लेकिन वो मानने को तैयार ही नहीं हो रही थी और वो मुझे पीछे हटाकर खुद देखने लगी। करीब दस सेकेंड देखने के बाद वो मेरी तरफ देखने लगी और शरमा गई। मैंने उससे कहा- मैंने मना किया था न..! तो फिर क्यों देखा?

“हाँ.. भैया आपने तो मना तो किया था.. पर आपको बताना चाहिये था कि अन्दर क्या हो रहा है?”
मैंने कहा- क्या बताता..! कि अन्दर तुम्हारे पापा तुम्हारी मम्मी की जोरदार चुदाई कर रहे हैं।
वो फिर शरमा गई और मन ही मन हँसने लगी।

हम लोग ये सब बातें धीरे-धीरे कर रहे थे, कहीं हमारी आवाज अन्दर ना चली जाए। तो मैंने निधि से कहा- चलो यहाँ से.. हमारी आवाज अन्दर चली जाएगी तो गजब हो जाएगा। थोड़ी देर बाद निधि मेरे कमरे में आई और बोली- भैया जो हमने देखा उसे किसी अपने दोस्त को मत बताना।

मैंने कहा- पागल हो क्या..! यह बात तो क्या.. मैं कभी कुछ नहीं बताता..!
वो तपाक से बोली- कौन सी और बात?

तो मेरे मुँह से यह निकल गया कि मैं रोज तुम्हारी मम्मी को नहाते हुए देखता हूँ.. वो बात..!
वो बोली- क्या आप मेरी मम्मी को रोज नहाते हुए देखते हैं?
मैंने ‘हाँ’ में अपना सिर हिला दिया।
फिर वो बोली- भैया आप तो बड़े छुपे-रूस्तम निकले। आप को भी मेरा एक काम करना होगा।
मैंने पूछा- क्या?
वो बोली- जैसे अभी हम दोनों नीचे देख कर आए हैं.. आप भी मेरे साथ वैसा कीजिए न..!
मैंने कहा- क्या..??
वो बोली- हाँ भइया.. आप मेरी भी जोरदार चुदाई करो ना..! बिल्कुल मेरे पापा की तरह..!
मेरी तो समझ में नहीं आ रहा था कि मैं क्या करूँ..!

Mama Ki Ladki ki Garam Chut


मैं तो इसकी माँ को चोदना चाहता था यहाँ तो ताजा बुर भी मेरा इंतजार कर रही है। मेरे तो मन में लड्डू फूटने लगे, चलो भगवान देता है तो छप्पर फाड़ के देता है.. फटी बुर चोदने से अच्छा है कि मस्त ताजा बुर को चोदूँ। मैंने कहा- निधि, हम दोनों के लिये यह अच्छी बात नहीं है..!

वो झट से बोली- मेरी माँ को नहाते देख कर आप को अच्छा लगता है ओैर मुझ पर डायलॉग झाड़ रहे हो.. यह अच्छी बात नहीं है.. चलो अब इंसानियत छोड़ो और मुझे चोदो। और इतना कहते ही वो मुझसे लिपट गई और मेरे होंठों को चूसने लगी। मैं भी उसके होंठों को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा।

फिर उसने कहा- भैया दरवाजा बन्द कर दो नहीं तो किसी को शक हो जाएगा कि मैं इतनी रात तुम्हारे कमरे में क्या कर रही हूँ।
मैंने वैसा ही किया जैसा निधि ने बोला।
मैं जैसे ही दरवाजा बन्द कर वापस मुड़ा, तो वो अपने कपड़े उतार रही थी।
मैंने उसे रोकते हुए कहा- जानू मैं कब काम आऊँगा, सब तुम ही कर लोगी तो मैं क्या करूँगा?
मैंने सबसे पहले उसके पास जाकर उसे चूमना शुरू किया और मेरा एक हाथ उसके चूची पर थी, जो धीरे-धीरे उस पर अपना दबाव बना रही थी। फिर उसके बालों को मैंने पूरा खोल दिया।
उसके बाद उसकी कमीज के अन्दर अपना हाथ डालकर ब्रेज़ियर के हुक को खोल दिया। उसकी चूची इतनी उभरी हुई थी कि मैं क्या कोई भी उसका दीवाना हो जाता। उसकी चूची को मैंने मुँह में लिया और चूसने लगा।
वो “आह उई ई” कर-कर के सिसकियाँ भर रही थी और मैं जोर से चूसे जा रहा था।
वो थोड़ी देर बाद बोली- भैया अब मेरी घुण्डी दर्द कर रही है।
मैंने कहा- मुझसे चुदवा रही हो और मुझे भैया भी बोल रही हो?
फिर उसके सारे कपड़े मैंने उतार दिए और वो अब बिल्कुल नंगी हो चुकी थी।
मैंने भी अपने सारे कपड़े खोल दिए थे। फिर उसने मेरे लौड़े को खड़ा करने के लिये उसे जोर-जोर से चूसने लगी, बिल्कुल अपनी माँ की तरह।
मैं मन ही मन कह रहा था कि दोनों माँ-बेटी एक जैसी चुदवाती हैं। फिर उसे मैंने नीचे लिटाया और उसकी गरमा-गरम बुर को चाटना शुरू कर दिया। उसकी बुर से पानी ही पानी निकल रहा था, जो स्वाद में नमकीन लग रहा था। मैं लगभग आधे घंटे तक उसकी बुर को चाटता रहा और वो सिसकियाँ पर सिसकियाँ भर रही थी- आह… उई माँ… और चाटो.. खूब चाटो मेरे जानू… तुम बहुत अच्छे से चाटते हो और चाटो आह… मैं और जोर-जोर से चाटने लगा। थोड़ी देर बाद वो खुद बोली- अमित, अब तुम मुझे, मेरी बुर को चोदो !

mama bhanji sex kahani hindi me


मैं- नहीं पगली, मेरा लण्ड बहुत बड़ा और लम्बा है.. तुम्हारी बुर फट जाएगी और तुम्हें बहुत दर्द होगा।
वो बोली- भैया आपको मैं एक बात बता दूँ कि लण्ड कैसा भी हो.. किसी भी लड़की या औरत की चूत हर तरह का लण्ड संभाल सकती है !

“तुम्हारी बात में दम तो है.. चलो देखते हैं.. कौन किसको संभालता है।” इतना कहते ही मैं उसके ऊपर आ गया और अपना लौड़ा उसकी बुर के ऊपर टिका दिया और धीरे-धीरे अन्दर डालने लगा। लेकिन उसकी बुर टाइट होने के कारण मेरा लण्ड में फंसाव हो रहा था और मेरे लण्ड का पूरा सुपारा बाहर निकल आया था। मैं फिर उसकी बुर के अन्दर अपना लण्ड डालने लगा और धीरे-धीरे डालते हुए एक जोरदार धक्का दे दिया।

“आह… उई माँ …मार दिया रे.. ! इतना बड़ा लण्ड… मुझको बहुत दर्द हो रहा है.. निकालो जल्दी.. निकालो..!” आप यह कहानी adultstories पर पढ़ रहे है।

मैंने कहा- कुछ नहीं होगा सिर्फ बरदाश्त करो। फिर देखना तुम्हें अच्छा लगेगा !

और वो मुझसे लिपट गई, मैं धीरे-धीरे उसकी बुर के अन्दर ठोलें मार रहा था। इतने में देखा कि मेरा लण्ड बुरी तरह खून से सन कर लाल हो गया है। मैंने अपने लण्ड को बाहर निकाल कर उसके फेंके हुए दुपट्टे से साफ किया और फिर उसकी बुर में अपना लौड़ा को पेलकर जोर-जोर से चोदने लगा। उसे और भी आनन्द आ रहा था और मेरी कमर पकड़ कर जोरदार धक्के सह रही थी। चुदाई का इतना मजा आ रहा था कि मैंने पूरी रात-भर उसे चार बार चोदा और अपना सारा वीर्य उसके बुर के अन्दर ही गिरा दिया।

Author Name

Adult Stories

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.