Articles by "Free Sex Kahani"

adult stories in hindi Antarvasna Story baap beti ki chudai ki kahani bahan ki chudayi balatkar ki kahani behen ki chudayi bhabhi ki chudai bhai bahan ki chudai bhai bahan sex story in hindi bollywood actress ki chudai ki kahani bollywoos sex stories in hindi chacha bhatiji ki chudai ki kahani chachi ki chudai ki kahani chhoti bahan ki chudai chhoti ladkai ki chudai chudai ki kahaniya dehati chudai ki kahani devar bhabhi ki chudai ki kahani Didi ki Chudai Free Sex Kahani gand chudai gand chudai ki kahani gangbang ki kahani Ghode ke sath desi aurat ki sex story girlfriend ki chudai gujarati bhabhi habshi lund se chudai hindi sex stories Hindi Sex Stories Nonveg hindi urdu sex story jija saali sex jija sali ki chudai ki kahani Kahani kunwari choot chudai ki kahani Losing virginity sex story mama bhanji ki chudai ki kahani mama ki ladaki ki chudai marathi sex story mote lund se chudai ki kahani muslim ladaki ki chudai muslim ladki ki chuadi nana ne choda naukarani ki chudai New Hindi Sex Story | Free Sex Kahani Nonveg Kahani Nonveg Sex Story Padosi Ki Beti pahali chudai pakistani ladaki ki chudai Pakistani Sex Stories panjaban ladki ki chudai sali ki chudai samuhik chudai sasur bahu ki chudai sasur bahu ki sex story sasural sex story school girl ki chudai ki kahani seal tod chudai sex story in marathi suhagraat ki chudai urdu chudai ki kahani in urdu Virgin Chut wife ki chudai zabardasti chudai ki kahaniya एडल्ट स्टोरी कुंवारी चूत की chudai गर्लफ्रेंड की चुदाई गांड चुदाई की कहानियाँ जीजा साली सेक्स पहलवान से चुदाई बलात्कार की कहानी बाप बेटी की chudai की सेक्सी कहानी मामा भांजी चुदाई की कहानी ससुर बहु चुदाई सेक्स स्टोरी
Showing posts with label Free Sex Kahani. Show all posts

Part 1 Pagal Budha Ne Choda

Pagal Budha Ne Choda


Ye Kahani Piya Ki Hai Piya Ka Sadi Kafi Choti Umer 17 Saal Me Hi Ho Gai Thi Jis Din Piya Ki Sadi Huithi Us Din Raat Ko Jab Sadi Ho Ne Baad Piya Pane Pati Ke Sath Apne Pati Ke Ghar Jaa Rahi Thi Us Din Piya Or Piya Ke Pati Or Piya Ke Pati Ke Ghar Valejo Ki Sab Ek Bas Me Aa Rahe The

Us Bas Ka Oxidant Ho Gaya Sabhi Log Maa Re Gaye Piya Ke Pati Or Piaya Ke Pati Ke Maa Baap Sirf Us Me Piya Or Piya Ki Pati Ki Behen Piya Ki Nanad Payel Hi Bach Paa Ye The Bichari Piya Us Ke Sadi Ki Pehe Li Raat Ko Hi Us Ka Pati Ki Mar Gaya Bichari Ki Suhagrat Bhi Nahi Ho Paaii

Aaj Us Baat Ko Pure 2 Saal Bit Gaye Hai Piya Ne Apni Nanad Payel Ke Sath Seher Me Apne Pari Ke Ghar Aake Rehe Ne Lagi Or Ek Nokri Kar Ne Lagi Pagalo Ke Hospital Me Naas Ka Kaam Kar Ti Thi Us Se Mariso Ko Time Pe Davai Or Khana Khila Ne Ka Kaam Kar Na Tha Or Es Kaam Se Jo Rupiye Mil Te The Us Piya Ka Ghar Kharch Nikal Jata Tha Piya Ke Maa Baap Bohod Garib The Es Li Ye Piya Un Pe Koi Boch Nahi Ban Na Chah Ti Thi

Kher Wakt Gujar Ta Gaya Dhi Re Dhi Re Ab Payel Bhi Kafi Badi Ho Gai Thi Jab Oxidant Huva Tha Tab Payel Ki Age 13 Saal Ki Thi Lekin Ab Vo Bhi 15 Ki Ho Gai Thi Payel 9 Th Class Me Path Ti Thi School Me Payel Dikh Ne Kafi Gori Thi Or Sunder Payel Ki Class Ke Sare Ladke Payel Pe Line Maar Te The Lekin Payel Kisi Ko Bhi Aakh Utha Ke Nahi Dekh Ti Thi

Piya Bhi Kafi Sunder Thi Lekin Thori Si Savli Rangki Thi Us Ka Kaam Hospital Me Kafi Achha Chal Raha Tha Payel Ka Ghar Hospital Se Kafi Dur Tha Es Li Ye Payel Ne Kuchh Rupiye Jama Kar Ke Ek Second Hend Caar Kahrid Li Thi Taki Us Ko Aa Ne Ja Ne Me Aasani Ho Ek Din Ki Baat Hai

Payel Ke Hospital Me Se Ek Pagal Budha Tha Jo Vaha Ke Votboy Ke Sir Pe Hamla Kar Ke Bhag Gaya Tha Tab Hospital Valo Ne Polish Me Report Bhi Kar Vaiii Taki Pagala Budha Jald Se Jald Pakda Ja Ye Lekin Vo Pagal Budha Hospital Sebhaga Nahi Tha Vo Hospital Ke Parking Place Me Ek Kaar Ki Dikhi Me Gus Ke Chupa Tha Or It-Tafak Se Vo Gadi Piya Ki Thi

Piya Ko Pata Nahi Tha Ki Vo Pagal Budha Piya Ki Gadi Me Tha Piya Ssam Ko Chute Ho Ne Ke Baad Ghar Aane Ke Liye Nikal Gai Thi Piya Ne Apni Gadi Apne Ghar Ke Unde Ke Get Open Kiya Or Gadi Ko Under Par Kiya Or Ghar Me Under Aa Gai Or Kichan Me Jaa Ke Khana Bana Ne Lagi Khud Ke Li Ye Or Payal Ke Li Ye Tabhi Pagal Budha Gadiki Deki Ko Open Kar Ke Bahar Nikala Or Us Dekha Ki Ghar Ka Darvaja Khula Hai To Vo Sidhe Under Gus Gaya

Or Darvaja Bandh Kar Diya Darvaja Bandh Ho Ne Ki Ajavaj Se Payal Jo Ki Apne Kamre Me Padhai Kar Rahi Thi Vo Bahar Aai Or Bolte Bolte Bhai Aap Ho Kiya Pagal Budha Ko Je Se Hi Avaj Aai To Vo Daar Ke Siri To Se Upper Jaa Ke Ek Room Me Jaa Ke Bister Ke Niche Chhup Gaya Vo Room Piya Ka Tha

Dhori Der Me Piya Or Payel Ne Khana Kha Liya Or Sab Bartan Dho Ke Under Rakh Darvaja Bandh Kar Ke Ghar Ki Sari Light Off Kar Ke Apne Apne Room Me So Ne Ke Li Ye Chali Gai Payel Ka Room Niche Tha Or Piya Ka Room Upper Tha Or Pure Ghar Me Ek Hi Tolet Tha Jo Upper Ki Or Tha Jo Piya Ke Room Ke Najdikh Hai Piya Hame Sa So Ne Se Pehe Le

Garam Pani Se Bath Leti Hai Ache Se Naha Ke Shirf Ek Nighti Hi Pehen Ti Thi Jis Ko Dono Hath Daal Ke Badan Pe Lappet Ke Shirf Ek Rasi Jo Usnighti Me Ho Ti Hai Kamar Ki Or Us Foolo Vali Gaath Bandh Ke Bandh Kar Te Hai Or Jab Khol Na Ho To Shirf Vo Ghath Ko Khich Do Vo Khool Ja Ti Hai Jab Piya Apne Room Me Aai To Us Dekh Ki Room Ki Light To Pehe Le Se Hi On Hai Fir Piya Ko Laga Ki Sayed Vo Khud Hi On Rakhi Ho Gi Ro Off Kar Na Bhul Gai Ho Gi

Fir Piya Aaye Ne Ke Saam Ne Khadi Hui Or Apne Baalo Ko Saaf Ki Ye Or Un Ko Bandh Li Ya Or Ek Khusbu Daar Parfiyom Ko Apne Upper Daal Diya Or So Ne Chali Gai Parfiyom Ki Khusbu Se Pura Room Me Khusbu Fel Gai Thi Fir Piya Ne Room Ki Light Bandh Ki Or Apne Bister Pe Jaa Ke Let Gai Or Ek Kamla Ko Apne Upper Daal Diya Or Pia So Gai 2,3 Ghante Ke Baad Room Me Undhe Ra Ho Gaya To

Vo Pagal Dar Gaya Or Bister Ke Niche Se Bahar Aa Ke Bed Ke Upper Us Kambal Ke Niche Jis Me Piya Thi Us Ja Ke Chup Gaya Pagal Budha Ve Se To Us Ki Age 69 Ki Thi Lekin Dimagi Tor Pe Kisi Bache Je Sa Tha Piya Pure Din Ke Kaam Kaaj Ki Vaja Se Puri Thak Gai Thi Or Vo Kafi Geheri Need Me Thi Es Vaja Se Jab Pagal Budha Piya Ke Bed Par Piya Ke Hi Kambal Ke Under Gus Gaya Topiya Ko Pata Nahi Chal Paya Tha

Pagal Budha Andhe Re Se Dar Ne Karan Piya Ke Dhire Hdire Or Karib Aa Gaya Tha Pagal Budha Kaek Hath Piya Ki Nightiki Us Rasi Pe Aa Gaya Tha Pagal Budhe Ne Dar Ke Vaja Se Us Rasi Ko Pakad Ke Jor Khich Diya Or Piya Nayti Khul Gai Thi Fir Piya Ki Nighti Ka Ek Chara Sarakh Right Or Dusra Lefti Side Gir Gaya Tha Ab Piya Ke Boobs Or Chut Nagi Ho Gai Thi

Ab Pagal Budhe Ne Piya Se Lipat Gaya Tha Or Pagal Budhe Ne Apna Muh Piya Ke Do No Boobs Ke Bich Me Chupa Li Ya Tha Fir Khuchh Der Baad Padal Budhe Ke Pat Se Khuchh Avaj Aa Rahi Thi Pagalbudhe Ne Subhe Se Kuchh Nahi Kha Ya Tha Es Liye Pagal Budhe Ne Piya Ke Ek Boobs Ke Nipul Ko Apne Muh Me L Ke Chus Ne Laga Tha

Ab Halat Ye Thi Ki Pagal Budha Piya Ke Thik Upper Leta Huva Tha Or Piya Ke Do No Boobs Ke Nupul Bari Bari Se Chus Raha Tha Or Piya Ab Bhi Need Me Kahara Rai Thi Hhhhmmmmaaaa Aaaahhhha Piya Ko Lag Raha Tha Ki Vo Koi Sapna Dekh Rahi Hai Jis Me Us Ka Pati Us Ko Chod Raha Hai Es Li Yepiaya Need Me Hi Apne Do No Hath Ko Pagalbudhe Ke Sir Pe Guma Ke Us Ke Balo Ko Noch Te Hu Ye Baar Baar Apne Sine Se Pe Pagal Budhe Ka Sir Ko Daba Rahi Thi

Or Sath Sath Aaahhhha Hhhammmaa Oooahhha Ki Avaj Bhi Nikal Rahi Thi 15 Minit Tak Chal Ta Rah Achanak Kamre Ki Light Chali Gai Or Pankh Jo Guma Raha Tha Vo Bandh Ho Gaya 5 Minit Ke Baad Piya Or Pagal Budha Bhi Garmi Se Jat Pata Ne Laga Do No Ke Jisam Pasi Ne Me Naha Ne Lage The Es Li Ye Pagal Budhe Ne Piaya Ke Upper Se Hat Gaya Or Garmi Ki Vaja Se Apne Sarat Or Pent Ko Utaar Feka Or Piya Ve Se Hi Bistarer Per Pith Ke Bal Laeti Hai Padi Thi

Pagal Budha Apne Kapde Nikal Ne Ke Baad Fir Se Piya Ke Upper Aa Gaya Or Piya Boobs Ke Nipul Ko Chus Ne Lage Achanak Light Aa Gai Or Fir Se Pankha On Ho Gaya Or Bab Thori Garmi Kam Hui Ab Pagal Budhe Ka Land Pia Ki Chut Ke Upper Ragar Rahatha Tabhi Piya Ki Chut Me Leher Si Dor Gai Or Piya Jar Ne Lagi Piya Ki Chut Se Chichipa Ras Bahar Ane Laga Tha

Lekin Piya Ki Chut Se Land Ek Dam Chipka Huva Tha Jis Ke Karan Chut Se Jo Chi Chipa Ras Nikal Raha Tha Vo Land Ke Upper Gir Raha Tha Or Thori Der Me Pura Land Chip Chipa Ho Gaya Tha Piya Chut Pani Pagal Budhe Ke Land Ke Upper Ja Ne Ke Karan Land Chi Chipa Ho Gay Tha Or Ab Sathi Sath Land Hal Hal Ka Tight Huva Tha Abhi Puri Tarah Se Tight Nahi Huva Tha Abhi Kafi Soft Tha Abhi Pagal Budhe Ke Land Ki Size

8 Inch Lamba Or 1 Inch Mota Tha Land Chip Chipa Ho Ne Ki Vaja Se Land Chut Ke Upper Kabhi Left Me Ho Ta Labhi Right Me Sadka Ta Kabhi Upper Ki Or Kabhi Niche Ki Or Or Tabhi Piya Ne Apni Tange Kho Li Need Me Hi Thi Abhi Tak Piya Or Piya Ne Jese Hi Apni Tange Kholi Or Piya Ne Apni 2 Tango Ko Thori Upper Kiya

Us Ke Vaja Se Chut Ka Muh Khol Gay Or Thora Upper Ho Gaya Kiyo Chut Ka Muh Bhi 1 Inch Ka Tha Es Liye Jab Piya Ki Chut Ka Muh Upper Aya Or Pagal Budhe Ka Land Bhi Tabhi Sarak Nechi Ki Or Ja Raha Tha Tab Piya Ki Chut Ke Muh Me Pagal Budhe Ke Land Ka Supra 1 Inch Tak Aasani Se Gus Gaya Or Kiyo Ki Land Abhi Bhi Puri Tah Se Khada Nahi Huva Tha Es Li Ye Kafi Soft Tha

Lekin Je Se Hi Piya Ki Chut Me Land Ek Inch Gus Gaya Piya Ki Chut Me Gud Gudi Se Ho Ne Lagi Or Piya Ki Chut Fir Ek Baar Jad Gai Or Is Baar Sar Chi Chipa Pari Chut Or Land Ke Kin Ro Se Sarkh Ta Sarkh Ta Huva Sidhe Land Ko Nehe La Raha Tha Or Jab Piay Ki Chut Se Pani Nikal Raha Tha Topiya Thori Si Jos Me Aa Gai Or Piya Niche Se 5,6 Jat Ke Maar Ne Lagi Jor Se Chut Se Kafi Sara Chikna Pani Nikal Ne Or Land Pe Gir Ne Ke Vaja Se Pagal Budhe Ka Land Soye Huye Halat Me Hi 5 ,6 Dhako Ke Sath Sidhe Bina Ruke Chut Ke Under Aaram Se Gus Ta Hi Chal Gaya Je Se Koi Saaf Pane Bil Me Gus Ta Hai

Pagal Budhe Kaab Sirf 8 Inch Me Se 7 Inch Land Piya Ki Chut Me Chala Gaya Tha Or Sirf 1 Inch Baki Tha Or Je Se Hi Pagal Budhe Ka Land Piya Ki Chut Me 7 Inch Gus Gaya Pagal Budhe Ko Apne Land Ko Garam Garam Ho Ne Laga Pagal Budhe Se Ba Raha Nahi Gaya Or Us Bacha Hu 1 Inch Bhi Chut Ke Under Daal Ke Land Ko Chut Ek Dam Chipka Diya Or Piya Ko Jakar Liya Or Piya Ko Boobs Ko Chor Diya 3 Minit

Tak Land Ko Chut Ke Under Rakh Ne Ke Baad Chut Ki Itni Garmi Se Land Khada Ho Gaya Or Land Ka Siz Badal Gaya Piya Need Me Hi Jatpata Ne Lagi Ab Land 2 Inch Mota Ho Gaya Tha Or 10 Inch Lamba Ho Gaya Tha Maano Je Se Land Chut Ke Under Fas Gaya Ho Land Ki Motai 2 Inch Ho Ne Vaja Se Piya Ki Chut Fat Ne Lagi Thi Piya Ki Chut Ek Side Ke Kina Re Se Thora Khoon Nikal Raha Tha Piya Ki Seel Tut Rahi Thi

Sayed Ye Us Pagalbudhe Ki Bhi Ab Tak Ki Paheli Chuai Ho Gi Kiyo Ki Vo Budha Bhi Chila Raha Tha Aaha Oooohh Hhhhaaaa Or Piya Bhi Darad Ke Vaja Se Need Se Jaag Gai Or Us Ne Dkha Ki Us Ke Upper Koi Hai Or Jab Piya Us Ke Upper Lete Hu Ye Ka Chehe Ra Dekh To Vo Dang Rehe Gai Kiyo Ki Ye To Us Ki Hospital Ja Piya Nas Ka Kaam Kar Ti Haivaha Ka Ek Pagal Hai Jo Aaj Subha Bhag Gaya Tha

Piya Ne Mehe Sush Kiya Ki Us Ki Nighti Bhi Khuli Hui Hai Or Piya Ne Jat Se Us Pagal Budhe Dhaka Diya Lekin Piya Pagal Budhe Ko Hata Nahi Pai Or Sath Sath Piya Mehe Sush Kiya Ki Jab Bhi Vo Pagal Budhe Ko Dhaka Maar Ke Apne Upper Se Hata Ti To Piaya Ki Chut Me Itna Daard Kiyo Ho Raha Tha Or Us Ki Chut Ke Under Kuchh Garam Garam Lekin Kafi Sakt Chizz Gusi Hui Thi

Fir Piya Ko Mehe Sush Huva Ki Are Yepagal Budhe La Land Hai Jo Mere Chut Ki Geherai O Me Jaa Ke Sama Gaya Lekin Pagal Budhe Piya Ko Ache Se Pakad Ke Rakha Ta Ta Ki Piya Us Ki Giraf Se Chhut Na Paye Ab Topiya Bhi Chila Ne Lagi Baaaaccchhhhaaaaa Oooo Kkooooiii Ooohhhhh Mmmaaaaarrrrgggggaaaiiii Ooohhhmmmmaaa Oohhh Bbbaapp Nniiikkkaaa Llllooo Aaahhhh Oooohhh Bbbaachha Ooo Mma Rrraagggaaaiiii Ooohhhhhh Ki Avaj Nikal Rahi Thi

Ab Pagal Budhe Ko Bhi Maja Aara Ha Tha Us Ne Bhi Ye Sab Pehe Li Baar Kiya Tha 20 Minit Ke Baad Piya Thak Gai Apne Aap Ko Chhudva Te Chhudva Te Ab Pagal Budhe Ne Piya Ke Dono Hatho Ko Apne Do No Hath Se Pakda Or Piya Ke Hatho Ki Ungli Yo Me Apne Hath Ki Ungli Dali Or Piya Do No Hath Ko Piya Ke Sir Ke Upper Vale Bhag Se Da Ba Diya Or Pagal Budha Ne Apni Kamar Upper Niche Kar Ne Laga

Piya Ro Ne Lagi Plzz Ae Sa Mat Karo Me Kisi Ko Muh Dikha Ne Ke Layek Nahi Rahu Gi Bhagavan Ke Li Ye Chhor Do Muje Plzz Me Tum Hare Hath Jorti Hu Lekin Pagal Budhe Ne Piya Ki Ek Na Suni Or Apni Kamar Ko Or Tej Tej Jat Ke Maar Ne Laga Or Land Piya Chut Se Under Bahr Kar Ta Raha Piya Roti Rahi Likin Pagal Budhe Ne Daya Nahi Dikhai Or Chudai Chalu Rakhi Chudai 3 Minit Ke Baad Piya Fir Se Jad Gai Ab Piya Tej Tej Saas Le Rahi Thi

Or Pagal Budha Bhi Vo Bhi Ab Apni Kamar Ko Hila Ke Dhakh Gaya Tha Es Li Ye Vo Piya Ke Upper Let Gaya Apna 10 Inch Ka Land Pura Under Daal Ke 10 Minit Ke Baad Jab Piya Or Pagal Budhe Ki Ssash Kuchh Tham Gai To Fir Se Chudai Chalu Kar Di Pagal Budhe Ne Ab – Piya Ko Thora Thora Maza Aane Laga Tha Ke Muh Se Aaahh Hhama Ki Avaj Ane Lagi Thi Lekin Ab Pagal Budha Land Kafi Dhire Hdire Chut Ke Under Bahar Kar Raha Tha Ab Pagal Budha Pana Pura Land Chut Se Bahar Niakal Ta Tha

Or Ek Hi Jat Ke Ke Sath Land Ko Chut Ki Geherai O Me Sama Deta Tha Or 3o Minit Tak Ae Ssa Hi Chal Ta Raha Or Acha Nak Pagal Budhe Ki Ssash Tej Ho Ne Lagi Ab Pagal Budha Bhi Jar Ne Vala Tha Piya Us Ko Jat Ka Diya Taki Vo Bahar Apna Pani Nika Le Lekin 1 Ghante Ki Chudai Ki Vaja Se Piya Kafi Thak Gai Thi Or Vo Pagal Budhe Ko Hata Nahi Pai Es Vaja Se Pagal Budhe Neapne Kamar Ko Jor Jor Se Hila Te Huye Aahhhhhh Hhmmaaa Ooaaaa Ki Avaj Ase Land Pura Piya Ki Chut Ke Under Sat Kat Ke Chipka Diya

Pagal Budhe Ne Es Tarah Se Land Ko Chut Se Chipka Diya Tha Ke Chut Ke Under Hava Bhi Under Na Ja Sake Or Piya Ko Jat Ke Maar Maar Ke Pagal Budhe Ne Apna Sara Viriya Piya Ki Chut Me Daal Diya 2 Minit Tak Viriya Nikla Pagal Budhe Sara Viriya Piya Ki Chut Me Gira Diya

Or 2 Ghante Tak Piya Ki Chut Me Land Gusha Ke Pada Raha Baad Me Pagal Budha Piaya Paas Me Let Gaya Or Pagal Budhe Ne Kambal Ko Utha Khud Ke Or Piya Upper Daal Diya Or Piya Ke Ek Taang Ko Pakad Ke Apni Dono Tago Ke Upper Rakha Or Piya Ka Ek Hath Pagal Budhe Ne Apni Pith Ke Upper Rakha Or Khud Ka Muh Piyake Boobs Me Daba Te Huye Piya Ke Nipul Ko Apne Muh Me Chusta Huva Hi So Gaya

To Be Continue .... Part :- ( Part 2 Pagal Budha )


मैंने चाची को चोदा बड़े प्यार से

मैंने चाची को चोदा बड़े प्यार से


मेरे परिवार में हम चार लोग हैं. मैं, मेरे पिता जी, मेरी मम्मी और मेरा एक छोटा भाई. इस वक़्त मैं कॉलेज में पढ़ता हूँ. आपको पता ही है कि कॉलेज वाली उम्र में चाची भाभियों पर सबसे ज्यादा क्रश आता है और लौड़ा उनको देखते ही सलाम मारने लगता है.


आज उसी समय की काम वासना की कहानी पेश कर कर रहा हूँ, मजा लीजिएगा. यह बात आज से 8 महीने पुरानी है. मेरा क्रश मेरी चाची पर था, जो मेरी ही गली में रहती थीं. चाची का नाम ज्योति है. उनकी उम्र 31 साल है. उनका फिगर एकदम मस्त है.


चाची वैसे तो थोड़ी मोटी थीं, मगर उनके बड़े बड़े चूचे और गांड देख कर लंड खड़ा हो जाता. तब मुझसे रहा नहीं जाता और कई बार तो मुठ मारके अपने लौड़े को शांत करना पड़ता था. जब भी मुठ मारने के लिए लंड हाथ से हिलाता था, तब आंखें बंद करके अपने सपनों की रानी ज्योति चाची की चूचियां, मेरे भेजे को गर्म करती रहती थीं. लंड का रस निकालने के बाद यही सोचता था कि ज्योति चाची की चूत लेने का मजा ही कुछ और होगा.


उनकी चूत की चाहत से ही ये बात शुरू होती है. जैसे कि मैंने बताया कि मेरी गली में ज्योति चाची रहती थीं. उनकी अपने पति यानि चाचा के साथ कम बनती थी. उन दोनों की लड़ाई होती रहती थी. चाचा ने टूरिंग का काम पकड़ा हुआ था, तो वो अधिकतर बाहर ही रहते थे.


चाचा अक्सर मेरे घर पर पापा या मम्मी से मुझे उनके घर रुकने के लिए बोल जाते थे क्योंकि हमारे घर वालों की आपस में खासी बनती थी तो वो भी मना नहीं करते थे. उनके घर रुकने जाने के लिए सुनते ही मुझे बड़ा अच्छा लगता था. मेरी नजर चाची पर पहले से थी. चाची को देख लंड खड़ा हो जाता था.


इस बार चाचा पन्द्रह दिनों के लिए बाहर गए थे. तो मुझे इस बार जरा अच्छा मौका लगा.


जब मैं चाचा के घर रुकता था, तो हम दोनों एक ही कमरे में सोते थे. चाची और उनकी बेटी डबल बेड पर लेटती, मैं बगल की एक चारपाई पर सो जाता था.


शुरुआत में तो मैं रोज के जैसे चारपाई पर सो गया, पर मुझे चाची की लेनी थी तो मैंने सोचा कि अब चारपाई पर नहीं सोना है. अगर चाची के बड़े बड़े मम्मों और गांड का मजा लेना है, तो हिम्मत करनी पड़ेगी.


एक दिन ऐसे ही मौके पर मैंने कह दिया- चाची मुझे चारपाई पर नींद नहीं आती, मुझे भी बिस्तर पर सोना है.


चाची ने कहा- कोई बात नहीं, तू हमारे साथ ही सो जाना डबलबेड तो है, इतनी तो जगह रहती है.


मैं खुश हो गया. मैंने लेटने लगा. तो चाची ने अपनी बेटी को दूसरी तरफ लिटा दिया और मैं चाची के साथ सो गया. पहला दिन तो ऐसे ही निकल गया.


जब मैं तीन दिन बिस्तर पर चाची के बगल में सोया, तो मैंने कथा बांचना शुरू की. मतलब मैंने अपनी हरकत शुरू कर दी. चौथे दिन मैंने अपनी एक टांग चाची के ऊपर रखी और एक पल सांस रोके पड़ा रहा. जब चाची ने कोई हरकत नहीं की, तो मैंने अपना एक हाथ चाची के मोटे चूचे पर धर दिया और चुपचाप लेटा रहा.


कुछ समय रुकने के बाद मैंने हौले हौले चाची का चूचा दबाना शुरू किया. उनको कुछ भी अहसास नहीं हो रहा था. वो मजे से सो रही थीं और मैं स्वर्ग के मजे ले रहा था. लेकिन चूत लेने की चुल्ल थी तो मैंने टांग से चाची की टांग को हौले हौले सहलाना शुरू किया.


चाची जागने लगीं, तो मैं आंख बंद करके सोने लगा ताकि उनको पता लगे कि मैं सोते में ऐसा कर रहा हूँ. यह मेरा पहली बार था, मुझे मजा आ रहा था.


उन्होंने जाग कर मेरी स्थिति देखी और मुझे ठीक करके सो गईं. ऐसा दो तीन बार हुआ. मगर चाची ने कुछ नहीं कहा. इससे मेरी हिम्मत बढ़ गई. मैं अब लगभग रोज ही चाची के दूध दबा कर मजा लेने लगा.


एक बार ऐसे ही मजे ले रहा था और मेरा हाथ उनके मम्मों पर टिका था और अपना काम कर रहा था. इस समय चाची सो रही थीं, मुझे लगा कि रोज के जैसे ही सब हो रहा है. मैं मस्ती से दूध को हॉर्न के जैसे दबा कर लंड खड़ा कर रहा था. तभी अचानक से उन्होंने अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ लिया. मैं एकदम से डर गया और हाथ हटा लिया.


चाची मेरी तरफ मुड़ते हुए बोलीं- मजे लेने है तो खुल के ले. क्या ऊपर से दबा कर छोड़ देता है. चल आ जा.


खुले निमन्त्रण ने मैं खुश हो गया और मैंने कहा- चाची मैं आपको कब से चोदना चाहता था, मेरी ये इच्छा आज आपने समझ ली है. अब मेरी इच्छा जरूर पूरी होगी.


फिर मैंने चाची को अपनी बांहों में खींच लिया. चाची और मैं चूमने में लग गए.


चाची ने मुझे रोकते हुए गुड़िया को चारपाई बिछा कर उस पर सुलाने का कहा और गुड़िया को उधर लिटा दिया.


अब चाची और मैं लिपट गए. मैंने चाची के होंठ पर होंठ रख दिए और चूसने लगा. चाची भी मेरा पूरा साथ दे रही थीं.


कुछ ही देर में हम दोनों की उत्तेजना बढ़ने लगी और मैं चाची के पूरे बदन को चूमने लगा. मैंने चाची को चूमने के साथ ही हौले हौले उनके मम्मों को दबाना शुरू कर दिया. चाची के इतने बड़े बड़े मम्मों को पकड़ने से मुझे महसूस हो गया कि चाची के पूरे मम्मे मेरे हाथ में नहीं आ सकते थे.


मैं चाची को जोर से जकड़े हुए चूमने में लगा था. इस समय हम दोनों के बीच में से हवा भी नहीं निकल सकती थी. चाची की कामुकता देखते ही बन रही थी.

 

हम दोनों दस मिनट तक एक दूसरे को चूमते रहे. शायद इसका कारण था कि हम दोनों ही जिस्म की जरूरत से बहुत भूखे थे.


कुछ देर बाद मैंने चाची को नंगी करना शुरू किया. मैंने उनकी नाईट शर्ट को उतार दिया. चाची ने ब्रा नहीं पहनी थी, जिससे उनके बड़े बड़े दूध एकदम से उछाल मार कर बाहर आ गए.


चाची सीत्कार करते हुए बोलीं- आह … आराम से दबा … उखाड़ेगा क्या. ये दूध अब तेरे ही हैं.


मैं उनके मम्मों को बारी बारी से चूसने लगा. चाची ने मेरे सर को अपने मम्मों पर दबाते हुए दूध चुसवाने का मजा लेना शुरू कर दिया.


मैं दूध से तृप्त होने के बाद धीरे से नीचे आ गया. मैंने हाथ से उनका लोअर उतारा. अन्दर चाची ने ब्लैक पैंटी पहनी थी, जिसमें उनकी गोरी जांघें बहुत खूबसूरत लग रही थीं. उनकी पैंटी पूरी गीली हो गयी थी.


मैंने अब तक की शिक्षा में ये समझा था कि चूत चाटना बहुत मजेदार होता है. हालांकि मैंने आज तक किसी की चूत चाटी नहीं थी … मगर पोर्न देख कर मेरी ये एक फैंटसी बन गई थी कि चूत चाटने का मजा लेना है.


फिर मैं उनकी पैंटी के ऊपर से उनकी चूत को चाटने लगा. चाची कसमसाने लगीं और उनकी टांगें एक बार तो अपनी चूत को दबाने लगीं. लेकिन मैंने उनकी टांगों को खोल दिया और पैंटी के ऊपर से ही चूत पर अपने होंठ फेरने लगा. चाची की चड्डी के ऊपर लगे चुतरस का स्वाद मेरे मुँह में आने लगा. चाची ने भी जल्द ही अपनी टांगें खुद ब खुद फैला दीं और अब उनकी गांड उठने लगी थी.


चाची ने बाल खिंचने से दर्द से आउच किया और वो मेरी तरफ गुस्से से देखने लगीं.


मैंने हंस कर आंख दबाई और उनसे सॉरी बोल कर माफी मांग ली. चाची मुस्कुरा दीं और उन्होंने मेरे सर को फिर से अपनी चूत पर दबा दिया.


मैं फिर से अपने लक्ष्य की तरफ बढ़ चला. अबकी बार मैंने एक पल चूत की फांकों को चाटा और उनकी चूत में अपनी एक उंगली घुसा दी. उंगली के अन्दर जाते ही चाची के मुँह से हल्की सी सीत्कार निकली और उन्होंने अपनी टांगें भींचते हुए मेरी उंगली को दबा लिया.


मैं चाची की टांगों को फैला कर हौले हौले से उनकी चूत को चाटने लगा. चाची चुदास से पागल होने लगीं. उनकी गांड फिर से मेरे मुँह पर उठते हुए चूत को दबाने लगी. मुझे चाची की चूत चाटने में बड़ा मजा आ रहा था.


आप मेरे इस अनुभव को बड़े ध्यान से पढ़ने की कोशिश कीजिएगा, आपके लंड और चूत से रस टपकना चालू न हो जाए, तो मुझे जरूर लिखना.


फिर दो मिनट बाद चाची मेरे ऊपर आ गईं और उन्होंने मेरा लोअर उतार दिया. मेरे अंडरवियर के ऊपर से मेरा खड़ा लौड़ा देखा और जोर से दबा दिया. लंड मसले जाने से मुझे बहुत जोर से दर्द हुआ.


मैंने चाची के लिए हल्के स्वर में चिल्लाते हुए गाली निकाल दी- बहन की लौड़ी, तू क्या पागल है?


चाची ने हंस कर कहा- मादरचोद साले भोसड़ी के … अब तुझे पता लगा कि झांटें खींचने से मुझे कितना दर्द हुआ होगा. चल कोई बात नहीं … अभी तेरा दर्द ठीक करती हूं.


मैं लंड पकड़े हुए सहला रहा था. चाची ने मेरा हाथ हटाया और अंडरवियर उतार कर मेरा लौड़ा मुँह में ले लिया. चाची लंड को जोर जोर से चूसने लगीं.


मैं इतना अधिक गरमा गया था कि बस दो मिनट बाद चाची कम मुँह में ही झड़ गया. चाची मेरा सारा माल निगल गईं और उन्होंने डकार भी नहीं मारी.


थोड़ी देर बाद चाची फिर से मेरा लंड चूसने लगीं. मेरा लौड़ा फिर से सलाम करने लगा. अब हम दोनों गर्म हो चुके थे.


चाची ने कहा- राहुल अब तुम जल्दी से मेरी चूत में अपना लंड डाल दो … मुझसे अब नहीं रहा जाता.


मैंने कहा- चाची … शुभ काम में देरी कैसी … अभी लो.


मैंने चाची की चूत पर लंड रखा और रगड़ने लगा.


चाची कहने लगीं- भैन के लंड … अब डाल भी दे.


यह सुनते ही मैंने एक जोर का धक्का लगाया और लंड एक ही बार में अन्दर पेल दिया.


लंड अन्दर लेते ही चाची के मुँह से उम्म्ह… अहह… हय… याह… निकली. चाची की चूत थोड़ी सी टाइट थी. इधर मेरा भी पहली बार था, इसलिए मुझे भी दर्द हुआ. पर उस वक़्त तो चूत का नशा सवार था, तो पता नहीं लगा.


मैं हौले हौले चाची को चोदने लगा और उनको भी मजा आने लगा. चाची मुझे दबोचे हुए अपनी गांड उठा उठाकर लंड के झटके ले रही थीं.


मैंने चाची को बिना रुके दस मिनट तक लगातार चोदा. इसके बाद चाची ने मुझे रोका और वो बिना लंड निकाले मेरे ऊपर सवार हो गईं. मेरा लंड अब भी चाची की चूत की फंकों में फंसा था. चाची अपनी गांड उठाते हुए लंड पर उछलने लगीं. मैं उनकी हिलती हुई चूचियों के मजे लेने लगा.


कोई मिनट बाद चाची थक गईं. मैंने उनसे कहा कि अब पोजीशन बदल लेते हैं. आप घोड़ी बन जाओ.


मैंने चाची को बिस्तर के किनारे घोड़ी बनाया और नीचे खड़ा होकर चूत में लंड पेलने लगा. कुछ मिनट बाद चाची कराहने लगीं. शायद उनका रस निकलने को था.


मेरा भी छूटने वाला था तो मैंने चाची को बताया- चाची, मैं झड़ने वाला हूँ.


तभी चाची ने कहा- मैं झड़ गई हूँ … तू जब झड़े, तो मेरे अन्दर ही रस छोड़ देना. मैं गोली खा लूंगी.


मैंने तेज तेज धक्के लगाए और चाची के अन्दर ही लंड का रस छोड़ दिया. एक मिनट तक लंड की पिचकारी खाली करने के बाद हम दोनों थक कर लेट गए.


इस तरह मैंने पहली बार चाची को चोदा.


थोड़ी देर बाद हमने एक राउंड और खेला और कपड़े ठीक करके सो गए.


उसके बाद मैंने कई बार चाची को चोदा.


मगर न जाने क्यों अब वो मुझे मना कर देती हैं. वो कहती हैं कि ये सब गलत है, जो पहले हो गया, सो हो गया. मगर अब नहीं करूंगी.

लण्ड गुलाबो के चूतड़ों के बीच में जोर-जोर से घिसने लगा

 

गुलाबी गांड और चूत की जोरदार चुदाई, लण्ड गुलाबो के चूतड़ों के बीच में जोर-जोर से घिसने लगा - Gulabo ki chut gand chudai,

लण्ड गुलाबो के चूतड़ों के बीच में जोर-जोर से घिसने लगा - Gulabo ki chut gand chudai, चूतड़ के दोनो हिस्सों के बीच का बना हुआ दरार काफ़ी गहरा, चुदाई का रस लगने लगा.

दो महिलाएँ आपस में कुछ अंतरंग बातें कर रही थीं, पीछे बैठा मैं उनकी उनकी बातों को सुनकर बड़ा आनंदित हो रहा था।
दोनों बड़ी अच्छी सहेलियाँ थीं, एक की शादी को करीब चार साल हुए थे, दूसरी की अभी-अभी शादी हुई थी। उनकी बातों में उनके सम्भोग की कहानियों के रस की चर्चा हो रही थी, दोनों एक-दूसरे को अपनी-अपनी चूत चुदाई की दास्तान सुना रही थीं।

एक दूसरे से कहती है- शालू.. तेरी पहली रात को क्या-क्या कैसे कैसे हुआ.. जरा खुल कर बता ना?
‘चल हट बेशरम.. जो तेरे साथ हुआ.. वही मेरे साथ हुआ..’
‘यानि पहली रात पूरी खाली गई क्या तेरी..?’
‘अरे नहीं रे.. बार-बार.. लगातार.. हुआ करीब साढ़े तीन घंटे.. ऊपर-नीचे होते रहे.. पीछे से.. आगे से.. सब हुआ..’
‘क्या बात कर रही हो.. लगातार साढ़े तीन घंटे..?’
‘नहीं रे.. बीच-बीच में हम लोग फोरप्ले भी करते रहे न.. यानि मैं और वो..’

‘कैसे और क्या-क्या हुआ.. जरा ठीक से बता ना?’
‘हाँ बाबा.. सब बता दूँगी.. तू एक काम करना.. मेरे घर आ जाना.. फिर हम दोनों बैठकर अपने अनुभव शेयर करेंगे..’
‘ठीक है..’
उसके ऐसा कहने के बाद वह दोनों अपने घरों के लिए रवाना हुईं।

Gulabo ki chut gand chudai


मैं अपने मन में कल्पना करने लगा.. कि किस तरह की बातें होंगी.. जब ये दोनों मिलेंगी? क्या अपने अनुभव ये दोनों शेयर कर पाएगीं? इसी सोच में मैं अपने रास्ते पर अभी चला ही था कि अचानक सामने उन्हीं दो औरतों में से एक मेरे ही घर के सामने से जाती दिखी।
तब तक मेरा इस महिला पर कोई ध्यान नहीं गया था।

वो देखने में बड़ी खूबसूरत लग रही थी, पिछवाड़े के दोनों पुठ्ठे मस्ती में हिचकोले खा रहे थे.. सामने के दोनों कबूतर जैसे आने जाने वालों को ललचा रहे थे, आँखों में नशीला आमंत्रण था।
मैं उसकी इस चाल को देखते हुए मंत्रमुग्ध सा उसके पीछे-पीछे चला जा रहा था।
दोनों औरतें थीं भी बड़ी मस्त चुदक्कड़ और सेक्सी लण्ड की मारी.. शायद सामने वाली का मर्द सिर्फ गाण्ड ही मारता था.. क्योंकि चूतड़ों के दोनों भाग इस तरह हिल रहे थे.. जिससे मालूम हो रहा था कि उसको गाण्ड मरवाने की आदत पड़ चुकी होगी।
हालांकि यह मेरा कयास ही था.. इसलिए चूत का मजा क्या होता है.. यह सुनने की तमन्ना उसके दिल में आई होगी, उसकी चूत से पानी रिस रहा होगा।

अब मेरे दिल में उसको चोदने की तमन्ना बढ़ने लगी थी। लण्ड की मारी.. वो औरत कौन थी.. मुझे यह देखना भी बाकी था।
पर थी बड़ी खूबसूरत..!

अचानक एक मकान के तरफ वो मुड़ी उसने कनखियों से मुझे देखा और वह घर के दरवाजे पर गई।
उसने ताला खोला और वह अन्दर चली गई, वो सलीम हुसैन का घर था.. यानि यह बड़ी काम की चीज थी।

उस दिन तो मैं ये सोच कर वापस आ गया कि यह अनार कल खाऊँगा।

मैं उस रात को कमली के साथ सोया, कमली मेरी काम वाली थी। यह भी साली बड़ी चुदक्कड़ थी.. लण्ड लेने में अव्वल और माहिर.. उसकी चूत जैसे मक्खन की टिकिया थी, बड़ी कोमल हसीन चोदने लायक चूत वाली थी।

जब भी कभी मेरी घर वाली घर पर नहीं हो.. तो कमली मेरे घर पर ही नंगी पड़ी रहती थी, साली को चुदवाने का बड़ा शौक था।
ऐसी ही रसीली सी चूत थी.. जब मेरे दिल में आता तब उसको खूब चोदता।
जब मेरे दिल में आता.. तब अपना लण्ड उसे चुसाता रहता.. उसकी गाण्ड मारता.. उसकी चूत को आधे-आधे घंटे तक चूसता.. उसके मम्मों को कुछ इस तरह दबाता कि वो साली मेरे लण्ड की प्यासी हो जाती।

गुलाबी गांड और चूत की जोरदार चुदाई

फिर उसकी चूत में लण्ड डाल कर उसको पीछे से.. आगे से.. नीचे से.. ऊपर से.. खूब मस्त कर कर के चोदता।
कभी-कभी जब मुझे उसकी गाण्ड मारने की इच्छा होती.. तो मैं उसे पलटा देता और फिर मलाई लगा कर लण्ड को उसको पहले चुसाता.. फिर उसकी गाण्ड में मलाई लगाकर अपना लण्ड उसकी रसीली गाण्ड में घुसा देता।
गुलाबी गांड और चूत की जोरदार
हाय कितना मस्त लगता था.. उसकी गाण्ड मारना।
चुस्त दुरुस्त गाण्ड की चुदाई का मजा ही कुछ और होता है। चुदने वाली अगर गरम हो.. तो चोदने में कुछ ज्यादा ही मजा आता है।
उसकी चूत में उसकी गाण्ड में.. उसके मुँह में लण्ड देते हुए जन्नत के सुख का अनुभव होता है।

कई बार मैंने देखा है कि खुद की औरत जितना मजा नहीं दे पाती.. उतना मजा ये बाहर वाली औरत देती है।
एक दिन उसने बड़ी शिद्दत से मुझसे चुदवाया। फिर मुझसे आराम से पूछा- साहब क्या एक और चलेगी?
मैं हल्का सा चौंका।

‘क्या कह रही हो.. क्या मरवाना है.. अगर तुम्हारी मालकिन आ गई तो तूफान खड़ा हो जाएगा?’

उसने कहा- नहीं होगा.. क्योंकि मैं जिसको लेकर आ रही हूँ. वो मेरी देवरानी है.. उसके पति का लण्ड छोटा सा है.. सो उसको भी लण्ड चाहिए।
मैं सोच में पड़ गया। कमली तो ठीक थी अगर घर में किसी और को बुलाता और घर वाली आ जाती.. तो लेने के देने पड़ जाते.. क्या करें?
मैंने कमली से पूछा- क्या तेरे घर में जम सकता है? फिर मैं तुम दोनों को भी चोदूँगा।

‘साहब आप कहाँ आएंगे.. हमारी उन झुग्गी झोपड़ी में.. दो कमरे हैं.. एक मेरी देवरानी का और दूसरा मेरा.. घर में भी बच्चे आते-जाते रहते हैं। फिर कोई भी आता है।’

‘अच्छा.. यानि तुझे उसे यहीं लेकर आना है चुदने के लिए..’
‘साहब जी.. आपके लण्ड के लिए तो मैं कुछ भी करूँगी।’

उसने इस तरह की बात की.. तो मैं थोड़ा तैयार हो गया.. लेकिन चोदने के मामले में मैं कोई रिस्क में लेना नहीं चाहता था। उधर मन कहता था कि ये मस्त चुदक्कड़ कमली और साथ में उसकी देवरानी भी अगर मिल जाए.. तो क्या बात थी..
उसकी देवरानी इस खेल में नई थी.. ऐसा कमली ने कहा था।

दूसरे दिन कमली के साथ एक बाइस-तेईस साल की लड़की.. थोड़ी शरमाते हुए दरवाजे पर खड़ी थी। मैं समझ गया यही कमली की देवरानी हैि जो आज अपना भोसड़ा खुलवाने आई है।
मुझे मेरी किस्मत पर यकीन नहीं हुआ.. क्या बात है मेरे ठरकी लौड़े आज तो तेरी किस्मत में दो-दो चूतें हैं।

‘क्या नाम है तेरा? मैंने कमली की देवरानी से पूछा.. तो उसने धीरे से कहा- गुलाब..
हाय.. एक कमल का फूल.. तो दूसरी गुलाब की कली.. क्या बात है.. मेरे विचार अब बहकने लगे थे.. अरमानों में दोनों चूतें आँखों के सामने नंगी नाचने लगी थीं।

कमली की देवरानी थी तो जरा सांवली.. पर उसके भरे हुए दूध और मचलती जवानी देख कर मेरे लौड़े में नीचे एक खलबली सी मच रही थी।
मैंने उससे पूछा- क्या तुम्हें कमली ने बताया है कि तुम किस लिए आई हो?
गुलाब ने शरमा कर आँखें नीची करते हुए मुझसे ‘हाँ’ कहा।

कमली बोली- अरे गुलाबो.. अब शर्माती क्यों हो? सारा ही दिखाना है.. तो शर्माना क्यों..? चल पहले खाना बना ले.. फिर दोनों मिल कर साहब की खिदमत करेंगे।
यह कहकर कमली मेरी तरफ कनखियों से देखते हुए कंटीली मुस्कराहट के साथ रसोई में जाने लगी।
उसने गुलाबो के दोनों पुठ्ठों पर हाथ फिराया.. मैं समझ गया कि वो क्या कहना चाहती है।

रसोई में खाना बनाते हुए आज उसका चुदने का मन कर रहा था। कमली ने साड़ी जांघों पर ऊँची कर ली और अपनी कोमल जांघें मुझे दिखाने लगी।
मैं उत्तेजित हो रहा था।
थोड़े देर में मैंने अपना पायजामा उतारकर मेरी निक्कर उतार दी। फिर पायजामा पहन कर मैं देखने के लिए गया कि ये दोनों रसोई में क्या कर रही हैं।

मैंने देखा गुलाबो कुकर लगा रही थी और कमली रोटियाँ बेल रही थी।
कमली के दोनों मम्मे इस तरह से हिल रहे थे कि मेरे लण्ड में हलचल होने लगी थी।

धीरे-धीरे मैं कमली के पास पहुँचा.. मैंने कमली की कमर पर हाथ रखा.. धीरे-धीरे उसकी कमर को सहलाते हुए मैंने हाथ कमली के मम्मों पर रख दिया।

इधर गुलाबो मेरी इस हरकत को गौर से देख रही थी.. वो कनखियों से ताड़ रही थी।
मैंने अपने हाथों से कमली के दूध दबाते हुए उसे गालियाँ देना शुरू किया- साली.. चुदक्कड़.. रोज मेरे सामने सोकर चुदती है.. आज तो तेरी चूत में मेरा लण्ड फिर से खलबली मचा देगा..

अब मैंने उसकी साड़ी को कमर तक उठा कर उसके चूतड़ों को फैला दिया। फिर अपने पायजामे को खोलकर.. उसकी दरार में अपना हथियार डाल दिया।
अब मैं लौड़े को ऊपर से ही आगे-पीछे करते-करते गुलाबो के होंठों को चूमने लगा।
गुलाबो के नरम होंठों को चूमते-चूमते मैंने उसके ब्लाउज में हाथ डालकर उसके मम्मों के आकार का अंदाज लिया, उसके दोनों मम्मे बड़े ही गुंदाज थे। मैंने उसके ब्लाउज के बटन खोले और उसके मम्मों को चूमने लगा।

अय हाय.. क्या मस्त मम्मे थे.. एकदम मस्त और चुस्त..

मैंने जैसे ही उसके मम्मों को चूसना शुरू किया.. उसने अपना रूप बदलना शुरू कर दिया।
क्या बात है.. यह तो कमली से ज्यादा गरम माल थी। मेरे जेहन में एक ख़याल आया.. साला इसका आदमी इसे गरम तो करता होगा.. पर ठंडा करने की बात आती होगी.. तो टाएँ-टाएँ फिस्स.. हो जाता होगा।

बड़े दिनों के बाद एक अरमानों की डोली उठने वाली थी.. मैं बड़ा खुश था, मुझे उसकी चूत देखने की तमन्ना हुई।
मैंने कमली को छोड़ा और गुलाबो की गाण्ड के पास अपना लण्ड अड़ा दिया।

साली एकदम से अपनी गाण्ड को आगे-पीछे करने लगी। उसके बड़े-बड़े चूतड़ों में मेरा लण्ड मस्त घिसता जा रहा था। उधर कमली रोटियाँ बनाने में लगी रही। इधर गुलाबो अपने मस्त चूतड़ों से मेरे लण्ड की मालिश कर रही थी।

मैंने उसका ब्लाउज ऊपर किया.. छोटे-छोटे गुन्दाज़ मम्मों पर गुलाबो के दोनों अंगूरी निप्पल.. इतने मस्त दिख रहे थे.. कि मेरे लण्ड की गोटियों में खून जोर से बहने लगा।

मैं भी अपना मूसल लण्ड गुलाबो के चूतड़ों के बीच में जोर-जोर से घिसने लगा।
साली थी तो बड़ी मस्त माल.. साली के चूतड़.. मेरे लण्ड को अन्दर तक ले रहे थे। ऊपर कमली मेरे होंठों को चूस रही थी। दो फूल मेरे पास थे और उनका एक माली उन दोनों पौधों को सींच रहा था।

दीदी को चुदाई करते पकड़ लिया

 

Didi Ko Chudai Karte Pakad Liya, दीदी को चुदाई करते पकड़ लिया, दीदी की चुदाई की सेक्सी कहानियाँ , दीदी की चुदाई की सेक्सी स्टोरी , बहन को चुदते हुए देख

दीदी की चुदाई की सेक्सी कहानियाँ , दीदी की चुदाई की सेक्सी स्टोरी , बहन को चुदते हुए देखा. मेरे सामने चुदी मेरी बहन. बहन को चुदवाते हुए पकड़ लिया.

मेरी बहन मुझसे लगभग तीन साल बड़ी है। वो एम ए में पढ़ती थी और मैंने कॉलेज में दाखिला लिया ही था। मैं भी जवान हो चला था। मुझे भी जवान लड़कियाँ अच्छी लगती थी। सुन्दर लड़कियाँ देख कर मेरा भी लण्ड खड़ा होता था।

मेरी दीदी भी चालू किस्म की थी। लड़कों का साथ उसे बहुत अच्छा लगता था। वो अधिकतर टाईट जीन्स और टीशर्ट पहनती थी। उसके उरोज 23 साल की उम्र में ही भारी से थे, कूल्हे और चूतड़ पूरे शेप में थे।

रात को तो वो ऐसे सोती थी कि जैसे वो कमरे में अकेली सोती हो। एक छोटी सी सफ़ेद शमीज और एक वी शेप की चड्डी पहने हुये होती थी। फिर एक करवट पर वो पांव यूँ पसार कर सोती थी कि उसके प्यारे-प्यारे से गोल चूतड़ उभर कर मेरा लण्ड खड़ा कर देते थे। उसके भारी भारी स्तन शमीज में से चमकते हुये मन को मोह लेते थे। उसकी बला से भैया का लण्ड खड़ा होवे तो होवे, उसे क्या मतलब ?

कितनी ही बार जब मैं रात को पेशाब करने उठता था तो दीदी की जवानी की बहार को जरूर जी भर कर देखता था। कूल्हे से ऊपर उठी हुई शमीज उसकी चड्डी को साफ़ दर्शाती थी जो चूत के मध्य में से हो कर उसे छिपा देती थी। उसकी काली झांटे चड्डी की बगल से झांकती रहती थी। उसे देख कर मेरा लण्ड तन्ना जाता था। बड़ी मुश्किल से अपने लण्ड को सम्भाल पाता था।

Didi ki Chudai

एक बार तो मैंने दीदी को रंगे हाथों पकड़ ही लिया था। क्रिकेट के मैदान से मैं बीच में ही पानी पीने राजीव के यहाँ चला गया। घर बन्द था, पर मैं कूद कर अन्दर चला आया। तभी मुझे कमरे में से दीदी की आवाज सुनाई दी। मैं धीरे से दबे पांव यहाँ-वहाँ से झांकने लगा। अन्त में मुझे सफ़लता मिल ही गई। दीदी राजीव का लण्ड दबा रही थी। राजीव भी बड़ी तन्मयता के साथ दीदी की कभी चूचियाँ दबाता तो कभी चूतड़ दबाता। कुछ ही देर में दीदी नीचे बैठ गई और राजीव का लण्ड निकाल कर चूसने लगी। मेरे शरीर में सनसनाहट सी दौड़ पड़ी। मेरा मन उनकी यह रास-लीला देखने को मचल उठा। उनकी पूरी चुदाई देख कर ही मुझे चैन आया।

तो यह बात है … दीदी तो एक नम्बर की चालू निकली। एक नम्बर की चुदक्कड़ निकली दीदी तो।

मैं भारी मन से बाहर निकल आया। आंखों के आगे मुझे अब सिर्फ़ दीदी की भोंसड़ी और राजीव का लण्ड दिख रहा था। मेरा मन ना तो क्रिकेट खेलने में लगा और ना ही किसी हंसी मजाक में। शाम हो चली थी … सभी रात का भोजन कर के सोने की तैयारी करने लगे थे। दीदी भी अपनी परम्परागत ड्रेस में आ गई थी।

मैं भी अपने कपड़े उतार कर चड्डी में बिस्तर पर लेट गया था। पर नींद तो कोसों दूर थी … रह रह कर अभी भी दीदी के मुख में राजीव का लण्ड दिख रहा था। मेरा लण्ड भी फ़ूल कर खड़ा हो गया था।

अह्ह्ह… मुझे दीदी को चोदना है … बस चोदना ही है।

मेरी चड्डी की ऊपर की बेल्ट में से बाहर निकला हुआ अध खुला सुपारा नजर आ रहा था। इसी हालत में मेरी आंख जाने कब लग गई।

यकायक एक खटका सा हुआ। मेरी नींद खुल गई। कमरे की लाईट जली हुई थी। मुझे लगा कि मेरे पास कोई खड़ा हुआ है। समझते देर नहीं लगी कि दीदी ही है। वो बड़े ध्यान से मेरे लण्ड का उठान देख रही थी। दीदी को शायद अहसास भी नहीं हुआ होगा कि मेरी नींद खुल चुकी है और मैं उसका यह तमाशा देख रहा हूँ।

उसने झुक कर अपनी एक अंगुली से मेरे अध खुले सुपारे को छू लिया। फिर मेरी वीआईपी डिज़ाइनर चड्डी की बेल्ट को अंगुली से धीरे नीचे सरका दिया। उसकी इस हरकत से मेरा लण्ड और भी फ़ूल कर कड़क हो गया। मुझे लगने लगा था- काश ! दीदी मेरा लण्ड पकड़ कर मसल दे। अपनी भोंसड़ी में उसे घुसा ले।

दीदी की चुदाई की हिंदी कहानी

उसकी नजरें मेरे लण्ड को बहुत ही गौर से देख रही थी, जाहिर है कि मेरी काली झांटे भी लण्ड के आसपास उसने देखी होगी। उसने अपने स्तनों को जोर से मल दिया और उसके मुँह से एक वासना भरी सिसकी निकल पड़ी। फिर उसका हाथ उसकी चूत पर आ गया। शायद वो मेरा लण्ड अपनी चूत में महसूस कर रही थी। उसका चूत को बार बार मसलना मेरे दिल पर घाव पैदा कर रहे थे। फिर वो अपने बिस्तर पर चली गई।

दीदी अपने अपने बिस्तर पर बेचैनी से करवटें बदल रही थी। अपने उभारों को मसल रही थी। फिर वो उठी और नीचे जमीन पर बैठ गई। अब शायद वो हस्त मैथुन करने लगी थी। तभी मेरे लण्ड से भी वीर्य निकल पड़ा। मेरी चड्डी पूरी गीली हो गई थी। अभी भी मेरी आगे होकर कुछ करने की हिम्मत नहीं हो रही थी।

दूसरे दिन मेरा मन बहुत विचलित हो रहा था। ना तो भूख रही थी… ना ही कुछ काम करने को मन कर रहा था। बस दीदी की रात की हरकतें दिल में अंगड़ाईयाँ ले रही थी। दिमाग में दीदी का हस्त मैथुन बार बार आ रहा था। मैं अपने दिल को मजबूत करने में लगा था कि दीदी को एक बार तो पकड़ ही लूँ, उसके मस्त बोबे दबा दूँ। बार बार यही सोच रहा था कि ज्यादा से ज्यादा होगा तो वो एक तमाचा मार देगी, बस !

फिर मैं ट्राई नहीं करूंगा।

जैसे तैसे दिन कट गया तो रात आने का नाम नहीं ले रही थी।

रात के ग्यारह बज गये थे। दीदी अपनी रोज की ड्रेस में कमरे में आई। कुछ ही देर में वो बिस्तर पर जा पड़ी। उसने करवट ले कर अपना एक पांव समेट लिया। उसके सुडौल चूतड़ के गोले बाहर उभर आये। उसकी चड्डी उसकी गाण्ड की दरार में घुस गई और उसके गोल गोल चमकदार चूतड़ उभर कर मेरा मन मोहने लगे।

मैंने हिम्मत की और उसकी गाण्ड पर हाथ फ़ेर कर सहला दिया। दीदी ने कुछ नहीं कहा, वो बस वैसे ही लेटी रही।

मैंने और हिम्मत की, अपना हाथ उसके चूतड़ों की दरार में सरकाते हुये चूत तक पहुँचा दिया। मैंने ज्योंही चूत पर अपनी अंगुली का दबाव बनाया, दीदी ने सिसक कर कहा,”अरे क्या कर रहा है ?”

“दीदी, एक बात कहनी थी !”

उसने मुझे देखा और मेरी हालत का जायजा लिया। मेरी चड्डी में से लण्ड का उभार उसकी नजर से छुप नहीं सका था। उसके चेहरे पर जैसे शैतानियत की मुस्कान थिरक उठी।

“हूम्म … कहो तो … ”

मैं दीदी के बिस्तर पर पीछे आ गया और बैठ कर उसकी कमर को मैंने पकड़ लिया।

“दीदी, आप मुझे बहुत अच्छी लगती हैं !”

“ऊ हूं … तो… ”

“मैं आपको देख कर पागल हो जाता हूँ … ” मेरे हाथ उसकी कमर से होते हुये उसकी छातियों की ओर बढ़ने लगे।

“वो तो लग रहा है … !” दीदी ने घूम कर मुझे देखा और एक कंटीली हंसी हंस दी।

मैंने दीदी की छातियों पर अपने हाथ रख दिये,”दीदी, प्लीज बुरा मत मानना, मैं आपको चोदना चाहता हूँ !”

मेरी बात सुन कर दीदी ने अपनी आंखें मटकाई,”पहले मेरे बोबे तो छोड़ दे… ” वो मेरे हाथ को हटाते हुये बोली।

“नहीं दीदी, आपके चूतड़ बहुत मस्त हैं … उसमें मुझे लण्ड घुसेड़ने दो !” मैं लगभग पागल सा होकर बोल उठा।

“तो घुसेड़ ले ना … पर तू ऐसे तो मत मचल !” दीदी की शैतानियत भरी हरकतें शुरू हो गई थी।

मैं बगल में लेट कर अनजाने में ही कुत्ते की तरह उसकी गाण्ड में लण्ड चलाने लगा। मुझे बहुत ताज्जुब हुआ कि मेरी किसी भी बात का दीदी ने कोई विरोध नहीं किया, बल्कि मुझे उसके गाण्ड मारने की स्वीकृति भी दे दी। मुझे लगा दीदी को तो पटाने की आवश्यकता ही नहीं थी। बस पकड़ कर चोद ही देना था।

“बस बस … बहुत हो गया … दिल बहुत मैला हो रहा है ना ?” दीदी की आवाज में कसक थी।

मैं उसकी कमर छोड़ कर एक तरफ़ हट गया।

Didi Ko Chudai Karte Pakad Liya

“दीदी, इस लण्ड को देखो ना … इसने मुझे कैसा बावला बना दिया है।” मैंने दीदी को अपना लण्ड दिखाया।

“नहीं बावला नहीं बनाया … तुझ पर जवानी चढ़ी है तो ऐसा हो ही जाता है… आ यहाँ मेरे पास बैठ जा, सब कुछ करेंगे, पर आराम से … मैं कहीं कोई भागी तो नहीं जा रही हूँ ना … इस उम्र में तो लड़कियों को चोदना ही चहिये… वर्ना इस कड़क लण्ड का क्या फ़ायदा ?” दीदी ने मुझे कमर से पकड़ कर कहा।

मेरे दिल की धड़कन सामान्य होने लगी थी। पसीना चूना बंद हो गया था। दीदी की स्वीकारोक्ति मुझे बढ़ावा दे रही थी। वो अब बिस्तर पर बैठ गई और मुझे गोदी में बैठा लिया। दीदी ने मेरी चड्डी नीचे खींच कर मेरा लण्ड बाहर निकाल लिया।

“ये … ये हुई ना बात … साला खूब मोटा है … मस्त है… मजा आयेगा !” मेरे लण्ड के आकार की तारीफ़ करते हुये वो बोल उठी। उसने मेरा लण्ड पकड़ कर सहलाया। फिर धीरे से चमड़ी खींच कर मेरा लाल सुपारा बाहर निकाल लिया।

अचानक उसकी नजरें चमक उठी,”भैया, तू तो प्योर माल है रे… ” वो मेरे लौड़े को घूरते हुये बोली।

“प्योर क्या … क्या मतलब?” मुझे कुछ समझ में नहीं आया।

“कुछ नहीं, तेरे लण्ड पर लिखा है कि तू प्योर माल है।” मेरे लण्ड की स्किन खींच कर उसने देखा।

“दीदी, आप तो जाने कैसी बातें करती हैं… ” मुझे उसकी भाषा समझने में कठिनाई हो रही थी।

“चल अपनी आंखें बन्द कर … मुझे तेरा लण्ड घिसना है !” दीदी की शैतान आंखें चमक उठी थी।

मुझे पता चल गया था कि अब वो मुठ मारेगी, सो मैंने अपनी आंखें बंद कर ली।

दीदी ने मेरे लण्ड को अपनी मुठ्ठी में भर कर आगे पीछे करना चालू कर दिया। कुछ ही देर में मैं मस्त हो गया। मुख से सुख भरी सिसकियाँ निकलने लगी। जब मैं पूरा मदहोश हो गया था, चरम सीमा पर पहुंचने लगा था, दीदी ने जाने मेरे लण्ड के साथ क्या किया कि मेरे मुख से एक चीख सी निकल गई। सारा नशा काफ़ूर हो गया। दीदी ने जाने कैसे मेरे लण्ड की स्किन सुपारे के पास से

अंगुली के जोर से फ़ाड़ दी थी। मेरी स्किन फ़ट गई थी और अब लण्ड की चमड़ी पूरी उलट कर ऊपर आ गई थी। खून से सन कर गुलाबी सुपाड़ा पूरा खिल चुका था।

“दीदी, ये कैसी जलन हो रही है … ये खून कैसा है?” मुझे वासना के नशे में लगा कि जैसे किसी चींटी ने मुझे जोर से काट लिया है।

“अरे कुछ नहीं रे … ये लण्ड हिलाने से स्किन थोड़ी सी अलग हो गई है, पर अब देख … क्या मस्त खुलता है लण्ड !” मेरे लण्ड की चमड़ी दीदी ने पूरी खींच कर पीछे कर दी। सच में लण्ड का अब भरपूर उठाव नजर आ रहा था।

उसने हौले हौले से मेरा लण्ड हिलाना जारी रखा और सुपाड़े के ऊपर कोमल अंगुलियों से हल्के हल्के घिसती रही। मेरा लण्ड एक बार फिर मीठी मीठी सी गुदगुदी के कारण तन्ना उठा। कुछ ही देर में मुठ मारते मारते मेरा वीर्य निकल पड़ा। उसने मेरे ही वीर्य से मेरा लण्ड मल दिया। मेरा दिल शान्त होने लगा।

मैंने दीदी को पटा लिया था बल्कि यू कहें कि दीदी ने मुझे फ़ंसा लिया था। मेरा लण्ड मुरझा गया था। दीदी ने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया। मेरे होंठों पर अपने होंठ उसने दबा दिये और अधरों का रसपान करने लगी।

“भैया, विनय से मेरी दोस्ती करा दे ना, वो मुझे लिफ़्ट ही नहीं देता है !”

“पर तू तो राजीव से चुदवाती है ना … ?”

उसे झटका सा लगा।

“तुझे कैसे पता?” उसने तीखी नजरों से मुझे देखा।

“मैंने देखा है आपको और राजीव को चुदाई करते हुये … क्या मस्त चुदवाती हो दीदी!”

“मैं तो विनय की बात कर रही हूँ … समझता ही नहीं है ?” उसने मुझे आंखें दिखाई।

“लिफ़्ट की बात ही नहीं है … सच तो यह है कि उसे पता ही नहीं है कि आप उस पर मरती हैं।”

“फिर भी … उसे घर पर लाना तो सही… और हाँ मरी मेरी जूती … !”

“अरे छोड़ ना दीदी, मेरे अच्छे दोस्तों से तुझे चुदवा दूँगा … बस, सालों के ये मोटे मोटे लण्ड हैं !”

“सच भैया?” उसकी आंखें एक बार फिर से चमक उठी।

दीदी के बिस्तर में हम दोनों लेट गये। कुछ ही देर मेरा मन फिर से मचल उठा।

“दीदी, एक बार अपनी चूत का रस मुझे लेने दे।”

“चल फिर उठ और नीचे आ जा !”

दीदी ने अपनी टांगें फ़ैला दी। उसकी भोंसड़ी खुली हुई सामने थी पाव रोटी के समान फ़ूली हुई। उसकी आकर्षक पलकें, काली झांटों से भरा हुआ जंगल … उसके बीचों बीच एक गुलाबी गुफ़ा … मस्तानी सी … रस की खान थी वो …

उसने अपनी दोनों टांगें ऊपर उठा ली… नजरें जरा और नीचे गई। भूरा सा अन्दर बाहर होता हुआ गाण्ड का कोमल फ़ूल …

एक बार फिर लण्ड की हालत खराब होने लगी। मैंने झुक कर उसकी चूत का अभिवादन किया और धीरे से अपनी जीभ निकाल कर उसमें भरे रस का स्वाद लिया। जीभ लगते ही चूत जैसे सिकुड़ गई। उसका दाना फ़ड़क उठा … जीभ से रगड़ खा कर वो भी मचल उठा। दीदी की हालत वासना से बुरी हो रही थी। चूत देख कर ही लग रहा था कि बस इसे एक मोटे लण्ड की आवश्यकता है। दीदी ने

मेरी बांह पकड़ कर मुझे खींच कर नीचे लेटा लिया और धीरे से मेरे ऊपर चढ़ गई और अपनी चूत खोल कर मेरे मुख से लगा दी। उसकी प्यारी सी झांटों भरी गुलाबी सी चूत देख कर मुझे बहुत अच्छा लगा। मैंने उसकी चूत को चाटते हुये उसे खूब प्यार किया। दीदी ने अपनी आंखें मस्ती में बन्द कर ली। तभी वो और मेरे ऊपर आ गई। उसकी गाण्ड का कोमल नरम सा छेद मेरे होंठों के सामने था। मैंने अपनी लपलपाती हुई जीभ से उसकी गाण्ड चाट ली और जीभ को तिकोनी बना कर उसकी गाण्ड में घुसेड़ने लगा।

“तूने तो मुझे मस्त कर दिया भैया … देख तेरा लण्ड कैसा तन्ना रहा है… !”

उसने अपनी गाण्ड हटाते हुये कहा,” भैया मेरी गाण्ड मारेगा ?”

वो धीरे से नीचे मेरी टांगों पर आ गई और पास पड़ी तेल की शीशी में से तेल अपनी गाण्ड में लगा लिया।

“आह … देख कैसा कड़क हो रहा है … जरा ठीक से लण्ड घुसेड़ना… ”

वो अपनी गाण्ड का निशाना बना कर मेरे लण्ड पर धीरे से बैठ गई। सच में वो गजब की चुदाई की एक्सपर्ट थी। उसके शरीर के भार से ही लण्ड उसकी गाण्ड में घुस गया। लण्ड घुसता ही चला गया, रुकने का नाम ही नहीं ले रहा था।

लगता था उसकी गाण्ड लड़कों ने खूब बजाई थी … उसकी मुख से मस्ती भरी आवाजें निकलने लगी।

“कितना मजा आ रहा है … ” वो ऊपर से लण्ड पर उछलने लगी …

लण्ड पूरी गहराई तक जा रहा था। उसकी टाईट गाण्ड का लुत्फ़ मुझे बहुत जोर से आ रहा था। मेरे मुख से सिसकियाँ निकल रही थी। वो अभी भी सीधी बैठी हुई गाण्ड मरवा रही थी। अपने चूचों को अपने ही हाथ से दबा दबा कर मस्त हो रही थी। उसने अपनी गाण्ड उठाई और मेरा लण्ड बाहर निकाल लिया और थोड़ा सा पीछे हटते हुये अपनी चूत में लण्ड घुसा लिया। वो अब मेरे पर झुकी हुई थी … उसके बोबे मेरी आंखों के सामने झूलने लगे थे।

मैंने उसके दोनों उरोज अपने हाथों में भर लिये और मसलने लगा। वो अब चुदते हुये मेरे ऊपर लेट सी गई और मेरी बाहों को पकड़ते हुये ऊपर उठ गई। अब वो अपनी चूत को मेरे लण्ड पर पटक रही थी। मेरी हालत बहुत ही नाजुक हो रही थी। मैं कभी भी झड़ सकता था। वो बेतहाशा तेजी के साथ मेरे लण्ड को पीट रही थी, बेचारा लण्ड अन्त में चूं बोल ही गया। तभी दीदी भी निस्तेज सी हो गई। उसका रस भी निकल रहा था। दोनों के गुप्तांग जोर लगा लगा कर रस निकालने में लगे थे। दीदी ने मेरे ऊपर ही अपने शरीर को पसार दिया था। उसकी जुल्फ़ें मेरे चेहरे को छुपा चुकी थी। हम दोनों गहरी-गहरी सांसें ले रहे थे।

“मजा आया भैया… ?”

“हां रे ! बहुत मजा आया !”

“तेरा लण्ड वास्तव में मोटा है रे … रात को और मजे करेंगे !”

“दीदी तेरी भोंसड़ी है भी चिकनी और रसदार !” मैं वास्तव में दीदी की सुन्दर चूत का दीवाना हो गया था, शायद इसलिये भी कि चूत मैंने जिन्दगी में पहली बार देखी थी।

पर मेरे दिल में अभी भी कुछ ग्लानि सी थी, शायद अनैतिक कार्य की ग्लानि थी।

“दीदी, देखो ना हमसे कितनी बड़ी भूल हो गई, अपनी ही सगी दीदी को चोद दिया मैंने!”

“अहह्ह्ह्ह … तू तो सच में बावला ही है … भाई बहन का रिश्ता अपनी जगह है और जवानी का रिश्ता अपनी जगह है … जब लण्ड और चूत एक ही कमरे में मौजूद हैं तो संगम होगा कि नहीं, तू ही बता!” उसका शैतानियत से भरा दिमाग जाने मुझे क्या-क्या समझाने में लगा था। मुझे अधिक तो कुछ समझ में आया … आता भी कैसे भला। क्यूंकि अगले ही पल वो मेरा लौड़ा हाथ में लेकर मलने लगी थी … और मैं बेसुध होता जा रहा था।

देवर के साथ भाभी की सुहागरात - Devar ke sath bhabhi ki suhagraat

 


देवर के साथ भाभी की सुहागरात - Devar ke sath bhabhi ki suhagraat, देवर भाभी की चुदाई , देवर ने चोदा , प्यार से चोद दिया , मैं देवर से चुदवाई

देवर भाभी की चुदाई , देवर ने चोदा , प्यार से चोद दिया , मैं देवर से चुदवाई , बार - बार चुदने लगी , देवर का लंड चूसा , चूत भी चटवाई.


मेरा निकाह हो चुका था।  अभी दो दिन पहले ही मैंने अपनी सुहागरात मनाई थी।  आज तीसरे दिन मेरा देवर मेरे सामने आया।  उस समय कमरे में कोई नहीं था।  मैं थी और मेरा देवर तारिक़।  वह लगभग २२ साल का पूरा मर्द हो चुका था। गोरा चिट्टा हैंडसम और लंबा चौड़ा था।  उसे देख कर मेरे नियत ख़राब हो गई।

   

  • वह मुझे देख कर मुस्कराया और बोला - भाभी जान आज तुम बहुत खूबसूरत लग रही हो।  बिलकुल मेरे दोस्त की भाभी की तरह।  वह भी इसी तरह बेहद हसीन है।  मैं कुछ नहीं बोली और तिरछीं निगाह से देख कर मुस्कराने लगी। इतने में वह अपनी लुंगी खोल कर मेरे सामने एकदम नंगा खड़ा हो गया.  उस भोसड़ी वाले का लण्ड खड़ा था . लण्ड देख कर मेरी चूत में आग लग गई बहन चोद। वह बोला - लो मेरा लण्ड पियो,  भाभी जान ।
        
  • लण्ड देख कर तो मैं ललचा ही गई थी.  मेरे मुंह से लार टपकने लगी थी और मेरी जबान लण्ड चाटने के लिए लपलपाने लगी।  पर मैं थोड़ा नखरा करने लगी।  
        
  • मैंने कहा - तुम भोसड़ी के बड़े बेशरम हो ? एक पराई बीवी के सामने इस तरह नंगे होकर खड़े होने में तुम्हे कोई शर्म नहीं आती ? अपना खड़ा लण्ड दिखाने में तुम्हे लाज नहीं आती ?
        
  • वह बोला - अरे भाभी जान अब नखरे न करो।  और भी लोग तेरे सामने नंगे खड़े होतें हैं।  तुम भी अपने कुनबे के ग़ैर मर्दों के आगे नंगी होती हो ? मैं तो कुनबे का ही लड़का हूँ।  मेरे आगे नंगी होने में तुम्हे तो कोई शर्म नहीं आना चाहिए।  अभी तो मैं ही नंगा हूँ।  मैं अभी तुझे भी नंगी कर दूंगा।
        
  • मैंने कहा - अरे यार तुम तो मेरे ऊपर खामखां ही चढ़े ही जा रहे हो ? मैं कोई ऐसी वैसी भाभी नहीं हूँ।
        
  • वह बोला - तुम जैसी  भाभी हो मुझे मालूम है । तुम बहुत खूबसूरत हो, बड़ी बड़ी आँखों वाली हो, बड़ी बड़ी चूँचियों वाली हो, मस्त गांड और बड़े बड़े चूतड़ वाली हो, बड़ी बड़ी जाँघों वाली हो और उसके बीच एक मस्तानी चूत वाली हो ? मैं जानता हूँ की तुम लण्ड बहुत अच्छी तरह पीती हो।  मेरी बड़ी भाभी भी मेरा लण्ड पीती हैं पर तुमसे अच्छा नहीं पीती। ये मुझे किसी ने बताया है।  प्लीज पकड़ कर पी लो न मेरा लण्ड।  देखो न कैसे अपना सर हिला हिला कर तुम्हे मना रहा है मेरा लण्ड।


उसकी प्यारी प्यारी बातों ने मुझे मजबूर कर दिया और मैंने हाथ बढ़ाकर पकड़ ही लिया उसका लण्ड। लंडमेरे हाथ में आते ही छलांगें मारने लगा।  साला और बढ़ भी गया और मोटा भी हो गया एकदम से।  वह बोला देखा भाभी जान तेरे हाथ में कितना जादू है।  मेरा लण्ड इतना बड़ा और मोटा कभी नहीं हुआ जितना तेरे हाथ में जाकर हो गया।  मैं उसके लण्ड का सुपाड़ा चाटने लगी और वह मुझे नंगी करने लगा। मेरी चूँचियाँ दबाने लगा और मेरी चूत सहलाने लगा।  फिर मैंने उसे चित लिटा दिया और उसके ऊपर चढ़ गई। 

अपनी चूत उसके मुंह पर रख दिया और कहा लो देवर जी पहले मेरी चूत चाटो। अपनी जबान पूरी घुसेड़ दो मेरी चूत में और मैं झुक कर उसका लंडचाट्ने लगी।  हम दोनों 69 बन गए।  सच में मुझे ऐसे में बड़ा मज़ा आने लगा।  वह बोला भाभी जजान तेरी चूत बहुत स्वादिस्ट है।  ऐसी चूत अपने कुनबे में किसी की नहीं है।  मैंने पूंछा क्या तुम कुनबे की सबकी चूत चाट चुके हो।  वह बोला हां भाभी जान मैं सबकी चूत चाट चूका हूँ और आज भी चाटता हूँ।  सब मेरा लण्ड चाटती हैं। पीतीं हैं मेरा लण्ड।


इतने में किसी ने कहा भाभी जान लो मेरा भी लण्ड पियो ? मैंने पीछे मुड़ कर देखा तो वह अनजान लड़का था एकदम नंगा खड़ा था उसका बिना झांट का लण्ड भी खड़ा था।  लण्ड का सुपाड़ा एकदम तोप का गोला लग रहा था।  वह लण्ड तारिक़ के लण्ड से बेहतर लगा मुझे।  मैं कुछ बोलती उसके पहले ही तारिक़ बोला भाभी जान ये मेरा दोस्त फहीम है। हम दोनों मिलकर चुदाई करतें हैं।  चाहे किसी की लड़की हो, चाहे किसी की माँ हो, चाहे किसी की बेटी या बहू हो, चाहे किसी की सास या नन्द हो देवरानी या जेठानी हो हम दोनों मिलकर चोदेतें हैं। मैंने ही इसे बुलाया है भाभी जान। इसकी भाभी जान मेरा लण्ड पीती है इसलिए मैं चाहता हूँ की तुम भी इसका भी लण्ड पियो।


मैंने पूंछा अच्छा ये बताओ की तेरी बीवी कौन चोदता है ? वह बोला मेरी बीवी फहीम चोदता है, इसके दोस्त भी चोदते हैं मेरी बीवी।  मैं इसकी बीवी चोदता हूँ और मेरे दोस्त भी इसकी बीवी चोदतें हैं।  इसीलिए हमारी इसकी पक्की दोस्ती है।  मैंने दूसरे हाथ से फहीम का लण्ड पकड़ लिया।  मैंने दोनों लंड अपने मुंह के पास ले आयी और बारी बारी से दोनों के सुपाड़े चाटने लगी।  मुझे इतनी जल्दी दो दो लण्ड का मज़ा मिलेगा यह मैंने कभी सोंचा नहीं था। हम तीनो पूरी तरह नंगे थे।  मैंने तारिक़ को जमीन पर लिटा दिया और फहीम को भी लिटा दिया। दोनों आमने सामने लेटे। यानी दोनों के लण्ड आमने सामने हो गये।  मैंने उनको और नजदीक आने को कहा।  फिर दोनों ने टांगों पर टांगें  रख लीं और उनके लण्ड एकदम चिपक कर आमने सामने हो गये।  लण्ड से लण्ड टकरा गया और पेल्हड़ से पेल्हड़।


मैंने दोनों लण्ड एक साथ अपनी दोनों हाथ की मुठ्ठी में लिया और मस्ती से हिलाने लगी।  उनके सुपाड़े चाटने लगी और फिर दोनों लण्ड एक दूसरे से लड़ाने लगी. अब दोनों लाँड़ बिलकुल साँड़ की तरह लड़ने लगे।  मुझे यह देख कर मज़ा आने लगा। मैं तारिक़ के लण्ड से फहीम के लण्ड को मारती और कभी फहीम के लण्ड से तारिक़ के लण्ड को मारती। कभी सुपाड़े को सुपाड़े पर रगड़ती।  वो दोनों भी खूब एन्जॉय करने लगे।   फिर मैंने पर्श से दो कंडोम निकाले और दोनों लण्ड पर चढ़ा दिया।  इस तरह दोनों लण्ड मिलकर एक महा लण्ड बन गया। मैं इस महा लण्ड पर बैठ गयी तो दोनों लण्ड एक साथ मेरी चूत में घुस गए।  मैं उनके ऊपर धीरे धीरे कूदने लगी।  लण्ड बार बार बुर के अंदर लेती और फिर बाहर निकाल देती ।  इससे उन्हें  भी मज़ा आने लगा और मुझे भी। फहीम बोला भाभी जान इस तरह तो आजतक मुझसे  किसी से नहीं चुदवाया।  ये तो बड़ा मजे दार तरीका है।  तारिक़ भी बोला हां भाभी जान तुम तो चुदाने में बड़ी एक्सपर्ट हो।  चुदाई के नए नए तरीकेआतें हैं तुम्हें। खूब मज़ा लेती हो तुम चुदवाने के ?


मैंने कहा ये सब मैंने ब्लू फिल्म से सीखा है।  मुझे ब्लू फिल्म देखने का और उसी तरह चुदवाने का बड़ा शौक है। वैसे मेरे मुसलमानी समाज में कोई कंडोम इस्तेमाल नहीं करता लेकिन मैं कंडोम अपने पर्श में रखती जरूर हूँ क्योंकि मुझे कई बार नॉन मुस्लिम लण्ड से भी चुदवाने का मौक़ा मिलता है। फिर मैं फहीम का लण्ड चूसते हुए तारिक़ से चुदवाने लगी और फिर तारिक़ का लण्ड चूसते हुए फहीम से चुदवाने लगी। दोनों ने मुझे बारी बारी से  खूब चोदा। मैं इन दोनों से पीछे से भी चुदवाया और लण्ड पर बैठ कर भी चुदवाया।  मैंने मन में कहा मुझे तो लगता ही की आज ही मेरी असली सुहागरात हुई है।  जब दोनों लण्ड एक एक करके झड़ने लगे तो में झड़ते हुए लण्ड पिये।  उनका सारा वीर्य पी गयी मैं और फिर सुपाड़ा चाट चाट कर मज़ा लिया।  मुझे लण्ड का वीर्य पीना अच्छा लगता है इससे मेरी ख़बसूरती बढती रहती है। मुझे किसी का भी लण्ड पीना बड़ा अच्छा लगता है और मैं हमेशा किसी न किसी का लण्ड पीने के फ़िराक में रहती हूँ।


मैं चुदवा के उठी थी पर नंगी थी।  वो दोनों भी अभी नंगे ही थे। उनके लण्ड ठंढे हो चुके थे।  फिर हम सबने खाना खाया और कुछ देर तक हम लोग बात चीत करते रहे और फिर मैंने लण्ड सहलाना शुरू किया तो लण्ड धीरे धीरे खड़े होने लगे। रात का समय था और रात में औरतें जाने क्यों सब की सब रंडी हो जातीं हैं।  इतने में मेरी सास कमरे में आ गयी। उसने मुझे दोनों लण्ड हिलाते हुए देख लिया। उसकी नज़र सबसे पहले लण्ड पर पड़ी तो वह बोली हाय दईया इतने बड़े बड़े लण्ड बहू रानी ?  तेरी माँ का भोसड़ा बहू रानी।  तेरी  बुर चोदी नन्द की माँ की चूत  ? सास ने एक ही बार में सबको गरिया डाला।  फिर वह अपने बेटे तारिक़ का लण्ड पकड़ कर बोली हाय अल्ला कितना बड़ा और कितना प्यारा लौड़ा हो गया है मेरे बेटे का ?  ये तो बिलकुल मरद बन गया है मुझे इसका पता ही नहीं चला।  देखो न बहू रानी इसका लण्ड भोसड़ा चोदने वाला हो गया है।  और ये इसके दोस्त का लण्ड बाप रे बाप कितना मोटा और कितना सख्त है बहन चोद।बेटा फहीम तुम अपने दोस्त की माँ का भोसड़ा चोदो न।  तेरा लण्ड देख कर मैं चुदासी हो गयी हूँ।


सास ने तो उसका लण्ड अपने मुंह में भर लिया।  तब तक उसके पीछे एक लड़की नंगी नंगी आई और उसने तारिक़ का लण्ड अपने मुंह में भर लिया।  बाद में मालूम हुआ की वह मेरी जेठानी की बहन है और अपने जीजू का लण्ड पी कर आई है। तब तक मेरी नन्द आ गई।  वह मुझे नंगी नंगी ही मेरा हाथ पकड़ कर मुझे बाहर ले गई और बोली भाभी चलो मैं तुम्हें एक चीज दिखाती हूँ। जब मैं उसके साथ बाहर एक बदफे कमरे में गई तो देखा की याहं तो बड़ी घनघोर चुदाई हो रही है।  कई लोग चोद रहे हैं।  कई लोगों की बुर चुद रही है।  तब नन्द ने बताया की भाभी जान देखो न मेरा अब्बू अपनी  बड़ी बहू की बुर चोद रहा है। मैं ये देख कर दंग रह गयी।  मेरी जेठानी बड़ी शिद्दत से अपने ससुर से चुदवा रही थी। नन्द ने फिर कहा और ये देखो मेरा खालू मेरी फूफी की बेटी चोद रहा है। फूफा खाला की बेटी चोद रहा है। तेरी देवरानी अपने भाई जान से चुदवा रही है. मेरे चचा जान की बेटी अपने ससुर से चुदवा रही है।


इन सबकी बुर एक साथ चुद रही है तो बड़ा मज़ा आ रहा है। मैं समझ गयी की मेरी ससुराल में खूब धड़ल्ले से चुदाई होती है।  तब तक नन्द ने अपने मियां का लौड़ा मुझे पकड़ा दिया और बोली लो भाभी अब तुम मेरे मियां से चुदवाओ।  यही सके सामने पियो मेरे मियां का लण्ड और फिर पेलो इसका लौड़ा अपनी चूत में।  मैंने कहा तो फिर  तू क्या करेगी मेरी बुर चोदी नन्द रानी।  वह बोली मैं अपने चचा जान से चुदवाऊंगी। मैंने दो साल से अपने चचा जान का लण्ड अपनी चूत में नहीं पेला जबकि इसका लण्ड मुझे बहुत पसंद है।  आज मैं इससे झमाझम चुदवाऊंगी और तेरी बुर मेरे मियां से चुदती हुई देखूँगी। फिर क्या मेरे नंदोई ने मुझे लिटा दिया और मेरे ऊपर चढ़ बैठा।  उधर नन्द भी मेरे सामने अपने चचा जान का लण्ड मुंह में भर कर चूसने लगी।


मैं अपने आपको बड़ी नसीब वाली समझने लगी।  जहाँ एक दुल्हन अपने मियां के अलावा किसी और मरद का लण्ड देखने के लिए महीनो बर्षों तड़पती रहती है वहां मैं अपनी शादी के ३/४ दिन में ही अपने ससुराल के इतने सारे लण्ड एक साथ देख रही हूँ। मुझे तो नये नये लण्ड देखने का, लण्ड पकड़ने का और लण्ड पीने का बड़ा शौक है।  मुझे तो लगा की जैसे की मेरे लिये लण्ड की लाटरी खुल गयी है।  अब तो मैं किसी का भी लण्ड कभी भी हाथ बढ़ाकर पकड़ सकती हूँ।  ये सब भोसड़ी वाले मेरे आगे नंगे नंगे घूम रहें हैं तो फिर मुझे इनसे शर्म किस बात की ?  और फिर मैं भी तो इन सबके आगे नंगी हूँ। अभी एक एक करके सबके लण्ड पेलूँगी अपनी चूत में तो मैं भी एक मंजी हुई रंडी बन जाऊंगी।  फिर मुझे अपनी बुर चोदी नन्द की बुर और सास का भोसड़ा चोदने में ज़न्नत का  मज़ा आएगा।


मैं अपने नंदोई का लण्ड मुंह में लेकर चूसने लगी और मेरी नन्द अपने चचा जान का लौड़ा चाटने लगी।  मैं भी
हाथ बढ़ाकर उसके पेल्हड़ सहलाने लगी।  उसे मालूम हो गया की मैं भी उससे चुदवाने के लिए तैयार हूँ।  वह मेरी चूत सहलाने लगा और नंदोई मेरी चूँचियाँ मसलने लगा। दोनों ही लण्ड बिना झांट के थे और लम्बे चौड़े थे।  मुझे दोनों ही लंड एक नज़र में भा गये।  इतने में नंदोई ने लण्ड पेल दिया मेरी बुर में।  मैं चिल्ला उठी उई माँ फाड़ डाला मेरी बुर। बड़ा मोटा है तेरा लण्ड ? चुद गयी मेरी यार।  धीरे धीरे चोदो न।  मैं कभी भागी नहीं जा रही हूँ।  अच्छी तरह चुदवाकर ही जाऊंगी।  तब तक मेरी नन्द बोली हाय चचा जान तेरा लौड़ा मेरी चूत का बाजा बजा रहा है।  तेरा लौड़ा तो साला बड़ा सख्त है।  तू भोसड़ी का मेरी अम्मी की बुर चोदता है और आज उसकी बेटी की बुर भी चोद रहा है।  तेरा जैसे हरामी आदमी दूसरा कोई नहीं होगा। 

मैंने सुना है की तू अपनी बेटी की बुर भी लेता है ? वह बोला हां लेता हूँ।  वह देती है तो मैं लेता हूँ।  मेरी बेटी भी तेरी ही तरह बहुत बेशरम और चुदक्कड़ लड़की है।  वह तो मेरे दोस्तों के भी लण्ड अपनी चूत में पेलती है तो फिर मैं क्यों न पेलूं ? मेरी नज़र अपने चचिया ससुर के लण्ड पर टिकी थी।  मैं चुदवा तो रही थी नंदोई से पर देख रही थी अपने चचिया ससुर का लण्ड।  उसका काला लण्ड मेरी जान ले रहा था।  मैं बहुत गोरी हूँ और गोरी औरत को काला लण्ड बड़ा अच्छा लगता है।  तब तक मेरी नन्द का खालू आ गया।  वह भी मादर चोद नंगा था। उसका भी लण्ड टन टना रहा था।  उसने लण्ड नन्द के कंधे पर रख दिया।  नन्द उसका भी लण्ड चाटने लगी. तब तक उसकी फूफी की बेटी आ गयी।  उसने मेरे  हाथ से नंदोई का लण्ड ले लिया और बोली भाभी जान अब मुझे अपने भाई जान से चुदवाने दो। मैंने उसे नंदोई का लण्ड दे दिया और मैं चचिया ससुर का लण्ड अपनी नन्द से ले लिया और उसे चूसने लगी।


मेरे मन की इच्छा पूरी हो रही थी। मुझे काले लण्ड का मज़ा मिलने लगा। मैं पहली बार किसी काले लण्ड से खेल रही थी।  लण्ड पूरे नंगे बदन पर फिरा रही थी खास तौर से अपनी चूँचियों पर।  बीच बीच में मैं लण्ड का  सुपाड़ा चाट रही थी।  लण्ड साला बिलकुल पोर्न स्टार के लण्ड की तरह लग रहा था और मैं अपने आपको ब्लू फिल्म की हीरोइन समझने लगी।  फिर मैंने लण्ड अपनी चूत में पेला और धकाधक चुदवाने लगी।  वह बोला बहू आज मुझे किसी नई ताज़ी बहू की नई ताज़ी बुर चोदने को मिली है। आज मैं खूब जी भर के तेरी बुर चोदूंगा।  वह चोदने की स्पीड बढ़ाता गया और मैं अपनी गांड उठा कर हर धक्के का जबाब धक्के से देती गयी।


कुछ देर में मुझे एहसास हुआ की ससुर का लण्ड झड़ने वाला है और इधर मैं भी करीब  आ चुकी थी। तब तक उसने मुझे अपने लण्ड पर बैठा लिया।  लण्ड पूरा मेरी बुर में घुसा हुआ था।  वह नीचे से धक्के मारने लगा और मैंभी ऊपर से कूदने लगी।  इतने में लण्ड ने उगल दिया वीर्य।  थोड़ा मेरी चूत में लगा थोड़ा मेरी गाड़ में।  मैं फिर घूम गयी और झाड़ता हुआ लण्ड चाटने लगी।  मुझे लण्ड का वीर्य चाटने का बड़ा अच्छा लगता है।  हर लण्ड का  स्वाद अलग अलग होता है।  खलास मैं भी हो गयी थी।  मैं बाथ रूम गयी और वहां से फ्रेश होकर आ गई।  मैं मस्ती से सबकी चुदाई देख रही थी।  पूरे घर में चुदाई ही चुदाई हो रही थीं।  सब भोसड़ी वाली लण्ड अदल बदल कर चुदवा रहीं थीं।


तभी अचानक मेरी फुफिया सास का बेटा नंगा नंगा अपना लण्ड मुझे दिखाते हुए बोला लो भाभी जान मेरा भी लण्ड पियो।


मैंने कहा हां देवर जी जरूर पियूँगी।  तेरा भी लण्ड पियूँगी और तेरे बाप का भी लण्ड पियूँगी।

कुँवारी चाची की चुदाई - सुहागरात से पहले ही चाची को चोदा

Chachi ki seel tod chudai ki


मेरी घर में बहुत इज्जत है क्योंकि मैं पढाई में बहुत तेज हूँ और छोटे चाचा 8 क्लास के बाद नहीं पढ़े। जब मैं शादी में गया तो चाची को देखता ही रह गया। वो बहुत मस्त थी, उस समय उनका फिगर 32-28-34 था। चाचा और चाची की जोड़ी बिल्कुल नहीं जम रही थी, जैसे लंगूर के हाथ में अंगूर या हूर!

मन तो कर रहा था कि ये अंगूर मुझे खाने को मिल जाये!

घर में शादी के बाद एक रिवाज़ की वजह से पहली रात चाची को अलग सोना था। घर पर मेहमान काफी थे इसलिए मैं पहले से जा कर चाची के कमरे में सो गया। चाचा को बाहर ही सोना था।

रात में मेरी नींद खुली तो देखा कि चाची मेरे बगल में सोयी हैं, शायद शादी की वजह से उन्हें थकान बहुत थी इसलिए वो बेधड़क सो रही थी। उनका पल्लू सीने से हट गया था। उनकी काले रंग की ब्रा देख कर मेरा 7 इंच का लंड बेकाबू हो गया।

मैंने धीरे -2 उनके ब्लोउज के बटन खोल दिए। उनकी गोरी-2 चूचियाँ देख कर मेरा लंड फ़नफ़ना रहा था। मैंने हौले से उनकी ब्रा की पट्टी कन्धों से किनारे हटा दी और एक हाथ से चूची को हलके-2 दबाने लगा, दूसरी चूची को अपने मुँह में भर के चूसने लगा।

मुझे लगा चाची जाग गयी हैं पर सोने का बहाना कर रही हैं तो मैं धीरे से उनकी साड़ी को उपर खिसका कर उनकी चूत पर उपर से हाथ फरने लगा। थोड़ी देर में मुझे पैंटी में गीलापन महसूस हुआ। मुझे लगा चाची को मजा आ रहा है तो मैंने धीरे से उन्हें आवाज दी- चाची…!

उन्होंने कहा- कुछ मत बोलो बस करते रहो…!

यह सुनते ही मैं उनके उपर आ गया और उनके रसीले होटों को चूमने लगा..

अब चाची मेरा पूरा साथ दे रही थी…

उन्होंने मेरे पायजामे में हाथ डाल कर मेरे लंड को पकड़ लिया और उसकी सुपाड़े की चमड़ी को ऊपर नीचे करने लगी। मैं भी दोनों हाथो से उनकी गोल-2 चूचियाँ दबा रहा था। उनके मुँह से सेक्सी आवाजें आ रही थी- चोदो मुझे मेरे राजा… आज मेरी सुहागरात है… 18 साल से ये अनचुदी है आज इसकी प्यास बुझा दो मेरे राजा…

मैं भी गरम हो रहा था, मैंने उनकी पैंटी को उतार फेंका…और उनकी चूत में मुह लगा दिया। वो शायद एक बार झड़ चुकी थी। उनकी चूत से पानी निकल रहा था, मैं सब पी गया। मैंने दो ऊँगलियाँ उनकी चूत में डाल दी और अंदर बाहर करने लगा।

उन्हें मजा आने लगा…

उन्होंने भी मेरा लंड पकड़ के मुँह में भर लिया और सटासट चाटने लगी…

मैं उनके मुँह में ही झड़ गया, वो मेरा सारा रस पी गयीं। उन्होंने चूस-2 कर फिर से मेरा लंड खड़ा कर दिया…

वो बोली- जान अब और न तड़पाओ! अपनी रानी को चोद दो! मुझे मेरी प्यास बुझा दो…

मैं तो तैयार था, उसने मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत के मुहाने पर रखा और कहा- धक्का मारो!

मैंने भी बहुत जोर से पेल दिया पर चूत बहुत टाइट थी, लंड घुसा ही नहीं तो उसने लंड पकड़ कर ढेर सारा थूक मेरे सुपाड़े पर पोत दिया…

अबकी बार मैंने धीरे-2 धकेला तो आधा लंड अंदर चला गया…

वो दर्द से पागल हो गई, बोली- निकालो! बाहर करो! मैं नहीं सह पाऊँगी!

पर अब मैं कहाँ मानने वाला था, मैंने उसे कमर से पकड़ कर पूरे जोर से एक धक्का मारा और लंड उसकी चूत की गहराइयों को छू गया…

वो दर्द से रोने लगी पर मैं धीरे धक्के लगाने लगा। थोड़ी देर में उसे भी मजा आने लगा, उसके मुँह से आवाज निकलने लगी थी- चोदो… और जोर से… आह… आह… मेरे राजा… मुझे जन्नत की सैर कराओ… और अंदर डालो… आह… सी…सी…

आह… मैं पूरे जोर से पेले जा रहा था- हाँ रानी… ले… खा ले… पूरा मेरा खा जा… ले… ले… पूरा ले… आह… राजा… मैं गई… सी… थाम लो…मुझे… आह…

मैं समझ गया कि वो झड़ने वाली है तो मैंने अपनी स्पीड और बढ़ा दी…10-15 धक्कों के बाद हम दोनों साथ ही झड़ गये… मैंने अपनी सारी गर्मी उसकी चूत में भर दी… मैंने उठ कर देखा- खून से उसकी साड़ी लाल हो गई थी… मुझे गम न था आज एक कुंवारी चूत का रसपान जो किया था… उस रात मैंने उसे 4 बार चोदा… वो शायद सबसे हसीं रात थी…

Naukrani ki chudai Chudai Kahani

 
Naukrani ki chudai Chudai Kahani naukrani ki thukai, saas ki phudi ki kahani, devar bhabhi ki chudai, urdu ki kahani, sandy k tail ki kahani , pyaar ki kahani, kahani mery lun ki, manorama ki kahaniya, malik ka naukrani ke sath chakkar, malik naukrani, naukrani, ghar malik ka naukrani ke sath chakkar, malik ne naukrani, nokrani ko choda, malik aur naukrani, naukrani sex, naukrani ka ghar malik ke sath chakkar, suvichar kahani, pyassi naukrani, naukrani se pyar, ghar malik ne nokrani ko choda,

naukrani ki thukai, saas ki phudi ki kahani, devar bhabhi ki chudai, urdu ki kahani, sandy k tail ki kahani , pyaar ki kahani, kahani mery lun ki, manorama ki kahaniya, malik ka naukrani ke sath chakkar, malik naukrani, naukrani, ghar malik ka naukrani ke sath chakkar, malik ne naukrani, nokrani ko choda, malik aur naukrani, naukrani sex, naukrani ka ghar malik ke sath chakkar, suvichar kahani, pyassi naukrani, naukrani se pyar, ghar malik ne nokrani ko choda,


दोस्तों, आज जो नौकरानी की चुदाई की कहानी बताने जा रहा हू वो मेरी नौकरानी और उसकी बेटी की चुदाई की हैं दोनों गजब की माल थी, मजा आ गया माँ और बेटी को चोदने के बाद,मेरे फ्लैट में काम करने के लिए एक औरत आती है कुसुम जो की 39 साल की है, पर वो एकदम मस्त माल और जवान लगती है, उसका बदन काफी भरा पूरा है, गजब की सुन्दर है। पर झाड़ू पोछा का काम करना इसलिए पड़ रहा है क्यों की उसका हस्बैंड अब चल फिर नहीं सकता उसका एक्सीडेंट हो गया है, बहुत ही अच्छी औरत है ।


कुसुम कल सुबह जैसे ही काम करने आई, वो बड़ी ही सुन्दर लग रही थी, मैंने पूछा क्या बात है कुसुम आज तुम बड़ी अच्छी लग रही हो तो बोली, हां हो सकता है कल कवाचौथ था इस वजह से मैंने फैसला ब्लीच मेहंदी लगबै थी, बाल भी ठीक कराया था, क्या करे साल भर का पर्व है इसलिए अपने आप को एक दिन तो ठीक कर लेती हु, हम लोग रोज रोज कैसे कर सकते है अपने आप को ठीक ब्यूटी पारलर में, बहुत पैसा लगता है भैया, गरीब आदमी तो सुन्दर होते हुए भी सुन्दर नहीं लग पता है सिर्फ अपने गरीबी की वजह से वाकई में कुसुम बहुत ही सुन्दर लग रही थी, साड़ी भी लाल लाल और हाफ स्लेव का ब्लाउज उसकी चूचियाँ बहुत टाइट और उभर गजब का लग रहा था, साड़ी उसकी पारदर्शी थी इसवजह से उसका नाभि और पेट साफ़ साफ़ दिख रहा था, मैं तो बस उसके पेट को ही निहार रहा था, फिर वो झाड़ू लगाने लगी, वो ब्लाउज भी ऊपर से ज्यादा कटा हुआ पहनी थी इस वजह से नौकरानी की  चूचियाँ भी साफ़ साफ़ दिखने लगी, जब वो झुक रही थी क़यामत ढा रही थी, मैं तो उसकी इस रूप को देखकर हैरान परेशान था, मैं ही नहीं बल्कि मेरे लण्ड भी नमस्कार करने लगा था।


तभी कुसुम भोली भैया जी मेरा पति अब कमाता नहीं है, मेरे काम करने से ही घर चलता है, आज मुझे ४ हज़ार रूपये की जरूरत पड़ गयी है, क्या आप मेरी मदद करोगे, मैंने कहा मदद तो कर देता पर मुझे अपनी गर्ल फ्रेंड को देना है, तो कुसुम ने कहा आप मुझे ही दे दो, तो मैंने कहा उसको देता हु तो मजे देती है, तो कुसुम बोली मैं भी मजा दे दूंगी, और अपने साडी के कोने से मुह को दबाते हुए मुस्कुराने लगी, मेरा दिमाग ठनक गया और धड़कन तेज हो गयी, क्यों की मैं झूठ बोला था आज तक मैंने किसी भी लड़की को छुआ तक नहीं हु इस नजर से, अब तो शेर के सामने बकरी थी, मैंने कहा ठीक है मैंने अपना अलमीरा खोला और चार हज़ार रूपये दे दिए, वो बीएड पे बैठ गयी, बोली कैसा मजा चाहिए।


मैंने कहा तुम बड़ी ही खूबसूरत हो, आज तो और भी खूबसूरत लग रही हो, तो बोली मेरा पति तो आज कल मेरे तरफ देखता भी नहीं है वो काफी कमजोर सा हो गया है, आप मेरी मदद थोड़े दिन तक कर दो मैं भी आपको किसी चीज की कमी नहीं रखूगी, फिर वो मेरे तरफ झुकी और मैंने उसके तरफ, दोनों के होठ आपस में मिल गए, और फिर कब मेरा हाथ नौकरानी की चूच को दबाने लगा पता ही नहीं चला मैं ब्लाउज के ऊपर से उसके चूच को दबा रहा था वो अपना ब्लाउज का हुक खोल के अपना चूच बाहर निकाल दी, गजब का बड़ा बड़ा टाइट टाइट चूच था, मैं पहली बार किसी को चूच को दबाया था, फिर उसने अपने चूच को मेरे मुह में डालने लगी, मैंने भी आराम से उसके चूच को अपने मुह में ले के निप्पल को पीने लगा।


फिर नौकरानीने बेड पे लेट गयी, और मैंने उसके पेटीकोट को ऊपर कर दिया, गोल गोल जांघे, मैंने ऊपर से निचे तक सहलाया फिर नौकरानी की पेंटी को खोल दिया, काले काले बाल बूर के आस पास था, मैंने टांगो की अलग अलग कर के नौकरानी की बूर का मुआयना किया बीच में एक दरार सी थी मैंने अपने हाथ से अलग किया लाल लाल चूत पहली बार देखा मेरी धड़कन तेज हो गयी, मैं अपने आप को संभल नहीं पाया और नौकरानी की चूत को अपने जीभ से चाटने लगा, पर कुसुम बहुत सेक्सी थी, बोली लण्ड को क्या हुआ डालो ना, पागल कर दोगे क्या, फिर मैं अपने लण्ड को उसके बूर के ऊपर रख के धक्का मार तो छटक गया, फिर वो खुद ही मेरे लण्ड को पकड़ के अपने चूत के ऊपर लगाई।


मैंने धक्का दिया मेरा लण्ड स्लो मोशन में उसके बूर में दाखिल हो गया, उसके मुह से आवाज आई हाईई हाय मैं मर गई, हाय हाय, फिर क्या था मैं धका धक करके लण्ड को उसके चूत में पेलने लगा, वो बस मोअन कर रही थी और अपने हाथ से वो खुद ही अपनी चूचियों को दबा रही थी, मैं झटके पे झटके दे रहा था, वो भी गांड उठा उठा के चढ़वा रही थी, मैंने उसको चोदते रहा और वो भी चुद्वाते रही, फिर वो झड़ गयी और मैं भी एक गहरी सांस लेते हुए सारा माल नौकरानी की चूत में डाल दिया, फिर वो मुझे प्यार से चुमी और बोली कैसा लगा, मैंने कहा बहुत अच्छा लगा, फिर वो सारा काम करके चली गयी।

अंजान लड़के ने पूरी रात मुझे चोदा


 

अंजान लड़के ने पूरी रात मुझे चोदा

हैल्लो मेरी फेमिली में, में और मेरे पापा है इसलिए में पापा की लाडली हूँ. मेरी उम्र 19 साल है और में दिखने में सुंदर और सेक्सी हूँ. मेरा फिगर 34-24-36 है और मेरा कलर गौरा, हाईट 5 फुट 5 इंच, वजन 47 किलोग्राम, स्लिम बॉडी है.

मेरे एक अंकल की लड़की की शादी थी तो मेरा और पापा का जाना जरुरी था, लेकिन पापा की तबीयत अचानक ख़राब हो गई तो मुझे ही जाना पड़ा. प्रोग्राम एक होटल में था और प्रोग्राम घर से ज्यादा दूर नहीं था तो में अपनी स्कूटी लेकर चली गई और में बहुत ही शरीफ लड़की थी किसी लड़के की तरफ देखती ही नहीं थी. मुझे क्या पता था? कि आज मेरी शराफ़त की माँ बहन होने वाली है.

 में पार्टी में पहुँच गई और कन्यादान किया, फिर स्टेज पर जाकर दीदी को गिफ्ट दिया और फिर खाना खाया और घर की और चल दी. तभी मुझे याद आया कि पापा ने कहा था कि एक बार अंकल को हैल्लो बोलकर जरूर आना तो में उन्हे ढूँढने लगी. बहुत देर हो गई लेकिन अंकल नहीं मिले. वहां सब लड़के मुझे घूर रहे थे क्योंकि में बहुत ही सेक्सी लग रही थी. मैंने मिनी स्कर्ट और फिटिंग का टॉप पहना था, वो भी साईज़ में छोटा था और मेरी जांघे और नाभि और क्लीवेज साफ दिखाई दे रहे थे. ये मेरी नॉर्मल ड्रेस है.

 फिर मुझे आंटी दिखी तो मैंने उनसे पूछा कि अंकल कहाँ है? तो उन्होंने बाहर की तरफ इशारा कर दिया. में वहां नहीं जाना चाहती थी, लेकिन पापा ने बोला था इसलिए जाना जरूरी था. फिर में वहां गई और अंकल को हैल्लो बोला, अंकल फुल नशे में थे उन्होंने मुझे नॉर्मली हग किया और वाइन का ग्लास दे दिया. मैंने मना किया लेकिन वो नहीं माने और मुझे पिला दिया. जिससे वहीं पर मेरा सिर घूमने लगा. फिर मैंने अपनी स्कूटी स्टार्ट की और जैसे ही स्टार्ट करके रेस तेज की तो में गिर गई और बेहोश हो गई.

 फिर जब मेरी आँख खुली तो एक लड़का मेरे साथ बैठा था. फिर मैंने पूछा कि में कहाँ हूँ? तो उसने बताया कि में उसके रूम में हूँ और उसे में पार्टी के बाहर पार्किंग में बेहोश मिली थी. फिर मैंने उसे थैंक्स बोला और उठकर जाने लगी, तो उसने मुझे रोका और कहा कि रात के 1 बज गए है, अब तुम कहाँ जाओगी और कल सुबह चली जाना तो में भी मान गई.

 फिर मैंने पापा को फोन किया और बोल दिया कि में मेरी दोंस्त के घर पर हूँ कल सुबह आ जाउंगी तो पापा भी मान गए. फिर वो बोला चलो सोते है और मेरे साथ आकर बेड पर लेट गया. फिर मैंने कहा कि तुम कहीं और सो जाओ प्लीज. तो उसने बताया कि उसके पास एक ही बेड है तो मैंने कहा चलो एड्जस्ट कर लेते है फिर हम सो गए. सॉरी दोस्तों मैंने आपको उस लड़के के बारे में तो बताया ही नहीं, उसका नाम विक्की था और उसकी उम्र 20 साल थी. हाईट 5 फुट 7 इंच और लंड का साईज़ 8 इंच था वो बहुत ज्यादा स्मार्ट नहीं था, लेकिन एवरेज था.

 फिर रात को अचानक मुझे अपनी जांघो पर कुछ महसूस हुआ तो मैंने आँख खोली तो विक्की मेरी जांघो पर हाथ घुमा रहा था. फिर में उसे रोकने लगी तो मैंने देखा कि मेरे हाथ बंधे हुए थे और उसने पैरो को भी बांध रखा था और मेरे मुँह पर टेप थी. में डर गई और रोने लगी तो वो बोला कि चिंता मत करो आज तुझे बहुत मजा आने वाला है तो उसने मेरे ऊपर से चादर हटाकर फेंक दी तो में देखकर और ज्यादा डर गई कि में पहले से ही नंगी थी और वो भी नंगा था. में उसे मना करती रही, लेकिन वो नहीं रुका और कभी मेरी नाभि को किस करता तो कभी जांघो को किस करता, कभी बूब्स चूसता और बूब्स दबाता रहा.

 फिर वो मेरी चूत चाटने लगा, जिस पर बहुत बाल थे. फिर वो उठा और रेजर से मेरी चूत के बाल साफ़ कर दिए. में रो रही थी, लेकिन वो मेरी तरफ देख ही नहीं रहा था. फिर वो मेरी चूत लिक करने लगा तो मुझे नशा सा होने लगा. फिर में भी उसका साथ देने लगी और अपनी चूत उसके मुँह में धकेलने लगी. वो समझ गया था कि अब में तैयार हूँ और फिर उसने मुझे खोल दिया और किस करने लगा. में उससे लिपट गई और किस करती रही. फिर वो मेरे बूब्स मसलने लगा और दबा भी रहा था. में सातवें आसमान में थी.

फिर उसने अपना लंड मेरे मुँह पर रख दिया तो मैंने लंड चूसने से मना कर दिया, लेकिन वो नहीं माना. फिर में तैयार हो गई और उसका लंड देखते ही डर गई, बाप रे कितना बड़ा था, लंड मेरे मुँह में आधा ही गया था. में मस्त होकर चूसती रही और उसने मेरे मुँह में ही झाड़ दिया और पीने को बोला तो में उसके लंड का पूरा पानी पी गई.

 फिर उसने मुझे लेटा दिया और मेरी चूत चूसने लगा और में सिसकियाँ लेने लगी आईईई उम्म्म्मम और तेजज़्ज़्ज अह्ह्ह्ह उम्म्म्मम और 10 मिनट के बाद में फिर झड़ गई. वो मेरा सारा पानी पी गया. फिर हम दोनों एक दूसरे को किस करते रहे और उसका लंड फिर से खड़ा हो गया और वो मेरी गर्म और गीली चूत पर लंड रगड़ने लगा. में अब रुक नहीं पा रही थी और फिर मैंने उससे बोला जो करना है जल्दी से कर लो ना प्लीज, तो उसने टाईम वेस्ट ना करते हुए एक ज़ोरदार झटका मारा और उसका पूरा लंड मेरी चूत में अन्दर चला गया. क्योंकि मेरी चूत पहले से ही गीली थी और अन्दर से कुछ टूटने की आवाज़ आई और खून निकलने लगा.

 फिर मेरे मुँह से आवाज़ निकलने लगी आईईईइ माँ मरररर गईई पापा बचाओं आइईईई इतने में उसने अपने होठों से मेरे मुँह को लॉक कर दिया और थोड़ी देर वैसे ही रहा और किस करता रहा. फिर जब मेरा दर्द कम हो गया तो वो फिर से धीरे धीरे स्टार्ट हो गया, लेकिन उसने मेरे होठों को नहीं छोड़ा. फिर थोड़ी देर के बाद वो मेरी चूत में ही झड़ गया और में भी झड़ गई.

 फिर वो मेरी गांड मारने लगा तो उसने मेरी गांड में लंड डाल दिया और चोदने लगा, लेकिन उसने मेरे होठों को नहीं छोड़ा और फिर उसने थोड़ी देर के बाद मुझे छोटे बच्चे की तरह गोद में उठा लिया और वो पूरी छत पर मुझे लेकर घूम रहा था और साथ में चोद भी रहा था. फिर मैंने कहा अभी के लिए बहुत है तो वो मेरी गांड में अन्दर ही छूट गया. फिर हम बेड पर आकर नंगे ही सो गए.

 फिर जब मेरी आँख खुली तो सुबह के 11 बज रहे थे और हम अब भी बेड पर नंगे पड़े थे. फिर मैंने विक्की को उठाया तो उसने मुझे किस किया और फिर हम दोनों ने कपड़े पहने और फिर वो मेरे लिए कॉफी ले आया.

फिर हमने कॉफी पी और उसने कहा कि चलो तुम्हें घर छोड़ दूँ. फिर मैंने सोचा क्यों ना आज भी मजा लिया जाए? फिर मैंने उससे कहा कि यार पापा तो ऑफिस गए होंगे. क्यों ना हम आज शाम तक साथ में टाईम बिताये? वो समझ गया था कि मुझे क्या चाहिए? तो उसने कहा कि ठीक है नहा लेते है. फिर उसने मेरे लिए अपनी बहन के कपड़े ला दिए और हम नहाने चले गए. फिर उसने मुझे बाथरूम में दो बार चोदा.

गावं में भाभी की गांड मारी


 

गावं में भाभी की गांड मारी,devar bhabhi ki chudai ki kahani

मेरा नाम रवि है और मेरी उम्र 24 साल है. दोस्तों में आज एक बार फिर से आप सभी के लिए एक और नई कहानी लेकर आया हूँ.. यह कहानी मेरे गावं की चचेरी भाभी की है और अब में अपनी आज की कहानी पर आता हूँ.. जैसा कि आप जानते है कि में एक टीचर हूँ. एक बार में अपने गावं गर्मियों की छुट्टियों में गया हुआ था.. मेरे घर पर मेरे दो चचेरे भाई दोनों भाभियाँ और सभी लोग है और में जब गावं पहुंचा तो घर में जाकर पहले तो खाना पीना और दिन भर भाभियों से बातों में लगा रहा और फिर में शाम को घूमने निकल गया. में अपनी चचेरी भाभी के बारे में सोच रहा था. उनका पिछवाड़ा ठीक मेरी आँखो के सामने झूल रहा था.. उनकी पतली कमर अच्छी खासी गांड है और में उनके बूब्स को सोचकर जैसे तैसे घर पहुंचा.

फिर रात में खाना खाया और सोने के लिए आँगन में बिछाई गई खाट पर आ गया और एक खाट पर मेरी छोटी भाभी उनका बेटा और एक पर बड़ी भाभी और एक पर में लेट गया. दोस्तों गावं में सभी लोग अपने अपने कामों को खत्म करके जल्दी सो जाते है.. लेकिन मुझे शहर की आदत है.. तो मुझे नींद नहीं आ रही थी और में लेटा लेटा जाग रहा था.. मेरे छोटे भैया बाहर सोए हुए थे. बड़े भैया खलिहान में सोने चले गए थे और में अकेला लेटा हुआ भाभी को सोचकर अपने लंड से खेल रहा था और उस उजली हुई रात में सब कुछ साफ दिखाई दे रहा था और में तो बीच में लेटी हुई छोटी भाभी के चेहरे को ही देखना चाहता था.. लेकिन वो तो एक पतली सी चादर ओढ़कर सो रही थी.

फिर में एकदम मायूस होकर दूसरी तरफ करवट लेकर लेट गया और जिस तरफ मेरा चेहरा था.. उसी तरफ काम चलाऊ बाथरूम था.. वो दो बड़ी बड़ी पट्टियाँ रखकर बना था और कोई दीवार नहीं थी. में लेटा हुआ जाग रहा था और मैंने अपने मोबाईल पर टाईम देखा तो उस समय 11:21 हो रहे थे और मैंने अपने मोबाईल को तकिए के नीचे रखा और आराम से लेटा रहा.

तभी मुझे कुछ आवाज़ सुनाई दी.. शायद वो चूड़िया खनकने की आवाज़ थी. फिर मैंने अहसास किया कि कोई है.. जो मेरी तरफ आ रहा है और मैंने अपनी दोनों आखें अधखुली रखी. तभी मैंने देखा कि बड़ी भाभी मेरे सामने आई.. तो एकदम मेरी तरफ मुड़कर देखा और मुझे सोता हुआ देखकर वो बेफिक्र होकर आगे की तरफ गई और मुझसे करीब 7 फीट दूर बाथरूम में जाकर खड़ी हुई.. अपनी साड़ी को ऊपर किया.. उनकी जांघे केले के पेड़ की तरह एकदम चिकनी दिखाई दे रही थी और वो नीचे बैठकर पेशाब करने लगी.. लेकिन जब वो ऊपर उठी तो उनका पूरा पिछवाड़ा एक पल के लिए मेरी आखों के सामने चमक सा गया. फिर वो आराम से चली गई और में अपना लंड पकड़कर ही रह गया और अब मेरी नींद बिल्कुल गायब हो गई.

मेरे दिमाग़ में सिर्फ भाभी पूरी तरह से छा चुकी थी और में लेटा हुआ जाग रहा था. फिर मैंने बहुत देर तक सोने की कोशिश की.. लेकिन मुझे नींद नहीं आई और मैंने अपना मोबाईल चेक किया तो 2:10 का समय हो चुका था और अब में सोने ही वाला था. तभी मेरे कानों में फिर से वही आहट आई और मैंने सोचा कि भाभी होगी.. हुआ भी वही वो भाभी ही थी.. वो आई और उसी तरह से पेशाब करने बैठ गई और उनकी पेशाब करने की सीटी की आवाज़ मुझे बैचेन कर रही थी. फिर मैंने अच्छा मौका नहीं खोया. में चुपके से उठा और पीछे से जाकर बैठी हुई भाभी को अपनी बाहों में भर लिया.. वो हड़बड़ाकर उठती हुई बोली कि कौन है?

devar bhabhi ki chudai ki kahani


फिर पीछे मुड़कर मुझे देखकर बोली कि रवि तुम. फिर मैंने कहा कि हाँ भाभी. फिर वो बोली कि चल दूर हो और यह सब क्या है? तो मैंने उनका एक हाथ ज़ोर से पकड़ा और उनको दूसरी तरफ बने घांस फूस जहाँ पर रखा जाता है.. उस कच्चे कमरे की तरफ ले जाने लगा. फिर वो कहती रही कि कहाँ ले जा रहे हो.. बताओ तो क्या लफड़ा है? और मैंने उनको जबरदस्ती उस कच्चे कमरे में ले जाकर खड़ा कर दिया और उनके दोनों तरफ से हाथ ले जाकर दीवार पर टिका दिए.. वो अब मेरे ठीक बीच में थी. फिर मैंने कहा कि भाभी तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो.. तुम बहुत सुंदर हो.. जब कि हक़ीकत में उनका फिगर और गांड बहुत जबरदस्त है.. लेकिन वो ज़्यादा सुंदर नहीं है.

फिर वो बोली कि में क्या करूं? तो मैंने कहा कि भाभी आपको देखकर में बहुत बैचेन हो रहा हूँ. भाभी प्लीज़ आप आओ और मेरे साथ सो जाओ.. भाभी मेरी अच्छी भाभी. फिर वो बोली कि अरे तो इसमे ऐसा क्या है? चलो में सो जाती हूँ.. लेकिन तुम मेरे साथ कुछ ऐसा वैसा ना करने लग जाना और वो यह कहकर जाने लगी.. तो मैंने उनका हाथ पकड़कर खींचा और उन्हे अपने से चिपकाकर दबा लिया और कहा कि हाँ ऐसा वैसा ही तो करना है भाभी.

फिर वो बोली कि छोड़ो मुझे.. यह क्या कर रहे हो.. कोई देख लेगा? मैंने कहा कि हमें कोई भी नहीं देखेगा.. क्योंकि इस वक्त घर के सभी लोग गहरी नींद में सो रहे है. फिर भाभी बोली कि अरे तुम छोड़ो मुझे मरवाओगे.. जाने दो मुझे.. लेकिन मैंने उनकी एक ना सुनी और उनकी साड़ी को पकड़कर झट से ऊपर किया और अब वो कुछ समझ पाती उसके पहले ही मैंने उनकी चूत में अपनी दो उंगलियाँ डाल दी. फिर वो मेरा हाथ पकड़कर हटाने लगी.. लेकिन तब तक मैंने उनके ब्लाउज के ऊपर से उनके एक बूब्स को कसकर दबा लिया और में उसे ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा और नीचे की तरफ से लगातार चूत में उंगलियों को अंदर बाहर चलाता रहा.

दोस्तों भाभी पहले तो जाने दो जाने दो.. मुझे छोड़ दो.. ऐसा मत करो छोड़ो मुझे.. कहती रही. पर शायद अब मेरी उंगलियों का जादू चलने लगा था और वो मेरा विरोध करने की जगह सईईईईईइ अह्ह्ह्हह उह्ह्हह्ह करने लगी. मैंने तभी उनसे कहा कि भाभी तुम्हारी चूत तो पानी छोड़ रही है.. क्या इसमे मेरा लंड डाल दूँ? तो वो बोली कि हाँ डालो ना. फिर मैंने देर ना करते हुए अपने अंडरवियर को नीचे की तरफ खिसकाया और अपना तना हुआ लंड बाहर निकाला और भाभी ने लंड को बिना कहे ही एकदम झपटकर पकड़ लिया और वो बोली कि वाह अच्छा लंड है. फिर मैंने उनकी साड़ी को ऊपर किया.

फिर अपने लंड को चूत के मुहं पर लगाया और हल्का सा धक्का मारा.. चूत पहले से ही एकदम गीली और चिकनी थी तो लंड बिना ब्रेक के अंदर जाने लगा.. क्योंकि भाभी की चूत लंड ले लेकर बिल्कुल खुल गई थी और मैंने जब अपना पूरा लंड चूत के अंदर डाल दिया.. तब वो अउंहउंह आहह्ह्ह उफफ्फ्फ्फ़ थोड़ा धीरे करो.. में क्या कहीं भागी जा रही हूँ.. कहने लगी और मैंने खड़े खड़े ही चुदाई शुरू कर दी और मैंने उनसे कहा कि भाभी भैया ने तुम्हारी चूत को बहुत जमकर चोदा है.

फिर वो बोली कि हाँ वो रोज रात को मेरी चूत पर चड़कर मेरी लगातार चुदाई करते है.. उन्होंने ही मेरी चूत को रात दिन चोद चोदकर पूरी तरह से खोल दिया है और वो कुछ दिनों से खेत के काम की वजह से यहाँ पर नहीं रहते तो इसलिए उन्होंने मुझे नहीं चोदा.. वरना अब तक तो वो मुझे तीन बार जमकर चोद चुके होते. फिर मैंने उनकी चुदाई करते वक़्त दोनों बूब्स को दबाना शुरू कर दिया. वो भी बीच बीच में आगे की तरफ हो जाती तो में धक्का मारकर उनको पीछे धकेलता हुआ सटासट चोद रहा था और वो ओआहा अह्ह्ह और ज़ोर से चोदो. दो चूत में.. हाँ और ज़ोर डालते रहो हाँ अह्ह्ह आआहह.. लेकिन दोस्तों मुझे उनकी चूत में ज़्यादा मज़ा नहीं आ रहा था.. क्योंकि लंड चूत में एकदम फ्री होकर जा रहा था.

फिर मैंने एकदम से लंड को चूत से बाहर निकाल लिया और उनसे कहा कि भाभी पलट जाओ.. मुझे अब तुम्हारी गांड में अपना डंडा डालना है. फिर वो बोली कि बिल्कुल तुम अपने भैया पर गए हो.. क्योंकि वो भी मेरे साथ ऐसे ही करते है और यह कहकर वो झट से पलट गई और खिड़की की दीवार से हाथ लगाकर थोड़ा झुक गई.

फिर मैंने पीछे से साड़ी को ऊपर किया.. उनका पिछवाड़ा जो मेरी हालत खराब कर रहा था.. पहले तो मैंने उनके कूल्हो को ज़ोर से दबाया, सहलाया और उनको एकदम मस्त कर दिया. फिर मैंने अपना लंड उनकी गांड पर लगाया और धीरे धीरे आगे की तरफ होता गया. लंड आधे से ज़्यादा अंदर चला गया. भाभी अयाह्ह्ह्ह रे बाप रे आएयेए उूह्ह्ह्हउउ अहह. फिर मैंने और ज़ोर लगाया और पूरा लंड अंदर डालकर आगे पीछे होने लगा और अब मुझे कुछ मज़ा आने लगा था.

फिर मैंने कहा कि भाभी तुम्हे क्या गांड मरवाने भी मज़ा आता है? वो बोली कि मज़ा आए ना आए.. लेकिन चूत चुदवाना है तो गांड भी मरवानी पड़ती है. मारो मेरी गांड.. मार लो.. चोदो मुझे और में लगातार चोद रहा था. उनके बूब्स को दबाकर मैंने चुदाई की.. वो आयाअहहहहः अहहससससस सीईईईईइई और ज़ोर से आअहह चोदो मुझे अह्ह्ह और में ज्यो ज्यो लंड डालता.. वो आह्ह्ह्ह करने लगती. कुछ देर की मेहनत के बाद मेरा लंड उनकी गांड में दमदार धक्को के साथ ही ढीला पड़ गया और मैंने पूरा का पूरा वीर्य उनकी गांड में भर दिया.

फिर मैंने उनको पीछे से जकड़ लिया और कुछ पलो के बाद लंड बाहर निकल आया और वो आह्ह्हहा करती हुई पीछे हट गई. फिर मैंने कहा कि भाभी अच्छा लगा कि मैंने तुम्हारी गांड मारी. अगर कल भी मरवाना हो तो बता देना. फिर वो हाँ कहकर चली गई और में अपने बिस्तर पर आकर सो गया.. लेकिन उसके कुछ घंटो तक मुझे उनकी याद आती रही और फिर सुबह मैंने उनको देखा तो वो बहुत खुश नजर आई और उस रात के बाद मैंने उनको कई बार चोदा और वो मज़े लेकर चुदवाती रही.

बचपन के प्यार की सील तोड़ चुत चुदाई

बचपन के प्यार की सील तोड़ चुत चुदाई

मेरे पड़ोस में मेरी एक प्यारी सी लड़की रहती है, जिससे मैं बचपन से प्यार करता आ रहा हूँ … लेकिन उसे अपना प्यार जताने की मेरी कभी हिम्मत नहीं हुई-. हम दोनों के परिवारों में काफी अच्छे सम्बन्ध थे, इस वजह से मैं ज्यादा हिम्मत नहीं कर पा रहा था कि कहीं हमारे परिवारों के बीच कोई कटुता न पैदा हो जाए-.
बचपन के प्यार की सील तोड़ चुत चुदाई


फिर एक दिन मैंने हिम्मत करके उसे अपने दिल की बात बता ही दी-. लेकिन उस समय उसने मेरा प्रस्ताव यह कहकर ठुकरा दिया कि वो लव मैरिज नहीं करना चाहती है-.

मेरे लाख समझाने और कोशिश करने पर भी वो नहीं मानी-. मैंने भी उसे फ़ोर्स करना अच्छा नहीं समझा-. फिर हम दोनों अपनी जिंदगी में आगे बढ़ गए-. एक दिन मुझे खबर लगी कि उसके लिए एक विदेश में नौकरी कर रहे लड़के का रिश्ता आया है-.

ये जानकर मैं बहुत निराश हुआ क्योंकि मैं अभी भी उससे बहुत प्यार करता था-. एक दिन हमारे परिवार के लोग किसी रिश्तेदार की शादी में गए थे-. मैं घर पर अकेला था-. मैं पूरे दिन काम का थका शाम को हाफ-डे लेकर ऑफिस से जल्दी आ गया था और आते ही बेड पर सो गया-.

करीब आधे घंटे बाद मेरे घर की डोर बेल बजी-.

मैंने पूछा- कौन है?

बाहर से महिमा की आवाज आई- मैं हूँ-.

ये महिमा मेरी वही पड़ोसन है … जिससे में प्यार करता हूँ-.

मैं आपको महिमा के बारे में बता दूँ कि वो एक सुन्दर, कमसिन, कोमल, हॉट एवं काफी प्यारी सी लड़की है-. उसका फिगर 32-24-30 का है-.


पहली नजर में जो भी उसे देखता, उसकी खूबसूरती का दीवाना बन जाता था-.

जब दरवाजे पर उसकी आवाज सुनी, तो मैं उठ गया और उसे अन्दर आने को कहा-.

जैसे ही वो अन्दर आई, मैंने उसे ऊपर से नीचे तक निहारा-.

उसने टाइट कुर्ती सलवार पहना हुआ था-. उसके तने हुए दूध देखकर मेरे तो होश ही उड़ गए-.

मैंने उसे अन्दर आने को कहा-.

हम दोनों अन्दर आकर बात करने लगे-.

उसने सभी की अनुपस्थिति को लेकर पूछा-.

तो मैंने सभी को शादी में जाना बताया-.

उसने मुझसे पूछा कि तुम शादी में क्यों नहीं गए?

तो मैंने उत्तर दिया कि मेरा मन नहीं था-.

कुछ देर तक यूं ही बात करते रहने के बाद उसने पूछा- घर के लोग वापस कब आएंगे?

मैंने कहा- दो दिन बाद आएंगे-.

उसने मुझे खाना खाने के लिए पूछा-.

तो मैंने जवाब में मना कर दिया क्योंकि मैं तो उसके प्यार का भूखा था-.

मेरे मना करने पर वो जाने लगी और जैसे ही वो मुड़ी … तो उसकी चुनरी उसके पैरों में फंस गई और वो घूम कर मेरे ऊपर गिर गयी-.

इस तरह से हम दोनों में एक चुम्बन का सीन हो गया-.

यह अहसास मेरे लिए काफी रोमांचक था-. हम दोनों की आंखें एक दूसरे की आंखों में स्थिर हो गईं और कुछ आश्चर्यचकित सी रह गईं-.

क्या बताऊं दोस्तो, उसका कोमल शरीर मेरे बदन से सट गया था और उसके बड़े बड़े स्तन मेरी छाती को छू रहे थे-.

मुझे लग रहा था मानो कोई मुलायम गद्दे मेरे सीने दब गए हों-.

हमारी धड़कनें तेज हो गईं-.

फिर वो धीरे से उठने हो हुई-.

मगर उसी समय मैंने उसकी आंखों में एक अजीब सी चमक और होंठों पर मुस्कान देखी-.

मुझे उसकी आंखों में एक ऐसी कामना सी दिखी मानो वो मुझे फिर से चूमने का न्यौता दे रही हो-.

हमारी सांसें गर्म हो चुकी थीं और हमारी नजरें एक दूसरे को ही ताक रही थीं-.

मुझसे रहा नहीं गया और मैं उसे चूमने लगा-.

पहले तो उसने विरोध किया लेकिन फिर उसने भी मेरा साथ दिया और हम एक दूसरे को चूमने चाटने लगे-.

कभी मैं उसके मुलायम गुलाब जैसे होंठों को चूमता, तो कभी गर्दन पर किस करता, तो कभी उसके कान की लौ काट लेता-.

वो भी मुझे इसी तरह से चूमने लगी-. हमें कोई होश नहीं था … हम एक दूसरे में मदहोश हुए जा रहे थे-.

थोड़ी देर चूमने के बाद मैंने उसे जल्दी से पलटा दिया और मैं उसके ऊपर आकर उसे चूमने लगा-.

उसे चूमते चूमते मेरा हाथ उसके स्तनों को दबाने लगे-.

उसके स्तन इतने बड़े थे कि एक स्तन मेरे पूरे हाथ में नहीं आ रहा था-.

मैं यूं ही धीरे धीरे उसके स्तनों को मसलता रहा और दबाता रहा-.

उसे भी मजा आने लगा और उसके मुंह से ‘आह … आह …’ की मादक आवाज आने लगी-.

उसकी कामुक सिस्कारियां मुझे और उकसाने लगी थीं-.

धीरे धीरे मैं अपना एक हाथ उसकी चूत पर ले गया और चुत को कपड़ों के ऊपर से ही मसलने लगा-.

पहले तो उसने मुझे रोका, लेकिन जब मैं नहीं रुका तो थोड़ी देर बाद उसने मुझे रोकना बंद कर दिया-.

शायद उसे भी अब मज़ा आने लगा था-.

ये सब चलते चलते पूरे कमरे में उसकी मादक सिसकारियों और मनमोहक खुशबू फ़ैल गई थी-.

मेरा लंड धीरे धीरे कड़क होने लगा था और उसे पैंट में से चुभने लगा था-.

वो धीमी आवाज में बोली- ये क्या चुभ रहा है?

उसकी बात सुनकर मैं रुक गया और जरा उठ सा गया-.

उसने मेरे पैंट पर बने तम्बू को देखा और सोच में पड़ गयी कि ये क्या है?

मैंने मुस्कुराकर कहा- क्या तुम्हें वाकयी नहीं पता कि ये क्या है?

उसने शर्मा कर न में सर हिला दिया-.

मैंने उसके कान में कहा कि ये मेरा औज़ार है और इससे हम मर्द, चुत चोदते हैं-.

उसने शर्मा कर पूछा कि चुत माने क्या?

मैंने उसकी चूत की ओर इशारा करते हुए उसे बताया कि चुत इधर होती है-.

वो शर्मा गई और मुस्कुराने लगी-.

उसे मुस्कुराता देख कर मेरी उत्तेजना और भी बढ़ गयी-.

तभी उसने आव देखा न ताव … और फट से मेरी पैंट का बटन और चैन खोल दी-.

मैंने अंडरवियर पहना था, जिसमें से मेरा लंड और भी बड़ा लग रहा था-.

उसने मेरे लंड को हाथ में लिया और मसलने लगी-.

पहली बार किसी लड़की ने मेरे लंड को टच किया था; मैं सिहर उठा और पागल सा हो गया-.

वासना में मैं उसके मम्मों को जोरों से दबाने लगा और किस करने लगा-.

वो भी गर्मा उठी थी-.

मैंने देर न करते हुए उसकी कुर्ती को ऊपर किया और उसकी गर्दन से निकालते हुए अलग को फेंक दिया-.

उसने अन्दर लाल कलर की नेट वाली ब्रा पहनी थी-.

लाल मेरा पसंदीदा रंग है तो मेरी वासना और भी भड़क गई-.

मैं ब्रा के ऊपर से ही उसके स्तन दबाता और चूमता रहा और उसकी गर्म गर्म सांसें तेज होने लगीं-.

मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उसकी पीठ के पीछे हाथ लेजाकर उसकी ब्रा का हुक खोल दिया-.

उसकी ब्रा उतार कर अलग कर दी तो उसने शर्मा कर अपने स्तनों पर हाथ रख लिया और उन्हें ढक दिया-.

मैंने उसके हाथों को प्यार से हटाया और उसके स्तनों से अलग कर दिया-.

मेरे सामने दुनिया के बेहतरीन स्तन खुल गए थे-.

ये इतने मादक थे कि मैंने अब तक कभी भी किसी साईट में नहीं देखे थे … बल्कि अपनी कल्पना में भी ऐसे चुचे नहीं सोचे थे-.

उसके स्तन किसी पोर्नस्टार से भी अच्छे थे-. मैं तो बस उन्हें देखता ही रह गया-.

दूसरी तरफ उसने शर्म के मारे अपनी आंखें बंद कर लीं-.

मैंने उसके एक स्तन को हाथ में लिया और सहलाते हुए दबाने लगा-. दूसरे स्तन की चौंच को अपने होंठों में दबा कर चूसने लगा-.

आह ऐसा स्वाद मैंने अब तक कभी नहीं लिया था-.

मैं एकदम से बौरा सा गया था-. कभी उसके एक स्तन को दबाता, तो कभी कसके चूसने लगता-. उसके दूध को जोर जोर से पीता … तो कभी उसकी चूची को जोर से भींच देता-.

कुछ पल बाद मैं नीचे नाभि पर चूमने लगा-. मैं अपनी जुबान से उसकी नाभि को चोदने सा लगा था-.

वो तेज तेज स्वर में ‘आह -.-. आह -.-.’ की आवाजें निकालने लगी थी-.

कुछ देर बाद उसने मुझे खड़ा किया और खुद बैठ कर मेरी अंडरवियर को उतारने की जगह एक झटके से फाड़ दिया और मेरे लंड को आज़ाद कर दिया-.

मेरा 7 इंच का फनफनाता लंड देख कर उसके होश उड़ गए और वो घबरा गयी-.

वो लंड देख कर कहने लगी कि य…ये क्या है … इतना बड़ा और सख्त!

मैंने कहा- ये मेरा औजार है और इसे लंड भी कहते हैं-. अंग्रेजी में पेनिस इसे कहते हैं-. क्यों … क्या तुमने पहले कभी लंड नहीं देखा?

उसने कहा- देखा है … लेकिन केवल फोटो में … मगर इतना बड़ा नहीं देखा-.

वो मेरे लंड को हाथ में लेकर मसलने लगी-.

उससे रहा नहीं गया और उसने मेरे लंड को मुंह में भर लिया और उसे कुल्फी की तरह चूसने चाटने लगी-.

मुझे मज़ा आने लगा-.

लेकिन मेरा सिर्फ आधा लंड ही उसके मुँह में जा रहा था तो मैंने जोर से उसका मुँह दबाया और मेरा पूरा लंड उसके गले तक चला गया-.

उसने झट से लंड बाहर निकाला और खांसने लगी-.

मैंने उसे उठाया और उसे किस करने लगा और उसका स्तन पान करने लगा-.

वो मुझे खुद दूध पिलाने लगी-.

कुछ पल बाद मैंने उसे उठा कर बेड पर लुढ़का दिया और उसे पागलों की तरह चूमने लगा; उसके मम्मों को दबाने लगा-.

उसकी वासना से लबरेज सिसकारियां पूरे वातावरण को मादक बना रही थीं-.

अचानक से उसका शरीर अकड़ने लगा-.

मैं समझ गया कि उसका पानी छूट गया है-. लेकिन उसके लिए ये पहला अनुभव था … तो वो डर गई कि उसे क्या हो रहा है … कहीं पीरियड्स तो नहीं होने लगे हैं-.

मैंने उसे समझाया कि ये तुम्हारी चुत से निकलने वाला पानी है … जो उत्तेजना बढ़ने पर निकलता है-.

उसकी सलवार गीली हो चुकी थी-.

मैंने जल्दी से उसकी सलवार का नाड़ा खोला और उसे उतार दिया-.

उसने अन्दर नेट वाली लाल पैंटी पहनी थी, जो पूरी गीली हो चुकी थी-.

मैं लाल रंग की गीली पैंटी में उसकी फूली हुई चुत देख कर एकदम पागल हो गया और मैंने देर न करते हुए उसकी पैंटी को उतार फैंका-.

अब मेरे सामने एक कमसिन कुंवारी नंगी चूत थी-. उसकी चुत पर बारीक झांटें उगी थीं-.

चुत ऐसी लग रही थी … जैसे कुछ ही दिन पहले उसने चुत की झांटें साफ़ की हों-.

मैंने उसकी चूत पर अपना मुँह रखा और उसकी खुशबू लेने लगा-.

काफी मनमोहक सुगंध थी-.

मैं उसकी चूत को चाटने लगा, उसे गुदगुदी होने लगी और वो हंस पड़ी-.

धीरे से मैंने उसकी चुत में अपनी जीभ लगा दी … लेकिन उसकी चुत काफी टाइट थी और मेरी जुबान अन्दर न जा सकी-.

मैंने फिर से कोशिश की मगर फिर से असफल हो गया-.

अब मैंने अपनी उंगलियों से उसकी चुत को फैलाया और अपनी जीभ दरार में डाली-.

मेरी जीभ अन्दर तो गई मगर एक तंग जगह में फंस सी गयी-.

मैं धीरे धीरे जुबान को अन्दर बाहर करने लगा और अपने हाथों से उसके बड़े स्तनों को दबाता रहा-.

वो ‘आह … आह … आह …’ की मादक आवाज निकालने लगी थी-.

थोड़ी देर ऐसा करने के बाद वो फिर से झड़ गयी और मैंने उसका सारा पानी पी लिया-.

उसकी कुंवारी चुत का रस ऐसा लगा मानो मैंने अमृत पी लिया हो-.

वो झड़ने के बाद निढाल हो चुकी थी-.

कुछ देर बाद हम दोनों 69 की मुद्रा में आ गए-.

मैंने अपना लंड उसके मुंह में दे दिया और वो उसे मसल मसल कर चूसने लगी-.

कभी वो लंड के ऊपर के सुपारे को चूसती … तो कभी मेरे आंडों को बारी बारी से अपने मुँह में लेकर चूसती-.

एक तरफ वो मेरे लंड को चूस रही थी और दूसरी तरफ मैं अपनी उंगली उसकी चुत में डालने लगा था-.

उसकी चुत एकदम टाईट थी तो उंगली तक घुसेड़ने में मुश्किल हो रही थी-.

मैंने मेज़ पर रखा तेल उठा लिया और हाथ पर लगा कर उसकी चुत में मलने लगा-.

उसकी चुत के अन्दर तक कुछ तेल गया, तो अब मेरी उंगली उसकी चुत में आसानी से अन्दर चली गयी-.

उंगली को अपनी चुत के अन्दर लेते ही वो सिसक उठी और गांड उठाने लगी-.

कुछ देर एक उंगली से ही चुत को ढीला करने के बाद मैं अपनी दो उंगलियों से उसे चोदने लगा और उसकी चूत को चाटने लगा-.

अब उससे रहा नहीं गया और वो गिड़गिड़ाने सी लगी- आह रॉकी प्लीज … मुझसे रहा नहीं जाता … अब मुझे चोद दो-. मुझे अपनी रानी बना लो-.

उसके मुँह से यह सुन कर मैं चौंक गया और काफी खुश हुआ-.

मैं उस पर से उठा और नंगा ही भाग कर अपने बड़े भाई के कमरे में गया, उसकी अलमारी से कंडोम का पैकेट ले आया-.

मेरे बड़े भाई की शादी कुछ महीने पहले ही हुयी थी-. मुझे मालूम था कि वो भाभी को कंडोम लगा कर ही चोदता है-.

दोस्तो, चाहे कुछ भी हो … सेफ्टी फर्स्ट होती है-. कभी कोई रिस्क नहीं लेना चाहिए-.

मैं जल्दी से कंडोम लेकर आया और अपने लंड पर पहनने लगा-.

उसने पूछा कि ये क्यों?

मैंने कहा- सेफ्टी जरूरी है … तुम्हारे लिए भी … और मेरे लिए भी!

मेरी बात सुनकर वो खुश हो गई और उसने मुझे गले से लगा लिया-.

मैंने झट से कंडोम पहन लिया और उसे लिटा कर चूमने चाटने लगा-.

अब मैंने अपना तना हुआ लंड उसकी बुर पर रखा और चुत के ऊपर घिसने लगा-.

वो मेरे लंड को चुत में लेने के लिए तड़प रही थी-.

अपनी आंखें बंद किए हुए वो मादक सिसकारियां ले रही थी-.

मैं लंड चुत पर घिस कर उसे और उकसा रहा था-.

वो कहने लगी- मेरे राजा … अब देर मत करो … और डाल दो इस हथियार को मेरी चुत में-.

मैंने अपना लंड उसकी गर्म चूत के द्वार पर सैट किया और हल्का सा धक्का दे दिया-.

लेकिन उसकी चूत काफी टाइट थी … पहली बार जो चुद रही थी-.

मेरा लंड फिसल गया और यह देख कर वो हंस पड़ी-.

मैंने उसकी गांड को कसके पकड़ा और लंड को फिर से सैट किया-.

इस बार सुपारा चुत की फांकों के मध्य जैसे ही सैट हुआ … मैंने जोर का धक्का लगा दिया-. मेरे लंड का मुखड़ा उसकी चूत में घुसता चला गया-.

मोटा लंड जब संकरी चुत में घुसा, तो वो जोर से चीख पड़ी-.

वो रोने लगी … मैं उसे किस करने लगा ताकि उसकी चीख दब जाए-.

वो रोती हुई कहने लगी- इसे निकालो … मुझे बहुत दर्द हो रहा है-.

मैं उसे चूमने लगा और उसके स्तन दबाने लगा-.

थोड़ी देर बाद वो शांत हुई तो मैंने एक और जोर का धक्का दे दिया-.

इस बार मेरा आधा लंड उसकी चूत में चला गया था-.

वो फिर से चीख उठी- हाय मर गई मैं तो … इसे निकालो … मुझे नहीं करना-.

लेकिन अब मैं कहां रुकने वाला था … मैंने एक और जोर का झटका दे दिया और मेरा पूरा लंड उसकी चुत में घुस गया था-.

वो दर्द से कराह रही थी और उसके आंसू रुक ही नहीं रहे थे-. मैं उसे चूमता रहा ताकि वो शांत हो जाए-.

थोड़ी देर मैं ऐसे ही पड़ा रहा-.

फिर कुछ पल बाद जब वो शांत हुई तो मैं आगे पीछे होकर लंड को अन्दर बाहर करने लगा-.

पहले उसे दर्द हुआ … फिर वो भी मजे लेकर मेरा साथ देने लगी-.

अब तो वो अपनी गांड को उछाल उछाल कर साथ देने लगी थी-.

मैंने उसकी टांगों को अपने कंधे पर लिया और उसकी गांड पकड़ कर जोर जोर से झटके मारने लगा-.

पूरे कमरे में उसकी सिस्कारियों की आवाज ‘आह … आह … ओह माय गॉड … फ़क मी फ़क मी … रॉकी-.’ और ‘फच्च फच्च …’ की आवाजें गूंजने लगीं-.

मैंने दस बारह तेज शॉट मारे और उससे पूछा- मजा आ रहा है जान!

वो चीखने लगी, चिल्लाने लगी- ओह रॉकी बहुत मज़ा आ रहा … और जोर से करो … आह-.

मैंने अपनी स्पीड को बढ़ा दी-.

करीब 15 मिनट बाद मैं झड़ गया-.

इस बीच वो दो बार झड़ चुकी थी-. मैं लंड उसकी चूत में रखे ही उस पर लेटकर सो गया-.

कुछ देर बाद मेरी आंखें खुलीं, तो मैंने देखा कि मेरे लंड पर खून लगा था-.

मैंने देखा कि वो खून महिमा की चूत से आ रहा था-.

मुझे पता था कि पहली चुदाई में लड़की की सील टूटने पर खून निकलता है-.

मुझे लगा अगर महिमा ने ये देख लिया तो वो घबरा जाएगी-.

वो अभी सो रही थी-.

मैं जल्दी से बाथरूम से गीला कपड़ा लेकर आया और उसकी चूत और मेरे लंड से खून साफ़ किया-.

लेकिन अभी भी बेडशीट पर खून लगा था-. मैंने महिमा को उठाया तो उसमें उठने की भी ताकत नहीं थी-.

मैंने उसे सहारा देकर उठाया और अपनी गोद में उठा कर उसे बाथरूम में ले गया, उसे बाथटब में लिटा दिया और हल्का गर्म पानी भर दिया-.

गर्म पानी में उसे अच्छा लगा-.

वो अपने बदन की गुनगुने पानी से सिकाई करने लगी-.

तब तक मैंने जल्दी से कमरे में आकर बेडशीट को हटाया और धोने में डाल दिया-.

फिर मैं भी बाथरूम में आ गया और महिमा के साथ बाथटब में बैठ गया-.

मैंने उसे अपनी तरफ किया और उसके गोरे बदन पर साबुन मलने लगा-.

कभी उसके स्तन पर साबुन लगा कर दूध मसलता और दबाता, तो कभी उसकी चूत के ऊपर साबुन लगाता और अन्दर तक उंगली डाल कर चुत को मसलता-.

इसी तरह वो भी मेरे लंड पर साबुन मलती और उसे मसलती रही-.

मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया-. मैं उसकी गांड मसलने लगा-.

मैं टब में ही लेट गया और वो मेरे ऊपर आ गयी-.

मेरे लंड को हाथ में लेकर वो अपनी चूत पर सैट करने लगी-.

धीरे से मेरा लंड उसकी चूत में जाने लगा-.

अब वो धीरे धीरे अपनी गांड को हिलाने लगी और ऊपर नीचे होने लगी-. इसी तरह हमने कई पोजीशन में टब में ही चुदाई की-.

डॉगी स्टाइल में कभी 69 में चुदाई का मजा आता रहा-. कभी मैं उसके ऊपर चढ़ जाता … तो कभी वो मेरे ऊपर चढ़ जाती-.

1st सेक्स करने के बाद मैंने उसे पूछा- तू तो बड़ी अनजान बन रही थी चूत लंड से? फिर कैसे तुझे सब पता चल गया और …

वो बोली- वो तो मैं ऐसे ही भोली बन कर दिखा रही थी-. ब्लू फ़िल्में देख कर मुझे सब पता था पहले से!

उस रात हमने पूरे घर में कई जगह और कई बार चुदाई की-. किचन में, खाना खाते समय डाइनिंग टेबल पर भी उसे चोदा, टीवी देखते समय सोफे पर चोदा-. टहलते समय छत पर भी चोदा-.

उस रात की सेक्स कहानी आगे भी बताऊंगा मगर वो सब अगली बार लिखूंगा-.

उस दिन के बाद जब भी हम दोनों अकेले में मिलते हैं, तो मिनटों तक किस करते हैं और कभी कभी मैं उसके मम्मों को भी चूस लेता हूँ-.

जब भी हम दोनों देर के लिए अकेले में मिलते हैं, तो चुदाई भी कर लेते हैं-.

Author Name

Adult Stories

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.