Articles by "एडल्ट स्टोरी"

adult stories in hindi Antarvasna Story baap beti ki chudai ki kahani bahan ki chudayi balatkar ki kahani behen ki chudayi bhabhi ki chudai bhai bahan ki chudai bhai bahan sex story in hindi bollywood actress ki chudai ki kahani bollywoos sex stories in hindi chacha bhatiji ki chudai ki kahani chachi ki chudai ki kahani chhoti bahan ki chudai chhoti ladkai ki chudai chudai ki kahaniya dehati chudai ki kahani devar bhabhi ki chudai ki kahani Didi ki Chudai Free Sex Kahani gand chudai gand chudai ki kahani gangbang ki kahani Ghode ke sath desi aurat ki sex story girlfriend ki chudai gujarati bhabhi habshi lund se chudai hindi sex stories Hindi Sex Stories Nonveg hindi urdu sex story jija saali sex jija sali ki chudai ki kahani Kahani kunwari choot chudai ki kahani Losing virginity sex story mama bhanji ki chudai ki kahani mama ki ladaki ki chudai marathi sex story mote lund se chudai ki kahani muslim ladaki ki chudai muslim ladki ki chuadi nana ne choda naukarani ki chudai New Hindi Sex Story | Free Sex Kahani Nonveg Kahani Nonveg Sex Story Padosi Ki Beti pahali chudai pakistani ladaki ki chudai Pakistani Sex Stories panjaban ladki ki chudai sali ki chudai samuhik chudai sasur bahu ki chudai sasur bahu ki sex story sasural sex story school girl ki chudai ki kahani seal tod chudai sex story in marathi suhagraat ki chudai urdu chudai ki kahani in urdu Virgin Chut wife ki chudai zabardasti chudai ki kahaniya एडल्ट स्टोरी कुंवारी चूत की chudai गर्लफ्रेंड की चुदाई गांड चुदाई की कहानियाँ जीजा साली सेक्स पहलवान से चुदाई बलात्कार की कहानी बाप बेटी की chudai की सेक्सी कहानी मामा भांजी चुदाई की कहानी ससुर बहु चुदाई सेक्स स्टोरी
Showing posts with label एडल्ट स्टोरी. Show all posts

Bhabhi Ki Chhoti Bahan Mast Chudwane Lagi

Bhabhi Ki Chhoti Bahan Mast Chudwane Lagi



Garam Hindi Sex Story, Jija Sali Fucking, Mera naam Jatin hai aur main 20 saal ka hoon. Mera rang gora aur height 5’8 hai aur maine body bhi bahot achi bna rakhi hai jiss par bahot si ladkiyan fida hai. Mere lund ka size 7inch hai aur wo mota bhi hai jisse ladkiyan choosna chahti hai. Ab main apni kahani par aata hoon aur apko apni kahani me le chalta hoon. Bhabhi Ki Chhoti Bahan Mast Chudwane Lagi.

Ye kahani pichle saal pehle ki hai jab main B.Tech. 1st year me tha aur mere college ki bahot si ladkiyan mujh par marti thi. Us time mere bhaiya ki shadi bhi thi aur meri bhabhi mere city ki doosri colony me rehte the. To mujhe udhar side coaching ke liye aana padta tha aur unka flat bhi mere raste me aata tha.

Ek din kuch aisa hua ki main jab coaching puri kar ke wapis apne ko ghar ko jane ke chala toh thodi aage jate hi mujhe meri hone wali bhabhi mil gyi aur main bike rok li. Main bhabhi ko namaste ki aur kha – Aayo bhabhi main apko ghar tak chord deta hoon.


Bhabhi ne bhi han kha aur beth gyi kyoki wo time sardiyo ka tha aur thand bhi bahot padti thi. Main unhe ghar chod kar wapis hone lga tabhi bhabhi ne kha andar aaja par maine mna kar diya kyoki sham ke 5 baj gye the aur sardiyo me andhera jaldi hone ki vajah se rush bhi bahot hojata hai. Par bhabhi ne mujhe jaane nhi diya aur andar le hi gyi main bhi unki baat kaat na ska aur andar chala gya.

Main andar aa gya aur sofe par beth gya aur pta chala ki ghar par bhabhi aur unki choti behen Jhanvi hai, aur baki sare ghar wale pados me kisi function par gye hue hai. Tab bhabhi ne mujhse roti khane ko kha par maine mna kar diya aur itne me unki choti behen humare pass aa gyi.

Wah kya kayamat lag rhi thi Jhanvi uski kaatilana najar, uske gulab se bhare gulabi honth aur figure to maano bande ko khada khada hi geela kar de. Wo dikhne me bahot sundar thi aur sexy bhi maine jab usse dekha to dekhta hi reh gya aur lund bhi khada ho gya. Fir hum sab uske room me beth kar baate marne lag gye aur baton baton me pta chala ki usne abi 11th ke exam diye hai aur 12th me admission li hai.

Itne me ghar ki bell baji aur bhabhi ne darwaja khola to dekha ki pados ki aunty unhe bulane aayi hai aur wo unke sath bahar chali gyi. Hum ek dusre sath itna ghul mil gye the ki mano aise lag rha ho ki pichle janam ki bhichde panchi mil gye ho.


Tab mujhe bahot jor ki susu lagi thi aur maine usse washroom ke baare pucha aur washroom chala gya. Jab main washroom se wapis aa rhi thi tab maine dekha ki Jhanvi mere phone me blue film lga kar dekh rhi hai aur apne hatho se apne boobs daba rhi hai.

Main kamre ke bahar se usse dekh rha tha aur khade khade uski chudai ke sapne dekh rha tha aur mera lund bhi bhi dande ki tarah khada ho gya tha. Mujhse ab aur intezar nhi ho rha tha main dheere se andar gya aur usse piche se pakad kar uski frock ke upar se hi uske boobs ko hatho me le liya.

Pehle to wo ghabra gyi par mujhe dekh kar bina kuch kahe mera sath dene lag gyi. Kya kamaal ke the uske boobs main usse dheere dheere masalne lag gya aur khada khada hi uski panty me hath daal kar chut ki jannat ko apni ungalio se mehsus karne lag gya.

Ab maine usse bed par gira diya aur uske upar aa kar uske gulabi hontho ko chusne lag gya. Wo bhi mere hontho ko chus chus kar mere hontho ka sawad le rhi thi. Ab maine apni jeeb uske muh me daal di aur usne meri jeeb ko lolipop ki tarah chusa. Mujhe bahot maja aa rha tha fir maine uske kapde utar diye aur usne mere bhi utar diye. Kyoki humme garmi lagne lag gyi thi.


Ab maine uske nange badan ko niharta aur niharta hi reh gya, kyoki uska nanga badan dekh kar mere muh me paani aa gya tha. Aur maine usse chatna shuru kar diya aur chatte -2 uski garden par dant bhi maar diya. Aur fir uske santre jaise boobs ko pakad kar muh me le liya aur muh me bhar kar chusne lag gya. Iska Jhanvi bhi bahot maja le rhi thi aur maje me lambi lambi siskariya bhar rhi thi.

Ab mujhse aur bardash nhi hua aur maine uski panty utar kar usse nanga kar diya aur apna muh uski choot par le gya. Jaise hi mera muh uski choot par aaya uski choot ki khushbu se mano chehak utha aur chooth ko khol kar chatne lag gya. Uski chikni gulabi choot itni mast thi ki main uski choot ko icecream samjh kar chaati ja rha tha.

Idhar Jhanvi bhi bahot maja le rhi thi aur lambi lambi siskariya bhar rhi thi. Aur ek dam se apni tango ko tight kar mera muh fasa kar apna saara paani mere muh me hi nikal diya jisse main saara chatt se pi gya.

Ab maine uski choot ka paani pi liya tha aur uska paani bahot lajvab tha. Main uski choot ko lagatar chaati ja rha tha aur uske boobs ko hatho me le kar dabayi ja rha tha jisse Jhanvi fir se mera sath dene lag gyi thi.


Ab maine bhi deri kiye apna lund uski choot par ragadana shuru kar diya tha aur jor jor se uski choot par ragadta ja rha tha. Aur idhar uske nipple ko muh me le kar chus rha tha tabhi fir se Jhanvi ki choot ne apna paani mere lund par nikal diya.

Ab maine bhi bina deri kiye uski choot par apna chikna lund set kiya aur ek dhakka mara jisse lund choot me aadha chala gya. Par aadhe jaane se lund ki payas nhi bhuj rhi thi isliye maine ek jor dar jhatka mara jisse lund uski choot me pura chala gya.

Aur idhar Jhanvi ne bahot jor se cheenkh maari maine uske muh par apna hath rakh diya. Ab fir se lund ko bahar nikal kar uski choot me ek rocket ki tarah apna lund chalaya jo ki uski bachedani pe ja kar lga jisse usne fir se cheenkh maari. Aur maine fir se uske muh par apna hath rakh diya aur wo rone lag gyi. “Bhabhi Ki Chhoti Bahan”

Thodi der tak main dheere dheere uski choot marta rha jisse uska dard kam ho gya. Aur maine fir se apne lund ki speed bada kar uski chudai karne lag gya, ab Jhanvi bhi aaaahhhh aaahhhhh aaaahhh jaise awaje nikal rhi thi aur madhoshi me hi chod do chod do boli ja rhi thi.


Maine apna rocket chalu rakha jisse Jhanvi ne apna paani ek baar fir nikal diya. Aur ab maine bhi moke ki najakat ko samjhte hue 10minute baad apna kholta hua laava uski choot me uchaal diya. Ab hum dono thodi der aise hi lete rhe aur fir thodi der baad apne kapde daal kar beth gye aur ek dusre se baaten marne lag gye.

Thodi der baad ghar ki bell baji aur humme lga ki bhabhi aa gyi hai. Jhanvi ke uthne se pehle maine usse long kiss kari aur uske boobs ko jor jor se dabaya aur fir wo darwaja kholne chali gyi aur kha – Didi aayi hai.

Main – Bhabhi aap itni der se kha thi? Bhabhi – Pados me jha function tha main vaha chali gyi thi. Raat ke 9 baj rhe the aur bhabhi ne mujhe vahi rukne ko kha par maine bhabhi se kha – Bhabhi agar nhi gya to ghar wale pareshan ho jayenge aur dant bhi bahot padegi.

Bhabhi – Itni si baat hai toh main phone kar ke keh deti hoon ki Jatin aaj mere yha so jayega. Tab to koi pareshani nhi hogi!! Mere man me laddu foot rhe the aur maine kha – Jaise apko thik lage. Main apne bhaiya ke hone wale sasural me ruka.

Sasur Ji Ka Mota Lund Meri Chut Mein Ghusa

Sasur Ji Ka Mota Lund Meri Chut Mein Ghusa,ससुर जी का मोटा लंड मेरी चूत में घुसा


मैं शादी सुदा हूँ ये स्टोरी आज से २ साल पहले की है जब मै नई नई सुसराल आयी थी. मेरे सुसराल में केवल ४ लोग है मेरी सास ४० वर्ष की ससुर ४५ वर्ष के ननद १८ साल की और मेरे पति का मार्किटिंग का काम था इसलिए वो जयादातर शहर से बाहर ही रहते थे मेरी शादी को केवल ४ महीने ही हुए थे और मेने केवल ८-१० बार ही सेक्स किया था एक दिन की बात है, घर में मै और मेरी ननद ही थी मै अपने रूम में टी.वी देख रही थी मुझे पेशाब लगी और मैं अपने रूम से निकल कर टोलिट जाने लगी तभी मुझे ऐसा लगा की मेरी नंनद पूजा रो रही है मुझे ये आवाज उसके रूम से आ रही थी मेने सोचा आवाज लगाउ फिर कुछ सोच कर रूम के की होल से देखने लगी.

अंदर का नज़ारा देख कर में तो सन्न रह गयी अंदर पूजा फर्श पर नंगी पडी थी और हमारा कुत्ता उसकी चुत चाट रहा था ये देख कर मेरे तो होश हे उड़ गए फिर मेने देखा पूजा ने कुत्ते का लंड पकड़ कर अपनी चुत में डाल लिया और टौमी किसी पक्के चुद्दकद आदमी की तरह धकके लगाने लगा और पूजा भी अपनी गांड उछाल उछाल कर उसका साथ दे रही थी मुझसे ये सब देखा नहीं गया और में वहा से हट गयी !
थोड़ी देर बाद टौमी वहा से बाहर निकल आया फिर ……पूजा भी बाहर आ गयी. मुझे उस पे बहुत गुस्सा आ रहा था मुझे देख कर वो डर गयी मेने उसे बताया मेने सब देख लिया है अंदर क्या चल रहा था

तो वो रोने लगी और कहने लगे मुझसे कण्ट्रोल नहीं होता तो मै चुप हो गयी मैने उस को समझाया कोई बॉय फ्रेंड बना लो और उसके साथ सेक्स का मज़ा लो फिर वो कहने लगी बॉय फ्रेंड तो है लेकिन डर लगता है क्योकी आदमी का लंड तो बहुत बड़ा होता है मैने कहा किसने कहा आदमी का लंड तो बहुत बड़ा होता है तो वो बोली की मैने देखा है मैने कहा किसका देखा है वो बोली पापा का देखा है और उसने बताया पापा का लंड गधे जितना लंबा और मोटा है 

ससुर जी का मोटा लंड मेरी चूत में घुसा


मुझे विश्वास नहीं हुआ मैने किसी तरह उसको समझा कर कसम दिलाई आगे से कुते से मत चुदना लेकिन मेरे दिमाग में तो ससुर जी का लंड घूमने लगा था मैने सोचा एक बार ससुर जी का लंड देखा जावे फिर एक दिन मोका मिल ही गया घर के सब लोग बाहर गए हुए थे और दो दिन बाद आने वाले थे केवल में और ससुर जी घर पे थे मैने सोचा अच्छा मोका है,

मैने रात को उनके दूध में नीद की गोलिया मिला दी वो रात को दूध पी कर सो गए एक घंटे बाद ससुर जी के रूम में गयी उनको हिलाया मगर वो नहीं हिले में समझ गयी अब वो जागने वाले नहीं है

मैने उनकी लूंगी हटा कर कचछे का नाडा खोला और ……उनका लंड देखा और हैरानी से सन रह गयी उनका लंड सोया हुआ भी करीब 5 ईच लंबा होगा फिर मेरी चुत में भे चीटिया दोडने लगी मेरे मन में आया इसे खडा कर के देखती हूँ मैने लंड को मुह में ले कर थोडा गीला किया और दोनों हाथो से मुठ मारने लगी लंड में जैसे बिजली का करंट दोड गया वो खडा हो कर लगभग १२ ईच लंबा हो गया फिर सोचा देखती हू अगर मेरी चुत में घुसा तो कहा तक जवेगा मैने अपनी साडी और पेटीकोट निकल कर अलग रख दिया और ऊपर से नापने लगी,

वो मेरी चुत से पेट के बीच तक आया ये सब देख कर मेरी तो हवा खराब हो गयी जेसे मेंने हटना चाहा तो ससुर जी का हाथ अपनी जाँगो पर पाया उन्होंने मेरी जाँगो को मजबूती से पकड़ लिया था उनकी आँख खुली हुई थे और मेरी और देख कर मुस्करा रहे थे

वो कहने लगे अब नाप तो लिया है चुत में तो लेकर देखो बड़ा मज़ा आयेगा में डर गयी और वहा से हटना चाहा लेकिन ससुर जी ने मुझे बेड पर पटक दिया और मेरी चूची दबाने लगे में तो उस समय मदहोस सी हो गयी थी चुत भी गीली हो गयी थी मैने उनको रोकने की कोशिश की लेकीन ससुर जी ने मेरी एक नहीं सूनी और मेरा ब्लाउज और ब्रा निकल कर फैक दी और मेरी एक चूची मुह में ले कर चूसने लगे में तो जैसे पागल सी हो गयी !

मेरी चुत में एक उंगली डाल कर अंदर ……बाहर करने लगे थोड़ी देर ऐसा करने से मेरी चुत पनिया गयी थी अब ससुर जी मेरी टांगो के बीच में आ गए और मेरी चुत जोरो से चाटने लगे मुझे लगा मेरा पानी निकल जावेगा मैने ना चाह कर भी ससुर जी का लंड हाथ में पकड़ लिया और आगे पीछे जोरो से करने लगी ससुर जी का लंड इस समय एक मोटी लोहे की राड जेसा लग रहा था अचानक ससुर जी ने लंड को अपने हाथ में पकड़ा और मेरी गीली चुत के दाने पर घिसने लगे मेरी तो जान ही निकल गयी और मेरे मुँह से कामुक सिसकियाँ निकलने लगी लग रहा था,

चुत का लावा अभी बाहर आ जवेगा और ५ मिनट बाद ही मेरी चुत से बरसात होने लगी ससुर जी मेरी तरफ मुस्करा कर देखा और बोले बहु अभी तो लंड चुत के अंदर भी नहीं गया तेरी चुत ने तो ढेर सारा पानी भी छोड दिया यह सुन कर मेरे गाल शर्म से लाल हो गए और मैने धीरे से ससुर जी के कान में कहा पापा जी मेरी चुत बहुत दिनों से पयासी है इसकी प्यास बुझा दो प्लीज!

ससुर जी प्यार से मेरे होठ चूसने लगे फिर मेरी चुत चाटने लगे और अपनी जीभ मेरी चूत में घुमाने लगे , अचानक उसने अपनी जीभ मेरे चूत के दाने पर लगाई और कस कर चूस दिया। मेरे मुँह से जोर की सीत्कार निकल गई “उईई …… माँ……… और…… चूसो… न…… ।”
ससुर जी ने अब दो उंगली चुत में डाल दी और अंदर बाहर …करते हुए मेरे चूत के दाने को चूसते रहे मेरी चुत में तो अब जेसे आग लगी थी लगता था एक बार फिर चुत का रस बाहर आ जावेगा ! मैने ससुर जी को कहा पापा जी मेरी चुत मुझे बहुत ही तंग करती है, मुझे ! बहुत ही खुजली मचती है इसमें !

बस अब मेरी चूत में अपना लन्ड डाल कर कस कर चोद डालो !” मेरी प्यास बुझा दो ना अब सहा नहीं जा रहा और ससुर जी के हलंबी लंड को हाथ में ले कर मसलने लगी लंड की मोटाई मेरी मुठी में नहीं आ रही थी ये सोच कर की मेरी चुत आज जरूर फट जवेगी में थोडा डर भी गयी ससुर जी ने ये मेरे चेहरे को देख कर भाँप लिया और प्यार से बोले बहु घबरा मत आज तुझ्रे वो मज़ा दूगा फिर कभी दूसरे लंड से नहीं चुदवाओगी!

लेकिन पापा जी आज आप मेरी चूत को ऐसे चोदना कि इस साली को चैन पड़ जाये !” ससुर जी ये सुन कर थोड़े मुस्कराए और कहा बहु चल अब लंड को मुह में ले कर चूस ! लंड तो पहले से ही लोहे की राड जेसा था मै अब लंड को चूसने लगी ससुर जी भी पुरे जोश में आ गए थे और मेरे मुह को लंड से चोदने लगे मेरी तो साँस ही रुकने लगी ! कुछ देर ऐसा करने के बाद अब ससुर जी ने अपना लंड मेरी चुत के मुह पर रखा और थोडा धीरे से अंदर किया पक की आवाज से लंड का टोपा चुत में चला गया और एक जोर का धकका मारा लंड करीब ३-४ इंच अंदर चला गया …


मेरी तो जान ही निकल गयी ! ससुर जी पुराने खिलाडी थे लंड पूरा अंदर ना कर के धीरे धीरे धकके लगाने लगे ! लन्ड काफ़ी मोटा और तगड़ा था जिससे मेरी चूत कसी हुई थी। जैसे ही वो अपना लन्ड बाहर निकालता मेरी चूत के अन्दर का छल्ला बाहर तक खिंच कर आता और लन्ड के साथ अन्दर चला जाता। कुछ देर तक ऐसे चोदने के बाद उन्होंने एक तकिया मेरी गाँड के नीचे लगा दिया जिससे मेरी चूत ऊपर उठ गई और चूत का छेद थोड़ा सा खुल गया !

अपना लन्ड मेरे योनि-द्वार पर रखा और कमर को पकड कर एक जोर से झटका दिया,ससुर जी का पूरा लन्ड मेरी चूत को चीरता हुआ अन्दर के आखिरी हिस्से पर जा टकराया। में उत्तेजना में भर गई, और उनके सीने से चिपक गई और मेरे मुँह से निकल पड़ा,”ओह्ह्ह्…… …हाय्… ………अब……मजा मिला है ! बस पापा जी ऐसे ही चोदते रहो बहुत मज़ा आ रहा है !फिर उन्होंने मेरी दोनों टाँगों को ऊपर उठाया और मेरी चूत में लन्ड तेज रफ़्तार से आगे पीछे करने लगे। पुरे कमरे में फचा फच …. ….फचा फच की आवाज आ रही थी मेरी कामोत्तेजना इतनी तीव्र हो गयी थी कि मेरा सारा शरीर तप रहा था, मैने उन्माद में अपनी दोनों आँखें बन्द कर रखी थी, मेरा शरीर मछली की तरह तड़प रहा था और मुझे कुछ होश नहीं था                Sasur Ji Ka Mota Lund

जैसे ही ससुर जी का लन्ड मेरी …चूत में जाता,में अपनी कमर उठा कर लन्ड को अन्दर तक समा लेती, लन्ड के हर प्रहार का जबाव में अपने चूतड़ उठा उठा कर दे रही थी। कमरे में मेरे मुँह से उत्तेजना भरी आवाजें गूंज रही थीं,” आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ! उईईईईई………उम्म्म्म्म्म्म्……… ।आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्……… ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्…… चोद ! मुझे ! कस कर ! हाँ ………और तेज ! जोर जोर से चोद मुझे ! अन्दर तक पेल दे अपने लन्ड को ! फ़ाड डाल मेरी चूत को ! बहुत मजा आ रहा है। और चोद , कस कर चोद, सारा लन्ड डाल कर पेल !

मेरी चूत बहुत ही तंग करती है मुझे ! आज इसको शान्त कर दो अपने लन्ड से ! बहुत दिन बाद चूत की खुजली मिट रही है ! हाँ और तेज ! और तेज ! उईईईईईईइ………आआआअहाआअ………उह्ह्ह्ह्ह्ह्… ह्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्……………ओफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्……………हाँ…………” अचानक मेरा पूरा जिस्म अकडने लगा और में झड़ गई इतनी जोर से स्खलित हुई की गर्म गर्म रस से मेरी चुत भर गयी। अभी भी ससुर जी लगातार मुझे तेजी से चोदे जा रहे थे और करीब १५ मिनट तक चोदने के बाद मेरी चुत में ही झड गए! मुझ में अब उठ कर बैठने की भी हिम्मत नहीं थी! ससुर जी ने मुझे गोद में उठाया और बाथरूम में ले गए मुझे जोर का पेसाब लगा था

मैने ससुर जी को कहा आप बाहर जाओ मुझे …पेसाब करना है लेकीन ससुर जी नहीं माने और कहा बहु तेरी चुत से पेसाब निकलता हुआ मुझे देखना है! में शरमा गयी ससुर जी बोले बहु अब क्यों शरमा रही हो और में सर नीचे कर के कमोड पर बैठ कर उनके सामने मूतने लगी और मैने देखा मेरी चुत से पेसाब के साथ खून भी आ रहा था मैने ससुर जी पर नाराजगी दिखाते हुए कहा आपने मेरी चुत फाड दी है देखो खून भी आ रहा है


ससुर जी ने नीचे झुक कर मेरी चुत के दाने पर उंगली रगड़ दी अब मेरी चुत में जोर से खुजली हुई और मैने ससुर जी को देखा उनका हलंबी लंड पुरे जोरो से खडा था एक बार तो में लंड को देखते ही डर गयी लेकीन क्या करती मेरी चुत में भी तो जोरो की खुजली लगी थी अब में बेशरम बन गयी थी ससुर जी के लन्ड को मुह मे ले कर चुसने लगी और देखते ही देखते लन्ड महाराज मेरी पकड़ से बहार होने लगे!

ससुर जी बोले बहु एक बार और चुदाई कर लेने दो मेने चुपचाप लन्ड को चुत के दाने से रगडना शुरु कर दिया मेरी चुत मे तो जेसे आग लगी थी अब ससुर जी ने एक ही झटके पुरा का पुरा लन्ड चुत मे डाल दिया मेरी तो जान ही निकल गई और मेने कहा पापा जी मज़ा आ गया चोदो अपनी बहु को जोर से चोदो! कमोड पर बैठे हुए ससुर जी ने मेरी दोनो टागे अपने कधे पर रखी हुई थी

इस तरह से मेरी गान्ड का भुरा ……छेद साफ़ दिखाई दे रहा था ससुर जी ने चुत से लन्ड निकाला और मेरी गान्ड मे पुरे जोर से अनदर कर दिया मेरी जोरो से चीख निकल गई हाय माँ मर गई! ससुर जी का लन्ड मेरी गान्ड मे पिसटन की तरह चल रहा था! मुझ से बरदाश्त नहीं हुआ और मेरी चुत ने लबालब रस छोड दिया! Sasur Ji Ka Mota Lund

आधे घंटे की घमसान गान्ड चुदाई के बाद ससुर जी ने मेरी गान्ड लन्ड रस से भर दी! अब तो ससुर जी का हलंबी लंड मेरी मुनिया चुत को भा गया था और रोज़ ही रात को चुदाई का खेल होने लगा ! एक रात को मेरी नंनद पूजा ने मेरी चुदाई का खेल देख लिया और मेने पूजा को ससुर जी यानी पूजा के पापा से केसे चुदवाया वो फिर कभी और नंनद भाभी एक साथ चुदाई का मजा लेने लगे

बेटी के साथ सामूहिक चुदाई


 

बेटी के साथ सामूहिक चुदाई

मेरा नाम है माहिरा। मैं २५ साल की हूँ। मेरी शादी अभी पिछले साल ही हुई है। मेरी अम्मी आबिदा खातून हैं वह ४५ साल की हैं और बड़ी मस्त जवान हैं। अपनी बॉडी मैन्टन कर रखी है और वह ३०/३२ साल की ही लगतीं हैं। हां मन से वह २० साल से ज्यादा उम्र की नहीं लगती हैं।
खूब हंसी मजाक करतीं हैं गन्दी गन्दी बातें करतीं हैं और हमारे साथ बैठ कर पोर्न फिल्म देखतीं हैं। फिल्म देखते हुए भी बोलती रहतीं है इसका लण्ड मोटा है उसका पतला है इसकी चूत टाइट है उसकी ढीली हो चुकी है।

ये बुर चोदी चुदवाकर ही जाएगी वगैरह वगैरह ? हमारे साथ मेरी भाभी भी हैं समीना। उसकी शादी दो साल पहले हुई थी पर मेरा भाई विदेश में काम करता है . भाभी यहाँ हमारे साथ ही रहतीं हैं। मैं भी खूबसूरत हूँ और मेरी भाभी भी। हम दोनों के बूब्स बड़े बड़े हैं। चूतड़ उभरे हुए हैं और जांघें मोटी मोटी हैं। इत्तिफाक से हम तीनो ही लण्ड की जबरदस्त शौक़ीन हैं।

मैं १९ साल की उम्र में ही अम्मी से खुल गयी थी।बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया

एक दिन मैं अपनी सहेली से फोन पर बात कर रही थी। मैं बोली – हाय बोल साइमा, माँ की चूत, क्या हो रहा है ? ,,,,,,,,,,,, क्या बात करती है तू ,माँ की चूत, ऐसा भी कहीं होता है। उसने तेरी गांड मार दी और तू खड़ी खड़ी देखती रही, माँ की चूत।

मैं होती तो उसकी माँ चोद देती, माँ की चूत ? ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,? अरे यार मेरी सुन, उसकी गांड में मैं पेल दूँगी लण्ड, माँ की चूत ? ,,,,,,,,,,मेरी माँ की न पूंछो वो तो, लौड़े से, चुदवाती रहती है।,,,,,,,,,,,,? तेरी भी माँ भी यही करती है बाप रे बाप, माँ की चूत ,,,,,,,,,,,,,,,,? कोई बात नहीं मैं सब ठीक कर दूँगी माँ की चूत। अम्मी ने मुझे सुन लिया उसे पक्का यकीन हो गया की मेरा तकिया कलाम है माँ की चूत।

एक दिन मैं अपने दोस्त को चुपके से घर ले आयी। मैं समझी की अम्मी घर पर नहीं हैं। मैं उसे नंगा करके उसका लण्ड हिलाने लगी। फिर मैं भी नंगी हो गयी। वह मेरी चूँचियाँ और चूत सहलाने लगा। मुझे मस्ती चढ़ गयी तो मैं जबान निकाल कर लण्ड चाटने लगी। इतने में अम्मी आ गयी। उसे देख कर मेरी तो गांड फट गयी। उसका लण्ड सिकुड़ गया।

पर अम्मी मुस्कराते हुए बोली हाय दईया तू इतनी बड़ी हो गयी है भोसड़ी की अभी तक ठीक से लण्ड चाटना भी नहीं जानती ? मैं बताती हूँ, लौड़े से, की कैसे चाटा जाता है लण्ड ? इतनी बड़ी बड़ी चूँचियाँ और गांड लिए घूम रही है तू, लौड़े से, और इतने दिनों के बाद आज एक लौड़ा तुझे मिला है, लौड़े से ?

अभी तक क्या तू अपनी माँ चुदा रही थी ? मुझे देख मैं लण्ड चाट कर बताती हूँ तुझे की कैसे चाटा जाता है लण्ड ? अम्मी लण्ड चाटने लगीं। फिर अम्मी ने उससे पूंछा बेटा मेरी बिटिया की बुर लेते हो ? वह कुछ बोला नहीं। तब अम्मी ने कहा कोई बात नहीं बेटा, आज पहले मेरी बिटिया की बुर ले लो फिर उसकी माँ का भोसड़ा चोद लेना ?बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया

तेरी बेटी की माँ चोदूँगी सासू जी

तेरी माँ की चूत, बहन का लण्ड

ऐसा बोल कर अम्मी ने लण्ड मेरे मुंह में घुसा दिया। मैं लण्ड चूसने लगी। अम्मी मुझसे इतना ज्यादा खुल जायेगीं यह मुझे नहीं मालूम था। अम्मी ने फिर आहिस्ते से लण्ड मेरी चूत में पेल ही दिया। मैं पहले चिल्लाई तो लेकिन फिर मजे से चुदवाने लगी। थोड़ी देर बाद अम्मी ने भी लण्ड पेल लिया अपनी चूत बोली देख माहिरा ऐसे चुदवाई जाती है बुर ? अब उसे क्या मालूम की मैं कई बार कई लड़कों से चुदवा चुकी हूँ। आज से तू अपनी बुर क्या अपनी माँ का भोसड़ा भी चुदाना सीख ले ? मैंने मन में कहा अब आएगा जवानी का असली मज़ा ?

अम्मी कुछ ज्यादा ही मस्ती में थीं। वह बोली माहिरा तेरी माँ की चूत बहन चोद आ गया न तुझे माँ चुदाना ? मैंने कहा हां आबिदा खातून भोसड़ी की तुझे भी आ गया बिटिया की बुर चुदाना। वह मेरे मुंह से गालियां सुनकर बहुत खुश हुई और मेरे गाल थपथपाकर बोली हां बेटी इसी तरह लिया जाता है चुदाई का पूरा पूरा मज़ा ?

एक दिन मैं जेसिका आंटी के घर चली गयी, माँ की चूत ? मैंने कहा अम्मी अरे वह तो बड़ी मजेदार हैं और बड़ी गहरी मजाक करतीं है, माँ की चूत ? अम्मी ने कहा – तुझे मालूम नहीं है लौड़े से की जेसिका बुर चोदी सेक्स की बहुत बड़ी खिलाड़ी है। उसकी बेटी भी उसका साथ देती है। जेसिका लण्ड अपनी बेटी की चूत में दानादन्न घुसेड़ती है और उसकी बेटी भी अपनी माँ के भोसड़ा में एक के एक बाद ठोंकती जाती है। दोनों खूब खुलकर गली गलौज करती है और खूब एन्जॉय करतीं हैं। मैंने मन में कहा एक मैं ही नहीं हूँ माँ चुदाने वाली बेटी और भी हैं बेटियां हैं जो अपनी माँ चुदवाती हैं।बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया

मेरी समीना भाभी बड़ी मजेदार भी हैं और खूबसूरत भी। एक दिन हम तीनो बैठी हुई बातें कर रहीं थी। मेरे मुंहसे निकला अरे समीना भाभी तुम तो बहुत शर्माती हो ? शरमाओगी तो फिर लण्ड का मज़ा कैसे ले पाओगी ? वह बोली हाय दईया नन्द रानी मैं लण्ड किसी ने नहीं शर्माती।

मैं तो सबके लण्ड से बड़ी मोहब्बत करती हूँ। मैं जब कॉलेज में थी तो खूब लण्ड पकड़ा करती थी। घर में लोगों के लण्ड पकड़ती थी। सबसे पहले मैंने मामू लण्ड पकड़ा फिर उसके दोस्त का लण्ड पकड़ा और एक दिन मैंने खालू का लण्ड पकड़ लिया।

इसी तरह एक दिन जीजू का लण्ड भी मेरे हाथ लग गया। मैं तो दिन रात लण्ड के सपने देखती थी और आज भी देखती हूँ। इसीलिए मुझे ‘लण्ड’ कहने की आदत पड़ गयी। मैंने मजाक में कहा समीना भाभी कभी अपनी माँ के भोसड़ा में लण्ड पेला तुमने ? वह बोली हां बिलकुल पेला।बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया

भाभी ने बताया की एक दिन की बात है। मैं जब कमरे में घुसी तो देखा की अम्मी पड़ोस के शब्बीर अंकल के पैजामे में हाथ डाल कर उसका लण्ड हिला रहीं हैं।

मैं वहां से घूम कर जाने लगी तो अम्मी ने कहा अरी भोसड़ी की समीना इधर आ तेरी माँ की चूत ? इतना शरमायेगी तो जवानी का मज़ा कैसे ले पायेगी ? इधर आ मरे पास। मैं जब पास में गयी तो अम्मी ने लण्ड बाहर निकाल लिया और मुझे लण्ड दिखाते हुए बोली लो बेटी समीना अंकल का लण्ड चाटो ?

अंकल का लंबा चौड़ा लण्ड देख कर मैं भी ललचा गयी। मेरा हाथ अपने आप बढ़ गया और मैं लण्ड पकड़ कर हिलाने लगी। लण्ड बहन चोद और सख्त हो गया। अम्मी ने पूंछा कैसा लगा लण्ड तुम्हे समीना ? मैंने कहा अम्मी ये तो बिलकुल खालू के लण्ड की तरह है। अम्मी ने कहा हाय दईया तो तू बुर चोदी खालू का लण्ड चूसती है। तेरे खालू का लण्ड खड़ा होने पर थोड़ा टेढ़ा हो जाता है न समीना।

मैंने कहा हां अम्मी तुम ठीक कह रही हो। वह बोली जानती हो समीना तेरा खालू तेरी माँ का भोसड़ा चोदता है। मैंने भी जोश में आकर कह दिया अम्मी मेरा खालू तेरी बिटिया की भी बुर लेता है। अम्मी ने मेरा गाल चूम लिया और बोली कोई बात नहीं बेटी ये चूत बुर चोदी चुदवाने के लिए ही होती है।

एक दिन समीना भाभी जाने किस मूड में थीं।

वह आई और बोली :- माहिरा, तेरी माँ की चूत, तेरी भाभी की बुर ?

मैं भी मूड में आ गयी तो मैने भी जबाब दे दिया।

मैंने कहा :- भाभी, तेरी नन्द की बुर, तेरी सास का भोसड़ा ? तब तक मेरी अम्मी भी आ गयी।

वह बोली :- बहू, तेरी नन्द की माँ का भोसड़ा, तेरी तेरी माँ की बिटिया की बुर ?

फिर हम सब बड़ी जोर से हंसने लगीं।बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया

उसी दिन शाम को मेरा ससुर आ गया और भाभी का जीजा भी। मैंने कहा हाय दईया लो दो लण्ड का

इन्तज़ाम हो गया है। आज मैं अपनी भाभी की बुर तो चोद लूंगी और चोद लूंगी उसकी सास का भोसड़ा ? तब तक भाभी बोली नहीं मैं चोदूँगी अपनी सास का भोसड़ा और अपनी नन्द की बुर ?

अम्मी ने कहा हाय दईया तुम सब लोग ऐसा क्यों कह रही हूँ। फिर तो मैं भी चोदूँगी बिटिया की बुर और बहू की चूत ? लेकिन तुम लोग परेशान न हो मैंने फ़ोन कर दिया है और आज ही मेरा देवर दुबई से आ रहा है। वो चोदेगा तुम दोनों की चूत ? तब आएगा चुदाई का घनघोर मज़ा ?

कुछ देर बाद सब लोग इकठ्ठा हो गये। मेरा ससुर तस्कीम आ गया उधर भाभी का जीजू सकीब मियां भी आ गया। मैं दोनों को जानती थी लेकिन लण्ड इनमे से किसी का नहीं जानती थी। मेरी इच्छा बढ़ने लगी की जल्दी से जल्दी इनके लण्ड पकड़ कर देखूं। तभी किसी ने घंटी बजा दी। अम्मी ने दरवाजा खोला और बोली हाय उस्मान आ जा जल्दी से हम लोग तेरा ही इंतज़ार कर रहीं हैं।

अम्मी ने उसे हम सबसे मिलवाया। मैं तो समझती थी की कोई ४५/५० साल का आदमी होगा पर वह तो मस्त जवान लड़का निकला उम्र शायद २५/२६ के लगभग होगी। मेरे दिल की धड़कने बढ़ने लगीं। यही हाल भाभी जान भी था। अम्मी ने फटाफट ड्रिंक्स का इंतज़ाम कर दिया और हम लोग मस्ती से दारू का मज़ा लेने लगे।

चुदाई के खेल के पहले अगर थोड़ा नशा वगैरह कर लिया जाये तो चुदाई एक मज़ा दुगुना हो जाता है।अब जब हमें अय्यासी करनी है तो फिर अच्छी तरह क्यों न की जाए ? दारू चालू हो गयी और नशा भी चढाने लगा। मस्तियाँ भी छाने लगीं और दिमाग में खुराफात भी चलने लगी। मेरी नज़र ससुर के लण्ड पर जैम गयी।

मैं सोंचने लगी की इसका लण्ड कैसा होगा, कितना बड़ा होगा, कितना मोटा होगा, कैसे चोदता होगा। मैंने कभी उसका लण्ड न देखा और मन पकड़ा ? मैंने फिर सोंचा की आज तो मौक़ा है। आज तो मुझे चूकना नहीं चाहिए। बस मैं ससुर के पैजामे का नाड़ा बड़े प्यार से खोलने लगी। उसने कोई ऐतराज़ नहीं किया। किसी ने कुछ कहा नहीं। बस मैंने हाथ अंदर घुसेड़ दिया। तब भाभी ने भी अपने जीजू के पैजामे के अंदर हाथ घुसेड़ दिया।

मैं तो बड़ी बेशर्मी से ससुर का लण्ड अंदर ही अंदर सहलाने लगी। लण्ड बहन चोद खड़ा होने लगा। तब मुझे अहसास हुआ की लण्ड बड़ा जबरदस्त है।बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया

सबसे पहले मैंने ही ससुर का लण्ड बाहर निकाल लिया, उसका सुपाड़ा चूमा और अम्मी को लण्ड दिखाते हुए बोली लो अम्मी मेरे ससुर का लण्ड पियो। अम्मी ने मुस्कराकर लण्ड मेरे हाथ से ले लिया। तब तक भाभी बोली अरे मेरी बुर चोदी नन्द रानी लो तुम मेरे जीजू का लण्ड पियो ? उधर अम्मी ने बहू को अपने पास इशारे से बुलाया और कहा बहू ले तू पी ले मेरे देवर का लण्ड ? ये भोसड़ा का तेरा ससुर ही है। फिर एक एक करके हम तीनो ने अपने अपने कपड़े खोल डाले और एकदम नंगी हो गयीं तो महफ़िल में आग लग गयी।

उधर मरद भी मादर चोद तीन के तीनो एकदम नंगे हो गए और उनके लण्ड टन टनाने लगे। अम्मी को मेरे ससुर का लण्ड पसंद आ गया। पसंद तो मुझे भी आ गया पर मैं चाहती हूँ की पहले वह मेरी माँ चोद ले फिर मुझे चोदे। मैं तो भाभी के जीजू के लण्ड में खो गयी। सकीब के लण्ड से मुझे भी मोहब्बत होने लगी। मैं जबान निकाल कर लण्ड का टोपा चाटने लगी। भी मस्ती से उस्मान का लौड़ा हिला हिला आकर पहले तो बड़ी देर तक देखतीं रहीं और फिर उसे मुंह में घुसेड़ कर चूसने लगीं।

एक ज़माना था की जब की मरद का लण्ड खड़ा होते ही चूत में घुस जाता था और वह थोड़ी देर तक चोद चाद कर झड़ जाता था। पर अब ज़माना बदल गया है। अब तो लण्ड खड़ा होते ही लड़कियों के मुंह खुल जातें हैं। लण्ड सीधे मुंह में घुस जाता है या यूँ कहें की लड़कियां सबसे पहले लण्ड मुँह में लेतीं हैं फिर कर कहीं। आजकल तो लण्ड चाटने, लण्ड चूसने का और लण्ड पीने का समय है।

झड़ता हुआ लण्ड पीना और मुठ्ठ मार कर लण्ड पीना आजकल का फैसन हैं।

थोड़ी देर में अम्मी ने लण्ड अपने भोसड़ा में घुसा लिया और यह भकाभक चुदवाने लगीं। अम्मी तो वास्तव में चुदवाने में बड़ी बेशर्म है। हम दोनों भी बेशर्म हो गयीं। मैंने भी सकीब का लण्ड घुसेड़ा अपनी चूत में और गचागच चुदवाने लगी। अब तक तो मुझे चुदवाने का अच्छा ख़ासा तज़ुर्बा हो चुका था। मेरी समीना तो ऐसे चुदवाने लगीं जैसे की वह एक मंजी हुई रंडी हों।

अम्मी को मस्ती सूझी तो वह बोली ;- हाय बुर चोदी समीना तू बहन चोद अपनी नन्द की माँ चुदवा रही है।

समीना भाभी बोली :- हां सासू जी मुझे अपनी नन्द की माँ चुदाने में मज़ा आ रहा है पर तू भी तो अपनी बिटिया की भाभी की बुर चुदवा रही है, हरामजादी।

मैंने कहा :- अरे भाभी तेरी सास भोसड़ी की अपनी बिटिया की बुर देखो न कितनी शिद्दत से चुदवा रही है और तेरी नन्द की बुर में लौड़ा घुसेड़ने के लिए कितनी बेताब हो रही है ? इसकी तो बहन की बुर ?

अम्मी ने फिर कहा – बहू, तेरी नन्द की बुर चोदी बुर बहुत टाइट है इसमें कोई मोटा लण्ड पेलना ?

इसी तरह की मस्ती करती हूँ हम तीनो धकापेल ऊपर से नीचे तक आगे से पीछे तक चुदवाने में लगीं थीं। अचानक लण्ड की अदला बदली होने लगी। मेरे ससुर ने अम्मी की बुर से लण्ड निकाल कर भाभी की बूर में घुसा दिया। उस्मान ने भाभी की बुर से लण्ड निकाल कर मेरी चूत में घुसेड़ दिया। सकीब ने अपना लण्ड मेरी चूत से निकाल कर अम्मी के भोसड़ा में ठोंक दिया। लण्ड बदलते ही चुदाई का मज़ा दूना हो गया।

एक दिन मेरी खाला जान आ गयी। उसकी शादी शुदा बेटी भी उसके साथ थी। रात को खूब झमाझम बातें हुईं। मैंने भी खूब खुल कर बातें की और अपनी कहानी सुनाई। अम्मी ने भी कुछ छुपाया नहीं और मेरी भाभी जान भी खुल कर बोलीं।बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया

तभी उसकी बेटी बोली :- अरे यार माहिरा, यह सब तो मेरे घर मे भी होता है। एक दिन मेरा अब्बू मेरी ससुराल आया और मेरी नन्द की बुर में रात भर लण्ड पेला। सवेरे जब वह जाने लगा तो नन्द बोली अरे अंकल कहाँ जा रहे हो ? आज तो मेरी माँ चोदो। मुझे चोदा है तो मेरी माँ चोद कर जाओ न प्लीज। उधर मेरा ससुर भोसड़ी का बड़ा हरामी है।

एक दिन लण्ड खोल कर मेरे सामने खड़ा हो गया बोला बहू एक बार इसे भी पकड़ कर देख लो न ? अच्छा लगे तो आगे भी पकड़ती रहना ? उसका साला ८” लण्ड देख कर मेरे मुंह में पानी आ गया। लण्ड का सुपाड़ा साला तोप का गोला लग रहा था। फिर क्या मैंने पकड़ ही लिया। उस दिन मैंने जब उससे चुदवाया तो पता चला की बड़ी लोगों से चुदवाने में कितना मज़ा आता है।

इस तरह एक बार हमने खाला और उसकी बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया। खाला भी बहुत बड़ी चुड़क्कड़ औरत हैं।

कहा :- खाला जान तेरी बहन का भोसड़ा ? तू तो बिलकुल हम लोगों जैसी ही है।

वह बोली :- माहिरा, तेरी माँ की बिटिया की बुर ? तेरी खाला की बेटी भी बहन चोद लण्ड की बड़ी शौक़ीन है। जाने कहाँ कहाँ के लण्ड अपनी माँ की चूत में घुसेड़ा करती है ?

तब तक उसकी बेटी बोली :- अरे यार माहिरा तेरी खाला भी भोसड़ी वाली एक से एक बेहतर लण्ड अपनी बेटी की चूत में पेलती है ? बड़ी हरामजादी है तेरी खाला और तेरी खाला का भोसड़ा ?

इस मस्ती का रिजल्ट यह है की पिछले कई सालों से हमारे घर में कोई परेशानी नहीं है। कभी कोई बीमार नहीं हुआ और कभी किसी डॉक्टर की जरुरत नहीं पड़ी।

नई बहू ने ससुर का गधे जैसा मोटा लंड लिया अपनी कुंवारी चूत में

नई बहू ने ससुर का गधे जैसा मोटा लंड लिया अपनी कुंवारी चूत में


ससुरजी का बुड्ढा लंड जवानों के लंड से भी बेहतरीन था वो कहते हैं ना "पुराने देसी घी और पिशौरी बादाम खाए हुए थे शमशेर सिंह ने अपने भतीजे रणधीर सिंह की शादी एक ऐसी लौंडिया से करवाई, जो कमाल की हसीना थी। लौंडिया का नाम बता देना सही रहेगा, उस हसीना जिसकी गरमागरम जवानी कमाल की थी, उसका नाम था बबिता।

नई बहू ने ससुर का गधे जैसा मोटा लंड लिया अपनी कुंवारी चूत में

जब बबिता अपने दूल्हे-राजा के घर आई तो उसके सपने काफ़ी रंगीन थे, वो अपने साथ बालीवुड के हीरो और हिरोइनों की तस्वीरें लेकर आई, लौंडिया को चुदाई और सेक्स के रंगीन ख्वाबों ने घेर रखा था।

हो भी क्यों न ! आखिर उसका हुस्न लाखों में एक था ! वह थी भी एक माल जैसा पीस।

मैं आपको जरा उसकी जवानी का नक्शा बता दूँ- कुछ लहलहाते हुए धान के खेतों के रंग का सुनहरा सा रूप, सावन-भादों के काले बादलों जैसे घने बाल और उनके नीचे सुराहीदार गरदन। चूचियों का विवरण देने के लिये शब्द नहीं हैं, लेकिन इतना तय है कि इन कुवाँरी चूचियों को देखकर बड़े से लेकर बुड्डे तक सबका दिमाग, इन्हें पीने को बेताब हो जाता था। ये मयखाने थे, जो अब तक किसी ने चखे नहीं थे।

शमशेर सिंह ने अपने भतीजे रणधीर सिंह की शादी करके उसके लिये एक खूबसूरत कामुक गरमा-गर्म बहू के रूप में अपने मतलब का माल ले आये थे।

शमशेर सिंह रिटायर्ड टीचर हैं और उनका लंड बड़ा ही घातक और प्रचंड है। उस पर तुर्रा यह कि उनकी बीवी की चूत एकदम सड़े हुए पपीते की तरह नाकाम हो चली है।

अब काम कैसे चलेगा, तो शमशेर सिंह ने अपने भतीजे की शादी एक गरीब बाप की खबसूरत बेटी से तय कर दी थी।

दुल्हन अपने पिया के घर आई, चुदाई के रंगीन सपने लिये। सुहागरात का नजारा, चलने से पहले बता दें कि रणधीर सिंह जी बड़े ही दुबले-पतले लंड वाले और हिले हुए पुर्जे टाइप के इंसान थे, जिनके बस का किसी गांड को मारना या, चूत की सील तोड़ना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन था।

सुहागरात की रात शमशेर सिंह ने यह नजारा देखने के लिये एक बड़ा ही चौकस जुगाड़ किया और जैसा कि पहले से ही सब तय था कि खुद का कमरा और सुहागरात वाला कमरा आजू-बाजू ही थे और एक ही दीवार दोनों को अलग करती थी। एक खिड़की थी जो सुहागरात वाले कमरे में झांकने का रास्ता थी। उसे उसने पहले से ही थोड़ा हिला-हिला के झिर्रीदार बना दिया था।

जैसे ही चूत की कहानी शुरु होती, शमशेर सिंह ने अपनी आँखें खिड़की से लगा दीं। रणधीर सिंह हिलते हुए अपनी दुल्हन के सामने खड़ा था, वो नीचे देख रही थी और वो ऊपर देख रहा था। कौन किसको चोदने वाला है, यही समझ नहीं आ रहा था लेकिन दुल्हन ने पहल की।

वो समझ गई थी कि ये लौंडा एकदम बकचोदू है और चिकलांडू है क्योंकि सामने चूत का मौका देख कर कोई बकलँड ही इस तरह कांप सकता है।

शमशेर सिंह को खिड़की से यह दृश्य दिखाई दे रहा था और उनका लंड धोती के अंदर डिस्को भांगड़ा करने लगा था। उन्होंने आंखें गड़ा दीं।

बहू ने रणधीर सिंह की शेरवानी खोल दी और पजामे का नाड़ा जल्दी में खींच के तोड़ डाला। कहानी उल्टी चल रही थी और शमशेर सिंह इतनी गर्म बहू देख कर एकदम बाग-बाग थे क्योंकि वो जान गये थे कि इतनी गर्म और कामुक बहू इस नादान और नामर्द लौंडे से संभलने वाली नहीं है, इसीलिए तो उन्होंने इसकी जल्दी ही शादी करवा दी थी।

बहू ने रणधीर सिंह को पूरा नंगा कर दिया। आज वो अपना हक अपने मर्द से छीन लेने वाली थी कि अपने पति का ‘टिंगू-लंड’ देख कर उसका दिल बैठ गया। एकदम दो इंच का लंड था और खड़ा होकर साढे तीन इंच का हो गया था। इसे तो चूसा भी नही जा सकता, हद है भई !

रणधीर सिंह जी हांफ़ रहे थे, दुल्हन के इस गर्मागर्म रूप को देख कर। उसने रणधीर सिंह को पटक कर उनके मुँह पर अपनी चूत रख दी और रणधीर सिंह की सांसें फ़ूलने लगीं

;साले लंड में नहीं था गूदा तो लंका में काहे कूदा !' गाली देते हुए बोली- काहे तेरे मास्टर चाचा ने मेरी शादी तेरे से की ! मादरचोद ले, अब चूस मेरी चूत और सुबह उस धोती वाले की धोती में आग लगा न दी तो मेरा नाम बबिता नहीं।

लगभग आधा घंटा अपनी चूत और गांड उसके मुँह पर रगड़ने के बाद उसने लाईट आफ़ कर दी और अपनी चूत पसार कर सोने चली गई।

शमशेर सिंह का दिल बागम-बाग हो गया, लंड को तेल लगा कर उन्होंने मोटा और नुकीला किया और अपनी धोती खोल कर सहलाते हुए सो गये। बहुत जल्दी सीन में उन्हें एंट्री मारते हुए अपनी बहू को कब्जा लेना था। सुहागरात में अपने भतीजे रणधीर सिंह का नाकाम फ़्लाप शो देख कर खुश हुआ कि अब तो मेरे लंड को चौका मारने का मौका मिलना तय ही है।

सुबह उसने अपने भतीजे रणधीर सिंह को किसी काम से 6-7 दिनों के लिये बाहर भेज दिया। अब घर में अकेले बहू बबिता और खूसट ठरकी बुढ़ऊ शमशेरसिंह ही बचे थे। खाना परोसते समय बहू का आँचल सरक गया, उसके ब्लाउज का मुँह बड़ा चौड़ा था, तो उजली चूचियों शमशेर सिंह के नजरों में चमक गईं। शायद यह बबिता की सोची समझी चाल थी। शाम को शौच के लिये उसे बाहर जाना था, खुले में।

बहू को डर लगा तो शमशेर सिंह के पास आई और पूछा- चाचाजी, मुझे बाहर जाना है, दो नम्बर के लिये ! लेकिन पहली बार इस गांव में निकलते हुए डर लग रहा है।

बुढ़ऊ का दिल बाग-बाग हो गया और उसने कहा- चिन्ता ना कर बहू, घर की चारदीवारी में ही खुले में इसी काम के लिए गड्डा बना रखा है, चली जा। मैं छत पर ही रहूँगा, कोई डरने की बात नहीं है।

बबिता चली गई और बुड्डा छत पर से उसे टट्टी करते देखता रहा। अचानक दोनों की नजरें मिल गईं। बबिता ने अपनी चूत पर टार्च जला कर बुड्डे को अपनी झांट वाली ‘बम्बाट’ बुर दिखा ही दी।

वहीं छत पर खड़े-खड़े बुड्डे की धोती में आग लग गई, लंड खड़ा होने लगा और बुड्डे शमशेर ने अपना सुपारा हाथ में लेकर रगड़ना शुरु कर दिया। अब वह चूत का मैदान मारने की तैयारी कर चुका था। जैसे ही बबिता अंदर आई, दरवाजे पर ही उसने उसे दबोच लिया।

वो बोली- अरे पापा जी रुकिये, गांड तो धो लेने दीजिए अभी टट्टी लगी है उसमें, इतने बेसबरे मत होइये।

शमशेर तुरंत हैंड्पंप के पास जाकर पानी चलाने लगा और बबिता ने लोटे से पानी लेकर अपनी गांड उस बुड्डे के सामने ही छप्पाक-छ्प्पाक धो डाली।

कहानी बुड्डे के अनुसार ही चल रही थी। बूढ़े को अपनी बहू की बड़ी गांड का छोटा छेद बड़ा प्यारा और नाजनीन लगा। वह समझ गया कि यही है मेरे लंड का अंतिम डेस्टिनेशन !

बबिता के खड़े होते ही शमशेर ससुर ने उसे दबोच लिया और उसकी साड़ी वहीं आंगन में ही खोलने लगा। घर में कोई नहीं था, चांदनी रात में भतीज-बहू का चीर-हरण, और दूधिया जवानी, दोनों का मेल गजब का था।

सारे कपड़े खोल बुड्डे ने बबिता के बड़ी चूचियों पर सबसे पहले मुँह मारा।

जैसे ही उसने मुँह मारा, बबिता गाली देने लगी- पी ले अपनी माँ के चूचे... बहनचोद बुड्डे ! कर दी शादी तूने मेरी नामर्द गांडू से?

शमशेर ने कहा- तो कोई बात नहीं बेटी, ये ले बदले में मेरा हल्लबी लौड़ा.. किसी भी जवान से ज्यादा सख्त और बुलंद है।

अपना लंड पकड़ कर वो खड़ा रहा और बबिता नीचे बैठ गई। लंड के सुपारे से चमड़े की टोपी हटा उसने लंड को सूंघा तो उसे उस गंध से समझ में आ गया कि यह पुराना चावल काफ़ी मजेदार है।

अपने मुँह में ढेर सारा थूक लेकर उसने लंड के ऊपर थूक दिया। मुँह में पेलने को बुड्डा बेताब हो रहा था लेकिन बबिता को अपनी ‘हायजीन’ का पूरा ख्याल था। उसने लंड को थूक से धोने के बाद उस थूक से लंड की मसाज चालू कर दी। बुढ़ऊ शमशेर गाली बक रहा था- हाय मादरचोद, मार डालेगी क्या ! साली जल्दी से मुँह में डाल ! इतना रगड़ती क्यों है... तेरी माँ का लौड़ा !! उफ़्फ़ चूस ना, चूस ना !

बबिता ने अधीरता नहीं दिखाई और आराम से लंड को थूक कर चाटती रही। जब पूरा लंड साफ़ चकाचक हो गया, अपने मुँह का रास्ता उस लंड को दिखा दिया। अब बुड्डे के लंड ने मुँह को चूत समझ लिया और उसमें अपना लंड किसी एक्सप्रेस की तरह घुसम-घुसाई करने लगा।

"आह… आह… ले… ले… ये ले… मादरचोद… तुम्हारा ससुर अभी जवान है... ये ले चूस तेरी माँ का लौड़ा।"

बबिता एकदम अवाक थी अपने बुड्डे ससुर की ‘परफ़ार्मेंस’ से। उसने अपना गला फ़ड़वाने की बजाय रात की प्यासी चूत की चुदास बुझाना बेहतर समझा।

अब बुड्डे का सपना सच हो गया था। बहू चोद ससुर शमशेर सिंह ने अपनी बहू बबिता को चोदने की सेटिंग कर ली। अब आप देखेंगे उन दोनों की चुदाई का भयंकर नजारा।

बबिता ने तुरंत उसका लंड ऐंठ कर शमशेर सिंह को नीचे गिरा दिया। बुड्डा अपनी बहू के इस कदम से भौंचक्का रह गया, लेकिन यह काम बबिता ने उसके अंदर गुस्सा जगाने के लिये किया था जिससे कि वह बदले की भावना से जबरदस्त पेल सके।

बुड्डे ने अपनी धोती खोल फ़ेंकी, उसके अंडकोष किसी पपीते की तरह आधा-आधा किलो के थे। बबिता को पटक कर उसने अपना अंडकोष उसके मुँह में दे डाले, कहा- ले चूस बहू, बहुत कलाकार है तू बे मादरचोद साली, लाया था बहू, निकली रंडी। अब तो मेरा काम सैट कर देगी तू !

बबिता ने उस अन्डकोष को शरीफ़ा की तरह अपनी जीभ से कुरेदना जारी रखा। बुड्डा अपने मोटे लंबे लंड से चूत उसके बड़े चूचों की पिटाई कर रहा था और अपनी ऊँगलियाँ उसकी झांटों पर फ़िरा रहा था।

जब पूरे अंडकोष पर उसने अपनी जीभ फ़िरा चुकी तो बुड्डे ने अपनी गांड का छेद अपनी बहू के मुँह पर रख दिया।

"ले कर रिम-जॉब !"

बुड्डा वाकई चोदूमल था, उसे रिम-जाब मतलब कि गांड को चटवाने की कला भी आती थी और वो इसका रस खूब लेता रहा था। वाकयी में जब भी वो सोना-गाछी जाता रंडियाँ उसे नया-नया तरीका सिखातीं और अब तो वह अपने घर में ही परमानेंट रंडी ले आया था।

बबिता ने उसकी गांड को चाट कर उसमें एक उंगली करनी शुरु कर दी। बुढ्ढा पगला गया, उसने तपाक बहू की झांटें पकड़ी और ‘चर्र’ से एक मुठ्ठी उखाड़ लीं।

"हाय !! मादरचोद बुड्डे !! तुझको अभी देखती हूँ !"

बबिता ने बदले में पूरी उंगली उसकी गांड में घुसेड़ कर कहा- मादरचोद पेलेगा नहीं सिर्फ खेलेगा ही क्या बे?

कहानी मजेदार होती जा रही थी। अब बुढ़ऊ की मर्दानगी जग चुकी थी, भयंकर रूप लिये बरसों से चूत के प्यासे मोटे लंबे लंड को, उसने अपनी प्यारी बहू की मुलायम चिकनी चूत में डाल देने का फ़ैसला कर लिया था।

उसने बबिता की टाँगें खोल दीं और अपनी उंगलियों से चूत का दरवाजा खोला।

बबिता मारे उत्तेजना के गालियाँ बक रही थी। वो खेली-खाई माल थी। बुड्ढे ने अपने लंड के सुपारे को चूत के मुहाने पर छोटे से छेद की बाहरी दीवार वाली लाल-लाल पंखुड़ी पर घिसना चालू किया।

बबिता की सिसकारियाँ गहरी होती चली जा रही थीं। ससुर शमशेर ने उसकी बाहर की ‘मेजोरा- लीबिया’ मतलब कि चूत की बाहरी दीवाल को ऐसे खींच रखा था, जैसे टीचर किसी छोटे बच्चे का कान खींच के सजा दे रहा हो। माहौल एकदम गर्म हो चुका था।दोनों तरफ़ की दीवालों को रगड़ने के बाद बुड्ढे ने अपना लंड का मुँह बबिता के थूक से दोबारा गीला करने के लिये बबिता के मुँह में हाथ डाल ढेर सारा थूक बटोरा और फ़िर अपने लंड के मुहाने पर लगा और अपना थूक उसकी चूत में चारों तरफ़ घिस कर अपना लंड धंसाना शुरु कर दिया।

बबिता की आँखें नाचने लगीं थी। उसकी कहानी ससुर के लंड से लिखी जा रही थी और वाकयी ससुर शमशेर का बुड्ढा लंड जवानों के लंड से भी बेहतरीन था वो कहते हैं ना "पुराने देसी घी और पिशौरी बादाम खाए हुए थे !"

वो रुका नहीं और चूत के पेंदे पर जाकर सीधा टक्कर मारी, बबिता चिल्लाई- अई माँ ! मर गई प्लीज पापा रुकिये ना !

लेकिन नहीं... शमशेर सिंह को चुदास चढ़ चुकी थी और सालों बाद कोई करारा माल और उसकी चूत की कहानी लिखने का मौका मिला था। लंड नुकीला करके उन्होंने उस चूत का सत्यानाश करना शुरु कर दिया था और फ़िर उसके सुनामी छाप धक्कों से चूत की दीवालें तहस-नहस हो रही थीं।

बबिता अध-बेहोश हो चली थी और शमशेर ने उसे पलट कर पेट के बल लिटा दिया। अब उसकी गांड फ़टने वाली थी, दो उंगलियों से पकड़कर उसकी गांड खोल दी शमशेर ने और अपनी जीभ अंदर डाल दी। ताजा-ताजा धुली गांड खूश्बूदार थी। गांड को गीला कर के ढेर सारा थूक अंदर कर दिया, गांड तैयार थी।

उसने अपना मोटा लंड एक ही बार में अंदर कर दिया और बबिता चिल्लाई- बचाओ !!

लेकिन कोई फ़ायदा नहीं। उसकी गांड खुल चुकी थी और लंड उसे छेदते हुए अंदर था। आधे घंटे तक यह गांड मारने के बाद शमशेर सिंह ने अपना वीर्य उसके पिछवाड़े पर निकाल कर लंड को चूचों में पोंछ दिया।

रात में यह कार्यक्रम तीन-चार बार उस खुली चांदनी में फ़िर चला। ससुर और बहू की यह कहानी अनवरत चुदाई के साथ चलती रही।

सगी बहन अपने भाई से बारिश मैं चुदी

सगी बहन अपने भाई से बारिश मैं चुदी, sagi bahan apne bhai se barish me chudi


मैं एक प्राईवेट स्कूल में पढ़ाती हूँ। उसका एक बड़ा कारण है कि एक तो स्कूल कम समय के लिये लगता है और इसमें छुट्टियाँ खूब मिलती हैं। बी एड के बाद मैं तब से इसी टीचर की जॉब में हूँ। हाँ बड़े शहर में रहने के कारण मेरे घर पर बहुत से जान पहचान वाले आकर ठहर जाते हैं खास कर मेरे अपने गांव के लोग। इससे उनका होटल में ठहरने का खर्चा, खाने पीने का खर्चा भी बच जाता है। वो लोग यह खर्चा मेरे घर में फ़ल सब्जी लाने में व्यय करते हैं। एक मल्टी स्टोरी बिल्डिंग में मेरे पास दो कमरो का सेट है।

जैसे कि खाली घर भूतों का डेरा होता है वैसे ही खाली दिमाग भी शैतान का घर होता है। बस जब घर में मैं अकेली होती हूँ तो कम्प्यूटर में मुझे सेक्स साईट देखना अच्छा लगता है। उसमें कई सेक्सी क्लिप होते है चुदाई के, शीमेल्स के क्लिप... लेस्बियन के क्लिप... कितना समय कट जाता है मालूम ही नहीं पड़ता है। कभी कभी तो रात के बारह तक बज जाते हैं।

मेरा दिल किसी ने बाहर निकाल कर रख दिया हो। इन दिनों मैं एक मोटी मोमबती ले आई थी। बड़े जतन से मैंने उसे चाकू से काट कर उसका अग्र भाग सुपारे की तरह से गोल बना दिया था। फिर उस पर कन्डोम चढ़ा कर मैं बहुत उत्तेजित होने पर अपनी चूत में पिरो लेती थी। पहले तो बहुत कठोर लगता था। पर धीरे धीरे उसने मेरी चूत के पट खोल दिये थे। मेरी चूत की झिल्ली इन्हीं सभी कारनामों की भेंट चढ़ गई थी।

फिर मैं कभी कभी उसका इस्तेमाल अपनी गाण्ड के छेद पर भी कर लेती थी। मैं तेल लगा कर उससे अपनी गाण्ड भी मार लिया करती थी। फिर एक दिन मैं बहुत मोटी मोमबत्ती भी ले आई। वो भी मुझे अब तो भली लगने लगी थी। पर मुझे अधिकतर इन कामों में अधिक आनन्द नहीं आता था। बस पत्थर की तरह से मुझे चोट भी लग जाती थी।

उन्हीं दिनों मेरे गांव से मेरा भाई भोंदू किसी इन्टरव्यू के सिलसिले में आया। उसकी पहले तो लिखित परीक्षा थी... फिर इन्टरव्यू था और फिर ग्रुप डिस्कशन था। फिर उसके अगले ही दिन चयनित अभ्यर्थियों की सूची लगने वाली थी।

sagi bahan apne bhai se barish me chudi


मुझे याद है वो वर्षा के दिन थे... क्योंकि मुझे भोंदू को कार से छोड़ने जाना पड़ता था। गाड़ी में पेट्रोल आदि वो ही भरवा देता था। उसकी लिखित परीक्षा हो गई थी। दो दिनों के बाद उसका एक इन्टरव्यू था। जैसे ही वो घर आया था वो पूरा भीगा हुआ था। जोर की बरसात चल रही थी। मैं बस स्नान करके बाहर आई ही थी कि वो भी आ गया। मैंने तो अपनी आदत के आनुसार एक बड़ा सा तौलिया शरीर पर डाल लिया था, पर आधे मम्मे छिपाने में असफ़ल थी। नीचे मेरी गोरी गोरी जांघें चमक रही थी।

इन सब बातों से बेखबर मैंने भोंदू से कहा- नहा लो ! चलो... फिर कपड़े भी बदल लेना...

पर वो तो आँखें फ़ाड़े मुझे घूरने में लगा था। मुझे भी अपनी हालत का एकाएक ध्यान हो आया और मैं संकुचा गई और शरमा कर जल्दी से दूसरे कमरे में चली गई। मुझे अपनी हालत पर बहुत शर्म आई और मेरे दिल में एक गुदगुदी सी उठ गई। पर वास्तव में यह एक बड़ी लापरवाही थी जिसका असर ये था कि भोंदू का मुझे देखने का नजरिया बदल गया था। मैंने जल्दी से अपना काला पाजामा और एक ढीला ढाला सा टॉप पहन लिया और गरम-गरम चाय बना लाई।

वो नहा धो कर कपड़े बदल रहा था। मैंने किसी जवान मर्द को शायद पहली बार वास्तव में चड्डी में देखा था। उसके चड्डी के भीतर लण्ड का उभार... उसकी गीली चड्डी में से उसके सख्त उभरे हुये और कसे हुये चूतड़ और उसकी गहराई... मेरा दिल तेजी से धड़क उठा। मैं 24 वर्ष की कुँवारी लड़की... और भोंदू भी शायद इतनी ही उम्र का कुँवारा लड़का...

जाने क्या सोच कर एक मीठी सी टीस दिल में उठ गई। दिल में गुदगुदी सी उठने लगी। भोंदू ने अपना पाजामा पहना और आकर चाय पीने के लिये सोफ़े पर बैठ गया।

पता नहीं उसे देख कर मुझे अभी क्यू बहुत शर्म आ रही थी। दिल में कुछ कुछ होने लगा था। मैं हिम्मत करके वहीं उसके पास बैठी रही। वो अपने लिखित परीक्षा के बारे में बताता रहा।

फिर एकाएक उसके सुर बदल गये... वो बोला- मैंने आपको जाने कितने वर्षों के बाद देखा है... जब आप छोटी थी... मैं भी...

"जी हाँ ! आप भी छोटे थे... पर अब तो आप बड़े हो गये हो..."

"आप भी तो इतनी लम्बी और सुन्दर सी... मेरा मतलब है... बड़ी हो गई हैं।"

मैं उसकी बातों से शरमा रही थी। तभी उसका हाथ धीरे से बढ़ा और मेरे हाथ से टकरा गया। मुझ पर तो जैसे हजारों बिजलियाँ टूट पड़ी। मैं तो जैसे पत्थर की बुत सी हो गई थी। मैं पूरी कांप उठी। उसने हिम्मत करते हुये मेरे हाथ पर अपना हाथ जमा दिया।

"भोंदू भैया आप यह क्या कर रहे हैं? मेरे हाथ को तो छोड़..."

"बहुत मुलायम है ... जी करता है कि..."

"बस... बस... छोड़िये ना मेरा हाथ... हाय राम कोई देख लेगा..."

भोंदू ने मुस्कराते हुये मेरा हाथ छोड़ दिया।

अरे उसने तो हाथ छोड़ दिया- वो मेरा मतलब... वो नहीं था...

मेरी हिचकी सी बंध गई थी।

उसने मुझे बताया कि वो लौटते समय होटल से खाना पैक करवा कर ले आया था। बस गर्म करना है।

"ओह्ह्ह ! मुझे तो बहुत आराम हो गया... खाने बनाने से आज छुट्टी मिली।"

शाम गहराने लगी थी, बादल घने छाये हुये थे... लग रहा था कि रात हो गई है। बादल गरज रहे थे... बिजली भी चमक रही थी... लग रहा था कि जैसे मेरे ऊपर ही गिर जायेगी। पर समय कुछ खास नहीं हुआ था। कुछ देर बाद मैंने और भोंदू ने भोजन को गर्म करके खा लिया। मुझे लगा कि भोंदू की नजरें तो आज मेरे काले पाजामे पर ही थी।मेरे झुकने पर मेरी गाण्ड की मोहक गोलाइयों का जैसे वो आनन्द ले रहा था। मेरी उभरी हुई छातियों को भी वो आज ललचाई नजरों से घूर रहा था। मेरे मन में एक हूक सी उठ गई। मुझे लगा कि मैं जवानी के बोझ से लदी हुई झुकी जा रही हूँ... मर्दों की निगाहों के द्वारा जैसे मेरा बलात्कार हो रहा हो। मैंने अपने कमरे में चली आई।

बादल गरजने और जोर से बिजली तड़कने से मुझे अन्जाने में ही एक ख्याल आया... मन मैला हो रहा था, एक जवान लड़के को देख कर मेरा मन डोलने लगा था।

"भैया... यहीं आ जाओ... देखो ना कितनी बिजली कड़क रही है। कहीं गिर गई तो?"

"अरे छोड़ो ना दीदी... ये तो आजकल रोज ही गरजते-बरसते हैं।"

ठण्डी हवा का झोंका, पानी की हल्की फ़ुहारें... आज तो मन को डांवाडोल कर रही थी। मन में एक अजीब सी गुदगुदी लगने लगी थी। भोंदू भी मेरे पास खिड़की के पास आ गया। बाहर सूनी सड़क... स्ट्रीटलाईट अन्धेरे को भेदने में असफ़ल लग रही थी। कोई इक्का दुक्का राहगीर घर पहुँचने की जल्दी में थे। तभी जोर की बिजली कड़की फिर जोर से बादल गर्जन की धड़ाक से आवाज आई।

मैं सिहर उठी और अन्जाने में ही भोंदू से लिपट गई,"आईईईईईई... उफ़्फ़ भैया..."

भोंदू ने मुझे कस कर थाम लिया,"अरे बस बस भई... अकेले में क्या करती होगी...?" वो हंसा।

फिर शरारत से उसने मेरे गालों पर गुदगुदी की। तभी मुहल्ले की बत्ती गुल हो गई। मैं तो और भी उससे चिपक सी गई। गुप्प अंधेरा... हाथ को हाथ नहीं सूझ रहा था।

"भैया मत जाना... यहीं रहना।"

भोंदू ने शरारत की... नहीं शायद शरारत नहीं थी... उसने जान करके कुछ गड़बड़ की। उसका हाथ मेरे से लिपट गया और मेरे चूतड़ के एक गोले पर उसने प्यार से हाथ घुमा दिया। मेरे सारे तन में एक गुलाबी सी लहर दौड़ गई। मेरा तन को अब तक किसी मर्द के हाथ ने नहीं छुआ था। ठण्डी हवाओं का झोंका मन को उद्वेलित कर रहा था। मैं उसके तन से लिपटी हुई... एक विचित्र सा आनन्द अनुभव करने लगी थी।

अचानक मोटी मोटी बून्दों की बरसात शुरू हो गई। बून्दें मेरे शरीर पर अंगारे की तरह लग रही थी।भोंदू ने मुझे दो कदम पीछे ले कर अन्दर कर लिया।

मैंने अन्जानी चाह से भोंदू को देखा... नजरें चार हुई... ना जाने नजरों ने क्या कहा और क्या समझा... भोंदू ने मेरी कमर को कस लिया और मेरे चेहरे पर झुक गया। मैं बेबस सी, मूढ़ सी उसे देखती रह गई। उसके होंठ मेरे होंठों से चिपकने लगे। मेरे नीचे के होंठ को उसने धीरे से अपने मुख में ले लिया। मैं तो जाने किस जहाँ में खोने सी लगी। मेरी जीभ से उसकी जीभ टकरा गई। उसने प्यार से मेरे बालों पर हाथ फ़ेरा... मेरी आँखें बन्द होने लगी... शरीर कांपता हुआ उसके बस में होता जा रहा था। मेरे उभरे हुये मम्मे उसकी छाती से दबने लगे। उसने अपनी छाती से मेरी छाती को रगड़ा मार दिया, मेरे तन में मीठी सी चिन्गारी सुलग उठी।

उसका एक हाथ अब मेरे वक्ष पर आ गया था और फिर उसका एक हल्का सा दबाव ! मेरी तो जैसे जान ही निकल गई।

"भोंदू... अह्ह्ह्ह...!"

"दीदी, यह बरसात और ये ठण्डी हवायें... कितना सुहाना मौसम हो गया है ना..."

और फिर उसके लण्ड की गुदगुदी भरी चुभन नीचे मेरी चूत के आस-पास होने लगी। उसका लण्ड सख्त हो चुका था। यह गड़ता हुआ लण्ड मोमबत्ती से बिल्कुल अलग था। नर्म सा... कड़क सा... मधुर स्पर्श देता हुआ। मैं अपनी चूत उसके लण्ड से और चिपकाने लगी। उसके लण्ड का उभार अब मुझे जोर से चुभ रहा था। तभी हवा के एक झोंके के साथ वर्षा की एक फ़ुहार हम पर पड़ीं। मैंने जल्दी से मुड़ कर दरवाजा बन्द ही कर दिया।

ओह्ह ! यह क्या ?

मेरे घूमते ही भोंदू मेरी पीठ से चिपक गया और अपने दोनों हाथ मेरे मम्मों पर रख दिये। मैंने नीचे मम्मों को देखा... मेरे दोनों कबूतरों को जो उसके हाथों की गिरफ़्त में थे। उसने एक झटके में मुझे अपने से चिपका लिया और अपना बलिष्ठ लण्ड मेरे चूतड़ों की दरार में घुमाने लगा। मैंने अपनी दोनों टांगों को खोल कर उसे अपना लण्ड ठीक से घुसाने में मदद की।

उफ़्फ़ ! ये तो मोमबत्ती जैसा बिल्कुल भी नहीं लगा। कैसा नरम-सख्त सा मेरी गाण्ड के छेद से सटा हुआ... गुदगुदा रहा था।

मैंने सारे आनन्द को अपने में समेटे हुये अपना चेहरा घुमा कर ऊपर दिया और अपने होंठ खोल दिये।भोंदू ने बहुत सम्हाल कर मेरे होंठों को फिर से पीना शुरू कर दिया। इन सारे अहसास को... चुभन को... मम्मों को दबाने से लेकर चुम्बन तक के अहसास को महसूस करते करते मेरी चूत से पानी की दो बून्दें रिस कर निकल गई। मेरी चूत में एक मीठेपन की कसक भरने लगी।

मेरे घूमते ही भोंदू मेरी पीठ से चिपक गया और अपने दोनों हाथ मेरे मम्मों पर रख दिये। मैंने नीचे मम्मों को देखा... मेरे दोनों कबूतरों को जो उसके हाथों की गिरफ़्त में थे। उसने एक झटके में मुझे अपने से चिपका लिया और अपना बलिष्ठ लण्ड मेरे चूतड़ों की दरार में घुमाने लगा। मैंने अपनी दोनों टांगों को खोल कर उसे अपना लण्ड ठीक से घुसाने में मदद की।

उफ़्फ़ ! ये तो मोमबत्ती जैसा बिल्कुल भी नहीं लगा। कैसा नरम-सख्त सा मेरी गाण्ड के छेद से सटा हुआ... गुदगुदा रहा था।

मैंने सारे आनन्द को अपने में समेटे हुये अपना चेहरा घुमा कर ऊपर दिया और अपने होंठ खोल दिये। भोंदू ने बहुत सम्हाल कर मेरे होंठों को फिर से पीना शुरू कर दिया। इन सारे अहसास को... चुभन को... मम्मों को दबाने से लेकर चुम्बन तक के अहसास को महसूस करते करते मेरी चूत से पानी की दो बून्दें रिस कर निकल गई। मेरी चूत में एक मीठेपन की कसक भरने लगी।

"दीदी... प्लीज मेरा लण्ड पकड़ लो ना... प्लीज !"

मैंने अपनी आँखें जैसे सुप्तावस्था से खोली, मुझे और क्या चाहिये था। मैंने अपना हाथ नीचे बढ़ाते हुये अपने दिल की इच्छा भी पूरी की। उसका लण्ड पजामे के ऊपर से पकड़ लिया।

"भैया ! बहुत अच्छा है... मोटा है... लम्बा है... ओह्ह्ह्ह्ह !"

उसने अपना पजामा नीचे सरका दिया तो वो नीचे गिर पड़ा। फिर उसने अपनी छोटी सी अण्डरवियर भी नीचे खिसका दी। उसका नंगा लण्ड तो बिल्कुल मोमबत्ती जैसा नहीं था राम... !! यह तो बहुत ही गुदगुदा... कड़क... और टोपे पर गीला सा था। मेरी चूत लपलपा उठी... मोमबती लेते हुये बहुत समय हो गया था अब असली लण्ड की बारी थी। उसने मेरे पाजामे का नाड़ा खींचा और वो झम से नीचे मेरे पांवों पर गिर पड़ा।

"दीदी चलो, एक बात कहूँ?"

"क्या...?"

"सुहागरात ऐसे ही मनाते हैं ! है ना...?"

"नहीं... वो तो बिस्तर पर घूंघट डाले दुल्हन की चुदाई होती है।"

तो दीदी, दुल्हन बन जाओ ना... मैं दूल्हा... फिर अपन दोनों सुहागरात मनायें?"

मैंने उसे देखा... वो तो मुझे जैसे चोदने पर उतारू था। मेरे दिल में एक गुदगुदी सी हुई, दुल्हन बन कर चुदने की इच्छा... मैं बिस्तर पर जा कर बैठ गई और अपनी चुन्नी सर पर दुल्हनिया की तरह डाल ली।

वो मेरे पास दूल्हे की तरह से आया और धीरे से मेरी चुन्नी वाला घूँघट ऊपर किया। मैंने नीचे देखते हुये थरथराते हुये होंठों को ऊपर कर दिया। उसने अपने अधर एक बार फ़िर मेरे अधरों से लगा दिये... मुझे तो सच में लगने लगा कि जैसे मैं दुल्हन ही हूँ। फिर उसने मेरे शरीर पर जोर डालते हुये मुझे लेटा दिया और वो मेरे ऊपर छाने लगा। मेरी कठोर चूचियाँ उसने दबा दी। मेरी दोनों टांगों के बीच वो पसरने लगा। नीचे से तो हम दोनो नंगे ही थे। उसका लण्ड मेरी कोमल चूत से भिड़ गया।

"उफ़्फ़्फ़... उसका सुपारा... " मेरी चूत को खोलने की कोशिश करने लगा। मेरी चूत लपलपा उठी। पानी से चिकनी चूत ने अपना मुख खोल ही दिया और उसके सुपारे को सरलता से निगल लिया- यह तो बहुत ही लजीज है... सख्त और चमड़ी तो मुलायम है।

"भैया... बहुत मस्त है... जोर से घुसा दे... आह्ह्ह्ह्ह... मेरे राजा..."

मैंने कैंची बना कर उसे जैसे जकड़ लिया। उसने अपने चूतड़ उठा कर फिर से धक्का मारा...

"उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़... मर गई रे... दे जरा मचका के... लण्ड तो लण्ड ही होता है राम..."

उसके धक्के तो तेज होते जा रहे थे... फ़च फ़च की आवाजें तेज हो गई... यह किसी मर्द के साथ मेरी पहली चुदाई थी... जिसमें कोई झिल्ली नहीं फ़टी... कोई खून नहीं निकला... बस स्वर्ग जैसा सुख... चुदाई का पहला सुख... मैं तो जैसे खुशी के मारे लहक उठी। फिर मैं धीरे धीरे चरमसीमा को छूने लगी। आनन्द कभी ना समाप्त हो । मैं अपने आप को झड़ने से रोकती रही... फिर आखिर मैं हार ही गई... मैं जोर से झड़ने लगी। तभी भोंदू भी चूत के भीतर ही झड़ने लगा। मुझसे चिपक कर वो यों लेट गया कि मानो मैं कोई बिस्तर हूँ।

"हो गई ना सुहाग रात हमारी...?"

"हाँ दीदी... कितना मजा आया ना...!"

"मुझे तो आज पता चला कि चुदने में कितना मजा आता है राम..."

बाहर बरसात अभी भी तेजी पर थी। भोंदू मुझे मेरा टॉप उतारने को कहने लगा। उसने अपनी बनियान उतार दी और पूरा ही नंगा हो गया। उसने मेरा भी टॉप उतारने की गरज से उसे ऊपर खींचा। मैंने भी यंत्रवत हाथ ऊपर करके उसे टॉप उतारने की सहूलियत दे दी।

हम दोनो जवान थे, आग फिर भड़कने लगी थी... बरसाती मौसम वासना बढ़ाने में मदद कर रहा था। भोंदू बिस्तर पर बैठे बैठे ही मेरे पास सरक आया और मुझसे पीछे से चिपकने लगा। वहाँ उसका इठलाया हुआ सख्त लण्ड लहरा रहा था। उसने मेरी गाण्ड का निशाना लिया और मेरी गाण्ड पर लण्ड को दबाने लगा।

मैंने तुरन्त उसे कहा- तुम्हारे लण्ड को पहले देखने तो दो... फिर उसे चूसना भी है।

वो खड़ा हो गया और उसने अपना तना हुआ लण्ड मेरे होंठों से रगड़ दिया। मेरा मुख तो जैसे आप ही खुल गया और उसका लण्ड मेरे मुख में फ़ंसता चला गया। बहुत मोटा जो था। मैंने उसे सुपारे के छल्ले को ब्ल्यू फ़िल्म की तरह नकल करते हुये जकड़ लिया और उसे घुमा घुमा कर चूसने लगी। मुझे तो होश भी नहीं रहा कि आज मैं ये सब सचमुच में कर रही हूँ।

तभी उसकी कमर भी चलने लगी... जैसे मुँह को चोद रहा हो। उसके मुख से तेज सिसकारियाँ निकलने लगी। तभी भोंदू का ढेर सारा वीर्य निकल पड़ा। मुझे एकदम से खांसी उठ गई... शायद गले में वीर्य फ़ंसने के कारण। भोंदू ने जल्दी से मुझे पानी पिलाया।

पानी पिलाने के बाद मुझे पूर्ण होश आ चुका था। मैं पहले चुदने और फिर मुख मैथुन के अपने इस कार्य से बेहद विचलित सी हो गई थी... मुझे बहुत ही शर्म आने लगी थी। मैं सर झुकाये पास में पड़ी कुर्सी पर बैठ गई।

"भोंदू... सॉरी... सॉरी..."

"दीदी, आप तो बेकार में ही ऐसी बातें कर रहीं हैं... ये तो इस उम्र में अपने आप हो जाता है... फिर आपने तो अभी किया ही क्या है?"

"इतना सब तो कर लिया... बचा क्या है?"

"सुहागरात तो मना ली... अब तो बस गाण्ड मारनी बाकी है।"

मुझे शरम आते हुये भी उसकी इस बात पर हंसी आ गई।

"यह बात हुई ना... दीदी... हंसी तो फ़ंसी... तो हो जाये एक बार...?"

"एक बार क्या हो जाये..." मैंने उसे हंसते हुये कहा।

"अरे वही... मस्त गाण्ड मराई... देखना दीदी मजा आ जायेगा..."

"अरे... तू तो बस... रहने दे..."

फिर मुझे लगा कि भोंदू ठीक ही तो कह रहा है... फिर करो तो पूरा ही कर लेना चाहिये... ताकि गाण्ड नहीं मरवाने का गम तो नहीं हो अब मोमबत्ती को छोड़, असली लण्ड का मजा तो ले लूँ।

"दीदी... बिना कपड़ों के आप तो काम की देवी लग रही हो...!"

"और तुम... अपना लण्ड खड़ा किये कामदेव जैसे नहीं लग रहे हो...?" मैंने भी कटाक्ष किया।

"तो फिर आ जाओ... इस बार तो..."

"अरे... धत्त... धत्त... हटो तो..."

मैं उसे धीरे से धक्का दे कर दूसरे कमरे में भागी। वो भी लपकता हुआ मेरे पीछे आ गया और मुझे पीछे से कमर से पकड़ लिया। और मेरी गाण्ड में अपना लौड़ा सटा दिया।

"कब तक बचोगी से लण्ड से..."

"और तुम कब तक बचोगे...? इस लण्ड को तो मैं खा ही जाऊँगी।"

उसका लण्ड मेरी गाण्ड के छेद में मुझे घुसता सा लगा।"अरे रुको तो... वो क्रीम पड़ी है... मैं झुक जाती हूँ... तुम लगा दो।"

भोंदू मुस्कराया... उसने क्रीम की शीशी उठाई और अपने लण्ड पर लगा ली... फिर मैं झुक गई... बिस्तर पर हाथ लगाकर बहुत नीचे झुक कर क्रीम लगाने का इन्तजार करने लगी। वह मेरी गाण्ड के छिद्र में गोल झुर्रियों पर क्रीम लगाने लगा। फिर उसकी अंगुली गाण्ड में घुसती हुई सी प्रतीत हुई। एक तेज मीठी सी गुदगुदी हुई। उसके यों अंगुली करने से बहुत आनन्द आने लगा था। अच्छा हुआ जो मैं चुदने को राजी हो गई वरना इतना आनन्द कैसे मिलता।

उसके सुपारा तो चिकनाई से बहुत ही चिकना हो गया था। उसने मेरी गाण्ड के छेद पर सुपारा लगा दिया। मुझे उसका सुपारा महसूस हुआ फिर जरा से दबाव से वो अन्दर उतर गया।

"उफ़्फ़्फ़ ! यह तो बहुत आनन्दित करने वाला अनुभव है।"

"दर्द तो नहीं हुआ ना..."

"उह्ह्ह... बिल्कुल नहीं ! बल्कि मजा आया... और तो ठूंस...!'

"अब ठीक है... लगी तो नहीं।"

"अरे बाबा... अन्दर धक्का लगा ना।"

वह आश्चर्य चकित होते हुये समझदारी से जोर लगा कर लण्ड घुसेड़ने लगा।

"उस्स्स्स्स... घुसा ना... जल्दी से... जोर से..."

इस बार उसने अपना लण्ड ठीक से सेट किया और तीर की भांति अन्दर पेल दिया।

"इस बार दर्द हुआ..."

"ओ...ओ...ओ... अरे धीरे बाबा..."

"तुझे तो दीदी, दर्द ही नहीं होता है...?"

"तू तो...? अरे कर ना...!"

"चोद तो रहा हूँ ना...!"

उसने मेरी गाण्ड चोदना शुरू कर दिया... मुझे मजा आने लगा। उसका लम्बा लण्ड अन्दर बाहर घुसता निकलता महसूस होने लगा था। उसने अब एक अंगुली मेरी चूत में घुमाते हुये डाल दी। बीच बीच में वो अंगुली को गाण्ड की तरफ़ भी दबा देता था तब उसका गाण्ड में फ़ंसा हुआ लण्ड और उसकी अंगुली मुझे महसूस होती थी। उसका अंगूठा और एक अंगुली मेरे चुचूकों को गोल गोल दबा कर खींच रहे थे। सब मिला कर एक अद्भुत स्वर्गिक आनन्द की अनुभूति हो रही थी। आनन्द की अधिकता से मेरा पानी एक बार फिर से निकल पड़ा... उसने भी साथ ही अपना लण्ड का वीर्य मेरी गाण्ड में ही निकाल दिया।

बहुत आनन्द आया... जब तक उसका इन्टरव्यू चलाता रहा... उसने मुझे उतने दिनों तक सुहानी चुदाई का आनन्द दिया। मोमबत्ती का एक बड़ा फ़ायदा यह हुआ कि उससे तराशी हुई मेरी गाण्ड और चूत को एकदम से उसका भारी लण्ड मुझे झेलना नहीं पड़ा। ना ही तो मुझे झिल्ली फ़टने का दर्द हुआ और ना ही गाण्ड में पहली बार लण्ड लेने से कोई दर्द हुआ।... बस आनन्द ही आनन्द आया... ।

एक वर्ष के बाद मेरी भी शादी हो गई... पर मैं कुछ कुछ सुहागरात तो मना ही चुकी थी। पर जैसा कि मेरी सहेलियों ने बताया था कि जब मेरी झिल्ली फ़टेगी तो बहुत तेज दर्द होगा... तो मेरे पति को मैंने चिल्ला-चिल्ला कर खुश कर दिया कि मेरी तो झिल्ली फ़ाड़ दी तुमने... वगैरह...

गाण्ड चुदाते समय भी जैसे मैंने पहली बार उद्घाटन करवाया हो... खूब चिल्ल-पों की...

आपको को जरूर हंसी आई होगी मेरी इस बात पर... पर यह जरूरी है, ध्यान रखियेगा...

भैया से बारिश मैं चुदी

खीरे जैसा मोटा लंड मेरी छोटी सी चूत में उतर गया

खीरे जैसा मोटा लंड मेरी छोटी सी चूत में उतर गया


 

खीरे जैसा मोटा लंड मेरी छोटी सी चूत में उतर गया - हिंदी सेक्स कहानी, मेरी चूत में अनजान मर्द का खीरे जैसा मोटा लण्ड, रेल में मोटे लंड से चुदाई, ट्रेन के सफ़र में देसी चूत की चुदाई, ट्रेन में सेक्सी चूत की चुदाई का आनंद मिला, ट्रेन में चुदाई मस्त चूत की, मैं ट्रेन में अजनबी से चुद गयी और चूत में लंड खा गयी, ट्रेन में एक सेक्सी औरत की चुदाई, चलती ट्रैन में मेरी चूत फटी, पुष्पा की चूत ट्रेन में चोदी, ट्रेन से चुदाई तक का सुहाना सफर, ट्रेन में अजनबी से गांड मरवाई.

हैलो मेरे प्यारे दोस्तो.. मैं एक बार फिर हाज़िर हूँ अपनी नई कहानी लेकर.. मैं बता नहीं सकती कि मेरी चूत और मैं आप लोगों के मेल्स पढ़ कर कितनी खुश होती हूँ। लेकिन मुझे माफ़ कीजिएगा कि मैं सबको रिप्लाई नहीं कर पाती। लेकिन फिर भी बहुत लोगों से मैंने बात भी की है.. जवाब भी दिए हैं। आप सबका तहे दिल से बहुत-बहुत धन्यवाद करते हुए मैं एक नई कहानी लिखने जा रही हूँ।

मेरा नाम पुष्पा है.. मैं एक शादीशुदा महिला हूँ। मेरी उम्र 32 साल.. रंग दूध सा गोरा.. मदमस्त फिगर 35-28-38 की है और मैं एक अति चुदासी माल हूँ। आप यह कहानी एडल्ट स्टोरीज वेबसाइट पर पढ़ रहे है। मेरी बड़ी वाली ननद का एक छोटा लड़का प्रशांत है.. जो कि अभी पाँच साल का हुआ है, हमारे घर रहने आया हुआ था।

अचानक मेरे पति को जरूरी काम से देहरादून जाना पड़ा।

तो मैं बोली- मैं भी चलती हूँ.. देहरादून और मसूरी घूम लेंगे।

मेरे पति बोले- अरे मुझे बहुत ज़रूरी काम है वहाँ, जब तक मैं दो-तीन दिन में अपना काम कर लूंगा.. तब तुम देहरादून आ जाना.. फिर वहीं एंजाय करेंगे।

मैं बोली- प्रशांत भी तो है, यह भी साथ आएगा।

तो बोले- हाँ हाँ.. बिल्कुल..

अगले दिन सुबह मेरे पति निकल गए और पहुँच कर मुझे फोन किया- तुम दो दिन बाद आ जाना.. दो दिन में मैं काम निपटा लूँगा।

मैं बोली- ओके.. वैसे आना कहाँ है.. किस होटल में?

तो बोले- तुम स्टेशन पर उतरोगी.. तो बता देना.. मैं आ जाऊँगा.. ओके..

मुझे रात को ग्यारह बजे वाली ट्रेन मसूरी एक्सप्रेस में ही स्लीपर का आरक्षण मिला।

दो दिन पति से बिना चुदे मेरी चूत लन्ड खाने के लिए मचलने लगी थी, फ़ुदक रही थी तो मैं रात को ग्यारह बजे वाली ट्रेन से देहरादून के लिए चल दी। बोगी में काफी सीटें खाली थी तो मैं और प्रशांत में आराम से बैठ गए। मेरा सोने का मन हुआ तो मैं लेट कर सो गई और प्रशांत भी सो गया।

फिर ट्रेन शायद मेरठ रुकी, एक यात्री चढ़ा.. मेरे पास आकर बोला- यह मेरी सीट है…

मैं बोली- आप आगे बैठ जाओ न.. बोगी खाली तो है ही।

तो वो मेरे बिल्कुल आगे वाली सीट पर लंबा लेट गया। हम दोनों आमने-सामने ऐसे लेटे थे कि एक-दूसरे को आराम से देख सकते थे।

खैर.. थोड़ी देर बाद मेरी नींद खुली तो मैंने टाइम देखा.. तो मैं मोबाइल में नेट चलाने लगी। मैं थोड़ा कंफर्ट के लिए अपने मम्मों के बल लेटी थी। मैंने वैसे भी बस नॉर्मल टी-शर्ट और लोवर पहन रखा था, अन्दर कुछ भी नहीं था।

मेरी नज़र सामने गई तो वो आदमी भी मोबाइल चला रहा था और कुछ पॉर्न साइट चला रहा था। इसी के साथ-साथ अपने लौड़े को ऊपर से सहला रहा था, उसने भी टी-शर्ट और लोवर ही पहन रखा था।

मैंने ज़्यादा ध्यान नहीं दिया।

खीरे जैसे मोटे लंड से चुदाई


फिर थोड़ी देर बाद मैंने देखा उसका लंड टनटनाने लगा.. मुझे अजीब सा लगने लगा। वो ईअर फोन लगा कर ब्लू-फिल्म देख रहा था। मैं भी वही देखने लगी। आप यह कहानी हिंदी सेक्स स्टोरीज वेबसाइट पर पढ़ रहे है। थोड़ी देर बाद मुझे अजीब सा लगने लगा। मैंने भी हल्के से अपने लोवर में हाथ डाल कर चूत को देखा.. तो गीला सा लगा। मैंने सोचा छोड़ो.. ध्यान ही मत दो।

अब तो मैं ऐसे ही मोबाइल में फेसबुक यूज करने लगी।

अब थोड़ी देर बाद मेरी नज़र उसकी तरफ गई और देखा कि वो आदमी लंड को लोवर में से हिला रहा था।

अब मुझे अजीब लगा और मैं भी उसके फोन में ब्लू-फिल्म देखने लगी।

जब ट्रेन सहारनपुर स्टेशन पर रुकी तो उस आदमी ने कहा- अब एक घंटा यहाँ ट्रेन रुकेगी..

मैंने प्रशांत को यह सोच कर उठाया कि इसे सू-सू करवा दूँ और खुद भी कर लूँ क्योंकि चलती गाड़ी में मुझे डर लगता है…

मैंने प्रशांत को गोदी में उठाया और टॉयलेट ले गई।

वहाँ मैं उसे टॉयलेट करवाने लगी.. तो वो रोने लगा.. तो मैं उसके साथ ही अन्दर चली गई।

तभी मेरी नज़र सामने वाले टॉयलेट में ब्लू-फिल्म देखने वाले आदमी के लंड पर गई, वो आधे खुले दरवाजे से खड़े होकर लंड को बिना हाथ लगाए मूत रहा था।

उसका खड़ा लंड देख कर मेरी चूत में मानो आग ही लग गई, उसका लंड क्या मस्त मोटा था… कम से कम 6 इंच का तो होगा ही.. साथ मोटा भी इतना था कि हाथ में भी ना आए, वो मुँह को ऊपर करके मूत रहा था।

मेरी नज़र उसके लौड़े से हटी ही नहीं.. उसने भी अभी तक मेरी तरफ नहीं देखा था.. वो मूतते हुए लंड हिलाने लगा.. उसने लौड़े की चमड़ी को पीछे भी किया.. तो उसका सुपारा देखा.. सुर्ख लाल टमाटर जैसा था, मेरा मन तो हुआ मेरा वहीं चूस लूँ।

फिर उसने मुझे देखा और मुझे बाद में पता चला.. जब मेरी आँख उससे मिली.. तो वो मुझे देख कर अपनी बेल्ट खोलकर पूरा लंड दिखाने लगा। मैं देखती रही.. वो उसे और हिलाने लगा।

मेरी आँख उससे मिली तो उसने मुझे आँख मार दी।

मेरी तो हालत खराब होने लगी। मैंने प्रशांत की ज़िप बंद की.. उसे गोदी में उठाया और चलती बनी।

फिर मैं करने गई.. मैंने प्रशांत को उस आदमी के पास छोड़ दिया।

मैंने पेशाब करने के बाद अपनी चूत में उंगली डाली और मेरा मन भी उंगली करने का हुआ तो मैंने उसका लंड समझ कर उंगली घुसा-घुसा चूत की खाज कम करने लगी।

थोड़ी देर बाद चूत की आग भड़क गई.. लेकिन मैं वहाँ से आ ही गई।

अब मैं अपनी बर्थ पर आ गई.. फिर वो आदमी ट्रेन से उतर कर गया और कुछ खाने को लाया।

वो मुझे देने लगा.. मैंने मना कर दिया.. तो बोला- ये आपका बेटा है??

मैं बोली- नहीं.. मेरी ननद का लड़का है।

बोला- आप शादीशुदा हो?

मैं बोली- हाँ..

तो बोला- आप बहुत सुंदर हो।

मैं बोली- थैंक्स।

‘क्या नाम है आपका?’

‘पुष्पा!’

फिर हम बातें करने लगे.. वो भी देहरादून ही कुछ काम से जा रहा था। उसकी उम्र 35 साल थी। वो भी शादीशुदा था। उसका रंग सांवला था.. उसने मूँछ रख रखी थी।

खैर.. ट्रेन चल दी.. मैं फिर वैसे ही लेट गई और वो ब्लू-फिल्म देखने लगा। मैं भी देखने लगी और साथ ही मैं नीचे से अपनी चूत को खुजाने लगी। अचानक मैं सीधी होकर लोवर नीचे करके हल्का सा उंगली घुसड़ने लगी कि मेरी नज़र उस आदमी पर गई। वो बैठा था और अपना लोवर उतार कर लौड़े को सहलाते हुए मुझे देख रहा था।

मैं तो पानी-पानी हो गई और चुपचाप लेट गई।

तो वो मेरे पास को आया और बोला- उंगली की क्या ज़रूरत है.. मैं हूँ न..

मैं बोली- पागल हो.. मेरे उधर कीड़ा घुस गया था।

बोला- हाँ दस मिनट से देख रहा हूँ.. कीड़ा ज्यादा खुजली कर रहा है..

उसने अपना एक हाथ तुरंत अपने लौड़े की तरफ किया.. जो फुल खड़ा था। मेरा मन हुआ कि साले को पकड़ लूँ और घुसड़वा लूँ चूत में.. मगर फिर लगा कि नहीं बस में नहीं यार..

वो बोला- बताओ पुष्पा जी.. कैसा लगा आपको वो टॉयलेट वाला सीन?

मैं भी बोल पड़ी- अच्छा था।

तो बोला- फिर से देखोगी।

मैंने कुछ नहीं कहा तो उसने अपना लोवर उतार दिया और लंड मेरे मुँह के बिल्कुल सामने था।

मैं बोली- यह मोटा बहुत है।

वो बोला- वैसे हो तुम बिंदास यार..

वो मेरे करीब अपना मुँह ले आया.. मैं लेटी हुई ही थी और उसके लंड से मेरी कोहनी टकरा रही थी। मैंने अपनी आँखें बंद की.. और उसने किस कर दिया।

अचानक उसमें इतनी गर्मी आ गई.. वो बिल्कुल मेरे ऊपर चढ़ गया और लंड को चूत में लोवर में से ही घुसड़ने लगा।

अब मेरा लोवर उतारा.. मुझे लगा कि यार अभी तो सिर्फ चूमा-चाटी ही करेगा ज्यादा से ज्यादा लंड चूस लूँगी इसका.. मगर वो इतना गरम हो गया था कि लंड को चूत में घुसाकर ही माना। वो भी एक ही धक्के में।

मेरी चीख निकलते-निकलते ही रह गई थी कि उसने मेरे मुँह को हाथ से बंद कर दिया और मुझे साँस भी नहीं लेने दी। फिर साला चोदने भी लगा। आप यह कहानी हिंदी सेक्स स्टोरीज वेबसाइट पर पढ़ रहे है। जैसे-तैसे मैंने अपने मुँह से उसका हाथ हटाया और एक गहरी साँस ली और उसको रोका।

वो साला ठोकू कहाँ रुकने वाला था। अब मेरी डर की सीमा पार होने लगी कि ट्रेन में दूसरी सवारियों को पता चल गया तो क्या होगा।

खैर.. उसने मुझे वहीं धकाधक चोदा और मेरी चूत में ही झड़ गया। मगर मैं तो अभी गरम हुई थी। खैर.. मेरी प्यास ने मुझे तुरंत उठाया और उसका लंड मैंने मुँह में लेकर चूसना शुरू कर दिया।

अब तो वो पागल हो गया और बोला- तू तो रंडी की तरह चूसती है।

मैं बोली- नहीं.. मैं उससे भी मस्त चूसती हूँ।

अब उसने मेरे टी-शर्ट उठा दी और मेरे मस्त रसीले मम्मों देख कर पागल हो गया। वो उन्हें ऐसे भींचने लगा कि मेरे दूध लाल कर दिए।

अब उसका फिर से खड़ा हो गया और अब हम फिर से चुदाई करने लगे। अब मैं भी तेज़-तेज़ चूत को चुदवाने लगी। मैं चिल्लाना चाहती थी.. मगर नहीं चिल्ला पा रही थी। बस हल्की-हल्की सिसकारियां ले रही थी।

फिर अचानक उसने मुझे सीट से उठाया।

मैं बोली- नहीं, क्या कर रहे हो?

तो बोला- अरे चुप हो जा.. तू सीट पर घोड़ी बन जा।

मैंने वैसे ही किया और उसने पीछे से मेरी गाण्ड को पकड़ते हुए क्या मस्त चोदना शुरू किया.. आह्ह.. मैं उस आनन्द को बता नहीं सकती। मैं तो अधनंगी पड़ी थी। साला खूब मजे ले रहा था.. और मैं भी रगड़वा रही थी।

पीछे से भी धक्के लगवा-लगवा कर अपनी गाण्ड को हिलाते हुए उसका लौड़ा घुसवा रही थी। उसने भी मुझे बहुत तेज़ चोदना स्टार्ट कर दिया। आप यह कहानी हिंदी सेक्स स्टोरीज वेबसाइट पर पढ़ रहे है। मुझे हर धक्के में ऐसा लग रहा था कि मेरी चूत में इसका लंड नहीं.. मोटा सरिया घुसा हो।

अब उसने और 10 मिनट चोदते-चोदते अपना माल मेरी चूत में ही झाड़ दिया और अब मैं भी झड़ गई थी।

फिर मैंने झट से टी-शर्ट लोवर ठीक किया और उसने भी अपने कपड़े और वो मेरे ऊपर लेटा रहा.. और मेरे मम्मों से खेलने लगा।

देहरादून आते-आते उसने मुझे दो बार ठोका.. मगर गाण्ड नहीं मारी। उसे गाण्ड मारना पसंद ही नहीं था।

खैर.. सुबह आठ बजे के करीब देहरादून आते ही मैंने पति को फोन कर दिया था। वो मुझे लेने वहाँ से आ गए… और हम लोग होटल पहुँच गए।

तो दोस्तो, यह थी मेरी ज़िंदगी की एक और चुदाई.. जिसे मैंने आप लोगों के बीच बाँटा है

साली की छोटी बेटी की कुंवारी चूत की चुदाई


नई चुत की एडल्ट हिंदी कहानी में पढ़ें कि मैंने अपने साले की बड़ी बेटी की मदद से उसकी छोटी बहन की चूत चुदाई का जुगाड़ किया.. उसे होटल में लेजाकर चोदा..

दोस्तो, मैं दर्शन सिंह फिर से अपनी नई चुत की एडल्ट स्टोरीज इन हिंदी लेकर आप सभी के सामने हाजिर हूँ..
आपको मेरी सेक्स कहानी के एक भाग
साले की बेटी की चुदाई
में इस बात की जानकारी होगी कि मैंने अपनी भतीजी मनु की चुदाई करते समय उससे अपनी एक इच्छा जाहिर की थी कि मुझे मनु की छोटी बहन रुबिका की शादी से पहले उसकी चुत चोदने का मन है..

इस बात पर मनु ने हंस कर हामी भर दी थी.. वो बात किस तरह से आगे बढ़ी इसका जिक्र मैंने अपनी इस सेक्स कहानी में किया है..

मेरी पिछली सेक्स कहानी
साले के दामाद ने कोरी चुत चुदवाई
में आपने पढ़ा था कि मेरे साले के दामाद विमल ने मुझे अपनी दुकान के पास की एक कमसिन लौंडिया की कोरी चुत चुदवाई थी..

अब आगे नई चुत की एडल्ट हिंदी कहानी:

सील पैक लौंडिया की चुत फाड़ने के बाद मैं फारिग हुआ और कपड़े पहन कर विमल दुकान पर आ गया..
उसकी दुकान पर आते ही मैं बोला- विमल मुझे घर जाना है..

चूंकि मैं बहुत टुन्नी में था, तो विमल ने अपने नौकर को मुझे घर तक भेजने की हिदायत दी और उसे मेरे साथ भेज दिया..
हम दोनों घर की ओर लौट आए..

घर आकर मैं अपने साले की बेटी मनु के ऊपर चढ़ गया और उसे एक बार हचक कर चोदने के बाद सो गया..

वीणा मौसी को अचानक जाना पड़ गया था.. इस बात की जानकारी मुझे तब हुई, जब मैं सोकर उठा..

मैं उठ कर बाहर आया तो देखा कि मनु और विमल दोनों बैठ कर पैग जमा रहे थे..
उसी समय मेरे घर से मेरे बेटे का फोन आ गया और उसने मुझे तुरन्त घर वापस आने को बोला..

मैंने जाने की तैयारी की, तो विमल मेरी तरफ लालसा से देखने लगा..

विमल के अकाउंट में मैंने दो लाख ट्रान्सफर कर दिया.. विमल खुश हो गया..

मैंने उसको एक कार टैक्सी लेने भेज दिया.. क्योंकि वो भी टुन्न था और मेरे साथ मुझे छोड़ने जाने से अच्छा था कि मैं टैक्सी से ही चला जाऊं..
फिर मुझे जाते वक्त एक बार मनु को और चोदने का मन भी कर रहा था..

विमल मेरे लिए टैक्सी लेने चला गया.. इधर मनु और मैंने जल्दी जल्दी अपना सामान पैक किया..

पता नहीं क्यों विमल को देर हो रही थी.. मैंने मनु की तरफ देखा तो उसने बताया कि मैंने ही उससे देर से आने को कहा था..

मैं समझ गया मेरा मन तो खुद ही मनु की चुदाई करने का था..

उसी समय मैं मनु के साथ एक जल्दी वाली छोटी सी चुदाई करने लगा.. मनु मेरे नीचे से अपनी गांड उचकाते हुए मुझसे बार बार खुद को मुंबई शिफ्ट करवाने को बोल रही थी..

मैं लंड चलाने में मस्त था.. चूंकि मैं जल्दी झड़ता नहीं हूँ … लेकिन जैसे तैसे मैं स्खलित हुआ..

अपनी भतीजी मनु की चुदाई के बाद मैंने एक सिगरेट सुलगाई और कश खींचने लगा.. कुछ ही देर में विमल टैक्सी कार लेकर आ गया..

मैं उधर से मनु और विमल को जल्दी मुम्बई बुलाने का वादा करके मेहसाणा से निकलने लगा.. जाने से पहले मनु ने पानी, कुछ नमकीन, दो शराब की बोतलें और सर्दी से बचने को एक कंबल कार में रख दिया था..

मैं सुबह मुम्बई पहुंच गया.. कुछ दिन ठहर कर एक मकान और दुकान देख कर मैंने मनु और विमल को मुम्बई बुला कर शिफ्ट कर दिया..

अब जब भी मेरा मन होता, तब मनु के घर चला जाता और उसकी मस्त चुदाई कर लिया करता..

विमल का भी बिजनेस इधर सैट करवा दिया था.. वो अपने काम के सिलसिले में ज्यादातर घर से बाहर रहने लगा था.. इसलिए मुझे और मनु को खुल कर चुदाई का खेल खेलने में सुविधा होने लगी थी..

मैंने एक दिन मनु को चोदते हुए उससे रुबिका की चुदाई की बात याद दिलाई..

मनु ने अपने वादे के मुताबिक अपनी छोटी बहन को अपने पास बुला लिया..

रुबिका के आने के बाद मनु के घर मेरा आना जाना कुछ ज्यादा ही बढ़ गया.. विमल, मनु और रुबिका के साथ रोजाना किसी अच्छे होटल में जाते, बियर मंगवा कर पीते हुए मौज करने लगे थे..

पहले दिन तो रुबिका ने बियर पीने से मना कर दिया था, मगर मनु रुबिका को साइड में ले जाकर उसे समझा बुझा कर ले आई..

पहली बार रुबिका को बियर पीने में कुछ कठिनाई हुई.. आधी बोतल पीने के बाद रुबिका बहकने लगी..

मनु ने मुझे सीट बदलने का इशारा किया.. मनु मेरी जगह आकर बैठ गयी और मैं मनु की जगह आकर बैठ गया..

सोफा की साइज छोटी होने के कारण मुझे रुबिका से चिपक कर बैठना पड़ा..

अब रुबिका कोई पत्थर की मूर्ति तो थी नहीं … उसे भी मेरा बदन अपने बदन से चिपका होने का अहसास था, परन्तु बियर का नशा होने के कारण उसमें भी मादकता आई हुई थी..

मनु ने बियर खाली देख कर और बियर का ऑर्डर दे दिया.. रुबिका धीरे धीरे डेढ़ बोतल डकार गई.. वो बियर पीने के बाद मुझसे और मनु से खुल कर बातें करने लगी..

हमारी बातें बड़ी सेक्सी हो रही थीं.. मैंने रुबिका के मादक बदन पर भी हाथ से टच करके मजा ले लिया था..

इस तरह कुछ देर हम सभी ने एन्जॉय किया.. फिर उसी होटल में खाना खाकर वापस आने लगे..

आते वक्त टैक्सी में बैठते समय मनु ने पहले खुद बैठ कर मुझे बीच में बैठा दिया.. मेरे पास रुबिका बैठ गई थी.. आगे ड्राइवर के पास विमल बैठ गया था.. इस तरह तीन चार दिन हम लोग इसी तरह से मजा लेते रहे..

एक दिन होटल से वापसी के समय मनु ने अपना बायां हाथ मेरे गले में डाल दिया.. कुछ देर रुबिका ने ये महसूस किया मगर वो उस समय कुछ नहीं बोली..

रास्ते में जहां कहीं सड़क पर अंधेरा आता, तब मनु मेरे लंड को सहलाने लगती.. रुबिका ये सब कनखियों से देख रही थी..
इस बात का पता दूसरे दिन मुझे मनु के फोन से मिला..

दूसरे दिन मनु ने सारी बात बताई और साथ में ये भी बोली कि उसने रुबिका को सच्चाई बता दी है कि किस तरह शादी होने के बाद भी वो प्यासी रह जाती थी.. यह तो संयोग हुआ था कि फूफाजी मिल गए थे.. वरना आज तक उसकी प्यास को बुझाने वाला कोई नहीं था..

मनु ने रुबिका को सब डिटेल में बताया था कि उसकी शादी के दो साल तक सब ठीक रहा था.. उसके बाद विमल नकारा हो गया.. इसलिए मुझे फूफाजी का साथ मिल गया था और हमारे रिश्ते के बारे में विमल को भी सब मालूम है..

मैंने मनु से ये सुना, तो मैंने उससे पूछा कि ये सब तो ठीक किया, मगर रुबिका को मेरे साथ सैट करने के लिए तूने क्या किया?

मनु बोली- मैंने रुबिका को अपना सुझाव दिया है कि जिस्म का सुख लेने में कोई बात नहीं होती है.. मैंने फूफाजी के बड़े लंड का खूब मजा लिया है.. मैंने उससे कहा कि मैं तेरी बड़ी बहन हूँ, तू भी चाहे तो ये सुख ले सकती है.. कहीं ऐसा न हो कि एक दिन तेरा भी मेरे जैसा हाल हो जाए..

मैं मनु की बात सुनकर खुश हुआ कि उसने रुबिका को मेरे मजबूत लंड के बारे में बता दिया है..

फिर मनु ने आगे बताया कि उसने रुबिका को कहा कि मान ले आज तेरी सगाई हो चुकी है, कुछ महीने बाद शादी भी हो जाएगी.. एक दो साल बात करते निकल जाएंगे, फिर मेरे जैसी तू भी तड़पती रहना.. अभी फूफाजी तुम्हारे ऊपर फ़िदा हैं.. एक बार तू फूफाजी को खुश कर दे.. तेरी शादी बाद तुझे मुम्बई में किसी मकान में शिफ्ट कर लेंगे..

इस तरह से मनु ने एक हफ्ते में किसी तरह से रुबिका को राजी कर लिया था..

रुबिका को मनाने के मनु ने मुझे फोन किया और खुशखबरी सुनाई..

उस दिन रुबिका और मैं दोनों ही होटल की और निकल पड़े, आज विमल और मनु को मैंने साथ नहीं लिया था..

हम दोनों एक फाइव स्टार होटल में चले गए.. उधर जाकर बियर पीने लगे..

कुछ देर के बाद मैंने रुबिका की जांघ पर हाथ रख दिया.. हम बार में कोने में बैठे थे, वहां रोशनी बहुत कम मात्रा में आ रही थी..
रुबिका की जांघ पर हाथ रखने से रुबिका ने एतराज नहीं किया.. इस दरम्यान बियर खत्म हो चुकी थी.. हम नई बियर मंगवा कर पीने लगे..

जब मैंने देखा कि रुबिका पूर्ण रूप से होश में नहीं रह गई है, तो मैं उठ कर काउन्टर पर गया और उधर एक कमरा बुक करवा आया..

मैं कमरे को देख कर कमरे की चाबी भी ले आया..

जब मैं वापिस बार में पहुंचा, तब तक रुबिका की जुबान लड़खड़ा रही थी.. मैंने रुबिका की कमर में हाथ डाला और रेस्टोरेन्ट में पहुंच कुछ खाया.. खाने के बाद मैंने रुबिका को निम्बू पानी पिलाया.. अब रुबिका की जुबान लड़खड़ा नहीं रही थी.. रुबिका के साथ बिल अदा करके हम तीनों होटल के उसी कमरे में पहुंच गए..

कमरे में पहुंचते ही मैंने अन्दर का दरवाजा बन्द कर लिया और रुबिका को लेकर बिस्तर में घुस गया.. उसके होंठों से होंठों को मिला कर मैं उस गर्म माल का चुम्बन लेने लगा..

कुछ ही देर में रुबिका भी काफी गर्म हो चुकी थी.. मैंने रुबिका के सारे कपड़े खोल कर उसको नंगी कर दिया..

कुंवारी रुबिका का मस्त जिस्म मेरे सामने खुला पड़ा था.. मैंने एक बार नजर भर कर उसकी जवानी को देखा और अगले ही पल उसी कमसिन बुर में जीभ डाल कर चुत चूसने लगा..

रुबिका को पहले से ही मस्ती चढ़ी हुई थी..
अब वो थोड़ा डरने लगी, मगर मैंने अपने सारे कपड़े उतारे और रुबिका के पैरों से चुंबन लेते लेते ऊपर तक पहुंच गया..

इस समय मेरा लंड उसकी नई चुत पर टकरा रहा था.. कुछ देर लंड को उसकी बुर पर ऊपर से नीचे तक फिराने लगा..

रुबिका की हालत जल बिन मछली की तरह हो गयी थी.. वो लंड अन्दर लेने के लिए मचल रही थी..
मैं उचित मौका देख कर लंड को उसकी बुर में धीरे धीरे पेलने लगा.. जब तक मेरा एक चौथाई लंड नई चुत के अन्दर पहुंचा, तब तक तो रुबिका ने आसानी से लंड सहन कर लिया..

फिर अचानक से रुबिका अपनी गांड को उठा कर ऊपर नीचे होने लगी.. मुझे मौका अच्छा दिखा.. मैंने उसके होंठों को होंठों से कस कर पकड़ कर लंड को जोर से धक्का दे दिया.. एक बार में ही लंड आधे से ज्यादा चुत चीरता हुआ घुस गया..

रुबिका की चीख निकल गयी.. वो छूटने के लिए मचलने लगी.. मगर में बलिष्ठ भुजाओं की कैद से वो नाजनीन अलग हो ही न सकी..

मैंने रुबिका की नई चुत का उद्घाटन कर दिया था.. मैंने एक पल के लिए बिस्तर की सफ़ेद चादर पर देखा … तो चुत फटने से उसका खून बिखरा हुआ था..

मैं कुछ देर रुक गया और रुबिका को विश्राम करने दिया.. जब रुबिका को दर्द होना कम हुआ, तो मैं फिर से धीरे धीरे लंड नई चुत में पेलने लगा..

कुछ ही देर बाद चुदाई अपनी मस्ती में होना शुरू हो गई.. रुबिका भी लंड को झेल चुकी थी और वो भी चुत चुदाई का मजा ले रही थी..

आधा घटा तक मैंने रुबिका को लगातार पेला.. फिर हम दोनों एक साथ स्खलित हो गए.. रुबिका ने स्वर्ग जैसा सुख पहली बार महसूस किया था.. इस कारण उसने मुझे अपनी बांहों में कस कर जकड़ लिया था.. वो अपने दोनों पैरों को मेरे पैरों से लपेट कर लेट गयी.. कुछ देर बाद आवेग समाप्त हो गया था..

रुबिका ने बहुत बढ़िया चुंबन मेरे होंठों पर दिए … फिर वो बताने लगी कि किस तरह मनु ने उसे राजी किया थ..

मुझे रुबिका को फिर से चोदने का हुआ तो मैं फिर से उसकी चुदाई में मग्न हो गया.. उस रात में मैंने रुबिका की चार बार चुदाई की सुबह हम दोनों ने बाथरूम में जाकर स्नान किया..

घर वापिस आकर रुबिका बोली- फूफाजी, जिस तरह आप मनु को रख रहे हैं … मेरी शादी के बाद आपको मुझे भी मुम्बई में रखना होगा..
मैंने वादा कर लिया..

सुबह के इस वक्त पांच बज रहे थे.. टैक्सी में बैठ कर मैंने रुबिका को बताया कि मेरी तुम्हारे साथ हनीमून मनाने की इच्छा है..
रुबिका बोली- मेरी भी है … आप प्रोग्राम बनाओ … किसी हिल स्टेशन चलते हैं..

तभी टैक्सी घर पहुंच गयी.. मैंने मनु को फोन पर रिंग दी और मनु ने दरवाजा खोल कर हम दोनों को अन्दर ले लिया, साथ ही वो मुस्करा पड़ी..

चाय के साथ हम तीनों कमरे में बैठ किसी हिल स्टेशन का प्रोग्राम बनाने लगे.. इसी दरम्यान सुबह के सात बज चुके थे..

तभी मेरे मोबाईल पर फोन आया..
मनु बोली- फूफाजी, मौसी का फोन है.. आप ही उनसे बात करो..
मैंने फोन लिया, तो वीणा मौसी ने पहले तो अपने मुँह से मुझे ढेर सारी गालियां निकालीं..

उसके बाद साली गिड़गिड़ाने लगी.. मौसी बोली- अब मैं तुम्हारे बिना नहीं रह सकती..
मैंने एक दो दिन में ही उसे मुम्बई बुलाने का आश्वासन दे कर फोन बन्द कर दिया.. इसके आगे की चुदाई की कहानी में मौसी, रुबिका और मनु को मैं एक हिल स्टेशन ले गया.. आप सभी को वो सेक्स कहानी जल्द ही पढ़ने को मिलेगी..

कमसिन चूत की गर्मी का इलाज मोटा लंड

कमसिन चूत की गर्मी का इलाज मोटा लंड   छोटी उम्र में जब चुदाई का चस्का लग जाये तो क्या कहने, जी हाँ मेरे साथ भी यही हुआ है। कमसिन कली को कौन नहीं तोडना चाहता है। हरेक मर्द की और लड़के की यही चाहत होती है की वर्जिन चूत मिले जो कभी चुदी नहीं हो। क्यों की टाइट चूत का और निम्बू की तरह चूचियों का मजा कुछ और ही होता है। जीते जी जन्नत इसी को कहते हैं।  आज मैं अपनी कहानी सुनाने जा रही हूँ। कैसे आजकल मैं अपनी कमसिन चूत की गर्मी शांत कर रही हूँ। कैसे मैं गांड उठा उठा कर चुदाई का मजा ले रही हूँ। आज मैं आपको अपनी सेक्स कहानी एडल्टस्टोरीज.को.इन सुनाने जा रही हूँ। ये मेरी पहली चुदाई की कहानी है एडल्टस्टोरीज.को.इन पर क्यों की इसके पहले तो मुझे पता भी नहीं था की ऐसी हॉट सेक्सी वेबसाइट की। मेरी एक सहेली ने इस वेबसाइट वेबसाइट के बारे में बताई तब से मैं इसपर आकर रोजाना चुदाई की कहानियां पढ़ रही हूँ। अब मैं सीधे अपनी कहानी पर आती हूँ।  मेरा नाम दीप्ती है मैं अभी कमसिन हूँ अपनी उम्र नहीं बताउंगी पर हां इतना बता देती हूँ की मेरी छोटी छोटी निम्बू की तरह चूचियां काफी टाइट है। और मेरी चूत भी काफी टाइट है। मैंने अपनी गांड में आजतक एक ऊँगली तक नहीं डाली क्यों की दर्द होता है इसलिए। पर आज मेरी चूत में इतनी चुदाई की और वासना की गर्मी हो गयी है इस वजह से मैं बिना चुदे रह नहीं पाती हूँ और रोजाना चुदवाती हूँ।  ये कहानी शुरू हुई मेरी करिअर बनाने को लेकर। मेरी माँ को लगता था की मैं आगे बढूं पर मेरी पढाई अच्छी नहीं हुई थी क्यों की पापा इतना कमाते नहीं थे। दिल्ली के सरकारी स्कूल में पढ़ती थी। पापा को जॉब चेंज हो गया और मैं पुरे परिवार दिल्ली एक दूसरे कोने में आ गयी रहने के लिए। अब स्कूल भी नहीं जा रही थी। तो मेरी मम्मी ने पड़ोस में रहने वाले एक अंकल से बात की मेरे बारे में। अंकल चार्टर्ड अक्काउंटैंट है तो उनके यहाँ कंप्यूटर पर कुछ काम था और उन्होंने मुझे रख भी लिया। आपका लिंग लंबा और मोटा हो जाएग  वो अकेले रहते था उम्र ज्यादा नहीं था करीब चालीस के करीब। मम्मी मुझे भेजने लगी और मैं उनके यहाँ जाने लगी। वो अकेले ही काम करते थे। मम्मी को लगा की मेरी बेटी अब आगे बढ़ जाएगी। और हुआ ही शुरआत मुझे दस हजार रूपये महीना देते थे और ओपन से उन्होंने पढाई भी चालु करवा दिए। अब मेरी पढ़ाई भी हो रही थी और पैसे भी हो रहे थे।  पर नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम ने मुझे पागल बना दिया था रोजाना सेक्स कहानी पढ़ने के बाद मुझे लगता था की मुझे भी कोई चोदे। मुझे लगा की अंकल के यहाँ सेफ है अगर अंकल से ही चुद जाएं तो किसी को पता भी नहीं चलेगा और मेरा काम भी बन जायेगा। मैंने धीरे धीरे डोरे डालने शुरू कर दी और दो से तीन दिन के अंदर ही मैं उनके बाहों में जा लिपटी। आदमी को अगर कोई लड़की लाइन दे तो कहाँ देर लगती है इसी चीज के लिए। उसपर भी उनकी बीवी नहीं ना बच्चे। एक बीवी भी वो भी भाग गयी किसी और के साथ।  एक दिन की बात है गर्मी का दिन था हम दोनों में सेक्स सम्बन्ध बन गयी उन्होंने मुझे एक बार गाल में चूमा और मेरी नीबू जैसी चूचियों को जैसे ही दबाया मैं पागल हो गयी थे। मैंने उनके लंड को निकाल कर मुँह में ले ली और फिर वो मेरे जिस को सहलाने लगे। वो मेरे से लम्बे चौड़े थे और मैं कमसिन सी लड़की जो शायद ही उनके मोटे लंड को बर्दास्त कर पाती।  उन्होंने मुझे अपनी बाहों में भर लिया और पलंग पर लिटा दिया और मेरे कपडे उतार दिया। पहले उन्होंने मेरी चूचियों को खूब मसला और फिर मेरी चूत को जम कर चाटा मेरी गांड को जब उन्होंने जीभ लगाया तो मैं पागल हो गयी और फिर मुझे डर ख़तम हो गया। मैंने उनके लंड से खेलने लग और अपने मुँह। जैसे ही उनका लंड अपने मुँह में ली वो पागल हो गए मेरे बाल पकड़कर अपनी लंड चुसवाने लगे और मैं भी पूरा लंड अपने कंठ तक ले लेती और चुस्ती। आपका लिंग लंबा और मोटा हो जाएग  फिर उन्होंने मेरे दोनों टांगो को अलग अलग किया अपना मोटा लंड मेरी नन्ही से चूत के छेद पर लगाया और जोर से घुसाने लगे पर अंदर जा नहीं रहा था क्यों की उनका लंड बहुत मोटा और बड़ा था और मेरी चूत छोटी सी जिसमे ऊँगली भी नहीं जाये। पर उन्होंने इतना मुझे सहलाया और मेरी चूचियों को दबाया की मैं पागल हो गयी और मैं चुदाई के लिए तैयार हो गयी।  चूत काफी गीली हो गयी थी इसलिए फिसलन था। उन्होंने धीरे धीरे कर के अपना पूरा लंड मेरी चूत में घुसा ही दिया। मेरी छूट फट गयी थी पहले दिन चूत से खून भी निकल रहा था पर मैं अपने मकसद में कामयाब हो गयी थी। उन्होंने मुझे खूब चोदा एक कमसिन लड़की की चुदाई करते किसे मजा नहीं लगता उन्होने मेरा खूब इस्तेमाल किया और मैंने भी इस पल का खूब एन्जॉय किया।


छोटी उम्र में जब चुदाई का चस्का लग जाये तो क्या कहने, जी हाँ मेरे साथ भी यही हुआ है। कमसिन कली को कौन नहीं तोडना चाहता है। हरेक मर्द की और लड़के की यही चाहत होती है की वर्जिन चूत मिले जो कभी चुदी नहीं हो। क्यों की टाइट चूत का और निम्बू की तरह चूचियों का मजा कुछ और ही होता है। जीते जी जन्नत इसी को कहते हैं।

आज मैं अपनी कहानी सुनाने जा रही हूँ। कैसे आजकल मैं अपनी कमसिन चूत की गर्मी शांत कर रही हूँ। कैसे मैं गांड उठा उठा कर चुदाई का मजा ले रही हूँ। आज मैं आपको अपनी सेक्स कहानी एडल्टस्टोरीज.को.इन सुनाने जा रही हूँ। ये मेरी पहली चुदाई की कहानी है एडल्टस्टोरीज.को.इन पर क्यों की इसके पहले तो मुझे पता भी नहीं था की ऐसी हॉट सेक्सी वेबसाइट की। मेरी एक सहेली ने इस वेबसाइट वेबसाइट के बारे में बताई तब से मैं इस पर आकर रोजाना चुदाई की कहानियां पढ़ रही हूँ। अब मैं सीधे अपनी कहानी पर आती हूँ।

मेरा नाम दीप्ती है मैं अभी कमसिन हूँ अपनी उम्र नहीं बताउंगी पर हां इतना बता देती हूँ की मेरी छोटी छोटी निम्बू की तरह चूचियां काफी टाइट है। और मेरी चूत भी काफी टाइट है। मैंने अपनी गांड में आजतक एक ऊँगली तक नहीं डाली क्यों की दर्द होता है इसलिए। पर आज मेरी चूत में इतनी चुदाई की और वासना की गर्मी हो गयी है इस वजह से मैं बिना चुदे रह नहीं पाती हूँ और रोजाना चुदवाती हूँ।

ये कहानी शुरू हुई मेरी करिअर बनाने को लेकर। मेरी माँ को लगता था की मैं आगे बढूं पर मेरी पढाई अच्छी नहीं हुई थी क्यों की पापा इतना कमाते नहीं थे। दिल्ली के सरकारी स्कूल में पढ़ती थी। पापा को जॉब चेंज हो गया और मैं पुरे परिवार दिल्ली एक दूसरे कोने में आ गयी रहने के लिए। अब स्कूल भी नहीं जा रही थी। तो मेरी मम्मी ने पड़ोस में रहने वाले एक अंकल से बात की मेरे बारे में। अंकल चार्टर्ड अक्काउंटैंट है तो उनके यहाँ कंप्यूटर पर कुछ काम था और उन्होंने मुझे रख भी लिया।
आपका लिंग लंबा और मोटा हो जाएग

वो अकेले रहते था उम्र ज्यादा नहीं था करीब चालीस के करीब। मम्मी मुझे भेजने लगी और मैं उनके यहाँ जाने लगी। वो अकेले ही काम करते थे। मम्मी को लगा की मेरी बेटी अब आगे बढ़ जाएगी। और हुआ ही शुरआत मुझे दस हजार रूपये महीना देते थे और ओपन से उन्होंने पढाई भी चालु करवा दिए। अब मेरी पढ़ाई भी हो रही थी और पैसे भी हो रहे थे।

पर नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम ने मुझे पागल बना दिया था रोजाना सेक्स कहानी पढ़ने के बाद मुझे लगता था की मुझे भी कोई चोदे। मुझे लगा की अंकल के यहाँ सेफ है अगर अंकल से ही चुद जाएं तो किसी को पता भी नहीं चलेगा और मेरा काम भी बन जायेगा। मैंने धीरे धीरे डोरे डालने शुरू कर दी और दो से तीन दिन के अंदर ही मैं उनके बाहों में जा लिपटी। आदमी को अगर कोई लड़की लाइन दे तो कहाँ देर लगती है इसी चीज के लिए। उसपर भी उनकी बीवी नहीं ना बच्चे। एक बीवी भी वो भी भाग गयी किसी और के साथ।

एक दिन की बात है गर्मी का दिन था हम दोनों में सेक्स सम्बन्ध बन गयी उन्होंने मुझे एक बार गाल में चूमा और मेरी नीबू जैसी चूचियों को जैसे ही दबाया मैं पागल हो गयी थे। मैंने उनके लंड को निकाल कर मुँह में ले ली और फिर वो मेरे जिस को सहलाने लगे। वो मेरे से लम्बे चौड़े थे और मैं कमसिन सी लड़की जो शायद ही उनके मोटे लंड को बर्दास्त कर पाती।

उन्होंने मुझे अपनी बाहों में भर लिया और पलंग पर लिटा दिया और मेरे कपडे उतार दिया। पहले उन्होंने मेरी चूचियों को खूब मसला और फिर मेरी चूत को जम कर चाटा मेरी गांड को जब उन्होंने जीभ लगाया तो मैं पागल हो गयी और फिर मुझे डर ख़तम हो गया। मैंने उनके लंड से खेलने लग और अपने मुँह। जैसे ही उनका लंड अपने मुँह में ली वो पागल हो गए मेरे बाल पकड़कर अपनी लंड चुसवाने लगे और मैं भी पूरा लंड अपने कंठ तक ले लेती और चुस्ती।
आपका लिंग लंबा और मोटा हो जाएग



फिर उन्होंने मेरे दोनों टांगो को अलग अलग किया अपना मोटा लंड मेरी नन्ही से चूत के छेद पर लगाया और जोर से घुसाने लगे पर अंदर जा नहीं रहा था क्यों की उनका लंड बहुत मोटा और बड़ा था और मेरी चूत छोटी सी जिसमे ऊँगली भी नहीं जाये। पर उन्होंने इतना मुझे सहलाया और मेरी चूचियों को दबाया की मैं पागल हो गयी और मैं चुदाई के लिए तैयार हो गयी।

चूत काफी गीली हो गयी थी इसलिए फिसलन था। उन्होंने धीरे धीरे कर के अपना पूरा लंड मेरी चूत में घुसा ही दिया। मेरी छूट फट गयी थी पहले दिन चूत से खून भी निकल रहा था पर मैं अपने मकसद में कामयाब हो गयी थी। उन्होंने मुझे खूब चोदा एक कमसिन लड़की की चुदाई करते किसे मजा नहीं लगता उन्होने मेरा खूब इस्तेमाल किया और मैंने भी इस पल का खूब एन्जॉय किया।


Author Name

Adult Stories

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.