Articles by "seal tod chudai"

adult stories in hindi Antarvasna Story baap beti ki chudai ki kahani bahan ki chudayi balatkar ki kahani behen ki chudayi beti ki chidai bhabhi ki chudai bhai bahan ki chudai bhai bahan sex story in hindi bhatiji ki chudai ki kahani bollywood actress ki chudai ki kahani bollywoos sex stories in hindi chacha bhatiji ki chudai ki kahani Chachi ki Chudai chachi ki chudai ki kahani chhoti bahan ki chudai chhoti ladkai ki chudai chudai ki kahaniya dehati chudai ki kahani Desi Sex Stories devar bhabhi ki chudai ki kahani Didi ki Chudai Free Sex Kahani fufa ne choda gand chudai gand chudai ki kahani gangbang ki kahani Ghode ke sath desi aurat ki sex story girlfriend ki chudai gujarati bhabhi habshi lund se chudai hindi sex stories Hindi Sex Stories Nonveg hindi urdu sex story jija saali sex jija sali ki chudai ki kahani Kahani kunwari choot chudai ki kahani Kunwari Chut ki Chudai Losing virginity sex story mama bhanji ki chudai ki kahani mama ki ladaki ki chudai marathi sex story mote lund se chudai ki kahani muslim ladaki ki chudai muslim ladki ki chuadi nana ne choda naukarani ki chudai Naukrani sex story New Hindi Sex Story | Free Sex Kahani Nonveg Kahani Nonveg Sex Story Padosi Ki Beti pahali chudai pakistani ladaki ki chudai Pakistani Sex Stories panjaban ladki ki chudai sali ki chudai samuhik chudai sasur bahu ki chudai sasur bahu ki sex story sasural sex story school girl ki chudai ki kahani seal tod chudai sex story in marathi student ki chudai suhagraat ki chudai urdu chudai ki kahani in urdu Virgin Chut wife ki chudai zabardasti chudai ki kahaniya एडल्ट स्टोरी कुंवारी चूत की chudai गर्लफ्रेंड की चुदाई गांड चुदाई की कहानियाँ जीजा साली सेक्स पहलवान से चुदाई पहली बार चुदाई बलात्कार की कहानी बाप बेटी की chudai की सेक्सी कहानी मामा भांजी चुदाई की कहानी ससुर बहु चुदाई सेक्स स्टोरी
Showing posts with label seal tod chudai. Show all posts

Andhe Budhe Ne Chod Diya Raat Me

Andhe Budhe Ne Chod Diya Raat Me

Hi, My Name Is Komal Sharma From Banaras U.P.Meri Age 21 Yers Old He,, Me Apko Meri Story Share Karne Jaa Rahi Hu , Bat Un Dino Ki Hai, Jab Me 2nd Year B.Com Ki Student Thi.. Or Dehradun Rajput Collage Me Padti Thi.. "Ek Din Vacation Ke Time Tha
2 Month Ki Chute Ti Me Ri Ek Dos Bhi Thi Jis Ka Naam Tina Tha Me Ne Kaha Ki Tina Cha Lo Na Ham Es Baa Res Vacation Me Kahi Gum Ne Chal Te Hai To Tina Ne Kaha Ki Yaar Me Nahi Aa Sak Ti Hu Hali Me Mere Ded Ki Maaki Tabiyat Kharab Hai Es Li Ye Me Apne Famli Ke Sath Mumbai Jaa Rahi Hu


Ye Sun Ke Me Sed Ho Gay Lekin Tina Ne Kaha Ki Yaar Tum Sed Mat Ho Ager Tum Ko Jaana Hi Hai To Ek Kaam Karo Na Tum Kisi Hil Teson Pe Gum Ne Chali Jaa O Tabhi Muje Socha Ki Me Kis Tapu ( Aay-Lend ) Peg Hum Ne Jaa Vu Gi Tabhi Tina Ne Kaha Ki Tum Me Pata Hai Meri Naani Bhi Tapu Pe Rehe Ti Hai


Or Ab Un Ki Mot Ho Chuki Hai Lekin Meri Nani Ka Chhota Sa Ghar Bhi Hai To Tumko Rehe Ne Ki Koi Taklip Nahi Hogi Or Tum Vaha Peg Hum Fir Sakti Ho Or Rahi Baat Kha Ne Ki To Vaha Pe Bohod Sare Thabe Or Retoran Bhi Hai


Or Vaha Pe Ek Bohod Pura Na Mandir Bhi Hai Pata Hai Log Dur Dur Se Vaha Pe Darson Kar Ne A Ate Hai Fir Kiya Tha Me Apni Juthi Mana Ne Ke Li Ye Dus Re Din Nikal Gai Tina Se Us Ki Nani Ke Ghar Ki Key Le Ke Mere Mami Dedi Bohod Ache The Es Li Ye Un No Ne Muje Vaha Akele Jaa Ne Ki Permission De Di


Bas Dus Re Din Me Vahape Poch Gai Or Vaha Pe Tina Ke Ghar Jaa Ke Rene Ke Li Ye Poch Gai Lekin Ghar Bohod Chota Tha 1 Maar Ka Ghr Tha Jis Me Ek Kichan Or Bedroom And Bedroom Ne Hi Toilet Tha Or Ek Singhal Bed Tha Or Us Ke Upper Ek Kambal Tha
Muje Vaha Pe Ek Kabat Dikha Jis Me Me Ne Apne Sare Kapde Rakh Di Ye The Or Naha Dho Ke Bahar Khan A Kane Ke Li Ye Nikal Gait Hi Karib 2:00 Baje Kea As Paas Me Ne Vaha Pe Ek Dhabe Pe Khana Khaya Ro Vaha Ke Kaam Kar Ne Vale Ek Ladke Ko Tip Di Or Puchha Kiya Yaha Gum Ne Layak Kon Kon Si Jagah Hai Us Ne Kaha Ki


Ve Se To Bohod Sari Jaga Hai Yaha Pichhe Pahad Ke Upper Ek Bohod Bada Mandir Hai Jo Ki Devi Maa Ka Mandir Hai Or Log Dur Dur Se Darsan Ke Li Ye Aate Hai ... Aaap Bhi Jaru Jaa Ye Ga Mensaab Fir Mene Us Lad Keki Baat Suke Soacha Chalo Pehe Le Bhagvaan Ke Darson Kar Le Te Hai Baad Me Gume Ge


Fir Me Pahad Ki Or Bad Ne Lagi Madir Kafir Dur Tha Me To Char Te Char Dhak Gai Gai Lekin Me Ne Haar Nahi Maani Or Aakhir Me Ne Puch Gai Or Darson Kar Li Ye Bohod Sara Time Vest Ho Gaya Tha 6:00 Baj Gaye The Saam Ke Firme Vapis Ghar Ki Or Bad Ne Lagi Thi Pahad Se Ni Che Utar Te Samay Me Ne Vaha Pe Ek Budhe Baba Ko Dekh Vo Bolrahe The Koi Es Andhe Ko Pani Pila Do Upar Vala Aap Ka Bhala Kare Ga Lekin Saam Ke Samaya Ho Gaya Tha Koi Bhivaha Nahi Thi Vo Budha Vahi Per Ke Niche Beta Hu Va Tha Muje Daya Aa Gai Me Paas Gai Or Puchha


Baba Aap Ko Kiya Huva Hai Or Aap Yaha Kiyo Bethe Ho Tabhi Us Beudhe Ne Muje Bata Ya Ki Beti Me Devi Maa Ked Arson Kar Ne Ke Li Ye Ek Group Me Aaya Tha Me Ek Andha Or Bohod Garib Bhi Hu Mere Bacho Ne Muje Ghar Se Niakal Diya Tha Tab Se Me Apne Es Group Jo Ki Budhe Logo Ka Group Hai Vo Ham Sab Ki Maadat Kar Te Hai Or Ham Lo Go Ka Ilaj Bhi Kar Te Hai


Lekin Mere Per Ek Padhr Se Takda Gaya Or Me Gir Ke Ludk T Ludk Ke Niche Gir Pata Or Mera Paav Zakh Mi Ho Gaya Or Me Re Sathi Muje Ye Hi Chhor Ke Cha Le Gaye Muje Us Ki Halat Pe Tars Aa Ne Laga Ki Ke Se Log Ho Te Hai Duni Ya Me Ek Ye Bechara Andha Hai Or Upper Se Budha Bhi Hai Sayad Karib Ban 70 Saal Ka Ho Ga Lekin Kafi Mota Bhi Tha Sayad Kha Te Pite Ghar Ka Ho Ga


Muje Us Budhe Pe Daya Aa Gai Or Me Ne Kaha Ki Baba Aap Ghabhra Ye Ga Mat Abhi Saam Ho Gai Hai Aap Raat Ko Kaha Jaa Ye Ge Aap Ek Kaam Kare Abhi Filahal Aapmere Sath Me Re Ghar Cha Li Ye Me Aap Ko Vaha Pe Pani Pila Ti Hu Or Me Ne Us Budhe Ka Ek Sath Ko Apne Kandhe Pe Rakh Kar Us Saha Ra Diya Or Us Ko Kaha Ki Ab Aap Chali Ye Lekin Us Budhe Me Se Kafi Badbu Bhi Aa Rahi Thi Sayad Us Ne Kahi Di No Se Naha Ya Nahi Ho Ga Or Us Budhe Ne Sirf Ek Dhoti Hi Pehen Rakh Ti Jo Ki Adhe Se Jiyadh Fat Gait Hi Kher Me Us Ko Ghar Lai Or Kaha Ki Baba Aap Yaha Es Cher Pe Beth Jaye Me Aap Ke Li Ye Pani Leke Aati Hu


Or Me Us Ke Li Ye Pani Ka El Galas Le Ke Aai Or Vo Sara Pani Pi Gaya Or Bola Ki Beti Ek Or Gals Pani Mil Sakta Hi Me Ne Kaha Ki Kiyo Nahi Zaru Mile Ga Bas Me Dusra Galas Le Ke Aai Or Us Ne Vo Galas Ka Bhi Pani Pi Liya Firmene Kaha Ki Baba Me Ne Garam Pani Bathroom Me Rakh Diya Hai Aap Jaa Ke Pe He Le Naha Lo Orme Us Ko Bathroom Tak Chor Ke Aai Or Drvaza Bandh Kar Diya Oe Baha R Aake Me Ne Us Dhabe Pe Call Kiya Or Kaha Ki Muje Khane Ka Oder De Diya


Bas Kuchh Der Ke Baad Khan A Aa Gaya Or Me Nekha Na Le Liya Or Kichan Me Jaa Rahi Thi Ke Tabhi Muje Kuchh Avaz Sunai De Je Se Ki Koi Gir Pada Ho Me Dork E Gai To Budha Baba Gir Gaya Tha Me Bhi Na Bhul Gait Hi Ki Vo Andha Hai Me Badh Rumejaa Ke Boli Baba Aap Thik To Hai Na Baba Ne Kaha Maaf Kar Na Beta Me Dekh Nahi Sakta Hu Me Andha Hu Na Es Liye Me Gir Gaya Fir Me Ne Vaha Pe Ek Kucha Rakha Tha Me Us Kuchhe Me Thoda Sa Sabu Laga Ya Or Usbudhe Ko Ragar Ragr Ke Saf Kar Diya Or Kaha Ki Baba Ap Aap Apne Gupt Bhag Kud Hi Saf Kar Lo To Baba Ne Apne Hath Se Vo Lughiko Utar Diya Or Vo Apne Land Ko Ragar Ragr Ke Saf Kar Rahe The Me Dekh Ke Heran Ho Gai Ki Aadmi Hai Yaa Dhora Itna Bada Land Vo Soye Huva Tha Tabhi Bhi Vo Karib Karib 9 Inch Ka Tha Or 1 Inch Mota Tha Kuch Der Me Vo Bada Ho Gaya Ab 11 Inch Ka Ho Gai Or ½ Der Inch Mota Tha Me Vaha Se Nika Gai Muje Kuchh Ho Ne Laga Tha Fir Me Roomme Aa Ke Kabat Me Dekh Ne Lagi Ki Budhe Ko Kiya Me Du Kapade Pehe Ne Ko


Kiyo Ki Budha Kafi Mota Hai Or Me Tosirf Dres Hi Pehen Ti Hu Tabhi Muje Kuchh Mila To Nahi Lekin Me Ne Apna Tovel Nikala Or Us Budhe Ko De Diya Or Us Ne Vo Towel Koapni Kamr Se Lapetliya Lekin Towel Chote Ho Ne Ki Vaja Se Vo Thik Se Nahi Beth Raha Tha Or Baar Baar Towel Nikal Jaa Raha Tha Kher Budhe Ne Je Se Te Se Kar Ke Towel Lipat Li Ya


Fir Me Ne Us Andhe Budhe Baba Ka Hath Pakad Ke Us Ko Cher Pe Betha Ya Or Kaha Tabal Pe Rakha Or Ham Do No Ne Kha Li Ya Baad Me ... Me Ne Tebal Or Bar Tanko Saaf Bhi Kar Diya Ab Karib 11:00 Baj Gaye The Raat Ke Me Soch Rahi Thi Ki Abhi Es Ghar Me To Sirf Ek Hi Bedroom Hai Or Me Es Budheko Kaha Sula Vu Gi Kiyo Ghar Me Ko Chatai Bhi Nahi Hai Or Ek Hi Bed Ho Jo Ki Singal Bed Tha Ab Ye Budhe Ke Per Me Chot Bhi To Lagi Hai Or Muje Zameen Pe Need Nahi Aati Hai Firmene Socha Kiya Farak Pad Ta Hai Ve Se Bhi Ye Budha Meri Baap Ki Umar Ka Hai Me Budhe Ko Kaha Ki Baba Aaj Aap Ko Me Re Sath Es Bed Pe Sona Ho Ga Kiyo Ye Ghar Marana Hi Hai Or Es Ghar Me Or Koi Bhi Bed Nahi Budhe Ne Kaha Ki Thik Hai But Muje Thoda Dar Lag Ra Ha Tha Kiyo Ki Bedkafi Chota Tha Or Ye Budha Bhi To Kafi Mota Hai


Fir Me So Ne Ke Li Ye Chali Gai Lekin Us Se Pe He Le Me Budhe Ko Sula Diya Or Us Ke Upper Ek Kamabl Daal Diya Lekin Kamabl Bhi Ek Hi Tha To Vo Bhi Share Kar Pade Ga Fi Me Bathroom Gai Me So Ne Se Pahele Hame Sa Apne Kapadenikal Deti Hu Panti Or Bra Bhi Sirf Ek Patli Nieti Pehen Ke Soti Hu Or Sone Se Pehe Le Bras Zarukar Ti Hu


Me Jab Naeti Pehen Ke Aai Todekh Ki Budha So Gaya Tha Lekin Muje A.C Ke Bina Need Nahi Aati Hai Es Li Ye Me Ne A.C On Ka Diya Orso Ne Lagi Budha Sidhe Muh Kar Soya Huva Tha Me Bhi Apni Pith Dikha Ke So Gait Hi 1:00 Baj Gaya Tha Raat Ka Tabhi Lathg Chali Gai Or A.C Bhi Off Ohh Gaya Pure Kamre Me Gharmi Ho Ne Lagi Budha Bhi Garmi Se Pare San Ho Ke Edhar Udhar Karavate Le Ne Laga Or Us Chakar Me Budhe Ne Jo Towel Ko Apni Kamar Pe Lapeta Tha Or Upper Kuchh Bhi Nahi Tha Vo Towel Khul Gaya


10 Minit Kebaad Garmi Bohod Jiyada Bar Gai Or Me Bhi Jag Gai Or Muj Se Raha Nahi Gaya Or Me Ne Apni Naeti Ko Utaar Feka Or Me Bhi Karvate Le Ne Lagi Me Ab Ek Dam Nagi Padi Thi Or Budha Bhi Lekin Budha Bhibhi Need Me Tha Or Ye Bed Itna Chota Tha Ki Ham Do No Ek Dus Re Ke Bohod Hi Jiyada Karib The Ham Do No Ek Hi Pilo Pe Apna Sir Rakh Ke Soye Hu Ye The Tabhi Light Aa Gai Or A.C On Ho Gaya Or Muje Pata Hi Nahi Chala Ki Muje Kab Need Aa Gai ... Kiyo Ki Meri Need Bohod Hi Jiyada Paki Hai Ek Baar Aa Ja Ye To Us Ke Baad Koi Me Re Kaan Ke Paas Dhol Bhi Baja Ye Tabh Bhi Me Nahi Uth Ti Hu


2:00 Baj Gaye Muje Thand Lag Ne Lagi Thi Kiyo Ki Me Ne Apni Naeti Ko Nikal Feka Tha Es Li Ye Me Ned Me Hi Kaap Rahi Thi Me Ne Tabhi Me Ne Budhe Ko Jo Kambal Daal A Tha Me Us Ke Ander Guss Gai Mu Abhi Bhi Need Me Th Lekin Ab Budha Bhi Need Me Tha Lekin Ab Vo Sidha Nahi Bal Ke Apna Muh Meri Taraf Kar Kr Soya Tha Or Me Apnamuh Us Ke Taraf Kiya Tha Or Me Je Se Hi Kamal Me Gus Gaya To Me Budhe Ke Sine Se Sat Ho Gai


Mere Boob Buri Tarah Se Dab Ga Ye The Le Kin Me Nid Me Thi Or Sayad Vo Budha Bhi Need Me Tha Fir Me Ne Need Me Hi Apni Ektaan G Kho Ke Us Budeh Kido No Tango Ke Upper Rakh Diya Tha Lekin Muje Pata Nahi Lekin Meri Chut Ke Upper Kuchh Garam Ghar Chiz Chipak Rahi Thi Ae Sa Lag Raha Tha Ki Vo Chiz Meri Chu Ke Under Jana Chah Ti Hai Tabhi Muje Need Me Kuchh Me He Sush Hu Va Ki Ksi Ne Mere Sir Ke Upper Apna Sir Rakh Diya Hai


Mera Sir Dab Gaya Tha Mene Palat Ke Sidhe Ho Ne Chahi Lekin Muje Mehe Sush Huva Ki Mere Sidhe Ho Ne Ke Sath Koi Bhari Chiz Bhi Mere Upper Aa Gai Ho Us Ka Vajan Itna Jiyada Tha Ki Me Need Me Bhi Hal Bala Rahi Thi Kuchh Der Baad Muje Mehe Susu Huva Ki Koi Chiz Hai Joki Kafi Garam Hai Lekin Pehele Vo Kafi Komalthi Lekin Ab Vo Sakh Hogai Thi Or Mere Pet Ke Upper Tak Lambi Ho Gai Thi Pata Nahi Kiyo Lekin Muje Ae Sa Lag Raha Tha Ki Koi Muje Jat Ke De De Ke Hila Ra Ha Tha Ormeri Chut Pe Jor Jor Se Koi Land Ragar Raaha Ho Pe He Le To Kafi Azeeb Laga Lekin Baad Me Achha Lag Ne Laga Tha Kareen 10 Minit Ke Baad Muje Janat Ka Ae Sash U Va Or Meri Chut Me Se Kafi Sara Ras Nika Jara Ha Tha


Jis Ke Karan Meri Chut Ke Upper Jo Land Bahar Se Ragar Raha Tha Vo Bhi Chi Chipa Ho Ra Ha Tha Fir Ragara Zari Rakha Or 15 Minit Ke Baad Firm Eek Baar Zar Gai Or Es Baar To Pehe Le Se Bhi Jiyada Or Bhi Chi Chipa Ras Nikla Jis Karan Land Puri Tarah Se Gila Chi Chipa Ho Gaya Tha Me Need Me Bhi Khara Rahi Thi Ajiv Bo Gareeb Vaa Je Nikal Rahi Thi Or Mere Upper Jo Budha Chada Huva Tha Us Ko Hatha Ne Ke Li Ye Me Ne Apni Puri Takat Se Need Me Hi Apni Kamar Ko Uchal Ke Dhaka Maar Ke Gira Ne Ki Kosi Ki Lekin Us Kosi Me Landka Muh Yaa Ni Supraha Meri Chut Jo Ki Kishi 10 Saal Ki Bachi Ki Je Se Chit Thi Ek Damgulabi Rang Ke Leki Ab Meri Chut Me Us Land Ka Supra Ghus Gaya Tha


Lekim Me Need Me Thi Es Li Ye Kuchh Dard Ka Ae Sas Nahi Hu Va Or Tabhi Kisi Ne Fir Se Dhaka Laga Ya Ab Land 2 Inch Chut Chirta Hu Va Ander Ghus Gaya Tha Fir Ek Dhaka Laga Ya Budhe Ne Or Fir 1 Inch Ghus Gaya Tha Lekin Aaplo Go Ko Ye Baat Jaa N Ke Hera Ni Ho Gi Ke Vo Budha Bhi Need Me Tha Or Need Me Hi Vo Ae Sa Kar Raha Tha Ab Tak 3 Minit Me 3 Inch Land Meri Chut Me Gush Gaya Tha Or Ab 8 Inch Baki Tha Fir Budhe Takat Lag Ate Ek Zor Daar Jat Ka Laga Ya Es Baar Ke Jat Ke Ne Muje Puri Hila Di Thi Or Me Es Baar Need Me Hi Aaaa Hhhh Ooohhh Ki Vaaj Bhi Nikal Rahi Thi Ab Es Baar Ke Dhak K Eke Sath Or 3 Inch Gush Gaya Tha Land Meri Chut Chir Ta Fartha Huva


Ab Tak 6 Inch Land Chut Me Gush Gaya Tha Or Aatag Macha Raha Tha Or Me Need Me Hi Aaahhhh Hhhmmmmhh Ki Avaz Nikal Rahi Thi Ke Tabhi Fir Budhe 6 Inch Ka Land Pur Bahar Nikal Diya Sirf 1 Inch Hi Under Rakha Or Jjjjjooooooorrrrrrrr Kkkkkkeeee Jat K Eke Sath Pura 10 Inch Land Chud Ke Under Gehe Rai O Me Poho Cha Di Ya Tha Ab 2 Inch Land Bahar Rehe Gaya Tha


2 Minit Ruk Ne Ke Baad Us Ne Fir Dhaka Maar Ke 2 Inch Bhi Ghusa Diya Land Ko Meri Chut Ke Ander Ab Haal Ye Tha Ki Us Andhe Or Budhe Jo Ki 70 Saal Ka Tha Usne Apna 11 Inch Ka Lamba Or ½ Der Inch Moth Land Jo Ki Kisi Insaan Ka Nahi Bal Ke Kisi Ghore Ka Ho Us Ne Vo Pura Visal Land Meri 10 Saal Ki Bachi Ki Jese Dekh Ne Vali Gula Bi Rang Ki Chut Ke Geherai O Me Daal Diya Tha


Haa La Ki Me Abhi Bhi Need Me Thi Or Vo Budha Bhi Ham Do No Ko Nedd Me Hi Ae Sa Lag Raha Tha Ki Ham Do No Ko Muje Land Or Budhe Ko Chut Mil Gaiho Ham Lag Raha Tha Ki Koi Sapna Dekh Re He The Kher Kahani Pea A Te Hai


Andha Budha Meri Chut Me Apna 11 Inch Ka Lnd Pura Under Tak Daal Ke Meri Do No Tango Ke Bich Ke Upper Leta Huva Tha Or Vo Dhire Dhire Apni Kamar Ko Aage Piche Kar Raha Tha Or Mere Muhh Se Aaaahhhhhh Oohhhhh Uuuummmmaaa Ki Avaz Aa Rahi Thi Lag Raha Tha Ki Me Sarag Me Poch Gai Hu Me Need Me Hi Kara Ne Lagi Me Ne Apni Do No Tango Ko Upper Kar Ke Budhe Ki Kamar Se Lappet Ke Apni Or Khich Rahi Thi Taki Land Pura Under Ghush Jaa Ye 10 Minit Ke Baad Me Fir Jar Gai Lekin Es Baar Meri Chut Ka Ras Nikal Nahi Pa Raha Tha


Kiyo Ki Andhe Budhe Ka Land Meri Chut Me Fasa Huva Tha Us Ke Land Ne Sara Pani Under Hi Rok Rakha Tha Lekin Fir Bhi Budhe Ne Apni Kamr Ko Ab Jor Jor Se Undr Bahar Kar Ne Laga Tha Ab To Vo Pura Land Jo Ki 11 Inchn Ka Hai Vo Ek Hi Jat Ke Me Vo 10 Inch Tak Bahr Nikal De Ta Hai Or 1 Ianch Hi Under Rakha Ta Hai Or Ek Hi Jor Daar Jat Ka Maar Ke Pura 11 Inch Ka Land Under Tak Gusa Deta Hai


Us Ke Jat Ke De Ne Ke Vaje Se Me Puri Hil Jaa Ti Thi 30 Minit Tak Us Ne Land Ko Under Bahar Kart A Raha Me Fir Jar Gai Lekin Es Bara Thoda Pani Bahar Aa Gaya Or Land Ab To Or Bhi Aasani Se Under Bahar Ho Rat Ha Sach Kahu To Muje Bohod Maza Aa Raha Tha Land Under Bahar Ho Ne Ke Sath Meri Chut Me Jo Chip Chipa Pani Nikala Tha Us Ke Karan Andha Budha Jab Land Ko Under Bahar Kart A Tha To Pure Room Me Pachuk Puchh Puchh Ki Avaj Se Sara Karma Bhar Jata Tha 1 Ghanta Ho Gai Aakhir Kar Budhe Ab Or Jor Jor Se Chudai Suru Kar Di Thi Acha Nak Budhe Ne Muje Kash Ke Pakad Liya Or Meri Chut Me Hi Us Ne Apna Sara Viriya Gira Diya


Andhe Budhe Ne Sayad Kahi Saalo Se Sex Nahi Kiya Ho Ga Kiyo Ki Me Ne Need Me Bhi Mehe Sus Kar Rahi Thi Ki Mere Pat Me Kuchh Gharam Garam Chizz Gir Rahi Thi Karib 5 Minit Tak Gir Ti Hi Rahi Uske Baad Budhe Ne Muje Paqkad Ke Apne Sath Hi Bister Pe Hal Ke Muje Le Keg Hum Gaya Jis Ke Vaja Se Ab Mere Muh Ka Bhag Budhe Ke Face Ke Saam Ne Tha Lekin Budhe Muje Abhi Kas Ke Pakda Huva Tha Jis Ki Vaja Se M Abhi Bhi Us Se Chipki Hui Thi Or Meri Chut Or Andhe Budhe Ka Land Bhi Chipka Huva Tha Ya Ni Ke Abhi Bhi Budhe Land Meri Chut Me Tha Kiyoki Us Ka Viriya Abhi Hi Nikal Ke Santh Huva Hai Es Li Ye Budhe Ka Land Abhi Khada Tha Es Li Ye Meri Chut Me Fasa Huva Tha Budhe Pne Hath Ko Meri Pith Pe Guma Raha Tha


1 Ghan T Eke Baad Us Ka Hath Fir Na Bnadh Ho Gaya Orus Ka Land Fir Sesanth Ho Ke Naram Or Chota Ho Gaya Jis Ke Vaja Se Vo Chut Se Bahar Nikal Gaya Tha Lekin Ye Sari Ghtna Ke Do Rah Me Or Vo Budha Need Me Hi Tha Ham Ne Ye Sab Need Me Hi Kiya Or Pata Bhi Nahi Cahala Dus Re Din Subha Ke 7:00 Am Ko Jab Me Uthi To Mene Pehe Le To Dekh Ki Meri Ek Side Me Vo Budha So Raha Hai Es Li Ye Me Ne Us Ko Utha Ya Nahi Muje Kal Raat Ki Koi Baat Yaad Nahi Thi Me Bister Se Uthi Lekin Me Gir Gai Zameen Pe Pata Nahi Lekin Meri Tango Ke Bich Me Bohod Darad Ho Raha Tha


Me Samaj Nahi Pai Ke Ye Kiya Ho Raha Hai Me Ne Je Se Te Se Kar Ke Bathroom Me Jaa Pochi Or Naha Ne Lagi Naha Ne Ke Doran Me Ne Dekh Ki Meri Chut Suj Gait Hi Or Us Ka Muh Bhi Khula Tha Je Se Kichi Ne Muje Chod Diya Ho Me Ne Apni Chut Me Ungli Dali To Pata Nahi Jor Jor Se Dard Ho Ra Ha Tha Or Chut Me Se Kuch Chip Chipi Crim Bhi Nikali Me Ne Socha Ki Jab Koi Ladki Badi Ho Jaa Ti Ho Gi Tab Ye Sab Hota Ho Ga Je Ki Time Me Aa Na Or Chut Se Khoon Nikal Na Kher Me Ne Us Baat Ko Nazar Undaaz Kar Diya Fir Naha Tho Ke Bhar Aa Ke Apne Kapde Pehe Li Ye Or Nasta Magvaya Or Chha Bana Ke Pi Li Tabhi Andha Budha Baba Bhi Jag Gaye Me Ne Un Ko Bola Ki Bab Aap Pehe Le Naha Lo


Baba Ne Vo Towel Le Ke Joki Raat Ko Nikal Gaya Tha Us Ne Fir Se Lappet Liya Thame Ne Baba Ka Hath Pakad Ke Bathroom Tak Le Gai Or Un Ko Boli Ki Aap Beth Jaa O Kiyo Budha Andha Bhi Thana Fir Me Ne Apne Hath Me Sabun Liya Or Us Ko Ragar Ragr Ke Ne He La Diya Acha Nak Meri Nazar Us Ke Land Me Gai Me Ne Dekha Ki Us Ka Land Bhi Suza Huva Tha Or Us Pe Khoon Bhi Tha Ha La Ki Khoon Such Gay Tha Me Ne Kaha Ki Bab Ye Kiya Hu Va Hai Aap Ke Land Ko Us Pe Khoon Hai Baba Ne Ka Beti Pata Nahi Kal Raat Ke Baad Me Jab Subha Utha To Tabhi Se Muje Land Me Dard Ho Ra Hai
Fir Me Ne Hath Me Sabun Laga Ya Or Land Ke Upper Ragar Ne Lagi Or Saaf Kiya Lekin Saaf Kar Te Kar Te Vo Fir Se Khada Ho Gaya Tha Lekin Muje Ajib Lag Rat Ha Kiyo Ki Andhe Budhe Ke Land Se Jo Khusbu Aa Rahi Thi Vo Ajib Thi Kiyo Ki Jab Aaj Subha Me Ne Apni Chut Ko Saaf Kiya Us Ki Khusbu Or Baba Ke Land Ki Kusbu Ek Je Si Aa Rahi Hai Muje Kuchh Samaj Me Nahi Aaya Me Ne Jaldi Se Bab Ko Nehe La Ke Un Ka Sara Badan Towelse Saf Kiya Or Un Ka Ek Hath Ko Me Ne Apne Kandhe Pe Rakh Or Saha Ra Diya Or Bedroom Ke Bed Pe Lek Aayi Or Bitha Ya


Kiyo Ki Baba Ke Per Me Chot Lagi Thi Es Li Ye Vo Jiya Da Chal Fir Nahi Sak Te The Fir Bab Ko Bed Pe Beth Diya Or Mefir Se Soch Ne Lagi Ki Ab Baba Ko Pehe Ne Ke Li Ye Kiya Du Vo Towel Bhi Pura Gila Ho Gay Hai Me Ne Bab Se Kaha Ki Baab Mere Paas Koi Kapda Nahi Aap Ko De Ne Ke Li Ye Bab Ne Kaha Ki Koi Baat Nahi Me Es Kamlo Ko Lappet Luga Or Jo Kal Raat Ko Sono Ke Time Kambal Odha Tha Us Ko Apni Kamr Ke Charo Or Lappet Liya Or Tebal Pe Leke Me Un Ko Aai Or Betha Ya Or Chai Nasta Diya Or Puchh Ki Baab Ab Bata Ye Ki Aa Ge Aaab Kaha Pe Jaa O Ge Matal Ki Jo Aap Ka Group Th Us Ka Koi Number Hai Aap Ke Paas Baba Ne Kaha Ki Nahi Beta Lekin Vo Muje Ab Rakhe Ge Nahi Kiyo Ki Rakh Na Ho Ta To Bich Raas Te Me Ae Se Chor Ken A Jaa Te


Fir Me Ne Kha Ki Bab Me 2 Month Ke Liya Ya Pe Chute Ya Mana Ne Aai Hu Tab Tak Aap Ya Rehe Sak Te Hai Lekin Us Ke Baad Aap Ko Yah Ase Jaa Na Ho Ga Bab Soch Me Pad Gaye Fir Me Ne Kaha Ki Bab Tenson Met Liji Ye Tab Tak Koi Na Koi Itjaam Ho Jaa Ye Ga
Fir Me` Baba Se Puchha Ki Baab Aap Ke Koi Beta Ya Bibi Hai Andhe Budhe Baba Ne Ka Ha Ki Beti Meri Sadi Hui Thi Es Jama Ne Me Tab Me Andha Nahi Tha Lekin Sadi Ke Hi Din Jab Ham Barat Le Ke Me Apni Bibi Ko Apne Ghar Le Jar Aha Tha Tab Bas Ka Xsident Ho Gaya Or Us Xsident Me Ne Apni Aakhe Kho Di
Fir Kiya Tha Muje Ghar Pe Laa Ye Or Kuchh Din Tak Sab Log Meri Tenson Le Te Re He The Beta Ek Din Ki Baat Hai Mene Apne Room Ke Bahr Pani Pine Ke Liye Kichan Me Jaa Raha Tha To Kichan Aan Se Pe He Le Mere Pita Ji Ka Room Aata Hai Me Ne Vaha Se Kuchh Ajaib Se Avaz Suni Koi Sex Kar Raha Tha Or Vo Avaz Meri Bibi Or Mere Pita Kit Hi Ye Sad Ma Me Bar Daas Ni Kar Sakta Tha Lekin Majbur Tah Me Meri Bibi Ne Muje Aaj Tak Kabhi Bhi Apne Aap Ko Chhu Ne Nahi Diya Hai Yaha Tak Ki Mere Pata Se Un Ko Ek Santan Bhi Hai Mera Beta Mehesh ...Lekin Bata Aaj Us Ki Bhi Sadi Hi Gai Hai


Or Ab To Mri Bibi Or Mera Baap Vo Do No God Pyaa Re Ho Gaye Hai Fir Kiya Tha Mere Bête Ki Bib Ne Mere Bête Ko Es Din Kaha Kit Um Me Fesla Kar Na Ho Ga Tum Me Cha Hi Ye Tera Baap Bas Un Lo Go Muje Nikal Diya Or Ek Budho Ke Aasram Me Daal Diya Lekin Muje Lakta Hai Ki Ab Un Logo Ne Us Aasram Me Muje Rakh Ke Li Ye Jo Peye Se Dena Bandh Kar Diya Ho Ga Es Li Ye Vo Log Muje Yaha Chor Ke Cha Le Ga Ye


Ye Thi Beti Mere Jivan Kahani Ye Sun Ke Muje Rona Aa Gya Fir Me Ne Baba Ko Kaha Ki Baba Aap Aaram Ka Re Or Andhe Budhe Baba Ko Me Ne Us Ka Hath Koapne Khandhe Pe Rakha Us Ko Saha Ra Diya Or Unbed Room Me Le Ja Ke Un No Jokambol Ko Apni Kamr Pe Lapeta Tha Me Ne Kah Ki Baba Es Ghar Me Sirf Ek Hi Kambal Hai Bura Mat Maan Na Lekin Ye Kambal Aap Nikal Di Ji Ye Or So Jaa Ye Me Aap Ke Upper Ye Kambal Daal Deti Hu Or Me Dal Ke Baha R Nikal Gai Thi Me Ne Ek Medical Stor Se Kuchh Davai Or Chot Lag Par Jo Cram Lag Ate Hai Vo Li Or Ghar Vapis Aa Gai Thi


Or Baba Ko Utha Ya Or Kaha Ki Baba Aap Ye Davai Kha Lo Es Se Aap Ko Darad Kam Ho Ga Or Aap Ka Per La Ye Me Ne Andhe Budhe Ke Per Pe Davai Laga Di Or Pati Bhi Laga Li Taki Davai Ache Se Kaam Kar Paa Ye Or Us Ke Baad After Noon Ho Gai 3:00 Pm Ho Gait Hi Or Me Ne Bhi Jo Davai Lai Thi Us Me Se Ek Davai Me Ne Bhi Khai Jo Davai Kha Ne Se Darad Kam Ho Kiyo Ki Pata Nahi Aaj Subha Se Muje Bohod Dard Ho Raha Hai Meri Chut Me


Es Ke Vaja Se Me Ne Aaj Panti Bhi Nahi Pehe Nihai Fir Muje Bhi Chal Ne Me Tak Lib Ho Raho Thi Es Li Ye Me Ne Bhi Vahi Cher Pe Beth Gai Or Vo Andha Budha Bed Pe So Gaya Kuchh Der Baad Meri Aakh Khuli To Me Ne Dekh Ki Are Raat Ho Gai Hai Time To Dekh 9:00 Pm Ho Gai Hai Me Ne Khan Magva Ya Or Khan Aay Aor Khana Kha Us Me Sab Raat Ke 11:00 Baj Ga Ye The


Fir Kiya Tha Me Ne Pehe Le Hi Andhe Budhe Bab Ko Bed Pe Leta Diya Tha Or Je Se Ki Aap Sab Jaan Te Hai Ki Vo Budhe Ne Sirf Ek Kambal Hi Apne Upper Dala Huva Tha Orme So No Se Pehe Le Kapde Change Kar Ne Chali Gai Bathroom Me Vaha Me Ne Fir Se Apni Chut Ko Dekha To Vo Abhi Abhi Suji Hui Thi Kher Aap Ko To Pata Hi Hai Ki Me Sote Samay Sirf Ek Naiti Hi Pehen Ti Hu Panti Or Bra Nahi Fir Sene Ke Li Ye Aai Or So Ne Se Pehe Le Kamre Me A.C On Kiya Or Light Ko Off Kiya Or Andhe Budhe Bab Ke Paas Hi So Gai Raat 2:00 Am


Andhe Budha Baba To Pehe Le Hi So Gaya Tha Vo To Gehe Rineed Me Tha Lekin Muje Need Nahi Aa Rahi Thi Kiyo Ki Meri Chut Me Bohod Darad Ho Raha Tha Or Meri Chut Thori Chil Gai Thi Es Li Ye Me So Nahi Paa Rahi Thi Me Karvat Te Badal Rahi Thi Lekin Budha Aaram Se So Raha Tha Sidhe Pith Ke Bal Fir Me Bhi So Ne Ke Li Ye Apna Muh Budhe Ke Saam Kar Ke So Ne Ki Kosi Kar Rahi Thi Ki Tabhi Budhe Ne Bhi Need Me Apni Jaga Se Vo Bhi Pali Maar Ke Meri Taraf Muh Kar So Ne Laga Or Us Ne Apna Hatha Meri Upper Se Meri Pith Ke Upper Rakh Ke Apnior Khich Liya Or Jakar Liya Or Apni


Ek Taang Ko Utha Ke Meri Do No Tango Ke Bich Me Gusa Ke Muje Kas Ne Laga Lekin Me Es Barr Need Me Nahi Thi Mene Virodh Kiya Ki Andhe Budhe Baba Ye Kiya Ker Rahe Ho Aap Lekin Jab Me Ne Budhe Ke Sam Ne Dekh To Me Sokh Ho Gai Vo Need Me Tha Us Ki Aakhe Bandh Thi Or Vo Ye Sabneed Me Hi Kar Raha Tha Fir Kiya Tha Me Apne Aap Ko Chur Va Ne Ki Kosi Kar Rahi Thi Or Budha Ne Apne Hath Komeri Pith Se Sarkha Sarkha Ke Meri Gaand Tak Le Gaya Or Meri Nieti Ko Upper Kar Ne Laga Me Jat Pata Rahi Thi Or Budhe Ne Meri Naiti Ko Meri Kamr Tak Upper Kar Diya Ab Meri Chut Nagi Thi Kiyo Ki Me Ne Panti To Pehe Ni Nahi Thi


Fir Budhe Ne Apni Tang Ko Meri Do No Tango Bich Me Fasa Ya Tha Us Ko Nikal Diya Or Meri Tang Pakad Ke Apni Do No Tango Ke Upper Rakh Diya Or Us Ka Hath Meri Jago Ke Upper Fir Rah Tha Pe He To Muje Ganda Me He Sus Ho Rah Tha Baad Me Muje Aacha Laga Raha Tha Fir Budhe Ne Meri Tang Ko Apni Do No Tang Ke Upper Rakh Ke Apni Kamr Ko Mere Or Paas Laa Laa Ke Apne Land Ko Jo Ki 9 Inch Ka Tha Us Se Ragar Ra He The 10 Minit Ke Baad Andhe Budhe Ka Land 11 Inch Ka Ho Gaya Aor Saka Mi De Ne Laga Or Muje Apne Chut Kr Upper Kuchh Chub Ne Lagi Me Samj Gait Hi Ki Us Ka Land Khada Ho Gaya


Tha Me Ne Fir Ua Se Alag Ho Nekeli Ye Apni Kamr Se Dkha Maar Ne Alag Ho Ne Ki Kosi Kar Rahi Thi Lekin Un Hi Ek Dhako Ki Vaja Se Ek Dhaka Laga Or Andh Budhe Ka Land Jo Ki 11 Inch Lamba ½ Der Inch Mota Tha Us Ka Supra Meri Chut Ke Ander Gus Gaya Tha Meremuhaa Se Chikh Nikal Pati Kiyo Ki Ek To Darad Ho Rah Tha Uspe Pe Ye Ghore Je Sa Land Meri Chut 1 Inch Gus Pada Us Se Pe He Me Kuchh Kar Pata Andha Budha Muje Pakad Keg Hum Gaya Or Vo Mere Upper Poch Gaya Kiyo Ki Meri 1 Tang To Budhe Ke Do No Tango Ke Upper Hi Thi


Es Li Ye Jab Vo Ghuma To Vo Atometic Meri Do No Tango Ke Bich Me Poch Gaya Or Je Se Ki Pata Tha Ki Ye Dusri Baar Meri Chudai Ho Rahi Thi Kiyo Kal Raat Us Andhe Budhe Ne Meri Chut Ki Bhaji Paav Bana Di Thi Or Kal Ki Chudai Ki Vaja Se Meri Chut Ne To Andhe Budhe Ka Land 11 Inch Ka Tha Us Ko Pehe Hi Accspet Kar Liya Tha To Aaj Se Hi Budha Mere Upper Chad Gaya Or Us Ka 11 Inch Ka Land Ka Muh I Min 1inch To Ghusa Huva Tha Or Us Andhe Budhe Mere Upper Let Gaya Tha Je Koi Bister Par Let Tha


To Us Ke Vajan Se Land 1-1-1- Inch Kart A Kar Ta Pura Ka Pura 11 Inch Ka Land Meri Chut Me Ghus Ta Hi Chal Gaya Me To Dang Re Gai Or 11 Inch Ka Land Meri Chut Ke Ghehe Rai O Poch Sama Gaya Kiyo Muje Kal Raat Ki Chudai Ke Baa Re Pata Nahi Thi Es Li Ye Me Sokh Ho Gai Thi Or Meri Muhh Se Chikhh Nikal Gai Kiyo Ki Darad Ho Raha Th Fir Kiya Budha Mere Upper Ae Se 20 Minit Tak Leta Raha Me Ne Apne Aap Ko Chodva Ne Ki Kosi Ki Me Us 20 Minit Ke Do Raha Ye Soch Rahi Thi Pehe Le To 5 Minit Bohod Darad Huva


Lekin Us Ke Baad Kam Ho Ne Laga Darad Fir Me Soch Ne Lagi Ki Itna Bada Land 11 Inch Ka Lamba Or Der Inch Mota Land To Animal Ka Ho Sakta Hai Lekin Vo Itni Aa Sani Se Keg Us Gaya Fir Muje Yaad Aa Ya Maa Muje Bachpan Me Bola Kar Ti Ki Beti Tum Pata Hai Joriya To Upper Se Ban Ke Aati Hai God Ne Har Kisi Ke Li Ye Koi Na Koi Bana Ya Hai Tum Hare Li Ye Bhi 10 Minit Ke Baad Me Ye Soch Ne Lagi Kiya Bhagvan Ne Her Chut Ke Liye Bhi Ek Land Bana Ya Hai Jo Es Ke Size Ka Ho Or Aa Sani Se Fit Beth Jaaa Ye


20 Miti Ke Baad Muje Halke Hal Ke Jatke Maar Ne Laga Vo Budha Me Ab Budhe Ka Virodh Nahi Kar Rahi Thi Kiyo Ki Muje Ab Achha Lag Raha Tha Or Muje Lga Ki Sayad Upper Vale Ne Es Bhayanak Dikh Ne Vale Visal Land Ko Jo Ki 11 Inch Lamba Or Der Inch Mota Hai Us Ko Sirf Or Sirf Meri Chut Ke Li Ye Hi Bana Ya Ho Es Li Ye Es Koi Apni Bibi Se Bhi To Kabhi Sex Nahi Mila Kiyo Aaj Ye Mere Upper Hai Or Us Ka Land Aasani Se Mre Ander Ghus Gaya Je Se Ki Es Land Ko Meri Hi Chut Ke Li Ye Bana Ya Ho


Fir Andhe Budhe Ne Or Jor Jor Se Jat Ke Maar Ne La Ga Mere Muhu Se To Aahahha Oooohhh Hhhmmmm Ki Avaz Nikal Ne Lagi Me Ab Thori Se Madhos Ho Ne Lagi This Li Ye Me Ne Apni 2 Tango Ko Or Bhi Fela Diya Tha Or Bhi Khol Diya Tha Taki Andhe Budhe Ka Land Chut Me Aasani Se Ander Bahar Jaa Se Ke Or Budha Or Jor Jor Se Jat Ke Maar Raha Tha Mere Muh Se Aavvaazz Nikal Rahi Thi Ke Or Jor Se 10 Minit Ho Gaye Or Me Ek Baar Jar Gai Thi


Jis Ke Vaje Se Andhe Budhe Baba Ka Land Meri Chut Ras Me Naha Liya Tha Or Ab Uske Har Jat Ke Maar Ne Ki Vaja Se Puchuk Puchuk Ki Avaz Kamre Me Guj Rahi Thi Or 11 Inch Ka Land Aab Andha Budha Pura Bhar Nikal K Eek Hi Jat Ke Me Ander Tak Gusa Deta Tha Or Us Ke Har Jat K Eke Sath Me Hil Jaa Tit Hi Or Mmaaaaaa Maaarrrrr Ggggaaaaaaiiii Ae Se Ajib O Garib Avaz Nikalti Thi
40 Minit Ho Gaye The Or Me Do Baar Jar Gait Hi Lekin Budha Bhai Bhi Nahi Jara Tha Karib 1 Ghanta Ho Gaya Meri Halat Kharab Ho Gai Meri Chua Ka To Paav Bhaji Bana Di Thi Andhe Budhe Ne Aakhir Budha Ki Ssas Ful Gai Or Vo Muje Lipat Gaya Tha Or Apna Sara Viriya Meri Chut Me Gira Diya Kafi Sar Viriya Bahr Nikala Tha Itna Viriya Nikla Ki Meri Chut Bhi Us Ko Apne Under Sambhaj Na Sakhi


Or Chut Ke Muh Se Bhi Viriya Bahr Nikal Raha Tha 13 Minit Budha Mere Upper Hi Pada Raha Apna Land Jo Ki Abhi Thanda Ho Gaya Tha Vo Land Meri Chut Me Ghusa Pada Tha 13 Minit Ke Baad Jab Andhe Budhe Ne Muj Pe Se Hath Ne Ki Khos Ki To Me Ne Ne Us Jakar Liya Me Nahi Chah Tit Hi Ki Meri Chut Se Us Land Subha Se Pehe Le Bahr Aaye Me Chah Tit Hi Ke Us Andhe Budhe Ka 10 Inch Ka Land Jo Abhi Sant Ho Ke Bohod Naran Ho Gaya Hai Vo Subha Tak Meri Chut Ke Under Hi Aaram Kare Or Ab Budhe Ka Land Kafi Jiyada Naram Ho Gaya Tha Jis Ke Vaje Se Meri Chut Me Bhi Aaram Mil Raha Tha Bas Me Ne Us Ko Ae Se Hi Subahi Tak Apne Do No Hanth Ko Us Ke Gale Me Daal Ke Apne Sine Se Jakar Rakha Tha Or Apni 2 Tango Ko Budhe Ki Kamar Pe Jakar Rakha Tha Or Under Ki Or Hal Ke Hal Ke Daba Rahi Thi Muje Pata Hi Nahi Chal Ki Kab Subha Ho Gai 9:00 Am Ko Jab Meri Or Andhe Budhe Baba Ki Aakhe Khuli To Budhe Baba Ne Bhi Mehe Sus Kiya Ki Vo Mere Upper Hai Or Us Ka Land Abhi Bhi Meri Chut Ke Under Hi Aaram Kar Raha Tha ...


मुँहबोली बहन की कुवारी चुत की चुदाई

मुँहबोली बहन की कुवारी चुत की चुदाई


पहले मैं अपनी मुँहबोली बहन के बारे में बता देता हूँ. उसका नाम सौम्या है सौम्या मेरे करीबी दोस्त की गर्लफ्रेंड थी, तो वो मुझे भाई मानती थी … लेकिन मैंने जब उसे पहली बार देखा था, तो मेरा लंड उसको सलामी देने लगा था. मेरा दोस्त उससे कम ही बात करता था और मैं ज्यादा … क्योंकि मैं उसे पसंद करने लगा था. पर वो मुझे सिर्फ भाई ही मानती थी. कभी कभी मैं उससे बोल भी देता था कि काश तुम मेरी गर्लफ्रेंड होतीं … तो वो मजाक में मेरी बात हवा में उड़ा देती.


एक बार हम दोनों मार्केट गए, उसे शॉपिंग करनी थी. मैंने उसे अपने साथ बाइक पर बैठाया और हम मार्केट निकल गए. मैंने रास्ते में सोचा कि आज सौम्या से कुछ मज़ा लिया जाए. मैं जानबूझ कर डिस्क ब्रेक लगा देता और वो मुझसे चिपक जाती. जब उसका सीना मेरी पीठ पर लगता, तो उसके गठीले दूध मेरे लंड को बेचैन कर देते थे. मैंने रास्ते में कई बार ऐसा किया.


फिर हम मार्केट पहुंच गए. उसने ढेर सारी शॉपिंग की. कपड़े और सैंडल लिए. अब उसे ब्रा और पेंटी लेनी थी … तो उसने एक कॉस्मेटिक की शॉप के बाहर मुझे रुकने को कहा. मैं समझ गया कि इसे क्या लेना है.


मैंने उससे बोला- मैं भी साथ में चलता हूँ.

वो बोली- यहां पर लड़के नहीं आते हैं.

मैंने ज्यादा जिद की तो उसने कहा- ठीक है … आप काउंटर पर बैठना, मैं बस दस मिनट में आती हूँ.


मैंने हां कर दी, तो वो अन्दर जाकर ब्रा और पेंटी देखने लगी. अब मुझे भी ये देखना था वो किस स्टाइल वाली ब्रा पैन्टी खरीदती है.


मैंने अन्दर झांक कर देखा, तो पर्पल कलर की ब्रा उसके हाथ में थी. कुछ पल मैं यूं ही उसे देखता रहा. उसने अगले ही मिनट में खरीदारी पूरी की और बाहर आने लगी. मैं उसे आता देख कर वापस वहीं बैठ गया.


वो सामने काऊंटर पर गयी और उसने सामान पैक करवाके पैकेट अपने बैग में डाल लिया.


फिर मेरे करीब आते ही बोली- काफी देर हो गई है … अन्धेरा होने वाला है और बहुत तेज भूख भी लगी है, चलो कुछ खाते हैं.


मैंने हामी भर दी और हम लोग पास के एक रेस्टोरेंट में चले गए. वहां हमने खाना खाया और वेटर को बिल के पैसे देकर साथ में टिप भी दी.


वेटर ने अपनी झौंक में बोल दिया- थैंक्स सर यू आर ए नाइस कपल.


उसकी बात सुनकर हम लोग मुस्कुराने लगे. कुछ देर बाद हम दोनों घर के लिए निकले.


रास्ते में मैंने सौम्या से कहा- वो वेटर हमें कपल समझ रहा था.

उसने कहा- हां कोई भी होगा, वो हमको इतने क्लोज़ देख कर कहेगा ही. मगर उसे सच कहां मालूम होता है कि हम दोनों एक नहीं हैं.

मैंने झट से बोला- तो फिर बना लो ना एक.


उसने मेरे कन्धे पर प्यार से हाथ मार दिया. मैंने भी झटके से ब्रेक लगा दिए. इससे फिर से वो उसके चूचे मेरी पीठ में लग गए. मेरा लंड सांप के जैसे सलामी देने लगा.


वो बोली- भाई, आप जानबूझ कर तो ब्रेक नहीं लगा रहे हो?

मैंने कहा- ऐसा कुछ नहीं है … तुम ठीक से खुद को पकड़ कर बैठो ना.

वो हंसने लगी.


हम दोनों इसी तरह की मस्ती करते हुए घर आ गए. मैंने उसे उसके घर पर ड्रॉप किया और बाय कहा. फिर अपने घर आ गया. अब मैं उसके चूचे याद करके बिस्तर में अपने लंड को सहला रहा था. उसके मम्मों का टच मेरे लंड को तन्ना रहा था.


इतने में उसका कॉल आया कि भाई वो में कपड़े लिए थे, वो साइज़ में फिट नहीं आ रहे हैं.

मैंने पूछा- तो फिर क्या करें?

वो बोली- कल फिर से मार्केट चलना है.


मैंने झट से कहा- और उनकी साइज़ फिट हुई है?

वो बोली- किसकी?

मैंने कहा- तुमने और भी कुछ लिया था ना.

वो बोली- डायरेक्ट बोलो ना भाई.

मैंने कहा- अरे ब्रा और पैंटी की साइज़ कैसी रही?

वो हट कहते हुए बोली- मैंने उनको अभी चैक नहीं किया है.


मैंने कहा- एक आइडिया है तुम वीडियो कॉल करके मेरे सामने उनको भी चैक कर लो.

वो- अरे यार आप मेरे भाई हो … आपके सामने कैसे कर लूं?

मैंने कहा- मैं तो तुमको गर्लफ्रेंड मानता हूँ.

सौम्या बोली- अच्छा जाओ … आपसे कोई नहीं जीत सकता … बाय कल बात करते हैं.


उसने फोन काट दिया.


अब मैं रात में उसकी चुदाई के सपने देखने लगा. मैंने सोच लिया था कि कैसे भी करके मुझे इसे चोदना ही है. मैंने उसकी जवानी को याद करके लंड हाथ से हिलाया और उसके नाम की मुठ मारके सो गया.


सुबह मैंने प्लान बनाया कि कल सौम्या को किसी न किसी तरह से चोदना ही है.


उसे पता था कि मैं कभी कभी शराब पीता हूँ. बस मुझे आईडिया आ गया. मैंने उसे कॉल किया और बोला- तुम्हारा ब्वॉयफ्रेंड किसी दूसरी लड़की के साथ डेट पर गया है.

उसने कहा- इस बात का आपके पास क्या प्रूफ है?

मैंने बोला- एक मिनट रुको.


मैंने दोस्त को कॉल किया और उससे पूछा- कहां हो भाई?

वो बोला- तुम्हारी नई भाभी के साथ.


मैंने कॉल को कॉन्फ्रेंस पर लिया हुआ था. इसलिए सौम्या ने सब कुछ सुन लिया. अभी मेरा दोस्त कुछ और कहता, तब तक मैंने कॉन्फ्रेंस कॉल कट कर दी.


वो इस बात को सुनकर रोने लगी थी. मैंने उससे कहा- मत रो पगली … चल ब्रेकअप पार्टी करते हैं.

वो बोली- आप अभी कहां हो?

मैंने कहा- अपने घर पर अकेला ही हूँ. सब लोग दो दिन के लिए बाहर गए हैं … तो मैं ड्रिंक कर रहा हूँ. तुम लेना चाहो … तो आ जाओ.

सौम्या बोली- मैं आती हूँ भाई और आज मैं भी पियूंगी.

मैंने कहा- आ जा सौम्या आज तुझे ब्लैक लेबल पिलाऊंगा.

वो बोली- लेबल बेबल मैं कुछ नहीं जानती हूँ, बस आ रही हूँ.


मैं पहले से ही ब्लैक लेबल की बोतल लेकर आया था. थोड़ी देर में वो मेरे घर आ गई और आते ही मुझे गले लगा कर रोने लगी.


उसके गले लगते ही मेरा लंड खड़ा हो गया. उसके तने हुए ठोस मम्मे मुझे पागल बना रहे थे. मम्मों के टच होते ही में मदहोश हो गया. मैं पहले ही दो पैग ड्रिंक पिए हुए था.


वो जब सामान्य हुई, तो मैंने झट से उसका पैग बना दिया. वो बिना कुछ सोचे समझे एक बार में ही पूरा गिलास पी गयी. उसका मुँह बना, तो मैंने उसके मुँह में एक नमकीन काजू का टुकड़ा दे दिया. उसका स्वाद ठीक हुआ. तब तक फिर मैंने एक और बड़ा पैग बना दिया. वो उसे भी झट से पी गयी.


मैंने इस तरह उसे 4-5 हार्ड पैग दिए. शराब धीरे धीरे पी जाए, तो नशा होता है … मगर एक साथ गटगट करके ये पता ही चलता कि दारू चढ़ भी रही है या नहीं.


अब उसे नशा काफी हो गया था. मैंने सिगरेट जला कर उसे पकड़ा दी. वो सिगरेट को होंठों में लगा कर कश खींचने लगी.


मैंने उससे कहा- सौम्या … ये तुम्हारे साथ अच्छा नहीं हुआ.


बस फिर क्या था … वो नशे की टुन्नी में सब बताने लगी.

वो बोली- साले के लिए मैंने क्या नहीं किया … हरामी कुत्ते के साथ मैंने दो बार सेक्स किया … उस मादरचोद का लंड मुँह में लिया. मैं उसे पैसे भी देती थी.


उसके मुँह से गालियां सुनकर मेरा लंड खड़ा हो गया. मैंने मौके का फायदा उठाया और एक हार्ड पैग बना कर उसके हाथ में पकड़ा दिया. उसने बिना सोचे समझे उस पैग को भी पी लिया.


अब वो नशे में मदहोश हो कर अपने पैर फैला कर मेरे सामने बैठी थी. मैंने अपना एक हाथ उसकी जांघ पर फेरते हुए उससे कहा- काश अगर उसकी जगह मैं होता, तो तुम्हारे जैसी इतनी सुन्दर माल को धोखा नहीं देता.


वो मुझे नशीली आंखों से देखने लगी और बोली- आप इतना प्यार करते मुझे?


मैंने हां कर दिया और सीधे उसके होंठों पर अपने होंठ रख कर उसे किस करने लगा. वो भी मेरा साथ देने लगी. मैं उसे चूमते हुए अपने एक हाथ को उसके मम्मे पर ले गया और दबाने लगा.


अब उसे सेक्स का नशा भी चढ़ गया. उसने मेरी शर्ट खींची. मैंने उसकी इच्छा समझ कर अपने सारे कपड़े झट से निकाल फेंके. अब मैं उसके सामने एकदम नंगा खड़ा था. मैंने उसको किस किया और नीचे लंड पर इशारा करते हुए उसको लंड मुँह में लेने को कहा.


उसने झट से मेरा 7 इंच का लंड मुँह में भर लिया और लॉलीपॉप के जैसे चूसने लगी. वो इतना मस्त लंड चूस रही थी कि मैं कुछ ही मिनट में उसके मुँह में ही झड़ गया. वो मेरे लंड का पूरा माल पी गयी.


अब मैं उसे बिस्तर पर ले गया और उसके सारे कपड़े निकाल दिए. वो मेरे सामने एकदम नंगी हो गयी थी. मैं उसके मम्मों को मसलने लगा, उसके एक निप्पल को चूसे जा रहा था. वो मस्त होकर मेरा साथ दे रही थी.


फिर वो बोली- भाई, मैं बहुत प्यासी हूँ … बहुत दिनों से चुदायी नहीं की … आप जल्दी से चुदाई करो … अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है … प्लीज फ़क मी ब्रो.

मैंने कहा- अभी तो सारी रात बाकी है मेरी जान … आज मैं तुझे बहुत चोदने वाला हूँ … क्योंकि मैंने आज तक तेरे नाम की बहुत मुठ मारी है.

वो बोली- भाई मैं भी आपसे कब का चुद जाती … पर मैं आपको भाई बोलती थी ना … इसलिए मैं झिझकती थी. पर आज आपने मेरा सारा संकोच निकाल दिया है … आप आज मुझे जमकर चोदो और मुझे अपनी बना लो.


ये सुनकर मैं उसकी टांगों के बीच में आया और उसकी चुत चाटने लगा.

वो गांड उठाते हुए कहे जा रही थी- आह … और चाटो भाई … और और … आह ऐसे ही … उफ्फ करते रहो.


कुछ ही पलों में वो एकदम से अकड़ गयी और उसने अपनी चुत से पानी छोड़दिया. मैं उसका सारा चुत रस पी गया.


थोड़ी देर तक वो शिथिल पड़ी रही. दारू के नशे से उसकी आंखें बोझिल हुई जा रही थीं. मैंने देर करना उचित न समझा और अपना 7 इंच का मोटा लंड उसकी चुत पर रख दिया.


वो बोली- एक मिनट रुको.

मैंने कहा- क्यों?

सौम्या बोली- पहले आप मेरी कसम लो कि कभी मुझे धोखा नहीं दोगे.

मैंने कहा- जान तेरी कसम … मैं तुझे सारी जिन्दगी ऐसे ही चोदूंगा और तू अब मेरी लुगाई बनके रहेगी.


वो हंस दी और हम दोनों ने एक लम्बा किस किया. फिर मैंने दुबारा से चुत पर लंड सैट किया और एक ही झटके में अपना 7 इंच का लंड डाल दिया.


वो लंड घुसते ही एकदम से चिल्ला पड़ी और बोली- आह मर गई … रुक जा हरजाई … कोई भला ऐसे अपनी लुगाई को चोदता है … तुम तो मुझे रंडी के जैसे चोद रहे हो.


मैंने वासना में गुर्राते हुए कहा- आज मैं तुझे रंडी के जैसे ही चोदना चाहता हूँ … ताकि तू मेरी पहली चुदाई भूल ना पाए.

वो बोली- ठीक है … तो चोदो … आज मुझे आप अपनी रंडी ही समझो.


मैंने लंड को बाहर निकाला और फिर से एक झटके में डाल दिया. अब मैं उसे किस करता रहा और तेज झटकों से चोदता रहा.


मैं उसे चोदते हुए बोला- मादरचोद … साली छिनाल … रंडी … इतने दिनों से तड़पा रही थी … अब जाकर मुझे तेरा छेद चोदने को मिला है. कितनी सुन्दर है तू … आह तेरी चुत का भी जवाब नहीं है मेरी जान … तेरी चुत में बहुत रस है मेरी रंडी …


सौम्या गांड उठाते हुए बोली- आह साले बहनचोद पी ले मेरा सारा रस … बहन के लौड़े मेरा पूरा बदन अब तेरा है … चोद साले मुझे … अपनी रंडी बना कर चोद दे हरामी … तेरा लंड भी कम नहीं है. मैं सिर्फ आज ही नहीं … मैं तुझसे रोज चुदूंगी … आह तेरे लंड से चुत की खाज मिटवाऊंगी … आह चोद साले.


मैं उसकी नशीली बातें सुनकर और जोश में आ गया. मैंने धक्के और तेज कर दिए. चुदाई के साथ मैं उसके मम्मे को चूस रहा था.


वो अपने हाथ से अपना एक दूध पकड़ कर मुझे पिलाते हुए बोली- आह पी ले साले … भैनचोद … आज अपनी बहन का दूध चूस ले … आज तूने बहन को अपनी रंड़ी बना लिया … आह तू बहुत बड़ा बहनचोद है.


मैं 25 मिनट तक उसको तेजी से चोदता रहा. फिर मैं झड़ने को होने लगा.

मैंने उससे बोला- मेरा निकलने वाला है.

वो बोली- भाई, मेरी चुत में ही छोड़ दो.

मैंने अपना सारा माल उसकी चुत में भर दिया. हम कुछ देर एसे ही चिपके पड़े रहे.


थोड़ी देर बाद वो मेरे लंड को हाथ में पकड़ कर उसे फिर से जगाने लगी.

अब मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया. मैंने उससे कहा- शायद लंड को भी पता है कि उसकी बहन अभी बहुत प्यासी है.


उसने मेरा लंड मुँह में भर लिया और चूसने लगी.


मैंने उससे कहा- मुझे अब तुम्हारी गांड मारनी है.

वो बोली- नहीं … मैंने कभी गांड नहीं मरवायी … बहुत दर्द होगा.

मैंने कहा- जान मैं आराम से डालूंगा … और अब तो मैं तुझे लुगाई के जैसे ही चोदूंगा.

उसने हां कर दी.


मैंने उसे एक लार्ज पैग बना कर उसे पिलाया और उसकी गांड मारने की तैयारी कर ली. मैंने उसकी गांड में तेल की शीशी का ढक्कन खोल दिया और ढेर सारा तेल उसकी गांड में भर दिया. फिर एक उंगली से उसकी गांड को खोदा. फिर दो उंगलियों से गांड ढीली की.


अब वो खुद ही नशे में कहने लगी- साले भोसड़ी के लंड डालकर गांड मार ना … क्यों उंगली से खेल कर रहा है.


मैंने भी एक पैग ठोका और लंड का सुपारा उसकी गांड से टिका दिया. फिर उसकी कमर पकड़ कर मैंने लौड़ा गांड में पेल दिया. उसकी मां चुद गई मगर वो लंड झेल गई. मैंने पूरा लंड पेल कर उसकी गांड मारने का सुख भी ले लिया.


उस रात मैंने उसे 6 बार चोदा. अब हमें जब भी मौका मिलता है, हम जमकर चुदाई का मजा ले लेते हैं.


आपको मेरी मुँहबोली बहन सौम्या की चुत चुदाई की कहानी कैसी लगी … प्लीज़ मुझे मेल करके जरूर बताएं.

Bhabhi Ki Chhoti Bahan Mast Chudwane Lagi

Bhabhi Ki Chhoti Bahan Mast Chudwane Lagi



Garam Hindi Sex Story, Jija Sali Fucking, Mera naam Jatin hai aur main 20 saal ka hoon. Mera rang gora aur height 5’8 hai aur maine body bhi bahot achi bna rakhi hai jiss par bahot si ladkiyan fida hai. Mere lund ka size 7inch hai aur wo mota bhi hai jisse ladkiyan choosna chahti hai. Ab main apni kahani par aata hoon aur apko apni kahani me le chalta hoon. Bhabhi Ki Chhoti Bahan Mast Chudwane Lagi.

Ye kahani pichle saal pehle ki hai jab main B.Tech. 1st year me tha aur mere college ki bahot si ladkiyan mujh par marti thi. Us time mere bhaiya ki shadi bhi thi aur meri bhabhi mere city ki doosri colony me rehte the. To mujhe udhar side coaching ke liye aana padta tha aur unka flat bhi mere raste me aata tha.

Ek din kuch aisa hua ki main jab coaching puri kar ke wapis apne ko ghar ko jane ke chala toh thodi aage jate hi mujhe meri hone wali bhabhi mil gyi aur main bike rok li. Main bhabhi ko namaste ki aur kha – Aayo bhabhi main apko ghar tak chord deta hoon.


Bhabhi ne bhi han kha aur beth gyi kyoki wo time sardiyo ka tha aur thand bhi bahot padti thi. Main unhe ghar chod kar wapis hone lga tabhi bhabhi ne kha andar aaja par maine mna kar diya kyoki sham ke 5 baj gye the aur sardiyo me andhera jaldi hone ki vajah se rush bhi bahot hojata hai. Par bhabhi ne mujhe jaane nhi diya aur andar le hi gyi main bhi unki baat kaat na ska aur andar chala gya.

Main andar aa gya aur sofe par beth gya aur pta chala ki ghar par bhabhi aur unki choti behen Jhanvi hai, aur baki sare ghar wale pados me kisi function par gye hue hai. Tab bhabhi ne mujhse roti khane ko kha par maine mna kar diya aur itne me unki choti behen humare pass aa gyi.

Wah kya kayamat lag rhi thi Jhanvi uski kaatilana najar, uske gulab se bhare gulabi honth aur figure to maano bande ko khada khada hi geela kar de. Wo dikhne me bahot sundar thi aur sexy bhi maine jab usse dekha to dekhta hi reh gya aur lund bhi khada ho gya. Fir hum sab uske room me beth kar baate marne lag gye aur baton baton me pta chala ki usne abi 11th ke exam diye hai aur 12th me admission li hai.

Itne me ghar ki bell baji aur bhabhi ne darwaja khola to dekha ki pados ki aunty unhe bulane aayi hai aur wo unke sath bahar chali gyi. Hum ek dusre sath itna ghul mil gye the ki mano aise lag rha ho ki pichle janam ki bhichde panchi mil gye ho.


Tab mujhe bahot jor ki susu lagi thi aur maine usse washroom ke baare pucha aur washroom chala gya. Jab main washroom se wapis aa rhi thi tab maine dekha ki Jhanvi mere phone me blue film lga kar dekh rhi hai aur apne hatho se apne boobs daba rhi hai.

Main kamre ke bahar se usse dekh rha tha aur khade khade uski chudai ke sapne dekh rha tha aur mera lund bhi bhi dande ki tarah khada ho gya tha. Mujhse ab aur intezar nhi ho rha tha main dheere se andar gya aur usse piche se pakad kar uski frock ke upar se hi uske boobs ko hatho me le liya.

Pehle to wo ghabra gyi par mujhe dekh kar bina kuch kahe mera sath dene lag gyi. Kya kamaal ke the uske boobs main usse dheere dheere masalne lag gya aur khada khada hi uski panty me hath daal kar chut ki jannat ko apni ungalio se mehsus karne lag gya.

Ab maine usse bed par gira diya aur uske upar aa kar uske gulabi hontho ko chusne lag gya. Wo bhi mere hontho ko chus chus kar mere hontho ka sawad le rhi thi. Ab maine apni jeeb uske muh me daal di aur usne meri jeeb ko lolipop ki tarah chusa. Mujhe bahot maja aa rha tha fir maine uske kapde utar diye aur usne mere bhi utar diye. Kyoki humme garmi lagne lag gyi thi.


Ab maine uske nange badan ko niharta aur niharta hi reh gya, kyoki uska nanga badan dekh kar mere muh me paani aa gya tha. Aur maine usse chatna shuru kar diya aur chatte -2 uski garden par dant bhi maar diya. Aur fir uske santre jaise boobs ko pakad kar muh me le liya aur muh me bhar kar chusne lag gya. Iska Jhanvi bhi bahot maja le rhi thi aur maje me lambi lambi siskariya bhar rhi thi.

Ab mujhse aur bardash nhi hua aur maine uski panty utar kar usse nanga kar diya aur apna muh uski choot par le gya. Jaise hi mera muh uski choot par aaya uski choot ki khushbu se mano chehak utha aur chooth ko khol kar chatne lag gya. Uski chikni gulabi choot itni mast thi ki main uski choot ko icecream samjh kar chaati ja rha tha.

Idhar Jhanvi bhi bahot maja le rhi thi aur lambi lambi siskariya bhar rhi thi. Aur ek dam se apni tango ko tight kar mera muh fasa kar apna saara paani mere muh me hi nikal diya jisse main saara chatt se pi gya.

Ab maine uski choot ka paani pi liya tha aur uska paani bahot lajvab tha. Main uski choot ko lagatar chaati ja rha tha aur uske boobs ko hatho me le kar dabayi ja rha tha jisse Jhanvi fir se mera sath dene lag gyi thi.


Ab maine bhi deri kiye apna lund uski choot par ragadana shuru kar diya tha aur jor jor se uski choot par ragadta ja rha tha. Aur idhar uske nipple ko muh me le kar chus rha tha tabhi fir se Jhanvi ki choot ne apna paani mere lund par nikal diya.

Ab maine bhi bina deri kiye uski choot par apna chikna lund set kiya aur ek dhakka mara jisse lund choot me aadha chala gya. Par aadhe jaane se lund ki payas nhi bhuj rhi thi isliye maine ek jor dar jhatka mara jisse lund uski choot me pura chala gya.

Aur idhar Jhanvi ne bahot jor se cheenkh maari maine uske muh par apna hath rakh diya. Ab fir se lund ko bahar nikal kar uski choot me ek rocket ki tarah apna lund chalaya jo ki uski bachedani pe ja kar lga jisse usne fir se cheenkh maari. Aur maine fir se uske muh par apna hath rakh diya aur wo rone lag gyi. “Bhabhi Ki Chhoti Bahan”

Thodi der tak main dheere dheere uski choot marta rha jisse uska dard kam ho gya. Aur maine fir se apne lund ki speed bada kar uski chudai karne lag gya, ab Jhanvi bhi aaaahhhh aaahhhhh aaaahhh jaise awaje nikal rhi thi aur madhoshi me hi chod do chod do boli ja rhi thi.


Maine apna rocket chalu rakha jisse Jhanvi ne apna paani ek baar fir nikal diya. Aur ab maine bhi moke ki najakat ko samjhte hue 10minute baad apna kholta hua laava uski choot me uchaal diya. Ab hum dono thodi der aise hi lete rhe aur fir thodi der baad apne kapde daal kar beth gye aur ek dusre se baaten marne lag gye.

Thodi der baad ghar ki bell baji aur humme lga ki bhabhi aa gyi hai. Jhanvi ke uthne se pehle maine usse long kiss kari aur uske boobs ko jor jor se dabaya aur fir wo darwaja kholne chali gyi aur kha – Didi aayi hai.

Main – Bhabhi aap itni der se kha thi? Bhabhi – Pados me jha function tha main vaha chali gyi thi. Raat ke 9 baj rhe the aur bhabhi ne mujhe vahi rukne ko kha par maine bhabhi se kha – Bhabhi agar nhi gya to ghar wale pareshan ho jayenge aur dant bhi bahot padegi.

Bhabhi – Itni si baat hai toh main phone kar ke keh deti hoon ki Jatin aaj mere yha so jayega. Tab to koi pareshani nhi hogi!! Mere man me laddu foot rhe the aur maine kha – Jaise apko thik lage. Main apne bhaiya ke hone wale sasural me ruka.

बाप ने अपनी बेटी को जबरदस्ती चोदा

बाप ने अपनी बेटी को जबरदस्ती चोदा, baap ne beti ko zabardusi choda

वो बोली : "यार, तेरे पापा को तो सारी तरकीबे आती है, इनसे चुद कर सच में बड़ा मजा आएगा ''.. दोनों सहेलियां फिर से अंदर देखने लगी, अपने-२ जहन में खुद को रश्मि कि जगह रखकर चुदते हुए. शायद चौथी बार था उनका , पर फिर भी समीर को देखकर लग नहीं रहा था कि वो थके हुए हैं , सटासट धक्के मारकर वो चुदाई कर रहे थे.


अचानक समीर ने अपना लंड बाहर खींच लिया, और उठकर रश्मि के चेहरे के पास आ गया, शायद इस बार वो उसके चेहरे पर अपना माल गिराकर संतुष्ट होना चाहता था.


एक दो झटके अपने हाथों से मारकर जैसे ही अंदर का माल बाहर आया, काव्या और रश्मि को लगा जैसे दुनिया रुक सी गयी है, स्लो मोशन में उन्हें समीर के लंड का सफ़ेद और मसालेदार दही रश्मि के चेहरे पर गिरता हुआ साफ़ नजर आया..


रश्मि के चेहरे को अपने पानी से धोने के बाद,बाकी के बचे हुए रस को समीर ने उसके मुम्मों पर गिरा दिया, और वहीँ बगल में लेटकर पस्त हो गया.


शायद ये उनका आखिरी राउंड था.


काव्या ने श्वेता को चलने के लिए कहा, पर जैसे ही श्वेता उठने लगी, उसके सर से खिड़की का शीशा टकरा गया और एक जोरदार आवाज के साथ वो शीशा टूट गया, दोनों सहेलियों कि फट कर हाथ में आ गयी.


दोनों जल्दी से उछलती हुई वापिस अपने कमरे कि तरफ भागी और दरवाजा बंद करके चुपचाप लेट गयी.


समीर ने जैसे ही वो आवाज सुनी वो नंगा ही भागता हुआ वह पहुंचा, जाते हुए उसने अपने ड्रावर में से पिस्टल निकाल ली थी.

baap ne beti ko zabardusti choda



वो चिल्लाया : "कौन है, कौन है वहाँ ……''


नंगी पड़ी हुई रश्मि ने अपने शरीर पर चादर लपेटी और वो भी डरती हुई सी बाहर कि तरफ आयी, जहाँ समीर खिड़की के टूटे हुए शीशे को देख रहा था.


रश्मि : "क्या हुआ, क्या टूटा है यहाँ ''...


समीर : "खिड़की का शीशा, जरूर कोई यहाँ छुपकर हमें देख रहा था ''


रश्मि के पूरे शरीर में करंट सा लगा, ये सोचते हुए कि उसकी रात भर कि चुदाई को कोई देख रहा था


रश्मि : "कौन, ऐसे कौन आएगा यहाँ ??"..


समीर ने काव्या के रूम कि तरफ देखा तो रश्मि बोली : "तुम क्या कहना चाहते हो, काव्या थी यहाँ, नहीं, ऐसा नहीं हो सकता, वो भला ऐसा क्यों करेगी, उसमे इतनी अक्ल तो है कि वो ऐसा नहीं करेगी ''..


समीर ने कुछ नहीं कहा, वो समझ चूका था कि काव्या के सिवा और कोई इतनी उचाई पर आ ही नहीं सकता था, नीचे से ऊपर आने के लिए कोई भी साधन नहीं था, सिर्फ बालकनी से टापकर ही वहाँ पहुंचा जा सकता था , पर वो ये सब बाते अभी करके रश्मि को नाराज नहीं करना चाहता था..


इसलिए वो अंदर आ गया और उसके बाद दोनों सो गए.


दूसरे कमरे में काव्या और श्वेता भी थोड़ी देर में निश्चिन्त होकर सो गए.


अगले दिन श्वेता जल्दी ही निकल गयी, शायद वो समीर कि शक़ वाली नजरों से बचना चाहती थी.


रश्मि सुबह चार बजे सोयी थी, इसलिए वो अभी तक सो रही थी, पर समीर को जल्दी उठने कि आदत थी, इसलिए वो अपने समय पर उठ गया था.


श्वेता को नौ बजे के आस पास जाता हुआ देखकर उसने मन ही मन कुछ निश्चय किया और काव्या के रूम कि तरफ चल दिया.


काव्या अपने बिस्तर पर लेटी ही थी कि समीर ने दरवाजा खड़काया , काव्या ने जम्हाई लेते हुए दरवाजा खोला, और सामने समीर को खड़ा देखकर उसकी आँखे एकदम से खुल गयी, उसके दिमाग में रात कि चुदाई कि पूरी तस्वीर चलने लगी फिर से और उसकी नजर अपने आप समीर के लंड कि तरफ चली गयी.


काव्या : "अरे अंकल .... मेरा मतलब पापा , आप .... इतनी सुबह ??".


समीर कुछ नहीं बोला और अंदर आ गया , उसके चेहरे पर गुस्सा साफ़ झलक रहा था, वो चलते हुए बालकनी में पहुँच गया


काव्या कि तो हालत ही खराब हो गयी, वो वहाँ से अपने कमरे कि बालकनी कि तरफ देखने लगा, और फिर अंदर आकर काव्या के सामने खड़ा हो गया, वो समीर से नजरे नहीं मिला पा रही थी..


समीर : "तुम ही थी न रात को मेरी बालकनी में, तुम्ही देख रही थी न वो सब ....''


काव्या : "क …क़ …क़्यआ …… मेरी कुछ समझ में नहीं आ रहा है ''.


वो इतना ही बोली थी कि समीर का एक झन्नाटेदार थप्पड़ उसके बांये गाल पर पड़ा और वो बिस्तर पर जा गिरी.


समीर चिल्लाया : "एक तो गलती करती हो और ऊपर से झूट बोलती हो …''


इतना कहते हुए वो आगे आया और बड़ी ही बेदर्दी से उसने काव्या के बाल पकडे और उसे खड़ा किया


काव्या दर्द से चिल्ला पड़ी , पर समीर पर उसका कोई असर नहीं हुआ , समीर का एक और थप्पड़ उसके कान के पास लगा और उसे कुछ देर के लिए सुनायी देना भी बंद हो गया.


आज तक उसे रश्मि ने भी नहीं मारा था, और ना ही कभी उसके खुद के बाप ने, और आज ये समीर उसे पहले ही दिन ऐसे पीट रहा था जैसे उसकी बरसों कि दुश्मनी हो.


वैसे समीर था ही ऐसा, उसका बीबी से तलाक सिर्फ इसी वजह से हुआ था कि दोनों में झगडे और बाद में मार पीट काफी ज्यादा बढ़ चुकी थी, समीर ने तो अपनी बीबी को एक-दो बार अपनी पिस्टल से डराया भी था, और यही कारण था उनके तलाक का, घरेलु हिंसा .


पर समीर का ये चेहरा सिर्फ घर तक ही था, बाहर किसी को भी उसके ऐसे बर्ताव कि उम्मीद तक नहीं थी, सोसाईटी में और ऑफिस में तो उसे शांत स्वभाव का सुलझा हुआ इंसान समझा जाता था, पर गुस्सा कब उसके दिमाग पर हावी हो जाए, ये वो खुद नहीं जानता था ..


और आज भी कुछ ऐसा ही हुआ था.


उसके खुद के घर में , काव्या उसके बेडरूम के बाहर छुप कर उसकी चुदाई के नज़ारे देख रही थी, ऐसा सिर्फ उसे शक था, पर फिर भी उसने अपने गर्म दिमाग कि सुनते हुए जवान लड़की पर हाथ उठा दिया, ये भी नहीं सोचा कि उसकी एक दिन कि शादी पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा, रश्मि क्या कहेगी जब उसे पता चलेगा कि उसकी फूल सी नाजुक लड़की को ऐसे पीटा गया है..


और काव्या को तो विश्वास ही नहीं हो रहा था कि उसके साथ ऐसा सलूक किया जा रहा है, जिस समीर पापा कि चुदाई देखकर उसकी चूत में भी पानी भर गया था कल रात और वो उनसे चुदने के सपने देखने लगी थी ,वो उसके साथ ऐसा बर्ताव कर रहे हैं, वो सब रात भर का प्यार नफरत में बदलता जा रहा था अब..


समीर ने एक और झापड़ उसे रसीद किया और फिर बोला : "सच बोल, तू ही थी न रात को वहाँ ''.


काव्या ने आग उगलती हुई आँखों से समीर को देखा और ना में सर हिला दिया..


समीर ने उसे धक्का दिया और उसका सर दिवार से जा लगा, और उसके माथे पर एक गोला सा बन गया , वो दर्द से बिलबिला उठी.


समीर उसके करीब आया और फिर से उसके बालों को पकड़ा और उसके चेहरे के करीब आकर गुर्राया : "मेरी बात कान खोलकर सुन ले साहबजादी, ये मेरा घर है, और मेरी मर्जी के बिना यहाँ का पत्ता भी नहीं हिल सकता, फिर से ऐसी कोई भी हरकत न करना कि मैं तुझे और तेरी माँ को धक्के मारकर इस घर से निकाल दू , समझी , अगर यहाँ रहना है तो सीधी तरह से रह ''.


और फिर बाहर निकलते हुए वो पीछे मुड़ा और बोला : "ये बात हम दोनों के बीच रहे तो सही है, वरना अंजाम कि तुम खुद जिम्मेदार होगी ''.


ये सारा किस्सा रश्मि को न पता चले, इसकी धमकी देकर समीर बाहर निकल आया ...... अपने बिस्तर पर दर्द से बिलखती हुई काव्या को छोड़कर .


उसने उसी वक़्त श्वेता को फ़ोन करके रोते-२ सारी बात बतायी , उसे भी विश्वास नहीं हुआ कि समीर ऐसा कुछ कर सकता है उसके साथ , श्वेता ने काव्या को अपने घर पर आने के लिए कहा.


वो नहा धोकर तैयार हो गयी, तब तक रश्मि भी उठ चुकी थी, और सबके लिए नाश्ता बनाकर टेबल पर इन्तजार कर रही थी, समीर और काव्या जब टेबल पर आकर बैठे तो दोनों ने एक दूसरे कि तरफ देखा तक नहीं.


रश्मि ने अपनी बेटी को उदास सा देखा तो उसके पास आयी और तभी उसके माथे पर उगे गुमड़ को देखकर चिंता भरी आवाज में बोली : "अरे मेरी बच्ची, ये क्या हुआ, ये चोट कैसे लगी ''.


काव्या ने नफरत भरी नजरों से समीर कि तरफ देखा, जो बड़े मजे से नाश्ता पाड़ने में लगा हुआ था, और फिर धीरे से बोली : "कुछ नहीं माँ, रात को बिस्तर से गिर गयी थी, ऐसे बेड पर सोने कि आदत नहीं है न, इसलिए ''.


समीर उसकी बात सुनकर कुटिल मुस्कान के साथ हंस दिया..


अपना नाश्ता करने के बाद काव्या अपनी माँ को बोलकर श्वेता के घर पहुँच गयी.


उसके कमरे में पहुंचकर उसने विस्तार से वो सब बातें बतायी जो आज सुबहउसके साथ हुई थी , जिसे सुनकर श्वेता का खून भी खोलने लगा


श्वेता : "साला, कमीना कहीं का , देख तो कितने वहशी तरीके से पीटा है तुझे, ''


उसने काव्या के माथे को छूकर देखा, वहाँ अभी तक दर्द हो रहा था


श्वेता : "यार, जिस तरह से तू समीर के बारे में बता रही है, मुझे तो लगता है कि ये कोई साईको है, अगर जल्द ही इसका कुछ नहीं किया गया तो शायद किसी दिन ये आंटी के साथ भी ऐसा कुछ ना कर दे ''

ये बात सुनते ही काव्या सिहर उठी, उसे अपनी माँ से सबसे ज्यादा प्यार था और उसे वो ऐसे पिटते हुए नहीं देख सकती थी


काव्या : "नहीं, मैं ऐसा नहीं होने दूंगी ....''


श्वेता : "वो ऐसी हरकत ना करे, ना ही तेरे साथ और ना ही आंटी के साथ, इसके लिए हमें कुछ करना होगा ''


दोनों ने एक दूसरे को देखते हुए सहमति से सर हिलाया, दोनों ने मन ही मन दृढ़ निश्चय कर लिया कि चाहे कुछ भी हो जाए , वो कभी समीर को ऐसा कुछ नहीं करने देंगी


उनके अंदाज को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता था कि वो अपनी बात पूरी करने के लिए किसी भी हद तक जा सकती हैं

दोनों समीर से निपटने कि रणनीति तैयार करने लगी


श्वेता : "देख, अभी कुछ दिन के लिए तो तू बिलकुल चुपचाप रह , तेरा ये सौतेला बाप क्या करता है, कौन-२ उसके दोस्त है, किन बातों से खुश होता है, किनसे नाराज होता है, ये सब नोट करती रह, उसके बाद हम उसके हिसाब से आगे का प्लान बनाएंगे ''.


काव्या : ''पर इससे क्या होगा …??''.


श्वेता : "हमें बस ये सुनिश्चित करना है कि जो आज तेरे साथ हुआ है वो दोबारा न हो, और न ही कभी तेरी माँ के ऊपर ऐसी नौबत आये ''.


काव्या : "और जो उसने मेरे साथ किया है आज,उसका क्या ''


श्वेता : "उसका भी बदला लिया जाएगा , तू चिंता मत कर , तभी तो मैं कह रही हु, उसपर नजर रखने के लिए, हमें उनकी कमजोरी पकड़नी है, ताकि उसका फायदा उठाकर हम अपनी मर्जी से उन्हें अपने इशारों पर नचा सके ''


काव्या कि समझ में उसकी बात आ गयी ..


थोड़ी देर तक बैठने के बाद काव्या वहाँ से वापिस घर आ गयी.


उसने अब श्वेता कि बात मानते हुए समीर के ऊपर नजर रखनी शुरू कर दी ..


वो कोई भी बात कर रहा होता, उसे सुनने कि कोशिश करती, किन लोगो से मिलता है, कहा-२ जाता है, उन सब बातों का हिसाब रखना शुरू कर दिया उसने..


चुदाई के मामले में एक नंबर का हरामी था वो..


दिन में 2-3 बार सेक्स करता था, एक सुबह ऑफिस जाते हुए और फिर रात को सोने से पहले..


उसकी माँ कि मस्ती भरी चीखे पुरे घर में गूंजती थी, जिन्हे सुनकर वो भी गीली हो जाती थी.


समीर का कोई फ्रेंड सर्किल नहीं था, ऑफिस और घर के बीच चक्कर काटना , बस यही काम था उसका..


बस एक ही फ्रेंड था, उसका वकील दोस्त, लोकेश दत्त.


जिसकी सलाह मानकर समीर ने रश्मि को प्रोपोस किया था..


दोनों दोस्त अक्सर शाम को बैठकर दारु पीया करते थे और अपने दिल कि बाते एक दूसरे से शेयर करते थे..लोकेश अपनी फेमिली के साथ पास ही रहता था उनके घर के ...


ये सब वो उसी बालकनी में बैठकर करते थे जहाँ छुपकर काव्या ने अपनी माँ को चुदते हुए देखा था.


पर पीने के बाद समीर ये भूल जाता कि शायद काव्या अपने कमरे के अंदर बैठकर वो सब बाते सुन रही है जो वो दोनों कर रहे होते हैं और वो दोनों अक्सर चुदाई कि बाते भी करते थे या फिर ऑफिस में आयी किसी नयी लड़की के बारे में या कोर्ट में आये केस में फंसी बेबस लड़कियो और उनकी कारस्तानियों के बारे में..


कुल मिलाकार उनकी हर चर्चा का केंद्र सेक्स ही होता था..


शादी के एक हफ्ते बाद दोनों दोस्त बालकनी में बैठकर बारिश और दारु का मजा ले रहे थे..


लोकेश : "यार आजकल कोर्ट में एक तलाक का केस आया हुआ है , मिया बीबी अपनी शादी के बीस साल बाद तलाक ले रहे हैं, मैं औरत कि तरफ से केस लड़ रहा हु, वो रोज आती है मेरे केबिन में, अपनी 19 साल कि लड़की के साथ,उसका नाम है रोज़ी..यार, क्या बताऊ, इतनी गर्म और लबाबदार जवानी मैंने कही नहीं देखि , उसमे बोबे देखकर मन करता है अपना मुंह उनके बीच डालकर अपनी सारी फीस वहीँ से वसूल लू … हा हा हा ''


समीर भी उसकी बात सुनकर बोला : "ये उम्र होती ही ऐसी है, कच्चे-२ अमरुद लगने जब शुरू होते हैं न जवान शरीर पर, उन्हें दबाने और मसलने का मजा ही कुछ और है ……''

वो आगे बोला : "वैसे मुझे उसके बारे में भी बात करनी थी, उनकी माली हालत ज्यादा ही खराब है, इसलिए रोज़ी कोई जॉब करना चाहती है, अगर तेरे ऑफिस में कोई स्टाफ कि जरुरत है तो देख ले। ।''


समीर (कुछ देर सोचकर) : "हाँ , चाहिए तो सही मुझे, अपनी पर्सनल असिस्टेंट , रश्मि से शादी करने के बाद वो जगह अब खाली हो गयी है, तू उसे मेरे ऑफिस भेज देना, मैं देख लूंगा ''


लोकेश : "देखा, सिर्फ उसके बारे में सुनकर ही तू उसे जॉब देने के लिए तैयार हो गया, है तो तू पूरा ठरकी , हा हा "

और फिर अपना गिलास एक ही बार में खाली करते हुए समीर बोला : "एक तेरे क्लाईंट कि बेटी है, जिसके मस्त शरीर कि बाते सुनकर ही मेरा लंड खड़ा हो गया है, और एक मेरी बीबी कि बेटी है, साली ऐसी मनहूस है कि उसे देखकर खड़ा हुआ लंड भी बैठ जाए ''


काव्या छुपकर वो सब बातें सुन रही थी, ये पहली बार था जब समीर और लोकेश उसके बारे में बाते कर रहे थे


लोकेश : "यार, ऐसा भी कुछ नहीं है, मुझे तो उसका मासूम सा चेहरा बड़ा ही सेक्सी लगता है ''


उसने अपने लंड के ऊपर अपना हाथ फेरते हुए कहा


दोनों पर शराब पूरी तरह से चढ़ चुकी थी


स्कूल में कुंवारी चूत चोदी

स्कूल में कुंवारी चूत चोदी


बात स्कूल के दिनों की है जब मैं बारहवीं कक्षा में पढ़ता था, तब हमारी क्लास में एक बहुत ही खूबसूरत लड़की पढ़ती थी, जिस पर हर कोई लाइन मारता था लेकिन वो मुझ पर मरती थी और मेरा भी दिल उसे चोदने को बहुत करता था। लड़की इतनी खूबसूरत थी कि हर एक का लन उसे देख कर खड़ा हो जाता था।


एक दिन मैंने उस लड़की से अपने प्यार का इजहार कर ही दिया और वो भी झट से मान गई जैसे वो पहले ही तैयार बैठी थी। उस दिन हम दोनों इकट्ठे पैदल स्कूल से आये तो रास्ते में प्यार भरी बातें ही की। धीरे धीरे हमारा प्यार आगे बढ़ा तो मैंने उसे हाथ भी लगाना शुरू किया। आखिर वो घड़ी आ गई जिसका मुझे बेसब्री से इंतजार था, मैं उसके नाम की कई बार मुठ भी मार चुका था।


एक दिन जब हम घर को वापिस आ रहे थे, रास्ते में मैंने उसको पकड़ कर किस की। पहले तो उसने ना की लेकिन जब मैंने उसके होंटों को अच्छे से चूमा तो वो भी मेरा साथ देने लगी। उसने स्कर्ट और कमीज पहनी हुई थी, मेरा हाथ धीरे धीरे उसके मम्मों पर गया और मैंने उन्हें मसलना शुरू कर दिया।


वो भी गर्म हो गई, मैंने उसकी कमीज के ऊपर वाले दो बटन खोल कर अन्दर हाथ डाल दिया और उसके मम्मों को जोर से मसलने लगा। पहले तो उसने मुझसे छुटने की कोशिश की लेकिन मैंने सोचा कि अगर मैं अब कुछ न कर पाया तो कभी भी कुछ नहीं कर पाऊँगा।


फिर मैंने होंसला सा करके उसकी स्कर्ट के अन्दर भी हाथ डाल दिया। वो और गर्म हो गई। फिर मैंने अपना लन अपनी पैंट में से बाहर निकाल दिया। तब तक उसे भी मजा आने लग गया था। जब मैंने अपना लन उसे पकड़ा दिया तो वि शरमा गईई और मेरी ओर देखने लगी। मैंने उसकी शर्म दूर करने के लिए उसका हाथ पकड़ कर आगे पीछे करना शुरू कर दिया और उसकी स्कर्ट को ऊपर उठा दिया और उसकी फुद्दी के साथ अपना लन रगड़ दिया। वो भी अब पूरी तैयार हो गई थी। मैंने उसकी गीली हुई फुद्दी में अपना लन घुसाने की कोशिश की लेकिन उसकी फुद्दी बड़ी कसी थी क्योंकि अभी तक उसका मुहूर्त नहीं हुआ था, फिर मैंने जोर लगा कर अपना सुपारा उसके अन्दर थोड़ा घुसो दिया तो वो दर्द से बिलबिला उठी। मैंने उसे दर्द से निजात दिलाने के लिए उसकी चूची अपने मुँह में ले ली और उसे मजा आने लगा।


फिर मैंने अहिस्ता अहिस्ता अपना लन उसकी फुद्दी में घुसेड़ना शुरू किया और वो भी मेरा साथ देने लगी। अभी मैंने अपना आधा लन ही उसके अन्दर डाला था, वो मजा लेने लगी, फिर मैंने आहिस्ता से अपना पूरा लन उसकी फुद्दी में डाल दिया और अन्दर-बाहर करने लगा।

School Me Kuwari Choot Chodi


इस चुदाई का मजा मैंने उसे घोड़ी बना कर लिया तो वो थोड़े ही समय के बाद झड़ गई और उसे बहुत मजा आया लेकिन झड़ने के बाद जैसे ही वो मेरा लन बाहर निकलने लगी तो मैंने उसे पीछे से पकड़ लिया।


उसने मुझे छोड़ने को कहा तो मैंने कहा- रानी, अभी तो तेरा काम हुआ है, मेरा अभी बाकी है।


उसने कहा- तेरा काम कैसे होगा?


तो मैंने उसे कहा- जब तू मेरा लन अपने मुँह में डाले तब !


उसने कहा- फिर क्या होगा?


मैंने कहा- जैसे तेरे को मजा आया है, वैसे जब मेरे को मजा आएगा, तब मेरा काम होगा।


फिर उसने मेरे गीले लन को, जिस पर थोड़ा सा खून भी लगा हुआ था, को अच्छी तरह साफ़ किया और कहा- यह खून कहाँ से लगा? तो मैंने कहा- तेरी फुद्दी फटी है, उसमें से खून निकला है।


और जब उसने अपनी फुद्दी को हाथ लगाया तो उसमें से थोड़ा खून निकला, जिसे देख कर वो रोने लगी।


मैंने सोचा कि यह तो पंगा खड़ा कर लिया है, इसे बताने की जरूरत ही नहीं थी।


उसने कहा- अब यह खून निकलता रहेगा और मेरे घर वालों को पता चल जायेगा।


मैंने उसे समझाया- ऐसा सब लड़कियों के साथ होता है लेकिन किसी को कोई पता नहीं चलता।


फिर वो थोड़ा सा चुप हो गई और सिसकारियाँ लेती हुई मेरे लन को अपने मुँह में डालने लगी।


फिर क्या था, वो बड़ी मस्ती से अपने मुँह में लोलीपोप की तरह मजा लेने लगी और करीब पाँच मिनट के बाद मेरा भी काम जब होने लगा तो मैंने जोर जोर से उसके मुँह में धक्के मारने शुरू किये।


और जैसे ही मेरा काम हुआ तो मैंने अपना सारा माल उसके मुँह में ही उड़ेल दिया, जिसके बाद उसने भी उसे बड़े मजे से पी लिया और कहने लगी- बड़ा मजा आया ! हम रोज ऐसा करेंगे !


उसके बाद हम लोग अपने अपने घर को चले गए।


हमारा चोदा-चोदाई का सिलसला इस तरह ही स्कूल से आते-जाते हुए चलता रहा और अब वो भी पूरी तरह तजुर्बेकार हो चुकी थी।


यह कहानी मैं आप सब के साथ इस लिए बाँट रहा हूँ कि कभी भी खुले में सेक्स नहीं करना चाहिए नहीं तो कभी न कभी आप फंस सकते हैं। ऐसा ही कुछ हमारे साथ भी हुआ।


उस दिन हम दोनों रोज की तरह घर वापिस आ रहे थे, हमारे दोनों की कहानी अब तक स्कूल में सभी को पता चल गई थी और हम जब घर वापिस आ रहे थे तभी हमारा मूड बन गया और हम दोनों अपनी उसी जगह पर चले गए जहाँ पर हम चोदा-चोदाई करते थे। फिर हम बिना दर के वहाँ पर एक दूसरे के साथ लिपट कर वही सब कुछ करने लगे जो एक लड़का लड़की करते हैं लेकिन हमें नहीं पता था कि हमें कोई देख भी रहा है।


अभी हमें लगे हुए करीब दस मिनट ही हुए थे कि हमारी क्लास के दो और लड़के जो कई दिनों से हम पर नजर रखे हुए थे, आ गए और उन्होंने हमें सेक्स करते हुए ऊपर से ही पकड़ लिया जिन्हें देख कर हम पहले थोड़ा से डर गए लेकिन मैंने उन्हें समझाया कि यार किसी से मत कहना क्योंकि वो रोने लग पड़ी थी।


उन लड़कों ने कहा- हम किसी से कुछ नहीं कहेंगे अगर यह हमें भी फुद्दी दे !


पहले तो वो नहीं मानी लेकिन मैंने उसे मना ही लिया।


फिर क्या था, उसके हाँ करते ही उन दोनों ने अपनी पैंट में से फटाफट अपने लन निकाले जो पहले से ही फर्राटे मार रहे थे।


इतना देख कर वो बोली- मैं दोनों के साथ कैसे कर सकती हूँ एक साथ?


तभी उन में से एक बोला- अब दो नहीं, हम तीनों मिल कर तुम्हें चोदेंगे रानी !


फिर क्या था, मैं तो पहले से ही लगा हुआ था, मैंने अपना लन उसके मुँह में डाल दिया, एक ने उसके हाथ में पकड़ा दिया और एक ने उसकी फुद्दी में घुसा दिया जिसे देख कर अब तो वो बिल्कुल रंडी ही बन गई थी।


अब हम तीनों मिल कर उसे चोद रहे थे और वो भी पूरा साथ दे रही थी। तभी हम बारी बारी झड़ गए और जाने लगे। तभी मेरे दोनों सहपाठियों ने उससे कहा- रानी, अब हम तीनों ही तुझे चोदा करेंगे !


तब उसने भी हाँ में सर हिला दिया, फिर उसके बाद हम जब तीनों इकट्ठे होते तो उसे चोदते थे और वो भी बड़े मजे से फुद्दी देती थी।


यह सिलसला काफी लम्बे समय तक चलता रहा। आखिर जब हमारी बारहवीं की क्लास खत्म हो गई तब वो गर्ल्स कॉलेज में पढ़ने के लिए चली गई तो हम बॉयस कोलेज में !


उसके बाद करीब एक महीने के बाद उसकी शादी हो गई और आजकल वो दिल्ली में है लेकिन हम अभी तक कुंवारे ही हैं। उसकी पढ़ाई भी बीच में ही रह गई। यह थी मेरी सच्ची कहानी जो मेरे साथ बीत चुकी है। मुझे कमेंट करके जरूर, बताएँ कि कहानी कैसी है।

सगे भाई बहन ग्रुप सेक्स के खेल में

Bhai ne sagi bahan ko choda

भाई बहन की चुदाई, बहन की चुदाई, ग्रुप चुदाई बहन के साथ, बहन की चूत, दीदी की चूत, दीदी की ग्रुप में चुदाई, दीदी की बुर, भाई बहन की बुर चुदाई की कहानी.

मैं राज गर्ग दिल्ली रहता हूँ और अपने बिज़नस के अलावा मेरा एक छोटा सा स्विंगर्स क्लब यानि वाइफ़ स्वैपिंग क्लब भी है। हम अपने क्लब में जब मीटिंग करते हैं तो, सभी क्लब मेम्बर्स आपस में अपने अपने पति और पत्नी बदल कर सेक्स करते हैं।
मेरे अलावा 4-5 कपल्स और हैं, हम सब एक साथ बैठते हैं, बातें करते हैं, खाते पीते हैं, फिर बाद में जिसको जो भी अच्छा लगे या अच्छी लगे, उसके साथ सबके सामने, सबके साथ सेक्स करते हैं।
मेरी बीवी मेरे सामने क्लब के हर एक मेम्बर से सेक्स कर चुकी है और मैं अपनी बीवी के सामने अपने क्लब की हर एक औरत को चोद चुका हूँ। आप ये कहानी मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |

हमारे एक बड़े सम्माननीय क्लब मेम्बर हैं, अग्रवाल साहब… वो मेरी बीवी के बड़े दीवाने हैं, जब भी मौका मिलता है, वो शशि से अगर सेक्स नहीं करते तो अश्लील छेड़छाड़ ज़रूर करते हैं।
और क्लब में इस बात का कोई ऐतराज भी नहीं करता कि बात करते करते अगर आप किसी और की बीवी के कूल्हों पे या चुची पर हाथ फेर रहे हैं, या फिर फिर आपकी बीवी को कोई और मर्द बाहों में लेकर खड़ा है।

औरतें खुल कर अपनी सेक्स फ़ंतासियाँ सबसे डिस्कस कर रही हैं। एक दूसरे से गंदी बातें, गंदे इशारे क्लब में सब जायज़ है।

ऐसे ही एक दिन मुझे एक ईमेल आई, उसमें एक मियां बीवी हमारा क्लब जॉइन करना चाहते थे।
मैंने क्लब का प्रेसिडेंट होने के नाते उनको क्लब के सारे नियम कायदे समझाये, क्लब की फीस बताई, करने और न करने वाली सब बातें समझाई।

अगले दिन दोनों मियां बीवी मुझे मेरे घर पर मिलने आए, हम दोनों पति पत्नी ने उनका स्वागत किया।

थोड़ी औपचारिक बातचीत के बाद मैंने मुद्दे पर आना ठीक समझा और उन दोनों से पूछा- तो जैसा आप जानते हैं कि हमारे क्लब में अपनी अपनी बीवियाँ बदल कर या यूं कहें कि अपने अपने पति बदल कर एक दूसरे के साथ सेक्स किया जाता है, इसमें कोई शर्म लिहाज नहीं किया जाता। आपसे भी कोई आकर पूछ सकता है, क्या मैं आपकी पत्नी या पति से सेक्स कर सकता हूँ/ सकती हूँ। इसमें आप बुरा नहीं मान सकते।
मगर किसी भी क्लब मेम्बर को आप जलील नहीं कर सकते, चाहे उसकी परफॉर्मेंस कैसी भी हो, आप किसी के साथ गाली गलौच या मार पीट भी नहीं कर सकते। सभी मामले सभी ग्रुप मेम्बर्स आपस में बैठ कर सुलझाते हैं।
आपको इस क्लब को जॉइन करने के लिए अपने पूरे होशो हवास में बिना किसी भी दबाव के अपनी रजामंदी देनी होगी, आप क्लब को कभी भी छोड़ सकते हैं, बस एक बार जमा करवाई गई फीस वापिस नहीं मिलेगी।
क्लब छोड़ कर बाहर आप किसी से भी कभी भी इस क्लब के बारे में कुछ भी अच्छा या बुरा नहीं कह सकते, मतलब क्लब का किसी भी बात में ज़िक्र तक नहीं करेंगे।
तो क्या मैडम आप इस के लिए राज़ी हैं?


Bhai ne sagi bahan ko choda



वो बोली- जी, मैं पूरी तरह से राज़ी हूँ।
मैंने फिर पूछा- तो क्या सर आप इसके लिए राज़ी हैं?
मिस्टर गोयल भी बोले- 100 प्रतिशत राज़ी, बस आप यह बताओ कि आप हमें क्लब में कब लेकर जा रहे हो?
मैंने कहा- ले जाएंगे, ले जाएंगे, पहले एक टेस्ट और कर लें!
वो बोले- कर लो!

मैंने पूछा- आप दोनों में से ज़्यादा जेलस कौन है, कौन अपने पार्टनर को किसी दूसरे के साथ देख कर ज़्यादा जलता है?

मिस्टर गोयल- देखिये, मैं तो नहीं जलता मगर मैं किसी और सुंदर सी औरत से बात करूँ तो ये अक्सर इसका बुरा मनाती है।
मैंने कहा- तो मिसेज गोयल यह टेस्ट आपका है।
मेरे इतना कहते ही शशि उठ खड़ी हुई और गोयल साहब के पास जाकर बैठ गई।
उसने गोयल साहब के चेहरे से एक उंगली फिरानी शुरू की और गर्दन से होते, कंधे से नीचे, सीने पे, और फिर पेट से होते उनकी जांघ तक आ गई। आप ये कहानी मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |

गोयल साहब अपनी आँख बंद करके इसका मजा ले रहे थे- ओह शशि, मजा आ गया, जान, और कर!
वो बोले तो शशि उनके बिल्कुल साथ चिपक कर बैठ गई।
मैं बड़ी बारीकी से मिसेज गोयल के रिएक्शन देख रहा था। अंदर ही अंदर वो जैसे जल रही थी।

फिर शशि ने गोयल साहब का हाथ पकड़ कर अपने चेहरे पे रखा और उनसे वैसे ही करने को कहा।
गोयल साहब ने पहले शशि के चेहरे पे हाथ फेरा, फिर गर्दन और कंधे से होते हुये उसके सीने पर आए, पहले गोयल साहब ने शशि की आँखों में देखा फिर मेरी तरफ और फिर अपनी बीवी की तरफ और फिर हल्के से शशि के स्तन के ऊपर से छूते हुये वो नीचे उसके गोरे पेट पर आ गए।

तब मेरी बीवी ने अपनी साड़ी का पल्लू हटा दिया, अब गहरे गले के उसके ब्लाउज़ से उसका क्लीवेज और ब्लाउज़ के पतले रूबिया कपड़े से उसके ब्रा का सारा डिजाइन भी दिख रहा था।
गोयल साहब ने शशि को देखा, तो उसने इशारे से उन्हें अपने स्तन छूने को कहा।

गोयल साहब ने शशि के एक स्तन पे थोड़ा हिचकिचाते हुए हाथ रखा तो शशि ने उनका हाथ अपने हाथ में पकड़ कर पूरे ज़ोर से अपना स्तन दबवाया, तो मिसेज गोयल ने अपना मुँह फिरा लिया।

मैं उठ कर मिसेज गोयल के पास गया और उनके बिल्कुल पास बैठ कर बोला- देखिये मिसेज गोयल, यह तो अब रूटीन का मैटर होने वाला है, आप सिर्फ देखिये, आपको भी यही सब करना और देखना होगा।

मिसेज गोयल मुझसे बोली- क्या ये सब मैं आपके साथ भी करूंगी?
मैंने कहा- जी, मेरे साथ भी और क्लब के बाकी मेम्बर्स के साथ भी। हम टोटल 10 लोग हैं, आपको मिला कर 12 हो गए। अब जिस दिन आप कपड़े उतारेंगी तो 11 लोग आस पास खड़े आपको देख रहे होंगे, 6 मर्द और 5 औरतें, इसके लिए भी आपको अपना मन पक्का करना पड़ेगा।

कह कर मैंने अपने कपड़े उतारने शुरू किए।
वो चौंक कर बोली- यह क्या कर रहे हैं आप?
मगर मैं अपने कपड़े उतारता गया और बिल्कुल नंगा हो गया, अपना लंड हवा में हिलाता हुआ बोला- तो मिसेज गोयल, क्या आप मेरा लंड अपनी चूत में लेना पसंद करेंगी?

वो तो एकदम से खड़ी हो गई- यह क्या बकवास है?
वो गुस्से से बोली।
मैंने कहा- आप शांत हो जाइए, इसी बात के लिए तो हम आपको तैयार कर रहे हैं, वहाँ आपसे कोई भी ये सब पूछ सकता है और ये भी हो सकता है कि कोई पूछे भी नहीं और जब आप बिल्कुल नंगी हो तो कोई आए और अपना लंड आपके मुँह या चूत में घुसा दे।

मेरी बात सुनते ही वो बैठ गई- तो क्या मुझे रंडी बनना होगा?
वो थोड़ा तल्खी से बोली।
मैंने कहा- जी नहीं, रंडी नहीं बनना, बस अगर आपके मन में सेक्स के प्रति कोई भी बात है, कोई भी अधूरी इच्छा है, उसे बाहर निकालना है, रंडी नहीं, बस बेशर्म बनना है।
मैंने उसे समझाया।

कुछ देर वो बैठी सोचती रही, दूसरी तरफ शशि और गोयल साहब आपस में बिज़ी थे, गोयल साहब शशि की साड़ी उठा कर अपना हाथ उसकी साड़ी में डाल कर शायद उसकी चूत सहला रहे थे और शशि उनका तना हुआ लंड हाथ में पकड़ कर उम्म्ह… अहह… हय… याह… उनकी मुट्ठ मार रही थी।
कुछ देर मिसेज गोयल ये सब देखती रही, फिर बोली- ओ के, मैं तैयार हूँ, मिस्टर राज, अब आपके किसी भी सवाल, किसी भी बात का मैं जवाब दूँगी।
मैंने कहा- तो नंगी होकर मेरा लंड अपने मुँह में लेकर चूसो।
मेरे इतना कहते ही उस औरत ने गजब की फुर्ती दिखाई, 10 सेकंड में अपनी साड़ी, पेटीकोट, ब्लाउज़, ब्रा पेंटी सब उतार फेंके और बिल्कुल नंगी हो कर मेरे पांव के पास बैठ गई, मेरा लंड अपने हाथ में पकड़ा और लगी चूसने।

मैंने कहा- मिसेज गोयल, आप तो बड़ी तेज़ निकली?
वो बोली- मेरा नाम पूजा है, और जब मैं एक बार ठान लेती हूँ, तो फिर पीछे नहीं हटती।

उसके बाद हम चारों ने आपस में अपने अपने पार्टनर बदल कर सेक्स किया जिसे गोयल दंपति ने बहुत एंजॉय किया।

अगली मीटिंग में हमने उन्हें आने की दावत दी। मीटिंग हुई शुक्रवार रात की थी। शनिवार को दो कप्ल्ज़ ने कहीं बाहर जाना था, इसलिए शनिवार की जगह शुक्रवार रात की मीटिंग रखी गई।

करीब 7 बजे सब मेम्बर्स इकट्ठे हो गए, बस गोयल साहब और उनकी पत्नी ही नहीं आए थे। वो रास्ते में कहीं जाम में फंस गए थे। हमने अपनी पार्टी शुरू कर दी।

ड्रिंक्स थी, वेज नॉन वेज भी था, हर कोई अपनी पसंद के पार्टनर के साथ बातचीत में मशगूल था। अभी सिर्फ एक दो पेग हुये थे, इस लिए सुरूर कोई ज़्यादा नहीं था मगर मस्ती माहौल में छा चुकी थी।

हमारे अग्रवाल साहब तो सिर्फ चड्डी पहने घूम रहे थे, मुझसे कई बार पूछ चुके थे- अरे नई चिड़िया आई या नहीं?
मैं उन्हें आश्वासन दे देता- आ रही है।

कोई एक घंटे बाद मिस्टर और मिसेज गोयल पहुंचे। जब वो रूम में दाखिल हुये तो सबने उनका स्वागत किया मगर अग्रवाल साहब तो सन्न रह गए, मुझे एक तरफ ले जा कर बोले- अरे यार, ये तुमने किसको मेम्बर बना दिया?
मैंने पूछा- क्यों क्या हुआ, वो खुद आए थे मेरे पास, मैंने तो सब कुछ चेक करके ही उनको मेम्बर बनाया है।

वो बोले- अरे यार ये दोनों तो मेरे बहन और बहनोई हैं, मैं इनके साथ कैसे?
उधर गोयल साहब ने भी उनको चड्डी में लंड अकड़ाये घूमते देख लिया था, पूजा गोयल तो मुँह छुपाती फिर रही थी।
यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप ये कहानी adultstories.co.in पर पढ़ रहे है |
मैंने स्थिति को संभालने के लिए ज़ोर से सब मेम्बर्स को आवाज़ लगाई- मेरे प्यारे ग्रुप मेम्बर्स, आज एक बड़ी विकत स्थिति आ गई है, हमारे नए बने मेम्बर्स मिसेज एंड मिस्टर गोयल हमारे अग्रवाल साहब के रिश्ते में बहन और बहनोई हैं। अब हालात ये हैं कि इन दोनों को आपस में एक दूसरे के सामने आने में दिक्कत हो रही है। अब आप सबसे निवेदन है कि मिल कर फैसला करें कि इस बात का क्या हल निकाला जाए।

सब मेम्बर्स आपस में बातचीत करने लगे। कुछ मेम्बर्स ने सुझाव दिये- या तो मिस्टर अग्रवाल या मिस्टर गोयल ये क्लब छोड़ दें।
मैंने कहा- पर अब तो इनको पता चल गया कि ये लोग इस क्लब के मेम्बर हैं।

दूसरा सुझाव- यहाँ किसी का किसी से कोई रिश्ता नहीं है, सिर्फ मर्द और औरत का रिश्ता है, इसलिए सब एंजॉय करो।
इसका प्रति उत्तर आया- तो जिस दिन राखी आएगी, उस दिन अग्रवाल साहब अपनी बहन से राखी कैसे बंधवायेंगे? आप ये कहानी मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |

फिर एक तीसरा हल पेश किया गया- अग्रवाल साहब और मिसेज गोयल आपस में सेक्स न करें, अपने भाई और बहन के रिश्ते को कायम रखें, मगर चूंकि इस क्लब में आने मात्र से ही ये दोनों भाई बहन एक दूसरे के सामने नंगे हो चुके हैं, इसलिए इन्हें क्लब की हर क्रिया में भाग लेने की इजाज़त है, बस आपस में ये न करें, और किसी के साथ, कुछ भी करें!

सबने अग्रवाल साहब और पूजा गोयल की तरफ देखा, दोनों के चेहरे भावशून्य थे, वो दोनों यह फैसला नहीं कर पा रहे थे, अगर आपके पास इस बात का कोई हल है तो प्लीज़ बताएं।

School Ke Harami Laundo Ne Balatkar Kiya Mera


 

School Ke Harami Laundo Ne Balatkar Kiya Mera

हाय फ्रेंड्स, मेरा नाम प्राची है, और मैं कटनी के केन्द्रीय विद्यालय के अध्यापिका हूँ | ये मेरी रियल कहानी है जो मेरे साथ पिछले साल अगस्त में हुई थी, इस कहानी में मैं आपको बताउंगी कि कैसे मेरी एक स्टूडेंट की वजह से मेरे बदनामी के साथ साथ मुझे सजा भी भुगतनी पड़ी | अब मैं कहानी चालू करती हूँ|

हर साल आल इंडिया में केन्द्रीय विद्यालय में रीजनल स्पोर्ट्स मीट होता है |और कुछ टीचर्स को स्कूल के बच्चो को लेकर दूसरे स्कूलों में जाना पड़ता है | तो मैं चेस कि टीम ले कर सागर गई थी केंद्रीय विद्यालय क्रमांक-3 में सबके रुकने कि व्यवस्था थी | और मैं सिर्फ लड़किओं को लेकर गई हुई थी तो मेरे ऊपर जिम्मेदारी बहुत ज्यादा थी जबकि सभी ये बात जानते हैं कि सागर एरिया बहुत ख़राब है | रात के 8 बजे हम सब वहां पहुंचे थे और अपना अपना रूम देख रहे थे कि हमे कौन-सा रूम मिला है |

तभी मेरी नजर एक सर पर पड़ी वो बहुत बदमाश टाइप के सर हैं और वो वहीँ लोकल सागर के ही हैं उनके बारे में सभी को पता है | रूम का पता चलने के बाद हम सब रूम में गए और वहां अपना अपना सामान जमाने लगे | तभी मेरी एक स्टूडेंट जिसका नाम दिव्या है उसने मुझसे कहा कि मैडम मुझे टॉयलेट आई है | तो मैंने कहा कि ठीक है तुम चले जाओ और फिर वहां से आ कर अपना सामान जमा लेना फिर वो वहां से चली गई और हम सब अपना अपना सामान ज़माने में लग गए |


तभी दिव्या वापस रोते रोते आई और तो मैंने उससे पूछा कि क्या हुआ तुम्हे ? तुम रो क्यों रही हो ? वो रोये जा रही थी और मैं उससे बार बार पूछे जा रही थी क्या हुआ है मुझे बताओ | बहुत बोलने के बाद उसने मुझसे कहा कि मैडम जब मैं टॉयलेट जा रही थी तो वहां दो लड़के घुस आये और मेरा वीडियो बना लिए और बोल रहे हैं कि रात में 11 बजे हमे स्कूल के पीछे वाली पहाड़ी में आ कर मिलना नहीं तो तुम्हारा वीडियो सबको दिखा के तुम्हे बदनाम कर देंगे | ये बात सुनते ही साथ मेरी तो आँखे फटी की फटी रह गई मेरे कान के परदे फट गए |

मैंने उससे कहा कि देखो तुम रोना बंद करो तुम्हे परेशान होने की जरुरत नहीं है कौन है वो लड़के मैं देख लूंगी | फिर मैंने उसे चुप करा के रूम में भेज दिया और सोचने लगी कि वो लड़के कौन हो सकते हैं जो इतनी खराब हरकत कर सकते हैं ? फिर मैं भी रूम में आ गई और बच्चो से कहा कि मैं जा रही हूँ खाने का टोकन लेने | खाना भी बन ही रहा था तब फिर मैं टोकन ले के वापस आई और बच्चो को एक एक टोकन दे कर कहा कि 15 मिनट से सब खाना खाने चलेंगे | दिव्या से कहा कि तुम मेरे साथ रहना और मुझसे दूर मत जाना और उसने हाँ में सिर हिला दिया |

फिर हम सब खाना खाने लगे और खाने के बाद सब रूम की तरफ चल दिए | मैंने दिव्या से कहा कि तुम रात में सोना नहीं और मेरे साथ चलना जब सब सो जायेंगे | करीब 10:30 बजे तक मेरे रूम की सारी लड़कियां सो चुकी थी और मैंने चुपके से दिव्या को उठाया और कहा कि चलो मेरे साथ

(मैंने उसे ले जाना इसलिए जरुरी समझा | क्यूंकि मैं उन कमीने बच्चो को नहीं जानती थी और मैं जानना चाहती थी कि कौन हैं ये बच्चे और किस स्कूल के हैं ताकि मैं उनकी शिकायत कर सकूं | फिर हम दोनों स्कूल के बाहर निकले तो पूरा सुनसान इलाका था | फिर मैंने सोचा कि मैं छुप जाती हूँ और इंतज़ार करती हूँ और देखती हूँ कि कौन बच्चे हैं ?


11 बजे तक वहां कोई नहीं आया था और हलकी बारिश हो रही थी और मुझे भी डर लग रहा था कि इतनी रात का वक़्त हैं कहीं मुझे ही लेने के देने न पड़ जाए | जैसे ही मैं निकलने को हुई तभी मेरे पीछे से किसी ने मुझे दबोच लिया और गले में चाकू अड़ा दिया (चाकू अड़ा कर उसने कहा कि ज्यादा होशियारी मत करना मैडम वरना तुम्हे यहीं कहीं ठिकाने लगा देंगे ) | मैं डर के मारे कुछ बोल भी न पाई और मैंने जब सामने देखा तो दो और लडकें थे जो दिव्या के गले में चाकू अड़ा कर उसे मेरे पास ला रहे थे |

हलकी सी रौशनी में मैं एक लड़के को पहचान गई थी | और मुझे समझते जरा भी देर न लगी कि ये सब वही सर के स्टूडेंट्स हैं जिनकी इमेज हर स्कूल में खराब है | उन लोगों ने शांति से उनके पीछे आने का इशारा किया | एक लड़का हमारे आगे था और दो लड़के हमारे पीछे थे वो हम दोनों को स्कूल के पीछे वाली पहाड़ी पर ले जा रहे थे | 10 मिनट के बाद हम सब वहां पंहुचे तब तक वो बहुत खुश होने लगे कि चारा डाला एक बकरी को फ़साने के लिए और यहा देखो फस गई दो और वो जोर जोर से हसने लगे |

और मैं मन ही मन बहुत रो रही थी कि कहाँ से मैं इनके चंगुल में फंस गई जैसा मैं सोच रही थी आखिर वही हुआ मेरे साथ | उनलोग ने हम दोनों से कहा कि अगर जिन्दा रहना चाहते हो तो शोर मत मचाना और जो हम करना चाहते हैं वो करने देना वरना तुम दोनों को यहाँ ही मार देंगे |
उसमे से एक लड़के ने मुझे पेड़ से बाँध दिया और बाकि दो लडको ने दिव्या को पकड़ के उसके कपडे उतारने लगे वो चिल्ला रही थी और गिडगिडा रही थी कि उसे छोड़ दे पर वो कहाँ किसी कि सुनने वाले थे | वो तो बस अपनी ही धुन में सवार थे फिर उन दोनों ने दिव्या को नंगी कर दिया और उसे उसी के कपड़े में बिछा कर लेटा दिया | मैं ये सब नहीं देखना चाहती थी पर मैं क्या करती ये सब मेरी आँखों के सामने ही हो रहा था | फिर उनमे से एक लड़के ने उसके मुंह में लंड डाल दिया और दूसरा उसके दूध चूस रहा था |

बेचारी बहुत घबरा रही थी और इन हैवानो को जरा भी रहम नहीं आ रहा था | 10 मिनट तक ऐसा करने के बाद जिसका नाम कार्तिक था उसने अपना लंड चुसाना चालु कर दिया और हेमंत ने उसकी चूत में जोरदार धक्का लगा के पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया | उसकी चीख निकल गई और वो जोर जोर से आअह्ह्ह्ह आअह्ह्ह्ह  करने लगी और हेमंत उसकी चूत जोर जोर से चोदे जा रहा था | 15 मिनट तक चोदने के बाद वो उसकी चूत में ही झड गया और मेरे पास आ कर बैठ गया |

ऐसे ही हेमंत के बाद कार्तिक ने उसे चोदना चालू किय और अंकित उसकी गांड में अपना लंड डाल रहा था | उसकी चूत और गांड फट चुकी थी और वो आह्हह्हह्हह्हह ऊओह्हह्ह रुक जाओ कमीनो सांस तो लेने दो कह रही थी | करीब आधे गनते टक चोदा था हरामखोरों ने उसे और सब उसकी चूत में ही झड़ गए थे |

उसकी चूत से मुठ निकलता जा रहा था बिलकुल अन्दर तक भर दिया था उसकी चूत को | मुझे लग रहा था जैसे साले प्यासे है चूत के लिए | फिर सब मेरे पास आकर बैठ गए और जिस लड़के का नाम हेमंत था उसने दिव्या से कहा चल कपडे पहन ले | तभी कार्तिक ने कहा अरे देखो उसकी चूत तो मारली अब मैडम को भी तो चखलो |

फिर सब भूके भेदिये कि तरह मुझे देखने लगे और धीरे धीरे मेरे पास आये | मेरे कपडे फटना शुरू हो गए और मेरे ब्रा और पेंटी को देखकर तो सारे लड़के पगा हो गए | उन सब ने मेरी चूत को मेरी पेंटी के ऊपर से ही चाटना शुरू कर दिया और कार्तिक मेरे दूध को ब्रा के ऊपर से पीने लगा |


उन सब ने पेंटी के ऊपर से ही मेरी चूत में ऊँगली करना चालू कर दी थी | मैं उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म अह्हह्हह्हह्हह क्या कर रहे हो कहने लगी | १० मिनट बाद मेरी पूरी पेंटी गीली हो गयी | और सबने अपने लंड उठाये एक ने मेरी गांड में पेल दिया और दोस्सरे ने मेरी चूत में | मुझे चोद चोद के पागल कर दिया था और में बस उम्म्म्मम्म्म्मम्म्म्म आअह्ह्ह्ह  आअह्ह्ह्ह कर रही थी |

फिर एक और लड़का आया जो हमारी विडियो बन रहा था | उसने कहा मैडम का गजब फिगर है मैं भी चोदुंगा | और अब मेरी चूत में दो लंड और गांड में एक और मुह में एक | सब ने मुझे ४० मिनट चोदा और मुठ मेरी चूत, गांड और मुह में भर दिया | अब हम दोनों लस्त पड़े हुए थे वो लोग चले गए और विडियो भी मिटा दिया | हमने इसके बारे में किसी को नहीं बताया और ना ही कभी कही गए |

Author Name

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.