Articles by "bhabhi ki chudai"

adult stories in hindi Antarvasna Story baap beti ki chudai ki kahani bahan ki chudayi balatkar ki kahani behen ki chudayi bhabhi ki chudai bhai bahan ki chudai bhai bahan sex story in hindi bollywood actress ki chudai ki kahani bollywoos sex stories in hindi chacha bhatiji ki chudai ki kahani chachi ki chudai ki kahani chhoti bahan ki chudai chhoti ladkai ki chudai chudai ki kahaniya dehati chudai ki kahani devar bhabhi ki chudai ki kahani Didi ki Chudai Free Sex Kahani gand chudai gand chudai ki kahani gangbang ki kahani Ghode ke sath desi aurat ki sex story girlfriend ki chudai gujarati bhabhi habshi lund se chudai hindi sex stories Hindi Sex Stories Nonveg hindi urdu sex story jija saali sex jija sali ki chudai ki kahani Kahani kunwari choot chudai ki kahani Losing virginity sex story mama bhanji ki chudai ki kahani mama ki ladaki ki chudai marathi sex story mote lund se chudai ki kahani muslim ladaki ki chudai muslim ladki ki chuadi nana ne choda naukarani ki chudai New Hindi Sex Story | Free Sex Kahani Nonveg Kahani Nonveg Sex Story Padosi Ki Beti pahali chudai pakistani ladaki ki chudai Pakistani Sex Stories panjaban ladki ki chudai sali ki chudai samuhik chudai sasur bahu ki chudai sasur bahu ki sex story sasural sex story school girl ki chudai ki kahani seal tod chudai sex story in marathi suhagraat ki chudai urdu chudai ki kahani in urdu Virgin Chut wife ki chudai zabardasti chudai ki kahaniya एडल्ट स्टोरी कुंवारी चूत की chudai गर्लफ्रेंड की चुदाई गांड चुदाई की कहानियाँ जीजा साली सेक्स पहलवान से चुदाई बलात्कार की कहानी बाप बेटी की chudai की सेक्सी कहानी मामा भांजी चुदाई की कहानी ससुर बहु चुदाई सेक्स स्टोरी
Showing posts with label bhabhi ki chudai. Show all posts

Lund Ki Pyasi Ameer Bhabhi

Lund Ki Pyasi Ameer Bhabhi

Adult Stories pe mere diye invitation ko bahut dino ke baad ek mast Bhabhi ne accept kar lee Namaste mitron, Mera naam rajesh hai, Main jab school mein padhta tha, Tab se Crazy Sex Story ka reader hoon. Indian Gigolo Porn

Main hisar shahar hariyana mein rahta hoon. Yah meri pahli kahani hai, Agar kuch kami ho to maaf karna. Kahani meri aur ek 28 saal ki shaadishuda aurat ki hai jiska naam Vidya hai, Yah kaalpnik naam hai. Vidya ek 28 saal sundar manmohak, Gori, Height 5′ 6″ ke lagbhag, Patli si kamar si par uske chhati mast sudaul 32 size ke hain.

Kamar to poocho mat itni naahuk ki koi dekhe to paagal ho jaaye, Chootad wo mote mote.. Uska Pati ek company ka maalik hai. Main hamesha ek networking site pe call boy ke naam se comment karta tha ki kisi Bhabhi, Aunty, Divorcee, Vidhwa ko sex ya achhi friendship ki jarurat ho to call boy se sampark karein. Aur aage main mera mobile number daalta tha.

Shuruaat mein mujhe bahut door se miss call ya message aate thay Bhabhi aur ladkiyon ke. Ek din mujhe raat ko 9:30 ko ek call aayi. Main samajh gaya ki yah kisi ladki ya Bhabhi ka hoga. Maine recieve kiya. Udhar se ek aurat ki awaaz aayi.
Mast Hindi Sex Story : Didi Ki Chut Dekha Bhai Ne Behosh Karke

Usne poocha- Kya main call boy se baat kar sakti hoon?

Maine kaha- Main kya madad kar sakta hoon aapki?

Wo- Jee maine number net se liya hai, Kya mere saath aap friendship karoge?

Main- Jee bilkul.. Jarur karoonga.. Aapka naam aur City?

Wo- Jee mera naam Vidya hai aur main hisar ki hi rahne waali hoon.

Main- Waah.. Main bhi hisar ka hoon. Main bahut khush tha kyonki yah pahli aurat thi hisar se..

Main bola- Kahiye aapki kis tarah seva karoon?

Vidya aur main us raat bahut der tak baatein karte rahe. Usne bataya ki uska Pati hamesha kaam ki wajah se baahar rahta hai. Aur aajkal wo akelapan mahsoos karti hai. Phir hamari roj baatein hone lagi aur kuch dinon mein hum sex ki baatein karne lage.

Ek din usne kaha- Kya tum mujhe sex ka sukh doge?

Maine haan kaha.

Phir usne mujhe apne ghar ka pata diya jo mere ghar se jyada door nahin tha, Mast hisar ka posche area tha. Main agle hi din uske ghar pahuncha, Bell bajaayi. Jaise hi darwaaza khula, Main use dekhta rah gaya. Kya sundar thi wo.. Usne mujhe andar bulaaya.
Chudai Ki Garam Desi Kahani : Bahan Ghodi Ban Kar Chut Faila Di

Uska ghar andar se bahut sundar aur keemti banawat ka tha. Aur Vidya ko to main dekhta hi raha. Uska gora rang, Patli kamar, Mast tight boobs. Hey bhagwan.. Main to paagal ho gaya. Phir usne mujhe juice pilaaya, Baaton baaton mein ghar dikhaya aur aakhir mein hum bedroom mein aa gaye.

Wo mere paas aayi, Maine der na karte huye use apni baahon mein pakad liya, Uske honthon ko choomne laga, Wo bhi mera saath de rahi thi. 15minute ki choomachati ke baad maine uske boobs dabane shuru kiye. Kya kadak thay uske boobs. Mast gol…

Hum donon ka poora sharir ek doosre pe ghis raha tha. Phir maine use bed par lita diya aur apne kapde nikaal diye. Usne bhi apni saree blouse peticoat nikaal diya. Aur ab wo sirf laal bra aur safed panty mein thi. Uski chamakdaar jaanghein, Mast sapaat pet, Panty jaise sirf uski chut ko dhake huye thi.

Uska chehra laal ho chuka tha. Maine jhat se uski panty utaar fenki aur mast chhoti do inch ki chut ke saath haath se khelne laga aur phir chaatne laga. Uski chut chaatne mein mast khaari lag rahi thi. 20 minute main Vidya ki chut chatta raha.
Mastram Ki Gandi Chudai Ki Kahani : Ameer Client Ne Farm House Par Bulaya

Wo apne boobs khud hi dabati rahi. Phir wo jhad gayi. Main uska saara paani saaf kar gaya. Maine mera lund itna bada kabhi nahin dekha tha, Fool ke 7 inch ka ho gaya tha. Vidya ne use kuch der masla, Chooma, Hilaaya, aur jhat se mukh mein lekar choosne lagi.

Wo choosne mein itni maahir to nahin lag rahi thi par poori tarah kho chuki thi lund choosne mein.. Main bhi itna uttejit ho chuka tha ki kab uske munh mein paani nikaal diya, Pata nahin chala. Aur wo poora paani pee gayi. Poora lund saaf kar diya.

Kuch der baad mera lund tight ho gaya tha. Usne apne pair faila karke mera lund apni chhoti chut pe rakha. Maine dheere dheere apna aadha lund andar ghusaya. Thoda andar jaane ke baad ab nahin jaa raha tha aage. Maine phir lund thoda peeche kheencha aur aage jhatka diya.

Wo cheekh uthi aur uski aankhon se ansoo aane lage. Main thoda ruka aur dheere dheere jhatke lagane laga. Uski chut mast tight thi. Main use 20 minute tak chodta raha aur baad mein paani uski chut mein nikaal diya. Uske chehre par khushi ke bhaav nazar aa rahe thay.
Antarvasna Hindi Sex Stories : Coaching Wali Diksha Didi Virgin Nikli Chodne Pe Pata

Phir ek ghanta hum chipak kar so gaye. Baad mein usne mujhe uthaya aur ek glass doodh diya peene ko. Doodh peene ke baad maine kapde pahne aur uske labon par choomban kiya aur aane laga.

Usne jaate jaate mujhe 5 hazaar rupye diye jo maine waapas kar diye. Aur phir hum donon jab bhi waqt milta, Mast chudai karte.


चाची ने किया चुदाई से इलाज

चाची ने किया चुदाई से इलाज


नमस्ते.. मैं अंगरेज एक बार फिर आप की सेवा में हाजिर हूँ। जैसा कि आप जानते हैं.. मैं पंजाब का एक जाट हूँ। मुझे हिंदी कम आती है।
मैं 6 फुट 1 इंच लम्बाई का अच्छा ख़ासा गबरू जवान हूँ। मेरा 6 इंच का जवान मोटा लण्ड है। मैं थोड़ा पतला हूँ.. पर मेरा लंड काफी मोटा है। मेरे लौड़े का टोपा तो इतना मोटा है.. कि हर औरत के आँसू निकले हैं। लंड इतना सख्त है कि जैसे लोहे की रॉड हो। मेरे लंड ने हर चुदाई की कहानी ऐसी लिखी है कि चुदने वाली की चूत काँप जाए।

बात तीन महीने पहले की है। मेरे घर वाले सब लोग कुछ दिनों के लिए बाहर गए हुए थे। खाना-पीना चाची के जिम्मे बोल दिया गया था।
मेरी चाची एक मस्त माल हैं। उनके मम्मे बहुत बड़े हैं। वो उस समय तीस साल की थीं। चाचा ट्रक चलाते थे.. सो वो घर में अपने नौ साल के बेटे के साथ रहती थीं।

रोज की तरह आज भी मैं खाना खाने उनके घर गया। हम लोग खाना खा कर उठे तो लड़का नदी में नहाने की जिद करने लगा। आज गरमी भी बहुत थी। चाची मना कर रही थीं.. वो रोने लगा।
चाची ने मुझसे कहा- जा इसे नहला लाओ.. पर ध्यान रखना।

मैं उसके साथ चला गया, वो एक तरफ बच्चों के साथ नहाने लगा। अचानक उसका पैर फिसल गया.. और वो गहरे पानी में बहने लगा। मैं उसको बचाने के चक्कर में पानी में कूद गया। पानी कम होने की वजह से मैं पत्थर से टकरा गया। मुझे चोट लग गई.. पर उसे बचा लिया।

मेरे कपड़े फट गए थे। मेरे कंधे से लेकर जांघ तक लंबी खरोंच भी आ गई थी। वो खरोंच मेरे लण्ड के पास से गुजर रही थी।
हम घर गए। मेरी ऐसी हालत देख कर चाची चौंक गईं, जब उन्हें पता चला तो वो बच्चे को डांटने लगीं।
मैंने कहा- छोड़ो भी चाची..
चाची बोलीं- तुम गीले कपड़े उतारो.. मैं तब तक दवा लाती हूँ।

मैंने कपड़े उतार दिए.. सिर्फ अंडरवियर में रह गया था।
वो दवा लेकर आईं और मजाक करते हुए बोलीं- इसे भी उतार देते।
हम दोनों हँसने लगे।

वो बोलीं- चल बिस्तर पर लेट जा।
मेरा अंडरवियर गीला होने के कारण मेरा लौड़ा साफ दिख रहा था, उनकी नजर मेरे मोटे लण्ड से हट नहीं रही थी।

दवा लगा कर बोलीं- तुम्हारे अन्दर भी चोट आई है ना..
मैंने कहा- हाँ..
वो बोलीं- तो दिखाओ न..
इतना कह कर वो अश्लील भाव से हँसने लगीं।
फिर बोली- तुम्हारी अंडरवियर भी गीली हो गई है..
मैंने कुछ नहीं कहा। वो अन्दर गईं और अपनी कच्छी ले आईं.. बोलीं- लो ये पहन लो।


वो बाहर चली गईं तो मैं चड्डी बदलने लगा था.. उसी वक्त वो एकदम से फिर से अन्दर आ गईं।
अब मैं उनके सामने नंगा खड़ा था, मेरा लण्ड देख कर वो कामुकता से हँसने लगीं।

फिर मेरे नजदीक आकर खरोंच देख कर हँस कर बोलीं- तुम तो बहुत बाल-बाल बचे..
मैंने जल्दी से कच्छी पहनी और झट से बोला- देख कर तो आतीं चाची..।
उनकी कच्छी बहुत छोटी थी। मेरा लवड़ा उसमें फूला हुआ दिख रहा था.. बगल से झांटें निकल रही थीं।

अब चाची दवा लगाने लगीं, उनका हाथ मेरे लण्ड से छू रहा था, मेरा लंड उनके स्पर्श से खड़ा हो गया।
कुछ इस तरह से उन्होंने दवा लगाईं कि लौड़ा कच्छी से बाहर आ गया।
चाची बोली- इतना बड़ा कर लिया है.. इसे अन्दर करो..
फिर खुद ही मेरे लण्ड को पकड़ कर चड्डी के अन्दर कर दिया।

उनका हाथ लगने से ही लंड और आतंक फैलाने लगा और फिर से बाहर आ गया अब लौड़ा बेकाबू हो गया था।
लंड की सख्ती देख कर चाची बोलीं- ये जिसके भी अन्दर जाएगा.. उसे मार ही देगा। तुम पूरे जवान हो गए हो.. शादी कर लो।

जब इतनी खुली बात चाची ने बोली तो मैं भी बेशर्म हो गया।
मेरा लण्ड कच्छी में टिक ही नहीं रहा था.. तो मैं बोला- चाची इसका एक ही इलाज है।
मैं उनके सामने ही मुठ्ठ मारने लगा।

चाची ने मुठ्ठ मारते हुए देखा तो उन्होंने भी बोल दिया- मैं मदद करूँ।
मैंने ‘हाँ’ कहा.. तो वो खुल कर बोलीं- एक शर्त पर मुठ्ठ मारूँगी.. तुम्हें मेरी चूत चूसनी होगी.. ये मेरा एक सपना था.. पर तेरे चाचा को ये पसंद नहीं है।
मैंने कहा- ठीक है।
चाची ने मेरा लंड पकड़ा और मुँह में ले लिया।
चाची बड़ी मस्त होकर लण्ड चूस रही थीं.. दस मिनट बाद मेरा माल निकला जिससे चाची का सारा मुँह भर गया।
माल इतना सारा निकला था कि चाची हैरान रह गईं।

फिर चाची मेरे टट्टे पकड़ कर बोलीं- यहाँ कोई माल बनाने की फैक्ट्री लगी है क्या?
मैं मस्ती से मुस्कुराने लगा।
फिर वो मेरा लंड पकड़ कर बाथरूम ले गईं। बाथरूम में चाची ने अपने भी कपड़े उतार दिए। अब मेरे सामने उनकी नंगी साफ चूत थी.. मैं बैठ गया और उनकी फूली हुई चूत को चूसने लगा।

चाची ने शावर चालू कर दिया, मैंने चूत का दाना चूस-चूस कर सारा रस निकाल दिया।
चाची बोलीं- आह.. अब डाल दो जा लौड़ा.. उह..फाड़ दो चूत..
मैंने चाची को घोड़ी बनाया, लंड पर साबुन लगाया, फिर चूत के ऊपर रगड़ने लगा।

चाची बोली- ज्यादा मत तड़फाओ मेरी जान.. डाल दो ना अन्दर.. बना दो मेरी चूत को भोसड़ा।
मैंने ‘फचाक’ से धक्का मारा.. पूरा लंड चिकनाहट के कारण सटाक से चूत के अन्दर घुसता चला गया।
चाची तड़फने लगी- ओह्ह.. बाबाजी.. मार डाला रे.. लंड है कि लोहे की रॉड.. तेरा टोपा मेरी बच्चेदानी को फाड़ रहा है रे..
वास्तव में चाची की चूत बहुत कसी हुई थी.. लौड़ा चूत पर कहर बरपा रहा था।

मेरा सुपारा आंवले जितना बड़ा होने के कारण चूत में फंस सा रहा था.. जिससे मुझे भी दर्द हो रहा था.. पर चुदाई में मजा आ रहा था।
दस मिनट बाद चाची की चूत ने लंड को और अधिक कस लिया, चाची सिसकारने लगीं, मेरा टोपा भी फूलने लगा, हम झड़ने वाले थे।
मैंने उनकी चूची मसकी और इशारा किया तो चाची ने कहा- अन्दर ही आने दो।

अब हमारी आँखें बंद हो गई थीं, एक आनन्द की लहर दौड़ उठी, हम दोनों एक साथ ही झड़ उठे। चाची की बच्चेदानी मेरे माल से भर गई थी। फिर चूत ने लंड को आजाद किया, लंड बाहर आया.. तो चाची ने उसे चूमा और कहा- वाह मेरे शेर.. तुम असली मर्द हो। फिर हम दोनों नहा कर सो गए, रात को दो बार फिर चुदाई की। चाची की चूत सूज गई थी.. पर वे मेरे लंड की दीवानी हो गई थीं।

लण्ड गुलाबो के चूतड़ों के बीच में जोर-जोर से घिसने लगा

 

गुलाबी गांड और चूत की जोरदार चुदाई, लण्ड गुलाबो के चूतड़ों के बीच में जोर-जोर से घिसने लगा - Gulabo ki chut gand chudai,

लण्ड गुलाबो के चूतड़ों के बीच में जोर-जोर से घिसने लगा - Gulabo ki chut gand chudai, चूतड़ के दोनो हिस्सों के बीच का बना हुआ दरार काफ़ी गहरा, चुदाई का रस लगने लगा.

दो महिलाएँ आपस में कुछ अंतरंग बातें कर रही थीं, पीछे बैठा मैं उनकी उनकी बातों को सुनकर बड़ा आनंदित हो रहा था।
दोनों बड़ी अच्छी सहेलियाँ थीं, एक की शादी को करीब चार साल हुए थे, दूसरी की अभी-अभी शादी हुई थी। उनकी बातों में उनके सम्भोग की कहानियों के रस की चर्चा हो रही थी, दोनों एक-दूसरे को अपनी-अपनी चूत चुदाई की दास्तान सुना रही थीं।

एक दूसरे से कहती है- शालू.. तेरी पहली रात को क्या-क्या कैसे कैसे हुआ.. जरा खुल कर बता ना?
‘चल हट बेशरम.. जो तेरे साथ हुआ.. वही मेरे साथ हुआ..’
‘यानि पहली रात पूरी खाली गई क्या तेरी..?’
‘अरे नहीं रे.. बार-बार.. लगातार.. हुआ करीब साढ़े तीन घंटे.. ऊपर-नीचे होते रहे.. पीछे से.. आगे से.. सब हुआ..’
‘क्या बात कर रही हो.. लगातार साढ़े तीन घंटे..?’
‘नहीं रे.. बीच-बीच में हम लोग फोरप्ले भी करते रहे न.. यानि मैं और वो..’

‘कैसे और क्या-क्या हुआ.. जरा ठीक से बता ना?’
‘हाँ बाबा.. सब बता दूँगी.. तू एक काम करना.. मेरे घर आ जाना.. फिर हम दोनों बैठकर अपने अनुभव शेयर करेंगे..’
‘ठीक है..’
उसके ऐसा कहने के बाद वह दोनों अपने घरों के लिए रवाना हुईं।

Gulabo ki chut gand chudai


मैं अपने मन में कल्पना करने लगा.. कि किस तरह की बातें होंगी.. जब ये दोनों मिलेंगी? क्या अपने अनुभव ये दोनों शेयर कर पाएगीं? इसी सोच में मैं अपने रास्ते पर अभी चला ही था कि अचानक सामने उन्हीं दो औरतों में से एक मेरे ही घर के सामने से जाती दिखी।
तब तक मेरा इस महिला पर कोई ध्यान नहीं गया था।

वो देखने में बड़ी खूबसूरत लग रही थी, पिछवाड़े के दोनों पुठ्ठे मस्ती में हिचकोले खा रहे थे.. सामने के दोनों कबूतर जैसे आने जाने वालों को ललचा रहे थे, आँखों में नशीला आमंत्रण था।
मैं उसकी इस चाल को देखते हुए मंत्रमुग्ध सा उसके पीछे-पीछे चला जा रहा था।
दोनों औरतें थीं भी बड़ी मस्त चुदक्कड़ और सेक्सी लण्ड की मारी.. शायद सामने वाली का मर्द सिर्फ गाण्ड ही मारता था.. क्योंकि चूतड़ों के दोनों भाग इस तरह हिल रहे थे.. जिससे मालूम हो रहा था कि उसको गाण्ड मरवाने की आदत पड़ चुकी होगी।
हालांकि यह मेरा कयास ही था.. इसलिए चूत का मजा क्या होता है.. यह सुनने की तमन्ना उसके दिल में आई होगी, उसकी चूत से पानी रिस रहा होगा।

अब मेरे दिल में उसको चोदने की तमन्ना बढ़ने लगी थी। लण्ड की मारी.. वो औरत कौन थी.. मुझे यह देखना भी बाकी था।
पर थी बड़ी खूबसूरत..!

अचानक एक मकान के तरफ वो मुड़ी उसने कनखियों से मुझे देखा और वह घर के दरवाजे पर गई।
उसने ताला खोला और वह अन्दर चली गई, वो सलीम हुसैन का घर था.. यानि यह बड़ी काम की चीज थी।

उस दिन तो मैं ये सोच कर वापस आ गया कि यह अनार कल खाऊँगा।

मैं उस रात को कमली के साथ सोया, कमली मेरी काम वाली थी। यह भी साली बड़ी चुदक्कड़ थी.. लण्ड लेने में अव्वल और माहिर.. उसकी चूत जैसे मक्खन की टिकिया थी, बड़ी कोमल हसीन चोदने लायक चूत वाली थी।

जब भी कभी मेरी घर वाली घर पर नहीं हो.. तो कमली मेरे घर पर ही नंगी पड़ी रहती थी, साली को चुदवाने का बड़ा शौक था।
ऐसी ही रसीली सी चूत थी.. जब मेरे दिल में आता तब उसको खूब चोदता।
जब मेरे दिल में आता.. तब अपना लण्ड उसे चुसाता रहता.. उसकी गाण्ड मारता.. उसकी चूत को आधे-आधे घंटे तक चूसता.. उसके मम्मों को कुछ इस तरह दबाता कि वो साली मेरे लण्ड की प्यासी हो जाती।

गुलाबी गांड और चूत की जोरदार चुदाई

फिर उसकी चूत में लण्ड डाल कर उसको पीछे से.. आगे से.. नीचे से.. ऊपर से.. खूब मस्त कर कर के चोदता।
कभी-कभी जब मुझे उसकी गाण्ड मारने की इच्छा होती.. तो मैं उसे पलटा देता और फिर मलाई लगा कर लण्ड को उसको पहले चुसाता.. फिर उसकी गाण्ड में मलाई लगाकर अपना लण्ड उसकी रसीली गाण्ड में घुसा देता।
गुलाबी गांड और चूत की जोरदार
हाय कितना मस्त लगता था.. उसकी गाण्ड मारना।
चुस्त दुरुस्त गाण्ड की चुदाई का मजा ही कुछ और होता है। चुदने वाली अगर गरम हो.. तो चोदने में कुछ ज्यादा ही मजा आता है।
उसकी चूत में उसकी गाण्ड में.. उसके मुँह में लण्ड देते हुए जन्नत के सुख का अनुभव होता है।

कई बार मैंने देखा है कि खुद की औरत जितना मजा नहीं दे पाती.. उतना मजा ये बाहर वाली औरत देती है।
एक दिन उसने बड़ी शिद्दत से मुझसे चुदवाया। फिर मुझसे आराम से पूछा- साहब क्या एक और चलेगी?
मैं हल्का सा चौंका।

‘क्या कह रही हो.. क्या मरवाना है.. अगर तुम्हारी मालकिन आ गई तो तूफान खड़ा हो जाएगा?’

उसने कहा- नहीं होगा.. क्योंकि मैं जिसको लेकर आ रही हूँ. वो मेरी देवरानी है.. उसके पति का लण्ड छोटा सा है.. सो उसको भी लण्ड चाहिए।
मैं सोच में पड़ गया। कमली तो ठीक थी अगर घर में किसी और को बुलाता और घर वाली आ जाती.. तो लेने के देने पड़ जाते.. क्या करें?
मैंने कमली से पूछा- क्या तेरे घर में जम सकता है? फिर मैं तुम दोनों को भी चोदूँगा।

‘साहब आप कहाँ आएंगे.. हमारी उन झुग्गी झोपड़ी में.. दो कमरे हैं.. एक मेरी देवरानी का और दूसरा मेरा.. घर में भी बच्चे आते-जाते रहते हैं। फिर कोई भी आता है।’

‘अच्छा.. यानि तुझे उसे यहीं लेकर आना है चुदने के लिए..’
‘साहब जी.. आपके लण्ड के लिए तो मैं कुछ भी करूँगी।’

उसने इस तरह की बात की.. तो मैं थोड़ा तैयार हो गया.. लेकिन चोदने के मामले में मैं कोई रिस्क में लेना नहीं चाहता था। उधर मन कहता था कि ये मस्त चुदक्कड़ कमली और साथ में उसकी देवरानी भी अगर मिल जाए.. तो क्या बात थी..
उसकी देवरानी इस खेल में नई थी.. ऐसा कमली ने कहा था।

दूसरे दिन कमली के साथ एक बाइस-तेईस साल की लड़की.. थोड़ी शरमाते हुए दरवाजे पर खड़ी थी। मैं समझ गया यही कमली की देवरानी हैि जो आज अपना भोसड़ा खुलवाने आई है।
मुझे मेरी किस्मत पर यकीन नहीं हुआ.. क्या बात है मेरे ठरकी लौड़े आज तो तेरी किस्मत में दो-दो चूतें हैं।

‘क्या नाम है तेरा? मैंने कमली की देवरानी से पूछा.. तो उसने धीरे से कहा- गुलाब..
हाय.. एक कमल का फूल.. तो दूसरी गुलाब की कली.. क्या बात है.. मेरे विचार अब बहकने लगे थे.. अरमानों में दोनों चूतें आँखों के सामने नंगी नाचने लगी थीं।

कमली की देवरानी थी तो जरा सांवली.. पर उसके भरे हुए दूध और मचलती जवानी देख कर मेरे लौड़े में नीचे एक खलबली सी मच रही थी।
मैंने उससे पूछा- क्या तुम्हें कमली ने बताया है कि तुम किस लिए आई हो?
गुलाब ने शरमा कर आँखें नीची करते हुए मुझसे ‘हाँ’ कहा।

कमली बोली- अरे गुलाबो.. अब शर्माती क्यों हो? सारा ही दिखाना है.. तो शर्माना क्यों..? चल पहले खाना बना ले.. फिर दोनों मिल कर साहब की खिदमत करेंगे।
यह कहकर कमली मेरी तरफ कनखियों से देखते हुए कंटीली मुस्कराहट के साथ रसोई में जाने लगी।
उसने गुलाबो के दोनों पुठ्ठों पर हाथ फिराया.. मैं समझ गया कि वो क्या कहना चाहती है।

रसोई में खाना बनाते हुए आज उसका चुदने का मन कर रहा था। कमली ने साड़ी जांघों पर ऊँची कर ली और अपनी कोमल जांघें मुझे दिखाने लगी।
मैं उत्तेजित हो रहा था।
थोड़े देर में मैंने अपना पायजामा उतारकर मेरी निक्कर उतार दी। फिर पायजामा पहन कर मैं देखने के लिए गया कि ये दोनों रसोई में क्या कर रही हैं।

मैंने देखा गुलाबो कुकर लगा रही थी और कमली रोटियाँ बेल रही थी।
कमली के दोनों मम्मे इस तरह से हिल रहे थे कि मेरे लण्ड में हलचल होने लगी थी।

धीरे-धीरे मैं कमली के पास पहुँचा.. मैंने कमली की कमर पर हाथ रखा.. धीरे-धीरे उसकी कमर को सहलाते हुए मैंने हाथ कमली के मम्मों पर रख दिया।

इधर गुलाबो मेरी इस हरकत को गौर से देख रही थी.. वो कनखियों से ताड़ रही थी।
मैंने अपने हाथों से कमली के दूध दबाते हुए उसे गालियाँ देना शुरू किया- साली.. चुदक्कड़.. रोज मेरे सामने सोकर चुदती है.. आज तो तेरी चूत में मेरा लण्ड फिर से खलबली मचा देगा..

अब मैंने उसकी साड़ी को कमर तक उठा कर उसके चूतड़ों को फैला दिया। फिर अपने पायजामे को खोलकर.. उसकी दरार में अपना हथियार डाल दिया।
अब मैं लौड़े को ऊपर से ही आगे-पीछे करते-करते गुलाबो के होंठों को चूमने लगा।
गुलाबो के नरम होंठों को चूमते-चूमते मैंने उसके ब्लाउज में हाथ डालकर उसके मम्मों के आकार का अंदाज लिया, उसके दोनों मम्मे बड़े ही गुंदाज थे। मैंने उसके ब्लाउज के बटन खोले और उसके मम्मों को चूमने लगा।

अय हाय.. क्या मस्त मम्मे थे.. एकदम मस्त और चुस्त..

मैंने जैसे ही उसके मम्मों को चूसना शुरू किया.. उसने अपना रूप बदलना शुरू कर दिया।
क्या बात है.. यह तो कमली से ज्यादा गरम माल थी। मेरे जेहन में एक ख़याल आया.. साला इसका आदमी इसे गरम तो करता होगा.. पर ठंडा करने की बात आती होगी.. तो टाएँ-टाएँ फिस्स.. हो जाता होगा।

बड़े दिनों के बाद एक अरमानों की डोली उठने वाली थी.. मैं बड़ा खुश था, मुझे उसकी चूत देखने की तमन्ना हुई।
मैंने कमली को छोड़ा और गुलाबो की गाण्ड के पास अपना लण्ड अड़ा दिया।

साली एकदम से अपनी गाण्ड को आगे-पीछे करने लगी। उसके बड़े-बड़े चूतड़ों में मेरा लण्ड मस्त घिसता जा रहा था। उधर कमली रोटियाँ बनाने में लगी रही। इधर गुलाबो अपने मस्त चूतड़ों से मेरे लण्ड की मालिश कर रही थी।

मैंने उसका ब्लाउज ऊपर किया.. छोटे-छोटे गुन्दाज़ मम्मों पर गुलाबो के दोनों अंगूरी निप्पल.. इतने मस्त दिख रहे थे.. कि मेरे लण्ड की गोटियों में खून जोर से बहने लगा।

मैं भी अपना मूसल लण्ड गुलाबो के चूतड़ों के बीच में जोर-जोर से घिसने लगा।
साली थी तो बड़ी मस्त माल.. साली के चूतड़.. मेरे लण्ड को अन्दर तक ले रहे थे। ऊपर कमली मेरे होंठों को चूस रही थी। दो फूल मेरे पास थे और उनका एक माली उन दोनों पौधों को सींच रहा था।

देवर के साथ भाभी की सुहागरात - Devar ke sath bhabhi ki suhagraat

 


देवर के साथ भाभी की सुहागरात - Devar ke sath bhabhi ki suhagraat, देवर भाभी की चुदाई , देवर ने चोदा , प्यार से चोद दिया , मैं देवर से चुदवाई

देवर भाभी की चुदाई , देवर ने चोदा , प्यार से चोद दिया , मैं देवर से चुदवाई , बार - बार चुदने लगी , देवर का लंड चूसा , चूत भी चटवाई.


मेरा निकाह हो चुका था।  अभी दो दिन पहले ही मैंने अपनी सुहागरात मनाई थी।  आज तीसरे दिन मेरा देवर मेरे सामने आया।  उस समय कमरे में कोई नहीं था।  मैं थी और मेरा देवर तारिक़।  वह लगभग २२ साल का पूरा मर्द हो चुका था। गोरा चिट्टा हैंडसम और लंबा चौड़ा था।  उसे देख कर मेरे नियत ख़राब हो गई।

   

  • वह मुझे देख कर मुस्कराया और बोला - भाभी जान आज तुम बहुत खूबसूरत लग रही हो।  बिलकुल मेरे दोस्त की भाभी की तरह।  वह भी इसी तरह बेहद हसीन है।  मैं कुछ नहीं बोली और तिरछीं निगाह से देख कर मुस्कराने लगी। इतने में वह अपनी लुंगी खोल कर मेरे सामने एकदम नंगा खड़ा हो गया.  उस भोसड़ी वाले का लण्ड खड़ा था . लण्ड देख कर मेरी चूत में आग लग गई बहन चोद। वह बोला - लो मेरा लण्ड पियो,  भाभी जान ।
        
  • लण्ड देख कर तो मैं ललचा ही गई थी.  मेरे मुंह से लार टपकने लगी थी और मेरी जबान लण्ड चाटने के लिए लपलपाने लगी।  पर मैं थोड़ा नखरा करने लगी।  
        
  • मैंने कहा - तुम भोसड़ी के बड़े बेशरम हो ? एक पराई बीवी के सामने इस तरह नंगे होकर खड़े होने में तुम्हे कोई शर्म नहीं आती ? अपना खड़ा लण्ड दिखाने में तुम्हे लाज नहीं आती ?
        
  • वह बोला - अरे भाभी जान अब नखरे न करो।  और भी लोग तेरे सामने नंगे खड़े होतें हैं।  तुम भी अपने कुनबे के ग़ैर मर्दों के आगे नंगी होती हो ? मैं तो कुनबे का ही लड़का हूँ।  मेरे आगे नंगी होने में तुम्हे तो कोई शर्म नहीं आना चाहिए।  अभी तो मैं ही नंगा हूँ।  मैं अभी तुझे भी नंगी कर दूंगा।
        
  • मैंने कहा - अरे यार तुम तो मेरे ऊपर खामखां ही चढ़े ही जा रहे हो ? मैं कोई ऐसी वैसी भाभी नहीं हूँ।
        
  • वह बोला - तुम जैसी  भाभी हो मुझे मालूम है । तुम बहुत खूबसूरत हो, बड़ी बड़ी आँखों वाली हो, बड़ी बड़ी चूँचियों वाली हो, मस्त गांड और बड़े बड़े चूतड़ वाली हो, बड़ी बड़ी जाँघों वाली हो और उसके बीच एक मस्तानी चूत वाली हो ? मैं जानता हूँ की तुम लण्ड बहुत अच्छी तरह पीती हो।  मेरी बड़ी भाभी भी मेरा लण्ड पीती हैं पर तुमसे अच्छा नहीं पीती। ये मुझे किसी ने बताया है।  प्लीज पकड़ कर पी लो न मेरा लण्ड।  देखो न कैसे अपना सर हिला हिला कर तुम्हे मना रहा है मेरा लण्ड।


उसकी प्यारी प्यारी बातों ने मुझे मजबूर कर दिया और मैंने हाथ बढ़ाकर पकड़ ही लिया उसका लण्ड। लंडमेरे हाथ में आते ही छलांगें मारने लगा।  साला और बढ़ भी गया और मोटा भी हो गया एकदम से।  वह बोला देखा भाभी जान तेरे हाथ में कितना जादू है।  मेरा लण्ड इतना बड़ा और मोटा कभी नहीं हुआ जितना तेरे हाथ में जाकर हो गया।  मैं उसके लण्ड का सुपाड़ा चाटने लगी और वह मुझे नंगी करने लगा। मेरी चूँचियाँ दबाने लगा और मेरी चूत सहलाने लगा।  फिर मैंने उसे चित लिटा दिया और उसके ऊपर चढ़ गई। 

अपनी चूत उसके मुंह पर रख दिया और कहा लो देवर जी पहले मेरी चूत चाटो। अपनी जबान पूरी घुसेड़ दो मेरी चूत में और मैं झुक कर उसका लंडचाट्ने लगी।  हम दोनों 69 बन गए।  सच में मुझे ऐसे में बड़ा मज़ा आने लगा।  वह बोला भाभी जजान तेरी चूत बहुत स्वादिस्ट है।  ऐसी चूत अपने कुनबे में किसी की नहीं है।  मैंने पूंछा क्या तुम कुनबे की सबकी चूत चाट चुके हो।  वह बोला हां भाभी जान मैं सबकी चूत चाट चूका हूँ और आज भी चाटता हूँ।  सब मेरा लण्ड चाटती हैं। पीतीं हैं मेरा लण्ड।


इतने में किसी ने कहा भाभी जान लो मेरा भी लण्ड पियो ? मैंने पीछे मुड़ कर देखा तो वह अनजान लड़का था एकदम नंगा खड़ा था उसका बिना झांट का लण्ड भी खड़ा था।  लण्ड का सुपाड़ा एकदम तोप का गोला लग रहा था।  वह लण्ड तारिक़ के लण्ड से बेहतर लगा मुझे।  मैं कुछ बोलती उसके पहले ही तारिक़ बोला भाभी जान ये मेरा दोस्त फहीम है। हम दोनों मिलकर चुदाई करतें हैं।  चाहे किसी की लड़की हो, चाहे किसी की माँ हो, चाहे किसी की बेटी या बहू हो, चाहे किसी की सास या नन्द हो देवरानी या जेठानी हो हम दोनों मिलकर चोदेतें हैं। मैंने ही इसे बुलाया है भाभी जान। इसकी भाभी जान मेरा लण्ड पीती है इसलिए मैं चाहता हूँ की तुम भी इसका भी लण्ड पियो।


मैंने पूंछा अच्छा ये बताओ की तेरी बीवी कौन चोदता है ? वह बोला मेरी बीवी फहीम चोदता है, इसके दोस्त भी चोदते हैं मेरी बीवी।  मैं इसकी बीवी चोदता हूँ और मेरे दोस्त भी इसकी बीवी चोदतें हैं।  इसीलिए हमारी इसकी पक्की दोस्ती है।  मैंने दूसरे हाथ से फहीम का लण्ड पकड़ लिया।  मैंने दोनों लंड अपने मुंह के पास ले आयी और बारी बारी से दोनों के सुपाड़े चाटने लगी।  मुझे इतनी जल्दी दो दो लण्ड का मज़ा मिलेगा यह मैंने कभी सोंचा नहीं था। हम तीनो पूरी तरह नंगे थे।  मैंने तारिक़ को जमीन पर लिटा दिया और फहीम को भी लिटा दिया। दोनों आमने सामने लेटे। यानी दोनों के लण्ड आमने सामने हो गये।  मैंने उनको और नजदीक आने को कहा।  फिर दोनों ने टांगों पर टांगें  रख लीं और उनके लण्ड एकदम चिपक कर आमने सामने हो गये।  लण्ड से लण्ड टकरा गया और पेल्हड़ से पेल्हड़।


मैंने दोनों लण्ड एक साथ अपनी दोनों हाथ की मुठ्ठी में लिया और मस्ती से हिलाने लगी।  उनके सुपाड़े चाटने लगी और फिर दोनों लण्ड एक दूसरे से लड़ाने लगी. अब दोनों लाँड़ बिलकुल साँड़ की तरह लड़ने लगे।  मुझे यह देख कर मज़ा आने लगा। मैं तारिक़ के लण्ड से फहीम के लण्ड को मारती और कभी फहीम के लण्ड से तारिक़ के लण्ड को मारती। कभी सुपाड़े को सुपाड़े पर रगड़ती।  वो दोनों भी खूब एन्जॉय करने लगे।   फिर मैंने पर्श से दो कंडोम निकाले और दोनों लण्ड पर चढ़ा दिया।  इस तरह दोनों लण्ड मिलकर एक महा लण्ड बन गया। मैं इस महा लण्ड पर बैठ गयी तो दोनों लण्ड एक साथ मेरी चूत में घुस गए।  मैं उनके ऊपर धीरे धीरे कूदने लगी।  लण्ड बार बार बुर के अंदर लेती और फिर बाहर निकाल देती ।  इससे उन्हें  भी मज़ा आने लगा और मुझे भी। फहीम बोला भाभी जान इस तरह तो आजतक मुझसे  किसी से नहीं चुदवाया।  ये तो बड़ा मजे दार तरीका है।  तारिक़ भी बोला हां भाभी जान तुम तो चुदाने में बड़ी एक्सपर्ट हो।  चुदाई के नए नए तरीकेआतें हैं तुम्हें। खूब मज़ा लेती हो तुम चुदवाने के ?


मैंने कहा ये सब मैंने ब्लू फिल्म से सीखा है।  मुझे ब्लू फिल्म देखने का और उसी तरह चुदवाने का बड़ा शौक है। वैसे मेरे मुसलमानी समाज में कोई कंडोम इस्तेमाल नहीं करता लेकिन मैं कंडोम अपने पर्श में रखती जरूर हूँ क्योंकि मुझे कई बार नॉन मुस्लिम लण्ड से भी चुदवाने का मौक़ा मिलता है। फिर मैं फहीम का लण्ड चूसते हुए तारिक़ से चुदवाने लगी और फिर तारिक़ का लण्ड चूसते हुए फहीम से चुदवाने लगी। दोनों ने मुझे बारी बारी से  खूब चोदा। मैं इन दोनों से पीछे से भी चुदवाया और लण्ड पर बैठ कर भी चुदवाया।  मैंने मन में कहा मुझे तो लगता ही की आज ही मेरी असली सुहागरात हुई है।  जब दोनों लण्ड एक एक करके झड़ने लगे तो में झड़ते हुए लण्ड पिये।  उनका सारा वीर्य पी गयी मैं और फिर सुपाड़ा चाट चाट कर मज़ा लिया।  मुझे लण्ड का वीर्य पीना अच्छा लगता है इससे मेरी ख़बसूरती बढती रहती है। मुझे किसी का भी लण्ड पीना बड़ा अच्छा लगता है और मैं हमेशा किसी न किसी का लण्ड पीने के फ़िराक में रहती हूँ।


मैं चुदवा के उठी थी पर नंगी थी।  वो दोनों भी अभी नंगे ही थे। उनके लण्ड ठंढे हो चुके थे।  फिर हम सबने खाना खाया और कुछ देर तक हम लोग बात चीत करते रहे और फिर मैंने लण्ड सहलाना शुरू किया तो लण्ड धीरे धीरे खड़े होने लगे। रात का समय था और रात में औरतें जाने क्यों सब की सब रंडी हो जातीं हैं।  इतने में मेरी सास कमरे में आ गयी। उसने मुझे दोनों लण्ड हिलाते हुए देख लिया। उसकी नज़र सबसे पहले लण्ड पर पड़ी तो वह बोली हाय दईया इतने बड़े बड़े लण्ड बहू रानी ?  तेरी माँ का भोसड़ा बहू रानी।  तेरी  बुर चोदी नन्द की माँ की चूत  ? सास ने एक ही बार में सबको गरिया डाला।  फिर वह अपने बेटे तारिक़ का लण्ड पकड़ कर बोली हाय अल्ला कितना बड़ा और कितना प्यारा लौड़ा हो गया है मेरे बेटे का ?  ये तो बिलकुल मरद बन गया है मुझे इसका पता ही नहीं चला।  देखो न बहू रानी इसका लण्ड भोसड़ा चोदने वाला हो गया है।  और ये इसके दोस्त का लण्ड बाप रे बाप कितना मोटा और कितना सख्त है बहन चोद।बेटा फहीम तुम अपने दोस्त की माँ का भोसड़ा चोदो न।  तेरा लण्ड देख कर मैं चुदासी हो गयी हूँ।


सास ने तो उसका लण्ड अपने मुंह में भर लिया।  तब तक उसके पीछे एक लड़की नंगी नंगी आई और उसने तारिक़ का लण्ड अपने मुंह में भर लिया।  बाद में मालूम हुआ की वह मेरी जेठानी की बहन है और अपने जीजू का लण्ड पी कर आई है। तब तक मेरी नन्द आ गई।  वह मुझे नंगी नंगी ही मेरा हाथ पकड़ कर मुझे बाहर ले गई और बोली भाभी चलो मैं तुम्हें एक चीज दिखाती हूँ। जब मैं उसके साथ बाहर एक बदफे कमरे में गई तो देखा की याहं तो बड़ी घनघोर चुदाई हो रही है।  कई लोग चोद रहे हैं।  कई लोगों की बुर चुद रही है।  तब नन्द ने बताया की भाभी जान देखो न मेरा अब्बू अपनी  बड़ी बहू की बुर चोद रहा है। मैं ये देख कर दंग रह गयी।  मेरी जेठानी बड़ी शिद्दत से अपने ससुर से चुदवा रही थी। नन्द ने फिर कहा और ये देखो मेरा खालू मेरी फूफी की बेटी चोद रहा है। फूफा खाला की बेटी चोद रहा है। तेरी देवरानी अपने भाई जान से चुदवा रही है. मेरे चचा जान की बेटी अपने ससुर से चुदवा रही है।


इन सबकी बुर एक साथ चुद रही है तो बड़ा मज़ा आ रहा है। मैं समझ गयी की मेरी ससुराल में खूब धड़ल्ले से चुदाई होती है।  तब तक नन्द ने अपने मियां का लौड़ा मुझे पकड़ा दिया और बोली लो भाभी अब तुम मेरे मियां से चुदवाओ।  यही सके सामने पियो मेरे मियां का लण्ड और फिर पेलो इसका लौड़ा अपनी चूत में।  मैंने कहा तो फिर  तू क्या करेगी मेरी बुर चोदी नन्द रानी।  वह बोली मैं अपने चचा जान से चुदवाऊंगी। मैंने दो साल से अपने चचा जान का लण्ड अपनी चूत में नहीं पेला जबकि इसका लण्ड मुझे बहुत पसंद है।  आज मैं इससे झमाझम चुदवाऊंगी और तेरी बुर मेरे मियां से चुदती हुई देखूँगी। फिर क्या मेरे नंदोई ने मुझे लिटा दिया और मेरे ऊपर चढ़ बैठा।  उधर नन्द भी मेरे सामने अपने चचा जान का लण्ड मुंह में भर कर चूसने लगी।


मैं अपने आपको बड़ी नसीब वाली समझने लगी।  जहाँ एक दुल्हन अपने मियां के अलावा किसी और मरद का लण्ड देखने के लिए महीनो बर्षों तड़पती रहती है वहां मैं अपनी शादी के ३/४ दिन में ही अपने ससुराल के इतने सारे लण्ड एक साथ देख रही हूँ। मुझे तो नये नये लण्ड देखने का, लण्ड पकड़ने का और लण्ड पीने का बड़ा शौक है।  मुझे तो लगा की जैसे की मेरे लिये लण्ड की लाटरी खुल गयी है।  अब तो मैं किसी का भी लण्ड कभी भी हाथ बढ़ाकर पकड़ सकती हूँ।  ये सब भोसड़ी वाले मेरे आगे नंगे नंगे घूम रहें हैं तो फिर मुझे इनसे शर्म किस बात की ?  और फिर मैं भी तो इन सबके आगे नंगी हूँ। अभी एक एक करके सबके लण्ड पेलूँगी अपनी चूत में तो मैं भी एक मंजी हुई रंडी बन जाऊंगी।  फिर मुझे अपनी बुर चोदी नन्द की बुर और सास का भोसड़ा चोदने में ज़न्नत का  मज़ा आएगा।


मैं अपने नंदोई का लण्ड मुंह में लेकर चूसने लगी और मेरी नन्द अपने चचा जान का लौड़ा चाटने लगी।  मैं भी
हाथ बढ़ाकर उसके पेल्हड़ सहलाने लगी।  उसे मालूम हो गया की मैं भी उससे चुदवाने के लिए तैयार हूँ।  वह मेरी चूत सहलाने लगा और नंदोई मेरी चूँचियाँ मसलने लगा। दोनों ही लण्ड बिना झांट के थे और लम्बे चौड़े थे।  मुझे दोनों ही लंड एक नज़र में भा गये।  इतने में नंदोई ने लण्ड पेल दिया मेरी बुर में।  मैं चिल्ला उठी उई माँ फाड़ डाला मेरी बुर। बड़ा मोटा है तेरा लण्ड ? चुद गयी मेरी यार।  धीरे धीरे चोदो न।  मैं कभी भागी नहीं जा रही हूँ।  अच्छी तरह चुदवाकर ही जाऊंगी।  तब तक मेरी नन्द बोली हाय चचा जान तेरा लौड़ा मेरी चूत का बाजा बजा रहा है।  तेरा लौड़ा तो साला बड़ा सख्त है।  तू भोसड़ी का मेरी अम्मी की बुर चोदता है और आज उसकी बेटी की बुर भी चोद रहा है।  तेरा जैसे हरामी आदमी दूसरा कोई नहीं होगा। 

मैंने सुना है की तू अपनी बेटी की बुर भी लेता है ? वह बोला हां लेता हूँ।  वह देती है तो मैं लेता हूँ।  मेरी बेटी भी तेरी ही तरह बहुत बेशरम और चुदक्कड़ लड़की है।  वह तो मेरे दोस्तों के भी लण्ड अपनी चूत में पेलती है तो फिर मैं क्यों न पेलूं ? मेरी नज़र अपने चचिया ससुर के लण्ड पर टिकी थी।  मैं चुदवा तो रही थी नंदोई से पर देख रही थी अपने चचिया ससुर का लण्ड।  उसका काला लण्ड मेरी जान ले रहा था।  मैं बहुत गोरी हूँ और गोरी औरत को काला लण्ड बड़ा अच्छा लगता है।  तब तक मेरी नन्द का खालू आ गया।  वह भी मादर चोद नंगा था। उसका भी लण्ड टन टना रहा था।  उसने लण्ड नन्द के कंधे पर रख दिया।  नन्द उसका भी लण्ड चाटने लगी. तब तक उसकी फूफी की बेटी आ गयी।  उसने मेरे  हाथ से नंदोई का लण्ड ले लिया और बोली भाभी जान अब मुझे अपने भाई जान से चुदवाने दो। मैंने उसे नंदोई का लण्ड दे दिया और मैं चचिया ससुर का लण्ड अपनी नन्द से ले लिया और उसे चूसने लगी।


मेरे मन की इच्छा पूरी हो रही थी। मुझे काले लण्ड का मज़ा मिलने लगा। मैं पहली बार किसी काले लण्ड से खेल रही थी।  लण्ड पूरे नंगे बदन पर फिरा रही थी खास तौर से अपनी चूँचियों पर।  बीच बीच में मैं लण्ड का  सुपाड़ा चाट रही थी।  लण्ड साला बिलकुल पोर्न स्टार के लण्ड की तरह लग रहा था और मैं अपने आपको ब्लू फिल्म की हीरोइन समझने लगी।  फिर मैंने लण्ड अपनी चूत में पेला और धकाधक चुदवाने लगी।  वह बोला बहू आज मुझे किसी नई ताज़ी बहू की नई ताज़ी बुर चोदने को मिली है। आज मैं खूब जी भर के तेरी बुर चोदूंगा।  वह चोदने की स्पीड बढ़ाता गया और मैं अपनी गांड उठा कर हर धक्के का जबाब धक्के से देती गयी।


कुछ देर में मुझे एहसास हुआ की ससुर का लण्ड झड़ने वाला है और इधर मैं भी करीब  आ चुकी थी। तब तक उसने मुझे अपने लण्ड पर बैठा लिया।  लण्ड पूरा मेरी बुर में घुसा हुआ था।  वह नीचे से धक्के मारने लगा और मैंभी ऊपर से कूदने लगी।  इतने में लण्ड ने उगल दिया वीर्य।  थोड़ा मेरी चूत में लगा थोड़ा मेरी गाड़ में।  मैं फिर घूम गयी और झाड़ता हुआ लण्ड चाटने लगी।  मुझे लण्ड का वीर्य चाटने का बड़ा अच्छा लगता है।  हर लण्ड का  स्वाद अलग अलग होता है।  खलास मैं भी हो गयी थी।  मैं बाथ रूम गयी और वहां से फ्रेश होकर आ गई।  मैं मस्ती से सबकी चुदाई देख रही थी।  पूरे घर में चुदाई ही चुदाई हो रही थीं।  सब भोसड़ी वाली लण्ड अदल बदल कर चुदवा रहीं थीं।


तभी अचानक मेरी फुफिया सास का बेटा नंगा नंगा अपना लण्ड मुझे दिखाते हुए बोला लो भाभी जान मेरा भी लण्ड पियो।


मैंने कहा हां देवर जी जरूर पियूँगी।  तेरा भी लण्ड पियूँगी और तेरे बाप का भी लण्ड पियूँगी।

अंजान लड़के ने पूरी रात मुझे चोदा


 

अंजान लड़के ने पूरी रात मुझे चोदा

हैल्लो मेरी फेमिली में, में और मेरे पापा है इसलिए में पापा की लाडली हूँ. मेरी उम्र 19 साल है और में दिखने में सुंदर और सेक्सी हूँ. मेरा फिगर 34-24-36 है और मेरा कलर गौरा, हाईट 5 फुट 5 इंच, वजन 47 किलोग्राम, स्लिम बॉडी है.

मेरे एक अंकल की लड़की की शादी थी तो मेरा और पापा का जाना जरुरी था, लेकिन पापा की तबीयत अचानक ख़राब हो गई तो मुझे ही जाना पड़ा. प्रोग्राम एक होटल में था और प्रोग्राम घर से ज्यादा दूर नहीं था तो में अपनी स्कूटी लेकर चली गई और में बहुत ही शरीफ लड़की थी किसी लड़के की तरफ देखती ही नहीं थी. मुझे क्या पता था? कि आज मेरी शराफ़त की माँ बहन होने वाली है.

 में पार्टी में पहुँच गई और कन्यादान किया, फिर स्टेज पर जाकर दीदी को गिफ्ट दिया और फिर खाना खाया और घर की और चल दी. तभी मुझे याद आया कि पापा ने कहा था कि एक बार अंकल को हैल्लो बोलकर जरूर आना तो में उन्हे ढूँढने लगी. बहुत देर हो गई लेकिन अंकल नहीं मिले. वहां सब लड़के मुझे घूर रहे थे क्योंकि में बहुत ही सेक्सी लग रही थी. मैंने मिनी स्कर्ट और फिटिंग का टॉप पहना था, वो भी साईज़ में छोटा था और मेरी जांघे और नाभि और क्लीवेज साफ दिखाई दे रहे थे. ये मेरी नॉर्मल ड्रेस है.

 फिर मुझे आंटी दिखी तो मैंने उनसे पूछा कि अंकल कहाँ है? तो उन्होंने बाहर की तरफ इशारा कर दिया. में वहां नहीं जाना चाहती थी, लेकिन पापा ने बोला था इसलिए जाना जरूरी था. फिर में वहां गई और अंकल को हैल्लो बोला, अंकल फुल नशे में थे उन्होंने मुझे नॉर्मली हग किया और वाइन का ग्लास दे दिया. मैंने मना किया लेकिन वो नहीं माने और मुझे पिला दिया. जिससे वहीं पर मेरा सिर घूमने लगा. फिर मैंने अपनी स्कूटी स्टार्ट की और जैसे ही स्टार्ट करके रेस तेज की तो में गिर गई और बेहोश हो गई.

 फिर जब मेरी आँख खुली तो एक लड़का मेरे साथ बैठा था. फिर मैंने पूछा कि में कहाँ हूँ? तो उसने बताया कि में उसके रूम में हूँ और उसे में पार्टी के बाहर पार्किंग में बेहोश मिली थी. फिर मैंने उसे थैंक्स बोला और उठकर जाने लगी, तो उसने मुझे रोका और कहा कि रात के 1 बज गए है, अब तुम कहाँ जाओगी और कल सुबह चली जाना तो में भी मान गई.

 फिर मैंने पापा को फोन किया और बोल दिया कि में मेरी दोंस्त के घर पर हूँ कल सुबह आ जाउंगी तो पापा भी मान गए. फिर वो बोला चलो सोते है और मेरे साथ आकर बेड पर लेट गया. फिर मैंने कहा कि तुम कहीं और सो जाओ प्लीज. तो उसने बताया कि उसके पास एक ही बेड है तो मैंने कहा चलो एड्जस्ट कर लेते है फिर हम सो गए. सॉरी दोस्तों मैंने आपको उस लड़के के बारे में तो बताया ही नहीं, उसका नाम विक्की था और उसकी उम्र 20 साल थी. हाईट 5 फुट 7 इंच और लंड का साईज़ 8 इंच था वो बहुत ज्यादा स्मार्ट नहीं था, लेकिन एवरेज था.

 फिर रात को अचानक मुझे अपनी जांघो पर कुछ महसूस हुआ तो मैंने आँख खोली तो विक्की मेरी जांघो पर हाथ घुमा रहा था. फिर में उसे रोकने लगी तो मैंने देखा कि मेरे हाथ बंधे हुए थे और उसने पैरो को भी बांध रखा था और मेरे मुँह पर टेप थी. में डर गई और रोने लगी तो वो बोला कि चिंता मत करो आज तुझे बहुत मजा आने वाला है तो उसने मेरे ऊपर से चादर हटाकर फेंक दी तो में देखकर और ज्यादा डर गई कि में पहले से ही नंगी थी और वो भी नंगा था. में उसे मना करती रही, लेकिन वो नहीं रुका और कभी मेरी नाभि को किस करता तो कभी जांघो को किस करता, कभी बूब्स चूसता और बूब्स दबाता रहा.

 फिर वो मेरी चूत चाटने लगा, जिस पर बहुत बाल थे. फिर वो उठा और रेजर से मेरी चूत के बाल साफ़ कर दिए. में रो रही थी, लेकिन वो मेरी तरफ देख ही नहीं रहा था. फिर वो मेरी चूत लिक करने लगा तो मुझे नशा सा होने लगा. फिर में भी उसका साथ देने लगी और अपनी चूत उसके मुँह में धकेलने लगी. वो समझ गया था कि अब में तैयार हूँ और फिर उसने मुझे खोल दिया और किस करने लगा. में उससे लिपट गई और किस करती रही. फिर वो मेरे बूब्स मसलने लगा और दबा भी रहा था. में सातवें आसमान में थी.

फिर उसने अपना लंड मेरे मुँह पर रख दिया तो मैंने लंड चूसने से मना कर दिया, लेकिन वो नहीं माना. फिर में तैयार हो गई और उसका लंड देखते ही डर गई, बाप रे कितना बड़ा था, लंड मेरे मुँह में आधा ही गया था. में मस्त होकर चूसती रही और उसने मेरे मुँह में ही झाड़ दिया और पीने को बोला तो में उसके लंड का पूरा पानी पी गई.

 फिर उसने मुझे लेटा दिया और मेरी चूत चूसने लगा और में सिसकियाँ लेने लगी आईईई उम्म्म्मम और तेजज़्ज़्ज अह्ह्ह्ह उम्म्म्मम और 10 मिनट के बाद में फिर झड़ गई. वो मेरा सारा पानी पी गया. फिर हम दोनों एक दूसरे को किस करते रहे और उसका लंड फिर से खड़ा हो गया और वो मेरी गर्म और गीली चूत पर लंड रगड़ने लगा. में अब रुक नहीं पा रही थी और फिर मैंने उससे बोला जो करना है जल्दी से कर लो ना प्लीज, तो उसने टाईम वेस्ट ना करते हुए एक ज़ोरदार झटका मारा और उसका पूरा लंड मेरी चूत में अन्दर चला गया. क्योंकि मेरी चूत पहले से ही गीली थी और अन्दर से कुछ टूटने की आवाज़ आई और खून निकलने लगा.

 फिर मेरे मुँह से आवाज़ निकलने लगी आईईईइ माँ मरररर गईई पापा बचाओं आइईईई इतने में उसने अपने होठों से मेरे मुँह को लॉक कर दिया और थोड़ी देर वैसे ही रहा और किस करता रहा. फिर जब मेरा दर्द कम हो गया तो वो फिर से धीरे धीरे स्टार्ट हो गया, लेकिन उसने मेरे होठों को नहीं छोड़ा. फिर थोड़ी देर के बाद वो मेरी चूत में ही झड़ गया और में भी झड़ गई.

 फिर वो मेरी गांड मारने लगा तो उसने मेरी गांड में लंड डाल दिया और चोदने लगा, लेकिन उसने मेरे होठों को नहीं छोड़ा और फिर उसने थोड़ी देर के बाद मुझे छोटे बच्चे की तरह गोद में उठा लिया और वो पूरी छत पर मुझे लेकर घूम रहा था और साथ में चोद भी रहा था. फिर मैंने कहा अभी के लिए बहुत है तो वो मेरी गांड में अन्दर ही छूट गया. फिर हम बेड पर आकर नंगे ही सो गए.

 फिर जब मेरी आँख खुली तो सुबह के 11 बज रहे थे और हम अब भी बेड पर नंगे पड़े थे. फिर मैंने विक्की को उठाया तो उसने मुझे किस किया और फिर हम दोनों ने कपड़े पहने और फिर वो मेरे लिए कॉफी ले आया.

फिर हमने कॉफी पी और उसने कहा कि चलो तुम्हें घर छोड़ दूँ. फिर मैंने सोचा क्यों ना आज भी मजा लिया जाए? फिर मैंने उससे कहा कि यार पापा तो ऑफिस गए होंगे. क्यों ना हम आज शाम तक साथ में टाईम बिताये? वो समझ गया था कि मुझे क्या चाहिए? तो उसने कहा कि ठीक है नहा लेते है. फिर उसने मेरे लिए अपनी बहन के कपड़े ला दिए और हम नहाने चले गए. फिर उसने मुझे बाथरूम में दो बार चोदा.

Chhote bhai ki biwi ki train me chudai


Chhote bhai ki biwi ki train me chudai,छोटे भाई की बीवी की ट्रेन में चुदाई

 

मेरे छोटे भाई की बीवी की ट्रेन में चुदाई, Mere chhote bhai ki biwi ki train me chudai, भाई की बीवी की चुदाई, भाई की बीवी चुद गई, जेठ ने छोटे भाई की बीवी को चोद दिया, छोटी बहु और जेठ की कामवासना, चुद्क्कड़ छोटी बहु और सेक्सी जेठ, छोटे भाई की बीवी की चूत में बड़े भाई का लंड, छोटी बहु की चूत की प्यास बुझाई. चूत में लंड डालकर को छोटे भाई की बीवी को किया शांत, बड़े लंड से छोटे भाई की बीवी की चूत को चोदा.

नरुसा मेरे छोटे भाई आदि की वाइफ़ है। नरुसा काफ़ी सुंदर महिला है। उसका बदन ऊपरवाले ने काफ़ी तसल्ली से तराश कर बनाया है। मैं शिवम उसका जेठ हूँ। मेरी शादी को दस साल हो चुके हैं। नरुसा शुरु से ही मुझे काफ़ी अच्छी लगती थी। मुझसे वो काफ़ी खुली हुई थी। आदि एक यूके बेस्ड कम्पनी में सर्विस करता था। हां बताना तो भूल ही गया नरुसा का मायका नागपुर में है और हम जालंधर में रहते हैं। आज से कोई पांच साल पहले की बात है। हुआ यूं कि शादी के एक साल बाद ही नरुसा प्रेग्नेंट हो गयी। डिलीवरी के लिये वो अपने मायके गयी हुई थी। सात महीने में प्रीमेच्योर डिलीवरी हो गयी। बच्चा शुरु से ही काफ़ी वीक था। दो हफ़्ते बाद ही बच्चे की डेथ हो गयी। आदि तुरंत छुट्टी लेकर नागपुर चला गया। कुछ दिन वहां रह कर वापस आया। वापस अकेला ही आया था। डिसाइड ये हुआ था कि नरुसा की हालत थोड़ी ठीक होने के बाद आयेगी। एक महीने के बाद जब नरुसा को वापस लाने की बात आयी तो आदि को छुट्टी नहीं मिली।

नरुसा को लेने जाने के लिये आदि ने मुझे कहा। सो मैं नरुसा को लेने ट्रैन से निकला। नरुसा को वैसे मैने कभी गलत निगाहों से नहीं देखा था। लेकिन उस यात्रा मे हम दोनो में कुछ ऐसा हो गया कि मेरे सामने हमेशा घूंघट में घूमने वाली नरुसा बेपर्दा हो गयी। हमारी टिकट 1st class में बुक थी। चार सीटर कूपे में दो सीट पर कोई नहीं आया। हम ट्रैन में चढ़ गये। गरमी के दिन थे। जब तक ट्रैन स्टेशन से नहीं छूटी तब तक वो मेरे सामने घूंघट में खड़ी थी। मगर दूसरों के आंखों से ओझल होते ही उसने घूंघट उलट दिया और कहा, “अब आप चाहे कुछ भी समझें मैं अकेले में आपसे घूंघट नहीं करूंगी। मुझे आप अच्छे लगते हो आपके सामने तो मैं ऐसी ही रहूंगी।” मैं उसकी बात पर हँस पड़ा। “मैं भी घूंघट के समर्थन में कभी नहीं रहा।” मैने पहली बार उसके बेपर्दा चेहरे को देखा। मैं उसके खूबसूरत चेहरे को देखता ही रह गया। अचानक मेरे मुंह से निकला “अब घूंघट के पीछे इतना लाजवाब हुश्न छिपा है उसका पता कैसे लगता।” उसने मेरी ओर देखा फ़िर शर्म से लाल हो गयी।  आप यह कहानी हिंदी सेक्स स्टोरीज वेबसाइट पर पढ़ रहे है।

उसने बोतल ग्रीन रंग की एक शिफ़ोन की साड़ी पहन रखी थी। ब्लाउज़ भी मैचिंग पहना था। गर्मी के कारण बात करते हुए साड़ी का आंचल ब्लाउज़ के ऊपर से सरक गया। तब मैने जाना कि उसने ब्लाउज़ के अन्दर ब्रा नही पहनी हुई है। उसके स्तन दूध से भरे हुए थे इसलिये काफ़ी बड़े बड़े हो गये थे। ऊपर का एक हुक टूटा हुआ था इसलिये उसकी आधी छाती साफ़ दिख रही थी। पतले ब्लाउज़ में से ब्रा नहीं होने के कारण निप्पल और उसके चारों ओर का काला घेरा साफ़ नजर आ रहा था। मेरी नजर उसकी छाती से चिपक गयी। उसने बात करते करते मेरी ओर देखा। मेरी नजरों का अपनी नजरों से पीछा किया और मुझे अपने बाहर छलकते हुए बूबस को देखता पाकर शर्मा गयी और जल्दी से उसे आंचल से ढक लिया। हम दोनो बातें करते हुए जा रहे थे। कुछ देर बाद वो उठकर बाथरूम चली गयी। कुछ देर बाद लौट कर आयी तो उसका चेहरा थोड़ा गम्भीर था। हम वापस बात करने लगे।

छोटे भाई की बीवी की ट्रेन में चुदाई


कुछ देर बाद वो वापस उठी और कुछ देर बाद लौट कर आ गयी। मैने देखा वो बात करते करते कसमसा रही है। अपने हाथो से अपने ब्रेस्ट को हलके से दबा रही है। “कोई प्रोब्लम है क्या?’ मैने पूछा। “न ।। नहीं” मैने उसे असमंजस में देखा। कुछ देर बाद वो फिर उठी तो मैने कहा “मुझे बताओ न क्या प्रोब्लम है?” वो झिझकती हुई सी खड़ी रही। फ़िर बिना कुछ बोले बाहर चली गयी। कुछ देर बाद वापस आकर वो सामने बैठ गयी। बोली – ”मेरी छातियों में दर्द हो रहा है।” उसने चेहरा ऊपर उठाया तो मैने देखा उसकी आंखें आंसु से छलक रही हैं। ”क्यों क्या हुआ” मर्द वैसे ही औरतों के मामले में थोड़े नासमझ होते हैं।

मेरी भी समझ में नहीं आया अचानक उसे क्या हो गया। ”जी वो क्या है म्म वो मेरी छातियां भारी हो रही हैं। ” वो समझ नहीं पा रही थी कि मुझे कैसे समझाये आखिर मैं उसका जेठ था। ” म्मम मेरी छातियों में दूध भर गया है लेकिन निकल नहीं पा रहा है।” उसने नजरें नीची करते हुए कहा। मैने पूछा – ”बाथरूम जाना है क्या?” ”गयी थी लेकिन वाश-वेसिन बहुत गंदा है इसलिये मैं वापस चली अयी” उसने कहा “और बाहर के वाश-वेसिन में मुझे शर्म आती है कोई देख ले तो क्या सोचेगा?” “फ़िर क्या किया जाए?” मैं सोचने लगा “कुछ ऐसा करें जिससे तुम यहीं अपना दूध खाली कर सको। लेकिन किसमें खाली करोगी? नीचे फ़र्श पर गिरा नहीं सकती और यहां कोई बर्तन भी नही है जिसमें दूध निकाल सको”उसने झिझकते हुये फ़िर मेरी तरफ़ एक नजर डाल कर अपनी नजरें झुका ली। वो अपने पैर के नखूनों को कुरेदती हुई बोली, “अगर आप गलत नहीं समझें तो कुछ कहूं?””बोलो””आप इन्हें खाली कर दीजिये न””मैं? मैं इन्हें कैसे खाली कर सकता हूं।” मैने उसकी छातियों को निगाह भर कर देखा। ”आप अगर इस दूध को पीलो……”उसने आगे कुछ नहीं कहा।

मैं उसकी बातों से एकदम भौचक्का रह गया। ”लेकिन ये कैसे हो सकता है। तुम मेरे छोटे भाई की बीवी हो। मैं तुम्हारे स्तनों में मुंह कैसे लगा सकता हूं” ”जी आप मेरे दर्द को कम कर रहे हैं इसमें गलत क्या है। क्या मेरा आप पर कोई हक नहीं है?” उसने मुझसे कहा. “मेरा दर्द से बुरा हाल है और आप सही गलत के बारे में सोच रहे हो। प्लीज़। ”मैं चुप चाप बैठा रहा समझ में नहीं आ रहा था कि क्या कहूं। अपने छोटे भाई की बीवी के निप्पल मुंह में लेकर दूध पीना एक बड़ी बात थी। उसने अपने ब्लाउज़ के सारे बटन खोल दिये। ”प्लीज़” उसने फ़िर कहा लेकिन मैं अपनी जगह से नहीं हिला। ”जाइये आपको कुछ भी करने की जरूरत नहीं है। आप अपने रूढ़ीवादी विचारों से घिरे बैठे रहिये चाहे मैं दर्द से मर ही जाउं।” कह कर उसने वापस अपने स्तनों को आंचल से ढक लिया और अपने हाथ आंचल के अंदर करके ब्लाउज़ के बटन बंद करने की कोशिश करने लगी लेकिन दर्द से उसके मुंह से चीख निकल गयी “आआह्हह्ह” । मैने उसके हाथ थाम कर ब्लाउज़ से बाहर निकाल दिये।

फ़िर एक झटके में उसके आंचल को सीने से हटा दिया। उसने मेरी तरफ़ देखा। मैंने अपनी सीट से उठ कर केबिन के दरवाजे को लोक किया और उसके बगल में आ गया। उसने अपने ब्लाउज़ को उतार दिया। उसके नग्न ब्रेस्ट जो कि मेरे भाई की अपनी मिल्कियत थी मेरे सामने मेरे होंठों को छूने के लिये बेताब थे। मै अपनी एक उंगली को उसके एक ब्रेस्ट पर ऊपर से फ़ेरते हुए निप्पल के ऊपर लाया। मेरी उंगली की छुअन पा कर उसके निप्पल अंगूर की साइज़ के हो गये। मैं उसकी गोद में सिर रख कर लेट गया। उसके बड़े बड़े दूध से भरे हुए स्तन मेरे चेहरे के ऊपर लटक रहे थे। उसने मेरे बालों को सहलाते हुए अपने स्तन को नीचे झुकाया। उसका निप्पल अब मेरे होंठों को छू रहा था। मैने जीभ निकाल कर उसके निप्पल को छूआ। ”ऊओफ़्फ़फ़्फ़ जेठजी अब मत सताओ। पहले इनका दूध चूस लो। ” कहकर उसने अपनी छाती को मेरे चेहरे पर टिका दिया। मैने अपने होंठ खोल कर सिर्फ़ उसके निप्पल को अपने होंठों में लेकर चूसा। मीठे दूध की एकतेज़ धार से मेरा मुंह भर गया। मैने उसकी आंखों में देखा। उसकी आंखों में शर्म की परछाई तैर रही थी।

मैने मुंह में भरे दूध को एक घूंठ में अपने गले के नीचे उतार दिया। ”आआअह्हह्हह” उसने अपने सिर को एक झटका दिया। मैने फ़िर उसके निप्पल को जोर से चूसा और एक घूंट दूध पिया। मैं उसके दूसरे निप्पल को अपनी उंगलियों से कुरेदने लगा। ”ऊओह्हह ह्हह्हाआन्न हा आन्नन जोर से चूसो और जोर से। प्लीज़ मेरे निप्पल को दांतों से दबाओ। काफ़ी खुजली हो रही है।” उसने कहा। वो मेरे बालों में अपनी उंगलियां फ़ेर रही थी। मैने दांतों से उसके निप्पल को जोर से दबाया।”ऊउईईइ” कर उठी। वो अपने ब्रेस्ट को मेरे चेहरे पर दबा रही थी। उसके हाथ मेरे बालों से होते हुए मेरी गर्दन से आगे बढ़ कर मेरे शर्ट के अन्दर घुस गये। वो मेरी बालों भरी छाती पर हाथ फ़ेरने लगी। फ़िर उसने मेरे निप्पल को अपनी उंगलियों से कुरेदा। “क्या कर रही हो?” मैने उससे पूछा।”वही जो तुम कर रहे हो मेरे साथ” उसने कहा” क्या कर रहा हूं मैं तुम्हारे साथ” मैने उसे छेड़ा” दूध पी रहे हो अपने छोटे भाई की बीवी के स्तनों से” ”काफ़ी मीठा है” ”धत” कहकर उसने अपने हाथ मेरे शर्ट से निकाल लिये और मेरे चेहरे पर झुक गयी। इससे उसका निप्पल मेरे मुंह से निकल गया।

उसने झुक कर मेरे लिप्स पर अपने लिप्स रख दिये और मेरे होंठों के कोने पर लगे दूध को अपनी जीभ से साफ़ किया। फ़िर उसने अपने हाथों से वापस अपने निप्पल को मेरे लिप्स पर रख दिया। मैने मुंह को काफ़ी खोल कर निप्पल के साथ उसके बूब का एक पोर्शन भी मुंह में भर लिया। वापस उसके दूध को चूसने लगा। कुछ देर बाद उस स्तन से दूध आना कम हो गया तो उसने अपने स्तन को दबा दबा कर जितना हो सकता था दूध निचोड़ कर मेरे मुंह में डाल दिया। ”अब दूसरा” मैने उसके स्तन को मुंह से निकाल दिया फ़िर अपने सिर को दूसरे स्तन के नीचे एडजस्ट किया और उस स्तन को पीने लगा। उसके हाथ मेरे पूरे बदन पर फ़िर रहे थे।  आप यह कहानी हिंदी सेक्स स्टोरीज वेबसाइट पर पढ़ रहे है।

हम दोनो ही उत्तेजित हो गये थे। उसने अपना हाथ आगे बढ़ा कर मेरे पैंट की ज़िप पर रख दिया। मेरे लिंग पर कुछ देर हाथ यूं ही रखे रही। फ़िर उसे अपने हाथों से दबा कर उसके साइज़ का जायजा लिया।” काफ़ी तन रहा है” उसने शर्माते हुए कहा।”तुम्हारी जैसी हूर पास इस अन्दाज में बैठी हो तो एक बार तो विश्वामित्र की भी नीयत डोल जाये।””म्मम्म अच्छा। और आप? आपके क्या हाल हैं” उसने मेरे ज़िप की चैन को खोलते हुए पूछा”तुम इतने कातिल मूड में हो तो मेरी हालत ठीक कैसे रह सकती है” उसने अपना हाथ मेरे ज़िप से अन्दर कर ब्रीफ़ को हटाया और मेरे तने हुए लिंग को निकालते हुए कहा “देखूं तो सही कैसा लगता है दिखने में”मेरे मोटे लिंग को देख कर खूब खुश हुयी। “अरे बाप रे कितना बड़ा लिंग है आपका। दीदी कैसे लेती है इसे?” ”आ जाओ तुम्हें भी दिखा देता हूं कि इसे कैसे लिया जाता है।” ”धत् मुझे नहीं देखना कुछ। आप बड़े वो हो” उसने शर्मा कर कहा। लेकिन उसने हाथ हटाने की कोई जल्दी नहीं की।” इसे एक बार किस तो करो” मैने उसके सिर को पकड़ कर अपने लिंग पर झुकाते हुए कहा। उसने झिझकते हुए मेरे लिंग पर अपने होंठ टिका दिये।

अब तक उसका दूसरा स्तन भी खाली हो गया था। उसके झुकने के कारण मेरे मुंह से निप्पल छूट गया। मैने उसके सिर को हलके से दबाया तो उसने अपने होंठों को खोल कर मेरे लिंग को जगह दे दी। मेरा लिंग उसके मुंह में चला गया। उसने दो तीन बार मेरे लिंग को अन्दर बाहर किया फ़िर उसे अपने मुंह से निकाल लिया।” ऐसे नहीं… ऐसे मजा नहीं आ रहा है” ”हां अब हमें अपने बीच की इन दीवारों को हटा देना चाहिये” मैने अपने कपड़ों की तरफ़ इशारा किया। मैने उठकर अपने कपड़े उतार दिये फ़िर उसे बाहों से पकड़ कर उठाया। उसकी साड़ी और पेटीकोट को उसके बदन से अलग कर दिया। अब हम दोनो बिल्कुल नग्न थे। तभी किसी ने दरवाजे पर नोक किया। “कौन हो सकता है।” हम दोनो हड़बड़ी में अपने अपने कपड़े एक थैली में भर लिये और नरुसा बर्थ पर सो गयी। मैने उसके नग्न शरीर पर एक चादर डाल दी। इस बीच दो बार नोक और हुआ।

मैने दरवाजा खोला बाहर टीटी खड़ा था। उसने अन्दर आकर टिकट चेक किया और कहा “ये दोनो सीट खाली रहेंगी इसलिये आप चाहें तो अन्दर से लोक करके सो सकते हैं” और बाहर चला गया। मैने दरवाजा बंद किया और नरुसा के बदन से चादर को हटा दिया। नरुसा शर्म से अपनी जांघों के जोड़ को और अपनी छातियों को ढकने की कोशिश कर रही थी। मैने उसके हाथों को पकड़ कर हटा दिया तो उसने अपने शरीर को सिकोड़ लिया और कहा “प्लीज़ मुझे शर्म आ रही है।” मैं उसके ऊपर चढ़ कर उसकी योनि पर अपने मुंह को रखा। इससे मेरा लिंग उसके मुंह के ऊपर था। उसने अपने मुंह और पैरों को खोला। एक साथ उसके मुंह में मेरा लिंग चला गया और उसकी योनि पर मेरे होंठ सैट हो गए। “आह विशाल जी क्या कर रहे हो मेरा बदन जलने लगा है। पंकज ने कभी इस तरह मेरी योनि पर अपनी जीभ नहीं डाली” उसके पैर छटपटा रहे थे। उसने अपनी टांगों को हवा में उठा दिया और मेरे सिर को उत्तेजना में अपनी योनि पर दबाने लगी।

मैं उसके मुंह में अपना लिंग अंदर बाहर करने लगा। मेरे होंठ उसकी योनि की फ़ांकों को अलग कर रहे थे और मेरी जीभ अंदर घूम रही थी। वो पूरी तन्मयता से अपने मुंह में मेरे लिंग को जितना हो सकता था उतना अंदर ले रही थी। काफ़ी देर तक इसी तरह 69 पोज़िशन में एक दूसरे के साथ मुख मैथुन करने के बाद लगभग दोनो एक साथ खल्लास हो गये। उसका मुंह मेरे रस से पूरा भर गया था। उसके मुंह से चू कर मेरा रस एकपतली धार के रूप में उसके गुलाबी गालों से होता हुआ उसके बालों में जाकर खो रहा था। मैं उसके शरीर से उठा तो वो भी उठ कर बैठ गयी। हम दोनो एक दम नग्न थे और दोनो के शरीर पसीने से लथपथ थे। दोनो एक दूसरे से लिपट गये और हमारे होंठ एक दूसरे से ऐसे चिपक गये मानो अब कभी भी न अलग होने की कसम खा ली हो। कुछ मिनट तक यूं ही एक दूसरे के होंठों को चूमते रहे फ़िर हमारे होंठ एक दूसरे के बदन पर घूमने लगे।”अब आ जाओ” मैने नरुसा को कहा।”जेठजी थोड़ा सम्भाल कर। अभी अंदर नाजुक है। आपका बहुत मोटा है कहीं कोई जख्म न हो जाये।””ठीक है। चलो बर्थ पर हाथों और पैरों के बल झुक जाओ। इससे ज्यादा अंदर तक जाता है और दर्द भी कम होता है।” नरुसा उठकर बर्थ पर चौपाया हो गयी।

मैंने पीछे से उसकी योनि पर अपना लंड सटा कर हलका सा धक्का मारा। गीली तो पहले ही हो रही थी। धक्के से मेरे लंड के आगे का टोपा अंदर धंस गया। एक बच्चा होने के बाद भी उसकी योनि काफ़ी टाइट थी। वो दर्द से “आआह्हह” कर उठी। मैं कुछ देर के लिये उसी पोज़ में शांत खड़ा रहा। कुछ देर बाद जब दर्द कम हुआ तो नरुसा ने ही अपनी गांड को पीछे धकेला जिससे मेरा लंड पूरा अंदर चला जाये।”डालो न रुक क्यों गये।””मैने सोचा तुम्हें दर्द हो रहा है इसलिये।””इस दर्द का मजा तो कुछ और ही होता है। आखिर इतना बड़ा है दर्द तो करेगा ही।” उसने कहा। फ़िर वो भी मेरे धक्कों का साथ देते हुए अपनी कमर को आगे पीछे करने लगी। मैं पीछे से शुरु शुरु में सम्भल कर धक्का मार रहा था लेकिन कुछ देर के बाद मैं जोर जोर से धक्के मारने लगा। हर धक्के से उसके दूध भरे स्तन उछल जाते थे। मैने उसकी पीठ पर झुकते हुए उसके स्तनो को अपने हाथों से थाम लिया। लेकिन मसला नहीं, नहीं तो सारी बर्थ उसके दूध की धार से भीग जाती।

काफ़ी देर तक उसे धक्के मारने के बाद उसने अपने सिर को जोर जोर से झटकना चालू किया। ”आआह्हह्ह शीईव्वव्वाअम्मम आआअह्हह्ह तूउम्म इतनीए दिन कहा थीए। ऊऊओह्हह माआईईइ माअर्रर्रर जाऊऊं गीइ। मुझीए माअर्रर्रर डालूऊओ मुझीए मसाअल्ल डाअल्लूऊ” और उसकी योनि में रस की बौछार होने लगी। कुछ धक्के मारने के बाद मैने उसे चित लिटा दिया और ऊपर से अब धक्के मारने लगा। ”आअह मेरा गला सूख रहा है।” उसका मुंह खुला हुआ था। और जीभ अंदर बाहर हो रही थी। मैने हाथ बढ़ा कर मिनरल वाटर की बोतल उठाई और उसे दो घूंठ पानी पिलाया। उसने पानी पीकर मेरे होंठों पर एक किस किया।” चोदो शिवम चोदो। जी भर कर चोदो मुझे।” मैं ऊपर से धक्के लगाने लगा। काफ़ी देर तक धक्के लगाने के बाद मैने रस में डूबे अपने लिंग को उसकी योनि से निकाला और सामने वाली सीट पर पीठ के बल लेट गया।” आजा मेरे उपर” मैने नरुसा को कहा।

नरुसा उठ कर मेरे बर्थ पर आ गयी और अपने घुटने मेरी कमर के दोनो ओर रख कर अपनी योनि को मेरे लिंग पर सेट करके धीरे धीरे मेरे लिंग पर बैठ गयी। अब वो मेरे लिंग की सवारी कर रही थी। मैने उसके निप्पल को पकड़ कर अपनी ओर खींचा। तो वो मेरे ऊपर झुक गयी। मैने उसके निप्पल को सेट कर के दबाया तो दूध की एक धार मेरे मुंह में गिरी। अब वो मुझे चोद रही थी और मैं उसका दूध निचोड़ रहा था। काफ़ी देर तक मुझे चोदने के बाद वो चीखी “शिवम मेरा पानी निकलने वाला है। मेरा साथ दो। मुझे भी अपने रस से भिगो दो।” हम दोनो साथ साथ झड़ गये। काफ़ी देर तक वो मेरे ऊपर लेटी हुई लम्बी लम्बी सांसे लेती रही।  आप यह कहानी हिंदी सेक्स स्टोरीज वेबसाइट पर पढ़ रहे है।

फ़िर जब कुछ नोर्मल हुई तो उठ कर सामने वाली सीट पर लेट गयी। हम दोनो लगभग पूरे रास्ते नग्न एक दूसरे को प्यार करते रहे। लेकिन उसने दोबारा मुझे उस दिन और चोदने नहीं दिया, उसके बच्चेदानी में हल्का हल्का दर्द हो रहा था। लेकिन उसने मुझे आश्वासन दिया। “आज तो मैं आपको और नहीं दे सकुंगी लेकिन दोबारा जब भी मौका मिला तो मैं आपको निचोड़ लुंगी अपने अंदर। और हां अगली बार मेरे पेट में देखते हैं दोनो भाईयों में से किसका बच्चा आता है। उस यात्रा के दौरान कई बार मैने उसके दूध की बोतल पर जरूर हाथ साफ़ किया।

जेठ जी ने मुझे तेल लगाकर चोद दिया

जेठ जी ने मुझे तेल लगाकर चोद दिया

मुझे इस बात का कभी अंदाजा नहीं था कि मैं कभी अपने जेठ जी के साथ सेक्स करुँगी. वो तो मेरे पति से भी अच्छा चोदते हैं. चलिए आपको अपनी कहानी बताती हूँ. ये मेरी जिंदगी के बहुत यादगार कहानी है. मैं आशा करती हूँ कि आपको मेरी ये कहानी पसंद आएगी.
जेठ जी ने मुझे तेल लगाकर चोद दिया

मैं शहर में रहती हूँ इसलिए मैं बहुत बार अपने पड़ोस की औरतों के साथ बाजार करने और ब्यूटीपार्लर जाती रहती हूँ. जब भी मैं उनके साथ जाती थी तो वो औरतें मेरे जेठ जी के बारे में बहुत बातें करती थी. जेठ जी नाम अमन है लेकिन मैं उनका नाम नहीं ले सकती हूँ क्योंकि मैं उनको जेठ जी बुलाती हूँ.

उनका पर्सनालिटी थोड़ा अच्छा है इसलिए वो हमारे घर के एक प्रकार से मालिक की तरह रहते हैं. यहाँ तक कि मेरे पति भी उनसे पूछ कर ही कोई काम करते हैं और मैं भी उनसे पूछ कर ही घर से बाहर जाती हूँ.

जेठ जी के बारे में पड़ोस की औरतों से सुनकर मुझे ये लगता था कि उनका चक्कर मेरे जेठ जी के साथ चलता है. लेकिन उनमें से कोई भी खुलकर कुछ नहीं बताती थी.म मुझे भी अपने जेठ जी में रूचि आने लगी थी.

मेरी जेठानी कुछ दिन के लिए अपने माइके गयी हुई थी. उनकी माता जी की तबियत ठीक नहीं थी.

बाद में पता चला कि जेठानी जी कुछ दिन और अपने मायके रुकेंगी. मेरे पति तो सुबह ही ऑफिस के लिए निकल जाते थे.

मैं जेठ जी को खाना खिलाती थी. जेठ जी के कपड़े कभी कभी मुझे साफ़ करने पड़ते थे.

जेठ जी देर से खाना खाते थे तो मैं उनके रूम में खाना लेकर जाती थी.

उनकी बॉडी अच्छी है. कभी कभी जेठ जी को देख कर मेरे अन्दर कुछ कुछ होने लगता था..

और वो भी कभी कभी मुझे देखकर मुस्कुरा देते थे.

इसका अंदाजा मुझे था कि जेठजी के लंड का साइज़ मेरे पति से बड़ा होगा क्योंकि वो शरीर से ताकतवर हैं

जेठ जी की आँखें भी कुछ कहना चाहती थी क्योंकि जब भी मैं उनको देखती थी और वो मुझे देखते थे तो लगता था कि वो मेरे से कुछ कहना चाहते हैं लेकिन मुझसे खुलकर कह नहीं पाते थे.

मैं रात को साड़ी निकाल कर नाइटी में सोती हूँ और इस ड्रेस में जेठ जी के सामने नहीं जाती हूँ.

एक दिन जेठ जी थोड़ा ज्यादा काम करके आ गए थे और उनके सर में दर्द हो रहा था.

वो मुझे अपने कमरे में बुलाने लगे और मेरे से दवाई मांगने लगे.

मैं एक टेबलेट लेकर उनके रूम में गयी और उन्होंने मुझे नाइटी में देख लिया. उनको मेरी चूची का साइज़ पता चल गया होगा.

मुझे बाद में याद आया कि मैं नाइटी में हूँ तो जल्दी से अपने रूम में आ गयी.

उस दिन के बाद से जेठ से मुझे अलग निगाहों से देखने लगे.

जेठ जी और मैं एक दिन घर में अकेले थे और मेरे पति ऑफिस गए थे.

मैं कपड़े धो रही थी और पीछे से जेठ जी मुझे देख रहे थे; ये बात मुझे पता नहीं थी.

आज वो मजाकिया अंदाज में मेरे से बात करने लगे.

मैं कपड़े धोने में व्यस्त थी तो उनकी तरफ देख नहीं रही थी लेकिन उनकी बातें सुनकर हंस रही थी.

हम लोगों की बातें चलती रही.

और जेठ जी बोलने लगे- तुमको तो कपड़े धोते धोते थकान हो जाती होगी. तुम कहो तो मैं तुम्हारी मालिश कर दूँ?

ये बात सुनकर मुझे ये बात मालूम हो गया कि जेठ जी मुझे पसंद करते हैं.

मैं कपड़े धो रही थी तो जेठ जी पीछे से मेरी गांड देख रहे थे.

पति जी भी ऑफिस के काम में बहुत बिजी थे तो हम लोग सेक्स कम ही कर पाते थे.

मैं कपड़े धोने के बाद सुखाने के लिए छत में लेकर जाने लगी तो जेठ जी ने मेरे हाथ से बाल्टी ले ली और वो छत पर कपड़े सुखाने के लिए चले गए.

उनका हाथ और मेरा हाथ पहली बार एक दूसरे से मिला था. जब वो मेरे हाथ से बाल्टी जबरदस्ती ले रहे थे तो हम दोनों लोग का हाथ एक दूसरे से मिल रहे थे.

मैं रसोई में काम करने चली गयी और जेठ जी कपड़े सुखाने के बाद रसोई में आ गए और पीछे से मेरी पीठ को सहलाने लगे.

इससे पहले कि मैं कुछ उनसे कहती कि वो मेरे पीठ को और कंधों की मालिश करने लगे और कहने लगे- तुमने इतने सारे कपड़े धोये हैं, थक गई होगी.

मैं भी थक गई थी और उनके मालिश से मुझे बहुत आराम मिला.

तो मैं उनके बाँहों में आ गई थी और वो पीछे से मेरी मालिश कर रहे थे.

हम दोनों गर्म होने लगे थे. घर में कोई नहीं था इसलिए हम दोनों को किसी बात का डर नहीं था.

जेठ से मालिश करते हुए मुझे अपने कमरे में ले गए और मेरी चूची को दबाने लगे.

मैं भी मूड में आ गयी और सिसकारियाँ लेने लगी.

वो मेरे ब्लाउज के ऊपर से ही मेरी चूची को दबा रहे थे.

मैं भी उनके बालों को खींच रही थी.

उन्होंने मेरी साड़ी को निकालना शुरू किया.

मेरे मुंह से कामुक आवाजें निकल रही थी.

मेरी इन मादक आवाजों से जेठ जी भी मूड में आ रहे थे. वो मेरी साड़ी को निकाल रहे थे और साथ ही मेरी गांड को दबा रहे थे.

मुझे ये बात पता भी नहीं चली कि मैं जेठ जी के साथ ये सब कर रही हूँ. हम दोनों लोग का रिश्ता ही बदल गया था.

उन्होंने मेरी साड़ी को निकल दिया और उसके बाद उन्होंने मेरी ब्लाउज को निकाल दिया.

मैं उनके सामने ब्रा में आ गयी थी और उसके बाद जेठजी ने मेरा पेटीकोट भी निकाल दिया.

अब मैं जेठ जी के सामने ब्रा और पेंटी में थी.

मुझे नंगी देख कर उनका लंड उनकी पैन्ट में खड़ा होने लगा. मैं ब्रा और पेंटी में बहुत सेक्सी लग रही थी.

जेठ जी के लंड को देखकर मेरी चूत में पानी आने लगा.

तभी उन्होंने मेरी ब्रा निकाल दिया और मेरी चूची को अपने हाथों में लेकर मसलने लगे.

मेरे अन्दर इतना सेक्स आ गया था कि मैं जोर जोर से सिसकारियाँ लेने लगी.

वो मेरी चूची को दबाते हुए उसको अपने मुंह में लेकर चूसने लगे.

हम दोनों की वासना बढ़ती जा रही थी.

जेठ जी चूची को बहुत देर तक चूसने के बाद वो मुझे चुम्बन देने लगे.

हम दोनों एक दूसरे की बाँहों में थे.

जेठ जी ने मुझे बताया कि उनकी पत्नी मायके गई हुई है इसलिए वो अपने लंड को हिलाकर शांत करते हैं.

इधर मेरे पति को अपने काम से फुर्सत ही नहीं मिलती है मुझे चोदने के लिए … इसलिए मैं आज उनके बड़े भाई के सामने थी.

मुझे अपने जेठ जी का लंड बड़ा लग रहा था.

जेठ जी ने बातों बातों में मुझे बताया कि वो मुझे कई दिनों से चोदना चाहते थे.

हम दोनों लोग बात करते करते हंसने लगे और एक दूसरे को चुम्बन देने लगे.

जेठ जी ने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया और मेरी पीठ को चूमने लगे.

मैं सिसकारियाँ लेने लगी. मेरी कामुक आहें निकलने लगी.

फिर जेठ जी ने मेरी पेंटी भी निकाल दी और मैं उनके सामने एकदम नंगी हो गयी थी.

उन्होंने मेरी पीठ को चूमने के बाद मुझे सीधा लिटाया और मेरी बड़ी बड़ी चूची को अपने मुंह में लेकर चूसने लगे.

मेरी चूत गीली हो गयी. मेरी चूत से पानी निकल रहा था और मोटे लम्बे लंड का इंतजार कर रही थी.

उनके चूची मसलने और चूसने के अंदाज मैं बहुत गर्म हो गयी थी और सिसकारियाँ लेने लगी थी- आह उह्ह … आह उह्ह जेठ जी … आराम से करिए

जेठ जी भी कामुक हो गए थे और वो अपने कपड़े निकलने लगे.

उनका मोटा लम्बा लंड देख कर मैं डर गई लेकिन मुझे सेक्स करने की आदत थी इसलिए बाद में मुझे अच्छा लगने लगा.

जेठ जी के लंड को मैं हिलाने लगी और वो अपने मजे में सिसकारियाँ लेने लगे.

उनका लंड मैं जोर जोर से हिलाने लगी और उनके लंड से पानी निकलने लगा.

जेठ जी ने मुझे अपना लंड चूसने के लिए कहा और मैं उनका लंड मुंह में लेकर चूसने लगी.

मेरे लंड चूसने के स्टाइल से उनको बहुत मजा आ रहा था.

अब जेठ जी मेरी चूत को चाटना चालू किये और मेरी चूत से पानी निकल रहा था.

मैं सिसकारियाँ लेने लगी.

जेठ जी मेरी चूत को चाटने लगे और साथ में रुक रुक कर मेरी चूत को अपने दाँतों से हल्का हल्का काट रहे थे.

इससे मुझे और भी ज्यादा मजा आ रहा था.

वे मेरी चूत में उंगली करने लगे जिससे मेरी चूत से पानी निकलने लगा.

उनके लंड से लार टपक रहा था और मेरी चूत से पानी निकल रहा था.

जेठ जी दुबारा से मुझे अपना लंड चूसने के कहे और मैं उनका लंड चूसने लगी और इस तरह से उनके लंड से पानी निकल गया.

उसके बाद मैं उनके लंड को हिलाने लगी और उनका लंड दोबारा पूरा खड़ा हो गया था.

जेठ जी को सेक्स का बहुत अनुभव था. वो अपने लंड को मेरी चूत पर रखकर रगड़ने लगे जिससे मुझे सिहरन होने लगी.

वो मेरी चूत पर अपना लंड रगड़ने के बाद मेरे होंठों को चूसने लगे.

जेठजी अपना लंड मेरी चूत में डालने लगे और मेरी चूत में उनका लंड चला गया. जिससे मैं कामुक हो गयी और आहें भरने लगी.

वो मेरी चूत को अपने लंड से चोद रहे थे, मैं उनसे चुदवा रही थी और वो मेरी चूत में धक्का दे रहे थे.

जेठ जी कुछ देर के बाद अपना पूरा लंड मेरी चूत में डालकर चोदने लगे.

इस बार मुझे और भी मजा आ रहा था. उनका पूरा लंड मेरी चूत में जा रहा था जिससे मैं चिल्लाने लगी.

उनका लंड बहुत बड़ा था. मुझे चुदवाने में मजा भी आ रहा था और दर्द भी हो रहा था.

मैं चिल्लाने लगी और वो चोदने लगे.

वो मेरे होंठ को चूसने लगे जिससे मैं शांत हो गयी और वो मेरी चूत को चोदने लगे.

उनकी चुदाई से मुझे बहुत अच्छा लगा.

हम दोनों का जिस्म पसीने से भीग गया था. वो बहुत ताकत से मुझे चोद रहे थे. उनका पूरा लंड मेरी चूत के अन्दर जा रहा था. मेरी चूत से पानी निकल रहा था.

उनका लंड मेरी चूत के अन्दर बाहर हो रहा था और कभी कभी वो मेरी चूत में लंड डालकर मुझे चुम्बन दे रहे थे.

सेक्स में जेठजी का अनुभव बहुत अच्छा है.

इतनी अच्छी चुदाई से मैं आज बहुत खुश हो गयी.

घर में कोई नहीं था इसलिए खुलकर मैं और मेरे जेठ जी चुदाई कर रहे थे. हम दोनों लोग चुदाई करते हुए झड गए.

कुछ देर के बाद जेठ जी ने चुदाई का तरीका बदल दिया, वे मुझे पीछे से चोदने लगे.

वो मेरी कमर पकड़ कर अपना लंड मेरी चूत में डालकर चोदने लगे.

कभी कभी वो अपने जीभ से मेरी चूत चाट ले रहे थे.

उनको कई तरीके से चुदाई करने आता था.

हम दोनों एक बार झड़ने के बाद बहुत देर तक आपस में चूमाचाटी करते रहे.

इस बार मैंने उनके ऊपर आकर भी मजे किये.

साथ में हम दोनों लोग बीच बीच में एक दूसरे के गुप्तांग भी सहला रहे थे.

इसके बाद जेठ जी का लंड खडा हो गया और उन्होंने मुझे दोबारा छोड़ना शुरू किया.

इतनी अच्छी चुदाई के बाद मैं दुबारा झड़ गयी.

हम दोनों सेक्स करने के बाद एक दूसरे की बांहों में ही सो गए.

थोड़ी देर बाद जेठ जी को सोता छोड़ मैंने अपने कपड़े पहन लिए और रसोई में काम करने चली गयी.

तब से मेरे पति के ऑफिस जाने के बाद दोपहर में हम दोनों जेठ बहू सेक्स करने लगे थे.

अब जेठानी जी आ गयी हैं तो हमारी चुदाई रुक गयी.

अब तो जब जेठ जी मुझे छोड़ेंगे तो आपको बताऊंगी.


Darji Ne Chodi Meri Chut

 

Darji Ne Chodi Meri Chut, दर्जी ने चोदी मेरी चूत

Hi doston, ummeed hai aaog thik honge, Me savita, is baar apni dost Sonal ki kahani bata rahi hu, sonal meri achhi dost hai, usne mere saath apna ek adbudh anubhav share kiya, to Me uska experience aap logo ke saath share kar rahi hu. Adult stories


Hello, mera naam Sonal hai, Me 30 yrs ki shaadi shuda mahila hu, mere pati rajiv hai, mera vital status 36-30-38 hai, mera rang gora hai, eyes badi, meri choochi bohot gore aur bade hai, aur mere chutad bhari bhadkam tarbooz hain, to doston ye baat meri shadi k 3 saal baad ki hai.

Mere pati ko sex me koi interest nahi reh gaya tha, vo aksar kaam me busy rehte the, meri o ne mujhe worn kiya kahi unka secretary ke saath kuch ho na, par Mene aisa kabhi socha nahi.

Do hafte ho gaye the rajiv ne mujhe choda nahi, pichli baar bhi yuhi jaldi jaldi karke apna kaam kar liya aur mujhe yuhi pyasa chod diyatha, Mene kai raat koshish kari, sexi nighty pehenkar, blue movies (jo rajivkabhi mere sath enjoy kiya karte the) lagakar unhe lubhaya, Mene role plat bhi karne ki koshish ki.

Mene kaha “Rajiv aaj Me tumhari favourite savita bhabhi ki tarah tumhari nurse ban jaati hu, naughty student banti hu, aap police vankar mujhe chori karte pakdo aur mujhe khoob chodo, ”

Par unhe kuch achha nahi lagta hai, khana kha kar har raat so jaate hain, isi tarah ek raat Mene unhe khoob lubhaya, unke lund ki apni nangi choot se massage kiya, par unhone mujhe daant kar hata diya, aur Me aisi hi ro ro kar so gai.

Subah uthkar Mene Ramu (tailor) ko phone kiya aur kaha aj 10 baje aakar mera naap le lena, mujhe blouse silwana hai, fir Me rajiv ko tayar hone me madad karne lagi.

Raat chudai nahi hone ke kaaran choot ki talab abhi baaki thi, baar baar vahin khayal ja raha tha, naashta nahi ban paya time par, rajiv office jaane lage, “Sonal!! Kitni der se awaz laga raha hu!!! Kya kitchen me dhatur ka khet uga rahi hai, abhi tak naashta nahi bana, chal aa kar darwaza band kar, Me baahar kha lunga.”

Rajiv gusse me the, vo aaj kal mujhe bohot daantne lage the, par patanahi, Me bhi thoda laparwahi baratti thi.

Me sofe par baith kar rone lagi, fir shant hokar mej par rakha paani liya, dheere dheere raat ki tadpan mujh par chadhne lagi aur Me maxi upar kar ke apni choot me ungli karne lagi.

Me aaah oohhh rajiv chodo na mujhe, tumhe mujhe kitne time se nahi choda, bol rahi thi, achanak darwaza khula aur raaju andar a gaya, rajiv darwaza bhidka kar office chale gaye the aur Me apne gham me kundi lagana bhul gai.

Me taang failaye choot me ungli diye bhaithi thi aur raaju mujhe aankh phaadkar dekh raha tha, do second me freeze ho gai, par fir achanak uchali aur khadi huwi.

Ramu: maaf karna mam darwaza khula tha.

Me: khula tha to andar chale aaoge, khatkhataya kyo nahi.

Ramu: mujhe rhodi na pata tha ki aap.

Me: Me kya? Tumhe kuch nahi dekha, chupchap naap lo.

Ramu: ok, blouse deep neck ka silna hai, ?

Me: haan, aur thoda right fit chahiye, shape aani chahiye.

Ramu mera naap lene laga, naap lene ke bahane vo meri choochi choo raha tha, uske haatho ka sparsh mujhe achha lag raha tha, par vo mere breast se jaada chipka ke naap le raha tha.

Me: raaju ye kya kar rahe ho.

Ramu: ab aapko tight fitting chaahiye to thoda tight to pakadna hoga na, itna kehkar mere piche chala gaya, “Madam thoda haath upar karo, “, vo piche se haath aage laya aur inchitape mere right nipple par chipka diya aur piche se aur pass a gaya.

Me: Ramu ye kya kar rahe ho.

Ramu: naap le ra hu mam, kuch der me mujhe aapne gaand par uska paina auzaar mehsoos huwa, Me sihur uthi.
Uska haath aur tape baar baar mere breast se meri kamar par ja rahe the.

Me: ho gaya naap.?

Ramu: nahi abhi breast ki golayi leni hai, cup fit cone ke liye, Ramu piche se hi pakadkar tape ko meri breast ki golaiyo me lapet liya aur aisa karte waqt mere choochi ko poore hatheli se choo liya.

Me: ssssss, Ramu: kya hua mam?

Me: ye pichhe se door hato, kuchh chubh raha hai.

Ramu aur chipakte huwe: lene do na mam, vaise bhi aap dene ko itna tadap rahi thi, naap.

Me: ohhhhsssss, kaisi baaten karte ho Ramu.

Ramu: saham kyo rahi ho madam, aur daba daba kar naap lu??

Me: haye, mere jada pass mat ao, uff ye kya kar rahe ho Ramu.

Ramu: ohh madam blouse ke liye aapke chooche kade karne honge, inhe masalna hoga.

Me: ohhh ahhhhh, ye kya kar rahe hoooooohhhhhh.

Ramu: is nipple ka naap lena hai madam, is sone me tight fit chahiye ya loose, ye tight aur paine achhe lagenge, unhe masalna padega.

Me “Aaahhh dhang sssse naap lo yekya kar rahe ho.”

Me (hosh me aate huwe): mujhe khud ko kaabu me rakhna hai.

Ramu (mere left choochi masalte huwe) : vo to thik hai, par ye bataiye jab Me aaya to tum siiskiya le kar keh rahi thi ki mujhe chodo rajiv, tumhe bohot dino se mujhe nahi choda, kya tum sachme chudne ko tadap rahi ho?.

Ye kekar Ramu ne meri nighty upar ki aur meri choot sehlaane laga.

Me (uska haath kichte huwe): Ramu ye bohot personal matter hai, aur mene kaha na bhul jaao jo bhi tumhe dekha.

Ramu: ye kaise bhool jau ki tu apni gulaabi gori choot me ungli pel rahi thi, ye kehkar rahu ne apni beech wali ungli meri choot me daal diya aur andar bahar karne laga.

Me: ye kya badtami hai.

Par Ramu ab tak meri choochi pakad kar masal raha tha aur meri choot me unhi zor zor se kar raha tha.

Me: aahhh ohhhh, Ramu ye kya kar rahe ho, meri haalat samjho please.

Ramu:tumhari haalat samajh kar hi to ye kar raha hu jaaneman.

Me: par Me apne pati se kya kahungi?

Ramu: kehna Ramu mere choochiyo ka naap le kar gaya hai, aur batana kaise Mene masal masal kar in gore kabootaro ka naap liya, aur tumhare nipple ko choos choos kar inhe khada kiya, kitni mehnat lagi mujhe tight naap lene me.

Me: ohhhhhh aaahhhh ssssss.

Ramu: ye bhi batana apne pati ko kaise Mene teri nighty utaari, aur tere choochi ke divye darshan kiye, Ramu me seedhe mere nipple par jhapatta maara aur unhe apne honth me dabochhkar choosne laga, fir mere nipple apne daanto me dabakar bahar ko kar ki khincha.

Me: aahhh dhire raja.

Ramu khuch der tak mere dono nipplle ke saath yahi karta raha, choochi tight pakadkar nipple daanto se khinchta ki halka dard hota, phir use choos kar shant karta, Me bas ooooh aahhh ssss karke is mithe dard ka maza lene lagi.

Ramu ab mujhe gale se le kar pet tak chaat aur choom raha tha, Me to pagal ho gai thi.

Ramu: tere pati ne kabhi teri choot khayi hai? Nai na, aise pati ki chinta kyon karti hai jo tujhe dino din pyasa rakhta ho, aisi biwi ho to chudai ki mehfil khatam na ho, ye kehte huwe Ramu mere taango ke bich aa kar panty, ke upar se hi choot muh me daba liya.

Me : hai raam ohhhhh ufffff Ramu mere raja, pagal kar doge kya, ohhhh, Ramu ne meri panti utaar di aur mera ek pair mez par rakh diya, mez unchi hone ke kaaran meri geeli choot khul gai.

Ramu: dekh to teri chot lund ke swad me kaise laar tapka rahi hai, lalachi billi, par pehlie Me ise choos choos kar ise laall karunga.

Ramu ne apni pant aur, kachha utar diya, uska lund 7.5 inch ka hoga aur bohot mota tha, bahar nikalte hi vo poora tan kar khada ho gaya, Ramu meri choot ko khol kar jeeb se chaatne laga, mere choot ko bahar se andar se chaat kar honth gol kiye aur mere daane ko daboch liya.

Me: aahh Ramu Me jhad jaungi ohhh, aur chooso, Ramu ne apni jeebh gol aur tight ki aur mere choot ke ched me andar bahar karne laga.

Phir hum jamin par let gaye aur 69 position me ho gaye Me uska lund choosne lagi aur vo mujhe jeebh se chodta raha, Me: aaahhh ohhhhh umffff ahhhh, sssssss choos Ramu choos, mere choot ka bhi naap le, ise kaat kaat kar kha ja, Ramu choot ka daana kaatne laga.

Oooooh hai mera to likhte huwe bhi haalat kharab ho rahi hai aisa tadpaya ussne, Me ek baar jhad chuki thi, Me: Ramu ab to chodo mujhe, Ramu upar utha aur apni pant utaar di, fir mujhe table par liya kar mere par chaude kar diye aur mere choot par thook gira kar andar bahar mal diya.

Phir apne lund ka topi ched se sata kar dhaka lagaya, lund adha andar chala gaya par bohot din choot sookhi rehne ke kaaran halka dard huwa, Me: aahhh dheere Ramu, Ramu apna lund andar bahar karne laga.
Ramu: randi ab to Me ise chod chod kar phar dunga, hmmmfff hmpphhhffff, tu bas choot marwane ka maza le, tere pati ne tujhe choda hi kahan hai, aj asli chudai dekhegi.

Aur usne meri tang cheer kar ek zordar dhaka maara.

Me: aaahhhhh kutte.

Ramu: mmmmphfffff aj tu banegi bhosdi wali, le chud, bohot lund khaane kha shok hai, le hmmmpfffff aur le.

Me: ahhhh haan aur pel apna lund, thok mujhe zor zor se raaja, randi banalo mujhe apni, aaaahhhhhssss chodo ahhhhhhhh mmmmmm.

Me 35 minute ki chudai me teen baar jhar gai thi, phir raaju ka nikalne wala tha to Mene kaha mere muh me jhado.

Ramu ne apna lund nikalkar mere muh me daal diya aur mera muh chodne laga, Me bhi muh bhich kar uska lund daba kar choos rahi thi, 5 minutes muh dudai ke baad Ramu ka paani nikal gaya jo mere gale se neeche utar gaya, Mene uska lund chaat kar saaf kiya, fir humne kapde pehen liye.

Ramu ne mere lips kaate aur choochi masalte huwe kaha: naap achhe se liya na madam.

Me: haan raaju, aise hi naap lete rahoge to aur bhi blouse silwaungi, aur is tarah Ramu mujhe chodta rehta hai jab mauka mile.

Kahani padhne ke baad apne vichar niche comment section me jarur likhe, taaki DesiKahani par kahaniyon ka ye dor apke liye yun hi chalta rhe.

आयुष्यातल्या काही सुंदर व बेधुंद क्षणांचे शब्दांकन-marathi romantic sexy story

 
marathi romantic sexy story

 

आजकाल इंटरनेट वर बर्‍याच मराठी प्रणय कथा वाचायला मिळत आहेत. मी बरेचदा त्या वाचतो तेंव्हा असे लक्षात येते कि बर्‍याचशा कथा अवास्तव पुरुषी कल्पना करून रंगवलेल्या आहेत. भारतीय स्त्रियांची मानसिकता विचारात घेतली तर नव्व्यान्नव टक्क्याहून अधिक कथा वास्तवापासून खूप लांब आहेत असे लगेच लक्षात येते. खरतर मी स्वत: असे खूप अनुभव घेतले आहेत पण लिहायचा कंटाळा येत असल्याने कधी नेट वर लिहिले नाही. पण ह्या सार्‍या कथा वाचून वास्तव अनुभव काय असतो हे एकदा लिहावेच असे ठरविले.

Marathi Sex Kahani

असो. तर मी सध्या पुण्यात राहतो. वय ३७ वर्षे. गव्हाळ वर्ण. वजन सर्व साधारण. उंची पाच फुट नऊ इंच. मजबूत शरीर यष्टी. मराठी पोरींना आवडेल असे व्यक्तिमत्व मला सुदैवाने लाभले आहे. ही गोष्ट साधारणपणे सात आठ वर्षापूर्वीची असेल. माझा मित्र रमेश नुकताच अमेरिकेहून पुण्यास परत आला होता. त्याची बायको मैथिली. एका गर्भश्रीमंत व्यापार्‍याची ती मुलगी. दुधा तुपात वाढलेली. जवळपास माझ्याच वयाची. रंगाने उजळ, गोबरे गाल, बाहुलीसारखे बोलके व मोठे डोळे आणि केस काळे लांब सडक. स्निग्ध गोरी त्वचा. एकदम भरलेली जवान पोरगी. रसरशीत स्तन आणि भरगच्च असे नितंब. कुणीही पुरुषाने पाहीले तर त्याला लावायची इच्छा होईल अशीच ती होती. खरतर माझी व रमेशची ती क्लासमेटच. कॉलेजांत असताना आम्ही दोघेपण तिच्यावर लाईन मारायचो. पण शेवटी ह्यालाच ती मिळाली. पण तरीही तिच्या मनात माझ्याविषयी कुठेतरी शारीरिक आकर्षण असावे अशी मला सुरवातीपासूनच दाट शंका होती. त्याला कारणही तसे होते. कारण कोलेजात असताना जेंव्हा रमेश आसपास नसेल तेंव्हा ती माझ्या खूप जवळ जवळ करायची. एकदोन वेळा तर काही निमित्त काढून आपले उन्नत उरोज तिने माझ्या दंडाला टेकविले होते. पण ह्या पोरींचे काही सांगता येत नसते. नकळत पण त्यांच्याकडून अशा गोष्टी होतात. त्यांच्या मनात काही नसायचे आणि उगाच आपणच सगळ्या कल्पना करतो असे मला वाटायचे. त्यामुळे मी ही कधी पुढची पावले स्वत:हून टाकली नाहीत.

Marathi Sex Kahan

असो. तर रमेश जेंव्हा अमेरिकेहून दोन वर्षांनी पुण्याला आला तेंव्हा त्याला भेटायला म्हणून मी त्याच्या घरी गेलो. खरतर त्याच्यापेक्षा मैथिलीलाच मला भेटायचे होते. घरी जाताच मैथिलीनेच दार उघडून माझे स्वागत केले. मी तिला पाहीले. काळ्या रंगाच्या पारदर्शी उंची साडीत तिचे यौवन खुलून दिसत होते. तिचा ब्लाउज साडीला शोभेल असाच काळ्या रंगाचा होता. त्यात तिचे आधीच गुबगुबीत असलेले उरोज अजून गरगरीत आणि उबदार वाटत होते. दोन वर्षात मैथिली खुपच मुसमुसलेली झाली होती. कमरेखालचा भाग अजून जास्त आव्हानात्मक दिसत होता. रमेशने तिला मनसोक्त आणि हवे तेंव्हा व हवे तसे ठोकले असेल ह्यात शंकाच नव्हती. त्यामुळे तिची कामवासना जास्तीच वाढली असावी. मी व रमेश गप्पा मारत असताना ती अधून मधून येवून आम्हाला चहा पाणी देत होती. ती जेंव्हा पाठमोरी होवून आत जात असे तेंव्हा तिचे दोन भरीव नितंब असे वरखाली होत असत, कि जसे काही पाठीमागून येवून मला घेअसेच आव्हानच ती करत होती. तिचे ते रूप पाहून मी तर पुरता घायाळ झालो होतो. ती चांगलीच माजावर आली आहे आणि एकटा रमेश तिला कमी पडत आहे हे मी लगेच ओळखले. त्याक्षणीच हिला लवकरच अंगाखाली घ्यायचे मी ठरविले. त्या कल्पनेने माझा जाडजूड लंड तरारून उठला व मी जरासा अवघडल्या सारखा झालो. थोड्या वेळाने मैथिली पण आमच्यात येवून बसली व गप्पा मारू लागली. माझे सगळे लक्ष साडीतून अर्धवट दिसणार्‍या तिच्या गोर्‍या गोर्‍या उरोजांकडे जात होते. तिलाही ते जाणवले असणार. रमेशचे लक्ष नाही असे पाहून एकदोन वेळा तिले मला अर्थपूर्ण नजरेने पाहीले व माझ्या पॅंट मधल्या फुगीर भागावर कटाक्ष टाकला तेंव्हाच मी ताडले हिला कचकचून हेपलायचा दिवस जास्त लांब नाही. आणि माझा अंदाज बरोबर ठरला.

 

पुढच्याच महिन्यात रमेशाला एक आठवड्याकरिता पुन्हा अमेरिकेला जायचे होते. अर्थात तो एकटाच जाणार होता. तो गेल्यानंतर दुसर्‍याच दिवशी मैथिलीचा मला फोन आला. रमेशशी तिला चाट करायचे होते पण तिच्या मेसेंजर ला काहीतरी प्रोब्लेम येत होता. तो नीट करण्यासाठी ती मला घरी बोलावत होती. खरतर मी मनातून खूप उत्तेजित झालो होतो पण बोलण्यावरून तसे काही तिला जाणवून दिले नाही. तसेच कुठलीही रिस्क मला घ्यायची नव्हती म्हणून दिवसा जाण्याऐवजी रात्रीच जावे असे मला वाटत होते. त्यामुळे मला खूप काम असल्याने दिवसा येणे शक्य नाही रात्री आले तर चालेल का असे विचारताच ती म्हणाली रमेश रात्रीच ऑनलाइन येतो त्यामुळे रात्रीच यावे लागेल. ते ऐकताच माझा लंड चांगलाच उद्दीपित झाला. पण मी स्वत:ला कसेबसे सावरले. रात्र होईपर्यंत मला धीर निघत नव्हता.

 

रात्री नऊ वाजता मी तिच्या घरी गेलो. ती घरी एकटीच होती. फिकट गुलाबी रंगाचा नाईट गाऊन तिने घातला होता. अमेरिकेहून आणलेल्या मंद सेंटचा हलका फवारा त्यावर तिने मारला असावा. मैथिली खुपच ताजीतवानी दिसत होती. बहुदा नुकतीच तिने अंघोळ केली होती. कारण ओले केस तसेच अजून वरती टॉवेल मध्ये बांधलेले होते. प्रसन्न हसून तिने माझे स्वागत केले. थोड्याफार इकडच्या तिकडच्या गप्पा झाल्या. परवापेक्षा जास्त खुलेपणाने आज ती माझ्याशी बोलत होती. गप्पांच्या ओघात मला अंदाज आला. रमेश नपुसंक नव्हता पण काही वैद्यकीय कारणांमुळे तो तिला मुल देऊ शकत नव्हता. मला इतकी माहिती पुरेशी होती त्यामुळे मी तो विषय जास्त वाढवू न देता ज्या कामासाठी आलो त्याविषयी विचारले. त्यावर बेडरूम मध्ये कॉम्पुटरपाशी ती मला घेऊन गेली. मी कॉम्पुटर सुरु केला . मैथिली डाव्या बाजूला माझ्या शेजारी जवळजवळ मला चिकटूनच बसली. बेडरूम मध्ये रूम फ्रेशनरचा उल्हसित करणारा सुगंध भरून राहिला होता. अकराव्या मजल्यावर असल्यामुळे उघड्या खिडकीतून आकाशातील चांदण्यांचा मस्त नजारा मन लुभावत होता. वळीवाचे दिवस होते तरीही आकाश अजूनही निरभ्र होते. मेसेंजर ला काय समस्या आहे हे मी पाहत होतो. तितक्यात मैथिली थोडे पुढे होवून हाताचे कोपर टेबल वर टेकून बसली. त्यामुळे तिच्या नाईट गाऊन मधून तिचे उन्नत उरोज अगदी स्पष्टपणे मला दिसू लागले. त्या अर्धवट दिसणार्‍या उरोजांमुळे खरं तर मी जास्तच पेटलो होतो. थोडा वेळ असाच गेला. आणि स्क्रीन वर काहीतरी दाखवायचे निमित्त करून मैथिलीने एक हात माझ्या डाव्या खांद्यावर ठेवला. मी पण हळूच स्वत:ला थोडेसे मागे झुकवले. आता माझे तोंड तिच्या गालाच्या अगदी जवळ आले होते. माझ्या हृदयाचे ठोके झपाट्याने वाढत होते. तिच्या मादक श्वासाचा गंध मला येत होता. माझी कानशिले तापली होती. तिच्याही मनात वादळ सुरु झाले असावे. पण तरीही आम्ही दोघे मेसेंजरच्या समस्येवरच बोलत होतो. बोलता बोलता मी हलकेच नजर टाकली. गाऊन मधल्या घळीतून तिचे डौलदार स्तन आता अगदी स्पष्ट दिसत होते. झिरझिरीत काळ्या रंगाच्या ब्रा मधून छाती भरून राहिलेले ते दुधाचे गोरे गोरे घट जणू बाहेर येऊ पाहत होते. त्याखालचा अगदी नाभि पर्यंतचा भाग स्पष्ट दिसत होता. तिच्या अंगभूत गंधाने माझ्यातला कामाग्नी प्रज्वलित झाला होता. मी तिच्याकडे नजर रोखून पाहू लागलो तशी तिने आपली नजर बाजूला वळवली व सावध झाल्यासारखे करून मला म्हणाली, “अरे तू आला आहेस पण मी तुला साधे पाणी देखील विचारले नाही मघापासून. थांब मी तुझ्यासाठी काहीतरी बनवून आणते”. मी तिला नको म्हणणार इतक्यात ती किचनमध्ये निघून सुध्धा गेली. आता मात्र मी खूप बेचैन झालो. एक दोन मिनिटांनी तिच्या मागोमाग मी पण किचनमध्ये गेलो. किचन कट्ट्याशी पाठमोरी उभी राहून ती काहीतरी बनवत होती. अग मला खरच काही नको आहे. इतक्या वर्षांनी तुला भेटायला मिळाले हेच खूप झालेमी काहीतरी शब्द जुळवायचा प्रयत्न करत होतो. पण पाठीमागून दिसणार्‍या तिच्या कमरेच्या व नितंबाच्या आकाराने पुरता घायाळ झालो होतो. हो का?” असे म्हणून तिने फक्त मागे वळून स्मितहास्य केले. मग मी थोडेसे धाडस करायचे ठरविले. हळूच तिच्या अगदी जवळ मागून थोडे एका बाजूला जाऊन उभा राहिलो. काय करती आहेस?” मी विचारले. तुझ्यासाठी काहीतरी ..ती पुटपुटली पण खाली बघतच उभी राहिली. तिच्या व माझ्याशिवाय अर्थातच तिथे कुणीही नव्हते. चुकून जरी तिने आरडा ओरडा केलाच तर आजूबाजूच्या फ्लॅट मध्ये सुध्धा कोणी नव्हते. काही क्षण असेच गेले. मी सगळ्या शक्यतांचा विचार करत होतो. पण मला जास्त वेळही घालवायचा नव्हता. चल, हो पुढे, हो पुढे. जास्त विचार करू नकोस. हीच योग्य वेळ आहे.मनात विचारांचे प्रचंड वादळ सुरु होते. घशात थोडी कोरड पडली. हृदय धडधडू लागले आणि एका निसटत्या क्षणी मी पट्टकन पुढे होऊन तिच्या पाठीवरून हात टाकून पलीकडच्या हाताच्या दंडाला धरून हलकेच तिला जवळ ओढले.

My Marathi Sex Stories

तिला हे अगदी अनपेक्षित होते. अरेऽऽऽ??!! काय झाले? काय पाहिजे तुला?” डोळे विस्फारून विस्मयचकित होऊन ती बोलली. एकदम सावध पवित्रा घेत स्वत:चे हात तिने छातीभोवती घट्ट घरले. घाबरून माझ्याकडे बघत स्वत:ला सोडवून घेतले. आणि पट्कन माझ्यापासून लांब जाऊन उभी राहिली. मला अपराध्यासारखे वाटू लागले. आपण हे काय केले असा विचार मनात आला. मैथिली… I am sorry.. पण मला तू खूप आवडतेसमी अडखळत पण योग्य तेच बोललो व नकळत तिच्या जवळ जाऊ लागलो. “Please.. अज्जिबात जवळ येऊ नकोस. प्लीज.”, हात लांब करून ती जवळजवळ ओरडलीच. अग असे काय करतेस”, मी केविलवाणा होऊन काहीतरी बोलायचं प्रयत्न करणार तोच मला तोडत ती पुन्हा ओरडली आधी बाहेर हो. इथे कशाला आला आहेस? चल आत्ताच्या आत्ता बाहेर जा आधीतिच्या डोळ्यात अंगार फुलला होता. ओठ रागाने थरथरत होते. तो अवतार पाहून माझे सारे अवसान गळले. मी खाली मान घालून बाहेरच्या खोलीत आलो. डोके सुन्न झाले होते. कशाला नको त्या फंदात पडलो असे वाटू लागले व खाली मन घालून मी सोफ्यावर बसलो. काही मिनिटे अशीच भयाण शांततेत गेली. आतून कसलाच आवाज येत नव्हता. ही रमेश ला तर फोन करत नसेल?”, मन चिंती ते वैरी न चिंती. पण काय असेल ते असेल आता आल्या प्रसंगाला तोंड दिलेच पाहिजे असा विचार करत मी बसून राहिलो. युगासमान वाटणारे काही क्षण असेच तणावाखाली गेले.

 

थोड्या वेळाने मैथिली बाहेर आली. आता गाऊन वर तिने शाल पांघरली होती. पण हात अजूनही छातीला घट्ट बांधलेले होते. ती थोडी सावरली होती. मी तिच्याकडे खजील होवून पाहीले. बाहेर येताच माझ्यापासून दूर विरुद्ध भिंतीला टेकून सावध पवित्रा घेऊन ती उभी राहिली. काय झाले तुला अचानक?”, तिच्या आवाजातला रोष काही कमी नव्हता. माहित नाही.. बस्स”, मी आवंढा गिळला. म्हणजे माझ्याकडून वागण्या बोलण्यात काही चूक झाली का असा मी विचार करती आहे. कारण तुझ्याकडून अजिबात अशी अपेक्षा नव्हती. अरे, एक विश्वासू मित्र म्हणून मी तुझ्याकडे पाहत होतेती बोलत होती आणि लोखंडाचा रस ओतल्यासारखे ते शब्द माझ्या कानात उतरत होते. मैथिली खरच मी असा नाहीये ग पण मला का कुणास ठावूक आता तुझ्याविषयी थोडे फिलिंग आले बस्स. सॉरी ग”, माझ्या डोळ्यातून अश्रू येताहेत कि काय असे वाटले. स्टोप इट नाउ. झाले हे खूप झाले. आत्ताच्या आत्ता निघून जा तू इथून. नाऊ लिव्ह मी अलोन प्लीज”, मानेनेच इशारा करून ती पुन्हा कडाडली. आता इथे अजून थांबण्यात अर्थातच काही राम नव्हता हे ओळखून मी उठलो व अपराध्यासारखा चेहरा करून खाली मान घालून बाहेर पडलो. जाताना उगीचच पुन्हा एकदा सॉरी, आय थिंक आय लॉस्ट यूम्हणालो. पण बहुदा तिने त्याकडे पूर्ण दुर्लक्ष केले असावे. मी तडक खाली पार्किंगमध्ये येऊन कार मध्ये स्वत:ला ढकलले आणि डोक्याला हात लाऊन बसलो.

 

झालं, संपलं सगळं. सं.. प.. लं.. इथून पुढे मैथिलीच काय रमेशशी सुध्धा संबंध राहण्याची सुतराम शक्यता नव्हती. मनातून खूप खजील झालो होतो. कार मध्ये हताशपणे बसलो. एव्हाना रात्रीचे अकरा वाजून गेले होते. हळू हळू आकाशात बरेच ढग जमले होते. विजांचा प्रचंड गडगडाट ऐकू येत होता आणि प्रचंड वारा सुटला होता. सोसायटीच्या गेट वर वाचमन वगैरे कुणीही दिसत नव्हते. मी गाडी काढली आणि सुसाट घरचा रस्ता धरला. अर्धा एक तास झाला असेल. मी बायपास हायवे वरून भरधाव निघालो होतो. बघता बघता जोराचा पाऊस सुरु झाला. आणि अचानक माझा सेलफोन वाजला. कुणाचातरी SMS होता. मी पाहीले तो मैथिलीचाच मेसेज होता “Don’t worry. You have not lost me. But our friendship has changed the mode. That’s why I was shocked. But now I am feeling I got a close friend in you.” तो मेसेज वाचल्यावर मला आश्चर्याचा सुखद धक्का बसला. पट्कन गाडी बाजूला घेऊन मी तिला रिप्लाय केला “Thanks! I want to talk with you now. Shall I come?” आणि थोडा वेळ वाट पाहत राहिलो. बाहेर पाऊस अक्षरशः ओतत होता. आणि मी आतून बराच excite झालो होतो. इतक्यात तिचा एकाच शब्दात रिप्लाय आला “Okk”. झाले. मी पटकन यू टर्न घेतला आणि भन्नाट ड्रायव्हींग करत बघता बघता पुन्हा मैथिलीच्या घरी आलो. एव्हाना पावसाचा जोर चांगलाच वाढला होता. मी लिफ्ट ने अकरावा मजला गाठला. धडधडत्या अंत:करणाने दरवाजाची बेल वाजवली. खरतर माझा लंड चांगलाच उठला होता पण मी स्वत:वर प्रचंड ताबा ठेवला. थोड्या वेळात मैथिलीने दार उघडले. आणि मी तिच्याकडे पाहातच राहिलो. मघाचा नाईट गाऊन बदलून तिने दुसरा पातळ असा स्लिव्हलेस नाईट गाऊन घातला होता. त्यातून तिचे उन्नत उभार उठून दिसत होते. आणि मघाशी वर बांधलेले केस आता तिने पाठीवर मोकळे सोडले होते. त्यामुळे ती जास्तच मादक दिसत होती. हलके व अर्थपूर्ण स्मितहास्य करून तिने मला आत यायला सांगितले. आत सर्वत्र अंधार होता. बाहेर सुरु असलेल्या वादळी पावसामुळे लाईट गेले असावेत. तिने US हून आणलेल्या Perfumed Candles चा सुगंध मंद प्रकाशाबरोबर सर्वत्र भरून राहिला होता. मी आत येताच दार बंद करून ती Candle लावलेल्या टेबल पाशी गेली व त्याला टेकून उभारत खाली नजर वळवून लाजत म्हणाली, “काय बोलायचे आहे तुला माझ्याशी?”. “काही नाही. बस्स…” असे म्हणून मी तिच्या जवळ गेलो. नुकतीच न्हाऊन आल्याने तिचे सौंदर्य अजून खुलले होते. गोरे गुलाबी गाल, सरळ नाक, रसरशीत ओठ. तारुण्याने मुसमुसलेली मैथिली मेणबत्तीच्या उजेडात एखाद्या सौदर्य देवातेप्रमाणे दिसत होती. आता माझा श्वास गरम झाला होता. दोघांच्याही हृदयाची धडधड वाढली होती. हातांचा चाळा करत माझ्याकडे एक कटाक्ष टाकून पुन्हा खाली बघत मैथीली दाताखाली ओठ धरून नि:शब्द उभी होती. आता खरतर शब्दांची गरजच उरली नव्हती. कारण मी इतक्या जवळ जाऊन सुध्दा ह्यावेळी तिने कसलाच विरोध केला नाही. मी ओळखायचे ते ओळखले आणि हलकेच एक पाऊल पुढे टाकून तिला कस्स करून जवळ ओढले. तोंड एका बाजूला करत तिने हाताने मला विरोध करायचा थोडा प्रयत्न केला पण त्याला न जुमानता क्षणाचाही विलंब न लावता आवेगाने तिला मिठीत घेऊन मी तिच्या गोबर्‍या गालावर दीर्घ चुंबन घेतले. तिच्या तोंडून अस्फुट उद्गार बाहेर पडला आणि तिने डोळे मिटून घेतले. तिच्या मादक श्वासाने व अंगभूत गंधाने मी वेडा पुरता झालो होतो. ती माजावर आली होती. बेभान होऊन मी तिच्या गोबर्‍या गालावर व मानेवर चुंबनांचा वर्षाव करत होतो. तिला जवळ ओढून घट्ट मिठीत घेतली होती. तिच्या उबदार अंगाचा स्पर्श मला जास्तच उत्तेजित करत होता. बघता बघता माझे हात तिच्या पाठीवरून आवेगाने फिरू लागले. तिच्या कमनीय देहाचा एक न एक भाग मी स्पर्शून पाहत होतो. आता तीही मला हळू हळू प्रतिसाद देऊ लागली. तिचे नाजूक हात हळुवारपणे माझ्या पाठीवर फिरू लागले. उजवा हात तिच्या पाठीवरून फिरविता फिरविता तिला अजून घट्ट ओढून मी माझा डावा हात हलकेच तिच्या नितम्बांवरून वरून फिरवायला लागलो. गाऊन मधून ते टणक घनगोल हातानी दाबता दाबता मी हलकेच तिच्या दोन मांड्यांच्या मधल्या भागात बोटे घालून दाबली. ती उसासे सोडत होती. मी पुरता वेडा होऊन तिच्या गालाचे मानेचे चुंबन घेत चेत हलके चावे घेत होतो व माझ्या पाठीवरून डोक्यावरून ती आवेगाने हात फिरवीत होती.

 

बाहेर पावसाला उधाण आले होते. वार्‍याच्या झडी बरोबर होणार्‍या तुफानी पावसाच्या आवाजाने चांगलीच वातावरण निर्मिती झाली होती. माझा उजवा हात पाठीवरून फिरविता फिरविता मी नकळत मैथिलीच्या उजव्या स्तनाभोवती आणला आणि क्षणभर मिठी सैल करून तिच्याकडे पाहीले. ती पण डोळे उघडून झिंगल्या नजरेन माझ्याकडे पाहत राहिली. मग मी पुन्हा तिला जवळ खेचले आणि सरळ माझे ओठ तिच्या रसिल्या ओठांवर टेकविले आणि जीभ तिच्या तोंडात घालून तिचे मुखचुन्बन करू लागलो. इकडे माझा उजवा हात अगदी बिनधास्तपणे तिच्या स्तनांवरून फिरत होता. ते मोठे उबदार गरगरीत उरोज माझ्या पंज्यात मावत नव्हते. मी तिला चोखता चोखता तिचे जोरजोरात स्तनमर्दन करू लागलो. डाव्या हाताची बोटे पाठीमागून गाऊन वरूनच तिच्या पॅंटीच्या आत घालायचा प्रयत्न करत होतो. तिने पण आपल्या मांड्या थोड्या अलग करून सरळ माझ्या बोटांना वाट करून दिली. मग मी हळूच खालून दोन बोटे तिच्या चड्डीत घालून अंदाजाने तिच्या योनिभागावर रगडत राहिलो. वर बॉल चोळल्याने तिचे निप्पल्स ताठ झाले होते आणि खाली तिची योनी ओलसर झाल्याचे मला जाणवले. ती एकदम थरारली व मिठी सोडून बाजूला झाली. मी तिच्याकडे पाहत राहिलो. बाहेर रात्र चांगलीच दाटून आली होती त्यात आणि मुसळधार पाउस. आजची रात्र फक्त आमचीच होती. बाकी कोणीही येणार नव्हते. मैथिली आजची रात्र माझी लाडकी सखी होवून आज माझ्या शेजेवर येणार होती. तिचा आरस्पानी पोसावालेला गुबगुबीत देह माझ्या अंगाखाली मी रगडणार होतो. त्या कल्पनेने माझ्या अंगावर शहारे आले.

 

मी अजून जास्तच पेटून उठलो. आता तिला माझ्या कडक झालेल्या पौरुषाचा अंदाज असे मला वाटले. म्हणून तिची पाठ मी माझ्याकडे केली व पाठीमागून कमरे भोवती हाताचा विळखा घालून तिला अगदी करकचून जवळ ओढून घेतले आणि तिच्या मानेवर जोराने किस करत तिच्या दोन नितंबामध्ये माझ्या प्यांट मध्ये तयार झालेला कडक तंबू जोरात दाबला. मला तिला झवायची किती इच्छा झाली आहे हे मला तिला दाखवायचे होते. तो जाडजूड आकार अनुभवताच आ.. आं..असे करून ती कण्हू लागली. तिच्या शरीराचा मादक वास मला वेडावून टाकत होता. मी पुरता भान हरलो होतो व तिला पाठीमागून धक्के देत होतो. माझे गरम श्वास तिच्या मानेवर तिला जाणवत होते. तिने पण डोळे मिटून मन स्वैरपणे माझ्या खांद्यांवर मागे टेकवली. आता माझे दोन्ही हात अगदी बिनधास्त तिच्या दोन्ही स्तनांवर नेवून मी ती गोजिरी गुबगुबीत कबुतरे प्रेमाने कुरवाळू लागलो. मला जास्त चेव चढला. तसेच तिचे तोंड भितीकडे करून मी पाठीमागून तिला जोरजोराने रगडायला सुरु केले. केस बाजूला करून तिच्या तिचे गाल आणि मान चावता चावता तिचे उन्नत स्तनही जोरजोराने दाबायला लागलो. ती भिंतीला धरून उभी असताना पाठीमागून तिच्यावर मी जवळ जवळ चढलोच होतो. माझी फोरप्लची ही सर्वात आवडती पोजिशन आहे. कारण असे केल्याने मादी लगेच तयारहोते.

 

थोडा वेळ असे केल्यावर मला लक्षात आले. मैथिली आता चांगलीच तापली होती. मला सुध्धा आता धीर धरवत नव्हता. कधी एकदा तिला नागडी करून बघेन असे झाले होते. मग मी तिला प्रेमभराने चुंबन केले आणि तिच्या कानात हळूच कुजबुजलो बेडरूम मध्ये जायचे का?” तिने लाजून खाली मान घातली व मानेनेच होकार दिला. आता कशाला वेळ लावायचा? तिला हाताने धरून नेत असतानाच तिने मला पाठीमागे ओढले व खट्याळपणे माझ्याकडे पाहत मला हळूच म्हणाली, “मला उचलून ने”. मी चांगलाच चेकाळलो होतो. तिला गप्पकन मिठीत घेऊन उचलले. तिचे मोठे गरगरीत स्तन माझ्या तोंद्वाजवळ आले होते. त्यांना किस करत मी तिला तिच्या बेडरूम मध्ये घेऊन गेलो. तिथल्या उबदार वातावरणामुळ आम्ही अजून जास्त पेटलो. तिला बेड पाशी उभे करून मी स्वत: बेड वर बसलो. माझा शर्ट काढून टाकला. ती खूप लाजत होती. मी तिला कुरवाळत तिच्या गाऊनची बटणे काढली. तो सैलसर गाउन तिच्या पायातून खाली पडताच मी तिच्या कडे पाहीले. गोर्‍या गोर्‍या अंगाची संगमरवरात मढवलेली माझी प्रणयदेवताच जणू माझ्या पुढे उभी होती. तिची स्निग्ध गोरी त्वचा, आरोग्याने संपन्न अशी तिची भरलेली देहयष्टी, रसिले ओठ, मादक डोळे.. अशी मुसमुसलेली व पूर्ण वाढ झालेली ती कामातूर स्त्री पाहून मी वेडा झालो होतो. माझ्यातल्या पौरुषाला जणू ती आव्हानच करत होती. तिचे धष्ठपूष्ठ स्तन काळ्या ब्रा मध्ये जास्तच खुलून दिसत होते आणि जीव ओवाळून टाकावा असा तो त्रिकोण खाली तिच्या काळ्या प्यांटी मध्ये लपला होता. निसर्गाने तिला सर्व काही पुरेपूर देऊन झवण्यासाठी अगदी योग्य करून ठेवले होते. पुरुषांनी तिला पटवून नागडी करून तिला अगदी मनसोक्त झवावे असेच जणू निसर्ग आवाहन करत होता. मी तिच्या समोर उभे राहून तिला हळू हळू वरून किस करत करायला सुरु केले. ती प्रेमदग्ध होऊन विव्हळत होती. जोरजोरात गरम उसासे टाकत होती. गाल मान असे करत करत मी छातीचा वरचा भाग चुंबू लागलो. आणि तसेच खाली येऊन तिची गोरी गुबगुबीत कबुतरे चुमाबायला सुरु केले. ब्रा च्या वरचा भागातल्या घळीमध्ये तोंड घालून मी धसमुसळेपणाने तिचे ते उबदार clevage चुंबू लागलो. ती माझ्या डोक्यावरून जोराने दाबून हात फिरवत होती. मग मी बेड वर बसून तिला जवळ ओढले व तिच्या ब्रा ची एक बाजून हाताने हळूच खाली खेचली. वॉऽऽव!! तिचे निप्पल इतके सुरेख असतील असे मला स्वप्नात पण वाटले नव्हते. तांबूस तपकिरी रंगाचे ते गोजिरवाणे गोल थोडेसे स्तनाच्या बाहेर झुकले होते. जणू चोखायला सोपे पडावे म्हणूनच निसर्गाने तशी योजना केली होती. आकाराने ते थोडे मोठेच होते व त्यावर ते टपोरी बोंड तरारून उभे होते. मी तिच्या ब्रा मधून तेवढाच भाग उघडा करून प्रेमभराने पाहू लागलो. मग त्यावर हलकेच हात फिरवून त्याला अलगद कुरवाळले. आणि मग हळूच ते तोंडात घेऊन चोखू लागलो. तिचे स्तनपान करावे तसे आवाज माझ्या तोंडून येत होता. अधूनमधून तिला पाठीवर जोर देऊन अजून जवळ ओढत होतो. आता दोघांचेही भान हरले होते. चोख माझ्या राजा.. हवे तेवढे घे. तोड मला”, ती बेभान झाली होती. बघता बघता मी पाठीमागून तिच्या ब्रा चे हूक्स काढून टाकले. आणि ते डौलदार व भरलेले गोरे उरोज माझ्यापुढे हिंदकळून खुले झाले. इतकी वर्षे मैथीलीच्या ज्या उरोजाना केवळ कपड्याच्या आत मी पाहत होतो ते आज रसरशीतपणे माझ्यापुढे खुले झाले होते. ते डौलदार उरोज हातात धरून मी त्यांचे मर्दन करू लागलो. बघता बघता तिचे दोन्ही निप्पल्स चांगलेच ताठ झाले. मग एक एक करून मी त्यांना चोखू लागलो. त्यांना खाली हाताने आधार देऊन ते puffy निप्पल्स घसघशितपणे चोखायला और मजा येत होती. ती तोंडाने स्स.. स्स्स.. असा आवाज करून माझे डोके तिच्या स्तनांवर जोरात दाबत होती.

 

मैथिली चांगलीच पोसावली होती. ऐन भरात आलेल्या मादी सारखी ती माजावर आली होती. तिचे स्तन बेभान होवून चोखत असताना खाली हात नेऊन तिच गोल गरगरीत नितंब मी दाबू लागलो. बघता बघता माझी बोटे तिच्या प्यांटी च्या आत जाऊ लागली. पाठीमागून तिच्या दोन मांड्या मधून तिने मला वाट करून देताच मी हात आणखीन पुढे सरकवला. माझ्या बोटांना तिच्या मऊ मऊ योनीच्या भोवतालचा ओलसर उबदार पणा जाणवू लागला. माय गॉड! मी चक्क मैथिलीच्या पुच्चीला हात लावत होतो. तिथे थोडे दाबल्यानंतर मैथिलीने माझा हात काढून घेतला व सरळ पुढून आपल्या प्यांटीवर ठेवला. तिचे स्तन चोखता चोखता मी तो उबदार त्रिकोण चाचपू लागलो. मग बोटांनी चड्डी एका बाजूला करून हळूच हात आत घातला. पुच्चीवरच्या केसाळ जागेतून मी काहीवेळ बोटे फिरवली आणि तशीच खाली नेली. तिने एक मांडी जराशी तिरकी केली. आता माझी बोटे व्यवस्थितपणे तिच्या पुच्चीपर्यंत पोहोचत होती. तिच्या पुच्चीला स्पर्श करताच माझ्या अंगात हजारो वोल्टचा करंट वाहू लागला. तिच्या पुच्चीला मी अलगद कुरवाळले व अंदाजाने थोडीशी फाकवून मधले बोट आत घातले. तिची गुबगुबीत पुच्ची चांगलीच ओली होऊन पाझरत होती. बोट थोडे आत बाहेर करताच ती विव्हळू लागली. तिची गोरी कमर नकळत पुढे मागे होऊ लागली. तिचे स्तन व योनी मर्दन मी करत होतो. आता मला लक्षात आले ती योग्य त्या प्रकारे तयार झाली आहे. आता जास्त वेळ न दवडता मी तिच्या चड्डीतून हात बाहेर घेतला व पटकन चड्डी खाली ओढली आणि उभे राहून किस करत करत तिला बेड वर आडवे केले. हाताने तिचे स्तन दाबत दाबत तीच्य ओठांवर चुंबन घेत तिच्या पूर्णपणे नग्न झालेल्या देहावर मी आडवा झालो.

 

माझे लिंग तरारून फुलले होते. मी उभे राहून पट्कन माझी निकर काढून टाकली. त्याबरोबर तो तापलेला काळाशार तगडा लंड वरच्या दिशेने ताठ होऊन थरथरत झुलू लागला. आपल्या लाडक्या प्रेयसीला घुसळायला जणू तो आतुर झाला होता. मैथिलीने त्याला पाहताच लाजेने डोळे मिटून घेतले. मी क्षणाचाही विलंब न करता तिच्या अंगावर स्वत:ला झोकून दिले. आमची नग्न शरीरे एकमेकांना भिडली. तिच्याशी धसमुसळेपणा करता करता मी तिच्या दोन मांड्या अलग केल्या. आता मात्र मैथिली थोडी सावध झाली. आपला एक हात तिने पुच्चीवर झाकून धरला. तिचा तो त्रिकोण पाहायला मी खरा तर खूप आसुसलो होतो. तिचा हात दूर करण्याचा प्रयत्न करताच ती म्हणाली नको.. आपण मर्यादा ओलांडत आहोतमी काही न बोलता तिच्या ओठांवर चुंबन घेतले आणि कानाशी कुजबुजलो Lets cross the limit tonight. Don’t worry nothing will happen.” तिचे रसरशीत स्तन दाबत मी तिला चुंबू लागलो. नको ना.. मला भीती वाटतेती म्हणाली. मी आहे ना ..” , असे म्हणत मी तिला पटविले व तिचा हात तिच्या योनिवरून बाजूला केला. तिनेही फार विरोध केला नाही. आणि मग दोन मांड्यांच्या मधला तो मधाळ भाग मी भान हरपून पाहत राहिलो. बारीक लव आणि त्याखाली तपकिरी रंगाचे जाड ओलसर योनिद्वार दडले होते. दोन तांबूस पाकळ्यांमध्ये रसाने भरलेली फट दिसत होती. त्या पाकळ्या मी दोन्ही बोटांनी फाकवाल्या आणि आतली लाल गुलाबी पुच्ची पाहू लागलो. मैथिलीची पुच्ची जस्ट परफेक्टहोती. कामरसाने पाझरून ओतप्रोत भरली होती. बोटांनी तिची थोडी उघडझाप करून मग मी तिच्या दोन्ही बाजूला थोडे रगडत राहिलो. त्या मर्दनाने ती अजून पाझरू लागली. माझा लंड पण आता मदमस्त होऊन गळू लागला होता. आता मी मैथिलीच्या पायाशी जाऊन तिच्या मांड्या वर केल्या व दोन मांडया मध्ये गुडघे टेकून उभे राहून तिचे पाय माझ्या खांद्यावर घेतले. ती कसलाच विरोध करत नव्हती. तिच्या लोण्यासारख्या गोर्‍यापान मांड्या व त्यांच्या मध्ये असलेली ती लुसलुशीत पुच्ची आता तिने पूर्णपणे माझ्या अधीन केली होती. तिला भोगायला मी तयार झालो होतो. तिच्या मांड्या अजून जरा मला हव्या तेवढ्या फाकवून मी थोडे खाली झुकलो आणि माझ्या गरमागरम कडक लंडाचे लालबुंद टोक तिच्या पुच्चीवर अलगद टेकविले. योनीच्या पाकळ्या थोड्या अलग झाल्या. तिने जोराचा हुंकार भरला व डोळे मिटून घेतले. मी तिच्या दोन्ही बाजूला हात टेकवून हलकेच दाब दिला. त्यासरशी तटतटून थरारणारा माझा लंड मैथिलीच्या पुच्चीत अगदी अलगदपणे सळसळत गेला. ती शहारली. मान व छाती वर करून तिने मादक उद्गार काढले. तिच्या उन्नत उरोजांकडे बघत बघत मी लंड थोडा बाहेर काढून पुन्हा दमदारपणे आत दाबला. असे थोडे आत बाहेर केल्यावर मग तिच्या दोन्ही बाजूला हाताचे कोपर टेकून तिला हवे तशी ओढून घेतले व मी तिला हळू हळू झवू लागलो. तासाभरापूर्वी आत्ताच्या आत्ता निघून जाअसे रागाने ओरडून मला घराबाहेर काढणार्‍या मैथिलीच्या गोर्‍या मऊ उबदार पुच्चीत आता माझा काळा जाडजूड लंड आत बाहेर करत होता व माझ्याकडून ती झवून घेत होती. मला अजून चेव चढला. मी स्पीड वाढवत उजव्या हाताने तिचा गरगरीत स्तन कुस्करू लागलो व डाव्या हाताने तिचे केस ओढायला सुरु केले. माझे दणदणीत धक्के बसेल तशी ती धुंद होऊन मला प्रतिसाद देऊ लागली. कमर उचलून ती पण वरखाली करू लागली. माझा लंड जास्तीत जास्त आत घेण्याचा प्रयत्न करू लागली. माझ्याकडून ठोकून घेऊ लागली. आमचा प्रणय अगदी बहरात आला होता. आता तिचे फुगलेले निप्पल मी तोंडात घेतले व उजवा हात तिच्या मांडीखाली धरून मी जोरजोराने तिला हे्पलू लागलो. माझा लंड पूर्णपणे तिच्या पुच्चीत जाऊन बाहेर येत होता. तिची पुच्ची आता चांगलीच फुलली होती. चांगली रसाळ होऊन ती गळू लागली होती. त्या रसाचे तिच्या नितम्बांवरून खाली ओघळ येत होते. माझ्या जोरकस धक्यांनी तिच्या नाजूक पुच्चीतून चुबुक चुबुक असा आवाज येत होता. ती गदा गदा हलत होती. तिचे माठासारखे गरगरीत स्तन एका एका जोरकस धक्क्यानिशी हिंदकळत होते. तिला मी आता अगदी Royally झवत होतो. आता मी दोन्ही हात मैथिलीच्या खांद्याजवळ ठेऊन तिच्याकडे पाहत तिला झवू लागलो. तिचा मदनमणी माझ्या जाडजूड लवड्याने चांगला रगडून निघत होता. त्यामुळे चीत्कारून तोंडाने मादक उष्ण उद्गार काढत ती माझ्या उघड्या छातीचे ती प्रेमातीशायाने चुंबन घेऊ लागली.

 

बघता बघता मी वेग प्रचंड वाढवला व हमसून हमसून तिला झवू लागलो. दोघांच्या हुंकाराने व झवण्याच्या आवाजाने ती खोली भरून गेली होती. काळोख्या मध्यरात्री बाहेर झंझावातात पाउस कोसळत होता. आणि आत मी माजावर येवून माझ्या लाडकीला तिच्या उबदार बेडरूम मध्ये अगदी यथेच्छ झवत होतो. काही मिनिटातच मी तिला चांगली मजबूत झवून काढली. आणि सुखाच्या परमोच्च क्षणी मी तिच्या पुच्चीत अगदी खोलवर एक जोराचा धक्का देवून झडू लागलो. तिच्या पुच्चीत खोलवर माझ्या गरम गरम वीर्याचे फवारे उडू लागले. बघता बघता तिची योनी माझ्या गरम गरम चिकट वीर्याने भरून गेली. अजून एक दोन धक्के हलकेच मारत मी पूर्ण झडलो. आता बाहेर काढणार तोच ती म्हणाली, “राहू दे ना. इतक्यात नको काढूस. असेच आत रहा अजून जरा वेळ.मग मी लंड तसाच आत ठेवून तिच्या अंगावर पडून राहिलो. तिचे चुंबन घेत घेत तिच्या स्तनांशी थोडा वेळ खेळत राहिलो. आम्ही एकमेकांकडे हसून बघत होतो. तिच्या काखेतला गंधाने मला पुन्हा मूड आला. आणि माझा लंड तिच्या पुच्चीत असतानाच पुन्हा एकदा ताठला. काय हे.. पुन्हा एकदा?” असे म्हणत ती आश्चर्य व अभिमानाने माझ्याकडे पाहू लागली. त्या नजरेने मला पुन्हा हुरूप आला व मी पुन्हा हळू हळू धक्के देऊ लागलो. माझा अर्धवट ताठलेला लवडा तिच्या बुळबुळीत झालेल्या उबदार पुच्चीत मागे पुढे होता होता पुन्हा एकदा पूर्ण ताठला. मी जोरकसपणे पुन्हा धक्के देणे सुरु केल्यावर ती खट्याळपणे माझ्याकडे पाहून हसत म्हणाली चल.. फार चावट आहेस. दांडगोबा कुठला. वाटले नव्हते इतका ठोकणारा असशीलमी तिला डोळा मारला व म्हणालो तुला पण खरतर असा माझ्यासारखाच ठोक्या हवा होता ना?”. त्यावर हम्मअसे म्हणून लाजून तिने लाजून माझ्या छातीचे चुंबन घ्यायला सुरु केले आणि पुन्हा एकदा आमच्या प्रणयाला बहार आला. तिच्या उबदार बुळबुळीत पुच्चीचा स्पर्श माझ्या काळ्या कडक लंडाला चांगलेच सुख देत होता. इतक्या मजबुतीने लागलेल्या आपल्या मर्दाकडे ती कौतुकाने पाहत होती. मग मी पण अगदी हक्काने तिला अगदी जवळ ओढून किस करत दहा-पंधरा मिनिटे कचकचून झवून काढले व पुन्हा एकदा तिच्यात झड झड झडलो.

 

आता मात्र आम्ही दोघेपण जाम थकलो होतो. माझा लंड मी हळुवार तिच्या पुच्चीतून बाहेर काढला. तिची तृप्त पुच्ची आता माझ्या वीर्याने माखली होती. माझा लंड सुध्दा तिचा योनिरसाने न्हाऊन चमकत होता. आम्ही एकमेकाकडे पाहून हसून गच्च आलिंगन दिले. मी तिच्या तोंडात एक जोराचा फ्रेंच किस केला. मग आम्ही बेड मधून उठलो. बाथरूम मध्ये जाऊन स्वच्छ होऊन आलो. मैथिली पुन्हा गाऊन घालत होती पण मी तिला घालू दिला नाही. आता ती माझीच झाली होती. मला मूड आला तर रात्री मला पुन्हा तुझ्यावर चढायचे आहेअसे स्पष्टपणे मी तिला सांगितले. त्यावर बापरे! किती वेळा करशील रे. तुझ्या मित्रासाठी ठेव ना मला जरा.असे म्हणून खट्याळ पणे हसत फक्त ब्रा आणि चड्डी तिने घातली. मी सुध्धा फक्त बनियान व निकर घातली व तिला बाहुपाशात घेऊन अंगावर गरम दुलई पांघरूण आम्ही झोपी गेलो. एव्हाना रात्रीचे दिड-दोन वाजले असतील. बाहेर पावसाची झड आता बरीच कमी झाली होती आणि पाण्याच्या प्रवाहाचे खळाळ ऐकू येत होते. उन्हाने तापल्या धरतीला मेघराजाने थंड आणि तृप्त केले होते. आणि इकडे आम्ही पण शांत झालो होतो. रात्री मी झोपेत अधून मधून तिच्या गिर्रेबाज कबुतरांना हातात घेऊन मनसोक्त कुरवाळत होतो. मधूनच कधीतरी तिच्या पुच्चीवरून बोटे फिरवत होतो. पुच्चीवर बोटे जाताच तीही अर्धवट झोपेत मांड्या थोड्या विलग करून मला प्रतिसाद देत असे. पहाटे पाच वाजता मला पुन्हा जाग आली. लंड पुन्हा अर्धवट ताठला होता. पण आता जास्त वेळ घालवायचे कारण नव्हते. तिला एका बाजुवरून उताणे झोपवले. नको न आता प्लीजअसे म्हणून ती मला विनवणी करू लागली व चड्डी काढायला विरोध करू लागली. पण तिचे काही न ऐकता मी अगदी हक्काने तिची चड्डी पुच्चीवरून जरा बाजूला केली आणि एका बाजूनच लंड त्या लुसलुशीत भोकात सरकवला. तिची पुच्ची बरीच लूज झाली होती. त्यामुळे अर्धवट ताठ्लेल्या अवस्थेत सुध्धा माझा लंड आरामात आत गेला. ती पण आता चांगली जागी झाली व लंड आत गेल्याने मूड मध्ये पण आली आणि मला प्रतिसाद देऊ लागली. बायकांचे असेच असते बहुतेक. पुरुषाचा लंड पुच्चीत जाईपर्यंत उगीच नाटके करतात. मग मात्र तिने पाझरून आपल्या उबदार भोकाला ओले केले व माझ्या लंडाला चांगलाच कडक केला. मग काय, पुन्हा एकदा तिचे गोल गोल स्तन चोखत चोखत तिला मनसोक्त हेपलून काढले व तिच्यात झडून गेलो.

 

ती रात्र आम्हा दोघांसाठीही अविस्मरणीय अशीच होती. तीन चार वेळा अगदी जोरकस झवाझवी झाल्याने सकाळी उठायला आम्हाला खूप उशीर झाला. मला ऑफिसला जायचे होते. मी गडबडीने उठून आवरले आणि अर्ध्या पाऊन तासात ऑफिसला निघण्यासाठी तयार झालो. मैथिली पण फ्रेश झाली. तिच्या चेहेर्‍यावर समाधानाची एक वेगळीच चमक दिसून येत होती. अगदी नवर्‍याला द्यावे तसे तिने मला चहा व ब्रेकफास्ट करून दिला. पण लाजून माझ्याकडे बघायचे मात्र टाळत होती. आम्ही एकमेकाशी बोलत नव्हतो. रात्रीच्या धुंद आठवणी मधून आम्ही दोघेही अजून बाहेर पडलो नव्हतो. इतकी वर्षे आम्ही एकमेकाला ओळखत होतो पण त्या रात्रीने आम्हाला एकमेकांची नवीन ओळख करून दिली. मी आता ऑफिसला निघणार तोच ती जवळ आली आणि मला मिठीत घेऊन आवेगाने चुंबन घेऊ लागली. रात्री इकडेच येअसे म्हणून आपले टंच उरोज तिने माझ्या छातीला टेकविले व माझ्याकडे पाहू लागली. मी तिला जवळ ओढली व ते गिर्रेबाज घनगोल हाताने दाबत तिच्यावर चुंबनाचा वर्षाव केला. मी पुन्हा मूड मध्ये आलो होतो पण माझ्या डोक्यात आता एक वेगळीच कल्पना आली होती. पण तिला काही न सांगता तसेच तिला पकडून टेरेस मध्ये घेऊन गेलो. सकाळी अगदी ताजी हवा पसरली होती. रात्री मुसळधार पाउस पडून गेल्याने हवेत गारवा होता व कोवळ्या उन्हात तो खूप सुखद वाटत होता. अकराव्या मजल्यावर असल्याने व फ्लॅटच्या ठराविक रचनेमुळे टेरेस वर आम्हाला कोणीही पाहू शकत नव्हत. मी मैथिलीला टेरेस च्या रेलिंग ला धरून उभे राहायला सांगितले. मी काय करणार आहे हे न कळल्याने ती प्रश्नार्थक चेहेर्‍याने पाहत होती पण काही न विचारता आज्ञाधारक पणे मी सांगेल तसे करत होती. रेलिंगला धरून थोडे वाकून उभे राहिल्यावर मी पाठीमागून तिचा गाऊन वर केला व तिचा पार्श्वभाग उघडा केला. कोवळ्या उन्हात तिच्या मांड्या व नितंब खूप तेजस्वी दिसत होते. मी ही तिचे इतके गोरे अंग पहिल्यांदाच खुलेपणाने पाहत होतो. रात्रीच्या अंधारात तिचे खरे सौंदर्य आपल्याला दिसलेच नाही ह्याची मला जाणीव झाली. काय करतो आहेस हे?” ती थोड्या नाराजीनेच उद्गारली. पण विरोध केला नाही. तू गप्प ग जरा”, असे म्हणन वेळ न दवडता तिची चड्डी मी काढून टाकली. गोर्‍यापान मांड्या आणि गरगरीत नितंब असलेली तिची गोरी गोरी गांड उन्हात फार मोहक दिसत होती. मी पट्कन माझी झिप ओढली तसा माझा तिच्या गांडीकडे बघून तरारून फुललेला जाडजूड लंड बाहेर येऊन थरथरू लागला. ओह्ह प्लीईईज.. नको नांमैथिली हळू हळू माजावर येत होती. माझ्या खिशात डोक्याला लावायच्या तेलाचे एक पाउच होते. ते मी बाहेर काढले व हातावर थोडे तेल घेतले. मैथिली आपली मोठी गांड उगीचच मागेपुढे करत होती. मी तेलात बोटे बुडविली. पुढे होवून तिचे दोन नितंब फाकवले. तिचे तपकीरी रंगाचे गांडीचे भोक स्पष्ट दिसताच मी त्यावर तेल चोळायला सुरु केले.

 

मी काय करणार आहे हे आता तिच्या लक्षात आले असावे. नको नको प्लीज अजून मी तसे कधी केले नाहीती उगीचच विरोध केल्यासारखे करून मला जास्तच आव्हान करू लागली. मी काही न बोलता तेलाने हळू हळू तिच्या मागच्या भोकात बोटे सरकवायला लागलो. तिचे नितंब चांगले जोरजोरात हवे तसे दाबून व हलवून मी मालीश करू लागलो. ती चित्कारत होती. मी ती बोटे तशीच खालून पुढे तिच्या पुच्चीपर्यंत नेत होतो. हळू हळू तिच्या लुसलुशीत पुच्चीत पूर्ण बोटे घालून तिचा दाणा रगडू लागलो. ती विव्हळू लागली. तिच्या पुच्चीतून रस बाहेर गळायला लागला तसे मी ओळखले हीच योग्य वेळ आहे. आणि पुढे होवून नितंब पूर्णपणे फाकवून तेलाने मालीश केलेल्या तिच्या गांडीच्या भोकात माझा लंड दाबला. ती जोराने ओरडली. पण मी थोडे मागे पुढे केले. त्यामुळे पुढचा सुपारीसारखा भाग आत गेला. मग दोन्ही हातानी तिचे ढुंगण पकडून एक जोराचा धक्का मारला.. मैथिली जोरात कळवळली. मग मी थोडे हळुवार बाहेर काढून पुन्हा एक धक्का दिला. आणि हळू हळू मागे पुढे करत तिची गांड मारू लागलो. आ.. आ.. आ.. पुरे पुरेकरत ती ओरडत होती. पण त्यामुळे मी जास्त चेकाळून अगदी दमदार पणे तिला गांडी कडून झवत होतो. फक्त गाऊन वर करून तिची गोरी गोरी गांड उन्हात उघडी करून झवायला खूप मजा येत होती. पाशिमात्य देशातल्या जादातर पोरींचे नितंब अगदी मऊ व गुळगुळीत असतात. पण तशी गांड असणार्‍या देशी पोरी अगदी विरळाच. मैथिली ही त्यातलीच एक होती. तिची मऊ मुलायम गांड खरच समरसून झवण्यासारखी होती. पण रमेशने बहुदा प्रयत्न केला नसावा. मी मात्र आता तिच्या नितम्बांवर अधून मधून हाताचे हलके फटके परत किंवा ते जोराने कुस्करत अगदी रुबाबात तिची गांड मारत होतो. आणि अधून मधून पुढे ओणवे होवून, माझ्या धक्क्यासरशी हिंदकळणारे तिचे खाली झुलणारे माठ मी कुरवाळत होतो. मध्येच कधीतरी पोटाखाली हात खालून तिच्या पुच्चीवरून बोटे फिरवून घेत होतो. काळ रात्रभर मी झवून काढलेली तिची लालसर पुच्ची आता तिच्या गांडीतल्या एक एक धक्क्याने लप लप करत होती. मैथिली खाली वाकून जोरजोरात कण्हत होती. नको नकोअसे म्हणायचे तिने आता थांबवले होत आणि तिच्या गांडीत मागे पुढे होणारा माझा तगडा लंड ती एन्जॉय करत होती. मला जास्त चेव चढला. मी तिचे केस ओढून धरले आणि रेलिंग ला एका पायाने रेटून अगदी जोरकसपणे तिला धक्के देऊ लागलो. माझ्या मांड्या तिच्या मांड्यांवर मागून आपटत होत्या आणि माझे वृषण तिच्या नितम्बांवर आदळत होते. माझा लंड तिच्या गांडीत आत बाहेर होताना वरून दिसत होता. बघता बघता मी दणादण दणादण धक्के देऊ लागलो. ती सुटका करून घायचा प्रयत्न करत पण मी तिला हक्काने जवळ ओढून अजून जोमाने धक्के मारत होतो. त्याच बरोबर तिच्या पुच्चीत पण बोटे घालून जोरजोराने हलवायला सुरु केले होते. तिचा दाणा चांगला रगडून काढत होतो. तिच्या नवर्‍याचा मित्र दोन्हीकडून तिला भोगत होता. जवळ जवळ पंधरा ते वीस मिनटे मी तिला मागून व पुढून घुसळून काढली. आणि एक जोराचा धक्का देऊन तिच्या गांडीत वीर्याचा फवारा सोडला. मग दोन चार हलके धक्के देत मी बाहेर आलो. ध्यानी मनी नसताना अचानक झालेला हा प्रकार तिला तसा धक्कादायकच होता. ती अगदी गळून गेली होती. मी सोडल्यावर ती पट्कन आत निघून गेली व फ्रेश होवून पुन्हा बाहेर आली, सोफ्यावर अंग झोकून दिले व एका कुशीवर पडून राहिली”. मी ही फ्रेश झालो. बाहेर आलो. प्रेमाने तिच्या गालावर केसांवर हात फिरवत विचारले कसे वाटले?”. ती काहीच बोलली नाही. मला कसेसेच झाले. खूप त्रास झाला माझ्या डार्लिंगला?” मी लाडिक स्वरात विचारले. त्यावर मानेनेच नकार देत ती लाजली व डोळे मिटून घेतले. बहुदा आता तिला झोपेची व आरामाची खूप जरुरत असावी. खरंतर मी ही खूप थकलो होतो. पण काय करणार. ऑफिसला जाण्याशिवाय गत्यंतर नव्हते. मग तिला प्रेमभराने चुंबन देऊन मी बायकेले व निघून गेलो. त्या दिवशी दिवसभर ऑफिसात माझे लक्ष लागत नव्हते. लंच नंतर तिचा sms आला लवकर ये ना”. मग काय. आम्ही घरी लवकर म्हणजे पाच वाजताच हजर. घरी गेल्या गेल्या मैथिलीने आश्चर्याचा धक्काच दिला. डोअर बेल वाजवल्यानंतर मी एकटाच आहे ह्याची खात्री करून करूनच दार किलकिले केले आणि मला आत घेतले. आत जाऊन पाहतो तर ही पूर्ण नग्नावस्थेत. झाले! गेल्या गेल्या बाहेरच्या हॉल मध्येच पुन्हा एक दोन सेशन झाले. एकदा सोफ्यात पडून व नंतर लगेच पुन्हा तिथेच टी. व्ही. समोर खालच्या कार्पेट वर पाडून तिला मी झव झव झवली.

 

आमचे नशीब असे चांगले कि रमेशला अजून आठ दिवस थांबावे लागले. त्यामुळे त्या पंधरा दिवसात आमच्या झवाझवीला नुसते उधाण आले होते. मी रोज संध्याकाळी ऑफिस मधून थेट मैथिलीच्या घरीच जात असे. वेगवेगळ्या पोजमध्ये वेगवेगळ्या ठिकाणी मी तिला झवले. काही वेळा तर रात्री कार मधून दूरवर जाऊन बाहेर जेवण करून मग पुन्हा कार मध्येच झवाझवी करून मग आम्ही रात्री उशिरा घरी परत येत असू. तो अनुभव फारच थ्रील देणारा होता. मैथिली जेवण अतिशय रुचकर बनवायची. मला आवडणारे सारे पदार्थ विशेषकरून नोन-व्हेज ती मला खाऊ घालायची. मग मी खुश होवून व मस्तीला येवून तिच्यावर रात्रभर चढत असे. बहुतेक, आपल्या मर्दाला खाऊ घालून माजावर आणून आपल्यावर चढवून घेण्यात तिला खूप मजा येत असावी. अजून एक म्हणजे ती खूप छान डान्स करत असे. एकदोन वेळा माझा मूड नव्हता तेंव्हा तिने अतिशय कमी कपड्यात डान्स करून माझा लंड ताठविला होता. तेंव्हा डान्स केल्या केल्या त्याच पोशाखात तिला लगेचच तिथे पाडून झवताना खूप मज्जा आली होती. मी एकदा तिला विचारले. तुझी सेक्स मधली फॅन्टसी काय आहे. तेंव्हा तिने मला सांगितले आज रात्री मी तुला दाखवते माझी फॅन्टसी काय आहे. मग त्या रात्री तिच्या पुच्चीत लंड घालून नेहेमीप्रमाणे तिला हेपलत असताना अचानक रमेशचा US हून तिला फोन आला. मी झवायचे थांबविल्यावर तिने मला हातानेच खून करून थांबू नकोम्हणून सांगितले व त्याचा फोन घेतला. आणि ती त्याच्याबरोबर फोन वर बोलत असताना मी इकडे तिचा किस करत दमदारपणे तिच्या पुच्चीत माझा लंड हळू हळू मागे पुढे करत होतो. पण त्यामुळे तिचा आवाज एकून रमेश तिकडे मूड मध्ये आला. आपली बायको एकटी असल्याने हस्तमैथुन करत आपल्याशी बोलते आहे असे वाटल्याने त्याने तिच्याबरोबर फोन सेक्स केला. म्हणजे रमेश तिला फोन वर लागला होता तर मी इथे प्रत्यक्षात! नंतर मला तिने सांगितले कि रमेश ला तिने मुद्दाम त्यावेळी फोन करायला सांगितला होता. त्यात एक थ्रील होते ते तिला अनुभवायचे होते. ती मला म्हणाली कि ह्यात रमेशच्या भावनांचे अवमूल्यन करायचा मुळीच हेतू नव्हता. तर तसा सेक्स करायची तिची बस्स एक फॅन्टसी होती 

 

 

Author Name

Adult Stories

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.