Articles by "hindi urdu sex story"

adult stories in hindi Antarvasna Story baap beti ki chudai ki kahani bahan ki chudayi balatkar ki kahani behen ki chudayi bhabhi ki chudai bhai bahan ki chudai bhai bahan sex story in hindi bollywood actress ki chudai ki kahani bollywoos sex stories in hindi chacha bhatiji ki chudai ki kahani chachi ki chudai ki kahani chhoti bahan ki chudai chhoti ladkai ki chudai chudai ki kahaniya dehati chudai ki kahani devar bhabhi ki chudai ki kahani Didi ki Chudai Free Sex Kahani gand chudai gand chudai ki kahani gangbang ki kahani Ghode ke sath desi aurat ki sex story girlfriend ki chudai gujarati bhabhi habshi lund se chudai hindi sex stories Hindi Sex Stories Nonveg hindi urdu sex story jija saali sex jija sali ki chudai ki kahani Kahani kunwari choot chudai ki kahani Losing virginity sex story mama bhanji ki chudai ki kahani mama ki ladaki ki chudai marathi sex story mote lund se chudai ki kahani muslim ladaki ki chudai muslim ladki ki chuadi nana ne choda naukarani ki chudai New Hindi Sex Story | Free Sex Kahani Nonveg Kahani Nonveg Sex Story Padosi Ki Beti pahali chudai pakistani ladaki ki chudai Pakistani Sex Stories panjaban ladki ki chudai sali ki chudai samuhik chudai sasur bahu ki chudai sasur bahu ki sex story sasural sex story school girl ki chudai ki kahani seal tod chudai sex story in marathi suhagraat ki chudai urdu chudai ki kahani in urdu Virgin Chut wife ki chudai zabardasti chudai ki kahaniya एडल्ट स्टोरी कुंवारी चूत की chudai गर्लफ्रेंड की चुदाई गांड चुदाई की कहानियाँ जीजा साली सेक्स पहलवान से चुदाई बलात्कार की कहानी बाप बेटी की chudai की सेक्सी कहानी मामा भांजी चुदाई की कहानी ससुर बहु चुदाई सेक्स स्टोरी
Showing posts with label hindi urdu sex story. Show all posts

Part 2 Pagal Budha Admi ne choda

Part 2 Pagal Budha Admi ne choda

Next Day Jab Subha Priya Ki Aakh Khuli To Priya Dekha Ki Priya Ka Ek Hath Pagal Budhe Ke Upper Se Pagal Budhe Ki Pith Par Tha Priya Ka Hath Jab Priya Ne Apna Hath Hata Ya To Vo Chok Gai Pagal Budhe Us Ke Sine Se Laga Huva Hai Or Priya K Eek Boobs Ke Nipul Abhi Bhi Pagal Budhe Ke Muh Me Hai Peiya Ne Pagal Budhe Ko Dhaka De Ke Apne Aap Se Dur Kar Diya Or Priyabed Pe Se Uth Ke Bathroom Ki Or Chali Gait Hi Lekin Je Se Hi Priya Ne

Apna Paav Ko Jamen Pe Rakha To Priya Ke Paav Dag Mag Ho Ne Lage Priya Ki Chut Me Bhari Dadrad Ho Ne Laga Tha Kal Raat Ki Chudai Se Piya Ka Jisam Kaap Utha Tha Lekin Piya Jese Tese Kar Ke Bathroom Tak Pochi Or Pani Suru Kar Ke Khud Pe Daal Lagi Je Se Piya Apne Aap Pe Pani Daalti Thi Us Ko Kal Raat Ki Sari Ba Te Us Ko Yaad Ane Lagi Thi Piya Ko Khud Pe Ghin Ane Lagi Thi

Jab Piay Ne Naha Liya Us Ke Baad Piya Apne Room Me Tovel Lappet Ke Aai Or Khud Ko Aaye Ne Me Dekh Rahi Thi Tab Us Ne Dekh Ki Piya Ke Badan Pe Kafi Jagape Lal Lal Se Daagh Ho Gaye The Love Bite Us Pagal Ne Piya Ke Nipul Se Bhi Kaat Liya Tha Piya Ke Nipulpe Bhi Pagal Budhe Ke Kaat Ne Ke Nisan The

Piya Ne Jald Se Kapde Pehe Ne Or Piya Soch Ki Vo Chup Nahi Bethe Gi Vo Ye Sari Baat Polish Ko Bata Ye Gi Or Es Pagal Ke Khilap Repot Likh Va Ye Gi Piya Ne Apna Phone Utha Ya Or Polish Ko Phone Laga Ya Lekin Piya Kuchh Kehe Pati Us Se Pehe Le Vo Pagal Uth Gaya Need Se Or Bed Pe Se Khada Ho Gaya Or Piya Ko Isara Kar Ne Laga Ki Bhookh Lagi Khana Kahana Hai

Fir Piya Kichan Me Jaa Ke Kuchh Biskut Or Doodh Laia Or Pagal Budhe Ko Diya Vo Jameen Pe Beth Gaya Pagal Budhe Ne Kal Raat Se Naga Tha Or Vo Abhi Naga Tha Jab Piya Ne Kahana Diya Piya Fir Vahi Bed Pe Beth Ko Soch Ne Lagi Ki Ab Vo Kiya Kare Ve Se Bhi Aaj Sunday Hai Hospitalbhi Badh Haior Agar Piya Ne Polish Me Report Likh Vai To Kiya Es Pagal Ko Saja Mi Le Gi Nahi Ulaga Ta Ye Pagal Hai Or Koi Bhi Piya Ki Baat Pe Ye Kin Nahi Kare Ga

Piya Ko Samaj Me Nahi Aa Raha Tha Ki Kiya Kare Fir Piya Ne Soch Ki Es Ko Monday Ko Hospital Me Vapis Dalva Dugi Lekin Fir Piya Ko Ye Khayal Aaya Ki Ager Is Pagal Kisi Ko Ye Bata Diya Ki Ye Us Din Hospital Se Bhag Ke Meri Kaar Me Chhup Ke Mere Ghar Aa Ke Chhup Gaya Tha Or Mera Rape Kiya To Me Kisi Ko Muh Dikha Ne Ke Layak Nahi Rahu Gi

Fir Piya Ne Ke Fesla Liya Ki Jab Ye Maamla Tanda Na Ho Ja Ye Tab Tak Piya Es Pagal Budhe Ko Ye Hi Chupa Ke Rakhe Gi Or Jab Mamla Thanda Ho Ja Ye Ga To Es Pagal Budhe Ko Yaha Se Dur Kisi Dus Re Seher Ke Hospital Me Dalva Ke Es Se Pichha Chud Va Legi Dhire Dhire Aubha Se Doper Or Doper Se Saam Ho Gai Or Saam Se Raat Ho Ne Lagi Piya Ki Nanad Payel Ab Take S Baat Se Anjaan Thi Ki Us Ke Ghar Me Us Ki Bhabhi Ke Sathkiya Ho Raha Hai

Piya Ne Chhup Ke Se Thoda Khana Nikal Ke Us Pagal Budhe Ke De Diya Or Payel Aaj Jaldi Son Eke Liye Chali Gai Kal Monday Ko Us Ke Extra Class Thi Es Liye Piya Bhi Sab Kaam Khatam Kar Ke Bath Lene Chali Gai Or Nighti Pehen Ke Room Me Aai Or Son Eke Liye Lekin Pagal Budhe Bhi Vahi Tha Piya Ne Armali Me Se Ek Bister Nikal Or Pagal Ko Kaha Kit Um Niche So Jaa O Pagal Budhe Ne Abhi Bhi Kapde Nahi Pehe Ne The Or Vo Piya Se Jid Kar Ne Laga Ki Vo Us Ke Sath Soye Ga Piya Ne Jor Kadak Avaj Me Gusa Dikha Te Hu Ye Kaha Ki Ek Baat Me Samaj Me Nahi Aata Hai Tum Ko Or Pagal Budhe Ki Si Chhe Te Bache Ki Je Se Jor Jro Se Rone Laga Pagal Budhe Ke Rone Ki Avaj Sun Ke Kahi Payel Jag Key Aha Aagai To Kiya Ho Ga Ye Soch Ke Piya Us Ko Bed Pe Son Eke Li Ye Bol Deti Taki Vo Avaj Na Nika Le

Je Se Hi Piya Bed Pe So Gai Kambal Lappet Ke To Pagal Budhe Bhi Us Kambal Me Gus Ke Piya Se Chipak Ne Laga Piya Fir Gusa Kar Te Hu Ye Us Ko Dhaka De Ike Khud Se Dur Kar Diya Lekin Thori Der Me Pagal Budhe Fir Se Payel Ke Paas Aaya Or Piya Ki Nighti Ki Jo Rasi Us Ko Khol Di Piya Guse Me Aagai Piya Ne Pagal Budhe Ko Ek Chata Maar Diya Chata Kaha Ne Ke Baad Pagal Budhe Jor Jor Se Ro Ne Laga

Piya Chok Gai Ki Payel Jag Na Ja Ye Piya Ne Pagal Budhe Santh Kar Ne Ki Kosi Ki Lekin Vo Saant Nahi Ho Raha Tha Tab Piya Ne Apna Ek Hath Pagal Budhe Ke Muh Par Rakh Diya Taki Pagal Budhe Rone Ki Avaj Nahi Aaye Lekin Pagal Budhe Ne Apne Dono Hath Ki Madat Se Piya Ka Hath Nikal Diya Or Fir Se Rone Laga Jor Jor Se Tab Piya Ne Pagal Budhe Ka Muh Ko Pakad Ke Apne Sine Se Laga Diya Kiyo Ki Pehe Le Pagal Budhe Piya Ki Nighti Ki Rasi Khol Di Thi Or Piya Under Kuchh Nahi Pehe Na Tha Es Li Ye

Jab Piya Ne Pagal Budhe Ka Muh Ko Apne Sine Se Daba Liya To Pagal Budhe Ke Avaj Piya Ke Sine Me Dab Ne Lagi Lekin Pagal Budhe Apna Muh Chuda Ne Ki Kosi Kar Ne Ke Li Ye Ana Muh Kabhi Right Me Kabhi Left Me Kar Ne Laga Khud Ko Chud Va Ne Ke Li Ye Or Acha Nak Pagal Budhe Ke Muh Me Piya K Eek Boobs Ka Nipul Pagal Budhe Ke Muh Me Chala Gaya Or Vo Chus Ne Laga Jor Se Or Vo Santh Ho Gaya
Udher Piya Ko Bhi Mehe Sush Huva Ki Pagal Budhe Ke Muh Me Piya Ka Boobs Ke Nipul Chala Gay Hai Or Vo Chus Raha Hai Kiyo Ki Piya Ne Es Baar Koi Virodh Nahi Kiya Kiyo Ki Piya Ko Pata Tha Ki Ager Us Ne Fir Se Es Pagal Budhe Virodh Kiya To Vo Rone Lage Ga Or Jor Jor Se Chila Ne Lage Ga Or Payel Jag Jaye Gi Es Liye Piya Ve Sehi Padi Rahi 1 Minit Tak Piya Ke Boobs Ka Nipul Ko Pagal Budhe Ne Chus Tar Ha Us Ke Baad Piya Ko Bhi Apne Boobs Ke Nipul Me Gud Gud Di Ho Ne Lagi Thi

Piya Ki Aakh Se Aasu Behra Rah Tha Kiyo Ki Piya Ko Pata Tha Ki Ye Sab Sahi Nahi Hai Ye Sab Galat Hai Kher Dhire Dhire Piya Bhi Madh Ho Ho Ne Lagi Ab Piya Ne Apneek Hath Pagal Budhe Ke Sir Ko Baal Pakad Ke Pagal Budhe Ke Sehela Rahi Thi Or Dus Re Hath Pagal Budhe Pith Ko Sehe La Rahi Thi Fir Acha Nak Pagal Budhe Piya Ko Pakad Ki Us Ko Sidha Leta Ke Khud Us Ke Upper Chad Gaya

Pagal Budhe Piya Ke Leta Gaya Tha Or Piya Ke Boobs Ko Bari Bari Se Chus Raha Tha 10 Minit Pagal Budhe Kar Ne Ke Baad Vo Piya Ke Boobs Ko Chor Ke Piya Ke Boobs Keuper Se Ho Te Hu Ye Piya Ke Gale Gaal Sar Ache Sab Ko Chat Na Laga Vo Apni Chibh Ko Sabhi Jaga Guma Raha Tha Jab Pagal Budhe Piya Ke Gale Se Chat Ta Huva Piya Ke Hoto Tak Poch Gaya Piya Ab Bekabu Ho Gai Thi Piya Ne Apna Muh Khol Diya Tha Or Piya Ne Apni Jibh Ko Thori Si Bahar Nikal Di Thi Or Pagal Budhe

Piya Ke Jibh Ko Chus Raha Tha Piya Ki Jibh Se Jo Savad Mil Raha Tha Vo Pagal Budhe Kabhi Nahi Chaka Tha Pagal Budhe Ne Piya Ko Jor Jor Se Jote Maar Maar Ke Kiss Kar Raha Tha Or Sath Sath Piya Ki Chut Ke Upper Apna Land Ko Bhi Ghish Raha Tha Jor Se Piya Or Bekabu Ho Gai Thi Piya Ne Apne Do No Hath Ko Pagal Budhe Ke Pith Ke Upper Se Selana Lagi Thi

Abhi Bhi Pagal Budhe Piya Ke Upper Hi Leta Huva Tha Or Pagal Budhe Apni Kamar Dhire Dhire Ragar Ne Laga Kamar Ko Ragar Ne Se Pagal Budhe Ka Land Piya Ki Chut Se Ragar Ne Laga Es Se Pagal Budhe Ka Land Piya Ki Chut Per Agar Ne Ke Vaja Se Khada Ho Gaya Tha Ab Pagal Budhe Ka Land 10 Inch Ka Lamba Or 2 Inch Mota Ho Gaya Tha Ab Piya Ko Pagal Budhe Ka Land Apni Chut Ke Upper Ssaf Mehesus Kar Rahi Tabhi Pagal Budhe Apne

Do No Paav Daba Ke Piya Ke Do No Paav Ko Khol Ke Bich Me Aa Gaya Or Land Ko Chut Ke Upper Jor Jor Se Ragar Te Jaraha Tha Piya Kafi Beechen Ho Rahi 10 Minit Se Pagal Budhe Piyaki Chut Ke Upper Se Hi Apna 10 Inch Lamba Land Ghish Tar Aha Ab Piya Ka Sabar Tut Gaya Tha Piya Ke Muh Se Aaaahhhh Ooohhhh Mmmm Aaaahhhhooo Ki Avaj Ane Lagi Thi

Piya Bhi Apni Kamar Ko Niche Se Uchhal Ke Land Ko Chut Me Le Ne Ki Nakam Kossi Kar Rahi Thi Ab Pagal Budhe Bhi Land Ko Ghis Na Bandh Kar Diya Ab Pagal Budhe Bhi Apni Kamar Ko Pichhe Kar Ke Land Ko Under Kar Ne Ki Kossi Kar Raha Tha Or Piyabhi Ani Kamar Ko Uchhal Rahi Thi Ab Do No Hi Jos Me Aa Gaye The Tab Piya Ne Apna Ek Hath Ko Apne Peth Ki Or Le Ja Ke Pagal Budhe Ka Land Koapne Hath Me Pakad Liya Or Chut Ke Ched Ke Paas Pagal Budhe Ke Land Ka Supra Tika Ya Or Pagal Budhe

Ne Jor Jor Ke Dhake Maar Ke Ek Hi Jat Ke Me Pagal Budhe Apna 10 Inch Lamba Or 2 Inch Mota Land Piya Ki Chut Me Pura Gusa Diya Or Piya Ki Chut Me Halka Sa Darad Ho Ne Laga Or Piya Ke Muh Se Aaaaahhhhaa Mmmmmaaaaaarrrraaaaa Gggaaaiiiiii Aaaaahhhhh Ooohhhhaaa Hhamm Or Pagal Budhe Apni Kamar Ko Jor Jor Se Jat Ke Maar Maar Ke Apna Pura Land 10 Inch Ka Under Bahar Kar Ne Laga Piya Kahara Ne Lagi Aahhha Oohhh Hhammm After 15 Minit Chudai Kar Ne Ke Baad Piya Jar Gai Or Piya Ki Chut Ka Sara Chikana Pani Pagal Budhe Ke Land Piya Ki Chut Me Hi Naha Raha Tha 10 Minit Ke Baad Pagal Budhe Land Piya Ki Chut Me Jab Under Bahar Ho Tat Ha To Piya Ki Chut Me Se Ek Jaag Ban Ke Bahar Aa Raha Tha Or Sath Hi Sath

Pure Kamare Me Pagal Budhe Land Jese Hi Under Ja Ke Bahar Nikal Tat Ha To Pure Room Me Pachuk Pachuk Ki Aavaj Aati Thi Or 5 Minit Ke Baad Pagal Budhe Jor Jor Se Ssase Bhar Ne Laga Tha Sath Hi Sath Piya Bhi Jor Jor Se Haaf Rahi Thi Or Ab Tak Ke Pure 30 Minit Ke Baad Pagal Budhe Jar Gaya Piya Ki Chut Me Apna Viriya Daal Diya Pagal Budhe 2 Minit Tak Viriya Nikala Or Sara Ka Sara Viriya Pagal Budhe Ka Piya Ki Chut Me Sama Gaya Or Pagal Budhe Piya Ke Upper Hi Piya Ke Sine Pe Apna Sar Rakh Ke So Gaya Or Apna 10 Inch Ka Land Bhi Piya Ki Chut Me Hi Gusa Ye Rakha

5 Minit Ke Baad Land Ki Hava Fus Ho Gai Land Thanada Ho Gaya Tha Ab Land Ki Size 8 Inch Thi Lambai Or Motai 1 Inch Tha Pagal Budhe Subha Taka Ae Se Hi Apna Land Piya Ki Chut Me Gusa Ye So Gaya Tha

Subha Jab Piya Ki Aakhe Khuli To Piya Ne Dekha Ki Pagal Budhe Jag Gaya Tha Or Vo Ab Bhi Piya Ke Upper Tha Or Pagal Budhe Ka Land Abhi Piya Ki Chut Me Tha Piya Ne Mehesus Kiya Ki Pagal Budhe Ka Land Fir Se Tang Ho Ke 10 Inch Lamba Or 2 Inch Mota Ho Gaya Tha Or Sath Sath Pagal Budhe Apna Land Hal Ke Hal Ked Hake Maar Raha Tha Lekin Piya Koi Virodh Nahi Kar Rahi Thi Maano Ab Piya Ko Ye Achha Lag Ne Laga Tha Pagal Budhe Bade Piyaar Se Bilkul Dhire Dhire Hal Ke Hal Ke

Dhake Maar Raha Tha Or Piya Pagal Budhe Ke Sir Ke Piche Vale His Eke Baal Ko Sehe La Rahi Thi Ab Piya Ne Apne Do No Tang Ko Mor Ke Upper Kar Liya Tha Taki Chut Upper Ho Ja Ye Or Land Pura Under Tak Jaa Sake Ab Pagal Budhe Ka Land 10 Inch Lamba Or 2 Inch Mota Land Chut Me Dhire Dhire Pura Bahar Nikal Deta Tha Pagal Budhe Or Fir Se 2 Re Dhak Ke Sath Land 7 Inch Tak Gusa Deta Tha Or Baki Ka 3 Inch Bahar Reta Tha Lekin Pagal Budhe Ked Hake Ke Sath Piya Bhi Apni Kamar Ko Uchal Tit Hi Or Us Se Baki Ka 3 Inch Land Bhi Chut Pura Ka Pura Under Sama Jata Tha

Or Puchuk Puchuk Ki Avaj Aane Lag Thi Or Sath Hi Sath Piya Ke Muh Se Bhi Hal Ki Hal Ki Aahhhhaa Ooohh Hhhhaaammm Ki Avaj Aane Lagi Thi 15 Minit Tak Laga Taar Pagal Budhe Piya Ki Chut Me Apna Land Under Bahar Kart A Raha Or Udhar Piya Ki Nanad Subha Udha Gait Hi Or Subha Ke 10 Baj Gaye The Oe Payel Soch Ne Lagi Ki Aaj Bhabhi Ko Kiya Huva Itni Der To Kabhi Bhi Nahi Hoti Hai Tab Payel Upper Apni Bhabhi Piya Ke Room Me Ke Paas Gai Lekin Piya Ke Room Ka Darvaja Bandh Dha

Payel Jab Piya Ke Room Ke Paas Pochi To Piya Ko Room Ke Under Se Kuchh Ajib Ajib Aavaj Aa Rahi Thi Aahhaha Oohhhh Ki Lekin Sath Hi Sath Payel Ko Pachuk Pachuk Ki Bhi Aavaj Aa Rahi Thi Payel Piya Ka Room Ka Darvaja Nok Nok Kiya Or Payel Ne Avaj Lagai Bhabhi Kiya Huva Aap Thik To Ho Na Payel Ki Avaj Sun Ke Piya Bokhla Gai Thi Or Payel Ne Kaha Ki Bhabhi Darvaja Kho Lo Me Payel Hu Or Piya Ko Kuchh Samaj Me Nahi Aa Raha Tha Lekin Achha Tha Ki Darvaja Under Se Bandh Kiya Tha

Piya Ne Pagal Budhe Ne Apne Aap Se Chhud Va Ne Ke Liye Jor Daar Dhaka Maara Jis Se Pagal Budhe Ka Land Piya Ki Chut Se Bahar Nikal Gaya Or Pagal Budhe Piya Ke Bagal Me Gir Gaya Lekin Pagal Budhe Fir Se Piya Ke Upper Chad Gaya Or Apne Hatha Apna Land Pakad Ke Fir Se Ek Baar Ek Hi Jat Ke Me Pura 10 Inch Ka Land Piya Ki Chut Me Fir Se Daal Diya Pura Ka Pura 10 Inch Tak

Tab Piya Fir Se Dhaka Diya Lekin Es Baar Pagal Budhe Ne Badi Maj Buti Se Tham Rakha Tha Piya Ko Tab Piya Room Ke Under Se Hi Aavaj Di Payel Ko Kiya Huva Payel Kiyo Chila Rahi Payel Ne Kaha Ki Bhabhi Aap Thik To Ho Na Subha Ke 10 Baj Gaye Hai Or Aap Ab Tak Apne Room Se Bahar Nahi Aai Ho Tab Piya Ne Labi Labi Sas Lete Hu Ye Kaha Ki Meri Tabiyat Thik Nahi Hai Es Li Ye Me Apne Room Me Aaram Kar Rahi Kuchh Der Aaram Karu Gi To Thikh Ho Jaa Vu Gi

Or Udhar Pagal Budhe Lagatar Jor Jor Pagal Budhe Apna Land Piya Ki Chut Me Under Bahar Kiye Jaa Raha Tha Payel Ne Puchha Ki Bhai Aap Ki Sasse Kiyu Chadi Hui Hai Piya Ne Kaha Kuch Nahi Meri Tabi Yet Thik Nahi Hai Na Es Vaja Se Tab Payel Ne Kaha Ki Thik Hai Lekin Davai Le Lena Or Bhabhi Me Apni Sehe Li Ke Ghar Jaa Rahi Hu Padhai Ke Li Ye Me Saam Ko Vapis Aa Javu Gi Or Payel Vaha Se Chali Gai

Or Pagal Budhe Jor Jor Se Piya Ko Chod Raha Tha Karib 35 Minit Ke Baad Pagal Budhe Tej Tej Ssas Lete Hu Ye Fir Ek Baar Apna Sara Viriya Piya Ki Chut Ke Under Hi Gira Diya Or 2 Minit Ke Baad Pagal Budhe Saant Ho Gaya Or Dhire Dhire Pagal Budhe Ka Land Bhi Thanada Ho Gaya Fir Piya Vaha Se Uthi Or Naha Ne Ke Liye Bathroom Ki Or Jane Lagi To Pagal Budhe Bhi Piya Ke Sath Sath Bathroom Ki Or Chal Ne Laga Payel Ghar Me Nahi Thi Es Liye Piya Ko Koi Dar Nahi Tha

Fir Piya Or Pagal Budhe Ne Sath Sath Naha Liya Or Piya Ne Kapde Pehen Li Ye Or Niche Kichan Me Aa Ke Nasta Bana Ya Or Khud Khaya Or Pagal Budhe Ko Bhi Khila Ya Fir Piya Ne Pagal Budhe Ko Ek Dhoti Nikal Ke Pehenai Or Piya Niche Aake Fir Ek Baar Kichan Me Khana Bana Ne Lagi Or Pagal Budhe Ko Apne Room Me Hi Look Kar Ke Rakha Tha Sab Kaam Khatam Ho Ne Ke Baad Piya After Noon Ko Fir Ek Baar Apne Kamre Me Aai Thora Aaram Kar Ne Ke Liye

Or Piya Bed Pe So Gai Or Fir Ek Baar Pagal Budhe Piya Ke Paas Aaya Or Piya Ke Kapde Utaar Ne Laga Or Khud Ki Dhoti Bhi Utaar Di Thi Or Fir Se Piya Ko Chod Ne Laga Ab Piya Ko Ye Achha Lag Ne Laga Tha Pagal Budhe Piya Ki Jor Jor Se Chudai Kar Ra Ha Tha Or Kuchh Der Me Fir Se Pagal Budhe Ne Apna Viriya Piya Ki Chut Me Gira Diya Or Santh Ho Gaya Ab To Piya Ki Chut Ka Ched Ka Muh Bhi Khula Ka Khula Hi Rehe Tat Ha Je Se Ki Piya Ki Chut Land Maag Rahi Hai Kha Ne Ke Li Ye

Payel Saam Ko Ghar Aai Or Payel Piya Se Puchha Ki Bhabhi Ab Aap Ki Tabi Yet Ke Si Hai Piya Ne Kaha Ki Thik Hai Or Sab Khana Khake So Ne Chale Gaye Or Fir Ek Baar Pagal Budhe Ne Piya Ke Bedroom Me Piya Ki Chudai Ki Or Apna Viriya Piya Ki Chut Me Hi Gira Diya Or So Gaya Din Gujar Te Gaye Pata Hi Nahi Chala Ki 1 Month Se 2 Ra Month Kab Gujar Gaya Ab Tak 3 Month Gujar Gaye The Or Piya Es Baat Se Anjaan Thi Ki Vo Prganet Ho Gai Thi Us Ke Pet Me 3 Month Ka Bacha Tha Or Udhar Pagal Budhe Har Roj Jam Jam Kar Piya Ko Chod Tat Ha Ek Din Piya Ko Chakar Aagaya Or Piya Gir Gai Piya Ne Apna Check Up Kar Vaya To Doctor Ne Kaha Ki Mubarak Ho Aap Maa Ban Vali Ho

Ye Sun Ke Piya Ke Pero Se Jameen Khisak Gai Piya Ne Doctor Se Kaha Muje Ye Bacha Nahi Chahi Ye Muje Aboson Kar Van A Hai Doctor Ne Kaha Ki Thik Hai Lekin Thoda Kharcha Ho Ga Piya Ne Kaha Ki Thik Hai Or Piya Ko Ha Doctor Ne Ki To Fir Aap Thori Der Me Ready Ho Ke Operson Room Me Poch Jaa O Jab Operson Suru Huva To Piya Ne Kaha Ki Us I.Peel Bhi Karva Ni Hai I.Peel Vo Hori Hai Ek Joti Si Pin Jis Ko Bache Dani Vali Nash Ko 5 Saal Tak Bandh Kar Vaya Ja Sakta Hai Jis Se 5 Saal Tak Koi Bacha Na Ho Oprson Ho Ne Ke Baad Piya Ghar Aagai

Lekin Ab Piya Ko Koi Tenson Nahi Tha Kiyo Ki Ab 5 Saal Tak Koi Tenson Nahi Tha Bache Ho Ne Ka Or 2 Month Nikla Gaye Or Piya Pagal Budhe Se Chudvatirahi Ba Piya Ke Bache Jo Huva Tha Us Ko Us Ne Girva Diya Tha Lekin 3 Month Ho Gaye The Bache Ko Pet Me Es Liye Piya Ke Stano Me Doodh Nikal Raha Tha Jo Pagal Budhe Piya Ko Chod Te Samay Ek Taf Apna Land Piya Ki Chut Aag Piche Kart A Tha Or Dusri Or Piya Ke Boobs Me Se Doodh Bhi Pi Jata Tha

Ae Se Hi Sab Chal Raha Tha Ab Tak 6 Month Nikal Gaye The Ek Raat Ki Baat Hai Jab Payel Apne School Ki Piknik Ke Li Ye 2 Din Ke Liye Bahar Gait Hi To Piya Ko Lagaaaj Nahi To Kal Kahi Payel Ko Kuchh Pata Na Chal Jaa Ye Or Es Li Ye Piya Ne Pagal Budhe Koapne Seher Se Dur Koi Pahadi Ilake Par Aashram Me Rakh Ne Ka Fesla Kiya Taki Payel Kabhi Pata Na Chale Ye Sab Ke Baa Re Me

Piya Ne Aashram Valo Ke Ye Bata Ya Ki Ye Pagal Budhe Us Ka Pita Hai Or Piya Ne Aashram Vale Se Kaha Ki Kiya Me 1 Din Apne Pita Yani Pagal Budhe Ke Sath Rehe Sak Ti Hu Ashram Valo Ne Haa Bola Piya Or Pagal Budhe Ko Ek Room De Diya Tha Piya Ko Pta Tha Ki Ab Vo Fir Se Pagal Budhe Ke Chud Va Nahi Paye Gi Es Liye Pya Ne Aaj Aakhri Baar Pagal Budhe Se Jam Ke Chudva Na Suru Kiya Piya Ne Puri Raat Me Pagal Budhe Ke Sath 7 Baar Chudai Ki Or Piya Or Pagal Budhe Dhak Kea E Se Hi So Gaye Subha Tak Pagal Budhe Ne Pana Land Piya Ki Chut Mehi Gusa Ye Rakha

Jab Piya Ki Aakhe Subha Khuli To Piya Ne Dekh Ki Pagal Budhe Ke Jisam Sakht Or Thanad Ho Gaya Hai Yaha Taki Pagal Budhe Ka Land Bhi Abhi Bhi Khada Or Kadak Ho Gaya Jab Piya Ne Pagal Budhe Ko Hila Ya To Vo Nahi Utha Piya Samaj Gai Pagal Budhe Av Parlog Sudhar Chukka Hai Piya Ki Aakhe Bhar Gai Piya Rone Lagi Ab Tak Pagal Budhe Ka Pura Jisam Thanda Ho Gaya Tha Shir Pagal Budhe Ka Land Hi Garam Tha Kiyo Vo Raat Bhar Piya Chut Me Gus Ke Aaram Kar Raha Tha Or Piya Ki Chut Kafi Garam Thi Jis Ke Vaja Se Land Bhi Abhi Tak Garam Tha

Piya Ne Socha Ki Agar Pagal Budhe Land Ae Se Khada Huva Raha To Kisi Ko Sakh Ho Ja Ye Ga Ki Kuchh Daal Me Kala Hai Es Li Piya Pagal Budhe Ka Land Chut Bahar Nahi Nikal Or Hal Ke Hal Ke Dha Ke Laga Ti Rahi Apni Chut Ko Uchhal Uchhal Ke 2 Ghante Tak Laga Taar Chut Ko Uchhal Ne Ke Baad Land Me Hal Chal Si Maach Gai Sayed Ye Pagal Budhe Ka Aakhri Viriya Tha Jo Piya Chut Me Aakhri Baar Gir Ta Raha Or Land 2 Minit Ke Baad Fus Kar Ke Hava Nikal Gai Fir Piya Ne Pagal Budhe Ko Kapde Pehana Di Ye Or Khud Bhi Pehen Li Ye Or Sab Bister Or Jaga Thik Kar Di Or Ek Chadar Ko Zameen Pe Bicha Diya Taki Sab Ko Ye Lage Ki Vo Puri Raat Zameen Pe Soi Thi

Or Piya Ne Aavaj Laga Ke Ashram Ke Sevak Bulaya Or Kaha Ki Mere Pita Ba Es Duniya Me Nahi Rahe In Ka Svarg Vaas Ho Gaya Hai Or Pagal Budhe Ko Agni Me Jala Ke Piya Vapis Ghar Aagaiiii

Part 1 Pagal Budha Ne Choda

Pagal Budha Ne Choda


Ye Kahani Piya Ki Hai Piya Ka Sadi Kafi Choti Umer 17 Saal Me Hi Ho Gai Thi Jis Din Piya Ki Sadi Huithi Us Din Raat Ko Jab Sadi Ho Ne Baad Piya Pane Pati Ke Sath Apne Pati Ke Ghar Jaa Rahi Thi Us Din Piya Or Piya Ke Pati Or Piya Ke Pati Ke Ghar Valejo Ki Sab Ek Bas Me Aa Rahe The

Us Bas Ka Oxidant Ho Gaya Sabhi Log Maa Re Gaye Piya Ke Pati Or Piaya Ke Pati Ke Maa Baap Sirf Us Me Piya Or Piya Ki Pati Ki Behen Piya Ki Nanad Payel Hi Bach Paa Ye The Bichari Piya Us Ke Sadi Ki Pehe Li Raat Ko Hi Us Ka Pati Ki Mar Gaya Bichari Ki Suhagrat Bhi Nahi Ho Paaii

Aaj Us Baat Ko Pure 2 Saal Bit Gaye Hai Piya Ne Apni Nanad Payel Ke Sath Seher Me Apne Pari Ke Ghar Aake Rehe Ne Lagi Or Ek Nokri Kar Ne Lagi Pagalo Ke Hospital Me Naas Ka Kaam Kar Ti Thi Us Se Mariso Ko Time Pe Davai Or Khana Khila Ne Ka Kaam Kar Na Tha Or Es Kaam Se Jo Rupiye Mil Te The Us Piya Ka Ghar Kharch Nikal Jata Tha Piya Ke Maa Baap Bohod Garib The Es Li Ye Piya Un Pe Koi Boch Nahi Ban Na Chah Ti Thi

Kher Wakt Gujar Ta Gaya Dhi Re Dhi Re Ab Payel Bhi Kafi Badi Ho Gai Thi Jab Oxidant Huva Tha Tab Payel Ki Age 13 Saal Ki Thi Lekin Ab Vo Bhi 15 Ki Ho Gai Thi Payel 9 Th Class Me Path Ti Thi School Me Payel Dikh Ne Kafi Gori Thi Or Sunder Payel Ki Class Ke Sare Ladke Payel Pe Line Maar Te The Lekin Payel Kisi Ko Bhi Aakh Utha Ke Nahi Dekh Ti Thi

Piya Bhi Kafi Sunder Thi Lekin Thori Si Savli Rangki Thi Us Ka Kaam Hospital Me Kafi Achha Chal Raha Tha Payel Ka Ghar Hospital Se Kafi Dur Tha Es Li Ye Payel Ne Kuchh Rupiye Jama Kar Ke Ek Second Hend Caar Kahrid Li Thi Taki Us Ko Aa Ne Ja Ne Me Aasani Ho Ek Din Ki Baat Hai

Payel Ke Hospital Me Se Ek Pagal Budha Tha Jo Vaha Ke Votboy Ke Sir Pe Hamla Kar Ke Bhag Gaya Tha Tab Hospital Valo Ne Polish Me Report Bhi Kar Vaiii Taki Pagala Budha Jald Se Jald Pakda Ja Ye Lekin Vo Pagal Budha Hospital Sebhaga Nahi Tha Vo Hospital Ke Parking Place Me Ek Kaar Ki Dikhi Me Gus Ke Chupa Tha Or It-Tafak Se Vo Gadi Piya Ki Thi

Piya Ko Pata Nahi Tha Ki Vo Pagal Budha Piya Ki Gadi Me Tha Piya Ssam Ko Chute Ho Ne Ke Baad Ghar Aane Ke Liye Nikal Gai Thi Piya Ne Apni Gadi Apne Ghar Ke Unde Ke Get Open Kiya Or Gadi Ko Under Par Kiya Or Ghar Me Under Aa Gai Or Kichan Me Jaa Ke Khana Bana Ne Lagi Khud Ke Li Ye Or Payal Ke Li Ye Tabhi Pagal Budha Gadiki Deki Ko Open Kar Ke Bahar Nikala Or Us Dekha Ki Ghar Ka Darvaja Khula Hai To Vo Sidhe Under Gus Gaya

Or Darvaja Bandh Kar Diya Darvaja Bandh Ho Ne Ki Ajavaj Se Payal Jo Ki Apne Kamre Me Padhai Kar Rahi Thi Vo Bahar Aai Or Bolte Bolte Bhai Aap Ho Kiya Pagal Budha Ko Je Se Hi Avaj Aai To Vo Daar Ke Siri To Se Upper Jaa Ke Ek Room Me Jaa Ke Bister Ke Niche Chhup Gaya Vo Room Piya Ka Tha

Dhori Der Me Piya Or Payel Ne Khana Kha Liya Or Sab Bartan Dho Ke Under Rakh Darvaja Bandh Kar Ke Ghar Ki Sari Light Off Kar Ke Apne Apne Room Me So Ne Ke Li Ye Chali Gai Payel Ka Room Niche Tha Or Piya Ka Room Upper Tha Or Pure Ghar Me Ek Hi Tolet Tha Jo Upper Ki Or Tha Jo Piya Ke Room Ke Najdikh Hai Piya Hame Sa So Ne Se Pehe Le

Garam Pani Se Bath Leti Hai Ache Se Naha Ke Shirf Ek Nighti Hi Pehen Ti Thi Jis Ko Dono Hath Daal Ke Badan Pe Lappet Ke Shirf Ek Rasi Jo Usnighti Me Ho Ti Hai Kamar Ki Or Us Foolo Vali Gaath Bandh Ke Bandh Kar Te Hai Or Jab Khol Na Ho To Shirf Vo Ghath Ko Khich Do Vo Khool Ja Ti Hai Jab Piya Apne Room Me Aai To Us Dekh Ki Room Ki Light To Pehe Le Se Hi On Hai Fir Piya Ko Laga Ki Sayed Vo Khud Hi On Rakhi Ho Gi Ro Off Kar Na Bhul Gai Ho Gi

Fir Piya Aaye Ne Ke Saam Ne Khadi Hui Or Apne Baalo Ko Saaf Ki Ye Or Un Ko Bandh Li Ya Or Ek Khusbu Daar Parfiyom Ko Apne Upper Daal Diya Or So Ne Chali Gai Parfiyom Ki Khusbu Se Pura Room Me Khusbu Fel Gai Thi Fir Piya Ne Room Ki Light Bandh Ki Or Apne Bister Pe Jaa Ke Let Gai Or Ek Kamla Ko Apne Upper Daal Diya Or Pia So Gai 2,3 Ghante Ke Baad Room Me Undhe Ra Ho Gaya To

Vo Pagal Dar Gaya Or Bister Ke Niche Se Bahar Aa Ke Bed Ke Upper Us Kambal Ke Niche Jis Me Piya Thi Us Ja Ke Chup Gaya Pagal Budha Ve Se To Us Ki Age 69 Ki Thi Lekin Dimagi Tor Pe Kisi Bache Je Sa Tha Piya Pure Din Ke Kaam Kaaj Ki Vaja Se Puri Thak Gai Thi Or Vo Kafi Geheri Need Me Thi Es Vaja Se Jab Pagal Budha Piya Ke Bed Par Piya Ke Hi Kambal Ke Under Gus Gaya Topiya Ko Pata Nahi Chal Paya Tha

Pagal Budha Andhe Re Se Dar Ne Karan Piya Ke Dhire Hdire Or Karib Aa Gaya Tha Pagal Budha Kaek Hath Piya Ki Nightiki Us Rasi Pe Aa Gaya Tha Pagal Budhe Ne Dar Ke Vaja Se Us Rasi Ko Pakad Ke Jor Khich Diya Or Piya Nayti Khul Gai Thi Fir Piya Ki Nighti Ka Ek Chara Sarakh Right Or Dusra Lefti Side Gir Gaya Tha Ab Piya Ke Boobs Or Chut Nagi Ho Gai Thi

Ab Pagal Budhe Ne Piya Se Lipat Gaya Tha Or Pagal Budhe Ne Apna Muh Piya Ke Do No Boobs Ke Bich Me Chupa Li Ya Tha Fir Khuchh Der Baad Padal Budhe Ke Pat Se Khuchh Avaj Aa Rahi Thi Pagalbudhe Ne Subhe Se Kuchh Nahi Kha Ya Tha Es Liye Pagal Budhe Ne Piya Ke Ek Boobs Ke Nipul Ko Apne Muh Me L Ke Chus Ne Laga Tha

Ab Halat Ye Thi Ki Pagal Budha Piya Ke Thik Upper Leta Huva Tha Or Piya Ke Do No Boobs Ke Nupul Bari Bari Se Chus Raha Tha Or Piya Ab Bhi Need Me Kahara Rai Thi Hhhhmmmmaaaa Aaaahhhha Piya Ko Lag Raha Tha Ki Vo Koi Sapna Dekh Rahi Hai Jis Me Us Ka Pati Us Ko Chod Raha Hai Es Li Yepiaya Need Me Hi Apne Do No Hath Ko Pagalbudhe Ke Sir Pe Guma Ke Us Ke Balo Ko Noch Te Hu Ye Baar Baar Apne Sine Se Pe Pagal Budhe Ka Sir Ko Daba Rahi Thi

Or Sath Sath Aaahhhha Hhhammmaa Oooahhha Ki Avaj Bhi Nikal Rahi Thi 15 Minit Tak Chal Ta Rah Achanak Kamre Ki Light Chali Gai Or Pankh Jo Guma Raha Tha Vo Bandh Ho Gaya 5 Minit Ke Baad Piya Or Pagal Budha Bhi Garmi Se Jat Pata Ne Laga Do No Ke Jisam Pasi Ne Me Naha Ne Lage The Es Li Ye Pagal Budhe Ne Piaya Ke Upper Se Hat Gaya Or Garmi Ki Vaja Se Apne Sarat Or Pent Ko Utaar Feka Or Piya Ve Se Hi Bistarer Per Pith Ke Bal Laeti Hai Padi Thi

Pagal Budha Apne Kapde Nikal Ne Ke Baad Fir Se Piya Ke Upper Aa Gaya Or Piya Boobs Ke Nipul Ko Chus Ne Lage Achanak Light Aa Gai Or Fir Se Pankha On Ho Gaya Or Bab Thori Garmi Kam Hui Ab Pagal Budhe Ka Land Pia Ki Chut Ke Upper Ragar Rahatha Tabhi Piya Ki Chut Me Leher Si Dor Gai Or Piya Jar Ne Lagi Piya Ki Chut Se Chichipa Ras Bahar Ane Laga Tha

Lekin Piya Ki Chut Se Land Ek Dam Chipka Huva Tha Jis Ke Karan Chut Se Jo Chi Chipa Ras Nikal Raha Tha Vo Land Ke Upper Gir Raha Tha Or Thori Der Me Pura Land Chip Chipa Ho Gaya Tha Piya Chut Pani Pagal Budhe Ke Land Ke Upper Ja Ne Ke Karan Land Chi Chipa Ho Gay Tha Or Ab Sathi Sath Land Hal Hal Ka Tight Huva Tha Abhi Puri Tarah Se Tight Nahi Huva Tha Abhi Kafi Soft Tha Abhi Pagal Budhe Ke Land Ki Size

8 Inch Lamba Or 1 Inch Mota Tha Land Chip Chipa Ho Ne Ki Vaja Se Land Chut Ke Upper Kabhi Left Me Ho Ta Labhi Right Me Sadka Ta Kabhi Upper Ki Or Kabhi Niche Ki Or Or Tabhi Piya Ne Apni Tange Kho Li Need Me Hi Thi Abhi Tak Piya Or Piya Ne Jese Hi Apni Tange Kholi Or Piya Ne Apni 2 Tango Ko Thori Upper Kiya

Us Ke Vaja Se Chut Ka Muh Khol Gay Or Thora Upper Ho Gaya Kiyo Chut Ka Muh Bhi 1 Inch Ka Tha Es Liye Jab Piya Ki Chut Ka Muh Upper Aya Or Pagal Budhe Ka Land Bhi Tabhi Sarak Nechi Ki Or Ja Raha Tha Tab Piya Ki Chut Ke Muh Me Pagal Budhe Ke Land Ka Supra 1 Inch Tak Aasani Se Gus Gaya Or Kiyo Ki Land Abhi Bhi Puri Tah Se Khada Nahi Huva Tha Es Li Ye Kafi Soft Tha

Lekin Je Se Hi Piya Ki Chut Me Land Ek Inch Gus Gaya Piya Ki Chut Me Gud Gudi Se Ho Ne Lagi Or Piya Ki Chut Fir Ek Baar Jad Gai Or Is Baar Sar Chi Chipa Pari Chut Or Land Ke Kin Ro Se Sarkh Ta Sarkh Ta Huva Sidhe Land Ko Nehe La Raha Tha Or Jab Piay Ki Chut Se Pani Nikal Raha Tha Topiya Thori Si Jos Me Aa Gai Or Piya Niche Se 5,6 Jat Ke Maar Ne Lagi Jor Se Chut Se Kafi Sara Chikna Pani Nikal Ne Or Land Pe Gir Ne Ke Vaja Se Pagal Budhe Ka Land Soye Huye Halat Me Hi 5 ,6 Dhako Ke Sath Sidhe Bina Ruke Chut Ke Under Aaram Se Gus Ta Hi Chal Gaya Je Se Koi Saaf Pane Bil Me Gus Ta Hai

Pagal Budhe Kaab Sirf 8 Inch Me Se 7 Inch Land Piya Ki Chut Me Chala Gaya Tha Or Sirf 1 Inch Baki Tha Or Je Se Hi Pagal Budhe Ka Land Piya Ki Chut Me 7 Inch Gus Gaya Pagal Budhe Ko Apne Land Ko Garam Garam Ho Ne Laga Pagal Budhe Se Ba Raha Nahi Gaya Or Us Bacha Hu 1 Inch Bhi Chut Ke Under Daal Ke Land Ko Chut Ek Dam Chipka Diya Or Piya Ko Jakar Liya Or Piya Ko Boobs Ko Chor Diya 3 Minit

Tak Land Ko Chut Ke Under Rakh Ne Ke Baad Chut Ki Itni Garmi Se Land Khada Ho Gaya Or Land Ka Siz Badal Gaya Piya Need Me Hi Jatpata Ne Lagi Ab Land 2 Inch Mota Ho Gaya Tha Or 10 Inch Lamba Ho Gaya Tha Maano Je Se Land Chut Ke Under Fas Gaya Ho Land Ki Motai 2 Inch Ho Ne Vaja Se Piya Ki Chut Fat Ne Lagi Thi Piya Ki Chut Ek Side Ke Kina Re Se Thora Khoon Nikal Raha Tha Piya Ki Seel Tut Rahi Thi

Sayed Ye Us Pagalbudhe Ki Bhi Ab Tak Ki Paheli Chuai Ho Gi Kiyo Ki Vo Budha Bhi Chila Raha Tha Aaha Oooohh Hhhhaaaa Or Piya Bhi Darad Ke Vaja Se Need Se Jaag Gai Or Us Ne Dkha Ki Us Ke Upper Koi Hai Or Jab Piya Us Ke Upper Lete Hu Ye Ka Chehe Ra Dekh To Vo Dang Rehe Gai Kiyo Ki Ye To Us Ki Hospital Ja Piya Nas Ka Kaam Kar Ti Haivaha Ka Ek Pagal Hai Jo Aaj Subha Bhag Gaya Tha

Piya Ne Mehe Sush Kiya Ki Us Ki Nighti Bhi Khuli Hui Hai Or Piya Ne Jat Se Us Pagal Budhe Dhaka Diya Lekin Piya Pagal Budhe Ko Hata Nahi Pai Or Sath Sath Piya Mehe Sush Kiya Ki Jab Bhi Vo Pagal Budhe Ko Dhaka Maar Ke Apne Upper Se Hata Ti To Piaya Ki Chut Me Itna Daard Kiyo Ho Raha Tha Or Us Ki Chut Ke Under Kuchh Garam Garam Lekin Kafi Sakt Chizz Gusi Hui Thi

Fir Piya Ko Mehe Sush Huva Ki Are Yepagal Budhe La Land Hai Jo Mere Chut Ki Geherai O Me Jaa Ke Sama Gaya Lekin Pagal Budhe Piya Ko Ache Se Pakad Ke Rakha Ta Ta Ki Piya Us Ki Giraf Se Chhut Na Paye Ab Topiya Bhi Chila Ne Lagi Baaaaccchhhhaaaaa Oooo Kkooooiii Ooohhhhh Mmmaaaaarrrrgggggaaaiiii Ooohhhmmmmaaa Oohhh Bbbaapp Nniiikkkaaa Llllooo Aaahhhh Oooohhh Bbbaachha Ooo Mma Rrraagggaaaiiii Ooohhhhhh Ki Avaj Nikal Rahi Thi

Ab Pagal Budhe Ko Bhi Maja Aara Ha Tha Us Ne Bhi Ye Sab Pehe Li Baar Kiya Tha 20 Minit Ke Baad Piya Thak Gai Apne Aap Ko Chhudva Te Chhudva Te Ab Pagal Budhe Ne Piya Ke Dono Hatho Ko Apne Do No Hath Se Pakda Or Piya Ke Hatho Ki Ungli Yo Me Apne Hath Ki Ungli Dali Or Piya Do No Hath Ko Piya Ke Sir Ke Upper Vale Bhag Se Da Ba Diya Or Pagal Budha Ne Apni Kamar Upper Niche Kar Ne Laga

Piya Ro Ne Lagi Plzz Ae Sa Mat Karo Me Kisi Ko Muh Dikha Ne Ke Layek Nahi Rahu Gi Bhagavan Ke Li Ye Chhor Do Muje Plzz Me Tum Hare Hath Jorti Hu Lekin Pagal Budhe Ne Piya Ki Ek Na Suni Or Apni Kamar Ko Or Tej Tej Jat Ke Maar Ne Laga Or Land Piya Chut Se Under Bahr Kar Ta Raha Piya Roti Rahi Likin Pagal Budhe Ne Daya Nahi Dikhai Or Chudai Chalu Rakhi Chudai 3 Minit Ke Baad Piya Fir Se Jad Gai Ab Piya Tej Tej Saas Le Rahi Thi

Or Pagal Budha Bhi Vo Bhi Ab Apni Kamar Ko Hila Ke Dhakh Gaya Tha Es Li Ye Vo Piya Ke Upper Let Gaya Apna 10 Inch Ka Land Pura Under Daal Ke 10 Minit Ke Baad Jab Piya Or Pagal Budhe Ki Ssash Kuchh Tham Gai To Fir Se Chudai Chalu Kar Di Pagal Budhe Ne Ab – Piya Ko Thora Thora Maza Aane Laga Tha Ke Muh Se Aaahh Hhama Ki Avaj Ane Lagi Thi Lekin Ab Pagal Budha Land Kafi Dhire Hdire Chut Ke Under Bahar Kar Raha Tha Ab Pagal Budha Pana Pura Land Chut Se Bahar Niakal Ta Tha

Or Ek Hi Jat Ke Ke Sath Land Ko Chut Ki Geherai O Me Sama Deta Tha Or 3o Minit Tak Ae Ssa Hi Chal Ta Raha Or Acha Nak Pagal Budhe Ki Ssash Tej Ho Ne Lagi Ab Pagal Budha Bhi Jar Ne Vala Tha Piya Us Ko Jat Ka Diya Taki Vo Bahar Apna Pani Nika Le Lekin 1 Ghante Ki Chudai Ki Vaja Se Piya Kafi Thak Gai Thi Or Vo Pagal Budhe Ko Hata Nahi Pai Es Vaja Se Pagal Budhe Neapne Kamar Ko Jor Jor Se Hila Te Huye Aahhhhhh Hhmmaaa Ooaaaa Ki Avaj Ase Land Pura Piya Ki Chut Ke Under Sat Kat Ke Chipka Diya

Pagal Budhe Ne Es Tarah Se Land Ko Chut Se Chipka Diya Tha Ke Chut Ke Under Hava Bhi Under Na Ja Sake Or Piya Ko Jat Ke Maar Maar Ke Pagal Budhe Ne Apna Sara Viriya Piya Ki Chut Me Daal Diya 2 Minit Tak Viriya Nikla Pagal Budhe Sara Viriya Piya Ki Chut Me Gira Diya

Or 2 Ghante Tak Piya Ki Chut Me Land Gusha Ke Pada Raha Baad Me Pagal Budha Piaya Paas Me Let Gaya Or Pagal Budhe Ne Kambal Ko Utha Khud Ke Or Piya Upper Daal Diya Or Piya Ke Ek Taang Ko Pakad Ke Apni Dono Tago Ke Upper Rakha Or Piya Ka Ek Hath Pagal Budhe Ne Apni Pith Ke Upper Rakha Or Khud Ka Muh Piyake Boobs Me Daba Te Huye Piya Ke Nipul Ko Apne Muh Me Chusta Huva Hi So Gaya

To Be Continue .... Part :- ( Part 2 Pagal Budha )


स्कूल गर्ल की अनचुदी फुद्दी वृद्ध चपरासी ने फाड़ डाली

स्कूल गर्ल की अनचुदी फुद्दी वृद्ध चपरासी ने फाड़ डाली


Old And Young Hindi Chudai Ki Kahani स्कूल गर्ल की अनचुदी फुद्दी वृद्ध चपरासी ने फाड़ डाली  हैल्लो दोस्तों मेरा नाम देविका है और में 18 साल की जवान और बहुत ही गरम स्कूल गर्ल हूँ. मेरा बदन बहुत सुंदर है और इसकी वजह से में कुछ लोगों के लिए अच्छी हूँ. मेरी लम्बाई भी कुछ ज़्यादा नहीं है में 5.2 लम्बाई की हूँ, किन्तु मेरा शरीर भरा हुआ है और मेरी छाती भी अच्छी है. मेरी टट्टी से भरी चूतड़ के छेद को ढके हुए मेरे कूल्हे भी बहुत मोटे मोटे है मेरे कुल्हे थोड़े बाहर निकले हुए है जिसकी वजह से हर कोई लड़का मेरी तरफ आकर्षित हो जाता है पर मुझसे खुलकर बात करने से डरता है.

दोस्तों वैसे तो आम तौर पर सुहागन महिलाये और लड़कियाँ अपनी चुदाई की चुदाई की कहानिया कहानी हिंदी में बताते हुए शरमाती है किन्तु अपनी आपबीती सुनाने में उझे कोई शरम वाली बात नहीं लगती है ? दोस्तों आज जो चुदाई की कहानियां वेबसाइट हिंदी में में आप सभी को सुनाने जा रही हूँ वो घटना आज से करीब चार पांच महीने पहले की है जब में विद्यालय में पढ़ा करती थी और में जवानी की आग में बहक गई थी और हमारे विद्यालय के एक वृद्ध चपरासी से अपनी अनचुदी फुद्दी चुदवा बैठी थी. उस 60 साल के वृद्ध चपरासी का लौड़ा बहुत लम्बा और मोटा था और मेरी अनचुदी फुद्दी का छेद बहुत छोटा था उसने मेरी अनचुदी फुद्दी चोदते चोदते फाड़ डाली थी और मेरी फटी हुई फुद्दी से बहुत सारा ब्लड भी निकला था.

Old And Young Hindi Chudai Ki Kahani स्कूल गर्ल की अनचुदी फुद्दी वृद्ध चपरासी ने फाड़ डाली


मेरी बहुत सारी विद्यालय फ्रेंड थी और करीब करीब उस सभी के यार थे एक बस मेरा ही कोई यार नहीं था और मेरी बो सभी फ्रेंड्स आये दिन कभी रूम पर तो कभी होटल पर उनसे अपनी फुद्दी चुदवाने जाया करती थी. मेरी फ्रेंड्स को देख देख कर मेरी भी फुद्दी में खुजली मचती थी और मेरा भी बहुत दिल करता था की काश मेरा भी कोई यार हो. मेरी फुद्दी में खुजली होने के चलते में भी लड़को को अपनी तरफ आकर्षित करने का प्रयास किया करती थी पर में यार बनाने में कामयाब नहीं हो पा रही थी में दिखने में भी गदराई थी और मेरा फिगर भी कमाल का था पर में एक भी लड़का सेट नहीं कर पा रही थी.

मैंने यार बनाने की चाहत में सभी प्रयास कर लिये थे और अब में भी इस बात से परेशान आ गई थी की भला इतनी हॉट और गदराई होते हुए भी कोई लड़का मुझसे खुलकर सेक्स के बारे में बात नहीं करता, क्योंकि आख़िर में भी तो एक लड़की ही थी और मेरे सर पर तो बस किसी लड़के को अपना यार बनाकर उसके लौड़े से पानी फुद्दी ठुकवाने का भूत सवार. हमारे विद्यालय के एक चपरासी की हवस से भरी गन्दी नजर मुझ पर थी, क्योंकि उसे तो बस सेक्स करने के लिए एक खिलोना चाहिए था. उसकी उम्र करीब 42 साल थी और वो बिहार का रहने वाला था, किन्तु उसका शरीर बहुत गठीला था और वो थोड़ा मोटा भी था.

दोस्तों मुझे थोड़ा सा भी पता नहीं था कि वो मेरी इन सब हरकतो पर गौर किया करता है और उसे पता था कि मेरे भीतर जवानी उफान मार रही है और अब मुझसे बिना चुदे रहा नहीं जा रहा और इसी बात का उस 60 साल के डोकरे चपरासी ने फायदा उठाया. एक दिन जब में विद्यालय से छुट्टी के वक़्त निकली तो उस चपरासी ने मुझसे कहा कि उसे मुझसे कुछ बात करनी है और में उसकी वो बात सुनने के लिए रुक गई, उस वक्त वहाँ पर कोई भी नहीं था और उसने मुझसे कहा कि उसे पता है कि में सच्चे प्यार की तलाश कर रही हूँ. उस 60 वर्ष के वृद्ध चपरासी के मुहं से यह बात सुनकर में एकदम से हैरान हो गई, किन्तु में उससे इसके आगे क्या कहती.

फिर वो आगे कहा कि एक लड़का मुझे बहुत पसंद करता है बेटी और वो मुझसे मिलना चाहता है. दोस्तों मेरी तो जैसे प्रसनी का कोई ठिकाना ही नहीं रहा और मुझे लगा कि मुझे अब सब कुछ मिल गया, किन्तु मुझे थोड़ा सा भी पता नहीं था कि यह चपरासी मुझे चोदना चाहता है और मेरी प्रसनी देखकर वो समझ गया कि में उसके शिकंजे में फंस गई हूँ.  स्कूल गर्ल की अनचुदी फुद्दी वृद्ध चपरासी ने फाड़ डाली फिर उसने मुझसे कहा कि वो लड़का मुझसे मिलना चाहता है, मैंने पूछा कि कब? तो उसने कहा कि जब तुम्हे ठीक लगे. इसके बाद मैंने कहा कि में शाम को कोचिंग के लिए घर से बाहर जाती हूँ और आज में तुम्हारे पास आ जाउंगी, तब तुम मुझे उससे मिलवा देना.

उस वृद्ध चपरासी ने कहा कि ठीक है और फिर में वहाँ से चली गई और उसी शाम को अपने घर से कोचिंग के लिए निकल गई और अब विद्यालय में चपरासी के घर पर उसके पास चली गई. फिर उसने मुझे अपने कमरे में बुला लिया उस वक्त वहां पर कोई भी नहीं था और वैसे वो मैरिड था, किन्तु उसकी वाइफ और बच्चे बिहार में ही रहते थे और इस कारण से उसका कमरा बिल्कुल खाली था, बस वहां पर एक खटिया और कुछ कपड़े और चड्डी बनियान पड़े थे. तभी उसने मुझे बैठने को कहा और में ठीक उसके सामने अपनी लेट्रिंग से भरी चूतड़ टेक कर बैठ गई.


उस 60 साल के वृद्ध चपरासी की हवस से भरी गन्दी नजरे मेरे गदराई और हॉट बदन को खा जाने वाली थी और वो किसी भूखे कुत्ते के तरह मुझे लगातार घूर रहा था. इसके बाद मैंने उससे पूछा कि वो लड़का कहा ँ है? तो उसने कहा कि वो मुझे आज एक सच बताना चाहता है और फिर उसने कहा कि कोई लड़का नहीं है, किन्तु वो खुद ही मुझे बहुत पसंद किया करता है. दोस्तों उसके मुहं से यह बात सुनकर मेरी साँसे एकदम से रुक गई मुझे और थोड़ा सा भी समझ में नहीं आ रहा था कि में अब क्या करूं और में बिल्कुल चुप रही. वो मेरे पास आया और मुझसे कहने लगा कि तुम थोड़ा सा भी टेंशन मत करो और किसी को कुछ भी पता नहीं चलेगा और तुम भी मेरे साथ बहुत प्रसन रहोगी. तभी मैंने उससे गुस्से में आकर साफ मना कर दिया और फिर में उठकर वहां से जाने लगी.

फिर उस वृद्ध चपरासी ने कहा कि अगर तुम्हे किसी ने यहाँ से इस तरह जाते हुए देख लिया तो तुम बहुत बदनाम हो जाओगी, तभी उसकी बात को सोचकर में वहीं पर रुक गई और बहुत डर गई और मैंने उससे कहा कि अब में क्या करूं? उसने कहा कि अगर तुम मेरा साथ दो तो में तुम्हे चुपके से यहाँ से निकाल दूँगा और इसके बाद मैंने उससे कहा कि ठीक है, किन्तु इसके लिए मुझे क्या करना होगा? तो वो कहा कि में तुम्हारे साथ शादी करना चाहता हूँ और अपनी जोरू बनाना चाहता हूँ और तुम्हारे साथ वो सब करना चाहता हूँ जो सभी लोग अपनी जोरू के साथ करते है. दोस्तों मुझे थोड़ा सा भी पता नहीं था कि सभी लोगों का कुछ करने का क्या मतलब है? तो मैंने उससे बिना सोचे समझे कहा कि ठीक है, किन्तु प्लीज मुझे यहाँ से बाहर निकालो.

फिर वो वृद्ध चपरासी लड़खड़ाते हुए मेरे पास आया और उसने मुझे अपनी बाहों में भर लिया में कुछ बोलती उससे पहले ही उसने मुझे चूमना शुरू कर दिया और अब मेरा मुँह बंद हो गया और वो मेरे मोटे मोटे ब्रेस्ट को मसलने लगा. मैंने उससे छूटने की बहुत नाकाम प्रयास की, किन्तु वो बहुत मजबूत था. फिर उसने मुझे छोड़ा और कहने लगा कि तुम्हे भी बहुत आनंद आएगा एक दफे मेरे लण्ड से अपनी फुद्दी चुदाई करवा कर तो देखो. फिर उसकी बातें सुनकर अब मेरा भी दिल उसके साथ सेक्स करने का कर रहा था और मैंने भी उसे एक किस किया और मुझे ऐसा करना बहुत ही ज्यादा अच्छा लगा.

फिर उस डोकरे चपरासी ने मुझसे कहा कि अभी और भी बहुत सारे काम करने बाकी है, तुम अब जल्दी से अपने कपड़े उतार दो और उसने भी अब अपने सारे कपड़े उतार दिए थे और जब मैंने पहली बार उसका लण्ड देखा तो में डर गई और उसे आहिस्ता आहिस्ता खड़ा और अपना आकार बदलते हुए देखकर में बहुत हैरान रह गई, किन्तु वो अभी भी पूरी तरह खड़ा भी नहीं हुआ था, किन्तु फिर भी 6 इंच का था और मैंने उससे कहा कि क्यों तुम्हारा लण्ड इतना बड़ा है? और यह तो अभी पूरी तरह से खड़ा भी नहीं हुआ है. तभी उस डोकरे चपरासी ने मुझसे कहा कि बेटी ये पूरा खड़ा होकर 9 इंच लम्बा और करीब पांच इंच मोटा हो जायगा फिर वो मुझसे कहा की बेटी अब इस पप्पू को खड़ा तो तुम्हे ही करना पड़ेगा, मैंने पूछा कि बाबा वो कैसे? तो उसने कहा कि इसे अपने मुँह में लेकर चुसो. तभी मैंने कहा कि में कभी भी ऐसा नहीं करूँगी.

उस वृद्ध चपरासी ने कहा कि बेटी अब कोई फायदा नहीं है जो तेरी मर्ज़ी पड़े कर ले, किन्तु तेरी बदनामी हो जाएगी. अब में बहुत डर गई थी और मुझे अब अच्छा भी लग रहा था और फिर उसने मेरे कपड़े उतारे और मेरा कामुक बदन देखकर वो तो पागल हो गया और उसने मुझे अपनी बाहों में ले लिया. फिर उसने मुझसे कहा कि अगर में उसका पूरा पूरा साथ दूँगी तो सब कुछ एकदम ठीक रहेगा. फिर उसने अपना काला मोटा लौड़ा मेरे मुँह में डाल दिया, किन्तु अब मेरे पास और कोई चारा भी नहीं था और मुझे भी आहिस्ता आहिस्ता ऐसा करने में आनंद आ रहा था और में उसके पेनिस को धीरे से मुहं में लेकर चूसने लगी और अपनी जबान से लोलीपोप की तरह चाटने लगी.

मेरी विद्यालय के उस डोकरे चपरासी का लौड़ा वाकई बहुत तगड़ा था वो मेरे मुँह में पूरी तरह से आ ही नहीं रहा था और मुझे अपना पूरा मुहं जबरदस्ती खोलना पड़ रहा था. अब वो कुछ देर बाद और भी बड़ा हो गया, किन्तु उस चपरासी ने ज़बरदस्ती मेरे मुँह में अपना पूरा का पूरा लण्ड घुसा दिया, किन्तु तभी उसने देखा कि मेरे मुँह में उसका लण्ड नहीं आ रहा है, जिसकी वजह से मेरी सांसे रुकने लगी थी और मेरी आंख से आंसू बाहर आने लगे थे. फिर उसने कुछ ही देर बाद मुझसे कहा कि चलो तुम अब रहने दे. फिर उसने मुझे बिस्तर पर जाने को कहा और में वहाँ पर चली गई.

फिर वो डोकर चपरासी लडखडाता हुआ गया और जाकर सरसों का तेल ले आया और उसने थोड़ा सा तेल मेरी अनचुदी फुद्दी पर लगाया और बहुत अच्छी तरह से मेरी फुद्दी की मालिश करने लगा और फिर उसने अपनी एक उंगली को फुद्दी में भीतर डाल दिया जिसकी वजह से तेल मेरी फुद्दी के भीतर चला गया और मुझे ऐसा लगा कि कोई गरम गरम चीज़ मेरी फुद्दी के भीतर चली गई हो, मुझे थोड़ा सा दर्द भी हुआ, किन्तु अब कुछ समय बाद मुझे उसके ऐसा करने से बहुत आनंद आने लगा. फिर उसने अपनी दूसरी उंगली और फिर उसने अपनी तीसरी उंगली को भी मेरी अनचुदी फुद्दी के छेद के भीतर घुसा दिया.


मुझे उसकी वजह से दर्द तो बहुत हुआ, किन्तु कुछ देर बाद में वो दर्द आनंद बन गया था और उसने अभी तक मेरी सील नहीं तोड़ी थी, शायद वो उसे अपने लण्ड के साथ ही तोड़ना चाहता था. फिर उसने मेरा सारा बदन अपनी जबान से चाट चाटकर साफ कर दिया और अब उसने मेरे दोनों टांगों को अपने कंधे पर रख लिया और अपने लण्ड का टोपा मेरी फुद्दी पर लगा दिया. मैंने उससे कहा कि यह भीतर नहीं जाएगा तो वो कहा कि चला जाएगा.

इसके बाद मैंने उससे कहा कि अगर मुझे कुछ हो गया तो? वो कहा कि तुम टेंशन मत करो तुम्हे कुछ नहीं होगा, आज तुम्हार पहला सेक्स है इस लिये थोडा दर्द ज्यादा होगा बेटी तुम बस थोड़ा धीरज रखो और अब में बिल्कुल चुप हो गई. फिर उसने अपना काला मोटा लौड़ा भीतर डालना प्रारम्भ करा. अभी उस साले चोदू के तंदरुस्त और फौलादी लण्ड का केवल टोपा ही थोड़ा भीतर गया था कि मुझे बहुत तेज दर्द होने लगा में ज़ोर ज़ोर से चीखने, चिल्लाने लगी सीईईईई अह्ह्ह्हह आईईईईइ प्लीज बाहर निकालो इसे उह्ह्ह्हह्ह मुझे बहुत तेज दर्द हो रहा है.

फिर उसने मेरा मुँह अपने लिप्स को उन पर रखकर बिल्कुल बंद कर दिया और कुछ समय बाद मुझे थोड़ा सा आराम मिला, मैंने सोच कि शायद अब लण्ड भीतर चला गया है और अब आनंद आएगा? किन्तु जब मैंने अपना सर उठाकर नीचे की तरफ देखा तो में चौंक गई, क्योंकि अभी तक तो उसका पूरा लण्ड बाहर ही था तो मैंने उससे बहुत चकित होते हुए पूछा कि यह कब भीतर जाएगा? तो उसने एक और धक्का मारा और दो इंच लण्ड भीतर चला गया और अब मैंने महसूस किया कि मेरी फुद्दी की सील फट गई है और में दर्द के मारे बेहोश हो गई थी.

में उस दर्द से छटपटाने लगी थी और जब मुझे होश आया तो मैंने मेरी कंचो जैसी मोटी मोटी आँखों से देखा कि उसका लण्ड अब तक पूरा भीतर चला गया था और वो बहुत मस्ती से मेरे निप्पल को चूस रहा था. मैंने उससे दर्द से करहाते हुए कहा कि प्लीज अब इसे मेरी फुद्दी से बाहर निकाल लो वरना में इसके दर्द से मर ही जाउंगी. फिर वो कहने लगा कि मेरी रानी आज अगर मैंने इसे अधूरे में बाहर निकाल लिया तो फिर कभी ऐसा मज़ा नहीं ले पाएगी और अगर आज ले लिया तो पूरी जिन्दगी बहुत मज़े करेगी, बस थोड़ा सा दर्द और होगा. इसके बाद मैंने अपनी दोनों आँखें बंद कर ली और उसने फिर से अपने लण्ड का मेरी फुद्दी पर ज़ोर से दबाव बनाना शुरू कर दिया और अब आहिस्ता आहिस्ता उसका लण्ड सरकता हुआ भीतर जा रहा था.

इसके बाद मैंने महसूस किया कि कुछ ही सेकिंड में उसका लण्ड फिसलता हुआ करीब दो इंच और भीतर चला गया और अब उसका आधा लण्ड मेरी फुद्दी के भीतर था और में तो दर्द के मारे तड़प रही थी. इसके बाद मैंने उससे कहा कि में तो आपकी बेटी जैसी हूँ अह्ह्ह्हह्ह प्लीज अब इसे बाहर उह्ह्ह्ह निकाल लो छोड़ दो मुझे. फिर उसने कहा कि अब तो तू मेरी वाइफ जैसी है और मेरे होने वाले बच्चे की माँ भी बनेगी और यह बात कहकर वो मुझे किस करने लगा और आहिस्ता आहिस्ता अपनी कमर हिलाने लगा. वो मेरे दर्द की वजह से बहुत आहिस्ता आहिस्ता झटके मार रहा था.


इसके बाद मैंने उससे कहा कि प्लीज मुझे अब छोड़ दो वरना में मर जाउंगी. उसने कहा कि तुम्हे कुछ नहीं होगा तुम बस थोड़ा इंतजार रखो और फिर उसने मुझे बिस्तर से उठाया, किन्तु मेरी फुद्दी से पेनिस को बाहर नहीं निकाला और वो खुद बिस्तर पर लेट गया. अब में उसके ऊपर आ गई थी और उसने मुझे अपनी बाहों में जकड़ लिया और अपनी कमर को हिलाने लगा. दोस्तों मुझे अब दर्द के साथ साथ आनंद भी आ रहा था वो ऐसा लगातार करता रहा और कुछ देर बाद मैंने अपना पानी छोड़ दिया, किन्तु वो अभी तक मेरी फुद्दी में अपना काला मोटा लौड़ा हिला रहा था. फिर उसने मुझे अपनी बाहों में ज़ोर से जकड़ा और एक ज़ोर काशॉट मारा तो मुझे लगा कि जैसे उसका लण्ड अब मेरे गले तक पहुंच गया और में फिर से बैहोश हो गई.

फिर कुछ समय बाद बाद जब मुझे होश आया तो मैंने मेरी कंचो जैसी मोटी मोटी आँखों से देखा कि वो मुझे चूम रहा था और मेरे ब्रेस्ट को दबा रहा था, किन्तु अब भी मुझे फुद्दी में बहुत तेज दर्द हो रहा था और मेरी फुद्दी से ब्लड भी बहुत निकल रहा था, किन्तु में अब प्रसन भी थी कि मैंने अपनी दोस्तों में सबसे बड़ा लण्ड लिया है फिर चाहे वो किसी भी मर्द का था और जो उम्र में मेरे बाप के बराबर ही क्यों ना हो और अब मुझे भी उससे प्यार हो गया था और मुझे लगा कि सच में ही यह मेरा पति है. फिर उसने आहिस्ता आहिस्ता अपनी कमर को हिलाना शुरू कर दिया वो थोड़ा सा लण्ड बाहर निकालता और फिर धीरे से भीतर डाल देता अब मुझे ज़्यादा तकलीफ़ नहीं हो रही थी और आनंद भी बहुत आ रहा था.

स्कूल गर्ल की अनचुदी फुद्दी वृद्ध चपरासी ने फाड़ डाली


फिर जब उस रांड बाज वृद्ध चपरासी को लगा कि में उसके लम्बे मोटे पेनिस को सहन कर रही हूँ तो वो अपने पुरे लौड़े को बाहर निकालता और पूरे ज़ोर से भीतर डाल देता. उसके ऐसा करने से में तो बहुत आनंद ले रही थी और आहिस्ता आहिस्ता उसने अपना पूरा 9 इंच लम्बा और 5 इंच मोटा लौड़ा बाहर निकालना शुरू कर दिया. अब मुझे बहुत आनंद आ रहा था और अब तो में भी उसे किस कर रही थी और में इस बीच करीब दो बार और झड़ चुकी थी, किन्तु वो नहीं.


फिर उस वृद्ध चपरासी ने मुझे खटिया पर लिटा दिया और अपना काला मोटा लौड़ा मेरी फुद्दी में डालने लगा अब वो 60 साल का वृद्ध चपरासी मेरे बोबे के निप्पल चूस रहा था जिसकी वजह से मुझे ऐसा लग रहा था कि जैसे आज वो अपने मन की सारी हसरत पूरी करना चाहता हो, किन्तु मुझे थोड़ा सा भी पता नहीं था कि उसके बाद मेरी फुद्दी का क्या हाल हुआ होगा? मुझे तो बस चुदवाने का जोश आ रहा था कि में इतनी ज्यादा उम्र के आदमी से इतनी छोटी उम्र में चुद रहीं हूँ और हम दोनों पसीने से एकदम भीग गये थे, किन्तु में पूरे जोश में थी.


तभी उस वृद्ध चपरासी ने मुझसे कहा कि वो मुझे अब कुतिया बनाकर पीछे से चोदना चाहता है. यारों मैंने पहले से ही बहुत सारी गदराई ब्लू फिल्मो में सेक्स करने की करीब करीब सारी पोजीशन देख रखी थी और में तभी अपने दोनों घुटनो को टेक कर अपने दोनों हांथो को आगे जमीं पर टेक कर कुतिया बन गई. फिर उस 60 साल के वृद्ध चपरासी ने पीछे से पेनिस को मेरी फुद्दी के भीतर डाल दिया और मुझे भी कुतिया बनकर उस वृद्ध चपरासी से चुदवाने के बाद ऐसा लगा कि जैसे आज मेरी अंतिम तमन्ना पूरी हो गई है.

अब वो डोकर चपरासी बहुत ज़ोर ज़ोर से मेरी नासमझ फुद्दी में शोर्ट मार रहा था और फिर उसने कहा कि वो अब झड़ने वाला है और उसने कहा कि वो मेरी फुद्दी में ही अपना गरमा गरम वीर्य झाड़ना चाहता है ताकि उसका बच्चा मेरे पेट से जन्म ले और फ्मे उस वृद्ध चपरासी के बच्चे की माँ बन जाऊं. इसके बाद मैंने उस वृद्ध चपरासी सेकहा कि नहीं अपना माल मेरी फुद्दी के भीतर मत निकालना तुम 60 साल के वृद्ध हो और अभी मेरी उम्र मात्र 18 साल है अभी में माँ बन्ने के लिये तैयार नहीं हूँ इससे मेरी बदनामी हो जाएगी और अभी ठीक सही वक्त नहीं है और फिर उसने यह बात सुनकर अपना काला मोटा लौड़ा बाहर निकालकर मेरे मुँह में डाल दिया और अपना सारा स्पर्म मेरे मुँह में डाल दिया और में एक आज्ञाकारी वाइफ की तरह उसका सारा गरमा गरम स्पर्म शर्बत समझ कर पी गई.

जब मैंने अपनी फुद्दी को देखा तो में एकदम से चौंक गई क्योंकि मेरी अनचुदी फुद्दी बिल्कुल फट गई थी और उसमे से ब्लड बह रहा था वृद्ध चपरासी ने मेरी अनचुदी फुद्दी को अपने मोटे तगड़े लौड़े से चोदकर फाड़ डाली थी. में मेरी फटी हुई फुद्दी देखकर जोर जोर से रोने लगी फिर मेरे विद्यालय के उस वृद्ध चपरासी ने मुझे समझाया की बेटी तू टेंशन मत आज तेरी अनचुदी फुद्दी की पहली बार चुदाई हुई है आज मैंने तेरी अनचुदी फुद्दी की सील फाड़ी है इस लिये तेरी फटी हुई फुद्दी से ब्लड निकल रहा है यह अपने आप ठीक हो जाएगी और फिर उसने मुझे अपनी बाहों में भर लिया और मेरी फुद्दी से अभी भी थोड़ा थोड़ा ब्लड आ रहा था.

फिर उसने मुझे एक दवाई दी और मुझसे अपनी फटी हुई खुनम खान फुद्दी पर लगाने को कहा तो उससे मेरी फुद्दी का दर्द बिल्कुल कम हो गया और उसने कहा कि इससे सब ठीक हो जाएगा और इसके बाद मैंने उससे कहा कि अब मुझे घर पर जाना है और दोबारा मिलने का वादा लेकर उसने मुझे अपने कमरे से चोरी से बाहर निकाल दिया और उसकी दी हुई दवाई की वजह से मेरा दर्द अब ठीक था किन्तु फिर भी मुझे थोड़ी सी तकलीफ़ थी और में अपने घर पर आकर चुपचाप सो गई और मोर्निंग उठकर जब विद्यालय गई तो वो वृद्ध चपरासी जिसने कल मेरी अनचुदी फुद्दी चोद चादकर फाड़ डाली थी वो विद्यालय के दरवाजे पर ही खड़ा हुआ था, उसने मुझसे मेरी फटी हुई फुद्दी का हाल चल पूछा तो मैंने मुस्कुराते हुए कहा कि अब मेरी फुद्दी एकदम ठीक है और एक दो दिन में फिर से तुम्हार लौड़ा झेलने के लिये तैयार हो जायगी.

मेरी बात सुन वो वृद्ध चपरासी बहुत प्रसन हो गया और उसने मुझे आशीर्वाद दिया जीती रहो बेटी. में उस वृद्ध चपरासी से बाते कर ही रही थी की तभी विद्यालय की घंटी बज उठी और फिर में मुस्कुराहट के साथ अपनी क्लास में चली गई. अब में और मेरे विद्यालय का वृद्ध चपरासी चोरी छुपे अवैध सेक्स संबंध बनाते है. दोस्तों वह चपरासी भले एक 60 वर्ष का वृद्ध मर्द हो पर उस साले चोदू के तंदरुस्त और फौलादी लण्ड में आज भी किसी जवान मर्द के लौड़े जैसा दम है.

ससुर करवा चौथ पर बहु को धका धक पेलने लगे

ससुर करवा चौथ पर बहु को धका धक पेलने लगे  May 9, 2021 by crazy Sasur Bahu Antarvasna  मेरा नाम लतिका है। मैं प्रयागराज की रहने वाली हूँ। मेरी शादी हो चुकी है। मैं अपने ससुर के साथ अकेली रहती हूँ। मेरे पति कोलकाता में नौकरी करते है। वो 2 3 महीने में एक बार ही घर आते है। जब भी आते है मुझे बहुत प्यार करते है। मेरे ससुर जी भी बहुत अच्छे है। मेरे देवर की नौकरी कानपुर में लग गयी है। पहले वो हमारे साथ ही प्रयागराज में रहता था पर नौकरी लगने के बाद वो चला गया। Sasur Bahu Antarvasna  अब घर में मैं और ससुर जी है। मैं आप लोगो को अपने बारे में बताना चाहती हूँ। मैं 35 साल की जवान और सेक्सी औरत हूँ। अभी मेरे बच्चे नही हुए है। मैं सुंदर और जवान हूँ और आकर्षक व्यक्तित्व वाली औरत हूँ। मेरा कद 5’ 4” का है। जिस्म भरा हुआ है। मैं काफी गोरी हूँ और चेहरा का फेस कट बहुत सेक्सी है।  मेरी जवानी देखकर मर्दों के लंड खड़े हो जाते है। मन ही मन वो मुझे चोद लेना चाहते है पर ये मौका तो कुछ लोगो को ही मिला है। मुझे सेक्स करना बहुत अच्छा लगता है। मेरे पति मेरे 38” के मम्मो को दबा दबा कर मेरी चूत मारते है। मेरा फिगर 38 32 36 का है। मुझे अपनी चूचियां दबवाने में बहुत अच्छा लगता है।  जब कभी पराये मर्द के साथ चुदाई करने का मौक़ा मिलता है तो मैं चुदवा लेती हूँ। “खाओ खुजाओ और बत्ती बुजाओ” वाले कांसेप्ट में मैं विश्वास करती हूँ। 2 दिन पहले की बात है मेरी बात मेरे पति से हुई थी।  “जान!! क्या तुम करवाचौथ पर घर नही आ रहे हो?? हर बार तुम करवाचौथ पर नही आते हो। देखो ये बुरी बात है। मैं किसके साथ पूजा करुँगी” मैंने अपने पति ऋतुराज से पूछा। मस्त हिंदी सेक्स स्टोरी : Buaa Ne Mujhe Condom Lane Ko Bheja Chudai Liye 2  फिर से उसने बहाना बना दिया। “देखो मैं अपने बोंस से बात करूंगा और छुट्टी मागूंगा। अगर मिलती है तो आ जाऊँगा” ऋतुराज बोला.  असल में कुछ महीनो से उसका उसकी सेक्रेटरी से चक्कर चल रहा था। ऋतुराज कोलकाता की एक फर्म में चार्टर अकाउंटेंट था। वो बस पैसे के पीछे भागने वाला मर्द था और खूबसूरत और जवान लडकियों को देखकर फिसल जाता था।  मुझे कुछ दिन पहले उसके ऑफिस से किसी ने बताया था की ऋतुराज का उसकी सेक्रेटरी से अफेयर चल रहा है और दोनों ऑफिस में ही मजे लूट लेते है। ये बात जानकर मैं काफी दुखी हो गयी थी। आखिर 2 दिन बाद करवाचौथ का त्यौहार आ गया और ऋतुराज नही आया।  “पापा जी!! वो नही आये” मैंने कहा और रोने लगी.  मेरे ससुर बहुत अच्छे आदमी थे। मेरा पति बहुत नालायक था पर ससुर जी बहुत अच्छे थे। मेरी बहुत देखभाल करते थे। उन्होंने मुझे सीने से लगा लिया। मैं फूट फूट कर रोने लगी।  “रो मत मेरी बच्ची!! रो मत!! मेरा बेटा इतना नालायक निकलेगा मुझे नही मालुम था” वो बोले और मेरे सिर पर बड़े प्यार से हाथ फिराने लगे।  “पापा जी!! अब मैं पूजा किसकी करूं। देखो चाँद भी निकल आया है” मैंने आशुं बहाते हुए पूछा.  “बहू! चलो तुम मेरे साथ पूजा कर लो” ससुर जी बोले।  उनको मैं हमेशा पापा जी कहकर बुलाती थी. फिर वो भी नये कपड़े पहनकर छत पर आ गये। मैंने अपनी सुहाग वाली साड़ी पहनी थी जब मेरी शादी हुई थी। मैंने चाँद को देखकर पूजा की फिर ससुर जी को छन्नी में देखा। फिर किसी बीबी की तरह मुझे अपने पति के पैर छूने थे। पति तो थे नही मैंने झुककर ससुर जी के पैर छू लिए। चुदाई की गरम देसी कहानी : Chudai Ka Khel Park Mein Girlfriend Ke Sath  वो अच्छे मूड में दिख रहे थे। उन्होंने ही मुझे पानी पिलाकर मेरा व्रत तुड़वाया। आज ससुर जी से सुबह से कुछ नही खाया था क्यूंकि मेरे साथ वो भी व्रत थे। हम दोनों नीचे चले गये। मैंने उनको अपने हाथ से खाना खिलाने लगी। मैं पूरी तरह से नवविवाहिता दुल्हन लग रही थी। हाथो और पैरों में मैंने मेहँदी लगा रखी थी। रात के 10 बजे हुए थे।  घर में सन्नाटा था। सिर्फ 2 लोग घर में थे इसलिए थोडा अजीब लग रहा था। ससुर जी बार बार मेरे दूध की तरफ देख रहे थे। मैं बाही खुला वाला कट स्लीव ब्लाउस पहना था और ब्लाउस भी आगे से गहरा था। मेरी 38” की गोल गोल चूचियां साफ साफ़ दिख रही थी। ससुर जी मेरे मम्मो की तरफ ताड़ रहे थे और जैसे मैं उसकी तरह देखने लग जाती वो नजरे दूसरी तरफ घुमा लेते।  मैं सुंदर और जवान औरत थी। आखिर वो क्यों नही मेरी जवानी देखते। फिर मैंने सोचा की आज ससुर जी भी पूरा दिन व्रत रहे है। क्यों न मैं उनको अपने हाथ से खाना खिला दूँ। मैंने पुड़ी का एक कौर तोड़ा और सब्जी में डुबोया और ससुर जी को खिलाने लगी। वो संकोच कर रहे थे।  “क्या पापा जी! आप तो लड़कियों की तरह शरमा रहे है। अब अपनी बहू से कैसी शर्म” मैंने बिंदास लड़की की तरह चहक कर कहा और उनको खाना खिलाने लगी। पर दूसरी बार मेरा हाथ उसके मुंह में अंदर चला गया और जल्दबाजी में उन्होने मेरी ऊँगली को काट दिया।  “अई…..अई….अई… अहह्ह्ह्हह…..सी सी लग गयी” मैं चिल्लाई.  ससुर जी ने जल्दी से मेरी ऊँगली मुंह में दबा ली और चूसने लगे। जिससे मुझे आराम मिल सके। कुछ देर में मुझे आराम मिलने लगा। पर वो चूसते ही चले गये। फिर मुझे देखकर रुक गये और मेरी तरफ दूसरी नजर से देखने लगे। मैं भी उनको ही देख रही थी। कुछ अजीब अब होने वाला था।  फिर अचानक उन्होंने मुझे कुर्सी पर बैठे बैठे ही पकड़ लिया और मेरे होठ पर अपने होठ रख दिए। जल्दी जल्दी चूसने लगे और मुझे कुछ सोचने का मौक़ा नही दिया। मैं मना कर रही थी पर तब तक बहुत देर हो गयी थी। ससुर जी से 5 मिनट तक मेरे रसीले होठ चूस डाले। फिर अपना मुंह मेरे मुंह से हटाया। वो मुझे चोदना चाहते थे मैं जान गयी थी।  आगे के 15 मिनट कैसे गुजरे मुझे याद नही है। पापा ने मुझे गोद में उठा लिया और सीधा अपने बेडरूम की तरह बढ़ने लगे। मैं चुप थी। मैं सोच नही पा रही थी की क्या करू। उन्होंने मुझे बेड पर लिटा दिया और जल्दी से अपनी शर्ट की बटन खोलकर शर्ट उतारकर फेंक दी। वो मेरे उपर लेट गये और जल्दी जल्दी मेरे गालों पर किस करने लगे। “Sasur Bahu Antarvasna” मस्तराम की गन्दी चुदाई की कहानी : Barish Wala Romantic Sex Kiya Pyasi Aurat Ke Sath  मैं परेशान थी। मैं बहुत हैरान थी। पर ना जाने क्यों मैंने उनको मना नही किया। मैं चाहती तो ससुर जी को रोक सकती थी। पर शायद इस काली सुनसान रात में चुदाई के मजे लूटना चाहती थी। ससुर जी से मेरी साड़ी का पल्लू मेरे ब्लाउस से हटा दिया और मुझे बाहों में भर लिया।  मेरे ब्लाउस पर वो हाथ घुमाने लगे। वो आज मेरी जवानी और खूबसूरती के आशिक हो गये थे। मैं पूरी तरह से नई दुल्हन की तरह सजी धजी थी और ससुर जी आप मेरे पति का रोल निभा रहे थे। वो मेरे गाल, गले, काम, चेहरे सब जगह किस कर रहे थे। मैं भी साथ दे रही थी।  “बहु!! आज तुमने करवाचौथ की पूजा मेरे साथ की है। छन्नी में तुमने मेरा चेहरा देखा है। तो आज मुझसे प्यार करके तुम अपने व्रत को पूरा कर दो” ससुर जी बोले.  “….तो क्या आप चाहते है की मैं आपको अपनी रसीली चूत चोदने क दे दूँ” मैंने हांफते हुए और लम्बी लम्बी सांसे खीचते हुए कहा.  “हा बहू!! मैं बिलकुल यही चाहता हूँ। तुम्हारा पति वहां कोलकाता में अपनी सेक्रेटरी के साथ मजे लूट रहा होगा और तुम यहाँ पर प्यासी रह जाओ। ये तो सरासर गलत है। बोलो बहू क्या ख्याल है?  ससुर जी से चमकती आँखों से इस तरह से पूछा की मैं मना नही करपाई। मैंने हां में सिर हिला दिया। उसके बाद तो ससुर जी शुरू हो गये। मेरे बड़े बड़े कसे कसे मम्मो को ब्लाउस के उपर से लप्प लप्प करके दबाने लगे। मैं “..अहहह्ह्ह्हह स्सीईईईइ….अअअअअ….आहा …हा हा हा” करने लगी। ससुर जी मुझे प्यार करने लगे। “Sasur Bahu Antarvasna”  ब्लाउस के अंदर से जितना दूध दिख रहा था उस पर चुम्बन की बारिश करने लगे। मैं भी गर्म होने लगी। मुझे मजा आने लगा। फिर से उन्होंने अपना मुंह मेरे मुंह पर रख दिया और फिर से मेरे रसीले को काट काटकर किस करने लगे।  अब मैं गर्म हो गयी थी। मेरे अंदर की वासना भी अब जाग गयी थी। मैं भी अब ससुर जी से चुदना चाहती थी। वो अपने दोनों हाथो को गोल गोल मेरे ब्लाउस पर घुमा रहे थे। दबा दबाकर मजा लूट रहे थे।  “प्यार करो पापा जी!! आज मुझसे खुलकर प्यार करो” उतेज्जना में मैंने कह दिया.  वो मेरे ब्लाउस की बटन ढूढने लगे और खोलने लगे। पर शायद वो बहुत जल्दी में थे। बस जल्दी से मुझे चोद लेना चाहते थे। जोश में आकर उन्होंने बटन खोलनी शुरू की पर बहुत देर लग रही थी। ससुर जी ने मेरे ब्लाउस को बीच से दोनों हाथो से पकड़ा और जोर से खीचा। ब्लाउस फट गया।  लाल ब्रा में मेरी कसी कसी 38” की रसेदार चूचियों के दर्शन ससुर जी को होने लगे। ब्रा के उपर से वो मेरे कबूतर सहलाने लगे और दबाने लगे। “आह बहू!! तुम तो बहुत खूबसूरत हो” वो बोले और फिर ब्रा को दोनों हाथ से पकड़कर फाड़ दिया और दूर फेंक दिया। अन्तर्वासना हिंदी सेक्स स्टोरीज : Biwi Ki Chudai Ka Raj Suhagrat Mein Khula  अब मैं उपर से नंगी हो गयी थी। पापा जी वासना में आकर मेरे मम्मो के दर्शन करने लगे। आपको बता दूँ की मेरी चूचियां बेहद सुंदर थी। कसी कसी गोल गोल बड़ी बड़ी। संगमरमर जैसी चिकनी। ससुर जी की आँखें वासना में चमक उठी। मेरे दोनों दूध पर रख दिया और सहलाने लगे।  मैंने आँखे बंद कर ली और “……अई…अई….अई……अई….इसस्स्स्स्स्…….उहह्ह्ह्ह…..ओह्ह्ह्हह्ह….”करने लगी। वो मेरे उपर ले लेट गये और मम्मो के बीच में अपना चेहरा रखकर खेलने लगे। मेरे दूध किसी गेंद की तरह बड़े बड़े और बेहद सॉफ्ट थे। ससुर जी हाथ से मेरी गेंद को दबाने लगे। मुझे भी अच्छा लग रहा था। “Sasur Bahu Antarvasna”  फिर वो पूरी तरह से मेरी जवानी के दीवाने हो गये। मेरी दोनों गेंद से खेलने लगे और मेरे क्लीवेज (मम्मो के बीच के गड्ढे) में अपना मुंह अंदर डालने लगे। जल्दी जल्दी अपना चेहरा इधर उधर करने लगे जिससे मेरे दूध उसके मुंह से जल्दी जल्दी टकरा रहे थे। मेरी तो चूत से नदी ही बहने लगी। मेरी चूत से पानी निकलने लगा।  “आह पापा जी!! आज रात के लिए मैं आपकी औरत हूँ। आज चोद लो मुझे आप। ले लो मजा मेरी भरी जवानी का” मैंने भी नशे में कह दिया. उसके बाद वो जल्दी जल्दी मेरे कबूतर हाथ से मसलने लगे और दबाने लगे। आटे की तरह गूथ रहे थे मेरी दोनों चूचियों को। फिर मुंह में लेकर चूसने लगे।  मैं तो “…..ही ही ही……अ अ अ अ .अहह्ह्ह्हह उहह्ह्ह्हह….. उ उ उ…”करने लगी। क्यूंकि मुझे भी अच्छा लग रहा था। कितने महीनो से मेरा पति ऋतुराज घर नही आया था। तो आज ससुर जी ही उसकी जगह उसका कर्तव्य निभा रहे थे। वो मेरी लेफ्ट साइड वाली चूची को मुंह में अंदर तक ठूस कर जल्दी जल्दी चूस रहे थे। पीये जा रहे थे।  मेरे जिस्म में अब चुदाई वाली आग लग रही थी। ससुर जी तो रुक ही नही रहे थे। बस जल्दी जल्दी चूसते ही जा रहे थे। कामुकता में आकर मैंने उनके सिर के बाल पकड़ लिया और अपनी उँगलियों से पकड़कर नोचने लगी। मैंने 2 चांटे भी उनको गाल पर मार दिए। वो समझ गये की बहुत अब गर्म हो रही है। चूत तो अब जरुर देगी।  ससुर जी ने 15 से 20 मिनट मेरी चूचियों का रस चूसा। खूब मुंह चलाकर पिया। इसी गरमा गर्मी में उन्होंने मेरी चूची की उभरी हुई गद्देदार निपल्स को कई बार दांत से पकड़कर उपर की तरह खींच खीच चूसा जिससे मुझे दर्द हुआ। पर मजा भी खूब मिला। मेरे दोनों बूब्स पर उनके दांत के निशान बन गये। “Sasur Bahu Antarvasna”  “चोदिये पापा जी!! आज करवाचौथ है। आज मैं आपको बीबी हूँ। पति धर्म आज निभा दीजिये। आज चोद लीजिये मुझको” मैंने कहने लगी.  ससुर जी ने अपनी पेंट उतार दी और अंडरवियर भी उतार दिया। उन्होंने अपने हाथो से आज मेरा द्रौपदी की तरह चीर हरड कर दिया। मेरी साड़ी उन्होंने ही मेरी कमर से खोली और उतार दी। मैंने लाल रंग का साड़ी से मैच करता पेटीकोट पहना था। ससुर जी ने अपने मुंह से मेरे पेटीकोट का नारा खोला और उतार दी।  मेरी पेंटी मेरे ही चूत के रस से भीग गयी थी। ससुर जी उसे निकालने लगे तो घुटनों पर पेंटी फस गयी। फिर उन्होंने हाथ घुमाकर उसे उतार दिया। मैं झेप गयी। अपने चेहरे को अपने दोनों हाथो से मैंने जल्दी से छुपा लिया क्यूंकि आज मैं ससुर जी के साथ हमबिस्तर होने जा रही थी। उसने चुदने जा रही थी।  ससुर जी पागल हो गये। मेरी जांघे और पैर बहुत सुंदर थे। गोरे गोरे और कमाल के चिकने। वो मुझे प्यार करने लगे। मेरे पैरो को हाथ से टच करने लगे। फिर मेरे पैर खोल दिए। 2 सेकंड ससुर जी से रस से पूरी तरह से तर और भीगी चूत के दर्शन करने लगे फिर तो ऐसा मेरी चूत पर टूट पड़े जैसे रबड़ी को देखकर बिल्ली उस पर टूट पड़ती है।  लेटकर अपना मुंह मेरी चूत पर उन्होंने टिका दिया और जल्दी जल्दी चूत की चटनी पीने लगे। कामुकता के नशे में आकर मैं “अई…..अई….अई… अहह्ह्ह्हह…..सी सी सी सी….हा हा हा…”की कामुक आवाजे निकाल रही थी। मेरी आँखे बंद थी। मैं ससुर जी से नजरे नही मिला पा रही थी। वो जल्दी जल्दी मेरी तर चूत को रबड़ी की तरह चाट रहे थे। कामुकता हिंदी सेक्स स्टोरी : पैसे की लालची औरत को पटा लिया मैंने  मेरी खूबसूरत चुद्दी गुलाबी रंग की थी। अब तो मुझे दोहरा नशा मिल रहा था। वो अपनी जीभ मेरी चूत के छेद में डाल रहे थे। मैं अभी भी अपने चेहरे को अपने हाथो से छुपा रही थी। कितना मजा लुट रही थी मैं। ससुर ने 10 मिनट मेरी चुद्दी चाटी। अंत में लंड चूत पर सेट कर दिया और जोर का धक्का दिया। “Sasur Bahu Antarvasna”  लंड 4” अंदर घुस गया। मुझे दर्द हो रहा था। फिर ससुर जी ने एक जोर का धक्का फिर से दिया। अब उनका 8” लंड पूरा अंदर घुस गया। मैं दर्द से “आऊ…..आऊ….हमममम अहह्ह्ह्हह…सी सी सी सी..हा हा हा..”बोलकर चिल्ला पड़ी। मैंने अपने हाथ अपने चेहरे से हटा दिए और उनको मुंह पर मुक्के मारने लगी।  ससुर जी भी असली मर्द के बच्चे थे। उन्होंने बड़ी ताकत से मेरे दोनों हाथ कसके पकड़ लिए और बिस्तर पर रख दिये। मेरी नाजुक कलाई पकड़कर उन्होंने चुदाई स्टार्ट कर दी। मुझे धका धक पेलने लगे। आज पुरे 3 महीनो बाद मैं चुद रही थी क्यूंकि मेरा पति ऋतुराज घर ही नही आया था। इस वजह से मेरी चूत का रास्ता बंद हो गया था।  पर आज मेरे मर्दाना मिजाज वाले ससुर जी मुझे पेल रहे थे। वो कमर उठा उठाकर मुझे चोद रहे थे। मैं लम्बी सांसे ले रही थी। मेरे दूध हिल रहे थे। उपर नीचे डांस कर रहे थे। ससुर जी सिर्फ मेरी चूत की तरह देखकर पेल रहे थे। मैं मर रही थी। 15 मिनट बिता तो चूत रंवा हो गयी। अब ससुर जी का लंड आराम से अंदर बाहर होने लगा। दिल खोलकर चुदी है। फिर हाँफते हांफते ससुर जी से मुझे 10 मिनट और चोदा। फिर उनका चेहरा ढीला पड़ गया। मेरी चूत में गर्म गर्म माल उन्होंने छोड़ दिया। मेरे उपर को थक कर गिर गये। मैंने उनके होठ फिर से चूमने लगी।


मेरा नाम लतिका है। मैं प्रयागराज की रहने वाली हूँ। मेरी शादी हो चुकी है। मैं अपने ससुर के साथ अकेली रहती हूँ। मेरे पति कोलकाता में नौकरी करते है। वो 2 3 महीने में एक बार ही घर आते है। जब भी आते है मुझे बहुत प्यार करते है। मेरे ससुर जी भी बहुत अच्छे है। मेरे देवर की नौकरी कानपुर में लग गयी है। पहले वो हमारे साथ ही प्रयागराज में रहता था पर नौकरी लगने के बाद वो चला गया। Sasur Bahu Antarvasna

अब घर में मैं और ससुर जी है। मैं आप लोगो को अपने बारे में बताना चाहती हूँ। मैं 35 साल की जवान और सेक्सी औरत हूँ। अभी मेरे बच्चे नही हुए है। मैं सुंदर और जवान हूँ और आकर्षक व्यक्तित्व वाली औरत हूँ। मेरा कद 5’ 4” का है। जिस्म भरा हुआ है। मैं काफी गोरी हूँ और चेहरा का फेस कट बहुत सेक्सी है।

मेरी जवानी देखकर मर्दों के लंड खड़े हो जाते है। मन ही मन वो मुझे चोद लेना चाहते है पर ये मौका तो कुछ लोगो को ही मिला है। मुझे सेक्स करना बहुत अच्छा लगता है। मेरे पति मेरे 38” के मम्मो को दबा दबा कर मेरी चूत मारते है। मेरा फिगर 38 32 36 का है। मुझे अपनी चूचियां दबवाने में बहुत अच्छा लगता है।

जब कभी पराये मर्द के साथ चुदाई करने का मौक़ा मिलता है तो मैं चुदवा लेती हूँ। “खाओ खुजाओ और बत्ती बुजाओ” वाले कांसेप्ट में मैं विश्वास करती हूँ। 2 दिन पहले की बात है मेरी बात मेरे पति से हुई थी।

“जान!! क्या तुम करवाचौथ पर घर नही आ रहे हो?? हर बार तुम करवाचौथ पर नही आते हो। देखो ये बुरी बात है। मैं किसके साथ पूजा करुँगी” मैंने अपने पति ऋतुराज से पूछा।


फिर से उसने बहाना बना दिया। “देखो मैं अपने बोंस से बात करूंगा और छुट्टी मागूंगा। अगर मिलती है तो आ जाऊँगा” ऋतुराज बोला.

असल में कुछ महीनो से उसका उसकी सेक्रेटरी से चक्कर चल रहा था। ऋतुराज कोलकाता की एक फर्म में चार्टर अकाउंटेंट था। वो बस पैसे के पीछे भागने वाला मर्द था और खूबसूरत और जवान लडकियों को देखकर फिसल जाता था।

मुझे कुछ दिन पहले उसके ऑफिस से किसी ने बताया था की ऋतुराज का उसकी सेक्रेटरी से अफेयर चल रहा है और दोनों ऑफिस में ही मजे लूट लेते है। ये बात जानकर मैं काफी दुखी हो गयी थी। आखिर 2 दिन बाद करवाचौथ का त्यौहार आ गया और ऋतुराज नही आया।

“पापा जी!! वो नही आये” मैंने कहा और रोने लगी.

मेरे ससुर बहुत अच्छे आदमी थे। मेरा पति बहुत नालायक था पर ससुर जी बहुत अच्छे थे। मेरी बहुत देखभाल करते थे। उन्होंने मुझे सीने से लगा लिया। मैं फूट फूट कर रोने लगी।

“रो मत मेरी बच्ची!! रो मत!! मेरा बेटा इतना नालायक निकलेगा मुझे नही मालुम था” वो बोले और मेरे सिर पर बड़े प्यार से हाथ फिराने लगे।

“पापा जी!! अब मैं पूजा किसकी करूं। देखो चाँद भी निकल आया है” मैंने आशुं बहाते हुए पूछा.

“बहू! चलो तुम मेरे साथ पूजा कर लो” ससुर जी बोले।

उनको मैं हमेशा पापा जी कहकर बुलाती थी. फिर वो भी नये कपड़े पहनकर छत पर आ गये। मैंने अपनी सुहाग वाली साड़ी पहनी थी जब मेरी शादी हुई थी। मैंने चाँद को देखकर पूजा की फिर ससुर जी को छन्नी में देखा। फिर किसी बीबी की तरह मुझे अपने पति के पैर छूने थे। पति तो थे नही मैंने झुककर ससुर जी के पैर छू लिए।


वो अच्छे मूड में दिख रहे थे। उन्होंने ही मुझे पानी पिलाकर मेरा व्रत तुड़वाया। आज ससुर जी से सुबह से कुछ नही खाया था क्यूंकि मेरे साथ वो भी व्रत थे। हम दोनों नीचे चले गये। मैंने उनको अपने हाथ से खाना खिलाने लगी। मैं पूरी तरह से नवविवाहिता दुल्हन लग रही थी। हाथो और पैरों में मैंने मेहँदी लगा रखी थी। रात के 10 बजे हुए थे।

घर में सन्नाटा था। सिर्फ 2 लोग घर में थे इसलिए थोडा अजीब लग रहा था। ससुर जी बार बार मेरे दूध की तरफ देख रहे थे। मैं बाही खुला वाला कट स्लीव ब्लाउस पहना था और ब्लाउस भी आगे से गहरा था। मेरी 38” की गोल गोल चूचियां साफ साफ़ दिख रही थी। ससुर जी मेरे मम्मो की तरफ ताड़ रहे थे और जैसे मैं उसकी तरह देखने लग जाती वो नजरे दूसरी तरफ घुमा लेते।

मैं सुंदर और जवान औरत थी। आखिर वो क्यों नही मेरी जवानी देखते। फिर मैंने सोचा की आज ससुर जी भी पूरा दिन व्रत रहे है। क्यों न मैं उनको अपने हाथ से खाना खिला दूँ। मैंने पुड़ी का एक कौर तोड़ा और सब्जी में डुबोया और ससुर जी को खिलाने लगी। वो संकोच कर रहे थे।

“क्या पापा जी! आप तो लड़कियों की तरह शरमा रहे है। अब अपनी बहू से कैसी शर्म” मैंने बिंदास लड़की की तरह चहक कर कहा और उनको खाना खिलाने लगी। पर दूसरी बार मेरा हाथ उसके मुंह में अंदर चला गया और जल्दबाजी में उन्होने मेरी ऊँगली को काट दिया।

“अई…..अई….अई… अहह्ह्ह्हह…..सी सी लग गयी” मैं चिल्लाई.

ससुर जी ने जल्दी से मेरी ऊँगली मुंह में दबा ली और चूसने लगे। जिससे मुझे आराम मिल सके। कुछ देर में मुझे आराम मिलने लगा। पर वो चूसते ही चले गये। फिर मुझे देखकर रुक गये और मेरी तरफ दूसरी नजर से देखने लगे। मैं भी उनको ही देख रही थी। कुछ अजीब अब होने वाला था।

फिर अचानक उन्होंने मुझे कुर्सी पर बैठे बैठे ही पकड़ लिया और मेरे होठ पर अपने होठ रख दिए। जल्दी जल्दी चूसने लगे और मुझे कुछ सोचने का मौक़ा नही दिया। मैं मना कर रही थी पर तब तक बहुत देर हो गयी थी। ससुर जी से 5 मिनट तक मेरे रसीले होठ चूस डाले। फिर अपना मुंह मेरे मुंह से हटाया। वो मुझे चोदना चाहते थे मैं जान गयी थी।

आगे के 15 मिनट कैसे गुजरे मुझे याद नही है। पापा ने मुझे गोद में उठा लिया और सीधा अपने बेडरूम की तरह बढ़ने लगे। मैं चुप थी। मैं सोच नही पा रही थी की क्या करू। उन्होंने मुझे बेड पर लिटा दिया और जल्दी से अपनी शर्ट की बटन खोलकर शर्ट उतारकर फेंक दी। वो मेरे उपर लेट गये और जल्दी जल्दी मेरे गालों पर किस करने लगे। “Sasur Bahu Antarvasna”


मैं परेशान थी। मैं बहुत हैरान थी। पर ना जाने क्यों मैंने उनको मना नही किया। मैं चाहती तो ससुर जी को रोक सकती थी। पर शायद इस काली सुनसान रात में चुदाई के मजे लूटना चाहती थी। ससुर जी से मेरी साड़ी का पल्लू मेरे ब्लाउस से हटा दिया और मुझे बाहों में भर लिया।

मेरे ब्लाउस पर वो हाथ घुमाने लगे। वो आज मेरी जवानी और खूबसूरती के आशिक हो गये थे। मैं पूरी तरह से नई दुल्हन की तरह सजी धजी थी और ससुर जी आप मेरे पति का रोल निभा रहे थे। वो मेरे गाल, गले, काम, चेहरे सब जगह किस कर रहे थे। मैं भी साथ दे रही थी।

“बहु!! आज तुमने करवाचौथ की पूजा मेरे साथ की है। छन्नी में तुमने मेरा चेहरा देखा है। तो आज मुझसे प्यार करके तुम अपने व्रत को पूरा कर दो” ससुर जी बोले.

“….तो क्या आप चाहते है की मैं आपको अपनी रसीली चूत चोदने क दे दूँ” मैंने हांफते हुए और लम्बी लम्बी सांसे खीचते हुए कहा.

“हा बहू!! मैं बिलकुल यही चाहता हूँ। तुम्हारा पति वहां कोलकाता में अपनी सेक्रेटरी के साथ मजे लूट रहा होगा और तुम यहाँ पर प्यासी रह जाओ। ये तो सरासर गलत है। बोलो बहू क्या ख्याल है?

ससुर जी से चमकती आँखों से इस तरह से पूछा की मैं मना नही करपाई। मैंने हां में सिर हिला दिया। उसके बाद तो ससुर जी शुरू हो गये। मेरे बड़े बड़े कसे कसे मम्मो को ब्लाउस के उपर से लप्प लप्प करके दबाने लगे। मैं “..अहहह्ह्ह्हह स्सीईईईइ….अअअअअ….आहा …हा हा हा” करने लगी। ससुर जी मुझे प्यार करने लगे। “Sasur Bahu Antarvasna”

ब्लाउस के अंदर से जितना दूध दिख रहा था उस पर चुम्बन की बारिश करने लगे। मैं भी गर्म होने लगी। मुझे मजा आने लगा। फिर से उन्होंने अपना मुंह मेरे मुंह पर रख दिया और फिर से मेरे रसीले को काट काटकर किस करने लगे।

अब मैं गर्म हो गयी थी। मेरे अंदर की वासना भी अब जाग गयी थी। मैं भी अब ससुर जी से चुदना चाहती थी। वो अपने दोनों हाथो को गोल गोल मेरे ब्लाउस पर घुमा रहे थे। दबा दबाकर मजा लूट रहे थे।

“प्यार करो पापा जी!! आज मुझसे खुलकर प्यार करो” उतेज्जना में मैंने कह दिया.

वो मेरे ब्लाउस की बटन ढूढने लगे और खोलने लगे। पर शायद वो बहुत जल्दी में थे। बस जल्दी से मुझे चोद लेना चाहते थे। जोश में आकर उन्होंने बटन खोलनी शुरू की पर बहुत देर लग रही थी। ससुर जी ने मेरे ब्लाउस को बीच से दोनों हाथो से पकड़ा और जोर से खीचा। ब्लाउस फट गया।

लाल ब्रा में मेरी कसी कसी 38” की रसेदार चूचियों के दर्शन ससुर जी को होने लगे। ब्रा के उपर से वो मेरे कबूतर सहलाने लगे और दबाने लगे। “आह बहू!! तुम तो बहुत खूबसूरत हो” वो बोले और फिर ब्रा को दोनों हाथ से पकड़कर फाड़ दिया और दूर फेंक दिया।


अब मैं उपर से नंगी हो गयी थी। पापा जी वासना में आकर मेरे मम्मो के दर्शन करने लगे। आपको बता दूँ की मेरी चूचियां बेहद सुंदर थी। कसी कसी गोल गोल बड़ी बड़ी। संगमरमर जैसी चिकनी। ससुर जी की आँखें वासना में चमक उठी। मेरे दोनों दूध पर रख दिया और सहलाने लगे।

मैंने आँखे बंद कर ली और “……अई…अई….अई……अई….इसस्स्स्स्स्…….उहह्ह्ह्ह…..ओह्ह्ह्हह्ह….”करने लगी। वो मेरे उपर ले लेट गये और मम्मो के बीच में अपना चेहरा रखकर खेलने लगे। मेरे दूध किसी गेंद की तरह बड़े बड़े और बेहद सॉफ्ट थे। ससुर जी हाथ से मेरी गेंद को दबाने लगे। मुझे भी अच्छा लग रहा था। “Sasur Bahu Antarvasna”

फिर वो पूरी तरह से मेरी जवानी के दीवाने हो गये। मेरी दोनों गेंद से खेलने लगे और मेरे क्लीवेज (मम्मो के बीच के गड्ढे) में अपना मुंह अंदर डालने लगे। जल्दी जल्दी अपना चेहरा इधर उधर करने लगे जिससे मेरे दूध उसके मुंह से जल्दी जल्दी टकरा रहे थे। मेरी तो चूत से नदी ही बहने लगी। मेरी चूत से पानी निकलने लगा।

“आह पापा जी!! आज रात के लिए मैं आपकी औरत हूँ। आज चोद लो मुझे आप। ले लो मजा मेरी भरी जवानी का” मैंने भी नशे में कह दिया. उसके बाद वो जल्दी जल्दी मेरे कबूतर हाथ से मसलने लगे और दबाने लगे। आटे की तरह गूथ रहे थे मेरी दोनों चूचियों को। फिर मुंह में लेकर चूसने लगे।

मैं तो “…..ही ही ही……अ अ अ अ .अहह्ह्ह्हह उहह्ह्ह्हह….. उ उ उ…”करने लगी। क्यूंकि मुझे भी अच्छा लग रहा था। कितने महीनो से मेरा पति ऋतुराज घर नही आया था। तो आज ससुर जी ही उसकी जगह उसका कर्तव्य निभा रहे थे। वो मेरी लेफ्ट साइड वाली चूची को मुंह में अंदर तक ठूस कर जल्दी जल्दी चूस रहे थे। पीये जा रहे थे।

मेरे जिस्म में अब चुदाई वाली आग लग रही थी। ससुर जी तो रुक ही नही रहे थे। बस जल्दी जल्दी चूसते ही जा रहे थे। कामुकता में आकर मैंने उनके सिर के बाल पकड़ लिया और अपनी उँगलियों से पकड़कर नोचने लगी। मैंने 2 चांटे भी उनको गाल पर मार दिए। वो समझ गये की बहुत अब गर्म हो रही है। चूत तो अब जरुर देगी।

ससुर जी ने 15 से 20 मिनट मेरी चूचियों का रस चूसा। खूब मुंह चलाकर पिया। इसी गरमा गर्मी में उन्होंने मेरी चूची की उभरी हुई गद्देदार निपल्स को कई बार दांत से पकड़कर उपर की तरह खींच खीच चूसा जिससे मुझे दर्द हुआ। पर मजा भी खूब मिला। मेरे दोनों बूब्स पर उनके दांत के निशान बन गये। “Sasur Bahu Antarvasna”

“चोदिये पापा जी!! आज करवाचौथ है। आज मैं आपको बीबी हूँ। पति धर्म आज निभा दीजिये। आज चोद लीजिये मुझको” मैंने कहने लगी.

ससुर जी ने अपनी पेंट उतार दी और अंडरवियर भी उतार दिया। उन्होंने अपने हाथो से आज मेरा द्रौपदी की तरह चीर हरड कर दिया। मेरी साड़ी उन्होंने ही मेरी कमर से खोली और उतार दी। मैंने लाल रंग का साड़ी से मैच करता पेटीकोट पहना था। ससुर जी ने अपने मुंह से मेरे पेटीकोट का नारा खोला और उतार दी।

मेरी पेंटी मेरे ही चूत के रस से भीग गयी थी। ससुर जी उसे निकालने लगे तो घुटनों पर पेंटी फस गयी। फिर उन्होंने हाथ घुमाकर उसे उतार दिया। मैं झेप गयी। अपने चेहरे को अपने दोनों हाथो से मैंने जल्दी से छुपा लिया क्यूंकि आज मैं ससुर जी के साथ हमबिस्तर होने जा रही थी। उसने चुदने जा रही थी।

ससुर जी पागल हो गये। मेरी जांघे और पैर बहुत सुंदर थे। गोरे गोरे और कमाल के चिकने। वो मुझे प्यार करने लगे। मेरे पैरो को हाथ से टच करने लगे। फिर मेरे पैर खोल दिए। 2 सेकंड ससुर जी से रस से पूरी तरह से तर और भीगी चूत के दर्शन करने लगे फिर तो ऐसा मेरी चूत पर टूट पड़े जैसे रबड़ी को देखकर बिल्ली उस पर टूट पड़ती है।

लेटकर अपना मुंह मेरी चूत पर उन्होंने टिका दिया और जल्दी जल्दी चूत की चटनी पीने लगे। कामुकता के नशे में आकर मैं “अई…..अई….अई… अहह्ह्ह्हह…..सी सी सी सी….हा हा हा…”की कामुक आवाजे निकाल रही थी। मेरी आँखे बंद थी। मैं ससुर जी से नजरे नही मिला पा रही थी। वो जल्दी जल्दी मेरी तर चूत को रबड़ी की तरह चाट रहे थे।
कामुकता हिंदी सेक्स स्टोरी : पैसे की लालची औरत को पटा लिया मैंने

मेरी खूबसूरत चुद्दी गुलाबी रंग की थी। अब तो मुझे दोहरा नशा मिल रहा था। वो अपनी जीभ मेरी चूत के छेद में डाल रहे थे। मैं अभी भी अपने चेहरे को अपने हाथो से छुपा रही थी। कितना मजा लुट रही थी मैं। ससुर ने 10 मिनट मेरी चुद्दी चाटी। अंत में लंड चूत पर सेट कर दिया और जोर का धक्का दिया। “Sasur Bahu Antarvasna”

लंड 4” अंदर घुस गया। मुझे दर्द हो रहा था। फिर ससुर जी ने एक जोर का धक्का फिर से दिया। अब उनका 8” लंड पूरा अंदर घुस गया। मैं दर्द से “आऊ…..आऊ….हमममम अहह्ह्ह्हह…सी सी सी सी..हा हा हा..”बोलकर चिल्ला पड़ी। मैंने अपने हाथ अपने चेहरे से हटा दिए और उनको मुंह पर मुक्के मारने लगी।

ससुर जी भी असली मर्द के बच्चे थे। उन्होंने बड़ी ताकत से मेरे दोनों हाथ कसके पकड़ लिए और बिस्तर पर रख दिये। मेरी नाजुक कलाई पकड़कर उन्होंने चुदाई स्टार्ट कर दी। मुझे धका धक पेलने लगे। आज पुरे 3 महीनो बाद मैं चुद रही थी क्यूंकि मेरा पति ऋतुराज घर ही नही आया था। इस वजह से मेरी चूत का रास्ता बंद हो गया था।

पर आज मेरे मर्दाना मिजाज वाले ससुर जी मुझे पेल रहे थे। वो कमर उठा उठाकर मुझे चोद रहे थे। मैं लम्बी सांसे ले रही थी। मेरे दूध हिल रहे थे। उपर नीचे डांस कर रहे थे। ससुर जी सिर्फ मेरी चूत की तरह देखकर पेल रहे थे। मैं मर रही थी। 15 मिनट बिता तो चूत रंवा हो गयी। अब ससुर जी का लंड आराम से अंदर बाहर होने लगा। दिल खोलकर चुदी है। फिर हाँफते हांफते ससुर जी से मुझे 10 मिनट और चोदा। फिर उनका चेहरा ढीला पड़ गया। मेरी चूत में गर्म गर्म माल उन्होंने छोड़ दिया। मेरे उपर को थक कर गिर गये। मैंने उनके होठ फिर से चूमने लगी।


दीदी को चुदाई करते पकड़ लिया

 

Didi Ko Chudai Karte Pakad Liya, दीदी को चुदाई करते पकड़ लिया, दीदी की चुदाई की सेक्सी कहानियाँ , दीदी की चुदाई की सेक्सी स्टोरी , बहन को चुदते हुए देख

दीदी की चुदाई की सेक्सी कहानियाँ , दीदी की चुदाई की सेक्सी स्टोरी , बहन को चुदते हुए देखा. मेरे सामने चुदी मेरी बहन. बहन को चुदवाते हुए पकड़ लिया.

मेरी बहन मुझसे लगभग तीन साल बड़ी है। वो एम ए में पढ़ती थी और मैंने कॉलेज में दाखिला लिया ही था। मैं भी जवान हो चला था। मुझे भी जवान लड़कियाँ अच्छी लगती थी। सुन्दर लड़कियाँ देख कर मेरा भी लण्ड खड़ा होता था।

मेरी दीदी भी चालू किस्म की थी। लड़कों का साथ उसे बहुत अच्छा लगता था। वो अधिकतर टाईट जीन्स और टीशर्ट पहनती थी। उसके उरोज 23 साल की उम्र में ही भारी से थे, कूल्हे और चूतड़ पूरे शेप में थे।

रात को तो वो ऐसे सोती थी कि जैसे वो कमरे में अकेली सोती हो। एक छोटी सी सफ़ेद शमीज और एक वी शेप की चड्डी पहने हुये होती थी। फिर एक करवट पर वो पांव यूँ पसार कर सोती थी कि उसके प्यारे-प्यारे से गोल चूतड़ उभर कर मेरा लण्ड खड़ा कर देते थे। उसके भारी भारी स्तन शमीज में से चमकते हुये मन को मोह लेते थे। उसकी बला से भैया का लण्ड खड़ा होवे तो होवे, उसे क्या मतलब ?

कितनी ही बार जब मैं रात को पेशाब करने उठता था तो दीदी की जवानी की बहार को जरूर जी भर कर देखता था। कूल्हे से ऊपर उठी हुई शमीज उसकी चड्डी को साफ़ दर्शाती थी जो चूत के मध्य में से हो कर उसे छिपा देती थी। उसकी काली झांटे चड्डी की बगल से झांकती रहती थी। उसे देख कर मेरा लण्ड तन्ना जाता था। बड़ी मुश्किल से अपने लण्ड को सम्भाल पाता था।

Didi ki Chudai

एक बार तो मैंने दीदी को रंगे हाथों पकड़ ही लिया था। क्रिकेट के मैदान से मैं बीच में ही पानी पीने राजीव के यहाँ चला गया। घर बन्द था, पर मैं कूद कर अन्दर चला आया। तभी मुझे कमरे में से दीदी की आवाज सुनाई दी। मैं धीरे से दबे पांव यहाँ-वहाँ से झांकने लगा। अन्त में मुझे सफ़लता मिल ही गई। दीदी राजीव का लण्ड दबा रही थी। राजीव भी बड़ी तन्मयता के साथ दीदी की कभी चूचियाँ दबाता तो कभी चूतड़ दबाता। कुछ ही देर में दीदी नीचे बैठ गई और राजीव का लण्ड निकाल कर चूसने लगी। मेरे शरीर में सनसनाहट सी दौड़ पड़ी। मेरा मन उनकी यह रास-लीला देखने को मचल उठा। उनकी पूरी चुदाई देख कर ही मुझे चैन आया।

तो यह बात है … दीदी तो एक नम्बर की चालू निकली। एक नम्बर की चुदक्कड़ निकली दीदी तो।

मैं भारी मन से बाहर निकल आया। आंखों के आगे मुझे अब सिर्फ़ दीदी की भोंसड़ी और राजीव का लण्ड दिख रहा था। मेरा मन ना तो क्रिकेट खेलने में लगा और ना ही किसी हंसी मजाक में। शाम हो चली थी … सभी रात का भोजन कर के सोने की तैयारी करने लगे थे। दीदी भी अपनी परम्परागत ड्रेस में आ गई थी।

मैं भी अपने कपड़े उतार कर चड्डी में बिस्तर पर लेट गया था। पर नींद तो कोसों दूर थी … रह रह कर अभी भी दीदी के मुख में राजीव का लण्ड दिख रहा था। मेरा लण्ड भी फ़ूल कर खड़ा हो गया था।

अह्ह्ह… मुझे दीदी को चोदना है … बस चोदना ही है।

मेरी चड्डी की ऊपर की बेल्ट में से बाहर निकला हुआ अध खुला सुपारा नजर आ रहा था। इसी हालत में मेरी आंख जाने कब लग गई।

यकायक एक खटका सा हुआ। मेरी नींद खुल गई। कमरे की लाईट जली हुई थी। मुझे लगा कि मेरे पास कोई खड़ा हुआ है। समझते देर नहीं लगी कि दीदी ही है। वो बड़े ध्यान से मेरे लण्ड का उठान देख रही थी। दीदी को शायद अहसास भी नहीं हुआ होगा कि मेरी नींद खुल चुकी है और मैं उसका यह तमाशा देख रहा हूँ।

उसने झुक कर अपनी एक अंगुली से मेरे अध खुले सुपारे को छू लिया। फिर मेरी वीआईपी डिज़ाइनर चड्डी की बेल्ट को अंगुली से धीरे नीचे सरका दिया। उसकी इस हरकत से मेरा लण्ड और भी फ़ूल कर कड़क हो गया। मुझे लगने लगा था- काश ! दीदी मेरा लण्ड पकड़ कर मसल दे। अपनी भोंसड़ी में उसे घुसा ले।

दीदी की चुदाई की हिंदी कहानी

उसकी नजरें मेरे लण्ड को बहुत ही गौर से देख रही थी, जाहिर है कि मेरी काली झांटे भी लण्ड के आसपास उसने देखी होगी। उसने अपने स्तनों को जोर से मल दिया और उसके मुँह से एक वासना भरी सिसकी निकल पड़ी। फिर उसका हाथ उसकी चूत पर आ गया। शायद वो मेरा लण्ड अपनी चूत में महसूस कर रही थी। उसका चूत को बार बार मसलना मेरे दिल पर घाव पैदा कर रहे थे। फिर वो अपने बिस्तर पर चली गई।

दीदी अपने अपने बिस्तर पर बेचैनी से करवटें बदल रही थी। अपने उभारों को मसल रही थी। फिर वो उठी और नीचे जमीन पर बैठ गई। अब शायद वो हस्त मैथुन करने लगी थी। तभी मेरे लण्ड से भी वीर्य निकल पड़ा। मेरी चड्डी पूरी गीली हो गई थी। अभी भी मेरी आगे होकर कुछ करने की हिम्मत नहीं हो रही थी।

दूसरे दिन मेरा मन बहुत विचलित हो रहा था। ना तो भूख रही थी… ना ही कुछ काम करने को मन कर रहा था। बस दीदी की रात की हरकतें दिल में अंगड़ाईयाँ ले रही थी। दिमाग में दीदी का हस्त मैथुन बार बार आ रहा था। मैं अपने दिल को मजबूत करने में लगा था कि दीदी को एक बार तो पकड़ ही लूँ, उसके मस्त बोबे दबा दूँ। बार बार यही सोच रहा था कि ज्यादा से ज्यादा होगा तो वो एक तमाचा मार देगी, बस !

फिर मैं ट्राई नहीं करूंगा।

जैसे तैसे दिन कट गया तो रात आने का नाम नहीं ले रही थी।

रात के ग्यारह बज गये थे। दीदी अपनी रोज की ड्रेस में कमरे में आई। कुछ ही देर में वो बिस्तर पर जा पड़ी। उसने करवट ले कर अपना एक पांव समेट लिया। उसके सुडौल चूतड़ के गोले बाहर उभर आये। उसकी चड्डी उसकी गाण्ड की दरार में घुस गई और उसके गोल गोल चमकदार चूतड़ उभर कर मेरा मन मोहने लगे।

मैंने हिम्मत की और उसकी गाण्ड पर हाथ फ़ेर कर सहला दिया। दीदी ने कुछ नहीं कहा, वो बस वैसे ही लेटी रही।

मैंने और हिम्मत की, अपना हाथ उसके चूतड़ों की दरार में सरकाते हुये चूत तक पहुँचा दिया। मैंने ज्योंही चूत पर अपनी अंगुली का दबाव बनाया, दीदी ने सिसक कर कहा,”अरे क्या कर रहा है ?”

“दीदी, एक बात कहनी थी !”

उसने मुझे देखा और मेरी हालत का जायजा लिया। मेरी चड्डी में से लण्ड का उभार उसकी नजर से छुप नहीं सका था। उसके चेहरे पर जैसे शैतानियत की मुस्कान थिरक उठी।

“हूम्म … कहो तो … ”

मैं दीदी के बिस्तर पर पीछे आ गया और बैठ कर उसकी कमर को मैंने पकड़ लिया।

“दीदी, आप मुझे बहुत अच्छी लगती हैं !”

“ऊ हूं … तो… ”

“मैं आपको देख कर पागल हो जाता हूँ … ” मेरे हाथ उसकी कमर से होते हुये उसकी छातियों की ओर बढ़ने लगे।

“वो तो लग रहा है … !” दीदी ने घूम कर मुझे देखा और एक कंटीली हंसी हंस दी।

मैंने दीदी की छातियों पर अपने हाथ रख दिये,”दीदी, प्लीज बुरा मत मानना, मैं आपको चोदना चाहता हूँ !”

मेरी बात सुन कर दीदी ने अपनी आंखें मटकाई,”पहले मेरे बोबे तो छोड़ दे… ” वो मेरे हाथ को हटाते हुये बोली।

“नहीं दीदी, आपके चूतड़ बहुत मस्त हैं … उसमें मुझे लण्ड घुसेड़ने दो !” मैं लगभग पागल सा होकर बोल उठा।

“तो घुसेड़ ले ना … पर तू ऐसे तो मत मचल !” दीदी की शैतानियत भरी हरकतें शुरू हो गई थी।

मैं बगल में लेट कर अनजाने में ही कुत्ते की तरह उसकी गाण्ड में लण्ड चलाने लगा। मुझे बहुत ताज्जुब हुआ कि मेरी किसी भी बात का दीदी ने कोई विरोध नहीं किया, बल्कि मुझे उसके गाण्ड मारने की स्वीकृति भी दे दी। मुझे लगा दीदी को तो पटाने की आवश्यकता ही नहीं थी। बस पकड़ कर चोद ही देना था।

“बस बस … बहुत हो गया … दिल बहुत मैला हो रहा है ना ?” दीदी की आवाज में कसक थी।

मैं उसकी कमर छोड़ कर एक तरफ़ हट गया।

Didi Ko Chudai Karte Pakad Liya

“दीदी, इस लण्ड को देखो ना … इसने मुझे कैसा बावला बना दिया है।” मैंने दीदी को अपना लण्ड दिखाया।

“नहीं बावला नहीं बनाया … तुझ पर जवानी चढ़ी है तो ऐसा हो ही जाता है… आ यहाँ मेरे पास बैठ जा, सब कुछ करेंगे, पर आराम से … मैं कहीं कोई भागी तो नहीं जा रही हूँ ना … इस उम्र में तो लड़कियों को चोदना ही चहिये… वर्ना इस कड़क लण्ड का क्या फ़ायदा ?” दीदी ने मुझे कमर से पकड़ कर कहा।

मेरे दिल की धड़कन सामान्य होने लगी थी। पसीना चूना बंद हो गया था। दीदी की स्वीकारोक्ति मुझे बढ़ावा दे रही थी। वो अब बिस्तर पर बैठ गई और मुझे गोदी में बैठा लिया। दीदी ने मेरी चड्डी नीचे खींच कर मेरा लण्ड बाहर निकाल लिया।

“ये … ये हुई ना बात … साला खूब मोटा है … मस्त है… मजा आयेगा !” मेरे लण्ड के आकार की तारीफ़ करते हुये वो बोल उठी। उसने मेरा लण्ड पकड़ कर सहलाया। फिर धीरे से चमड़ी खींच कर मेरा लाल सुपारा बाहर निकाल लिया।

अचानक उसकी नजरें चमक उठी,”भैया, तू तो प्योर माल है रे… ” वो मेरे लौड़े को घूरते हुये बोली।

“प्योर क्या … क्या मतलब?” मुझे कुछ समझ में नहीं आया।

“कुछ नहीं, तेरे लण्ड पर लिखा है कि तू प्योर माल है।” मेरे लण्ड की स्किन खींच कर उसने देखा।

“दीदी, आप तो जाने कैसी बातें करती हैं… ” मुझे उसकी भाषा समझने में कठिनाई हो रही थी।

“चल अपनी आंखें बन्द कर … मुझे तेरा लण्ड घिसना है !” दीदी की शैतान आंखें चमक उठी थी।

मुझे पता चल गया था कि अब वो मुठ मारेगी, सो मैंने अपनी आंखें बंद कर ली।

दीदी ने मेरे लण्ड को अपनी मुठ्ठी में भर कर आगे पीछे करना चालू कर दिया। कुछ ही देर में मैं मस्त हो गया। मुख से सुख भरी सिसकियाँ निकलने लगी। जब मैं पूरा मदहोश हो गया था, चरम सीमा पर पहुंचने लगा था, दीदी ने जाने मेरे लण्ड के साथ क्या किया कि मेरे मुख से एक चीख सी निकल गई। सारा नशा काफ़ूर हो गया। दीदी ने जाने कैसे मेरे लण्ड की स्किन सुपारे के पास से

अंगुली के जोर से फ़ाड़ दी थी। मेरी स्किन फ़ट गई थी और अब लण्ड की चमड़ी पूरी उलट कर ऊपर आ गई थी। खून से सन कर गुलाबी सुपाड़ा पूरा खिल चुका था।

“दीदी, ये कैसी जलन हो रही है … ये खून कैसा है?” मुझे वासना के नशे में लगा कि जैसे किसी चींटी ने मुझे जोर से काट लिया है।

“अरे कुछ नहीं रे … ये लण्ड हिलाने से स्किन थोड़ी सी अलग हो गई है, पर अब देख … क्या मस्त खुलता है लण्ड !” मेरे लण्ड की चमड़ी दीदी ने पूरी खींच कर पीछे कर दी। सच में लण्ड का अब भरपूर उठाव नजर आ रहा था।

उसने हौले हौले से मेरा लण्ड हिलाना जारी रखा और सुपाड़े के ऊपर कोमल अंगुलियों से हल्के हल्के घिसती रही। मेरा लण्ड एक बार फिर मीठी मीठी सी गुदगुदी के कारण तन्ना उठा। कुछ ही देर में मुठ मारते मारते मेरा वीर्य निकल पड़ा। उसने मेरे ही वीर्य से मेरा लण्ड मल दिया। मेरा दिल शान्त होने लगा।

मैंने दीदी को पटा लिया था बल्कि यू कहें कि दीदी ने मुझे फ़ंसा लिया था। मेरा लण्ड मुरझा गया था। दीदी ने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया। मेरे होंठों पर अपने होंठ उसने दबा दिये और अधरों का रसपान करने लगी।

“भैया, विनय से मेरी दोस्ती करा दे ना, वो मुझे लिफ़्ट ही नहीं देता है !”

“पर तू तो राजीव से चुदवाती है ना … ?”

उसे झटका सा लगा।

“तुझे कैसे पता?” उसने तीखी नजरों से मुझे देखा।

“मैंने देखा है आपको और राजीव को चुदाई करते हुये … क्या मस्त चुदवाती हो दीदी!”

“मैं तो विनय की बात कर रही हूँ … समझता ही नहीं है ?” उसने मुझे आंखें दिखाई।

“लिफ़्ट की बात ही नहीं है … सच तो यह है कि उसे पता ही नहीं है कि आप उस पर मरती हैं।”

“फिर भी … उसे घर पर लाना तो सही… और हाँ मरी मेरी जूती … !”

“अरे छोड़ ना दीदी, मेरे अच्छे दोस्तों से तुझे चुदवा दूँगा … बस, सालों के ये मोटे मोटे लण्ड हैं !”

“सच भैया?” उसकी आंखें एक बार फिर से चमक उठी।

दीदी के बिस्तर में हम दोनों लेट गये। कुछ ही देर मेरा मन फिर से मचल उठा।

“दीदी, एक बार अपनी चूत का रस मुझे लेने दे।”

“चल फिर उठ और नीचे आ जा !”

दीदी ने अपनी टांगें फ़ैला दी। उसकी भोंसड़ी खुली हुई सामने थी पाव रोटी के समान फ़ूली हुई। उसकी आकर्षक पलकें, काली झांटों से भरा हुआ जंगल … उसके बीचों बीच एक गुलाबी गुफ़ा … मस्तानी सी … रस की खान थी वो …

उसने अपनी दोनों टांगें ऊपर उठा ली… नजरें जरा और नीचे गई। भूरा सा अन्दर बाहर होता हुआ गाण्ड का कोमल फ़ूल …

एक बार फिर लण्ड की हालत खराब होने लगी। मैंने झुक कर उसकी चूत का अभिवादन किया और धीरे से अपनी जीभ निकाल कर उसमें भरे रस का स्वाद लिया। जीभ लगते ही चूत जैसे सिकुड़ गई। उसका दाना फ़ड़क उठा … जीभ से रगड़ खा कर वो भी मचल उठा। दीदी की हालत वासना से बुरी हो रही थी। चूत देख कर ही लग रहा था कि बस इसे एक मोटे लण्ड की आवश्यकता है। दीदी ने

मेरी बांह पकड़ कर मुझे खींच कर नीचे लेटा लिया और धीरे से मेरे ऊपर चढ़ गई और अपनी चूत खोल कर मेरे मुख से लगा दी। उसकी प्यारी सी झांटों भरी गुलाबी सी चूत देख कर मुझे बहुत अच्छा लगा। मैंने उसकी चूत को चाटते हुये उसे खूब प्यार किया। दीदी ने अपनी आंखें मस्ती में बन्द कर ली। तभी वो और मेरे ऊपर आ गई। उसकी गाण्ड का कोमल नरम सा छेद मेरे होंठों के सामने था। मैंने अपनी लपलपाती हुई जीभ से उसकी गाण्ड चाट ली और जीभ को तिकोनी बना कर उसकी गाण्ड में घुसेड़ने लगा।

“तूने तो मुझे मस्त कर दिया भैया … देख तेरा लण्ड कैसा तन्ना रहा है… !”

उसने अपनी गाण्ड हटाते हुये कहा,” भैया मेरी गाण्ड मारेगा ?”

वो धीरे से नीचे मेरी टांगों पर आ गई और पास पड़ी तेल की शीशी में से तेल अपनी गाण्ड में लगा लिया।

“आह … देख कैसा कड़क हो रहा है … जरा ठीक से लण्ड घुसेड़ना… ”

वो अपनी गाण्ड का निशाना बना कर मेरे लण्ड पर धीरे से बैठ गई। सच में वो गजब की चुदाई की एक्सपर्ट थी। उसके शरीर के भार से ही लण्ड उसकी गाण्ड में घुस गया। लण्ड घुसता ही चला गया, रुकने का नाम ही नहीं ले रहा था।

लगता था उसकी गाण्ड लड़कों ने खूब बजाई थी … उसकी मुख से मस्ती भरी आवाजें निकलने लगी।

“कितना मजा आ रहा है … ” वो ऊपर से लण्ड पर उछलने लगी …

लण्ड पूरी गहराई तक जा रहा था। उसकी टाईट गाण्ड का लुत्फ़ मुझे बहुत जोर से आ रहा था। मेरे मुख से सिसकियाँ निकल रही थी। वो अभी भी सीधी बैठी हुई गाण्ड मरवा रही थी। अपने चूचों को अपने ही हाथ से दबा दबा कर मस्त हो रही थी। उसने अपनी गाण्ड उठाई और मेरा लण्ड बाहर निकाल लिया और थोड़ा सा पीछे हटते हुये अपनी चूत में लण्ड घुसा लिया। वो अब मेरे पर झुकी हुई थी … उसके बोबे मेरी आंखों के सामने झूलने लगे थे।

मैंने उसके दोनों उरोज अपने हाथों में भर लिये और मसलने लगा। वो अब चुदते हुये मेरे ऊपर लेट सी गई और मेरी बाहों को पकड़ते हुये ऊपर उठ गई। अब वो अपनी चूत को मेरे लण्ड पर पटक रही थी। मेरी हालत बहुत ही नाजुक हो रही थी। मैं कभी भी झड़ सकता था। वो बेतहाशा तेजी के साथ मेरे लण्ड को पीट रही थी, बेचारा लण्ड अन्त में चूं बोल ही गया। तभी दीदी भी निस्तेज सी हो गई। उसका रस भी निकल रहा था। दोनों के गुप्तांग जोर लगा लगा कर रस निकालने में लगे थे। दीदी ने मेरे ऊपर ही अपने शरीर को पसार दिया था। उसकी जुल्फ़ें मेरे चेहरे को छुपा चुकी थी। हम दोनों गहरी-गहरी सांसें ले रहे थे।

“मजा आया भैया… ?”

“हां रे ! बहुत मजा आया !”

“तेरा लण्ड वास्तव में मोटा है रे … रात को और मजे करेंगे !”

“दीदी तेरी भोंसड़ी है भी चिकनी और रसदार !” मैं वास्तव में दीदी की सुन्दर चूत का दीवाना हो गया था, शायद इसलिये भी कि चूत मैंने जिन्दगी में पहली बार देखी थी।

पर मेरे दिल में अभी भी कुछ ग्लानि सी थी, शायद अनैतिक कार्य की ग्लानि थी।

“दीदी, देखो ना हमसे कितनी बड़ी भूल हो गई, अपनी ही सगी दीदी को चोद दिया मैंने!”

“अहह्ह्ह्ह … तू तो सच में बावला ही है … भाई बहन का रिश्ता अपनी जगह है और जवानी का रिश्ता अपनी जगह है … जब लण्ड और चूत एक ही कमरे में मौजूद हैं तो संगम होगा कि नहीं, तू ही बता!” उसका शैतानियत से भरा दिमाग जाने मुझे क्या-क्या समझाने में लगा था। मुझे अधिक तो कुछ समझ में आया … आता भी कैसे भला। क्यूंकि अगले ही पल वो मेरा लौड़ा हाथ में लेकर मलने लगी थी … और मैं बेसुध होता जा रहा था।

Author Name

Adult Stories

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.