Articles by "kunwari choot chudai ki kahani"

adult stories in hindi Antarvasna Story baap beti ki chudai ki kahani bahan ki chudayi balatkar ki kahani behen ki chudayi bhabhi ki chudai bhai bahan ki chudai bhai bahan sex story in hindi bollywood actress ki chudai ki kahani bollywoos sex stories in hindi chacha bhatiji ki chudai ki kahani chachi ki chudai ki kahani chhoti bahan ki chudai chhoti ladkai ki chudai chudai ki kahaniya dehati chudai ki kahani devar bhabhi ki chudai ki kahani Didi ki Chudai Free Sex Kahani gand chudai gand chudai ki kahani gangbang ki kahani Ghode ke sath desi aurat ki sex story girlfriend ki chudai gujarati bhabhi habshi lund se chudai hindi sex stories Hindi Sex Stories Nonveg hindi urdu sex story jija saali sex jija sali ki chudai ki kahani Kahani kunwari choot chudai ki kahani Losing virginity sex story mama bhanji ki chudai ki kahani mama ki ladaki ki chudai marathi sex story mote lund se chudai ki kahani muslim ladaki ki chudai muslim ladki ki chuadi nana ne choda naukarani ki chudai New Hindi Sex Story | Free Sex Kahani Nonveg Kahani Nonveg Sex Story Padosi Ki Beti pahali chudai pakistani ladaki ki chudai Pakistani Sex Stories panjaban ladki ki chudai sali ki chudai samuhik chudai sasur bahu ki chudai sasur bahu ki sex story sasural sex story school girl ki chudai ki kahani seal tod chudai sex story in marathi suhagraat ki chudai urdu chudai ki kahani in urdu Virgin Chut wife ki chudai zabardasti chudai ki kahaniya एडल्ट स्टोरी कुंवारी चूत की chudai गर्लफ्रेंड की चुदाई गांड चुदाई की कहानियाँ जीजा साली सेक्स पहलवान से चुदाई बलात्कार की कहानी बाप बेटी की chudai की सेक्सी कहानी मामा भांजी चुदाई की कहानी ससुर बहु चुदाई सेक्स स्टोरी
Showing posts with label kunwari choot chudai ki kahani. Show all posts

Didi Ki Sleeper Bus Me Chudai

Didi Ki Sleeper Bus Me Chudai


Hindi Sex Story Hello dosto samajh sakta hua ap sab thik hi hoge is story ko padh kar apko bahut maza ane wala he kyuki jisne apni bahan ko chod diya samjho sab kuch pa liya ye bahut rishki kaam he hnn agar bahan maan jay to jo maje bahan ke sath mil sakte he wo girlfriend ke sath nahi to chaliye story shuru karte. Real Bhai Bahan Porn

Is stor me sab kuch real he bas naam ko chod kar or hnn story me kuch bahar se bhi add he matlab jese hua same nahi he story ko kamuk bnane ke liye he Mere ghar me 5 members he mammy papa dadi or me and badi bahan Mera naam gurmit he me punjab ludhiyana se hu.

Me hatta khata dikhta hu gym jata hu or college ke last year me hu fir ati he mujh se badi meri bahan jiska naam simran he mere se 4 sal badi uski age 26 he apko to pta hi hoga 1 panjabi girl kesi dikhti he to me btata hu simran didi collage pura kar chuki thi bas ghar par rahti thi.

Didi ka figer 34/23/36 he kya mast ankhe he hiran ke jesi gulabi honth jise bas chusta hi rahu lambi gardan 34 ke bade tight boobs sangemarmar badan didi ki chut akdam gulabi he kul mila kar didi bollywood singer (SHAKIRA) jesi dikhti he hair bhi didi ke khulke golden he fair color ghar me sabka alag room he.


Abhi tak sab sahi chal raha tha mera didi ko or koi bhi gandi najar nahi hi hnn but bhai bahan me pyar bahut tha didi mujhe mathe or mere lips pe apne lips rakh kar chumma de deti thi didi mere bager khana nahi khati thi pahla tukda apne hath se deti mom dad bhi ye dekh kar bolte simran jab teri shadi ho jaygi to ise khana kon khilayga.

To didi bolti me shadi nhi krugi humesha bhai ke pass rahungi mom dad haste or bolte 1 din sabko jana he mera mumbai me 1 exam tha to me usi ki teyari kar raha tha ki simran didi mere room me aai or boli bhai mujhe bhi apke sath jana he isi bahane mumbai ghoom lungi.

Me bola me apna flight ticket kara chuka hu didi simran didi bhai koi nhi hum train se jayge me aaj tak train ka safar nahi kiya to me socha or hun kar diya papa ka acha bussiness he or jameen bhi he isi kiye jaha bhi hum jate car se jate the me flight ticket cancel kiya or do a.c koch ke ticket kara diye.

Kal hume nikalna tha to hum jaldi so gye fir hum morning me nikalne lage to didi ko me sath lekar chal diya station pahuche waha hume train mili hum chal diye pura dun safar kiya fir night hone lagi (mumbai jane me 2 din lagte he train se) ab hum sone ki teyari karne lage.


Didi apna combel lena bhul gyi thi use thand lagne lagi usne mujhe rat 11baje uthaya me bola didi ap mere burth pe aa jao combel bahut bada he dono adjust kar lege to didi mere baju me akar let gyi didi ne dai or se leti thi me bhi didi ke gand ki traf apna lund lga rkha tha.

Jab didi mere blanket me aai to pure blanket me ak ajeeb si small fal gyi wo didi ki body ki small thi mujhe bahut achi lagne lagi (ye first time tha hum dono bhai bahno ka jo aksath lete the) mera lund khada hone lga or didi ki badi 34 ki gand ki drar me jane lga.

Ab mujhe azeeb sa nasha hone lga or me apna 1 per didi me uper rakh diya jisse mera lund full kadak hokar didi ki gand me didi ki pent fadne ko teyar tha didi so chuki thi me ak hath didi ke uper rakha jo didi ki shirt ke uper se unki boobs ko tuch hone lga.

Mujhe bahut maza ane lga tha 2 minat aise hi karte hue me didi ko seedha leta diya or didi ke shirt ke button kholne lga mene sare button khol diye or dekha to ander white color ki sport bra pahan rakhi thi humara cabin lock tha hume koi nahi dekh sakta tha pata nahi mujhe kya hota gya.


Me didi ki bra ke uper se didi ke boobs dabane lga or bra ko uper karke boobs shuk karne lga didi ke boobs le red nippel the jo boobs ki shan ko bdha rahe the me. Nipple ko danto se dabane lga kuch hi der me didi ke nippel khade hone lage me chuste gya ab to or bhi maza ane lga tha.

Didi ke boobs kareeb 1 inch kade ho gye hoge ab me ak hath se didi ki pent ka button khol diya dheere se didi ki chain kholi or niche white color ki penty thi me panty ke uper se hi didi ki chut ko tham liya jisse didi akdam machal gyi kr meri gardan pakad ke meri gardan pakad ke apne lips se mere lips sata diya or mera niche wala hont ko chusne lagi.

Me bhi didi ke uper ke lips ko chusne lga kabhi didi meri jeeb chusti kabhi me didi ki jeeb chhat ta 10 minat ho gye hoge kiss karte hue or jab kiss tuti to jor jor se hafne lge simran didi boli bhai is pyar ka me kab se intazar kar rahi thi ahh aj mujhe jannat me jana he bhai chod do mujhe me kab se tujhe samjhana cha rahi thi par tu ise bhai bahan ka pyar samjh ta tha.

Fir humne kiss start kar diya or 5 minat baad didi ne meri tshart nikal diya or mera lover bhi me bhi didi ki jins utar di ab didi panty me thi jise me fad diya didi bhai aram se me apki hi hu ab mujhe tumhare se koi juda nahi kar sakta or hum 69 pose me aa gye. “Real Bhai Bahan Porn”


Didi mera kund chus rahi thi me didi ki chut didi ki kya mast chut thi abhi tak me aisi chut nahi dekhi akdam chikni safed red chut ke lips jab bhi me didi ki calory chut ke dane ko chatta didi gunn ahhh gunn karti ab hum alag hue or kiss kiya.

Fir me didi ke muh me apna lund dal diya jise didi ahhh gunnn gunnnn gunnn karke pine lagi ab me didi ka muh pakad ke dhakke marne laga didi ahuccc hhh gunnnnhhh gunnnnnnhhh gunnnnhhh gunnnnhh gunnnnhh ahhhhmmm karti or mouth fucking karwa ti rahi.

10 minat muh chodne ke baad me didi ke muh me jhad gya jise didi ne apne boobs pe ugal diya or window khol ke ulti kar diya simran didi bhai bta sakte the mujhe virya ganda lagta he fir me didi ko hanky se saf kiya or nunge hi let gye ak dusre ki baho me fir me 15 minat baad teyar hua or didi Ke boobs ko fuck kiya kr ab didi ke chut pe lund rakha.

Didi ne shihar bhari thoda thuk lga kar ak jordar dhakka mara mera adha lund didi ki chut me gya or didi ko michi lagne lagi ahhhh bhaaaiiii marrrr jauuuungiii me plz mat karo abhi he sab ahhh mummy meri chut fat rahi he aahhhh .Mere bbaii ahhhhh siiiiiihiiiii. “Real Bhai Bahan Porn”

Fir me jordar dhakka mara mera pura lund ander chala gya or didi ki chut ko chir diya didi rone lagi hath jhatpata ne lagi ahh bhai ahhhh or me pelta gya didi ki chut akdam lal ho chuki thi ab didi ko bhi maza ane lga or sath dene lagi didi ko mene sab angel me choda kabhi ghodi bna kar ya uper bitha kar or me ander hi jhad gya.


Morning ye result aaya ki didi ki chut sooj gyi jise didi ko problem bahut hue or fir agli rat bhi humne train me chudai ki or mumbai jakar bhi khoob maze kiye mumbai me didi ne mere se shadi kar liya cort me jakar fir hum flight se ghar aa gye ab hum jab bhi man hota chudai karte.

Didi bahut badal gyi he ab to ak orat jesi dikhti he didi ki age ab 29 ho gyi mom dad bahut forse karte he shadi ke liye but nahi karti fir me didi ko samjhaya tab jakar shadi ke kiye mani agle mahine didi ki shadi he me abhi didi ki kokh bhar chuka hu didi 1 month se pregnant he to kesi lagi humari story share kare


Budha Bhikhari Aur 15 Saal Ki Bachchi




Ye Kahani Richa Ki Ki Hai Richa Ek Bade Se Ghar Ki Beti Thi Age 15 Saal Ki Thi Lambi Or Gori Chiti Thi Doodh Jesi Gulabi Hot The Richa Ke Mom Or Ded Us Me The Vo Do No Vahi Job Kar Te The Or Es Dhar Richa Ke Sath Shirf Us Ki Dadi Thi Jis Ke Per Se Vo Apaiz Thi Es Liye Richa Ki Dadi Wheel Chair  Pe Beth Ke Hi Vo Yaha Se Vaha Jaa Sak Ti Thi Ghar Ka Kaam Kar Ne Ke Liye Ek Kaam Vali Bai Roz Morning Or Evening Ko Aake Ghar Ka Kaam Or Khana Bana Na Kar Ke Chali Jati Thi

Ghar 2 Maar Ka Tha Niche Kichan Or Living Room Or Dadi Ka Room Tha Richa Ka Room Upper Tha Jo Shiri Yo Se Ho Ke Jana Pad Tha Es Li Ye Richa Ki Dadi Kabhi Upper Nahi Jati Thi Upper 3 Room Hai Ek Richa Ka Or 2 Ra Room Rich Ke Mom Ded Ka Hai Jo Saal Me Shirf 1 Baar Hi  Aate Hai Jo Shirf 15 Din Tak Ruk Te The Or 3 Room Store Room Ha Jis Me Kuchh Pura Saman Rakha Tha Je Se Ki Ghar Ke Pura Na Bed Kabat Tebal

Richa Ke Mom Ded Ka Room Bandh Hi Hota Hai Vo Shirf Tab Hi Kul Ta Hai Jab Richa Ke Mom Ded Us Se Vapis Aate Hai Or Sari Kimti Chije Us Room Rakhi Hai Yaha Tak Ki Ghar Me Kaam Vli Bai Ko Bhi Shirf Richa Ka Room Saaf Kar Ne Ke Liye Khol Ke Rakha Hota Tha Or Richa Ke Mom Ded Ke Room Ki Key Bhi Richa Ke Mom Ded Ne Richa Ki Di Thi

Ye Kahani Suru Hui Thi Thik 2 Month Pehe Ki Jab Richa Ke School Ki Chhutiya Suru Hui Thi Richa Aksar Apna Time Paas Ke Li Ye Computer Par Chet Ya Internet Par Game Khel Ke Or Time Paas Kar Ti Rehe Ti Thi Fir Richa Bor Ho Gai Es Liye Richa Apne Room Ki Khid Ki Se Bahar Ki Or Dekh
Ne Lagi Tabhi Us Ki Nazar Us Ke Ghar Ke Bahar Bethe Hu Ye Ek Budhe Ko Dekha Jo Bhikh Maag Raha Tha Jo Ki Ek Bhikhari Tha Jo Chila Chila Ke Bol Raha Tha Ki Koi Bhukhe Ko Khana Khila Do Richa Ko Day Aagai Or Richa Ne Bahar Nikal Ke Us Ko Roti Di Or Vo Bhikhari Roti Le Ke Vaha Se Ghisak Ghisak Ke Chala Gaya Kiyo Ki Us Bhikhari Ke Ghutno Ke Niche Ke Bhag Kaam Nahi Karta Tha Shirf Sar Se Le Ke Ghutno Tak Ka Hi Hisaa Kaam Kar Ta Tha

Richa Ab Roz Bhikhari Budha Ko Roti De Ne Lagi Thi 1o Din Tak Richa Ne Bhikhari Budha Ko Khana Khilati Rahi Ek Din Jaboho Jiyada Baris Ho Rahi This Are Ras Te Pe Baris Ka Pani Tha Saam Ka Time Tha Or Barish Jor Jor Se Ho Rahi Thi Or Sath Sath Bijlibhi Chamak Rahi Thi Richa Or Richa Ki Dadi Ne Saam Ka Khana Kha Liya Or So Ne Ke Liye Jaa Rahi Thi Richa Ki Dadi Apne Room Me Jaa Ke So Gai

Tabhi Richa Ko Khayal A Ya Ki Naza Ne Es Tej Barish Me Vo Bhikhari Budha Ke Se Hoga Richa Ne Bahar Ki Khid Ki Se Dekha To Us Ke Ghar Ke Saam Ne Vale Per Ke Niche Baris Me Bhig Ke Kaap Raha Tha Richa Ko Taras Aa Gaya Richa Niche Jaa Ked Hire Se Darvaja Khol K Eek Chhata Le Ke Bahar Gai Or Boli Bhikhari Baba Aap Apne Ghar Chale Jaa Ye Baris Bohod Tej Chal Rahi Hai Tab Bhikhari Budha Ne Thand Se Kaap Te Hu Ye Ka Ha Ki Beta Mera Koi Ghar Nahi Hai

Tab Richa Ne Dekha Ki Ye Bhikhari Budha Pura Thand Se Kaap Raha Hai Tab Richa Ne Kaha To Thik Aap Ek Kaam Kiji Ye Aap Mere Ghar Chale Tab Richa Ne Bhikhari Budha Ka Ek Hath Pak Da Ro Kaha Ki Chali Ye Or Bhikhari Budha Tango Se Zameen Pe Reng Te Reng Hu Ye Underaa Ya Fir Richa Ne Kaha Ki Bhikari Baba Aap Sor Mat Kar Na Meri Dadi Apne Room Me So Rahi Hai Tab Bhikhari Budha Dhire Dhire Upper Shiri Yo Se Ho Ke Rich Ke Room Tak Poch Cha

Lekin  Bhikhari Budha Ke Sare Kapde Gile Ho Gaye The Or Bhikhari Budha Badan Se Kafi Vaas Bhi Aa Rahi Thi Richa Ne Ka Ki Pehe Le Aap Mere Eroom Me Bathroom Me Jaa Ke Aap Naha Li Jiye Nahi To Aap Ke Badan Ki Badbu Pure Ghar Me Fel Jaa Ye Gi Or Meri Dadi Ko Pata Chal To Vo Aap Ko Nikal Degi Bhikhari Budha Bathroom Me Jake Sabu Laga Ke Ache Se Naha Ne Laga Or Pane Pura Ne Kapade Bathroom Se Bahar Fek Diye Un Kapdo Ko Richa Ne Ek Plastic Ke Beg Me Daal Ke Bahar Fek Di Ye

Or Niche Aa Ke Pure Ghar Me Room Fresnal Ko Chat Diya Taki Achhi Khus Bu Aaye Or Bhikhari Budha Zameen Per Eng Ke Aaya Tha Vaha Pe Pani Tha To Richne Tab Tak Us Saap Kar Liya Or Apni Room Mee Aa Gai Tab Bhikhari Budha Naha Ke Bahar Aa Gaya Or Richa Apna Tovel Diya Bhikhari Budha Taki Vo Apna Jisam Ko Saaf Kar Sake

Fir Richa Ne Thori Si Maadat Kar Ke Bhikhari Budha Ko Apne Bed Leta Diya Ae Se Hi Naga Leta Diya Or Ek Kambal Us Ko Daal Diya  Bhikhari Budha Barish Ke Pani Me Kafi Der Se Bhig Raha Tha Es Li Ye Us Ko Thand Lag Gai Thi Bhikhari Budha Kaap Raha Tha Bistar Me Bhi Bhikhari Budha Pura Badan Thanda Ho Gaya Tha Richa Ne Bhikhari Budha Ke Haath Paav Ghis Rahi Ti Taki Us Ke Jisam Me Garmi Aa Sake

Richa Ne Bhikhari Budha Ko Dekh Ke Ghabhra Gait Hi Us Ka Pura Badan Thanda Pad Ta Jaa Raha Tha Richa Ko Koi Raas Ta Nazar Nahi Aaraha Tha Tab Richa Ko Yaad Aaya Ki Us Ne Ek Film Me Dekha Tha Ki Job Heroin Ki Halat Ae Si Ho Gait Hi To Hiro Ne Apne Jisam Ki Garmi De Ke Us Ko Bacha Ya Tha Richa Ne Bhi Ab Ye Kar Ne Ka Socha Or Richa Ne Ek Ek Kar Ke Apne Sare Kapde Utaar Diye

Or Richa Nagi Ho Gai Or Richa Bhi Bister Me Bhikhari Budha Ke Sath Us Gambal Ja Ke Bhikhari Budha Ke Upper Let Gai Or Kambal Ko Sabhi Jaga Se Dhak Diya Or Richa Ne Apne Hot Ko Bhikhari Budha Ke Hoto Pe Laga Diye Or Apne Muh Me Se Garam Garm Sash Ko Bhikhari Budha Ke Muh Me Chhor Ne Lgai Or Udhar Bhikhari Budha Bhi Thand Ke Vaja Se Richa Se Lipat Gaya Bhikhari Budha Ke Bhi Haath Richa Ki Pith Pe Guma Raha Tha Or Richa Bhikhari Budha Ke Upper Leti Hui Thi Jis Ke Vaja Se Bhikhari Budha Ke Land Richa Ki Chut Ke Niche Daba Huva Tha

10 Minit Taka E Se Kar Ne Baad Bhikhari Budha Ka Land Tang Gaya Tha Ab Richa Ki Chut Me Kuchh Chub Raha Tha Ab Bhikhari Budha Ka Land Khada Ho Ke 8 Inch Tak Lamba Ho Gaya Tha Or 1 Inch Mota Ho Gaya Tha Or Richa Ki Chut Ke Ched Bhi 1 Inch Ka Tha Es Li Ye Koi Problem Nahi Thi Or Ab Bhikhari Budha Ki Tanda Chali Gait Hi Or Vo  Bhikhari Budha Apni Kamar Baar Baar Niche Se Uchhal Raha Tha Bhikhari Budha Ki Kamar Uchhal Ne Se Richa Ki Kamar Bhi Upper Ki Or Jaa Ke Vaapis Niche Aa Jati Thi Es Tarah Bhikhari Budha

Ki Kamar Uchal Ne Ked Ha Ke Se Richaki Ki Kamar Bhi Dhako Se Uchhal Jati Thi Ab Bhikhari Budha Ache Se Pakad Ke Richa Ko Gol Gol Rol Kar Ke Richa Apne Niche Le Aaya Orkhud Richa Ke Upper Aagaya Ab Richa Ke Do No Tango Ke Bich Me Bhikhari Budha Aa Gaya Tha Lekin Bhikhari Budha Ab Tak Richa Ko Kiss Kar Na Chalu Tha Fir Bhikhari Budha Ne Apna Ek Hatah Ko Apni Kamar Ke Paas Apne Land Vale Hise Me Daal Ke Land Ko Pakad Liya Or Land Ke Muh Ko

Richa Ki Chud Ke Ched Me Tika Ke Jor Do Dha Ke Maa Re Ek Baad Ek Or Land Chud Ko Chirta Huva Richa Ki Chut Me 2 Inch Gus Gaya Lekin Richa Ki Chut Ka Ched Ki Size Bhi 1 Inch Th Or Bhikhari Budha Ke Land Ki Motai Ki Size Bhi 1 Inch Thi Es Liye Richa Ko Darad Nahi Ho Raha Tha Richa Ko Apni Chud Me Gud Hudi Si Ho Rahi Thi Richa Ke Pure Jivan Me Ye Us Ki Pehe Li Chudai Thi Es Liye Richa Machal Rahi Thi

Kisi Machhali Ke Je Se Land Le Ne Ke Liye Ro Bhikhari Budha Fir 2,3 Dhake Maar Ke Land Ko Or 3 Inch Gusa Diya Ab Tak Land 8 Inch Me Se 5 Inch Richa Ki Chud Me Gus Gaya Tha Or Bahar Shirf 3 Inch Hi Rehe Gaya Tha Kuchh Der Ruk Ne Ke Baad Bhikhari Budha Ne Apana Pura Land Chut Se Bahar Niakal Diya

Or Udhar Richa Tadap Ne Lagai Richa Apne Kamar Ko Uchhal Uchhal Ke Land Unde Le Ke Ki Kosis Kar Ne Lagi Thi Or Bhikhari Budha Ne Fir Se Ek Baar Apne Land Ko Pakda Or Richa Ki Chut Ke Ched  Me Tika Ya Or Es Baar Ek Jat Ke Me Pura Ka Pura 8 Inch Land Chut Ke Gehe Rai Me Gusa Diya Or Richa Ki Chut Me Halka Halaka Darad Ho Ne Laga K Ii Ab Land Kafi Under Chala Gaya Tha

Richa Jat Pata Ne Lagi Richa Apne Muh Se Avaj Nikal Ne Ki Kosis Ki Lekin Bhikhari Budha Ne Us Ke Muh Ko Chora Nahi Or Richa Ko Jakar Ke Rakha Pura Land 8 Inch Tak Richa Ki Chut Gus Ne Ke Baad To Bhikhari Budha Ko Bhi Ae Sa Lag Ratha Ki Us Ne Apana Land Kis Jalti Hui Chiz Me Daal Diya Tha Bhikhari Budha Ka Land Buri Tah Se Jal Raha Tha Or 1 Minit Me Richa Jad Gai Lekin Land Chut Me Ho Ne Ki Vaja Se Chut Ka Chip Chipa Panic Hut Ke Under Rehe Gaya Bahar Nahi Aa Paraha Tha

Karib Der Minit Ke Baad Richa Ki Chut Se Pani Dhire Hdire Richa Ki Chut Jo Kina Re Se Land Ko Nehe La Te Huye Halka Halka Bahar Aa Raha Tha Chut Ka Pani To Chut Se Bhi Jiyada Garam Tha Ae Se Garam Pani Ka Me Land Naha Ke Taro Taja Ho Gaya Tha Land Me Kuchh Hal Chal Mehe Sus Ho Ne Lagi Land Ki Size Or Bad Gai Ab Land Ki Size 10 Inc Lambi Or 2 Inch Moti Ho Gai Thi Ab To Bhikhari Budha Bhi Machhal Raha Tha Us Ke Land Me Bhi Bhari Dabav Ban Gaya Tha Or Ek Taraf Se Chut Bhi Fat Rahi Thui Or Us Me Se Khoon Bhi Nikal Raha Tha Or Richa Jat Pata Rahi Thi

1z7armnod3jd_t.jpg
Bhikhari Budha Bhi Jat Pata Raha Tha Richa Se Ye Darad Bardas Nahi Huva Or Richa Behos Ho Gai

Bhikhari Budha 10 Minit Ruk Gaya Or 10 Minit Ke Baad Bhikhari Budha Apna Land Jo Ki 10 Inch Ka Tha Bhikhari Budha Apna Land Richa Ki Chut Me Under Bahar Kar Ne Laga Tha Or Richa Abhi Bhi Behos Thi Or 5 Minit Bhikhari Budha Ne Richa Ki Chut Me Land Ander Bahar Kar Te Kar Te Ab Apni Kamar Ked Hake Ko Tej Kar Diya Tha Or Jor Jor Se Dhak Ke Maar Raaha Tha Bhikhari Budha

Kitne Saal Lo Ke Baad Bhikhari Budha Ke Land Ko Ek Chut Mili Hai Vo Abhi Itni Garam Garam Chut Or 15 Saal Ki Bachi Ki Bhikhari Budha Jor Jor Ked Hake Maar Raha Tha Richa Ki Chut Me Apna Land Aage Pichhe Kiye Ja Raha Tha Or Sath Sath Bhikhari Budha Ke Hare K Dhake Ke Sath Jab   Bhikhari Budha Ka Land Richa Ki Chut Ke Bahar Aa Ke Fir Se Under Jata Tha Us Ke Dhak Ke Se Richa Puri Hil Jata Thi Sath Sath Jab Jab Bhikhari Budha Apan Land Richa Ki Chut Me Ander Bahar Kart Ha To Richa Or Bhikhari Budha Ke Jaange Or Kamar Ka Hisa Bhi Takra Ta Tha

Or Kamre Me Fat Fat Ki Aavaj Bhi Aati Thi Ab Bhikhari Budha Ne Richa Ke Muh Ko Chat Ne Laga Tha Kabhi Richa Ko Kiss Kart A Tha To Kabhi Richa Ke Gale Me To Kabhi Richa Ke Gaaloko Chat Ta Tha Baar Baar Richa Ka Chehera Chat Ne Ke Vaja Se Richa Ke Chehere Pe Bhikhari Budha Ka Dhuk Laga Gaya Tha Ab Richa Hos Me Aa Rahi Thi Rich Ne Ane Ankhe Kholi Or Dekha Ki Bhikhari Budha Us Se Lipat Gaya Hai Or Tej Tej Saas Le Raha Hai Richa Ke Kaan Ke Paas

Or Richa Ne Mehe Sush Kiya Ki Bhikhari Budha Ka Land Pura Ka Pura Land Chut Me Under Bahar Ho Ra Hai Ab Tak Ki 15 Minit Ho Gai Thi Or Bhikhari Budha Richa Ko Jor Jor Se Chod Raha Tha Ab To Richa Ko Bhi Apni Chut Me Gud Gudi Ho Ne Lagi Thi Richa Ne Apni Tang Ge Adhi Mor Li Jis Ke Vaja Se Richa Ki Chut Or Upper Aagai Ta Ki Land Aasani Se Bina Koi Pare Sani Ke Pura Ka Pura Ek Hi Jat Ke Me Under Bahar Ho Sake

Richa Apne Do No Hath Bhikhari Budha Ke Pith Ko Sehe La Rahi Thi Fir Richa Ne Apne Dono Hath Ko Dhire Dhire Niche Leja Te Hu Ye Bhikhari Budha Ke Kule (Bom) Pe Rakh Ke Bhikhari Budha Ke Kule Ko Under Ki Or Dhakel Ne Lagi Taki Land Or Under Jaa Ye Sath Hi Sath Richa Ke Muh Se Karaha Ne Ki Aavaj Bhi Nikal Rahi Thi Hhhmmmaaa Aahhaha Ooohhh Ahhhhm Ki Or Jit Na Jor Jor Se Bhikhari Budha Richa Ki Chut Me Land Ko Under Bahar Kar Ta Tha Richa Utni Hi Be Kabu Ho Jati Thi

Or Richa Apne Muh Ko Bhikhari Budha Ke Gale Or Kandh Ke Rakh Apne Dat Se Kaat Leti Thi Richa Ki Bhi Ye Pehe Li Chudai Thi Es Li Ye Richa Bhikhari Budha Se Jiya Da Jos Me Thi Ab Tak Ki Chudai Me 1 Ghanta  Ho Gaya Tha Or Richa 3 Baar Jar Gai Thi Or Kuchh Der Me Bhikhari Budha Ki Sas Tej Ho Gai Or Bhikhari Budha Ne Richa Ache Se Pakad Liya Or Apna Virya Richa Ki Chut Me Hi Gira Diya Karib 2 Minit Tak Viriya Richa Ki Chut Me Land Se Nial Ke Girt A Raha 10 Minit Tak Bhikhari Budha Richa Ke Upper Hi Lata Raha Or Apna Land Richa Ki Chut Me Gusa Ye Rakha

10 Minit Ke Baad Bhikhari Budha Ka Land Thanda Ho Gaya Or Dhila Ho Gaya Or Richa Ke Upper Se Hat Ke Richa Ke Paas Let Gaya Or Richa Se Lipat Gaya Or Apna Muh Ko Richa Ke Boobs Me Daba Diya Or So Gaya Next Day Subha Bhikhari Budha Richa Se Pehele Utha Gaya Tha Or Richa Abhi Bhi So Rahi Thi Bhikhari Budha Fir Ek Baar Richa Ko Sidha Pith Ke Bal Leta Ya Or Bhikhari Budha Richa Ke Upper Aa Gaya Or Richa Ke Do No Paav Kokhol Diya Or Khud Bich Me Aa Gaya Or Land Richa Ki Chut Se Ghis Ne Laga

Or Sath Sath Richa Ke Do No Boobs Ke Nipul Bari Bari Se Chus Raha Tha 6,7 Minit Me Land Khada Ho Gaya Or Apne Hali Poji San Me Aa Gaya Bhikhari Budha Ne Apna Land Ko Ek Hath Se Pakad Ki Richa Ke Chut Ke Ched Me Laga Ya Or Ek Hi Jat Ke Me Land Puran Ka Pura 10 Inch Lamba Or 2 Inch Mota Land Richa Ki Chut Me Aasani Se Under Chala Gaya Je Se Koi Saap Apne Bil Me Nata Hai

Fir Bhikhari Budha Apni Kamar Ko Es Baar Dhire Dhire Hila Ne Laga Bhikhari Budha Apne Kand Ke Jat Ke Richa Ki Chut Me Hal Ke Hal Ke Maar Raha Tha Har Jat Ke Me Land Ko Pura Bahar Nikal Deta Tha 10 Inch Tak Or Fir Ek Hi Jat Ke Me 10 Inch Kapura Land Richa Ki Chut Me Daal Deta Tha 10 Minit Ae Se Kar Te Raha Firricha Bhi Jag Gai Richa Ne Dekha Ki Bhikhari Budha Fir Se Richa Ki Chut Maar Raha Hai

Or Sath Hi Sath Richa Ki Boobd Ke Nipul Bhi Chus Raha Tha Richa Bhi Madh Hos Ho Ne Lagi Richa Bhi Aahha Ohh Ki Avaj Nikal Ne Lagi Thi Or 20 Minit Ke Baad Bhikhari Budha Ne Apne Jat Ke Tej Kar Di Ye Ab Bhikhari Budha Apna Land Bphod Teji Se Under Bahar Kar Raha Tha Or Richa Chikh Rahi Thi Aa Hhaha Oohhhaa Maaarrraaggaaiiii Ooohhh 45 Minit Ke Baad Bhikhari Budha Ne Richa Jakar Liya Or Jat Pata Ne Laga Or Richa Ko Apni Chut Ke Under Kuchh Garam Garam Pani Mehe Sus Ho Ne Laga Bhikhari Budha Fir Ek Baar Apna Viriya Richa Ki Chut Me Gira Diya

Kuchh Der Baad Richa Ke Upper Se Hat Gaya Richa Fir Bed Pe Se Khadi Ho Ne Lagi Lekin Richa Jameen Me Gir Gai Fir Richa Himat Kar Ke Khadi Hui Or Bathroom Me Gain Aha Ne Ke Liye Jab Richa Naha Rahi Thi To Richa Ne Dekha Ki Richa Ki Chut Kafi Ful Gait Hi Or Buri Tarah Se Suj Gait Hi Or Richa Ke Chut Ka Muh Bhi Khula Ka Khula Hi Rehe Gaya Tha Richa 20 Minit Ke Baad Naha Ke Aai Towel Ko Lapte Ke

Fir Richa Bed K Eek Kina Re Beth Gai Kiyo Ki Richa Ko Khade Rehe Ne Me Problem Ho Rahi Or Udher Bhikhari Budha Bed Lete Lete Apne Ek Hath Se Land Ko Sehe La Raha Tha Or Richa Socha Rahi Thi Ki Es Bhikhari Budha Ne Kal Raat Se 2 Baar Apna Viriya Meri Chut Me Gira Ya Hai Kahi Me Maa Ban Gai To Me Kisi Ko Muh Dikha Ne Ke Layak Nahi Rahu Gi Tabhi Richa Ko Yaad Aaya Ki Us Ko Mom Ded Ke Bedroom Me Pregnant Na Ho Ne Goli Hai Kiyo Richa Apni Maa Ko Kahi Baar Ye Goli Kha Te Hu Ye Dekha Tha

Richa Ne Turant Apne Mom Ded Ke Bedroom Ko Open Kiya Or Vaha Se Goli Ka Pana Le Ke Aa Gai Or Us Me Se Ek Goli Nikali Or Tebal Pe Rakhi Kiyo Vo Goli Khana Ke Baad Leni Hai Ae Sa Us Goli Ke Peket Me Likha Tha Fir Richa Ne Socha Ki Abhi Nasta Kar Ne Ke Baad Vo Goli Kha Legi Ro Richa Ke Piche Bed Ke Upper Bhikhari Budha Apne Land Ko Jor Jor Se Sehela Raha Tha Or Fir Ek Baar Bhikhari Budha Ka Land Khada Ho Ke Salami De Ne Laga Bhikhari Budha Richa Ka Hath Piche Se Pakda Or Apni Or Khich Liya

Or Richa Ne Jo Towel Apane Badan Par Lapeta Than Aha Ne Ke Baad Us Bhikhari Budha Ne Ek Hi Jat Ke Me Khich Ke Bedke Niche Fek Diya Or Richa Ko Bhikhari Budha Ne Apne Upper Khich Liya Or Richa Ke Hoto Ko Chus Ne Laga Richa Ko Pagalo Ke Je Se Kiss Kar Ne Laga Or Ab Richa Bhikhari Budha Ke Upper Thi Or Bhikhari Budha Richa Ke Niche Es Liye Bhikhari Budha Ka Land Richa Ki Chut Ke Niche Daba Huva Tha

Tab Bhikhari Budha Ne Apane Ek Hatah Se Apana Land Ko Pakda Or Land Richa Ke Chut Ke Under Jana Ka Rasata Dikha Ya Or Je Se Hi Land Ko Richa Ki Chut Ke Under Ja Ne Ka Rasta Mil Gaya Land Turant Makhan Ke Je Se Sooop Kar Ke Chut Ki Under Chala Gaya Fir Bhikhari Budha Ne Apne Do No Hath Ko Richa Ke Bom (Kula) Pe Rakha Richa Ki Gaan Ko Apni Ungli Se Khol Ne Lga Or Bhikhari Budha Ne Apne Do No Tango Ko Mor Diya Or Richa Ke Niche Se Bhikhari Budha Apni Kamar Ko Tej Tej Jat Ke Maar Maar Ke Land Ko Chut Me Under Bahar Ka Ne Laga Tha

20 Minit Ke Baad Richa Bhi Upper Se Apni Kamar Ko Hila Hila Ke Lenad Ko Chut Me Under Bahar Kar Ne Lagi Or 20 Minit Nikala Gaye Richa Ki Chudai Me  Ab Fir Ek Baar Bhikhari Budha Jar Ne Vala Tha Es Li Ye Bhikhari Budha Ne Richa Ko Achhe Se Pakad Ke Khud Richa Ke Sath Rol Ho Te Hu Ye Richa Apni Niche Le Aaya Or Khud Richa Ke Upper Aa Gaya Or Jor Se Haft E Hu Ye Land Ko Chut Me Teji Se Under Bahar Kar Ne Laga Or 2 Minit Ke Baad Bhikhari Budha Ne Fir Se Richa Ki Chut Me Apna Viriya Gira Diya Or Kuchh Der Baad Richa Ke Upper Se Hat Gaya

Fir Richa Ne Jaldi Jaldi Uth Kea Pane School Dress Pehen Li Taki Fir Ye Bhikhari Budha Apane Land Ko Khada Kar Ke Fir Ek Baar Richa Ki Chudai Nahi Kar Sake Richa Niche Jaa Ke Nasta Kar Upper Apne Bed Room Me Aai Or Bhikhari Budha Se Kaha Dekhi Ye Kal Raat Baris Ho Rahi Thi Us Liye Me Aap Ko Upper Lai Thi Lekin Ab Baris Nahi Ho Rahi Hai Or Meri Dadi Bhi Apne Room Me Hai Ab Aap Mere Ghar Se Bahar Chale Jaa Ye Bhikhari Budha Ne Kaha Kiya Huva Muj Se Kuchh Gali Ti Ho Gai

Lekin Richa Ne Kuchh Na Kaha Or Kaha Ki Ab Aap Jaa Ye Yaha Se Bhikhari Budha Ne Kaha Ki Thik Hai Me Jaa Raha Hu Kiya Me 3,4 Din  Tum Hari Chudai Kar Sakta Hu Vada Kar Ta Hu Us Ke Baad Mena Shirf Tum Hare Ghar Se Bala Ke Es Seher Se Dur Chala Jaa Vu Ga Kisi Or Jaga Pe Meri Ab Tak Sadi Bhi Nahi Hui Thi Kiyo Ki Mere Per Gutno Ke Niche Ke Hisaa Bejaan Hai Es Liye Kisi Bhi Orat Ne Muj Sadi Nahi Ki Or Mere Ghar Valo Ne Bhi Muje Nikal Diya Kiyo Ki Me Un Pe Ek Boj Ban Gaya Tha

Lekin Aaj Itne Saalo Ke Baad Jab Kal Raat Me Ne Pehe Li Baar Tum Choda To Muje Ae Sas Huva Ki Me Ne Ab Tak Apni Jind Dagi Bekar Me Gava Di Lekin Kal Raat Ke Baad Pata Chala Ke Jind Dagi Kiya Ho Ti Hai Kiyo Muje Apne Jivan Me Tum Hari Jesi Koi Apsara Pari Raaj Kumara Mili Nahi Thi Shirf 3,4 Din Me Apni Puri Jind Gai Bhar Tum Hara Hesan Man Rahu Ga

Richa Soch Me Pad Gai Richa Socha Ba Kiya Karu Tab Bhikhari Budha Bed Pe Se Niche Gir Kar Rengta Huva Richa Ke Paas Aay Or Richa Ke Paav Pakad Li Ye Or Hath Jor Ne Laga Tab Riicha Ne Kaha Ki Thik Hai Lekin Shirf 4 Din Us Ek Din Bhi Jiyada Nahi Or Meri Ek Sarat Hai Ye Mera School Jane Ka Time Hai Or Me Apna Bedroom Bandh Kar Ke Jaa Vu Tum Ko Under Bandh Kar Ke Or Tum Bedroom Me Koi Avvaj Na Karo Ge Or Bahar Nahi Nik Lo Ge Or Me Saam Ko Aavu Gi

Tab Bhikhari Budha Apna Sir Haa Me Hila Ya Or Richa School Ke Li Ye Nikal Gai Kiyo Ki Richa Ki Chhutiya Bhi Khatam Ho Gai Thi Jab Richa School Gai To Bhikhari Budha Soch Raha Tha Ki Ager Richa Jesi Ladki Jo Shirf 15 Saal Ki Bali Umer Ki Ladki Us Ke Hath Se Jani Nahi Cha Hi Ye Es Liye Bhikhari Budha Ek Tarkip Lagai Ki Vo En 4 Din Me Richa Ko Raat Din Itni Chudai Kare Ga Ki Richa Ki Chut Ko Land Chut Me Le Ne Ki Aadat Ho Jaa Ye Or Richa Ko Ae Si Lat Lag Jaaa Ye Chuda Ne Ki Je Se Kisi Sarabi Ko Sarab Pine Ki Lag Ti Thi Jab Richa Saam Ko School Se Ghar Aai Or Apne Room Me Gai Apni School Dress Change Kar Ne

Richa Apne Bed Room Me Pochi To Us Ne Dekha Ki Bhikhari Budha So Raha Tha Richa Ke Bed Pe Richa Ne Koi Avaj Nahi Ki Or Bathroom Me Jaa Ken Aha Dho Ke Towel Lappet Ke Bahar Aai Or Ek Kbaat Me Se Kapde Nikal Le Or Bed Bethi Or Towel Nikala Or Richa Ne Dusri Penti Pehen Ne Ke Liye Apna Per Daal Hi Rahi Thi Ki Bhikhari Budha Ki Aakh Khul Gai Or Bhikhari Budha Ne Richa Ko Pichhe Se Pakad Liya Or Richa Ki Pith Ko Chaat Ne Laga Richa Ne Kaha Ki Ye Tum Kiya Kar Rahe Ho Abhi Nahi Raat Me Lekin Bhikhari Budha Ne Richa Ek Baat Na Suni Or

Bhikhari Budha Ne Apna Ek Hath Ko Pichhe Se Ho Kar Richa Ke Sine Pe Le Gaya Or Richa Ke Boobs Ko Jor Se Daba Ne Laga Sath Sath Richa Ki Pith Ko Jor Se Chaat Or Kiss Kar Raha Tha Achanak Bhikhari Budha Ne Richa Ko Piche Se Kich Ke Richa Ko Bed Pe Gira Diya Or Khud Richa Ke Upper Aa Gaya Or Richa Boobs Ke Nipul Kobari Bari Se Chus Ne Laga Tha Or Sath Sath Richa Boobs Ko Kaat Bhi Raha Tha Kabhi Richa Ke Boobs Ko Kaat Ta Tha To Kabhi Richa Ke Gale Pe Richa Ko Jab Bhikhari Budha Kaat Ta Tha To Richa Datrad Ke Mare Aahahahhh Aahhha Hahhaha Kar Jati Thi

Fir Bhikhari Budha Richa Ne Boos Ko Chat Te Chat Te Niche Ane Laga Or Richa Ke Pet Pe Kiss Kar Ne Laga Or Sath Bich Me Bich Me Kaat Bhi Raha Tha Or Udhar Richa Madh Hos Ho Rahi Bhikhari Budha Or Niche Ane Laga Chat Te Chat Te Ab Bhikhari Budha Richa Ki Chut Ko Chat Ne Laga Je Se Hi Bhikhari Budha Ne Apni Jibh Ko Richa Ke Chut Ke Muh Me Gusai Richa Machal Ne Lagi Jat Pata Ne Lagi Richa Ko Maza Bhi Aaraha Tha Lekin Bhikhari Budha Ki Jibh Richa Ke Chut Ke Ched Ke Under Jaa Ke Richa Ke Chut Ke Muh Ko Chaat Jati To Richa Machal Jati Thi Je Se Ki Richa Ki Jaan Jaa Rahi Ho

Ab To Bhikhari Budha Apni Jibh Ko Ke Upper Ghuma Ke Richa Ki Chut Ke Muh Ko Kiss Kar Jata Tha Je Se Ki Vo Richa Ke Chut Pe Nahi Richa Ke Muh Ko Kiss Kar Raha Tha Richa Ki Chut Bhikhari Budha Ne Total 15 Minit Tak Chus Ta Raha Or Richa Se Ab Bardaas Nahi Ho Raha Tha Richa Pehe Li Baar Apni Chut Ko Kisi Se Chat Va Rahi Thi Achanak Richa Ki Chut Me Ek Leher Si Uth Gai Or Richa Ki Chut Jar Gai Richa Ki Chut Se Chip Chipa Pani Nikal Ne Laga Tha Lekin Bhikhari Budha Ne Chus Na Bandh Nahi Kiya Us Ne Richa Ki Chut Ko Chaat Na

Jari Rakha Or Je Se Hi Richa Ki Chut Se Pani Nikla Ne Laga Bhikhari Budha Ne Apna Muh Ko Richa Ke Chut Ke Ched Ko Pane Muh Me Bhar Liya Jis Se Richa Ki Chut Se Pani Nikal Ke Sidhe Bhikhari Budha Ke Muh Me Jara Tha Or Sath Hi Sath Bich Bich Me Bhikhari Budha Apni Jibh Ko Richa Ke Chut Ke Ched Me Under Tak Daal Ke Richa Ki Chut Ka Pani Ke Hare K Aakhri Bundh Ko Apni Jibhi Richa Ki Chut Ke Under Tak Daal Ke Chaat Chaat Ke Richa Ki Chut Ko Saaf Kar Diya Or Richa Ki Chut Ko Sukha Diya Tha

Ab To Bhikhari Budha Ka Land Bhi Khada Ho Gaya Tha Or Bhikhari Budha Ne Richa Ke Chut Ko Chaat Te Chaat Te Hu Ye Richa Ki Chut Ke Upper Ho Te Huye Richa Ke Pet Ke Paas Aya Or Upper Aaya Bhikhari Budha Richa Ke Upper Or Bhikhari Budha Ne Richa Ke Muh Tak Puch Gaya Or Richa Ke Hoto Ko Chum Ne Laga Or Sath Hi Sath Richa 2 No Tang Ko Khol Ke Khud Bich Me Aa Gaya Or Richa Ke Chut Ke Upper Se Apna 10 Inch Lambe Land Ko Richa Ki Chut Ke Upper Dhis Raha Tha Or Richa Ke Hoto Chum Raha Tha

Richa Ko Bhikhari Budha Ke Muh Se Us Ki Chut Ke Badbu Bhi Aa Rahi Thi Sath  Hi Sath Richa Ko Bhikhari Budha Ke Muh Me Richa Ki Chut Ka Pani Ka Namkin Savad Bhi Aaraha Tha Bhikhari Budha Ne Jor Jor Se Apana 10 Inch Lambe Land Ko Richa Ki Chut Ke Upper Ghis Ne Laa Tha Lekin Bhikhari Budha Es Baar Khud Apne Hat Tho Se Pakad Ke Nahi Cgut Me Daal Na Chha Tat Ha Kiyo Bhikhari Budha Ye Chah Tat Ha Ki Richa Kud Apne Hatah Se Bhikhari Budha Ke 10 Lambe Land Ko Apne Hath Tho Se Pakad Ke Chut Ke Under Daa Le

Richa Machal Rahi Thi 3o Minit Nikla Gaye Lekin Bhikhari Budha Ne Apna Land Chut Me Nahi Dala Or Chut Ke Upper Hi Dhis Raha Tha Aakhir Richa Se Bar Daas Nahi Huva Richa Ne Apane Ek Hath Bhikhari Budha Ke Land Ko Pkada Or Bhikhari Budha Ke 10 Inch Lambe Land Ka Muh Ko Apne Chut Ke Ched Me Tika Diya Lekin Fir Bi Bhikhari Budha Apne 10 Inch Lambe Land Ko Chut Me Daal Ne Ke Liye Apni Kamar Ko Dhaka Nahi Maar Raha Tha Richa Or Machhal Ne Lagi Kiyo Ki Itna Bada 10 Inch Ka Land Ka Muh Richa Ki Chut Ke Ched Me Land Ka Muh Tika Rakha Tha Lekin Fir Land Under Daal Nahi Raha Tha Bhikhari Budha

Richa Ne Aba Apne Do No Hat Se Bhikhari Budha Ka Land Pakda Or Land Ko Kich Ke Chut Me Daal Ne Lagi Tab Jaa Ke Bhikhari Budha Ka 10 Inch Land Me Se 3 Inch Richa Ki Chut Me Gus Gaya Tha Lekin Ab Bhi Bhikhari Budha Apni Kamar Ko Nahi Hila Raha Tha Fir Richa Ne Apni 2 No Tang Go Mor Ke Bhikhari Budha Ke Kule Se Lipta Diya Or Apne Do No Tango Ko Jor Bhikhari Budha Ke Kule Ko Apni Or Kicha Or Bhikhari Budha Ka 10 Inch Lamba Or 2 Inch Mota Land Pura Ka Puara Chut Ke Under Sat Ho Gaya Or Fir Bhikhari Budha Samaj Gay Ki Ab Richa Tayaar Ho Gai Hai Bhikhari Budha Ne Richa Ki Chudai Su Ru Kar Di 1o Minit Chudai Kar Ne Ke Baad Richa Jar Gai Or Richa Ki Chut Se Garam Garam Pani Nikal Ne Laga

Lekin Richa Ki Chut Me Land Tha Es Liye Chut Ke Sara Pani Land Ke Chaaro Or Se Land Ko Gila Kar Te Hu Ye Hare K Land Ke Jat Ke Sath Jaag Ban Ke Puchul Puchuk Ki Avaj Ke Sath Nikal Raha Tha 1ghnta Or 2o Minit Ke Baad Bhikhari Budha Bhi Jar Gaya Richa Ki Chut Me Hi Jor Jor Haaf Te Hu Ye Richa Apne 2 No Paav Ko Bhikhari Budha Ke Kamar Pe Lappet Di Ye The Or Sath Hi Sath Apna Ek Hath Ko Bhikhari Budha Ke Pith Or Dusra Hath Ko  Bhikhari Budha Sir Ke Baalo Me Gum Ate Hu Ye Daba Rakha Tha Or Udhar Bhikhari Budha Ka Land Richa Ki Chut Me Apna Viriya Niakal Raha Tha

Fir Kuchh Der Baad Bhikhari Budha Ne Richa Ke Upper Se Hat Gaya Or Richa Kapde Pehen Ke Niche Aa Gai Kiyo Ab Diner Time Tha Richa Na Khana Kha Liya Or Khana  Kha Ne Ke Baad Thora Sa Khana Kichan Se Le Ke Apne Room Me Le Jaa Ke Bhikhari Budha Ko Bhi Khila Ya Bhikhari Budha Ne Khana Khan Eke Baad Richa Bhikhari Budha Ki Plat Ko Niche Jaa Ke Kichan Me Saaf Kar Ke Rakh Di Or Vapis Apne Bed Room Me Aa Gai

Jese Hi Richa Apne Bedroom Me Aai To Bhikhari Budha Ne Us Ko Apne Paas Bula Ya Or Fir Se Richa Se Lappet Gaya Or Richa Ke Kapde Faar Diye Or Ek Jat Ke Me Richa Ko Pura Naga Kar Diya Or Fir Richa Ki Chudai Chalu Kar Die K Gante Ke Baad Fir Bhikhari Budha Richa Ki Chut Me Viriya Nikal Diya Lekin Bhikhari Budha Ne Pana Land Thanda Ho Ja Ne Ke Baad Bhi Richa Ki Chut Ke Under Se Apna Land Nahi Nikala Bal Ke Soye Hu Ye Land Ko Richa Ki Chut Me Hi

Rehe Ne Diya Taki Chut Ki Garami Se Land Fir Se Khada Ho Paye Or Sath Hi Sath Hal Ke Hal Ke Jat Ke Bhi Maar Raha Tha Har Adhe Ghan Te Ke Baad Bhikhari Budha Ka Land Khada Kart A Raha Or Richa Chudai Raat Bhar Karta Raha Bhikhari Budha Subha Tak Richa Sone Nahi Diya Jab Subha Hu Richa Ki Aakh Laal Ho Gait Hi Bhikhari Budha Ke Bhi Puri Raat Me Bhikhari Budha Ne Richa Ko 10 Baar Choda Tha Subha Jab Richa Bed Pe Se Uthi To Richa Bed Pe Se Gir Gai Richa Ki Halat Bohod Kharab Ho Gait Hi Richa Ki Chut Suzz Gait Hi Or Lal Rang Ki Ho Gai Suzzan Ki Vaja Se

Rciha Badi Mus Kil Se Apni Do No Tang Go Ko Khol Ke Chal Rahi Thi Sath Hi Sath Langra Rahi Thi Richa Ne Naha Dho Ke Niche Aai Lekin Or Breakfast Kar Rahi Tab Richa Ki Dadi Ne Richa Dekha Or Kaha Ki Richa Tum Thik To Ho Na Beta Tum Hari Aakhe Laal Ho Ke Suz Gai Hai Tab Richa Bahana Bana Diya Ki Us Ki Tabi Yet Thik Nahi Hai To Richa Ki Dadi Ne Kaha Ki Thik Dava Le Lena Or Tabi Yet Thikh Na Ho To School Meat Jana Jab Thik Ho Jaa O To Chali Jana School

Or Richa Nasta Kar Ke Upper Apne Bed Room Me Chali Aai Or Richa Aaj School Jana Cencal Kar Diya Tha Taki Vo Apne Room Me So Sakhe Lekin Je Se Hi Richa Apne Room Me Pochi Or Apne Bed Pe Jaa Ke Leti To Bhikhari Budha Ne Fir Se Richa Ko Pakad Liya Or Richa Kapde Utaar Ne Laga Lekin Richa Mana Kiya Dekho Me Kal Raat Se Nahi Soi Hu Plzz Muje So Ne Dolekin Bhikhari Budha Richa Ki Ek Na Sini Or Pure Din Richa Ki Chudai Kart A Raha Pure Din Or 10 Baar

Richa Ki Chudai Ki Bhikhari Budha Agle 4 Din Taka E Se Hi Bina Ruke Bhikhari Budha Raat Ko 10 Or Din Ko 10 Matalab 4 Din Me 80 Time Richa Ki Chudai Ki Or 4 Din Ke Baad Subha Richa Or Bhikhari Budha Saam Tak So Ye Rahe Or Fir Richa Ne Kaha Ki Ab Tum Chale Jaa O Or Bhikhari Budha Jana Nahi Chaha Tat Ha Lekin Vo Richa Ke Sath Jabar Dasti Nahi Kar Na Chah Te Tha Es Li Ye Vo Chala Gaya ....


मुझे बूढ़े ने चोदा दोस्त की शादी में

मुझे बूढ़े ने चोदा दोस्त की शादी में, dost ki shadi me buddhe ne choda


हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम ज्योति है और मैंने एक दिन थोड़ी ख़ुशी के लिए ज़िंदगी भर अपने आप में एक अज़ीब सी फीलिंग ले ली और अपनी नज़र में गिर गयी, काश वो दिन मेरी ज़िंदगी से निकल जाए, लेकिन जो समय बीत जाता है वो ख़त्म नहीं किया जा सकता, लेकिन आप लोग कहानी को पढ़े और देखे कि मैंने ऐसा क्या कर लिया था?

ये मेरी बिल्कुल सच्ची कहानी है जो एक महीने पहले हुई थी. मेरी उम्र 28 साल है और मेरी शादी को 6 महीने हुए है. में अपनी दोंस्त की शादी में अपने पति (गणेश) के साथ गयी थी और फिर रात के 9 बजे हम लोगों ने खाना खाया और दोस्त से बोली कि हम लोग जा रहे है और फिर उसने बोला कि रुक जाओ सुबह चले जाना तो गणेश बोले कि तुम रुक जाओ में सुबह तुम्हें लेने आ जाऊंगा.

फिर में रुक गयी और रात के 1 बजे मुझे नींद आने लगी तो में ऊपर सोने आ गई तो मैंने देखा कि सब रूम भरे है तो में हॉल में गयी तो हॉल में सब लोग सोए है और लास्ट में एक गद्दा खाली था और सब लोग चादर ओढ़े थे लेकिन मेरे पास कोई चादर नहीं थी. और मेरे बगल में कोई 60-62 साल का गावं का बूड़ा सोया था. फिर में वहीं लेट गयी और सो गयी. उस हॉल में ए.सी. था और मेरे बगल में कूलर चल रहा था तो वो हॉल काफ़ी ठंडा था.

फिर रात में मुझे ठंड लगी तो में उस बूढ़े की तरफ़ सरकी तो उसने मुझे अपनी चादर ओढ़ा दी और में सो गयी. अब रात में मुझे लगा कि वो बूड़ा मेरी तरफ़ चिपक गया और मुझे अपनी तरफ़ पीछे खींचकर मुझे चिपका लिया. अब मुझे उसका स्पर्श काफ़ी अच्छा लगा तो अब में भी पीछे सरक गयी और मज़े लेने लगी कि बूड़ा क्या करता है? फिर उसने मेरी जांघ पर हाथ फैरते हुए मेरी साड़ी ऊपर कर दी और मेरी कमर पर अपना पैर रख दिया और मेरा ब्लाउज खोलने लगा और मेरे ब्लाउज के हुक खोलकर निकाल दिया. अब मुझे मज़ा आ रहा था और अब मुझे उसका स्पर्श गणेश से अच्छा लग रहा था.

फिर वो मेरी ब्रा खोलने लगा और मेरा मुँह अपनी तरफ कर लिया और मुझे किस करते हुए मेरी ब्रा निकाल दी. फिर उसने मुझे अपना लंड पकड़ा दिया, वो केवल अंडरवियर में था तो अब में भी उसका लंड सहलाने लगी और उसने मेरी पेंटी निकाल दी. फिर मेरे बूब्स को चूसने लगा तो अब में एकदम मस्त हो गयी और फिर अब वो मेरे बूब्स चूसते हुए मेरी चूत पर हाथ फैरता हुआ अपनी जीभ से मेरी चूत के दाने को चाटने लगा तो अब में पागल सी हो गयी.

तभी किसी ने लाईट जला दी तो में एकदम डर गयी और फिर लाईट बंद हो गयी. फिर मेरे बगल में जगह देखकर कोई लेट गया, क्योंकि में बूढ़े से चिपक गयी थी तो मेरे बगल में जगह हो गयी थी. अब इधर में घबरा रही थी और उधर वो बूड़ा नीचे मेरी चूत को चाट-चाटकर पागल कर रहा था. फिर मेरा ध्यान मेरे ब्लाउज और ब्रा पर गया तो मुझे याद आया कि मेरी ब्रा और ब्लाउज उस बिस्तर पर है तो अब में घबरा गयी और अब मेरा मन चुदाई से हटकर मेरे कपड़ो पर गया. फिर में उस बूढ़े को हटाने लगी तो वो बोलने लगा कि रूको और मुझे पकड़ लिया. अब में फंस गयी थी और अब मुझे बेचैनी सी होने लगी.

फिर उधर वो पीछे वाला आदमी मेरी चादर में घुसने लगा और मेरी गांड पर हाथ फैरने लगा तो अब मुझे लगा कि वो समझ गया है कि बगल में क्या हो रहा है? अब मुझे लगा कि ज्योति आज तो तू मरी. फिर पीछे वाला आदमी मेरा हाथ पकड़कर अपने लंड पर रखने लगा तो उसने धोती पहनी थी और फिर उसने अपनी धोती साईड में करके अपना लंड मेरे हाथ में थमा दिया. इधर वो पहले वाला बूड़ा मेरे ऊपर आकर मुझे किस करने लगा और अपना लंड मेरी चूत पर टिकाकर अंदर करने लगा.

dost ki shadi me buddhe ne choda


फिर एक दो बार तो उसका लंड फिसला, लेकिन तीसरी बार बूढ़े का लंड मेरी चूत में थोड़ा सा अन्दर घुस गया तो मेरे मुँह से आह्ह कि आवाज़ निकल गयी और में पीछे सरक गयी. फिर पीछे वाला आदमी अपना लंड मेरी गांड के छेद पर थूक लगाकर सेट करने लगा और अंदर करने लगा. अब मेरी गांड फटने लगी कि में कहाँ फंस गयी? अब मुझे पसीना आ गया था और इधर वो पहले वाला बूड़ा अपना लंड हिला-हिलाकर मेरी चुदाई करने लगा था. अब मुझे पीछे से दूसरे आदमी का डर था कि ये कौन है? और में उसका लंड मेरी गांड में नहीं घुसने दे रही थी. अब में अपनी गांड टाईट कर रही थी और वो पीछे पेलने में लगा हुआ था.

इधर मुझे लगा कि वो पहले वाला बूड़ा झड़ने वाला है तो में उसे हटाने लगी, लेकिन उसने मुझे कसकर पकड़ लिया और तीन चार धक्कों में झड़ गया, अब में रोने लगी थी, क्योंकि मुझे अभी बच्चा नहीं चाहिए था और गणेश तो हमेशा कंडोम का उपयोग करते थे.

अब में इस चुदाई से परेशान होने लगी और उस बूढ़े ने अपना लंड निकालकर अपना अंडरवियर पहना और अलग हो गया. अब पीछे वाले आदमी ने मुझे दूसरी तरफ खींच लिया और चादर से बाहर कर दिया और मेरी टाँगे चौड़ी करके मेरे ऊपर आ गया और अपना लंड मेरी चूत पर रखकर अंदर करने लगा, उसका लंड बहुत मोटा था. अब मेरी चूत गीली होने के कारण उसका लंड झट से मेरी चूत में घुस गया, लेकिन वो लंबा लंड मुझे तब मालूम हुआ जब वो अंदर रुका और वो मेरे मुँह पर आकर किस करने लगा. फिर मैंने देखा कि उसने ड्रिंक किया है और वो भी बूड़ा है. अब ड्रिंक की वजह से वो अगल बगल ध्यान नहीं दे रहा था और ना ही डर रहा था. अब उसने मेरी चुदाई जोर-जोर से करनी शुरू कर दी.

अब मुझे लगा कि वो भी झड़ने वाला है तो में उसे भी हटाने लगी, लेकिन वो मुझे कसकर पकड़कर चोदने लगा. और फिर थोड़ी देर में वो मेरी चूत में झड़ गया. फिर मैंने उसे तुरंत हटाया और अपना ब्लाउज ब्रा लिया और हॉल के बाथरूम में चली गयी. फिर जब में वापस आई तो हॉल की लाईट जल रही थी और फिर वो दोनों बूढ़े मुझे देखने लगे.

फिर मैंने देखा कि वो दोनों बूढ़े बहुत गंदे थे और अब लाईट की वजह से और लोग भी आँख खोल रहे थे, इसलिए मैंने अपनी पेंटी को ढूंढना ठीक नहीं समझा और वहाँ से बाहर निकल गयी और मेरी दोस्त की माँ के पास आ गयी. अब वो मेरी सबसे बड़ी ग़लती थी, लेकिन आदमी को एक ग़लती माफ़ होती है, अभी मेरे पीरीयड हो गये है और अब सब ठीक है. में इस चुदाई का आनंद तो नहीं ले सकी, लेकिन आपको मेरी कहानी में मज़ा आया होगा.


बाप ने अपनी बेटी को जबरदस्ती चोदा

बाप ने अपनी बेटी को जबरदस्ती चोदा, baap ne beti ko zabardusi choda

वो बोली : "यार, तेरे पापा को तो सारी तरकीबे आती है, इनसे चुद कर सच में बड़ा मजा आएगा ''.. दोनों सहेलियां फिर से अंदर देखने लगी, अपने-२ जहन में खुद को रश्मि कि जगह रखकर चुदते हुए. शायद चौथी बार था उनका , पर फिर भी समीर को देखकर लग नहीं रहा था कि वो थके हुए हैं , सटासट धक्के मारकर वो चुदाई कर रहे थे.


अचानक समीर ने अपना लंड बाहर खींच लिया, और उठकर रश्मि के चेहरे के पास आ गया, शायद इस बार वो उसके चेहरे पर अपना माल गिराकर संतुष्ट होना चाहता था.


एक दो झटके अपने हाथों से मारकर जैसे ही अंदर का माल बाहर आया, काव्या और रश्मि को लगा जैसे दुनिया रुक सी गयी है, स्लो मोशन में उन्हें समीर के लंड का सफ़ेद और मसालेदार दही रश्मि के चेहरे पर गिरता हुआ साफ़ नजर आया..


रश्मि के चेहरे को अपने पानी से धोने के बाद,बाकी के बचे हुए रस को समीर ने उसके मुम्मों पर गिरा दिया, और वहीँ बगल में लेटकर पस्त हो गया.


शायद ये उनका आखिरी राउंड था.


काव्या ने श्वेता को चलने के लिए कहा, पर जैसे ही श्वेता उठने लगी, उसके सर से खिड़की का शीशा टकरा गया और एक जोरदार आवाज के साथ वो शीशा टूट गया, दोनों सहेलियों कि फट कर हाथ में आ गयी.


दोनों जल्दी से उछलती हुई वापिस अपने कमरे कि तरफ भागी और दरवाजा बंद करके चुपचाप लेट गयी.


समीर ने जैसे ही वो आवाज सुनी वो नंगा ही भागता हुआ वह पहुंचा, जाते हुए उसने अपने ड्रावर में से पिस्टल निकाल ली थी.

baap ne beti ko zabardusti choda



वो चिल्लाया : "कौन है, कौन है वहाँ ……''


नंगी पड़ी हुई रश्मि ने अपने शरीर पर चादर लपेटी और वो भी डरती हुई सी बाहर कि तरफ आयी, जहाँ समीर खिड़की के टूटे हुए शीशे को देख रहा था.


रश्मि : "क्या हुआ, क्या टूटा है यहाँ ''...


समीर : "खिड़की का शीशा, जरूर कोई यहाँ छुपकर हमें देख रहा था ''


रश्मि के पूरे शरीर में करंट सा लगा, ये सोचते हुए कि उसकी रात भर कि चुदाई को कोई देख रहा था


रश्मि : "कौन, ऐसे कौन आएगा यहाँ ??"..


समीर ने काव्या के रूम कि तरफ देखा तो रश्मि बोली : "तुम क्या कहना चाहते हो, काव्या थी यहाँ, नहीं, ऐसा नहीं हो सकता, वो भला ऐसा क्यों करेगी, उसमे इतनी अक्ल तो है कि वो ऐसा नहीं करेगी ''..


समीर ने कुछ नहीं कहा, वो समझ चूका था कि काव्या के सिवा और कोई इतनी उचाई पर आ ही नहीं सकता था, नीचे से ऊपर आने के लिए कोई भी साधन नहीं था, सिर्फ बालकनी से टापकर ही वहाँ पहुंचा जा सकता था , पर वो ये सब बाते अभी करके रश्मि को नाराज नहीं करना चाहता था..


इसलिए वो अंदर आ गया और उसके बाद दोनों सो गए.


दूसरे कमरे में काव्या और श्वेता भी थोड़ी देर में निश्चिन्त होकर सो गए.


अगले दिन श्वेता जल्दी ही निकल गयी, शायद वो समीर कि शक़ वाली नजरों से बचना चाहती थी.


रश्मि सुबह चार बजे सोयी थी, इसलिए वो अभी तक सो रही थी, पर समीर को जल्दी उठने कि आदत थी, इसलिए वो अपने समय पर उठ गया था.


श्वेता को नौ बजे के आस पास जाता हुआ देखकर उसने मन ही मन कुछ निश्चय किया और काव्या के रूम कि तरफ चल दिया.


काव्या अपने बिस्तर पर लेटी ही थी कि समीर ने दरवाजा खड़काया , काव्या ने जम्हाई लेते हुए दरवाजा खोला, और सामने समीर को खड़ा देखकर उसकी आँखे एकदम से खुल गयी, उसके दिमाग में रात कि चुदाई कि पूरी तस्वीर चलने लगी फिर से और उसकी नजर अपने आप समीर के लंड कि तरफ चली गयी.


काव्या : "अरे अंकल .... मेरा मतलब पापा , आप .... इतनी सुबह ??".


समीर कुछ नहीं बोला और अंदर आ गया , उसके चेहरे पर गुस्सा साफ़ झलक रहा था, वो चलते हुए बालकनी में पहुँच गया


काव्या कि तो हालत ही खराब हो गयी, वो वहाँ से अपने कमरे कि बालकनी कि तरफ देखने लगा, और फिर अंदर आकर काव्या के सामने खड़ा हो गया, वो समीर से नजरे नहीं मिला पा रही थी..


समीर : "तुम ही थी न रात को मेरी बालकनी में, तुम्ही देख रही थी न वो सब ....''


काव्या : "क …क़ …क़्यआ …… मेरी कुछ समझ में नहीं आ रहा है ''.


वो इतना ही बोली थी कि समीर का एक झन्नाटेदार थप्पड़ उसके बांये गाल पर पड़ा और वो बिस्तर पर जा गिरी.


समीर चिल्लाया : "एक तो गलती करती हो और ऊपर से झूट बोलती हो …''


इतना कहते हुए वो आगे आया और बड़ी ही बेदर्दी से उसने काव्या के बाल पकडे और उसे खड़ा किया


काव्या दर्द से चिल्ला पड़ी , पर समीर पर उसका कोई असर नहीं हुआ , समीर का एक और थप्पड़ उसके कान के पास लगा और उसे कुछ देर के लिए सुनायी देना भी बंद हो गया.


आज तक उसे रश्मि ने भी नहीं मारा था, और ना ही कभी उसके खुद के बाप ने, और आज ये समीर उसे पहले ही दिन ऐसे पीट रहा था जैसे उसकी बरसों कि दुश्मनी हो.


वैसे समीर था ही ऐसा, उसका बीबी से तलाक सिर्फ इसी वजह से हुआ था कि दोनों में झगडे और बाद में मार पीट काफी ज्यादा बढ़ चुकी थी, समीर ने तो अपनी बीबी को एक-दो बार अपनी पिस्टल से डराया भी था, और यही कारण था उनके तलाक का, घरेलु हिंसा .


पर समीर का ये चेहरा सिर्फ घर तक ही था, बाहर किसी को भी उसके ऐसे बर्ताव कि उम्मीद तक नहीं थी, सोसाईटी में और ऑफिस में तो उसे शांत स्वभाव का सुलझा हुआ इंसान समझा जाता था, पर गुस्सा कब उसके दिमाग पर हावी हो जाए, ये वो खुद नहीं जानता था ..


और आज भी कुछ ऐसा ही हुआ था.


उसके खुद के घर में , काव्या उसके बेडरूम के बाहर छुप कर उसकी चुदाई के नज़ारे देख रही थी, ऐसा सिर्फ उसे शक था, पर फिर भी उसने अपने गर्म दिमाग कि सुनते हुए जवान लड़की पर हाथ उठा दिया, ये भी नहीं सोचा कि उसकी एक दिन कि शादी पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा, रश्मि क्या कहेगी जब उसे पता चलेगा कि उसकी फूल सी नाजुक लड़की को ऐसे पीटा गया है..


और काव्या को तो विश्वास ही नहीं हो रहा था कि उसके साथ ऐसा सलूक किया जा रहा है, जिस समीर पापा कि चुदाई देखकर उसकी चूत में भी पानी भर गया था कल रात और वो उनसे चुदने के सपने देखने लगी थी ,वो उसके साथ ऐसा बर्ताव कर रहे हैं, वो सब रात भर का प्यार नफरत में बदलता जा रहा था अब..


समीर ने एक और झापड़ उसे रसीद किया और फिर बोला : "सच बोल, तू ही थी न रात को वहाँ ''.


काव्या ने आग उगलती हुई आँखों से समीर को देखा और ना में सर हिला दिया..


समीर ने उसे धक्का दिया और उसका सर दिवार से जा लगा, और उसके माथे पर एक गोला सा बन गया , वो दर्द से बिलबिला उठी.


समीर उसके करीब आया और फिर से उसके बालों को पकड़ा और उसके चेहरे के करीब आकर गुर्राया : "मेरी बात कान खोलकर सुन ले साहबजादी, ये मेरा घर है, और मेरी मर्जी के बिना यहाँ का पत्ता भी नहीं हिल सकता, फिर से ऐसी कोई भी हरकत न करना कि मैं तुझे और तेरी माँ को धक्के मारकर इस घर से निकाल दू , समझी , अगर यहाँ रहना है तो सीधी तरह से रह ''.


और फिर बाहर निकलते हुए वो पीछे मुड़ा और बोला : "ये बात हम दोनों के बीच रहे तो सही है, वरना अंजाम कि तुम खुद जिम्मेदार होगी ''.


ये सारा किस्सा रश्मि को न पता चले, इसकी धमकी देकर समीर बाहर निकल आया ...... अपने बिस्तर पर दर्द से बिलखती हुई काव्या को छोड़कर .


उसने उसी वक़्त श्वेता को फ़ोन करके रोते-२ सारी बात बतायी , उसे भी विश्वास नहीं हुआ कि समीर ऐसा कुछ कर सकता है उसके साथ , श्वेता ने काव्या को अपने घर पर आने के लिए कहा.


वो नहा धोकर तैयार हो गयी, तब तक रश्मि भी उठ चुकी थी, और सबके लिए नाश्ता बनाकर टेबल पर इन्तजार कर रही थी, समीर और काव्या जब टेबल पर आकर बैठे तो दोनों ने एक दूसरे कि तरफ देखा तक नहीं.


रश्मि ने अपनी बेटी को उदास सा देखा तो उसके पास आयी और तभी उसके माथे पर उगे गुमड़ को देखकर चिंता भरी आवाज में बोली : "अरे मेरी बच्ची, ये क्या हुआ, ये चोट कैसे लगी ''.


काव्या ने नफरत भरी नजरों से समीर कि तरफ देखा, जो बड़े मजे से नाश्ता पाड़ने में लगा हुआ था, और फिर धीरे से बोली : "कुछ नहीं माँ, रात को बिस्तर से गिर गयी थी, ऐसे बेड पर सोने कि आदत नहीं है न, इसलिए ''.


समीर उसकी बात सुनकर कुटिल मुस्कान के साथ हंस दिया..


अपना नाश्ता करने के बाद काव्या अपनी माँ को बोलकर श्वेता के घर पहुँच गयी.


उसके कमरे में पहुंचकर उसने विस्तार से वो सब बातें बतायी जो आज सुबहउसके साथ हुई थी , जिसे सुनकर श्वेता का खून भी खोलने लगा


श्वेता : "साला, कमीना कहीं का , देख तो कितने वहशी तरीके से पीटा है तुझे, ''


उसने काव्या के माथे को छूकर देखा, वहाँ अभी तक दर्द हो रहा था


श्वेता : "यार, जिस तरह से तू समीर के बारे में बता रही है, मुझे तो लगता है कि ये कोई साईको है, अगर जल्द ही इसका कुछ नहीं किया गया तो शायद किसी दिन ये आंटी के साथ भी ऐसा कुछ ना कर दे ''

ये बात सुनते ही काव्या सिहर उठी, उसे अपनी माँ से सबसे ज्यादा प्यार था और उसे वो ऐसे पिटते हुए नहीं देख सकती थी


काव्या : "नहीं, मैं ऐसा नहीं होने दूंगी ....''


श्वेता : "वो ऐसी हरकत ना करे, ना ही तेरे साथ और ना ही आंटी के साथ, इसके लिए हमें कुछ करना होगा ''


दोनों ने एक दूसरे को देखते हुए सहमति से सर हिलाया, दोनों ने मन ही मन दृढ़ निश्चय कर लिया कि चाहे कुछ भी हो जाए , वो कभी समीर को ऐसा कुछ नहीं करने देंगी


उनके अंदाज को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता था कि वो अपनी बात पूरी करने के लिए किसी भी हद तक जा सकती हैं

दोनों समीर से निपटने कि रणनीति तैयार करने लगी


श्वेता : "देख, अभी कुछ दिन के लिए तो तू बिलकुल चुपचाप रह , तेरा ये सौतेला बाप क्या करता है, कौन-२ उसके दोस्त है, किन बातों से खुश होता है, किनसे नाराज होता है, ये सब नोट करती रह, उसके बाद हम उसके हिसाब से आगे का प्लान बनाएंगे ''.


काव्या : ''पर इससे क्या होगा …??''.


श्वेता : "हमें बस ये सुनिश्चित करना है कि जो आज तेरे साथ हुआ है वो दोबारा न हो, और न ही कभी तेरी माँ के ऊपर ऐसी नौबत आये ''.


काव्या : "और जो उसने मेरे साथ किया है आज,उसका क्या ''


श्वेता : "उसका भी बदला लिया जाएगा , तू चिंता मत कर , तभी तो मैं कह रही हु, उसपर नजर रखने के लिए, हमें उनकी कमजोरी पकड़नी है, ताकि उसका फायदा उठाकर हम अपनी मर्जी से उन्हें अपने इशारों पर नचा सके ''


काव्या कि समझ में उसकी बात आ गयी ..


थोड़ी देर तक बैठने के बाद काव्या वहाँ से वापिस घर आ गयी.


उसने अब श्वेता कि बात मानते हुए समीर के ऊपर नजर रखनी शुरू कर दी ..


वो कोई भी बात कर रहा होता, उसे सुनने कि कोशिश करती, किन लोगो से मिलता है, कहा-२ जाता है, उन सब बातों का हिसाब रखना शुरू कर दिया उसने..


चुदाई के मामले में एक नंबर का हरामी था वो..


दिन में 2-3 बार सेक्स करता था, एक सुबह ऑफिस जाते हुए और फिर रात को सोने से पहले..


उसकी माँ कि मस्ती भरी चीखे पुरे घर में गूंजती थी, जिन्हे सुनकर वो भी गीली हो जाती थी.


समीर का कोई फ्रेंड सर्किल नहीं था, ऑफिस और घर के बीच चक्कर काटना , बस यही काम था उसका..


बस एक ही फ्रेंड था, उसका वकील दोस्त, लोकेश दत्त.


जिसकी सलाह मानकर समीर ने रश्मि को प्रोपोस किया था..


दोनों दोस्त अक्सर शाम को बैठकर दारु पीया करते थे और अपने दिल कि बाते एक दूसरे से शेयर करते थे..लोकेश अपनी फेमिली के साथ पास ही रहता था उनके घर के ...


ये सब वो उसी बालकनी में बैठकर करते थे जहाँ छुपकर काव्या ने अपनी माँ को चुदते हुए देखा था.


पर पीने के बाद समीर ये भूल जाता कि शायद काव्या अपने कमरे के अंदर बैठकर वो सब बाते सुन रही है जो वो दोनों कर रहे होते हैं और वो दोनों अक्सर चुदाई कि बाते भी करते थे या फिर ऑफिस में आयी किसी नयी लड़की के बारे में या कोर्ट में आये केस में फंसी बेबस लड़कियो और उनकी कारस्तानियों के बारे में..


कुल मिलाकार उनकी हर चर्चा का केंद्र सेक्स ही होता था..


शादी के एक हफ्ते बाद दोनों दोस्त बालकनी में बैठकर बारिश और दारु का मजा ले रहे थे..


लोकेश : "यार आजकल कोर्ट में एक तलाक का केस आया हुआ है , मिया बीबी अपनी शादी के बीस साल बाद तलाक ले रहे हैं, मैं औरत कि तरफ से केस लड़ रहा हु, वो रोज आती है मेरे केबिन में, अपनी 19 साल कि लड़की के साथ,उसका नाम है रोज़ी..यार, क्या बताऊ, इतनी गर्म और लबाबदार जवानी मैंने कही नहीं देखि , उसमे बोबे देखकर मन करता है अपना मुंह उनके बीच डालकर अपनी सारी फीस वहीँ से वसूल लू … हा हा हा ''


समीर भी उसकी बात सुनकर बोला : "ये उम्र होती ही ऐसी है, कच्चे-२ अमरुद लगने जब शुरू होते हैं न जवान शरीर पर, उन्हें दबाने और मसलने का मजा ही कुछ और है ……''

वो आगे बोला : "वैसे मुझे उसके बारे में भी बात करनी थी, उनकी माली हालत ज्यादा ही खराब है, इसलिए रोज़ी कोई जॉब करना चाहती है, अगर तेरे ऑफिस में कोई स्टाफ कि जरुरत है तो देख ले। ।''


समीर (कुछ देर सोचकर) : "हाँ , चाहिए तो सही मुझे, अपनी पर्सनल असिस्टेंट , रश्मि से शादी करने के बाद वो जगह अब खाली हो गयी है, तू उसे मेरे ऑफिस भेज देना, मैं देख लूंगा ''


लोकेश : "देखा, सिर्फ उसके बारे में सुनकर ही तू उसे जॉब देने के लिए तैयार हो गया, है तो तू पूरा ठरकी , हा हा "

और फिर अपना गिलास एक ही बार में खाली करते हुए समीर बोला : "एक तेरे क्लाईंट कि बेटी है, जिसके मस्त शरीर कि बाते सुनकर ही मेरा लंड खड़ा हो गया है, और एक मेरी बीबी कि बेटी है, साली ऐसी मनहूस है कि उसे देखकर खड़ा हुआ लंड भी बैठ जाए ''


काव्या छुपकर वो सब बातें सुन रही थी, ये पहली बार था जब समीर और लोकेश उसके बारे में बाते कर रहे थे


लोकेश : "यार, ऐसा भी कुछ नहीं है, मुझे तो उसका मासूम सा चेहरा बड़ा ही सेक्सी लगता है ''


उसने अपने लंड के ऊपर अपना हाथ फेरते हुए कहा


दोनों पर शराब पूरी तरह से चढ़ चुकी थी


कुंवारी नौकरानी की चूत के मजे लूटे

कुंवारी नौकरानी की चूत के मजे लूटे


मैं लखनऊ की रहने वाली हूं। मैंने अपनी पढ़ाई लखनऊ से ही पूरी की थी। मैं यहां अपने मम्मी पापा के साथ रहती थी। पढ़ाई पूरी होने के बाद मुझे तुरंत ही पुणे से जॉब का ऑफर आ गया था। मैं पुणे जाना चाहती थी। लेकिन मेरे घर वालों को मेरी बहुत चिंता सता रही थी। कि मैं वहां अकेले कैसे रह पाऊंगी। पर मैंने अपने घरवालों को समझाया और कुछ दिन बाद मैं पुणे चली गई। वहां मैं अकेली रहती थी। मेरा ऑफिस मेरे फ्लैट से ज्यादा दूर नहीं था। मैं अकेली जाती और अकेली ही आती थी। फिर ऑफिस में मेरे कुछ नए दोस्त बने।


एक दिन मैं ऑफिस से घर जा रही थी तभी अचानक विवेक मुझे मिला। मैं उसे देख कर बहुत खुश हुई।  हम दोनों स्कूल से लेकर कॉलेज तक दोनों साथ ही पढ़ते थे। वह मेरा बहुत अच्छा दोस्त था। एक दिन वह पुणे आया पर उसे रहने की अच्छी जगह नहीं मिल रही थी तो मैंने उसे तब तक अपने ही साथ रहने को कहा। जैसे ही उसे नौकरी मिलती वह अपने लिए दूसरा फ्लैट देख लेता। लेकिन तब तक वह मेरे साथ मेरे फ्लैट में रहता था। यह बात मैंने अपने घरवालों को नहीं बताई थी। हम दोनों पहले से ही एक दूसरे को अच्छी तरह जानते थे। तो मुझे उसके यहां रहने से कोई दिक्कत नहीं थी।


मैं सुबह अपने ऑफिस जाती और शाम को घर आती तब तक विवेक घर पर ही रहता। कभी वह जॉब की इंटरव्यू के लिए जाता इधर उधर भटकता फिरता रहता था। हम दोनों साथ में ही रहने लगे थे। कुछ दिन बाद उसे भी अच्छी जॉब मिल गई। हम दोनों साथ में ही घर से निकलते और साथ ही घर वापस आते हैं। हम दोनों मिलकर घर का काम करते थे। साथ रहते रहते हमें एक दूसरे की आदत हो गई थी। अब हम एक दूसरे के बिना नहीं रह पाते थे। हम दोनों एक दूसरे को पसंद करने लगे थे। जब भी हमें समय मिलता हम दोनों आपस में घूमने जाया करते दोनों समय बिताते।


एक दिन विवेक ने मेरा हाथ पकड़ लिया और कहने लगा तुम्हें मुझे देखकर कुछ लगता नहीं है क्या मैंने उसे कहा लगना क्या है इसमें। हम दोनों एक साथ रहते हैं इसमें कुछ समस्या वाली बात नहीं है। तो वह कहने लगा मेरी और भी जरूरत है क्या तुम पूरी करोगी। मैंने कहा ऐसी कौन सी जरूरत है तुम्हारी जो मैं पूरी नहीं कर पा रही हूं। मैं उसके मन में क्या है वह तो समझ चुकी थी। पर उस समय मैंने कुछ नहीं कहा फिर मैं नहाने चली गई। वह बाहर मेरा इंतजार कर रहा था। जैसे ही मैं नहा कर आई मैंने टॉवल अपने शरीर को लपेटा हुआ था। मेरे गीले बाल थे। उसने मुझे ऐसे ही अपनी बाहों में समा लिया और कहने लगा। अब तो तुम मेरी जरूरतों को समझ लो। उसके यह कहते ही मेरा टावल नीचे गिर गया। मेरी पैंटी ब्रा उसने देख ली।


मैं उसके सामने ऐसी खड़ी रही मुझे पहले अच्छा महसूस नहीं हो रहा था। उसने कहा  कोई बात नहीं और यह कहते हुए उसने मुझे अपने गले लगा लिया। अब उसने मेरी लाल पैंटी में हाथ डाला और मेरी योनि को दबाने लगा। मैंने आज ही अपने चूत से बाल साफ किए थे। तो वह एकदम  चिकनी हो रखी थी। जिसको देखकर वह कहने लगा। तुम्हारे तो एक भी बाल नहीं है। यह सुनकर में हंस पडी। हंसते-हंसते उसने मेरी चूत इतनी जोर से दबा दिया कि मेरे मुंह से आवाज निकल पड़ी। और मैं उसे कहने लगी। इतनी जोर से क्यों दबा रहे हो आराम से भी तो कर सकते हो। अब यह कहते हुए मैंने उसे  गले लगा लिया।


मैंने उसके होठों को अपने होठों से मिलाते हुए किस करना शुरू कर दिया। जैसे-जैसे मैं किस करती जाती। वह मेरी तरफ आता जाता मैंने उसको बहुत तेजी से किस करना शुरू किया। वह मुझसे कहने लगा तुम तो बड़े अच्छे से किस करते हो। मेरे से भी नहीं रहा जा रहा था। मैंने जैसे ही उसकी पेंट  मैं हाथ लगाया तो उसका लंड खड़ा हो रखा था। यह देख कर मैं थोड़ा हिचकिचाने लगी। पर मैंने उसकी जीप खोल कर उसके लंड को बाहर निकाल लिया और उसको अपने मुंह में ले लिया। जैसे ही मैंने उसके लंड को अपने मुंह में लिया। वह कहने लगा तुम तो बड़े अच्छे से कर रही हो थोड़ा और अंदर लो। मैंने भी उसको लंड को पूरे अपने गले मे ले लिया।


जैसे-जैसे मैं अंदर बाहर करती जाती उसको मजा आता। वह कहता बहुत अच्छे से कर रही हो तुम अब उसके बाद उसने मुझे खड़ा किया और मेरी ब्रा को खोलते हुए। मेरे स्तनों को अपने हाथों से दबाने लगा। पहले वह धीरे धीरे दबा रहा था। किंतु अब उसने काफी तेज दबाना शुरु कर दिया। अब अपने मुंह में भी मेरे स्तनों को ले लिया और उसे चूसने लगा। धीरे-धीरे वह मेरे चूचो को चूसता तो मुझे गुदगुदी सी होती और मुझे अच्छा महसूस होने लगता। अब उसने मेरे चूचो को पूरे अपने मुंह में समा लिया था और उसको अच्छे से चूसने लगा था।


यह देखकर  मुझे अच्छा लग रहा था और अंदर से अच्छी फीलिंग आ रही थी। उसने मेरे निप्पल पर दांत भी काट दिए थे। जिससे मुझे सेक्स की मांग मेरी बढ़ गई थी। मैंने अपनी योनि में उंगली लगा कर उसे रगड़ना शुरू कर दिया।  जैसे-जैसे मेरा सेक्स की भूख बढ़ती जाती वैसे ही मुझे और अच्छा लगता जाता। वह मेरे स्तनों का  अच्छे से रसपान कर रहा था। उसके बाद उसने मुझे जमीन पर ही लेटा दिया और मेरी पैंटी उतार दी। जैसे ही उसने मेरी पैंटी उतारी उसके बाद उसने अपने मुंह में मेरी योनि को लेते हुए। मेरी योनि के ऊपरी हिस्से को दबा लिया। अब उसने मुझे उल्टा कर कर मेरी गांड को भी चाटने लगा वह मेरे दोनों तरफ चाटता कभी आगे कभी पीछे मुझे इससे अच्छा लगने लगा था। अब उसने धीरे से मुझे उठाकर थोड़ा सा किनारे पर कर दिया।


अब वह मेरे ऊपर लेट गया और जैसे ही वह मेरे ऊपर लेटा तो उसने अपने लंड को मेरी योनि में धीरे धीरे डालना शुरू किया। क्योंकि मेरी योनि गीली हो चुकी थी इस वजह से उसे डालने में कोई परेशानी नहीं हुई। वह पूरा अंदर तक चला गया मानो ऐसा लगा जैसे दीवार में उसने सटा दिया हो  उसने अपनी स्पीड पकड़ी और काफी तेज तेज करने लगा मेरे स्तन और तेज हिलने लगे। वह इतनी तेज हिल रहे थे जैसे मानो भूकंप के झटके आ रहे हो। उसने 10 मिनट तक किया उसके बाद मेरी योनि इतनी गरम हो गई कि वो बर्दाश्त नहीं कर पाया और उसका वीर्य पतन हो गया। जैसे ही उसका वीर्य गिरा। वह कहने लगा तुम वाकई में बहुत अच्छी हो। उसके बाद उसने दोबारा से थोड़ी देर बाद मेरे साथ सेक्स किया।


इस बार उसने मुझे इतनी जोर से धक्का मारा कि मेरे तो गले तक ही आ गया उसका लंड वह बड़ी तेजी से कर रहा था मानो जैसे कोई ट्रेन छूटने वाली हो लेकिन मुझे अच्छा लग रहा था। थोड़ी देर में उसने मुझे अपनी गोद में उठा लिया और उठाते उठाते ही वह मुझे चोदने लगा। अब मुझे बहुत ही अच्छा लगने लगा था। मानो ऐसा लग रहा था जैसे मेरी इच्छा पूर्ति हो गई हो। उसने धीरे से मुझे कहा मेरा गिरने वाला है। उसके बाद उसने मुझे लिटा दिया और मेरे पेट पर ही सारा वीर्य गिरा दिया। जिससे कि मेरा पुरा पेट गीला हो गया। उसके बाद मैंने कपड़े से साफ किया और अब हम दोनों रोज रात को ऐसा करने लगे।


हमने कुछ समय बाद शादी का फैसला कर लिया। हम पहले से ही जानते थे तो हमें एक दूसरे के बारे में जानने की जरूरत नहीं पड़ी। विवेक बहुत अच्छा लड़का था। अब हम ने शादी करने का फैसला किया मैंने यह बात अपने घरवालों को बताई तो उन्होंने इनकार कर दिया। और कहां पहले हम विवेक से मिलना चाहते हैं। उसके बाद हम फैसला करेंगे। एक दो महीने बाद जब मैं घर गई तो मैंने अपने मम्मी पापा को विवेक के बारे में बताया और उसे अपने घर वालों से मिलाया। मेरे पापा को विवेक बहुत अच्छा लगा। लेकिन मेरे मम्मी अभी भी दुविधा में थी क्योंकि विवेक का इस दुनिया में कोई नहीं था।


बचपन से उसके पिताजी ने उस को पाला और उसको पढ़ाया-लिखाया पर कुछ समय बाद उनका भी देहांत हो गया। अब वह बिल्कुल अकेला रह गया था। मैं और विवेक एक दूसरे को बहुत पसंद करते थे। मैने जैसे तैसे करके अपनी मां को शादी के लिए मनाया। मेरी मां विवेक से शादी कराने के लिए इसलिए तैयार नहीं थी। क्योंकि मेरी मां ने मेरे लिए कहीं और रिश्ता तय कर रखा था। लेकिन यह बात मुझे पता नहीं थी। मेरी मां ने यह बात मेरे पापा से की लेकिन मेरे पापा तो मेरे फैसले से खुश थे। लेकिन मां को मेरी बहुत चिंता थी।

भैंस चराने गई लड़की को पेला

भैंस चराने गई लड़की को चोदा


यारों मैं फिर एक बार अपनी कहानी लेकर हाजिर हूँ. इस बार मैं आपको अपने बचपन की एक कहानी सुना रहा हूं मेरा परिवार शुरू में गांव में रहता था. गांव का माहौल शहर के माहौल से बिल्कुल अलग होता है मेरे घर का माहौल भी एक गांव के माहौल की तरह ही था. घर में मैं मेरे पिताजी और माताजी थे सबसे छोटा होने के कारण मैं अपने मां-बाप का बहुत लाड़ला बेटा था इस कारण थोड़ा जिद्दी भी हो गया था. Desi Village XXX Story

मैं करीब 14- 15 साल की उम्र अपने मम्मी पापा के साथ ही सोता है इसीलिए कई बार मुझे मां की लाइफ चुदाई देखने का मौका मिला! गांव में पति पत्नी एक साथ नहीं सोते हैं एक ही कमरे में भी अलग अलग खटिया पर सोते हैं. मेरे पापा अलग खटिया पर और मैं और मेरी मां उसी कमरे में अलग खटिया पर सोते थे. मैं तीन-चार साल तक तो अपनी मां का दूध पीता ऱहा था, इसीलिए मैं उनके साथ ही सोता था.

कभी-कभी मैं चड्डी पहन के तो कभी एकदम नंगा सो जाता हूं गांव में बच्चे अक्सर ऐसे ही सोते हैं. चड्डी पहन कर बनियान पहनकर गांव में भी घूमते रहते हैं अक्सर मेरे पापा रात में मम्मी की चुदाई करते थे बिल्कुल नंगा करके. एक रात जब मेरी नींद टूटी तो देखा पापा मेरे पास मम्मी के पास लेते हैं. और मम्मी की पीठ के पास चिपकर कुछ कर रहे हो मुझे यह सब समझ में नहीं आता था.


फिर भी मैंने देख पापा मम्मी बिल्कुल नंगे हो मैं उठ कर बैठ गया और मम्मी मम्मी करने लगा. मम्मी ने मुझे अपने पास लेटा लिया पापा भी मम्मी के पास ही लेटे रहे मैंने देखा पापा मम्मी की चुदाई कर रहे. पापा का लंड मम्मी की चूत में डाला था दोनों बिल्कुल नंगी थे. थोड़ी देर बाद मुझे सोया जानकर पापा मम्मी को अपने पास खटिया पर ले गए. उन्होंने मम्मी की चूत चाटना शुरू कर दी है.

मैं फिर उठकर मम्मी पापा के पास पहुंच गया मुझे देखकर पापा कहने लगे तेरे को नींद नहीं आ रही है. मैंने आप मिलते हुए कहा मुझे आपके पास लेटना है पापा ने मुझे अपने पास लिटा लिया और फिर मम्मी की चुदाई करने लगे. पापा ने इस बार मम्मी के होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उनके बूब्स दबाने लगे. मैं जाग रहा था और सब कुछ देख रहा था लेकिन मेरे पापा मम्मी को मेरे जागने से कोई फर्क नहीं पड़ रहा वे तो अपने काम में मस्त थे.

थोड़ी देर बाद में जब उठ गया तो पापा ने मुझे अपनी जांघो के पास बैठा लिया. और अपना लंड मुझे पकड़ा दिया और कहा तू इसके साथ खेल. मैं पापा का लंड पकड़ कर खेलने लगा कभी पापा का लंड पकडकर हिलाता तो कभी चूसता, मुझे और मजा आ रहा था. थोड़ी देर बाद में मम्मी के जनों के बीच बैठ गया और मैंने मम्मी की चूत में उंगली डालना शुरू कर दिया. कि बीच बीच मे कभी जीभ से चुम्मी लेकर चूत चाट लेता था.

मैं काफी छोटी उम्र से पापा से लंड से खेलता था मुझे लंड से खेलना और चूत में उंगली डालना बहुत अच्छा लगता था. जब मैं छोटा था तो रात में उठ जाता था तो पापा मुझे इसी तरह अपनी जांघों के बीच बिठाकर लंड से खेलने को कह देते थे. और पापा मम्मी कै कभी होठों का रस पीते तो कभी दुघ चूसते थे. पापा जब मम्मी की चूत चाटने लगे तो मैं मम्मी के दूध चूसने लगता था.


मेरी मम्मी मेरे सामने छोटे से ही नंगी हो जाते थे मेरे सामने नहा भी लेते अपने कपड़े बदल लेते हैं. इसी तरह मेरे पापा मेरे सामने नंगे होकर नहा लेते थे और कपड़े भी बदल लेते थे. 1 दिन जोरदार बारिश हो रही थी मैं बाहर से जब घर पर आया तो मुझे घर पर मम्मी कहीं नहीं देखी. मैंने पूरा घर छान मारा लेकिन मुझे मम्मी कहीं नहीं देखी फिर मैं बेडरूम में गया यहां मेरे मम्मी पापा सोते थे.

मैंने गेट खोल कर देखा तो पापा मम्मी की चुदाई कर रहे थे पापा मम्मी दोनों एकदम नंगे थे. पापा ने मम्मी को घोड़ी बना रखा था और उनकी चूत में अपना लंड डाल रखा है मैं गेट खोल कर सीधे कमरे में घुस गया. अचानक मुझे देखकर मेरे मम्मी पापा हड़बड़ाबे और अलग हो गए. मम्मी बोली बेटा तू कब आया मैंने बोला मैं अभी आया आप नहीं दिखे तो मैं घर आ गया.

उस समय मेरा सिर्फ खड़ा होता था लंड को पकड़ कर मसलने में मजा आता था लेकिन पिचकारी नहीं छूटती थी मैं कमरे में खटिया पर बैठ गया. मैं यह देखकर हैरान रह गया कि मेरे मम्मी पापा मेरे पास ऐसे नंगे ही बैठ गए. पापा खटिया पर लेट गए मैं हर बार की तरह पापा लण्ड सहलाने लगा. पापा मम्मी की चूत चाटने लगी थोड़ी देर बाद पापा ने मुझे अलग कर दिया और मम्मी को आगे की ओर झुका दिया और अपना लंड एक ही झटके में मम्मी की चूत में डाल दिया.

मैंने पहली बार मम्मी की लाइफ चुदाई अपनी आंखों से देखें. पापा मम्मी ने मुझे कमरे से बाहर जाने को भी नहीं कहा मम्मी ने पापा के कान में कहा कि इसको बाहर भेज दो. पापा बोले अभी तो बहुत छोटा है उसे कोई ज्ञान नहीं है बैठा रहने दो. मैंने पापा से मासूमीयत इसलिए पूछा पापा आप यह क्या कर रहे है तो पापा कहने लगी मैं संभोग कर रहा हूं. मैंने कहा यह क्या होता है पापा बोले जब तुम बड़ा हो जाएगा तो तू भी अपनी पत्नी के साथ यह सब करेगा.

पापा कहने लगे तू भी तो इसी चू से निकला है मैंने कहा पापा यह चूत क्या होती है. तो पापा कहने लगे औरत की नंगू को चूत कहते हैं और पापा के सुसु को लंड कहते हैं. मैंने कहा तो क्या मेरी सुसु भी लंड कहेगी पापा कहने लगी हां तेरा भी अब खड़ा होने लगा है तेरी सुसु अब लंड बन गया है. पापा और मैं बातें कर रहा था और पापा मेरे सामने ही मम्मी की चूत मार रहे थे.


20 मिनट की चुदाई के बाद पापा ने मम्मी की चूत में ही अपना माल पानी छोड़ दिया. पापा मम्मी को नंगा देखकर मैं भी उत्तेजित हो गया था मैंने भी अपनी चड्डी उतार और अपनी सुसु को सहलाता रहा और हम तीनों मजा करते रहे. घर में रोज मम्मी पापा की चुदाई देखकर मैं भी उत्तेजित हो जाता था और मुझे भी किसी की चूत मारने की इच्छा होने लगी थी.

गांव में अक्सर लड़का लड़की अपने पालतू जानवरों को चराने के लिए जंगल जाते हैं. मेरे पड़ोस में भी एक लड़की मेरी ही हम उम्र थी वह भी अपनी गाय भैंस चलाने के लिए जंगल जाती थी. मैं भी एक दिन उसी के साथ जंगल चला गया जंगल में हम दोनों एक सिला पर बैठ गए और आसपास ही हमारे जानवर चलने लगे. हम लोगों की बातें करते रहे मैंने चड्डी बनियान पहन रखी थी तो उस लड़की ने भी देखा ब्लाउज और घाघरा पहन रखा था.

कुछ देर बाद छोकरी को लैट्रिन लगी छोकरी मुझसे बोली मेरे जानवर देखना मैं लैट्रिन होकर आती हूं. छोकरी एक बोतल में पानी लेकर झाड़ियों के पीछे बैठ गई और पॉटी करने लगी. थोड़ी देर में मैं भी उसी लड़की के सामने जा पहुंचा लड़की मुझे देख कर कहने लगी तुम यहां क्यों आ गए. मैंने कहा मुझे भी लेट्रिन आ रही है और मैं अपनी चड्डी खिसका कर उसी के सामने पॉटी करने बैठेगा.

लड़की कहने कोई आ जाएगा मैंने कहा इस जंगल में अभी कोई नहीं आएगा. मुझे वैसे पॉटी नहीं आ रही थी लेकिन मैं तो लड़की की चूत देखने के लिए बैठ गया था. थोड़ी देर बाद मैंने उससे कहा तेरी सुसु तो बहुत अच्छी है मैं उसे छूकर देखना चाहता हूं. छोकरी बोली कोई आ जाएगा मैंने कहा कोई नहीं आएगा. और मैंने उसकी चूत पर हाथ फेरना शुरू कर दिया और एक उंगली उसकी चूत के अंदर डाल दी और उसकी चूत में उंगली करने लगा

मेरे उंगली करने से लड़की को मजा आने लगा मैंने लड़की से कहा मेरी सुसु भी पकड़ कर देख. डरते डरते लड़की ने मेरा लंड पकड़ लिया और जोर से दबाने लगी. उसके लंड दबाने से और उसकी चूत में उंगली करने से मेरा लंड पहले ही खड़ा हो गया था. लड़की से मैंने कहा इसकी खाल पीछे करो तो उसने मेरे लंड की खाल पीछे की तो मेरा लाल सुपडा देखकर वह खुश हो गई.


कहने लगी तेरी सुसु तो बहुत अच्छी और बड़ी है मेरे पापा की सुसु भी ऐसी ही है. मैंने उससे कहा जब लड़का बड़ा हो जाता है तो उसको सुसु नहीं लड कहते हैं और तू भी अब बड़ी हो गई है तो तेरी चू चू चू तो बन गई है. लड़की मेरे लंड को शहला टी रही मैं उसकी चूत में उंगली करता रहा. थोड़ी देर बाद हम लोग फिर टीले पर आकर बैठ गए मैंने लड़की से कहा चलो पापा मम्मी वाला खेल खेलते हैं.

लड़की कहने लगी मुझे यह खेल नहीं आता है मैंने कहा मुझे यह खेल आता है. मैंने पापा मम्मी को कई बार खेलते हुए देखा है मैं लड़की को झाड़ी के पीछे ले गया. और मैंने लड़की को पीठ के बल सीधा लिटा दिया लड़की का घाघरा और उसकी चड्डी उतार दी. और मैं उसकी दोनों टांगों के बीच में बैठ गया मैंने उसकी सुसु अपनी जीभ से चाटना शुरू कर दी.

तो लड़की मस्त हो गई कहने लगी बहुत मजा आ रहा है फिर मैं सिक्सटी नाइन की स्थिति में उसके ऊपर लेट गया. और मैंने अपना लंड उसके मुंह में दे दिया और कहा यह तू भी चूस तेरे को भी बहुत मजा आएगा. लड़की ने मेरा पूरा लंड मुंह में ले लिया और चूसने लगी. हम दोनों एक दूसरे के लंड और चूत चूस रहे थे तभी किसी की आने की आहट सुनाई दी. “Desi Village XXX Story”

तो हम लोग अलग हो गए और अपने कपड़े पहन कर टीले के पास आ गए. उस दिन मैं उस लड़की की चुदाई नहीं कर सका, लड़की चुदाई के लिए तैयार थी लेकिन किसी के आज आने की आहट के कारण में चुदाई नहीं कर सका. मेरा लंड प्यासा ही रह गया मैंने लड़की के सामने ही अपनी मुठ मारी लड़की कहने लगी यह क्या कर रहे हो. मैंने कहा यह मैं मुठ मार रहा हूं कल पापा मम्मी वाला बाकी खेल भी खेलेंगे.

दूसरे दिन जब हम लोग गए तो पहले की तरह झाड़ियों के पीछे पहुंच गए. मैंने लड़की की चूत में उंगली करना शुरू कर दिया और उसके बूब्स चूसने लगा. थोड़ी देर में लड़की की चूत पानी छोड़ने लगी तो मैंने उसकी चूत चाटना शुरू कर दिया और अपना लंड उस लड़की के मुंह में दे दिया. हम दोनों ने 10 मिनट तक एक दूसरे की चूत और लंड चाहते लड़की की चूत नमकीन पानी छोड़ने लगी.

तो मैंने उसकी दोनों टांगों के बीच में बैठ गया और अपना लंड थूक लगा धीरे-धीरे लड़की की चूत में डालना शुरू किया. लड़की कहने लगी दर्द हो रहा है दर्द हो रहा है, मैंने उससे कहा तेरी चूत अभी फ्री नहीं है इसलिए थोड़ा सा दर्द होगा थोड़ा सा बर्दाश्त करो. मैं रोका नहीं धीरे-धीरे मैंने लड़की की चूत में लण्ड डालकर चुपचाप लेट गया. थोड़ी देर बाद जब लड़की का दर्द कम हो गया तो मैंने फिर मैंने चूत में लंड घिसना शुरू कर दिया.
कामुकता हिंदी सेक्स स्टोरी : पति को हार्डकोर सेक्स से खुश करके उनका प्यार फिर से पा लिया

धीरे-धीरे लड़की को भी मजा आने लगा और वह भी मेरी चुदाई में सहयोग करने लगी. 15 मिनट की चुदाई के बाद में अपना माल पानी उसी की चूत में छोड़ गए. हम दोनों एक दूसरे के ऊपर ऐसे ही देते रहे फिर अलग होगए. कई दिनों तक हम लोग इसी तरह चुदाई का मजा लेते रहे. मेरे पापा मम्मी जिस तरह से अलग-अलग आसन में चुदाई का मजा लेते थे मैं भी उसी को देखकर लड़की के साथ चुदाई का मजा लेता था.

एक बार मैंने लड़की को घोड़ी बनाकर पहले उसकी चूत चाटी फिर उसकी चूत घोड़ी बनाकर मारी. हम दोनों को बहुत मजा आया लड़की को भी मरवाने में बहुत मजा आता था. इसलिए वह भी जल्दी तैयार हो जाती थी हम लोग झाड़ी के पीछे जाकर रोज संभोग करते थे. लड़की उस समय एमसी से ठीक से नहीं होती थी इसलिए प्रेग्नेंट होने का ज्यादा डर नहीं था.

पहली बार जब मैंने लड़की की चुदाई की तो उसकी चूत से ढेर सारा खून निकला मेरा लंड भी खून से रंगे आता लड़की डर गई. लेकिन मैंने उससे कहा कि मैंने बीएफ में देखा है लड़की चूत से खून निकलता है तो लड़की समझ गई. हम दोनों ने उस दिन चुदाई के बाद अपने पास के ही एक तालाब में धोया और लड़की की चूत भी धोकर साफ कर दी. ताकि उसके घर वालों को पता ना पड़े की लड़की चुदाई करवा कर आई है आगे की कहानी अगले भाग में मैं लिखूंगा!

Khet Me Pahla Lund Liya Maine

Khet Me Pahla Lund Liya Maine

Adult Stories Main Vaani Greater Noida se aaj apni pehli jabardast dard se bhari chudai ki ek majedar kahani le kar aayi hoon. Wese main Greater Noida me ek call center me kaam karti hoon. Meri umar aaj 23 saal hoon, aur apni umar ke hisab se main 23 ladko se ab tak chud chuki hoon. Village Girl Virgin Pussy

Main apni call center ke office me ek manger ki post par hoon. Whan tak pouchne ke liye, main apne raste me aane wale. Un sab mardo ke bistar garam kiye hai. Jo jo mere raste me aaye hai, aur aaj bhi main time to time unko khush karti rehti hoon.

Dosto main apni life ke ye 23 chudai ke kisse baten ke liye aayi hoon. Par aaj main aapko apni life ki pehli chudai ke bare me batana chahati hoon. Jo meri life ka sabse majedar aur dard bhara rha hai. Mujhe puri umeed hai, ki aapko meri ye pehli kahani pasnad aayegi.

Toh chaliye main aaj ki kahani aap sab ko batati hoon. Ye kahani aaj se 5 saal pehle ki hai. Jab main gaon me apne ghar walo ke sath rehti thi. Mujhe sex ke bare me itna nhi pata tha. Bas jitna school me meri friends ne mujhe btaya tha, sirf hi utna hi pata tha.
Mast Hindi Sex Story : Young Didi Hawas Me Andhi Hui

Par us umar me hi sex naam sunte hi choot aur meri pure jism me ek ajeeb si halchal honi shuru ho jati hai. Mere ghar me mere sath mere mummy papa rehte hai. Main ek gaon me rehti thi, mere papa ke pass apne 11 khet hai. Jis vajah se unhone apni help ke liye.

Ek nokar rkha hua tha, wo bahot time se humare pass rehta tha. Isliye main bachapan se hi use chacha kehti thi. Ab wo humari family ka member jesa hi tha. Dheere dheere main badi aur jawan hone lag gyi. Chacha ek dam kale rang ke patle se the, wo dikhne me bahot ajeeb se lagte the.

Par wo mere sath majak karte the, isliye hum dono ki achi baat chit thi. Par fir bhi main usne kafi kam bolte thi. Papa ne use apne ghar ke pass wale ek aur apna hi ek chhota sa room rehne ke liye diya hua tha. Isliye wo subah hi humhare ghar aa jate the, aur wo breakfast karke papa ke sath khet me chale jate the.

Fir main ya mummy dopher ko khet me lunch dene ke liye jati thi. Main aur mummy papa ke jane ke baad, ek dam akeli reh jati thi. Jis vajah se hum dono kafi boor ho jate the. Par ek din main ghar par thi, school ke aane ke baad mujhe nind nhi aa rhi thi.

Isliye main aise hi apne ghar ke charo taraf ghum rhi thi. Jahan par bhanise rkhte the, main us side gyi. Tabhi mujhe pani ki awaj aayi, main aise us awaj ki taraf gyi. Main tabhi ek diwar ke pass gyi toh maine dekha ki chacha apna lamba bada kala lund bahar nikal kar diwar par peshab kar rhe the.
Chudai Ki Garam Desi Kahani : Meri Jawani Ki Pyas Se Pagal Hui Main

Jese hi maine unka lund dekha, meri ankhen us pad jam gyi. Chacha ne jab mujhe dekha ki main unka lund dekh rhi hoon. Toh wo mujhe dekh kar meri aur smile karte hue. Apna lund apne hath se hilane lag gye, unka lamba lund hawa hilate dekh mujhe kuch kuch hone lag gya.

Thodi der baad jab mujhe ehsas hua, ki chacha mujhe dekh kar apna lund hila rhe hai. Toh main sharam se pani pani ho gyi, aur bhag kar apne ghar me ja kar ghus gyi. Us time meri dil ki dhadkan bahot tez ho chuki thi.

Meri choot me ek ajeeb si san sani si fail gyi thi. Meri ankho ke samne se chacha ka lamba kala lund hatne ke naam tak nhi le rha tha. Mujhe us raat nind nhi aayi, kyoki main sari raat chacha ke lund ke bare me jo soch rhi thi.

Mujhe us time apni firends ki baat yaad aayi, ki wo kehti hai ki lund dekhne me hi bahot mast hota hai. Use dekhte hi apne pure jism me kuch kuch hona shuru ho jata hai. Mujhe aaj unki ek ek baat kehi sach lag rhi thi. Kyoki aaj wo sab mere sath real me ho rha tha.

Jo pehle mujhe sab kuch nakali aur bakwas lagta tha. Aaj wo hi sab mujhe pagal kar rha tha. Meri choot me ajeeb sa chikna pani nikal rha tha. Maine mehsus kiya, ki main puri tarah garam ho rhi hoon. Maine jese raat wo raat nikali, agle din sunday tha. Isliye main ghar par hi thi, par aaj subah se hi papa ko bukhar ho rha tha.

Chacha ji subah hi aa gye, unhe dekhte hi main sexy si smile kar di. Aur wo bhi mujhe hawas se bhari najaro se dekhne lag gye. Aaj mujhe unki najar kuch thik nhi lag rhi thi. Kyoki aaj wo mere jism ko uper se le kar niche tak ache se ghur ghur kar dekh rhe the. Mujhe unki najaren kuch kuch kar rhi thi. Mummy mere chacha ke pass aayi aur boli.

Mummy – Bhai aaj Vaani ke papa ki tabyit thik nhi hai. Aaj aap akele hi chale jayo khet me.

Chacha – Thik hai bhabhi ji koi baat nhi, aaj bhayia koi rest karne do. Main chalta hoon, kaam bahot hai.

Mummy – Thik hai par khana toh kha lete.

Chacha – Are aap pack karke le aana.

Mummy – Mujhe time lag skata hai, chal thik hai main Vaani ko bhej dungi.

Jab mummy ne mera naam liya toh mere chehre par ek ajeeb si khushi aa gyi. Main chacha ko dekha toh chaha mujhe hawas se bhari smile kar rhe the. Fir wo whan se jane lage aur piche mud kar mujhe fir se smile karte hue, ishare me mujhe kuch keh gye.

Unke jate hi main bathroom me gyi aur nahane lag gyi. Aaj main na jane kyo apni choot ko shave kar liya, aur apni choot ache se saaf kar liya. Us din na jane kyo mujhe ander se lag rha tha, ki aaj jarur main apni choot marwaungi.
Mastaram Ki Gandi Chudai Ki Kahani : Chachi Ganda Wala Sex Karne Lagi Mere Sath

Fir main subah hi kafi ache se tyar ho gyi. Maine apne gulabi hontho par halki halki gulabi lipstick laga li. Aur halka halka makeup karke main chacha ka khana le kar khet ki taraf chal padi. Jese hi main chacha ke pass pounchi toh maine dekha ki wo mujhe dekhte hi ek dam khade ho gye.

Unhe dekh kar aisa laga ki mano wo kab se mera hi wait kar rhe the. Wo mujhe dekh kar smile kar rhe the, aur sath hi mujhe sath wale chhote se room me jane ka ishara kar rhe the. Maine charo taraf dekha, whan door door tak koi nhi tha. Isliye main sidha room me ghus gyi.

Mere dil ki dhadkan bahot tez chal rhi thi, na jane ab mere sath kya hone wala tha. Main ander darwaje ki taraf kamar karke manje par baith gyi. Tabhi kuch der baad darwaja khulne ki mujhe awaj aayi. Chacha ne ander se darwaja band kar liya, maine piche mud kar halka sa dekha toh meri gand fat gyi.

Kyoki maine dekha ki chacha pure nange the. Unka lund lamba kala bahot hi khatarnak lag rha tha. Maine jhat se apna muh aage kar liya, fir wo mere pass aa gye aur mere piche khade ho gye. Maine jese hi piche dekha toh unka lund mere hontho ke pass aa gya. Itna lamba aur kala mota lund ek dam mere ankho ke samne tha.

Maine ye dekh kar kafi hairan ho gyi. Fir chacha mere samne aa gye aur apne lund ko mere hontho par ragad kar mere muh me dalne lag gye. Par maine unhe mana kar diya, par unhone fir mere sath thodi jabardasti kari. Aur fir maine na chahate bhi unka lund apne muh me bhar liya.

Unka lund sach me bahot hi acha tha, main unke lund ko chusne lag gyi. Lund ki khushboo ne pehle hi mujhe apna diwana bana diya tha. Shayad chacha ko ab mujhe lund chusawane me maja aane lag gya tha. Isliye ab wo dheere dheere apne lund se mera muh chodne lag gye.
Antarvasna Hindi Sex Stories : Competition Class Wali Sexy Ladki Ko Tel Laga Choda

Mujhe bhi ab unka lund chusne me bahot maja aa rha tha, tabhi chacha ne pehle se jyada jor se mera muh chodna shuru kar diya. Aur fir achanak unke muh se aahh nikali aur mere muh ke ander lasi bhar gyi. Unke lund se ek tarah ki malai nikal rhi thi. “Village Girl Virgin Pussy”

Jiska sawad mujhe lasi jesa laga, maine unka sara pani pee liya. Uske baad fir unhone mere sare kapade nikal diye. Chacha ne mujhe manje par leta diya, aur mere uper leat kar wo mere dono boobs ko pagalo ki tarah chusne lag gye.

Mujhe us time aisa lag rha tha, mano chacha ne ek hafate se kahana nhi khaya. Aur ab wo mere dono boobs ko kha rhe hai. Fir wo meri choot par gye aur meri gelli choot ko wo apni jeeb se chatne lag gye. Unhone meri choot ko puri tarah se chat chat kar saaf kar diya.

Itne me unka lund fir se khada ho gya, jab main bhi puri tarah garam ho gyi. Unhone apna lund meri choot par ragadna shuru kar diya. Isse main lund lene ke liye machalne lag gyi, aur mast ho kar boli.

Main – Chachu ab dal do apna lund meri choot me.

Meri ye mast awaj sun kar chacha ne ek jordar dhaka mara aur apna mota lund meri choot me adha dal diya. Unke chaku jese lund ne meri choot ko faad kar rkh diya. Jisse mujhe bahot jyada dard hua, main dard ke vajah se bahot jor se chila uthi.

Meri awaj sun ker chacha dar gye, unhone tabhi pass padi meri panty ko utha kar mere muh me thus diya. Aur mere dono hath pakad kar apna lund ek aur dhake se meri choot me dal diya. Mujhe itna dard hua ki main aapko bta nhi skati.

Par chacha ek berheam insan ki tarah meri choot ko chod rhe the. Meri choot me se khoon nikal rha tha, kyoki mera khoon unke pet par lag rha tha. Par 10 minute ki dard bhari chudai ke baad mujhe maja aane lag gya. “Village Girl Virgin Pussy”
Kamukata Hindi Sex Story : Holi Mein Garam Mummy Ko Lund Se Nahlaya

Fir kuch der baad meri choot ne apna pani nikal diya aur thodi der baad chacha ke lund ne bhi meri choot me apna pani bhar diya. Fir uske baad wo thak kar mere uper gir gye. Karib 10 minute wo mere uper uthe aur main apne kapade dalne lag gyi.

Par tabhi chacha aur unka lund fir se uth gya, main jese hi jane lagi. Tabhi chacha ne mujhe fir se pakad liya. Aur meri panty fir se utar kar jabardasti meri choot me apna lund fir se dal diya. Unhone fir meri choot ko 20 minute tak aur choda, mujhe bhi unse chud kar bahot maja aaya.

Uske baad fir hum dono ka pani nikal gya, toh unhone mujhe choda. Aur fir maine apne kapade aur apne ghar aa gyi. Ghar aakar kisi ko mere uper shak nhi hua, ki aaj apni choot apne hi chacha se fadwa kar ghar aayi hoon.


कुँवारी चाची की चुदाई - सुहागरात से पहले ही चाची को चोदा

Chachi ki seel tod chudai ki


मेरी घर में बहुत इज्जत है क्योंकि मैं पढाई में बहुत तेज हूँ और छोटे चाचा 8 क्लास के बाद नहीं पढ़े। जब मैं शादी में गया तो चाची को देखता ही रह गया। वो बहुत मस्त थी, उस समय उनका फिगर 32-28-34 था। चाचा और चाची की जोड़ी बिल्कुल नहीं जम रही थी, जैसे लंगूर के हाथ में अंगूर या हूर!

मन तो कर रहा था कि ये अंगूर मुझे खाने को मिल जाये!

घर में शादी के बाद एक रिवाज़ की वजह से पहली रात चाची को अलग सोना था। घर पर मेहमान काफी थे इसलिए मैं पहले से जा कर चाची के कमरे में सो गया। चाचा को बाहर ही सोना था।

रात में मेरी नींद खुली तो देखा कि चाची मेरे बगल में सोयी हैं, शायद शादी की वजह से उन्हें थकान बहुत थी इसलिए वो बेधड़क सो रही थी। उनका पल्लू सीने से हट गया था। उनकी काले रंग की ब्रा देख कर मेरा 7 इंच का लंड बेकाबू हो गया।

मैंने धीरे -2 उनके ब्लोउज के बटन खोल दिए। उनकी गोरी-2 चूचियाँ देख कर मेरा लंड फ़नफ़ना रहा था। मैंने हौले से उनकी ब्रा की पट्टी कन्धों से किनारे हटा दी और एक हाथ से चूची को हलके-2 दबाने लगा, दूसरी चूची को अपने मुँह में भर के चूसने लगा।

मुझे लगा चाची जाग गयी हैं पर सोने का बहाना कर रही हैं तो मैं धीरे से उनकी साड़ी को उपर खिसका कर उनकी चूत पर उपर से हाथ फरने लगा। थोड़ी देर में मुझे पैंटी में गीलापन महसूस हुआ। मुझे लगा चाची को मजा आ रहा है तो मैंने धीरे से उन्हें आवाज दी- चाची…!

उन्होंने कहा- कुछ मत बोलो बस करते रहो…!

यह सुनते ही मैं उनके उपर आ गया और उनके रसीले होटों को चूमने लगा..

अब चाची मेरा पूरा साथ दे रही थी…

उन्होंने मेरे पायजामे में हाथ डाल कर मेरे लंड को पकड़ लिया और उसकी सुपाड़े की चमड़ी को ऊपर नीचे करने लगी। मैं भी दोनों हाथो से उनकी गोल-2 चूचियाँ दबा रहा था। उनके मुँह से सेक्सी आवाजें आ रही थी- चोदो मुझे मेरे राजा… आज मेरी सुहागरात है… 18 साल से ये अनचुदी है आज इसकी प्यास बुझा दो मेरे राजा…

मैं भी गरम हो रहा था, मैंने उनकी पैंटी को उतार फेंका…और उनकी चूत में मुह लगा दिया। वो शायद एक बार झड़ चुकी थी। उनकी चूत से पानी निकल रहा था, मैं सब पी गया। मैंने दो ऊँगलियाँ उनकी चूत में डाल दी और अंदर बाहर करने लगा।

उन्हें मजा आने लगा…

उन्होंने भी मेरा लंड पकड़ के मुँह में भर लिया और सटासट चाटने लगी…

मैं उनके मुँह में ही झड़ गया, वो मेरा सारा रस पी गयीं। उन्होंने चूस-2 कर फिर से मेरा लंड खड़ा कर दिया…

वो बोली- जान अब और न तड़पाओ! अपनी रानी को चोद दो! मुझे मेरी प्यास बुझा दो…

मैं तो तैयार था, उसने मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत के मुहाने पर रखा और कहा- धक्का मारो!

मैंने भी बहुत जोर से पेल दिया पर चूत बहुत टाइट थी, लंड घुसा ही नहीं तो उसने लंड पकड़ कर ढेर सारा थूक मेरे सुपाड़े पर पोत दिया…

अबकी बार मैंने धीरे-2 धकेला तो आधा लंड अंदर चला गया…

वो दर्द से पागल हो गई, बोली- निकालो! बाहर करो! मैं नहीं सह पाऊँगी!

पर अब मैं कहाँ मानने वाला था, मैंने उसे कमर से पकड़ कर पूरे जोर से एक धक्का मारा और लंड उसकी चूत की गहराइयों को छू गया…

वो दर्द से रोने लगी पर मैं धीरे धक्के लगाने लगा। थोड़ी देर में उसे भी मजा आने लगा, उसके मुँह से आवाज निकलने लगी थी- चोदो… और जोर से… आह… आह… मेरे राजा… मुझे जन्नत की सैर कराओ… और अंदर डालो… आह… सी…सी…

आह… मैं पूरे जोर से पेले जा रहा था- हाँ रानी… ले… खा ले… पूरा मेरा खा जा… ले… ले… पूरा ले… आह… राजा… मैं गई… सी… थाम लो…मुझे… आह…

मैं समझ गया कि वो झड़ने वाली है तो मैंने अपनी स्पीड और बढ़ा दी…10-15 धक्कों के बाद हम दोनों साथ ही झड़ गये… मैंने अपनी सारी गर्मी उसकी चूत में भर दी… मैंने उठ कर देखा- खून से उसकी साड़ी लाल हो गई थी… मुझे गम न था आज एक कुंवारी चूत का रसपान जो किया था… उस रात मैंने उसे 4 बार चोदा… वो शायद सबसे हसीं रात थी…

बेटी ने खुद सील तुड़वायी

बेटी ने खुद सील तुड़वायी


जब मेरी आँख खुली तो उस वक्त साढ़े दस बज रहे थे। रूपा बिस्तर पर नहीं थी।  मगर रात को मैंने जो उसका ब्रा और पेंटी उतार के फेंकी थी, तो अभी भी फर्श पर पड़े थे। बेशक मैं चादर लेकर लेटा था, मगर चादर के अंदर तो मैं बिल्कुल नंगा था और सुबह सुबह मेरा लंड भी पूरा अकड़ा हुआ था।

बेटी ने खुद सील तुड़वायी

तभी कमरे में दिव्या आई और मुझे गुड मॉर्निंग पापा बोल कर चाय का कप मेरे सिरहाने रखा।

एक बार तो मुझे बड़ी शर्म आई, अरे भाई अपनी बेटी के सामने मैं नंगा था और मेरे तने हुये लंड ने चादर को तम्बू बना रखा था जो दिव्या ने देख भी लिया था।


चाय रख कर दिव्या ने फर्श पर पड़े अपनी मम्मी के ब्रा पेंटी उठाए और चली गई।

मैं चाय पीते सोचने लगा, ये लड़की क्या सोच रही होगी कि इसके माँ को कोई गैर मर्द सारी रात चोदता रहा। रूपा की चीखें, सिसकारियाँ, सब इसने भी तो सुनी होगी। मगर मैंने इस बात को अनदेखा कर दिया।

चाय पीकर मैं उठा और बाथरूम में चला गया। नहा कर तैयार होकर मैं नीचे आया तो रूपा पूरी तरह से नहा धोकर सज संवर कर तैयार खड़ी थी।


मेरे आते ही उसने अपनी बेटियों के सामने मेरे पाँव छूये, उसके बाद उसने नाश्ता लगाया, हम चारों ने नाश्ता किया, मगर मैंने देखा दोनों लड़कियों के चेहरे पर एक शरारती मुस्कान थी।


उस दिन मेरी छुट्टी थी तो उस दिन दोपहर को भी मैंने एक बार रूपा को चोदा, रात को फिर वही सब कुछ हुआ।


अभी रम्या कुछ शांत थी मगर दिव्या इस बात से बहुत खुश थी, वो अपनी खुशी की इज़हार मुझे कई बार चूम कर चुकी थी। हर वक्त पापा पापा करके मेरे आस पास ही रहती थी।


उससे अगले दिन दिव्या मेरे सर में तेल लगा रही थी, मैं अपने मोबाइल पर कुछ देख रहा था। जब वो तेल लगा चुकी, तो मैंने लेटना चाहा, तो दिव्या ने अपनी गोद में ही मेरा सर रख लिया। मुझे इसमें कुछ अजीब नहीं लगा।

मैं बेखयाली में ही अपने मोबाइल में बिज़ी रहा कि अचानक दिव्या ने मेरे होंठ चूम लिए।


मैं एकदम से चौंक कर उठा। मैं बहुत हैरान था- दिव्या, ये क्या किया तुमने?

मैंने उससे पूछा।

वो बोली- आप मम्मी से इतना प्यार करते हो तो मैंने सोचा मैं आपका शुक्रिया कैसे अदा करूँ!

वो थोड़ा डरी हुई सी लगी।


मैंने कहा- पर बेटा, ये सब तो तुम्हारी मम्मी मुझे दे ही रही है, तुम्हें अलग से कुछ करने या देने की ज़रूरत नहीं है।

वो बोली- क्यों पापा, क्या मैं आपको अपनी तरफ से कुछ नहीं दे सकती?

मैंने कहा- पर बेटा, होंठों का चुम्बन तो उसके लिए होता है, जिसे आप बहुत ज़्यादा प्यार करते हो, वो इंसान आपकी बॉय फ्रेंड या पति हो।


दिव्या पहले तो चुप सी कर गई, फिर थोड़ा भुन्नाती हुई उठ कर जाती हुई बोली- आपकी मर्ज़ी आप जो भी समझो।


मेरे तो गोटे हलक में आ गए कि ‘अरे यार ये क्या हो रहा है, ये कल की लड़की भी देने को तैयार है।’

अब मेरे सामने दिक्कत यह थी कि शुरू से ही मैं दिव्या को अपनी बेटी कहता और समझता आया हूँ, तो उसके साथ ये सब? नहीं नहीं … ऐसे कैसे हो सकता है? उसे मैं समझाऊँगा।


उसके बाद मैंने 2-3 बार दिव्या को समझाने की कोशिश करी मगर इसका उल्टा ही असर हुआ और दिव्या ने ही खुद ही इकरार कर लिया कि वो मुझसे प्यार करती है।

मैंने कहा भी- पर तुम तो मुझे पापा कहती हो?

वो बोली- ओ के, आज बाद नहीं कहूँगी।

मैंने बहुत समझाया मगर वो लड़की ज़िद पर ही अड़ गई।


मैंने उसे ये भी कहा- तुमने तो मुझसे वादा लिया था कि मैं तुम्हारी मम्मी से कभी धोखा नहीं करूंगा और अब तुम ही उस वादे को तोड़ने के लिए मुझे उकसा रही हो?

मगर लड़की नहीं मानी और बोली- भाड़ में जाए मम्मी। आई लव यू तो मतलब आई लव यू!


मेरे लिए बड़ी कश्मकश थी मगर फिर मैंने सोचा ‘यार क्यों किसी का दिल दुखाऊँ? कौन सा मेरी अपनी बेटी है और कौन सा मैं उसका असली बाप हूँ। असली बाप असली होता है और नकली बाप नकली होता है।’

बस ये विचार मन में आए और अगले ही पल मुझे वो 19 साल की अपनी बेटी, सेक्स के लिए पर्फेक्ट लगने लगी। मुझे एक ही पल में रूपा के बदन में बहुत सी कमियाँ, और दिव्या के कच्चे बदन में खूबियाँ ही खूबियाँ दिखने लगी।


उसके बाद जब भी मैं रूपा के घर जाता और दिव्या मुझसे गले मिलती तो मैं जानबूझ कर उसे अपने जिस्म से सटा लेता ताकि उसके नर्म नर्म मम्मे मेरे सीने से लगे और मुझे उसके कोमल कुँवारे जिस्म की गंध सूंघने को मिल सके।

रूपा समझती थी कि ये बाप बेटी का प्यार है मगर अब मेरी निगाह रूपा की बेटी के लिए बदल चुकी थी।


इस बीच एक दो बार मौका मिला जब मैं रूपा, दिव्या और रम्या को अपने साथ घुमाने के लिए ले गया। बेशक रूपा और लड़कियों ने जीन्स पहनी थी मगर फिर भी मैंने बाज़ार में घूमते हुये, दिव्या से कहा- जीन्स तो सब लड़कियां पहनती थीं, मगर आजकल तो निकर का फैशन है।

वो चहक कर बोली- तो पापा ले दो मुझे भी एक निकर।


मैं उन्हें एक दुकान में ले गया, वहाँ मैंने सबको जीन्स ले कर दी, मगर दिव्या के लिए खुद एक निकर पसंद की।

जब वो ट्राई रूम से निकर पहन कर बाहर निकली, तो मैंने उसकी गोरी गोरी खूबसूरत जांघों को घूरते हुये कहा- बेटा निकर तो ठीक है, मगर इसे पहनने के लिए तुम्हें अपनी वेक्सिंग भी करवानी होगी।

वो बोली- ये कौन सी बड़ी बात है, वो तो मम्मी भी कर देंगी।


हालांकि दिव्या की टाँगों पर कोई ज़्यादा बाल नहीं थे। मैंने उसे निकर पहन कर ही चलने को कहा। बाज़ार में बहुत से लोग उसे निकर में देख कर घूरते हुये जा रहे थे.

वो मुझसे बोली भी- पापा, सब मेरी टाँगें ही घूर रहे हैं।

मैंने कहा- तू परवाह मत कर, ये सब बस यही कर सकते हैं घूरते हैं तो घूरने दे। बल्कि तू यह सोच कि अगर तुम में कुछ खास बात है, तभी तो ये सब तुम्हें इतने ध्यान से देख रहे हैं।


मेरी बात का दिव्या पर असर हुआ, और काफी उन्मुक्त हो कर बाज़ार में घूमी और घर आ कर मुझे लिपट कर मेरे गाल पर चूम कर बोली- सच में पापा, आज जितना मज़ा बाज़ार में घूम कर आया, पहले कभी नहीं आया।

मैंने मन में सोचा ‘अरे पगली, मैं तो तुझे दाना डाल रहा हूँ, तुझे इतना बिंदास बना रहा हूँ कि एक दिन या तो तो तू मुझसे चुदेगी, या फिर अपना कोई न कोई यार पटा लेगी और उससे अपनी फुद्दी मरवा कर आएगी। मैं तो तुझे एक तरह से बिगाड़ रहा हूँ।


मगर वो नादान कहाँ मेरी कुटिल चालों को समझ रही थी.

और रहा सवाल उसकी माँ का … उसकी फुद्दी में तो हर हफ्ते मैं अपना लंड फेरता था तो वो उस बुनतारे में उलझी थी। उसे भी नहीं पता था कि मैं न सिर्फ उसे बल्कि उसकी जवान हो रही बेटी पर निगाह रखे हूँ कि कब वो मेरे से चुदवाए।


मेरी कोशिशें रंग ला रही थी, दिव्या मेरे और करीब, और करीब आती जा रही थी। बढ़ते बढ़ते बात यहाँ तक बढ़ गई कि बातों बातों में मैंने उसे यह बात बता दी थी कि मुझे उसका प्यार मंजूर है।


एक दिन मौका मिला, जब मैं और दिव्या अकेले बैठे थे तो मैंने दिव्या से कहा- दिव्या एक बार कहूँ?

वो बोली- हाँ पापा?

मैंने कहा- यार उस दिन जो तुमने किस किया था, बहुत छोटा सा था, मज़ा नहीं आया, एक और मिलेगा?

दिव्या ने शर्मा कर मेरी और देखा और बोली- फ्री में ही?

मैंने कहा- तो बोल मेरी जान क्या चाहिए?


वो बोली तो कुछ नहीं पर थोड़ा दूर जा कर दीवार की तरफ मुंह करके खड़ी हो गई। मैं भी उठ कर उसके पीछे गया, और उसे पीछे से ही अपनी बांहों में भर लिया, उसे अपनी ओर घुमाया और उसका चेहरा ऊपर को उठा कर अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिये।


उस लड़की ने कोई विरोध नहीं किया और मैंने बड़े अच्छे से उसके दोनों होंठ चूसे, न सिर्फ होंठ चूसे बल्कि उसके छोटे छोटे मम्मे भी दबा दिये। उसके बाद वो जब मेरी गिरफ्त से छूट कर भागी तो एक बार दरवाजे के पास जा कर रुकी, मुड़ के पीछे देखा, एक बड़ी सारी स्माइल दी और फिर भाग गई।


मैं तो खुशी के मारे बिस्तर पर ही गिर गया, माँ भी सेट, बेटी भी सेट। अब मैं अपने मन में दिव्या को चोदने के सपने बुनने लगा।


मगर एक बात मुझे अभी तक समझ नहीं आई थी कि दिव्या तो कॉलेज में पढ़ती है, उसके साथ बहुत से लड़के भी पढ़ते होंगे, तो वो अपने हमउम्र किसी लड़के से क्यों नहीं पटी?

मैं तो उम्र में उसके बाप से भी बड़ा था, फिर मुझमे उसे क्या दिखा?


मगर ये बात ज़रूर थी कि अब मेरे दोनों हाथों में लड्डू थे, जब जिसको भी मौका मिलता उसी को मैं पकड़ लेता। दो चार दिन में ही मैंने दिव्या के जिस्म के हर अंग को छू कर देख लिया। बल्कि एक उसे कहा- दिव्या, मैं तुम्हें बिल्कुल नंगी देखना चाहता हूँ।

तो वो बाथरूम में गई और अंदर उसने अपने सारे कपड़े उतारे और फिर थोड़ा सा दरवाजा खोल कर बाहर देखा.


बाहर कमरे में मैं अकेला था, रूपा और रम्या नीचे रसोई में थी। मैंने उसे इशारा किया तो दिव्या बाथरूम से निकल कर बिल्कुल मेरे सामने आ गई।

19 साल की दिव्या काया वाली खूबसूरत पतली दुबली लड़की। मगर उसके खड़े मम्मे, और कसे हुये चूतड़ मुझे दीवाना बना गए, मैंने उसके दोनों मम्मों को और बाकी जिस्म को भी छूकर देखा।

मेरा तो लंड तन गया मैंने उसे कहा- दिव्या, अब तुम्हें चोदना ही पड़ेगा।

वो बोली- पापा, आपकी बेटी हूँ, जब आपका दिल करे!

वो अपने छोटे छोटे चूतड़ मटकाती वापिस बाथरूम में चली गई।


उसके बाद वो फिर से कपड़े पहन कर आ गई।


मैंने उससे पूछा- दिव्या एक बात बता, तू सुंदर हैं, तेरी क्लास में भी बहुत से लड़के तुम पर लाइन मारते होंगे, फिर तुझे मुझमें क्या दिखा और वैसे भी मेरा तो तेरी मम्मी के साथ चक्कर चल ही रहा है।


वो बोली- पापा, आप मुझे शुरू से ही अच्छे लगते थे, मगर हमारे बीच कुछ कुछ रिश्ता ही अलग बन गया, आप मेरे पापा बन गए और मैं आपकी बेटी बन गई। और उस रात जब आप हमारे घर रुके तो आप और मम्मी के बीच जो कुछ हुआ, वो हम दोनों बहनों ने सब सुना. सच कहती हूँ, मम्मी की सिसकारियाँ और चीखें सुन कर मैं इतनी उत्तेजित हो गई कि मैंने अपने हाथ से खुद को शांत किया।

मेरा भी अक्सर दिल करता है कि जैसे आप मम्मी के साथ करते हो अगर मेरे साथ करते तो कैसा लगता, और ये सोचते सोचते मैं आप पर ही मर मिटी। मैं खुद ये सोच रही थी के आपसे मैं ये बात कैसे कहूँ, मगर आप ने कह तो ठीक ठीक है, मुझे कहने की ज़रूरत ही नहीं पड़ी, और आप मेरे बहुत प्यारे वाले पापा हो इस लिए मैं आपसे कुछ नहीं छुपआऊँगी। आप मुझसे कुछ भी पूछ सकते हो, कह सकते हो। अब जब बेटी ही नंगी हो गई हो, नकली बाप को क्या ज़रूरत पड़ी है, शराफत का ढोंग करने की।


मैंने कहा- मुझसे सेक्स करोगी दिव्या?

वो बोली- आप कुछ भी कर लो, मैं आपको मना नहीं करूंगी।


मैंने उसको चेक करने के लिए अपनी जीभ निकाली और सीधी दिव्या में मुंह में डाल दी और मेरी बेटी मेरी जीभ को चूस गई. उसके दोनों मम्मों को मैंने कस कस कर दबाया। मगर इससे ज़्यादा मैं उसके साथ और कुछ नहीं कर पा रहा था क्योंकि रूपा तो हमेशा ही घर में होती थी. और उसके होते मैं उसकी बेटी को कैसे चोद सकता था।


तड़प मैं पूरा रहा था कि कब मौका मिले और कब मैं इस कुँवारी कन्या के कोमल तन का भोग लगाऊँ। मगर अब रूपा को गले लगाना और चूमना तो मैं दिव्या के सामने भी कर लेता.

और वो भी देख देख कर मुसकुराती कि कैसे मैं उसकी माँ की जवानी को भोग रहा हूँ।

पता तो उसे भी था कि जब भी मौका मिलता है, मैं भी जम कर उसकी माँ को चोदता हूँ, अपनी माँ की चीखें सुन कर वो और भी उत्तेजित होती।


फिर फिर एक दिन दिव्या का फोन आया- पापा, मम्मी और रम्या बाबाजी के दर्शन करने के लिए जा रहे हैं, मैंने अपने पेपर का झूठा बहाना लगा दिया और मैं नहीं जा रही।

मतलब वो घर में अकेली रहेगी, घर में।

मैं तो खुशी से उछल पड़ा।


जिस दिन रूपा और रम्या गई, मैं खुद उन दोनों को बस चढ़ा कर आया और कह कर आया- तुम चिंता मत करो, मैं दिव्या को अपने घर ले जाऊंगा।


मगर मैं उन्हें बस चढ़ा कर सबसे पहले रूपा के ही घर गया। वहाँ दिव्या बैठी थी, मैंने जाते ही उसे अपनी बांहों में भर लिया- ओह मेरी प्यारी बेटी!

कह कर मैंने उसके कई सारे चुम्बन ले लिए।

वो भी बड़ी खुश हुई- अरे पापा, ये क्या, आप को अधीर हो गए।

मैंने कहा- अरे मेरी जान, तेरे इस कच्चे कुँवारे जिस्म को देख कर कौन अधीर नहीं होगा।


मैंने उसे बहुत चूमा, उसके गाल चूस गया, उसके होंठ चूस गया।

फिर मैंने खुद को संभाला कि अरे यार ये कहाँ भाग चली है, शाम तक मेरे पास है, आराम से करते हैं।


मैंने दिव्या से कहा- बेटा एक काम करो।

वो बोली- जी पापा?

मैंने कहा- आज शाम को हम दोनों मेरे घर चलेंगे, मगर उससे पहले यहाँ हम वो सब कर लेंगे, जो हम इतने दिनों से अपने मन में सोच रहे थे. इसलिए मेरी इच्छा है कि अगर शाम तक हम दोनों इस घर में पूरी तरह से नंगे रह कर अपना समय गुजारें, ताकि मैं जी भर के तुम्हें अपनी आँखों से नंगी देख सकूँ।

वो बोली- आप तो मेरे पापा हो, आपकी बात मैं कैसे मना कर सकती हूँ।


जब वो अपने कपड़े खोलने के लिए उठी, तो मैंने उसे रोका और खुद उसी टी शर्ट, उसका लोअर, अंडर शर्ट और चड्डी उतार कर उसको नंगी किया और फिर खुद भी बिल्कुल नंगा हो गया।

बाप बेटी आज दोनों एक दूसरे के सामने नंगे खड़े थे।


मैंने दिव्या को अपने कलेजे से लगा लिया। वो भी मुझसे चिपक गई और मेरा लंड हम दोनों के पेट के बीच में अपनी जगह बना कर ऊपर को उठ रहा था।


तब मैंने दिव्या के सारे जिस्म को चूमा, उसके मम्मे चूसे, उसके पेट, पीठ, जाघें सब जगह चूमा। उसकी फुद्दी भी चाटी, उसकी गांड भी चाट गया।


बेशक मैं सब कुछ आराम से करना चाहता था, मगर लालची इंसान को सब्र कहाँ … मैंने उसकी फुद्दी को अपनी अपनी जीभ से खूब चाटा, इतना चाटा कि वो पानी छोड़ने लगी और उसकी फुद्दी का नमकीन पानी मैं खूब मज़े ले लेकर चाट लिया।


फिर मैंने उससे कहा- बेटा, पापा का लंड चूसोगी?

वो बोली- मैंने ये काम कभी नहीं किया, और सच पूछो तो मुझे ये सब गंदा लगता है।

मैंने कहा- ठीक है, मत चूसो, पर अगर दिल किया तो चूस लोगी?

वो बोली- पता नहीं पापा।


मैं जाकर दीवान पर सीधा लेट गया और उसे अपने ऊपर उल्टा लेटा लिया। अब मैंने उसकी दोनों टाँगें खोली, उसकी फुद्दी को अपने मुंह पर सेट किया और उसकी फुद्दी में जीभ लगाने से पहले मैंने उसे कहा- दिव्या बेटा, पापा का लंड अपने हाथ में पकड़ो और अपने मुंह के पास रखो, अगर दिल किया तो चूस लेना।


मुझे पता था कि जब मैं इसकी फुद्दी इतनी चाटूंगा कि ये बहुत सारा पानी छोड़ने लगे, तो काम के आवेश में आकर ये लड़की खुद ही मेरा लंड चूस लेगी।


और हुआ भी यही … मुश्किल से मैंने दो तीन मिनट ही उसकी फुद्दी चाटी होगी, उसकी जांघों की जकड़ मेरे चेहरे पर और उसके हाथ की पकड़ मेरे लंड पर कस गई। और फिर मुझे हुआ एक कोमल अहसास!

उसके कोमल, गुलाबी होंठों का स्पर्श जब मेरे लंड के टोपे के इर्द गिर्द हुआ तो मेरा मन तो झूम उठा, मेरी बेटी मेरे लंड को अपने मुंह में ले चुकी थी। मुझे उसे कुछ कहने की ज़रूरत नहीं पड़ी, वो खुद ही अपने अंदाज़ से मेरे लंड को चूसती चाटती रही।


वो भी पूरी गर्म थी और मैं भी … फिर देर किस बात की!

मैंने उसे रोका, उसे दीवान पर सीधा लेटाया और बोला- देखो बेटा, अब मैं अपना लौड़ा तुम्हारी कुँवारी फुद्दी में डालूँगा। तुम्हारा पहली बार है, शायद थोड़ा दर्द हो, इसलिए, मेरी बेटी, अगर दर्द हुआ तो बता देना, हम रुक रुक कर लेंगे। पर इतना ज़रूर है कि आज मैं अपना पूरा लंड तुम्हारी फुद्दी में उतार देना चाहता हूँ, तुमने साथ दिया तो ठीक, नहीं तो ज़बरदस्ती ही सही।

वो बोली- पापा बस आराम से करना, ये तो मेरे मुंह में भी बड़ी मुश्किल से घुसा था। दर्द तो होगा ही, पर मैं बर्दाश्त करने की कोशिश करूंगी।


मैंने अपने लंड पर बहुत सारा थूक लगाया, उसे अच्छी तरह से गीला किया और फिर दिव्या की कुँवारी गुलाबी फुद्दी पर रखा।

एक बार तो दिल आया ‘अरे यार क्या बेटी जैसी लड़की की फाड़ रहा है, मगर फिर मैंने एक बार ऊपर को देखा और भगवान से कहा ‘बेशक मैं दुनिया की नज़र में गलत काम कर रहा हूँ, पर मेरी नज़र में ये ठीक है, इस लिए अपनी कृपा बनाए रखना और इस लड़की को सब सहने की शक्ति देना।


और फिर मैंने अपनी कमर का ज़ोर लगाया, मेरा लौड़ा दिव्या की कुँवारी फुद्दी फाड़ कर अंदर घुस गया।

उसकी तो जैसे आँखें बाहर आ गई हों।

मेरे कंधों को पकड़ कर वो सिर्फ एक बार यही बोली- उम्म्ह … अहह … हय … ओह … पापा… नहही!


मगर तब तक पापा के लंड का टोपा बेटी की फुद्दी में घुस चुका था। वो एकदम से जैसे सदमे में थी, मगर मैं पूरी तरह से काम से ग्रसित था. उसके दर्द की परवाह किए बिना मैंने और ज़ोर लगाया और अपने लंड को और उसकी फुद्दी में घुसेड़ा.


मगर अब दिव्या के मुंह से कोई दर्दभरी चीख नहीं निकली, उसकी आँखें फटी हुई, और चेहरा फक्क पड़ा था और मैं ज़ोर लगा लगा कर अपने लंड को उसके जिस्म में पिरोने में लगा था।

जब तक दिव्या अपने होशो हवस में वापिस आई, तब तक मैंने अपना पूरा लंड उसकी फुद्दी में घुसेड़ दिया था.


मेरे मन में एक अजब सी खुशी थी, शायद 50 साल की उम्र में एक 19 साल की लड़की की सील तोड़ने की, या अपनी ही बेटी के साथ सेक्स करके मेरी इनसेस्ट सेक्स की इच्छा पूरी होने की, या अपनी ही माशूक की बेटी चोदने की, पता नहीं क्या था, मगर मैं बहुत खुश था।


उस लड़की के दर्द की परवाह नहीं थी, मुझे तो सिर्फ अपने ही दिल की ख़ुशी नज़र आ रही थी।


थोड़ा संभालने के बाद दिव्या बोली- पापा ये क्या कर दिया आपने?

मैंने पूछा- क्या हुआ बेटा?

वो बोली- पापा ऐसा लग रहा है, जैसे किसी ने मुझे बीच में से चीर दिया हो, तलवार से काट दिया हो। ऐसा लग रहा है, जैसे मैं मर जाऊँगी।

मैंने कहा- कुछ नहीं होगा बेटा, हर लड़की के साथ पहली बार ऐसा ही होता है। मगर अगली बार जब तुम सेक्स करोगी, तो तुम बहुत एंजॉय करोगी। बस ये पहली बार ही है, फिर नहीं होगा।


वो लड़की बेसुध से मेरे नीचे लेटी रही। उसके चेहरे को देख कर लग रहा था कि उसे कुछ भी महसूस नहीं हो रहा है, सिवाय दर्द के! और मैं एक कामुक लंपट रंडीबाज़ मर्द, उस लड़की को किसी वेश्या की तरह भोगने में लगा था।


मैं नहीं रुका और उसे चोदता रहा तब तक जब तक मेरा माल नहीं झड़ गया। अपना गाढ़ा वीर्य उसके पेट पर गिरा कर मुझे बहुत सुकून मिला, बहुत मर्दानगी की फीलिंग आई।

उसको उसी हाल में छोड़ कर मैं बाथरूम में गया. पहले तो मैंने मूता, फिर शीशे के सामने खड़े हो कर खुद को देखा।


मन में एक विकार आया- अरे वाह रे तूने तो साले कच्ची कली फाड़ दी, क्या बात है साले, तू तो बहुत बड़ा मर्द है रे, वो भी 50 की उम्र में!


मैं मन ही मन खुश होता वापिस कमरे में आया तो दिव्या उठ कर बाथरूम में गई और काफी देर तक अंदर रही।

फिर बाहर आई।

मैंने उसे एक गिलास बोर्नविटा वाला दूध गर्म करके पिलाया और तेल से हल्के हाथों से उसके सारे बदन की मालिश की।

तब कहीं वो सहज हुई।

शाम को करीब 5 बजे मैं उसको लेकर अपने घर गया और बीवी से कह दिया- इसकी तबीयत खराब है, थोड़ा खयाल रखना।

मुझे एक बार लगा कि मेरी बीवी उसकी हालात देख कर सब समझ गई.

Author Name

Adult Stories

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.