Articles by "zabardasti chudai ki kahaniya"

adult stories in hindi Antarvasna Story baap beti ki chudai ki kahani bahan ki chudayi balatkar ki kahani behen ki chudayi bhabhi ki chudai bhai bahan ki chudai bhai bahan sex story in hindi bollywood actress ki chudai ki kahani bollywoos sex stories in hindi chacha bhatiji ki chudai ki kahani chachi ki chudai ki kahani chhoti bahan ki chudai chhoti ladkai ki chudai chudai ki kahaniya dehati chudai ki kahani devar bhabhi ki chudai ki kahani Didi ki Chudai Free Sex Kahani gand chudai gand chudai ki kahani gangbang ki kahani Ghode ke sath desi aurat ki sex story girlfriend ki chudai gujarati bhabhi habshi lund se chudai hindi sex stories Hindi Sex Stories Nonveg hindi urdu sex story jija saali sex jija sali ki chudai ki kahani Kahani kunwari choot chudai ki kahani Losing virginity sex story mama bhanji ki chudai ki kahani mama ki ladaki ki chudai marathi sex story mote lund se chudai ki kahani muslim ladaki ki chudai muslim ladki ki chuadi nana ne choda naukarani ki chudai New Hindi Sex Story | Free Sex Kahani Nonveg Kahani Nonveg Sex Story Padosi Ki Beti pahali chudai pakistani ladaki ki chudai Pakistani Sex Stories panjaban ladki ki chudai sali ki chudai samuhik chudai sasur bahu ki chudai sasur bahu ki sex story sasural sex story school girl ki chudai ki kahani seal tod chudai sex story in marathi suhagraat ki chudai urdu chudai ki kahani in urdu Virgin Chut wife ki chudai zabardasti chudai ki kahaniya एडल्ट स्टोरी कुंवारी चूत की chudai गर्लफ्रेंड की चुदाई गांड चुदाई की कहानियाँ जीजा साली सेक्स पहलवान से चुदाई बलात्कार की कहानी बाप बेटी की chudai की सेक्सी कहानी मामा भांजी चुदाई की कहानी ससुर बहु चुदाई सेक्स स्टोरी
Showing posts with label zabardasti chudai ki kahaniya. Show all posts

Bhabhi Ki Chhoti Bahan Mast Chudwane Lagi

Bhabhi Ki Chhoti Bahan Mast Chudwane Lagi



Garam Hindi Sex Story, Jija Sali Fucking, Mera naam Jatin hai aur main 20 saal ka hoon. Mera rang gora aur height 5’8 hai aur maine body bhi bahot achi bna rakhi hai jiss par bahot si ladkiyan fida hai. Mere lund ka size 7inch hai aur wo mota bhi hai jisse ladkiyan choosna chahti hai. Ab main apni kahani par aata hoon aur apko apni kahani me le chalta hoon. Bhabhi Ki Chhoti Bahan Mast Chudwane Lagi.

Ye kahani pichle saal pehle ki hai jab main B.Tech. 1st year me tha aur mere college ki bahot si ladkiyan mujh par marti thi. Us time mere bhaiya ki shadi bhi thi aur meri bhabhi mere city ki doosri colony me rehte the. To mujhe udhar side coaching ke liye aana padta tha aur unka flat bhi mere raste me aata tha.

Ek din kuch aisa hua ki main jab coaching puri kar ke wapis apne ko ghar ko jane ke chala toh thodi aage jate hi mujhe meri hone wali bhabhi mil gyi aur main bike rok li. Main bhabhi ko namaste ki aur kha – Aayo bhabhi main apko ghar tak chord deta hoon.


Bhabhi ne bhi han kha aur beth gyi kyoki wo time sardiyo ka tha aur thand bhi bahot padti thi. Main unhe ghar chod kar wapis hone lga tabhi bhabhi ne kha andar aaja par maine mna kar diya kyoki sham ke 5 baj gye the aur sardiyo me andhera jaldi hone ki vajah se rush bhi bahot hojata hai. Par bhabhi ne mujhe jaane nhi diya aur andar le hi gyi main bhi unki baat kaat na ska aur andar chala gya.

Main andar aa gya aur sofe par beth gya aur pta chala ki ghar par bhabhi aur unki choti behen Jhanvi hai, aur baki sare ghar wale pados me kisi function par gye hue hai. Tab bhabhi ne mujhse roti khane ko kha par maine mna kar diya aur itne me unki choti behen humare pass aa gyi.

Wah kya kayamat lag rhi thi Jhanvi uski kaatilana najar, uske gulab se bhare gulabi honth aur figure to maano bande ko khada khada hi geela kar de. Wo dikhne me bahot sundar thi aur sexy bhi maine jab usse dekha to dekhta hi reh gya aur lund bhi khada ho gya. Fir hum sab uske room me beth kar baate marne lag gye aur baton baton me pta chala ki usne abi 11th ke exam diye hai aur 12th me admission li hai.

Itne me ghar ki bell baji aur bhabhi ne darwaja khola to dekha ki pados ki aunty unhe bulane aayi hai aur wo unke sath bahar chali gyi. Hum ek dusre sath itna ghul mil gye the ki mano aise lag rha ho ki pichle janam ki bhichde panchi mil gye ho.


Tab mujhe bahot jor ki susu lagi thi aur maine usse washroom ke baare pucha aur washroom chala gya. Jab main washroom se wapis aa rhi thi tab maine dekha ki Jhanvi mere phone me blue film lga kar dekh rhi hai aur apne hatho se apne boobs daba rhi hai.

Main kamre ke bahar se usse dekh rha tha aur khade khade uski chudai ke sapne dekh rha tha aur mera lund bhi bhi dande ki tarah khada ho gya tha. Mujhse ab aur intezar nhi ho rha tha main dheere se andar gya aur usse piche se pakad kar uski frock ke upar se hi uske boobs ko hatho me le liya.

Pehle to wo ghabra gyi par mujhe dekh kar bina kuch kahe mera sath dene lag gyi. Kya kamaal ke the uske boobs main usse dheere dheere masalne lag gya aur khada khada hi uski panty me hath daal kar chut ki jannat ko apni ungalio se mehsus karne lag gya.

Ab maine usse bed par gira diya aur uske upar aa kar uske gulabi hontho ko chusne lag gya. Wo bhi mere hontho ko chus chus kar mere hontho ka sawad le rhi thi. Ab maine apni jeeb uske muh me daal di aur usne meri jeeb ko lolipop ki tarah chusa. Mujhe bahot maja aa rha tha fir maine uske kapde utar diye aur usne mere bhi utar diye. Kyoki humme garmi lagne lag gyi thi.


Ab maine uske nange badan ko niharta aur niharta hi reh gya, kyoki uska nanga badan dekh kar mere muh me paani aa gya tha. Aur maine usse chatna shuru kar diya aur chatte -2 uski garden par dant bhi maar diya. Aur fir uske santre jaise boobs ko pakad kar muh me le liya aur muh me bhar kar chusne lag gya. Iska Jhanvi bhi bahot maja le rhi thi aur maje me lambi lambi siskariya bhar rhi thi.

Ab mujhse aur bardash nhi hua aur maine uski panty utar kar usse nanga kar diya aur apna muh uski choot par le gya. Jaise hi mera muh uski choot par aaya uski choot ki khushbu se mano chehak utha aur chooth ko khol kar chatne lag gya. Uski chikni gulabi choot itni mast thi ki main uski choot ko icecream samjh kar chaati ja rha tha.

Idhar Jhanvi bhi bahot maja le rhi thi aur lambi lambi siskariya bhar rhi thi. Aur ek dam se apni tango ko tight kar mera muh fasa kar apna saara paani mere muh me hi nikal diya jisse main saara chatt se pi gya.

Ab maine uski choot ka paani pi liya tha aur uska paani bahot lajvab tha. Main uski choot ko lagatar chaati ja rha tha aur uske boobs ko hatho me le kar dabayi ja rha tha jisse Jhanvi fir se mera sath dene lag gyi thi.


Ab maine bhi deri kiye apna lund uski choot par ragadana shuru kar diya tha aur jor jor se uski choot par ragadta ja rha tha. Aur idhar uske nipple ko muh me le kar chus rha tha tabhi fir se Jhanvi ki choot ne apna paani mere lund par nikal diya.

Ab maine bhi bina deri kiye uski choot par apna chikna lund set kiya aur ek dhakka mara jisse lund choot me aadha chala gya. Par aadhe jaane se lund ki payas nhi bhuj rhi thi isliye maine ek jor dar jhatka mara jisse lund uski choot me pura chala gya.

Aur idhar Jhanvi ne bahot jor se cheenkh maari maine uske muh par apna hath rakh diya. Ab fir se lund ko bahar nikal kar uski choot me ek rocket ki tarah apna lund chalaya jo ki uski bachedani pe ja kar lga jisse usne fir se cheenkh maari. Aur maine fir se uske muh par apna hath rakh diya aur wo rone lag gyi. “Bhabhi Ki Chhoti Bahan”

Thodi der tak main dheere dheere uski choot marta rha jisse uska dard kam ho gya. Aur maine fir se apne lund ki speed bada kar uski chudai karne lag gya, ab Jhanvi bhi aaaahhhh aaahhhhh aaaahhh jaise awaje nikal rhi thi aur madhoshi me hi chod do chod do boli ja rhi thi.


Maine apna rocket chalu rakha jisse Jhanvi ne apna paani ek baar fir nikal diya. Aur ab maine bhi moke ki najakat ko samjhte hue 10minute baad apna kholta hua laava uski choot me uchaal diya. Ab hum dono thodi der aise hi lete rhe aur fir thodi der baad apne kapde daal kar beth gye aur ek dusre se baaten marne lag gye.

Thodi der baad ghar ki bell baji aur humme lga ki bhabhi aa gyi hai. Jhanvi ke uthne se pehle maine usse long kiss kari aur uske boobs ko jor jor se dabaya aur fir wo darwaja kholne chali gyi aur kha – Didi aayi hai.

Main – Bhabhi aap itni der se kha thi? Bhabhi – Pados me jha function tha main vaha chali gyi thi. Raat ke 9 baj rhe the aur bhabhi ne mujhe vahi rukne ko kha par maine bhabhi se kha – Bhabhi agar nhi gya to ghar wale pareshan ho jayenge aur dant bhi bahot padegi.

Bhabhi – Itni si baat hai toh main phone kar ke keh deti hoon ki Jatin aaj mere yha so jayega. Tab to koi pareshani nhi hogi!! Mere man me laddu foot rhe the aur maine kha – Jaise apko thik lage. Main apne bhaiya ke hone wale sasural me ruka.

Kamina Sasur Ji

Kamina Sasur Ji



Vikas Naam Ka Ek 60 Saal Ka No Javan Tha Us Ki Sadi Ek Bohod Achhi Ladki Ke Sath Hui Thi Ladki Ka Naam Mina Tha Mina Ki Age 50 Saal Ki Thi Vikas Ke Maa Baap Bachpan Me Hi Gujar Gaye The Vikas  Ke 2 Bete Hai Us Ke Baa Re Me Baad Me Bata O Gaa Vikaas Apne Saadi Ke Din Ko Yaad Kar Raha Tha Jab Nai Nai Sadi Hui Thi Vikas Mina Se Bohod Piyaar Kar Ta Tha Vikas Ne Apne Sadi Ke Suhagraat Ko Jab Vikas Room Me Aaya To Mina Ghughat Laga Ke Bethi Thi

Vikas Ne Mina Ka Ghughant Ko Hata Ya Or Mina Ke Uper Tut Pada Pagalo Ke Je Se Mina Ka Blows Ke Baton Tor Diye Mina Ki Sari Bhi Khich Ke Nikal Di Thori Der Me Vikas Ne Mina Ke Sare Kapde Nikal Di Ye Or Khud Bhi Naga Ho Gaya Or Bas Na Daye Dekh Naa Baye Dekha Vikas Sidhe Mina Ke Do No Paav Ko Khol Ke Mina Ke Do No Paav Ke Bich Me Aa Gaya Or Mina Ki Chut Ke Uper Apna Land Ko Ragar Ne Laga Sath Hi Sath Mina Ke Kabhi Hot Ko Chumta To Kabhi Mina Ke Boobs Ke Nipul Ko Muh Me Le Ke Chat Ta

Or Khuchh Hi Der Me Vikas Ka Land Tight Ho Gaya Or Khada Ho Ke Salami Dene Laga Vikas Ka Land Khada Ho Ke 10 Inch Tak Lamba Ho Gaya Tha Or 2 Inch Mota Ho Gaya Tha Vikas Ne Sidhe Apne Ek Hath Se Apna Land Pakda Or Apni Patni Mina Ki Chut Ke Ched Me Tika Diya Or Jor Ka Jat Ka Maar Diya Mina Chila Padi Kiyo Ki Land Kafi Mota Or Sakht Tha Mina Ne Apne Pati Se Kaha Ki Dekhi Ye Aap Land Ko Bahar Nikal Diji Ye Or Apne Land Pe Tel Laga O Fir Chut Me Daa Lo Uuu Sukha Land Chut Me Mat Daa Lo Ek Aap Ka Itna Bada Or Mota Land Upper Se Meri Chut Bhi Sukhi Hui Thi Or Aap Ka Land Umder Jaa Te Hi Muje Darad Ho Raha Hai Vikas Ne Kaha Ki

Meri Jaan Bas Thora Sa Hi Darad Hoga Ghabhra O Mat Or Chudai Ka To Hasli Maja Chut Ke Under Sukha Land Daal Ne Me Hi Maja Hai Ye Tel Laga Ke Land Chut Me Daal Ne Me Maja Bil Kul Nahi Hai Or Fir Ek Jat Ka De Ke Ek Or Inch Gusa Diya Land Mina Ki Chut Meab 8 Inch Land Chut Ke Bahar Tha Vikas Ne Kaha Ki Mina Tu To Badi Sexy Hai Or Tuj Se Bhi Jiyada Teri Chut Kamal Ki Hai Mina Ne Pucha Ki Kiya Vikas Ne Kaha Ki Dekh Na

Abhi To Teri Chut Me Shirf Mere Land Ka 2 Inch Hi Under Gaya Hai Lekin Teri Chut Mere Land Ko Ander Daba Daba Ke Land Ka Kachumbar Bana Rahi Hai Mina Ye Sun Ke Sarma Gai Or Fir Ek Jat Ka Laga Ya Vikas Ne Fir Ek Inch Land Mina Ki Chut Me Gus Gaya Mina Ke Muh Se Fir Chikh Nikali Aahhhha Plzz Dhireeee Dhhiirreee Mmmuuujjjee Daarrr Hooo Ttaaa Haa Plzz Vikas Ne Kaha Ki Peheli Baar Hai Na Es Liye Darad Hota Hai

Baad Me Ye Land Chut Me Ae Se Chala Jaa Ye Ga Je Se Koi Bada Lamba Saaf Kisi Bil Me Gus Jata Hai Or Vikas Fir Do Baar Jat Ke De Ke Or 2 Inch Land Ko Mina Ki Chut Me Gusa Diya Ab Tak Mina Ki Chut Me Vikas Ka Land 5 Inch Tak Under Jaa Chuka Tha Or Bahar 5 Inch Baki Tha Fir Vikas Kuchh Der Ruk Gaya Or Mina Se Kaha Ki Mina Meri Jaan Tum Ko Thora Sa Darad Sen Kar Na Ho Ga Bas Or Ye Kehe Te Hu Ye Vikas Ne Apne Kamar Ko Bahar Ki Or Khicha

Or Land Bhi Pura Bahar Nikal Gaya Or Fir Se Apne Hath Se Land Ko Pakda Or Land Ko Jor Daar Jatka Diya Lekin Land Shirf 5 Inch Tak Hi Gus Saka Baki Ka 5 Inch Bahar Hi Raha Mina Se Ab Bardaas Nahi Ho Raha Tha Mina Ne Kaha Ki Sun Te Ho Plzz Aap Or Apna Land Meri Chut Me Mat Daa Lo Vese Bhi Aadha Land To Chut Me Ghus Gaya Hai Na Bas Aap Itne Land Se Chudai Kar Do Lekin Vikas Ne Kaha Ki Aadhe Land Me Chudai Ka Koi Maja Nahi Hai

Mina Ne Kaha Ki Ager Aap Ko Pura Land Daal Ne Hai To Aap Dus Ri Aorat Dhud Lo Muje Nahi Kar Ni Hai Chodai Fir Vikas Ne Kaha Ki Thik Hai Viksa Ne Aadha Land Chut Me Gusa Ke Chudai Kar Ni Chalu Kar Di 30 Minit Tak Vikas Ne Mina Ki Chut Apna Land Teji Se Under Bahar Kiya Or Vikas Ne 30 Minit Ke Baad Apna Viriya Mina Ki Chut Me Daal Diya Us Raat Vikas Ne 5 Baar Mina Ki Chudai Ki Vikas Abhi Bhi Chudai Kar Na Chah Ta Tha Lekin Mina Ne Mana Kar Diya

Or Vikas Ki Pyaas Adhuri Rehe Gai Pehele To Mina Vikas Se 5 5 Baar Chudai Ti Thi Lekin Baad Me Dhire Dhire Mina Din Me 5 Me Se 4 .. 4 Me Se 3 ... Me Se 2 .... Me Se 1 Baar Me Aagai Mina Ko Sadi Ke Baad 2 Beti Hu Ye Or Do Betiya Hui 2 Beti Ho Ne Ke Baad Mina Ne Vikaas Se Chudva Na Bandh Kar Diya Tha Kiyo Mina Or Bache Peyda Nahi Kar Na Chah Ti Thi

Lekin Vikas Ab Bhi Chod Na Chah Ta Tha Lekin Vikas Ki Bibi Ab Vikas Se Chudva Na Bandh Kar Diya Tha Or Vikas Ki Patni Mina Do No Alag Alag Bed Room Me So Te The Or Vikas Ko Jab Bhi Man Ho Ta Tha To Vikas Muth Maar Le Ta Tha Or Khud Ko Saanth Kar Leta Tha Dhire Dhire Vakt Gujar Ta Gaya After 25 Saal Baad Vikaas Budha Ho Gaya Tha Ab Vikas Ki Age 60 Ki Thi Or Mina Ki 50 Vikas Or Mina Ke Bache Bhi Bad Ho Gaye The

Vikas Ke Do Bete Bade Ho Gaye The Do No Ki Sadi Bhi Ho Gai Thi Lekin Vikas Ke Chote Bete Ki Ek Car Oxidant Me Mot Ho Gai Thi Chote Bete Ki Patni Ka Naam Puja Tha Puja Ki Age 20 Saal Ki Thi Aaj Puja Ke Pati Ko Mare Hu Ye Ek 1 Month Gujar Gaya Tha Ek Din Ki Bat Thi Vikas Roj Raat Ko Bathroom Me Jaa Ke Muth Maar Ta Tha Ghar Me Bathroom Ek Hi Thi Or Vo Niche Tha Puja Ke Room Ke Bagal Me

Jab Vikas Bathroom Me Muth Maar Ke Bahar Aaya To Us Ki Nazar Puja Ke Room Pe Gai Puja Ka Room Ka Daravaja Khula Tha Puja Jis Bed Pe Soi Thi Vo Khid Ki Ke Saam Ne Tha Or Khid Ki Me Ne Halki Ros Niaa Rahi Thi Jo Puja Ke Upper Gir Rahi Thi Achanak Piya Ne Karavat Li Bed Pe Or Puja Ne Jo Safed Sari Safed Blows Or Safed Petticoat Jo Pehe Na Tha Puja Ka Petticoat Puja Pero Pe Se Sadak Ke Uper Jango Tak Aa Gaya Tha

Puja Ki Jange Nagi Ho Gai Thi Or Puja Ki Jago Pe Puja Ke Sasur Vikas Ki Nazar Pad Gai Thi Itne Saalo Ke Baad Kisi Javal Ladki Ki Nagi Jango Ko Dekh Ke Puja Ke Sasur Vikas Ka Land Fir Se Khada Ho Gaya Puja Ke Sasur Vikas Puja Ke Bedroom Me Ander Jaa Ke Puja Ke Bedroom Ka Daravaja Bandh Kar Ke Puja Ke Paas Aake Ghur Ghur Ke Puja Ki Tango Ko Dekh Ne Laga Tha

Lekin Sath Hi Sath Puja Ke Sasur Vikas Ko Dar Bhi Lag Raha Tha Ki Kahi Us Ki Bahu Jag Na Jaa Ye Akhir Puja Ke Sasur Vikas Ne Himat Kar Ke Apne Ek Hath Se Puja Ke Petticoat  Ke Nare Ko Khol Diya Or Dhire Dhire Kar Ke Patticoat Ko Kamar Se Niche Ki Or Sarkha Te Hu Ye Pero Tak Laa Ke Nikal Diya Or Ye Najara Dekh Ke To Puja Ke Sasur Vikas Pagal Ho Gaya Kiyo Ki Patticoat Ke Under Puja Kuchh Nahi Pehe Na Tha Puja Ki Chut Nagi Thi Or Puja Ne Apni Chut Ke Baalo Ko Bhi Kaat Ke Saaf

Kar Rakha Tha Puja Ki Chut Saaf Saaf Dikh Rahi Thi Puja Ke Sasur Ko Puja Ke Sasur Vikas Ne Fir Himat Kar Ke Puja Ki Jang Ko Pakad Ke Sidha Kar Ke Do No Paav Ko Khol Diya Or Apna Muh Ko Puja Ki Chut Ke Paas Laa Ke Puja Ki Chut Ke Ched Me Apni Jaban Daal Ke Chaat Ne Laga Tabhi Puja Thori Si Hil Padi Puja Ke Sasur Vikas Sasur Dar Gaya Or Us Ne Apni Jibh Ko Bahar Nikal Diya

Puja Ke Sasur Vikas Ne Thori Der Baad Fir Apni Jibh Ko Puja Ki Chut Me Daal Di Or Chat Ne Laga Or Udhar Puja Nid Me Hi Kahara Ne Lagi Thi A Hhahahhah Hhhmmm Aaaaoooo Or Puja Ke Sasur Vikas Puja Ki Chut Ko Jor Jor Ke Chat Raha Tha Achanak 5 Minit Baad Puja Ki Chut Me Ek Leher Si Utha Gai Or Puja Nid Me Hi Jar Gai Puja Ki Chut Se Ras Nikal Na Suru Ho Gaya Thalekin Puja Ki Chut Se Jo Sara Ras Nikal Raha Tha Vo Puja Ka Sasur Apni Jabhan Chut Ke Under Daal Ke Chat Ke Sara Ras Pi Gaya

Puja Ke Sasur Vikas Ne Sara Chip Chipa Ras Pi Ne Ke Baad Fir Se Puja Ki Chut Me Apni Jaban Daal Ke Chus Ne Chat Ne Laga Or 15 Minit Ke Baad Fir Puja Ki Chut Me Se Ras Nikal Na Suru Huva Lekin Es Baar Puja Ke Sasur Vikas Ke Sasur Ne Puja Ki Chut Ka Ras Chata Nahi Or Es Baar Puja Ke Sasur Kahda Ho Gaya Or Apni Thoti Or Kurat Nikal Diya Or Fir Se Puja Ki Do No Tango Ke Bich Aa Gaya Or Apna Land Ko Puja Ki Chut Ke Uper Ghis Ne Laga Jis Ke Vaja Se Puja Ki Chut Ka Ras

Puja Ke Sasur Vikas Ke Land Ke Uper Ragar Ne Laga Or Dekh Te Hi Dekh Te Puja Ke Sasur Vikas Ke Land Puja Ke Chut Ke Ras Se Chi Chipa Ho Gaya Or Upper Puja Ke Sasur Vikas Ne Puja Ke Blows Ke Huk Khol Diye Or Apna Land Ko Puja Ki Chut Ke Ched Me Tika Ke Ek Jor Daar Jat Ka Mara

Or Puja Ki Chut Se Bhi Kasi Sara Ras Nikla Tha Or Puja Ke Sasur Ke Land Pe Bhi Ras Charo Or Se Chipka Huva Tha Es Liye Puja Ke Sasur Vikas Ka Land 10 Inch Lambe Ro 2 Inch Mote Land Me Se Sidhe 4 Inch Tak Puja Ki Chut Ko Chirta Farta Huva Ander Chala Gaya Or Puja Ki Chut Ka Ek Chheda Fat Gaya Or Khoon Nikal Ne Laga Puja Ki Chut  Me Bhaya Nak Darad Hone Laga Jis Ke Vaja Se Puja Ki Aakhe Khul Gai

Lekin Puja Chila Pati Us Se Pehe Le Puja Ke Sasur Ne Apne Hoto Ko Puja Ke Hoto Se Chipka Diya Taki Puja Chila Na Paa Ye Or Apne Do No Hath Ko Ungliya Ko Puja Ke Do No Hath Ki Ungli Yo Ke Ander Daal Ke Daba Diya Taki Puja Apne Aap Ko Chhud Va Na Sake Ab Tak 10 Inch Land Me Se 4inch Land Puja Ki Chut Me Chala Gaya Tha Or Bahar 6 Inch Land Baki Tha 5 Minit Ruk Ne Ke Baad

Puja Ke Sasur Ne Fir Apna Pura Ka Pura Land Apni Vidhva Bahu Ki Chut Me Se Niakal Diya Or Sirf Ek Inch Hi Chut Me Rakha Or Apni Kamar Ko Pichhe Ki Or Le Ke Jor Daar Jat Ke Maara Or 10 Inch Ka Lamba Land Pura Ka Pura Puja Ki Chut Me Daal Diya Udhar Puja Jat Pata Ne Lagi Thi Apne Aap Ko Chhud Va Ne Ki Kosis Kar Ne Lagi Lekin Puja Ke Sasur Ne Puja Ko Kas Ke Pakda Tha Puja Ki Chut Fat Gai Thi Puja Ki Chut Se Khoon Nikal Raha Tha

Puja Ke Sasur Vikas Ne Aakhir Kar Apna Pura Ka Pura 10 Inch Lamba Land Aaj Pehe Li Baar Kisi Land Ki Chut Me Pura Sama Diya Land Chut Ke Under Puaara Jaa Ne Ke Bad Puja Ka Sasur To Khusi Se Pagal Ho Gaya Tha Kiyo Puja Ki Chut Kafi Garam Thi Maano Puja Ke Sasur Ko To Ae Sa Lag Raha Tha Ki Maa No Vo Khud Ka Land Ki Sekai Kar Raha Ho 15 Minit Ae Se Hi Rehe Ne Ke Baad

Puja Ke Sasur Ne Apni Kamar Ko Dhire Dhire Under Bahar Kar Na Suru Kar Diya Tha Or Puja Ke Hoto Ko Ab Tak Puja Ke Sasur Ne Nahi Choda Tha Jab Ab Puja Ka Sasur Apna Land Puja Ki Chut Me Under Bahar Kar Ne Laga Tha To Us Ne Puja Ke Hoto Ko Chhor Diya Je Se Hi Puja Ke Hoto Ko Chhora To Puja Chila Ye Us Se Pehe Le Puja Ke Sasur Ne Puja Se Kaha Ki Kabar Daaar Tum Chilai To Ager Chilai To Tum Hara Hi Nuksaan Ho Ga Me Sab Se Kehe Duga Ki Me Bathroom Kar Ne Niche Aaya Tha Meri Bahu Puja Ne Muje Apne Room Me Jabar Dasti Khich Ke

Mere Sath Ye Kar Ne Lagi Jab Me Ne Mana Kiya To Muje Dhamki De Di  Ki Ager Aap Meri Baat Nahi Maa No Ge To Me Chila Chila Ke Sab Ko Bula Dugi Or Ye Kahu Gi Ki Aap Ne Meri Hijat Lut Ne Ki Kosis Ki Thi Fir Dekh Lena Ghar Me Se Tum Nikal De Ge Or Sab Tum Ko Bach Chalan Kahe Ge Puja Ne Kaha Ki Sasur Ji Aap Kiyo Ae Sa Kar Rahe Ho Plzz Bhagvan Ke Li Ye Muje Chhor Do Or Uder Ab Puja Ke Sasur Ne Apne Land Teji Se Puja Ki Chut Me Under Bahar Kar Na Suru Kar Diya Tha

Udher Puja Bhikh Maag Rahi Thi Ki Us Ko Chhor Do Lekin Puja Ke Sasur Ne Kaha Ki Chup Kar Or Meri Baat Sun Dhiyan Se Dekh Vese Bhi Mera Land Teri Chut Me Ghus Gaya Hai Or Me Ne Teri Chudai Bhi Chalu Kar Di Hai Or Chahe Tu Kuchh Bhi Kar Le Me Tuj Ko Nahi Chhoru Ga Teri Chut To Kiti Tigher Hai Mere Land Ki Achhi Malis Ho Rahi Hai Tri Chut Ke Under Bahu Me To Tuj Ko Roj Chod Na Chah Ta Hu Dekh Vese Bhi Tera Pati Yani Ke Mera Beta Vo Ab Es Duniya Me Nahi

To Teri Bhi Piya Adhuri Hai Or Meri Bibi Hai Lekin Fir Bhi Vo Muje Apne Aap Ko Chhu Ne Nahi Deti Hai Are Bahu Vo To Suhagraat Ko Mera Land Apni Chut Shirf Adha Hi Gus Ne Diya Or Muje Pura Land Bhi Chut Me Nahi Daal Ne Diya Or Muje Majbur Ho Ke Adhe Land Se Hi Chudai Kar Ni Padi Lekin Bahu Teri Chut To Janat Hai Mere Land Ki Size Pata Hai Tuj Ko 10 Inch Lamba Hai Or 2 Inch Mota Land Hai Jo Abhi Teri Chut Me Gusa Huva Hai Aaj Muje Afso Ho Raha Hai Ki Tu Muje Pehe Le Kiyo Nahi Mili

Age Tu Muj Se Pehe Le Mili Hoti To Mehi Tuj Se Sadi Kar Leta Puaj Sari Baat Te Sun Rahi Thi Puja Boli Nahi Sasur Ji Fir Bhi Ye Galat Hai Bahu Kuchh Galat Nahi Ab Shirf Tu Meje Le Me Tuj Ko Aaj Bohod Chod Ne Vala Hu Tabhi Puja Ke Sasur Ne Or Teji Se Puja Ki Chut Me Land Under Bahar Kar Ne Laga

Chilla Ne Lagi Pppplllllzzzz Saassssuuurrr Jjjjiiii Aaahahhhha Maaarr Gaaaaiiii Uuuiiiiii Mmmaaaa Oooohhhhh Aaaahhhh Bbbaassss Kkiijjiiyyee Oohhh Aaahhh Hhhhhhaaaa Pppllllzzzzz Fir Puja Se Bhi Bar Daas Nahi Huva Or Puja Ki Chut Se Bhi Pani Nikla Ne Laga Karib Ek Ghante Tak Puja Ke Sasur Ne Apna Land Ko Puja Ki Chut Me Under Bahar Kiya Or Puja Ka Sasur Tej Tej Saas Se Bhar Ne Laga Puja Ko Samaj Me Aagaya Tha Ki Ab Puja Ka Sasur Apna Viriya Nikal Ne Vala Hai

Puja Ne Kaha Ki Sasur Ji Plzzz Aap Apna Viriya Meri Chut Ke Under Mat Dali Ye Gaa Tab Puja Ke Sasur Ne Kaha Ki Thik Lekin Meri Ek Sarat Hai Tu Muj Se Roj Chudva Ye Gi To Hi Me Virya Bahar Nikalu Ga Var Na Me Apna Virya Teri Chut Mee Daal Ke Tuj Apne Bache Ki Maabana Ke Chhoru Ga Puja Inkaar Kiya Or Puja Ke Sasur Ne Pana Viriya Puja Ki Chut Me Daal Diya Or Puja Ko Jakar Ke Puja Ke Uper Let Gaya

Kuchh Der Baad Puja Ko Bhi Nid Aa Gai Or Puja Ka Sasur Bhi Puja Ke Uper Se Hat Gaya Or Puja Ke Paas So Gaya Or Puja Ke Boobs Ke Nupul Ko Muh Me Le Ke Chus Ne Laga Kuchh Der Baad Puja Ka Sasur Bhi Apne Room Me Chala Gaya Us Ke Baad Fir Puja Ke Sasur Dusra Moka Nahi Mila Puja Ii Chudai Kar Ne Ka Kiyo Ab Puja Apne Room Ka Daravaja Bandh Rakh Ti Hai Taki Us Ka Sasur Fir Ae Se Na Kar Sake

Kuchh Hafte Gujar Ne Ke Baad Pta Chala Ki Puja Maa Ban Ne Vali Hai Sab Laga Ki Puja Ke Pet Me Jo Bacha Hai Vo Puja Mare Huye Pati Ka Hai Sab Ko Ye Hi Lag Raha Tha Lekin Asli Baat To Shirf Puja Hi Jaan Ti Thi Ke Ye Bacha Us Ke Sasur Ka Tha ....

बाप ने अपनी बेटी को जबरदस्ती चोदा

बाप ने अपनी बेटी को जबरदस्ती चोदा, baap ne beti ko zabardusi choda

वो बोली : "यार, तेरे पापा को तो सारी तरकीबे आती है, इनसे चुद कर सच में बड़ा मजा आएगा ''.. दोनों सहेलियां फिर से अंदर देखने लगी, अपने-२ जहन में खुद को रश्मि कि जगह रखकर चुदते हुए. शायद चौथी बार था उनका , पर फिर भी समीर को देखकर लग नहीं रहा था कि वो थके हुए हैं , सटासट धक्के मारकर वो चुदाई कर रहे थे.


अचानक समीर ने अपना लंड बाहर खींच लिया, और उठकर रश्मि के चेहरे के पास आ गया, शायद इस बार वो उसके चेहरे पर अपना माल गिराकर संतुष्ट होना चाहता था.


एक दो झटके अपने हाथों से मारकर जैसे ही अंदर का माल बाहर आया, काव्या और रश्मि को लगा जैसे दुनिया रुक सी गयी है, स्लो मोशन में उन्हें समीर के लंड का सफ़ेद और मसालेदार दही रश्मि के चेहरे पर गिरता हुआ साफ़ नजर आया..


रश्मि के चेहरे को अपने पानी से धोने के बाद,बाकी के बचे हुए रस को समीर ने उसके मुम्मों पर गिरा दिया, और वहीँ बगल में लेटकर पस्त हो गया.


शायद ये उनका आखिरी राउंड था.


काव्या ने श्वेता को चलने के लिए कहा, पर जैसे ही श्वेता उठने लगी, उसके सर से खिड़की का शीशा टकरा गया और एक जोरदार आवाज के साथ वो शीशा टूट गया, दोनों सहेलियों कि फट कर हाथ में आ गयी.


दोनों जल्दी से उछलती हुई वापिस अपने कमरे कि तरफ भागी और दरवाजा बंद करके चुपचाप लेट गयी.


समीर ने जैसे ही वो आवाज सुनी वो नंगा ही भागता हुआ वह पहुंचा, जाते हुए उसने अपने ड्रावर में से पिस्टल निकाल ली थी.

baap ne beti ko zabardusti choda



वो चिल्लाया : "कौन है, कौन है वहाँ ……''


नंगी पड़ी हुई रश्मि ने अपने शरीर पर चादर लपेटी और वो भी डरती हुई सी बाहर कि तरफ आयी, जहाँ समीर खिड़की के टूटे हुए शीशे को देख रहा था.


रश्मि : "क्या हुआ, क्या टूटा है यहाँ ''...


समीर : "खिड़की का शीशा, जरूर कोई यहाँ छुपकर हमें देख रहा था ''


रश्मि के पूरे शरीर में करंट सा लगा, ये सोचते हुए कि उसकी रात भर कि चुदाई को कोई देख रहा था


रश्मि : "कौन, ऐसे कौन आएगा यहाँ ??"..


समीर ने काव्या के रूम कि तरफ देखा तो रश्मि बोली : "तुम क्या कहना चाहते हो, काव्या थी यहाँ, नहीं, ऐसा नहीं हो सकता, वो भला ऐसा क्यों करेगी, उसमे इतनी अक्ल तो है कि वो ऐसा नहीं करेगी ''..


समीर ने कुछ नहीं कहा, वो समझ चूका था कि काव्या के सिवा और कोई इतनी उचाई पर आ ही नहीं सकता था, नीचे से ऊपर आने के लिए कोई भी साधन नहीं था, सिर्फ बालकनी से टापकर ही वहाँ पहुंचा जा सकता था , पर वो ये सब बाते अभी करके रश्मि को नाराज नहीं करना चाहता था..


इसलिए वो अंदर आ गया और उसके बाद दोनों सो गए.


दूसरे कमरे में काव्या और श्वेता भी थोड़ी देर में निश्चिन्त होकर सो गए.


अगले दिन श्वेता जल्दी ही निकल गयी, शायद वो समीर कि शक़ वाली नजरों से बचना चाहती थी.


रश्मि सुबह चार बजे सोयी थी, इसलिए वो अभी तक सो रही थी, पर समीर को जल्दी उठने कि आदत थी, इसलिए वो अपने समय पर उठ गया था.


श्वेता को नौ बजे के आस पास जाता हुआ देखकर उसने मन ही मन कुछ निश्चय किया और काव्या के रूम कि तरफ चल दिया.


काव्या अपने बिस्तर पर लेटी ही थी कि समीर ने दरवाजा खड़काया , काव्या ने जम्हाई लेते हुए दरवाजा खोला, और सामने समीर को खड़ा देखकर उसकी आँखे एकदम से खुल गयी, उसके दिमाग में रात कि चुदाई कि पूरी तस्वीर चलने लगी फिर से और उसकी नजर अपने आप समीर के लंड कि तरफ चली गयी.


काव्या : "अरे अंकल .... मेरा मतलब पापा , आप .... इतनी सुबह ??".


समीर कुछ नहीं बोला और अंदर आ गया , उसके चेहरे पर गुस्सा साफ़ झलक रहा था, वो चलते हुए बालकनी में पहुँच गया


काव्या कि तो हालत ही खराब हो गयी, वो वहाँ से अपने कमरे कि बालकनी कि तरफ देखने लगा, और फिर अंदर आकर काव्या के सामने खड़ा हो गया, वो समीर से नजरे नहीं मिला पा रही थी..


समीर : "तुम ही थी न रात को मेरी बालकनी में, तुम्ही देख रही थी न वो सब ....''


काव्या : "क …क़ …क़्यआ …… मेरी कुछ समझ में नहीं आ रहा है ''.


वो इतना ही बोली थी कि समीर का एक झन्नाटेदार थप्पड़ उसके बांये गाल पर पड़ा और वो बिस्तर पर जा गिरी.


समीर चिल्लाया : "एक तो गलती करती हो और ऊपर से झूट बोलती हो …''


इतना कहते हुए वो आगे आया और बड़ी ही बेदर्दी से उसने काव्या के बाल पकडे और उसे खड़ा किया


काव्या दर्द से चिल्ला पड़ी , पर समीर पर उसका कोई असर नहीं हुआ , समीर का एक और थप्पड़ उसके कान के पास लगा और उसे कुछ देर के लिए सुनायी देना भी बंद हो गया.


आज तक उसे रश्मि ने भी नहीं मारा था, और ना ही कभी उसके खुद के बाप ने, और आज ये समीर उसे पहले ही दिन ऐसे पीट रहा था जैसे उसकी बरसों कि दुश्मनी हो.


वैसे समीर था ही ऐसा, उसका बीबी से तलाक सिर्फ इसी वजह से हुआ था कि दोनों में झगडे और बाद में मार पीट काफी ज्यादा बढ़ चुकी थी, समीर ने तो अपनी बीबी को एक-दो बार अपनी पिस्टल से डराया भी था, और यही कारण था उनके तलाक का, घरेलु हिंसा .


पर समीर का ये चेहरा सिर्फ घर तक ही था, बाहर किसी को भी उसके ऐसे बर्ताव कि उम्मीद तक नहीं थी, सोसाईटी में और ऑफिस में तो उसे शांत स्वभाव का सुलझा हुआ इंसान समझा जाता था, पर गुस्सा कब उसके दिमाग पर हावी हो जाए, ये वो खुद नहीं जानता था ..


और आज भी कुछ ऐसा ही हुआ था.


उसके खुद के घर में , काव्या उसके बेडरूम के बाहर छुप कर उसकी चुदाई के नज़ारे देख रही थी, ऐसा सिर्फ उसे शक था, पर फिर भी उसने अपने गर्म दिमाग कि सुनते हुए जवान लड़की पर हाथ उठा दिया, ये भी नहीं सोचा कि उसकी एक दिन कि शादी पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा, रश्मि क्या कहेगी जब उसे पता चलेगा कि उसकी फूल सी नाजुक लड़की को ऐसे पीटा गया है..


और काव्या को तो विश्वास ही नहीं हो रहा था कि उसके साथ ऐसा सलूक किया जा रहा है, जिस समीर पापा कि चुदाई देखकर उसकी चूत में भी पानी भर गया था कल रात और वो उनसे चुदने के सपने देखने लगी थी ,वो उसके साथ ऐसा बर्ताव कर रहे हैं, वो सब रात भर का प्यार नफरत में बदलता जा रहा था अब..


समीर ने एक और झापड़ उसे रसीद किया और फिर बोला : "सच बोल, तू ही थी न रात को वहाँ ''.


काव्या ने आग उगलती हुई आँखों से समीर को देखा और ना में सर हिला दिया..


समीर ने उसे धक्का दिया और उसका सर दिवार से जा लगा, और उसके माथे पर एक गोला सा बन गया , वो दर्द से बिलबिला उठी.


समीर उसके करीब आया और फिर से उसके बालों को पकड़ा और उसके चेहरे के करीब आकर गुर्राया : "मेरी बात कान खोलकर सुन ले साहबजादी, ये मेरा घर है, और मेरी मर्जी के बिना यहाँ का पत्ता भी नहीं हिल सकता, फिर से ऐसी कोई भी हरकत न करना कि मैं तुझे और तेरी माँ को धक्के मारकर इस घर से निकाल दू , समझी , अगर यहाँ रहना है तो सीधी तरह से रह ''.


और फिर बाहर निकलते हुए वो पीछे मुड़ा और बोला : "ये बात हम दोनों के बीच रहे तो सही है, वरना अंजाम कि तुम खुद जिम्मेदार होगी ''.


ये सारा किस्सा रश्मि को न पता चले, इसकी धमकी देकर समीर बाहर निकल आया ...... अपने बिस्तर पर दर्द से बिलखती हुई काव्या को छोड़कर .


उसने उसी वक़्त श्वेता को फ़ोन करके रोते-२ सारी बात बतायी , उसे भी विश्वास नहीं हुआ कि समीर ऐसा कुछ कर सकता है उसके साथ , श्वेता ने काव्या को अपने घर पर आने के लिए कहा.


वो नहा धोकर तैयार हो गयी, तब तक रश्मि भी उठ चुकी थी, और सबके लिए नाश्ता बनाकर टेबल पर इन्तजार कर रही थी, समीर और काव्या जब टेबल पर आकर बैठे तो दोनों ने एक दूसरे कि तरफ देखा तक नहीं.


रश्मि ने अपनी बेटी को उदास सा देखा तो उसके पास आयी और तभी उसके माथे पर उगे गुमड़ को देखकर चिंता भरी आवाज में बोली : "अरे मेरी बच्ची, ये क्या हुआ, ये चोट कैसे लगी ''.


काव्या ने नफरत भरी नजरों से समीर कि तरफ देखा, जो बड़े मजे से नाश्ता पाड़ने में लगा हुआ था, और फिर धीरे से बोली : "कुछ नहीं माँ, रात को बिस्तर से गिर गयी थी, ऐसे बेड पर सोने कि आदत नहीं है न, इसलिए ''.


समीर उसकी बात सुनकर कुटिल मुस्कान के साथ हंस दिया..


अपना नाश्ता करने के बाद काव्या अपनी माँ को बोलकर श्वेता के घर पहुँच गयी.


उसके कमरे में पहुंचकर उसने विस्तार से वो सब बातें बतायी जो आज सुबहउसके साथ हुई थी , जिसे सुनकर श्वेता का खून भी खोलने लगा


श्वेता : "साला, कमीना कहीं का , देख तो कितने वहशी तरीके से पीटा है तुझे, ''


उसने काव्या के माथे को छूकर देखा, वहाँ अभी तक दर्द हो रहा था


श्वेता : "यार, जिस तरह से तू समीर के बारे में बता रही है, मुझे तो लगता है कि ये कोई साईको है, अगर जल्द ही इसका कुछ नहीं किया गया तो शायद किसी दिन ये आंटी के साथ भी ऐसा कुछ ना कर दे ''

ये बात सुनते ही काव्या सिहर उठी, उसे अपनी माँ से सबसे ज्यादा प्यार था और उसे वो ऐसे पिटते हुए नहीं देख सकती थी


काव्या : "नहीं, मैं ऐसा नहीं होने दूंगी ....''


श्वेता : "वो ऐसी हरकत ना करे, ना ही तेरे साथ और ना ही आंटी के साथ, इसके लिए हमें कुछ करना होगा ''


दोनों ने एक दूसरे को देखते हुए सहमति से सर हिलाया, दोनों ने मन ही मन दृढ़ निश्चय कर लिया कि चाहे कुछ भी हो जाए , वो कभी समीर को ऐसा कुछ नहीं करने देंगी


उनके अंदाज को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता था कि वो अपनी बात पूरी करने के लिए किसी भी हद तक जा सकती हैं

दोनों समीर से निपटने कि रणनीति तैयार करने लगी


श्वेता : "देख, अभी कुछ दिन के लिए तो तू बिलकुल चुपचाप रह , तेरा ये सौतेला बाप क्या करता है, कौन-२ उसके दोस्त है, किन बातों से खुश होता है, किनसे नाराज होता है, ये सब नोट करती रह, उसके बाद हम उसके हिसाब से आगे का प्लान बनाएंगे ''.


काव्या : ''पर इससे क्या होगा …??''.


श्वेता : "हमें बस ये सुनिश्चित करना है कि जो आज तेरे साथ हुआ है वो दोबारा न हो, और न ही कभी तेरी माँ के ऊपर ऐसी नौबत आये ''.


काव्या : "और जो उसने मेरे साथ किया है आज,उसका क्या ''


श्वेता : "उसका भी बदला लिया जाएगा , तू चिंता मत कर , तभी तो मैं कह रही हु, उसपर नजर रखने के लिए, हमें उनकी कमजोरी पकड़नी है, ताकि उसका फायदा उठाकर हम अपनी मर्जी से उन्हें अपने इशारों पर नचा सके ''


काव्या कि समझ में उसकी बात आ गयी ..


थोड़ी देर तक बैठने के बाद काव्या वहाँ से वापिस घर आ गयी.


उसने अब श्वेता कि बात मानते हुए समीर के ऊपर नजर रखनी शुरू कर दी ..


वो कोई भी बात कर रहा होता, उसे सुनने कि कोशिश करती, किन लोगो से मिलता है, कहा-२ जाता है, उन सब बातों का हिसाब रखना शुरू कर दिया उसने..


चुदाई के मामले में एक नंबर का हरामी था वो..


दिन में 2-3 बार सेक्स करता था, एक सुबह ऑफिस जाते हुए और फिर रात को सोने से पहले..


उसकी माँ कि मस्ती भरी चीखे पुरे घर में गूंजती थी, जिन्हे सुनकर वो भी गीली हो जाती थी.


समीर का कोई फ्रेंड सर्किल नहीं था, ऑफिस और घर के बीच चक्कर काटना , बस यही काम था उसका..


बस एक ही फ्रेंड था, उसका वकील दोस्त, लोकेश दत्त.


जिसकी सलाह मानकर समीर ने रश्मि को प्रोपोस किया था..


दोनों दोस्त अक्सर शाम को बैठकर दारु पीया करते थे और अपने दिल कि बाते एक दूसरे से शेयर करते थे..लोकेश अपनी फेमिली के साथ पास ही रहता था उनके घर के ...


ये सब वो उसी बालकनी में बैठकर करते थे जहाँ छुपकर काव्या ने अपनी माँ को चुदते हुए देखा था.


पर पीने के बाद समीर ये भूल जाता कि शायद काव्या अपने कमरे के अंदर बैठकर वो सब बाते सुन रही है जो वो दोनों कर रहे होते हैं और वो दोनों अक्सर चुदाई कि बाते भी करते थे या फिर ऑफिस में आयी किसी नयी लड़की के बारे में या कोर्ट में आये केस में फंसी बेबस लड़कियो और उनकी कारस्तानियों के बारे में..


कुल मिलाकार उनकी हर चर्चा का केंद्र सेक्स ही होता था..


शादी के एक हफ्ते बाद दोनों दोस्त बालकनी में बैठकर बारिश और दारु का मजा ले रहे थे..


लोकेश : "यार आजकल कोर्ट में एक तलाक का केस आया हुआ है , मिया बीबी अपनी शादी के बीस साल बाद तलाक ले रहे हैं, मैं औरत कि तरफ से केस लड़ रहा हु, वो रोज आती है मेरे केबिन में, अपनी 19 साल कि लड़की के साथ,उसका नाम है रोज़ी..यार, क्या बताऊ, इतनी गर्म और लबाबदार जवानी मैंने कही नहीं देखि , उसमे बोबे देखकर मन करता है अपना मुंह उनके बीच डालकर अपनी सारी फीस वहीँ से वसूल लू … हा हा हा ''


समीर भी उसकी बात सुनकर बोला : "ये उम्र होती ही ऐसी है, कच्चे-२ अमरुद लगने जब शुरू होते हैं न जवान शरीर पर, उन्हें दबाने और मसलने का मजा ही कुछ और है ……''

वो आगे बोला : "वैसे मुझे उसके बारे में भी बात करनी थी, उनकी माली हालत ज्यादा ही खराब है, इसलिए रोज़ी कोई जॉब करना चाहती है, अगर तेरे ऑफिस में कोई स्टाफ कि जरुरत है तो देख ले। ।''


समीर (कुछ देर सोचकर) : "हाँ , चाहिए तो सही मुझे, अपनी पर्सनल असिस्टेंट , रश्मि से शादी करने के बाद वो जगह अब खाली हो गयी है, तू उसे मेरे ऑफिस भेज देना, मैं देख लूंगा ''


लोकेश : "देखा, सिर्फ उसके बारे में सुनकर ही तू उसे जॉब देने के लिए तैयार हो गया, है तो तू पूरा ठरकी , हा हा "

और फिर अपना गिलास एक ही बार में खाली करते हुए समीर बोला : "एक तेरे क्लाईंट कि बेटी है, जिसके मस्त शरीर कि बाते सुनकर ही मेरा लंड खड़ा हो गया है, और एक मेरी बीबी कि बेटी है, साली ऐसी मनहूस है कि उसे देखकर खड़ा हुआ लंड भी बैठ जाए ''


काव्या छुपकर वो सब बातें सुन रही थी, ये पहली बार था जब समीर और लोकेश उसके बारे में बाते कर रहे थे


लोकेश : "यार, ऐसा भी कुछ नहीं है, मुझे तो उसका मासूम सा चेहरा बड़ा ही सेक्सी लगता है ''


उसने अपने लंड के ऊपर अपना हाथ फेरते हुए कहा


दोनों पर शराब पूरी तरह से चढ़ चुकी थी


Punjabi Girl Bahut Jyada Garam Thi

Punjabi Girl Bahut Jyada Garam Thi


Adult Stories Mai ek 31 saal ka hatta katta shadishuda mard hu aur mere 2 bacche bhi hai, par jaise2 shadi thodi purani hoti hai biwi se mann ubne lagta haior biwio ka patio se hamari shadi bhi kuch alag nahi thi. Mai senior manager ki post pe job karta hu aur fit hone ki wajah se 27-28 sal ka hi lagta hu. Tight Gand Desi Porn

Meri company ne mere ko mba karne ke liye fund kia, jiske liye mere ko weekend class lene jana hota tha, ye hindi sex stories meri mba class ki hi hai. Meri pehli class thi aur mai har ladke ki tarah prarthna karaha tha ki is class mai khub ladkia ho, shadi ke bad mai sach mai sex ka bhukha ho gaya tha, mere liye sundarta zyada mayne nahi rakhti, bas jism kasa huya hona chaiye.

Mai pahuchne ke baad baki students ka intzar kar raha tha, dhere-2 kafi students aye aur mene apna nishana ek ladki pe tika liya jo ki kareeb 25 saal ki hogi, kad uska acha tha heels ke sath wo 5’7″ lag rahi thi. Uske simple sa lal top pehna tha aur blue jeans pehni thi.

Wo kafi gori thi aur nain naksh bhi theek the, meri class mai sundar ladkia to aur bhi thi par usne mera dhyan akarshit kia kyuki wo kafi patli thi aur kasa hua mal tha uske boobs zyada mote nahi the par ubhare huye the. Uske chehre pe masumiat thi, aur uski kaamr tak lambi choti thi jis se mujhe pata chal gaya ki wo sardarni hai.

Mere sabhi readers ko to pata hi hoga ki sardarnia kitni garam hoti hai, uske bare mai sochte hi mera lund tanna gaya aur mere usko pane ka irada bana liya. Sab ne lecturer ko introduction dia, usne apna naam Jasveen bataya, ab mene usko peeche se dekha kyuki wo mere aage bethi thi aur khade hote sir se bat karahi thi.
Mast Hindi Sex Story : Truck Driver Ka Mota Dick Chata

Uski gand kafi tight thi uski figure 32-28-36 hogi uski thighs bhi badi moti thi. Wo software engineer thi, kismat se mai bhi software development company mai manager hu to mene apne introduction mai bataya ki main sr,manager hu aur single bhi hu aur company ke bare mai bataya taki mai uska dhyan kheech saku ya job ka lalach de saku.

Usko mai akser dekhta aur class mai meri smartness dekh wo samjh gayi ki mere sath dosti karke usko fayeda hai. Hum aksar sath bethte aur mai uski padai mai madad karta par kabhi kuch aur hint nahidia taki usko lage ki main bahut serious hu.

Mene uska resume bhi le liye is bahane se uski personal details bhi agayi aur usse lagr aha tha ki main bahut koshish karaha hu usko apni company mai lane ko. Hum mobile no, exchange kar chuke the lekin aksar mai usko kam ki bat ke liye hi msg karta jaise ki class timing wagerah, uska ek rat mere pass joke aya whatsapp pe, mene sad smiley bana ke bhej dia.

Jasveen::( kyu.

Mai: kuch nahi.

Jasveen: batao to.

Mai: kal class mai bat karein?.

Jasveen : ok.

Mene usko rat bhar mere bare mai sochne ke liye chod dia, agle din sham ko jab class khatam hui to wo mere sath bat karne ko ruk gayi. Mene usko bataya ki mere friends valentine day party mana rahe hai aur mere pass koi date nahi hai, sab mere ko chidate hai is sal bhi mai single hi hu, kya tum mere sath chaloge?

Jasveen: 14th feb ko?Yaar mai zarur apki madad karti par mera fiance’ mere ko phone karga wo us mai hai.

Mai: yaar ap phone pe bat karlena mai tab dosto ke sath beth jaunga kahunga apki mom ka phone hai.

Jasveen: thoda sochte huye,kaha ka plan hai.

Mai: hum gurgaon mai farm house pe party karenge wahi se fir mai apko pg drop kardunga.

Jasveen: farm house???Nahi I cant go to farm houses.

Mai: arre tension na lo mere sare dost married ya comitted hai, mai usko kuch pic fb ki dkhayi. Please ajao yaar warna fir mai bhi plan cancel kardunga, agar mere pe bharosa hai to chalo.

Jasveen : theek hai soch ke batati hu.

Agle din meri jan atki huyi thi mene excitment mai Jasveen ko msg kia.

Mai: so what have u decided.
Chudai Ki Garam Desi Kahani : Tara Sutaria Aur Kriti Sanon Sexy Figure

Uska koi reply nahi aya, mujhe laga ki wo mana kar degi, sham ko jab mai ghar pahcuha to uska msg aya hua tha, meri dhadkane tez ho gayi aur dekhte hi mai khush ho gaya usme likha tha “yes”. Mene turant apne sare kamine dosto ko conference call pe leke kahani batai aur sabko apni gf lane ko bola kyuki mere office ki aisi koi partyy nahi thi.

Ab mere dost mere collegue ki acting karne wale the, mai to bas usko apni party mai lana chahta tha aur apni banana chahta tha, mene fat fat amazon se uske liye ek red dress khareedi aur uske pg pe delivery karwai, valentine day mai abhi 2 din baki the, mene usko whatsapp pe dress ki pic bhej di. Wo hairan ho gayi aur khush bhi thi kyuki dress bahut sundar thi.

Mai: “thank you for my help, ye dress pehnke chalna”.

Fir agle din hum class mai mile mere chehre ki khushi chup nahi rahi thi wo bhi khush thi ki wo meri madad kar rahi hai. Mene usko class ke bad firse thanks bola aur bataya ki kal mai apko pg se 8pm pic karlunga for party. Agle din mai ready hoke office gaya waha hi change kia aur wife ko dost ke accident ka baahana bata ke apni jaan ko lene chala gaya.

Raste mai mene durex ultra-thin ka ek pack liya, mene apne dosto ko plan bata dia tha ki wo kaise bhi karke apni gf ke sath Jasveen ko bhi thodi pila de baki mai sambhal lunga. Mai uske pg ke bahar intzar karaha tha, aur usko whatsapp ki.

Mai: waiting in black corolla.

Jasveen: please wait.

Mere man mai bahut khab saj rahe the aur intzar nahi ho raha tha, mujhe uspe ab gussa ane laga tha kyu ki 40 min beet gaye the, mene gusse ko shant ki aur bed pe nikalne ka irada banaya. Kareeb ek ghante bad wo bahar ayi, usko dekh mera sara gussa utar gaya.

Usne wahi red dress pehni thi usme uski halki si cleavage dikh rahi thi aur gori-2 bahein bhi kyu wo sleeveless dress thi. Khud ko chupane ko usne upar shawl le rakah tha lekin gadi mai shawl uat dia to mujhe uske husn ke dashan huye.

Usne apne baal curl karwaye the aur dress ke matching red lipstick bhi lagayi thi, uski red dress mai se uski red bra strap bhi dikh rahi thi, mera man to tha ki gadi mai hi uska sar pakad ke apne lund pe daba du aur chuswau, par mai apna plan kharab nahi karna chata tha.

Hum log zayda bat na karte huye farm house pahcuhe wo samajh gayi ki main uski sundarta dekh nervous hu, usko shayd ye acha bhi lag raha tha, mere dosto aur unki gf ne humko great kia aur mene Jasveen ko comfortable feel karwa, usko bhi sase mil acha lag raha tha.

Mene der na karte huye bon fire jalayi aur hum log as pas beth gaye qki farm house mai thand thi. Mere dost ki gf Zoya boli ki chalo hum girls apna enjoy karenge aur tum boys apna drinks ka program karo. Mai yahi chata tha ki ladkia force karke usko wine pila de, mene bhi dosto ke sath whiskey ke 4 peg laga liye. Mera lund ab bekabu ho raha tha aur Jasveen hi usko thanda kar sakti thi.

Mere ko Zoya ka msg aya ” apki darling ab tyar hai usne kafi pee li hai”.

Fir mai Jasveen ke pass gaya aur usko shoulder se pakad ke puch “are u ok baby”.
Mastaram Ki Gandi Chudai Ki Kahani : Baat Aage Badhi Toh Chudai Pe Jakar Ruki

Usne smile kia aur yes kaha, shayad use mera otuch acha laga aur shayad wo man hi man mujhe chahti thi. Fir mere dost ne sabko kaha chalo dance karte hai, mene bhi Jasveen ko dance ke liye kheech liya. Na chahte huye bhi usko meri zabardasti achi lag rahi thi. “Tight Gand Desi Porn”

Usne mere shoulder pe sir rakh lia aur hum dnace karne lage, mene mauka pakar uski kamar mai hath rakha aur kareeb kheech lia, usne ankh utha ke meri aur dekha. “i love u, ur so bfull” mene halke se uske kan mai kehdia.

Ab uski pakad mujhpe mazboot ho gayi. Mai apne hath se dance karte huye uski peeth ko sehla raha tha kyuki kafi thand thi aur uski dress backless thi, use acha lagne laga. Mene chehra uske pass le gaya aur uske galo ko chuma, uski eyes band thi, meri harkatein dekh baki dost bhi hamara video banane lage.

Jasveen man ho rakhi thi, mene apna hath uski puri nangi peeth pe fera aur gallo ko chumte hye pakda aur lips pe halke se kiss kia, usne apne hoth khol diye, mene apni jeebh ko pehle uske nichle hoth pe fera aur fir upar wale hoth ko chusa ahhhhhhhhhhhhh usne siskari bhari.

Hum dono dance karte huye ruk gaye aur smooch karne lage wo bahut pyari kisser thi usne halki si jeebh nikali aur mere muh danto pe feri, mene uski gand ko dono hatho se jakad lia aur uske muh mai jeebh dalke kiss karne laga.

Ab hum dono se ruka nahi ja raha tha, mene usko baho mai utha liye aur ander bedroom mai le gyaa, mere baki dost bhi apni gf ke sath alg gaye, jab mene Jasveen ko letyaa usne eyes kholi, mene apne right hand ko uski gal pe rakh ke masla aur uske muh mai apna angutha dala, Jasveen ab garam ho chuki thi, wo apni jeebh mere anguthe pe fer rahi thi.

Mai vishwas nahi kar pa raha tha ki 20 din mai wo garam sardarni mai bistar pe thi, mene uske galo ko chuma, uski eyes ko chuma aur uske boobs ko dress ke upar se dabaya, mene uski dress neeche khiskane ki koshish ki to wo dheeme awaz mai boli “nahi pleaseeeeeeee”. “Tight Gand Desi Porn”

Mai samajh gaya ki abhi usko tadpana padega, mai uske booobs ko dress ke upar se daba raha tha aur lips chus raha tha, dusre hath ko mene uski chut pe rakha aur kass ke masla, “uffffffffffffffffffffff oh my god”.

Mene uski dukhti rag pakad li, mai niche khisakta huya gaya aur uske pet ko chuma gand ko masla aur legs ke pass gaya uski heels utari aur pairo ko chumne chatne laga, uske pair gulabi the, mene uske tango ko uthaya aur thigh pe hath ferne lgaa aur tango ko chatne laga, uski dress kamar tak utha ke mai uski jango ke beech gaya.

Mene uski panty ko geela paya usne matching red color ki panty pehni thi, mene uski dono jagho ko choda kia aur dono pe halke se kata, “ohhh jaan what r u doing”making mai crazy” kha jao mujhe. Mene usi gili panty pe apne hoth tika diye aur use chusne laga.
Antarvasna Hindi Sex Stories : Antarvasna Chikni Chut Ki Mehak Madhosh Kiya

Wo mere bal kheech rahi thi, chatpata rahi thi, mai uski chut ko kha raha tha, usne shayd ye anubhav kabhi nahi liya tha. Fir mere se raha na gaya mene uski panty utar di, aur uski 2-4 photo khech li jisme wo nangi leti hai, tabhi uska phone jo viberation pe tha baja wo usa ka no, tha jo shayd uske fiance ka tha.

Mene uske pick kar lia taki Jasveen ko pata na chale aur uska mangetar awazein sun sake. Mene Jasveen ki chut mai apni ungali dal di, wo cheekhi”ohhhhhhhhhhhhhhh god kya karahe ho”mere pass ao na, mai uski thighs ko daba ke usi chut mai ungali karhaa tha. “Tight Gand Desi Porn”

Wo siskia le rahi thi ahhhhhhhhhhhh oh my god zor se chilayi aur uska pani nikal gaya. Ye sari awazein uske mangetar ne zarur suni hongi, mene phone kat dia aur uske pani se apna lund gila kia, aur uski chut pe mara, mera lund bahut mota aur garam tha, 7″ lamba aur 3″ golai mai.

Jasveeni: please fuck mai I cant control.

Mai; aise kaise I want a blowjob.

Jasveen: what???

Mai: chus na yaar, mai uske upar agay aur uski parwah kiye bin uske muh pe apna lund ragadne laga, uske galo pe hotho pe kass ke lund mara jo mota aur bhari bhi hai, usne kiss kia uspe, shayd kabhi chusa nahi tha.

Mene uske bal pakde aur ungali dal ke muh khuwaya, jaise hi usne thoda muh khola mai pura lund uske muh mai dal dia, pura lund muh mai jate hi uske gale mai laga, aur usne chatpata ke nikal dia.

Mai: arre chus na yaar, kyu tadpa rahi ho.

Usne mera lund pakda aur kass ke dabaya, mujhe bahut maza aya usne abki bar meri skin peeche kheechi aur tope ko chata, us pe jeebh ferai aur muh mai leke chusne lagi. Uska chota sa muh mai mera adha bhi nahi ja raha tha, par wo mere balls ko sehla rahi thi jo mujhe bahut acha laga, mera thoda sa muth uspe muh mai nikal gaya. Ab mene usko dhaka mara aur bistar pe litaya, aur uski chut pe lund tika ke ek jor dar jhatka mara.

Jasveen: aaaucchhhhhhhhhhh kya karahe ho.

Mai uski ek na suni uski shoulder pakde aur 4-5 jhatke mare aur raka nahi jab tak mai balls uso na chu gaye. Wo bahut chapata rahi thi, is liye mene ab uko chuma pyar se, ilove u bola, uski gand ko dbaaya boobs ko chusa taki wo thoda control mai asake. “Tight Gand Desi Porn”
Kamukata Hindi Sex Story : Uncle Maa Ko Garam Kar Rahe The Pelne Ke Liye

Fir mai dobra jhtke dena shuru kia ahhhh ahhhhhhh ahhhhh ahhhhh honey, ap bahut payre ho, I love u too. Ab wo mere lund ki diwani ho gayi thi, wo khud ulchal-2 ke mere lund ko achi ragad de rahi thi, mera bhi ab jhadne wala tha, mene jaldi se condom hatya aur bahar nikal ke hilana shuru kar diya.

Jaise hi Jasveen uthi mene sara verya uske muh pe nikal dia, jo usko acha na lga, par mere ko apna veerya chatwana bahut pasand hai. Ab Jasveen thodi hosh mai thi, uthi aur shower lene gayi, mai bhi uske sath ghus gaya aur hum dono ne ek sath shower lia, ab hum dono couple hai mera ya uska jab man hota hai mai uske pg mai jake usko chodta hu, mai usko apni compnay mai bhi lgwa raha hu taki hame aur time mile sath bitane ko.

सुहागरात वाले दिन मुझे जबरदस्ती चोदा

सुहागरात वाले दिन मुझे जबरदस्ती चोदा


नमस्कार दोंस्तों, मैं प्रतिभा आपको अपनी दर्दभरी कहानी सुना रही हूँ। मैं फरुखाबाद की रहने वाली हूँ। मेरी शादी कुछ साल पहले उन्नाव निवासी भूपेंद्र से कर दी गयी। मेरे पापा ने मेरी शादी में 20 लाख नकद दिया। जो जो मेरे पति, सास ससुर ने डिमांड की उनको दिया। मैं केवल 21 साल की थी जब मेरी शादी हुई। असल में मैं चार बहने हूँ। मेरी 3 बहने और थी। इसलिये पापा ने सोचा की एक एक लड़की को निपटाते चले। इसलिये फ्रेंड्स पापा ने 30 लाख का भारी भरकम कर्ज लेकर मेरी शादी भूपेंद्र से कर दी।



जिस तरह हर लड़की अपनी शादी के हजारों सपने देखती है, वैसे ही सुनहरे सपने मैंने बुने थे। क्या क्या सपने मैंने देखे थे। पति ऐसे प्यार करेगा, वैसे करेगा। खैर मेरी शादी हो गयी। सुहागरात में मैंने बड़ा खूबसूरत सा लाल रंग का लहंगा पहना था। मैं घूंघट करके बैठी थी। मन में हजारों सपने थे। मेरी सहेलिया मुझको बताती थी की उनके पति ने उनको ये सुहागरात के दिन ये दिया वो दिया। कोई कहती थी मुझको सोने का हार गिफ्ट किया कोई सखी कहती थी मुझको हीरे की अंगूठी थी। तो दोंस्तों, मैं भी अपने होने वाले पति से हजारों उम्मीद की थी।

मेरा चेहरा शर्म से लाल था। आज पति देव मेरे साथ क्या क्या करेंगे, मुझको कैसे कैसे लेंगे, ये सब सोचकर मैं लजा जाती थी। मैं अपनी सपनों की दुनिया में हसींन सपने बन रही थी की रात ने 12 बजा दिए। मेरे पति भूपेन्द्र की भाभीयों ने उनको मेरे कमरे में धक्का दे दिया। वो अंदर आ गए। मेरा दिल तो धक्क से हो गया। मारे लाज शर्म से मैं मरी जा रही थी। पति मेरे पास आकर बैठे। उनके मुँह से शराब का एक बहुत ही तेज भभका आया। मेरा मूड आफ हो गया।

आपने पी है?? मैंने एकाएक पूछ लिया। अब मैंने शर्माना छोड़ दिया। क्योंकि मेरा दिमाग खराब हो गया था। उन्होंने अपनी शेरवानी से रम की एक छोटी बोतल निकली और मेरे सामने एक घुट और लगाया।

ये क्या बदतमीजी है!! आपको हमारी सुहागरात में ऐसा नही करना चाहिए! मैंने कहा

अगले ही छड़ मेरे गाल पर भन्नाता एक झापड़ बड़ा। मेरा जबड़ा हिल गया।

मैंने पी है और उसके लिए तू…और सिर्फ तू जिम्मेदार है! वो बोले। मैं कुछ समझ् नही पायी। मैं थोड़ा डर भी गयी थी। आज की रात का तो कबाड़ा हो गया। आज ही सुहागरात को मैं पिट गयी।

मैं?? मैंने डरते हुए पूछा। वो शराब के नशे में टल्ली थे। झूम रहे थे।

हाँ है तेरी वजह से। तेरी वजह से मैं अपनी गर्लफ्रेंड से शादी नही कर पाया। चुड़ैल तेरी वजह से!! जानती है मैं उससे कितना प्यार करता था। 10 साल से मेरा उससे ऑफर चल रहा था। पर तेरे बपने आकर सारि कहानी बिगाड़ दी। मेरे घर वालों को 20 लाख नकद दे दिया और मेरे बॉप ने जबर्दस्ती मुझे तेरे साथ शादी के खूटे में बाँध दिया। कामिनी! छिनाल! चुड़ैल! मैंने तुझको जितनी गालियाँ दू कम है! पति बोले।

बॉप रे!! ये सुनकर तो मेरी माँ चुद गयी। मेरी गाण्ड फट गई। मैं यहाँ कितने सपने देख रही थी पति ऐसा होगा। वैसा होगा। ये भोसड़ी का तो सबसे हटके निकल गया। 10 साल से हरामी अपनी माल से फसा है। पता नही कितने हजार बाद उसको चोद चूका होगा। इसका मतलब तो ये हुआ की मैं इसकी दोस्त नही दुश्मन हूँ। मेरी वजह से ये अपनी सामान से शादी नही कर पाया। तबतो ये मुझको बिलकुल भी प्यार नही करेगा। ऊपर से मेरी गांड़ मार देगा।

मैं सोच विचार कर रही थी की इतने में 2 3 झापड़ मुझको और पड़ गये। मैंने रोने लगी।

चुप!! चुप कुतिया!! खबर दार आवाज बाहर निकाली पति ने मेरा गला दोनों हाथों से दबा दिया

जैसा जैसा मैं कहता हूँ, करती जा। वरना तुझको मैं जान से मार दूँगा! वो बोला। मैं डर से थर थर काँपने लगी। अब मैं केवल आवाज दबा के सिसकियाँ ले सकती थी। पति का आदेश था कि रोने की आवाज बाहर ना जाए। दुनिया की नजर में वो भला आदमी बनना चाहता था। हाय री, मेरी तो किस्मत फुट गयी। मैंने कहा। क्या सपने देख रही थी और क्या निकला। दोंस्तों जी कर रहा था कि जहर खाके मर जाऊ।

चल कामिनी पैर दबा! मेरा पति बोला।

मैं तो उसके खूंखार रूप से अवगत हो ही चुकी थी। मेरे घर में माँ मम्मी ने यही सिखाया था कि भगवान के बाद पति ही देवता होता है। इसलिये मैं उसी शिक्षा पर चल रही थी। मैं अब उससे डरने भी लग गयी थी। इसलिए मैं चुप चाप उनके पैर दबाने लगी।

2 घण्टे हो गए। परिवार के सब लोग अब सो चुके थे। क्योंकि 2 रात से सब मेरी शादी में फंसे थे। अब 2 बज गए थे। 2 घण्टे तक पैर दबाते दबाते मैं जरा थक गयी थी। मैं झपकी लेने लगी। मुझको नींद आने लगी थी। तभी मुझको मुँह पर एक जोर की लात पड़ी। मेरे मुँह और कंधे पर लगी।

छिनाल! ये तेरा घर नही है। मायके में नही है तू! ससुराल में है! इसलिये जैसा मैं कहूंगा वैसा ही तू करेगी! पति बोला। मैंने रोने लगी।

चुप चुप! वरना अभी तेरा इससे गला दबा दूँगा! तेरी कहानी खत्म हो जाएगी और मैं अपनी माल से शादी कर लूंगा। पति बोला। मैं एक बार फिर से सिसकी लेने लगी। अब तो मैं ऐसे नर्क में फस गयी थी की खुलकर रोकर अपना दुख भी नहीं कम कर सकती थी। हाय राम फुट गयी मेरी किस्मत। मैंने खुद से कहा।

दोंस्तों, अब मैं फिरसे पति देव के पैर दबाने लगी। मेरे हाथों में दर्द हो रहा था। आधे घण्टे गुजर गए।

चल नँगी हो जा!! चोदूंगा! पति बोला। उसने 2 मोबाइल फोन के वीडियो रिकॉर्डिंग शुरू कर दी और 2 जगह दीवाल में लगा दिए।

ये क्या?? ये क्या कर रहे है आप?? मैंने सिसकी लेते हुए पूछा।

कुछ नही! बाद में देखूंगा! वो धीरे से बोला। बॉप रे! ये तो भारी कमीना निकल गया। कहीं मेरा वीडियो इंटरनेट पर ना डाल दे। मेरे दिल में बड़ा डर पैदा हो गया।

नही नही!! मैं वीडियो नही बनवा सकती मैंने कहा

बस फिर क्या था दोंस्तों। पति ने मेरे बाल कसके पकड़ लिए। मेरे सारे बाल खुल गए। मुझ पर लात जूतों की बौछार हो गयी। कितने मुक्के छप्पड़ पड़े की मैं नही जानती हूँ।

पति ने चमड़े की बेल्ट उठायी और मुझपर बेल्ट ही बेल्ट पढ़ने लगी। मेरी तो खाल उधड़ गयी दोंस्तों। है भगवान! ये दिन देखने से पहले मैं मर क्यों नही गयी। मौत इससे अच्छी होती।

सुन रंडी! तेरे बापने तेरी शादी मुझसे की है। तेरा हाथ मेरे हाथ में दिया है। इसलिए मेरा तुझपर पूरा हक है। तेरे बापको भी पता है कि तू यहाँ हर रात चुदेगी। तो अब ये बात साफ हो गयी की उसने तुझको मुझे चोदने के लिए ही दिया है। तो अब छिनाल अगर मैं तुझसे चूत मांग रहा हूँ तो तू नाटक मत करना! पति बोला।

मैं रोने लगी। मैं दबकर रो रही थी। पति मेरे एक एक कपड़े नोचने लगी। मैं नही नही कर रही थी। मेरे चीर हरण का वीडियो बनना सुरु हो गया। पहले मेरा लहंगा उतारा। फिर मेरा ब्लॉउज़ तो लगभग लगभग फाड़ दी दिया। पेटीकोट भी खीच दिया। मैं नँगी हो गयी। उधर मेरा सुहागरात का चुदाई का वीडियो 2 2 मोबाइल फोन्स पर बनने लगा। मैं रोने लगी।

तेरे बॉप ने तुझको मुझे चोदने को ही दिया है, फिर क्यों रोती है! पति फिरसे चीखकर बोला।

दोंस्तों, सायद वो दिन मेरी जीवन का सबसे काला दिन था। आज मैं कसके चुदूंगी और मेरा वीडियो भी बन जाएगा। पता नही ये शराबी कही वाइरल ना कर दे।

ये सोच सोचकर मेरा धुंआ निकला जा रहा था। अब मैं लाल ब्रा और पैंटी में थी। मैं चुदना जरूर चाहती थी पर इस तरह नही। मैं काम जरूर लगवाना चाहती थी पर प्यार से। इस तरह मार मारके नही। मैं कैमरे के सामने थी। खड़ी थी। कहीं भाग भी ना सकती थी। भागती तो फिर से पिट जाती। इतने में पति पीछे से आ गए और मुझको पकड़ लिया। मेरे बदन को खिलौना समझ खेलने लगे। वो मेरे बदन से जोक की तरह चिपट गया। मेरे गाल, गले पीठ पर हाथ फिराने लगा। मेरे मम्मो को हाथ में लेने लगा। शराब की बू से मेरा दम घुट रहा था।

पति मेरे जिस्म से खेल रहा था। वो मुझ जीती जागती लड़की को खिलौना समझ् के मेरे मम्मे मसल रहा था। मैं कुछ कर भी नहीं सकती थी, क्योंकि वो मेरा पति था। मेरे बॉप ने मुझको चूदने ही तो यहाँ भेजा था। मेरा वीडियो लगातार बन रहा था। मैं सोच रही थी की अगर ये वाइरल हुआ तो सब चड्ढी बॉडी में देख लेंगे। अब पति ने मेरी लाल ब्रा के हक पीछे से खोल दिये। ब्रा खींच कर निकाल दी। हाय मैं नँगी हो गयी कमरे के सामने। मैंने अपने दोनों हाथ अपने वक्षों पर रख दिए, अपनी इज्जत बचाने लगी। पर शराबी पति ने वो भी हटा दिए। हाय, मैं कैमरे के सामने नँगी हो गयी। लगा 1000 लोग की आँखे मेरी इज्जत यानि मेरे वक्षों को घूर रही हो। मेरे दोनों मस्त दुधिया कबूतर अब कमरे में रिकॉर्ड हो गए।

मैं खड़ी थी। अब मेरा पति मेरे सामने आ गया। झुक्क्कर मेरे दूध पीने लगा। मैं कुछ नही कर पाई, मैं मना भी नहीं कर पाई। क्योंकि वो मेरा पति था। और भारतीय समाज में पति ही परमेश्वर होता है। पति मेरे खूबसूरत गर्वीले वक्षों को पीने लगा। सब उसकी हरकते कैमरे में रिकॉर्ड हो रही थी। उसने मेरे दूध जी भरकर पिया। अब मेरी चूत में वो ऊँगली करने लगा। कैमरे के सामने ही उसने मेरी पैंटी में हाथ डाल दिया और चुत में ऊँगली करने लगा। मुझे तो यही महसूस हुआ की मेरा बलात्कार हो गया आज दिन दहाड़े। सबके सामने। दोंस्तों, पति बड़ी देर तक खड़े खड़े मेरी बुर में ऊँगली करते रहे। मेरी पैंटी भी नहीं निकाली।

एक बार तो मैं पैंटी में ही झड़ गयी। हाय दैया, आज कैमरे के सामने मैं झड़ भी गयी। कहीं ये कुत्तापना ना दिखा दे, कहीं दोंस्तों को ये वीडियो ना दिखा दे। मैं मन ही मन डर गई थी।

मैं आपके पाँव पड़ती हूँ। ये।वीडियो इंटरनेट पर मत लगाना! मैंने बड़ी धीमे से कहा।

तेरी कसम प्रतिभा। मैं हरामी हूँ। पर दर हरामी नहीं। पति बोला। मुझको थोडा अच्छा महसूस हुआ। एक बार झड़ने ने पैंटी मेरे माल से भीग गयी थी। सारा माल पैंटी में निकल गया था। पति मुझको बिस्तर पर ले गए। पैंटी उतार दी। पहले सुंघा। फिर चाटने लगे। मेरा सारा मॉल पी गये।

उन्होंने मेरे दोनों पैर खोल दिये। मेरी बुर बड़ी मस्त गदरायी गोरी गोरी थी। पति ने मेरी बुर के दर्शन किये।

तेरी चूत भी मस्त है! पर मेरी समान से अच्छी नही! वो बोले।

आज मेरी सुहागरात पर एक परायी औरत का नाम सुनकर मैं जान गई की मेरा पति कभी सिर्फ मेरा नही हो पाएगा। क्या फूटी किस्मत है मेरी। पति ने मेरी बुर ऊँगली से फैलाई और कमरे की ओर की। बॉप रे! अब मेरी चूत कैसी है सब जान जाएंगे। मेरे दिल में धक्क से हुआ। पति नशे में झूम रहे थे। मेरी बुर चाटने लगा। खूब चाटते चले गए। मैं चुदना जरूर चाहती थी। पर प्यार से। पर इधर पति तो मार मारके मुझको ले रहे थे।

दोंस्तों अब मैं पूरी तरह नँगी बिस्तर पर थी। मेरे बालों को मोगरे के फूल फँस गये थे। क्योंकि अभी पति ने कुछ देर पहले ही मुझको लात घूसों से मारा था। तभी मेरे बालों का गजरा टूट गया था और फूल इधर उधर बाल में फस गये थे। मेरे होंठों पर लाली लगी थी। नाक में बड़ी नथ थी। गले में सोने का मंगलसूत्र था। कलाइयों में हाथ भर भरके सुहाग की चूड़िया थी। कंगन थे। हाथों में शादी की मेहंदी थी। कमर पर करधन थी। पैरों में पायल और बिछुए थे। वही मेरा कुत्ता पति मुझको चोद चोदकर वीडियो बना रहा था। भगवान जाने कल ये क्या करे।

मुझको तो टेंशन हो रही थी इस बात की। पति उधर कैमरे की तरफ मेरी बुर दिखा दिखाके पी रहा था। खूब बुर पी उसने।

चल मेरा लौड़ा चूस!! वो बोला। पर आवाज में कहीं भी प्यार ना था। बस तानाशाही थी। मैं मजबूर थी। कुत्ते का ये सांड जैसा लण्ड था। सुपाड़ा निकला था। मैं जान गई की ये साला कुंवारा नही है। अपनी माल को इसी लण्ड से 10 साल से चोद रहा होगा। तब ही लण्ड ऐसा उघड़ गया है। मैं चूसने लगी। पति मेरे मुँह को चोदने

अंदर ले और अंदर!! वो बोले। लगा मैं उनकी बीवी नही कोई रंडी हूँ। मैं चूसने लगी। कहीं हल्का सा मेरे दाँत से उनका लण्ड कट गया।

छिनार!! देखके, वरना अभी तू चप्पल ही चप्पल पाएगी! वो बोले। मैं डर गई। अब सम्भल के चूसने लगी।

दोंस्तों, कुछ देर बाद उन्होंने मेरी दोनों टांगे उठाकर अपने कंधों पर रख ली। और मुझे चोदने लगे। कहीं कोई प्यार नही, कोई मेरे लिए कोई इज्जत सम्मान नही। सिर्फ वासना और चुदास हर जगह। मुझको रंडियों की तरह वो हरामी चोदने लगा। पौन घण्टे बाद मेरी चूत में हल्की जलन होने लगी। मैं आ आआहा करने लगी। लण्ड से बचने के लिए मैं चुत्तड़ इधर उधर करने लगी की पति देव जान जाये की मुझको कुछ आराम।चाहिए। कुछ मिनट के लिए लण्ड बहार निकाल ले। पर दोंस्तों 10 साल तक अपनी सामान को पेल पेलके वो बहुत बड़ा चोदूँ बन गया था। जब मैं लण्ड से बचने के लिए चुत्तड़ बायीं तरह करती तो पति भी बाए तरफ एडजस्ट हो जाता। दाँये करती तो दायीं तरह एडजस्ट हो जाता। पर हरामी ने एक सेकंड को भी लण्ड बाहर ना निकाला। बस घप्प घप्प मुझको पेलता खाता चला गया। मैं बिना रुके चुदती चली गयी। सबसे बुरी बात थी ये सुहागरात का चुदाई कांड कैमरे में रिकॉर्ड हो रहा था।

2 घण्टे पति ने मुझको चोदा।

चल कुतिया बन! गाण्ड मारूँगा! वो बोला।

सुनिये जी! थोड़ा आराम कर लूँ। बुर दुःख रही है? ? मैंने बकरी की तरह मिमियाते हुए पूछा।

पति ने फिर आँख दिखाई। मैं जान गई हरामी टाइप का आदमी है। मानेगा नहीं। मैंने हथियार डाल दिए। कुतिया बन गए। पति 2 2 कैमरे के सामने मेरी गाण्ड मारने लगा।

1 साल बाद मैं मायके गयी। मेरी सेहेलियां मेरे पास आई।

क्यों प्रतिभा!! तूने तो बड़ी ऐश की है! हम सब जान गई सहेलियों ने कहा।

तुम लोग किसके बारे में बात कर रही हो?? मैं कुछ समझी नही! मैंने कहा। मेरी सखियों ने एक पोर्न वेबसाइट खोली। मैं उसका नाम नही बताउंगी। गुप्त है। हनीमून नाइट्स वाली कैटगोरी खोली। और एक विडियो ऑन किया। माँ कसम! मेरी गाड़ फट गई। ये मेरा ही सुहागरात वाला वीडियो था। 2 घण्टे का वीडियो था। मैंने पूरा देखा। मेरे पैर तले जमीन खिसक गयी। जिसका डऱ था वही हुआ। दोंस्तों अब तक 10 लाख लोग वो मेरा चुदाई वीडियो देख चुके थे। हाय राम 10 लाख लोग अब मुझको चुदते देख चुके थे।

दोंस्तों बस रही सुक्र मानिए की मेरे घर पर कोई इस कांड के बारे में नही जान पाया। आज भी मेरा पति हर रात शराब पीकर आता है और मुझको रण्डियों की तरह पेलता ठोकता है। मेरे पापा ने मेरी शादी के लिए 30 लाख लोन लिया था। इस कारण दोंस्तों मैं इस सूअर को नहीं छोड़ पायी। पापा को कितना नुकसान होता।

बेटी के साथ सामूहिक चुदाई


 

बेटी के साथ सामूहिक चुदाई

मेरा नाम है माहिरा। मैं २५ साल की हूँ। मेरी शादी अभी पिछले साल ही हुई है। मेरी अम्मी आबिदा खातून हैं वह ४५ साल की हैं और बड़ी मस्त जवान हैं। अपनी बॉडी मैन्टन कर रखी है और वह ३०/३२ साल की ही लगतीं हैं। हां मन से वह २० साल से ज्यादा उम्र की नहीं लगती हैं।
खूब हंसी मजाक करतीं हैं गन्दी गन्दी बातें करतीं हैं और हमारे साथ बैठ कर पोर्न फिल्म देखतीं हैं। फिल्म देखते हुए भी बोलती रहतीं है इसका लण्ड मोटा है उसका पतला है इसकी चूत टाइट है उसकी ढीली हो चुकी है।

ये बुर चोदी चुदवाकर ही जाएगी वगैरह वगैरह ? हमारे साथ मेरी भाभी भी हैं समीना। उसकी शादी दो साल पहले हुई थी पर मेरा भाई विदेश में काम करता है . भाभी यहाँ हमारे साथ ही रहतीं हैं। मैं भी खूबसूरत हूँ और मेरी भाभी भी। हम दोनों के बूब्स बड़े बड़े हैं। चूतड़ उभरे हुए हैं और जांघें मोटी मोटी हैं। इत्तिफाक से हम तीनो ही लण्ड की जबरदस्त शौक़ीन हैं।

मैं १९ साल की उम्र में ही अम्मी से खुल गयी थी।बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया

एक दिन मैं अपनी सहेली से फोन पर बात कर रही थी। मैं बोली – हाय बोल साइमा, माँ की चूत, क्या हो रहा है ? ,,,,,,,,,,,, क्या बात करती है तू ,माँ की चूत, ऐसा भी कहीं होता है। उसने तेरी गांड मार दी और तू खड़ी खड़ी देखती रही, माँ की चूत।

मैं होती तो उसकी माँ चोद देती, माँ की चूत ? ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,? अरे यार मेरी सुन, उसकी गांड में मैं पेल दूँगी लण्ड, माँ की चूत ? ,,,,,,,,,,मेरी माँ की न पूंछो वो तो, लौड़े से, चुदवाती रहती है।,,,,,,,,,,,,? तेरी भी माँ भी यही करती है बाप रे बाप, माँ की चूत ,,,,,,,,,,,,,,,,? कोई बात नहीं मैं सब ठीक कर दूँगी माँ की चूत। अम्मी ने मुझे सुन लिया उसे पक्का यकीन हो गया की मेरा तकिया कलाम है माँ की चूत।

एक दिन मैं अपने दोस्त को चुपके से घर ले आयी। मैं समझी की अम्मी घर पर नहीं हैं। मैं उसे नंगा करके उसका लण्ड हिलाने लगी। फिर मैं भी नंगी हो गयी। वह मेरी चूँचियाँ और चूत सहलाने लगा। मुझे मस्ती चढ़ गयी तो मैं जबान निकाल कर लण्ड चाटने लगी। इतने में अम्मी आ गयी। उसे देख कर मेरी तो गांड फट गयी। उसका लण्ड सिकुड़ गया।

पर अम्मी मुस्कराते हुए बोली हाय दईया तू इतनी बड़ी हो गयी है भोसड़ी की अभी तक ठीक से लण्ड चाटना भी नहीं जानती ? मैं बताती हूँ, लौड़े से, की कैसे चाटा जाता है लण्ड ? इतनी बड़ी बड़ी चूँचियाँ और गांड लिए घूम रही है तू, लौड़े से, और इतने दिनों के बाद आज एक लौड़ा तुझे मिला है, लौड़े से ?

अभी तक क्या तू अपनी माँ चुदा रही थी ? मुझे देख मैं लण्ड चाट कर बताती हूँ तुझे की कैसे चाटा जाता है लण्ड ? अम्मी लण्ड चाटने लगीं। फिर अम्मी ने उससे पूंछा बेटा मेरी बिटिया की बुर लेते हो ? वह कुछ बोला नहीं। तब अम्मी ने कहा कोई बात नहीं बेटा, आज पहले मेरी बिटिया की बुर ले लो फिर उसकी माँ का भोसड़ा चोद लेना ?बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया

तेरी बेटी की माँ चोदूँगी सासू जी

तेरी माँ की चूत, बहन का लण्ड

ऐसा बोल कर अम्मी ने लण्ड मेरे मुंह में घुसा दिया। मैं लण्ड चूसने लगी। अम्मी मुझसे इतना ज्यादा खुल जायेगीं यह मुझे नहीं मालूम था। अम्मी ने फिर आहिस्ते से लण्ड मेरी चूत में पेल ही दिया। मैं पहले चिल्लाई तो लेकिन फिर मजे से चुदवाने लगी। थोड़ी देर बाद अम्मी ने भी लण्ड पेल लिया अपनी चूत बोली देख माहिरा ऐसे चुदवाई जाती है बुर ? अब उसे क्या मालूम की मैं कई बार कई लड़कों से चुदवा चुकी हूँ। आज से तू अपनी बुर क्या अपनी माँ का भोसड़ा भी चुदाना सीख ले ? मैंने मन में कहा अब आएगा जवानी का असली मज़ा ?

अम्मी कुछ ज्यादा ही मस्ती में थीं। वह बोली माहिरा तेरी माँ की चूत बहन चोद आ गया न तुझे माँ चुदाना ? मैंने कहा हां आबिदा खातून भोसड़ी की तुझे भी आ गया बिटिया की बुर चुदाना। वह मेरे मुंह से गालियां सुनकर बहुत खुश हुई और मेरे गाल थपथपाकर बोली हां बेटी इसी तरह लिया जाता है चुदाई का पूरा पूरा मज़ा ?

एक दिन मैं जेसिका आंटी के घर चली गयी, माँ की चूत ? मैंने कहा अम्मी अरे वह तो बड़ी मजेदार हैं और बड़ी गहरी मजाक करतीं है, माँ की चूत ? अम्मी ने कहा – तुझे मालूम नहीं है लौड़े से की जेसिका बुर चोदी सेक्स की बहुत बड़ी खिलाड़ी है। उसकी बेटी भी उसका साथ देती है। जेसिका लण्ड अपनी बेटी की चूत में दानादन्न घुसेड़ती है और उसकी बेटी भी अपनी माँ के भोसड़ा में एक के एक बाद ठोंकती जाती है। दोनों खूब खुलकर गली गलौज करती है और खूब एन्जॉय करतीं हैं। मैंने मन में कहा एक मैं ही नहीं हूँ माँ चुदाने वाली बेटी और भी हैं बेटियां हैं जो अपनी माँ चुदवाती हैं।बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया

मेरी समीना भाभी बड़ी मजेदार भी हैं और खूबसूरत भी। एक दिन हम तीनो बैठी हुई बातें कर रहीं थी। मेरे मुंहसे निकला अरे समीना भाभी तुम तो बहुत शर्माती हो ? शरमाओगी तो फिर लण्ड का मज़ा कैसे ले पाओगी ? वह बोली हाय दईया नन्द रानी मैं लण्ड किसी ने नहीं शर्माती।

मैं तो सबके लण्ड से बड़ी मोहब्बत करती हूँ। मैं जब कॉलेज में थी तो खूब लण्ड पकड़ा करती थी। घर में लोगों के लण्ड पकड़ती थी। सबसे पहले मैंने मामू लण्ड पकड़ा फिर उसके दोस्त का लण्ड पकड़ा और एक दिन मैंने खालू का लण्ड पकड़ लिया।

इसी तरह एक दिन जीजू का लण्ड भी मेरे हाथ लग गया। मैं तो दिन रात लण्ड के सपने देखती थी और आज भी देखती हूँ। इसीलिए मुझे ‘लण्ड’ कहने की आदत पड़ गयी। मैंने मजाक में कहा समीना भाभी कभी अपनी माँ के भोसड़ा में लण्ड पेला तुमने ? वह बोली हां बिलकुल पेला।बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया

भाभी ने बताया की एक दिन की बात है। मैं जब कमरे में घुसी तो देखा की अम्मी पड़ोस के शब्बीर अंकल के पैजामे में हाथ डाल कर उसका लण्ड हिला रहीं हैं।

मैं वहां से घूम कर जाने लगी तो अम्मी ने कहा अरी भोसड़ी की समीना इधर आ तेरी माँ की चूत ? इतना शरमायेगी तो जवानी का मज़ा कैसे ले पायेगी ? इधर आ मरे पास। मैं जब पास में गयी तो अम्मी ने लण्ड बाहर निकाल लिया और मुझे लण्ड दिखाते हुए बोली लो बेटी समीना अंकल का लण्ड चाटो ?

अंकल का लंबा चौड़ा लण्ड देख कर मैं भी ललचा गयी। मेरा हाथ अपने आप बढ़ गया और मैं लण्ड पकड़ कर हिलाने लगी। लण्ड बहन चोद और सख्त हो गया। अम्मी ने पूंछा कैसा लगा लण्ड तुम्हे समीना ? मैंने कहा अम्मी ये तो बिलकुल खालू के लण्ड की तरह है। अम्मी ने कहा हाय दईया तो तू बुर चोदी खालू का लण्ड चूसती है। तेरे खालू का लण्ड खड़ा होने पर थोड़ा टेढ़ा हो जाता है न समीना।

मैंने कहा हां अम्मी तुम ठीक कह रही हो। वह बोली जानती हो समीना तेरा खालू तेरी माँ का भोसड़ा चोदता है। मैंने भी जोश में आकर कह दिया अम्मी मेरा खालू तेरी बिटिया की भी बुर लेता है। अम्मी ने मेरा गाल चूम लिया और बोली कोई बात नहीं बेटी ये चूत बुर चोदी चुदवाने के लिए ही होती है।

एक दिन समीना भाभी जाने किस मूड में थीं।

वह आई और बोली :- माहिरा, तेरी माँ की चूत, तेरी भाभी की बुर ?

मैं भी मूड में आ गयी तो मैने भी जबाब दे दिया।

मैंने कहा :- भाभी, तेरी नन्द की बुर, तेरी सास का भोसड़ा ? तब तक मेरी अम्मी भी आ गयी।

वह बोली :- बहू, तेरी नन्द की माँ का भोसड़ा, तेरी तेरी माँ की बिटिया की बुर ?

फिर हम सब बड़ी जोर से हंसने लगीं।बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया

उसी दिन शाम को मेरा ससुर आ गया और भाभी का जीजा भी। मैंने कहा हाय दईया लो दो लण्ड का

इन्तज़ाम हो गया है। आज मैं अपनी भाभी की बुर तो चोद लूंगी और चोद लूंगी उसकी सास का भोसड़ा ? तब तक भाभी बोली नहीं मैं चोदूँगी अपनी सास का भोसड़ा और अपनी नन्द की बुर ?

अम्मी ने कहा हाय दईया तुम सब लोग ऐसा क्यों कह रही हूँ। फिर तो मैं भी चोदूँगी बिटिया की बुर और बहू की चूत ? लेकिन तुम लोग परेशान न हो मैंने फ़ोन कर दिया है और आज ही मेरा देवर दुबई से आ रहा है। वो चोदेगा तुम दोनों की चूत ? तब आएगा चुदाई का घनघोर मज़ा ?

कुछ देर बाद सब लोग इकठ्ठा हो गये। मेरा ससुर तस्कीम आ गया उधर भाभी का जीजू सकीब मियां भी आ गया। मैं दोनों को जानती थी लेकिन लण्ड इनमे से किसी का नहीं जानती थी। मेरी इच्छा बढ़ने लगी की जल्दी से जल्दी इनके लण्ड पकड़ कर देखूं। तभी किसी ने घंटी बजा दी। अम्मी ने दरवाजा खोला और बोली हाय उस्मान आ जा जल्दी से हम लोग तेरा ही इंतज़ार कर रहीं हैं।

अम्मी ने उसे हम सबसे मिलवाया। मैं तो समझती थी की कोई ४५/५० साल का आदमी होगा पर वह तो मस्त जवान लड़का निकला उम्र शायद २५/२६ के लगभग होगी। मेरे दिल की धड़कने बढ़ने लगीं। यही हाल भाभी जान भी था। अम्मी ने फटाफट ड्रिंक्स का इंतज़ाम कर दिया और हम लोग मस्ती से दारू का मज़ा लेने लगे।

चुदाई के खेल के पहले अगर थोड़ा नशा वगैरह कर लिया जाये तो चुदाई एक मज़ा दुगुना हो जाता है।अब जब हमें अय्यासी करनी है तो फिर अच्छी तरह क्यों न की जाए ? दारू चालू हो गयी और नशा भी चढाने लगा। मस्तियाँ भी छाने लगीं और दिमाग में खुराफात भी चलने लगी। मेरी नज़र ससुर के लण्ड पर जैम गयी।

मैं सोंचने लगी की इसका लण्ड कैसा होगा, कितना बड़ा होगा, कितना मोटा होगा, कैसे चोदता होगा। मैंने कभी उसका लण्ड न देखा और मन पकड़ा ? मैंने फिर सोंचा की आज तो मौक़ा है। आज तो मुझे चूकना नहीं चाहिए। बस मैं ससुर के पैजामे का नाड़ा बड़े प्यार से खोलने लगी। उसने कोई ऐतराज़ नहीं किया। किसी ने कुछ कहा नहीं। बस मैंने हाथ अंदर घुसेड़ दिया। तब भाभी ने भी अपने जीजू के पैजामे के अंदर हाथ घुसेड़ दिया।

मैं तो बड़ी बेशर्मी से ससुर का लण्ड अंदर ही अंदर सहलाने लगी। लण्ड बहन चोद खड़ा होने लगा। तब मुझे अहसास हुआ की लण्ड बड़ा जबरदस्त है।बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया

सबसे पहले मैंने ही ससुर का लण्ड बाहर निकाल लिया, उसका सुपाड़ा चूमा और अम्मी को लण्ड दिखाते हुए बोली लो अम्मी मेरे ससुर का लण्ड पियो। अम्मी ने मुस्कराकर लण्ड मेरे हाथ से ले लिया। तब तक भाभी बोली अरे मेरी बुर चोदी नन्द रानी लो तुम मेरे जीजू का लण्ड पियो ? उधर अम्मी ने बहू को अपने पास इशारे से बुलाया और कहा बहू ले तू पी ले मेरे देवर का लण्ड ? ये भोसड़ा का तेरा ससुर ही है। फिर एक एक करके हम तीनो ने अपने अपने कपड़े खोल डाले और एकदम नंगी हो गयीं तो महफ़िल में आग लग गयी।

उधर मरद भी मादर चोद तीन के तीनो एकदम नंगे हो गए और उनके लण्ड टन टनाने लगे। अम्मी को मेरे ससुर का लण्ड पसंद आ गया। पसंद तो मुझे भी आ गया पर मैं चाहती हूँ की पहले वह मेरी माँ चोद ले फिर मुझे चोदे। मैं तो भाभी के जीजू के लण्ड में खो गयी। सकीब के लण्ड से मुझे भी मोहब्बत होने लगी। मैं जबान निकाल कर लण्ड का टोपा चाटने लगी। भी मस्ती से उस्मान का लौड़ा हिला हिला आकर पहले तो बड़ी देर तक देखतीं रहीं और फिर उसे मुंह में घुसेड़ कर चूसने लगीं।

एक ज़माना था की जब की मरद का लण्ड खड़ा होते ही चूत में घुस जाता था और वह थोड़ी देर तक चोद चाद कर झड़ जाता था। पर अब ज़माना बदल गया है। अब तो लण्ड खड़ा होते ही लड़कियों के मुंह खुल जातें हैं। लण्ड सीधे मुंह में घुस जाता है या यूँ कहें की लड़कियां सबसे पहले लण्ड मुँह में लेतीं हैं फिर कर कहीं। आजकल तो लण्ड चाटने, लण्ड चूसने का और लण्ड पीने का समय है।

झड़ता हुआ लण्ड पीना और मुठ्ठ मार कर लण्ड पीना आजकल का फैसन हैं।

थोड़ी देर में अम्मी ने लण्ड अपने भोसड़ा में घुसा लिया और यह भकाभक चुदवाने लगीं। अम्मी तो वास्तव में चुदवाने में बड़ी बेशर्म है। हम दोनों भी बेशर्म हो गयीं। मैंने भी सकीब का लण्ड घुसेड़ा अपनी चूत में और गचागच चुदवाने लगी। अब तक तो मुझे चुदवाने का अच्छा ख़ासा तज़ुर्बा हो चुका था। मेरी समीना तो ऐसे चुदवाने लगीं जैसे की वह एक मंजी हुई रंडी हों।

अम्मी को मस्ती सूझी तो वह बोली ;- हाय बुर चोदी समीना तू बहन चोद अपनी नन्द की माँ चुदवा रही है।

समीना भाभी बोली :- हां सासू जी मुझे अपनी नन्द की माँ चुदाने में मज़ा आ रहा है पर तू भी तो अपनी बिटिया की भाभी की बुर चुदवा रही है, हरामजादी।

मैंने कहा :- अरे भाभी तेरी सास भोसड़ी की अपनी बिटिया की बुर देखो न कितनी शिद्दत से चुदवा रही है और तेरी नन्द की बुर में लौड़ा घुसेड़ने के लिए कितनी बेताब हो रही है ? इसकी तो बहन की बुर ?

अम्मी ने फिर कहा – बहू, तेरी नन्द की बुर चोदी बुर बहुत टाइट है इसमें कोई मोटा लण्ड पेलना ?

इसी तरह की मस्ती करती हूँ हम तीनो धकापेल ऊपर से नीचे तक आगे से पीछे तक चुदवाने में लगीं थीं। अचानक लण्ड की अदला बदली होने लगी। मेरे ससुर ने अम्मी की बुर से लण्ड निकाल कर भाभी की बूर में घुसा दिया। उस्मान ने भाभी की बुर से लण्ड निकाल कर मेरी चूत में घुसेड़ दिया। सकीब ने अपना लण्ड मेरी चूत से निकाल कर अम्मी के भोसड़ा में ठोंक दिया। लण्ड बदलते ही चुदाई का मज़ा दूना हो गया।

एक दिन मेरी खाला जान आ गयी। उसकी शादी शुदा बेटी भी उसके साथ थी। रात को खूब झमाझम बातें हुईं। मैंने भी खूब खुल कर बातें की और अपनी कहानी सुनाई। अम्मी ने भी कुछ छुपाया नहीं और मेरी भाभी जान भी खुल कर बोलीं।बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया

तभी उसकी बेटी बोली :- अरे यार माहिरा, यह सब तो मेरे घर मे भी होता है। एक दिन मेरा अब्बू मेरी ससुराल आया और मेरी नन्द की बुर में रात भर लण्ड पेला। सवेरे जब वह जाने लगा तो नन्द बोली अरे अंकल कहाँ जा रहे हो ? आज तो मेरी माँ चोदो। मुझे चोदा है तो मेरी माँ चोद कर जाओ न प्लीज। उधर मेरा ससुर भोसड़ी का बड़ा हरामी है।

एक दिन लण्ड खोल कर मेरे सामने खड़ा हो गया बोला बहू एक बार इसे भी पकड़ कर देख लो न ? अच्छा लगे तो आगे भी पकड़ती रहना ? उसका साला ८” लण्ड देख कर मेरे मुंह में पानी आ गया। लण्ड का सुपाड़ा साला तोप का गोला लग रहा था। फिर क्या मैंने पकड़ ही लिया। उस दिन मैंने जब उससे चुदवाया तो पता चला की बड़ी लोगों से चुदवाने में कितना मज़ा आता है।

इस तरह एक बार हमने खाला और उसकी बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया। खाला भी बहुत बड़ी चुड़क्कड़ औरत हैं।

कहा :- खाला जान तेरी बहन का भोसड़ा ? तू तो बिलकुल हम लोगों जैसी ही है।

वह बोली :- माहिरा, तेरी माँ की बिटिया की बुर ? तेरी खाला की बेटी भी बहन चोद लण्ड की बड़ी शौक़ीन है। जाने कहाँ कहाँ के लण्ड अपनी माँ की चूत में घुसेड़ा करती है ?

तब तक उसकी बेटी बोली :- अरे यार माहिरा तेरी खाला भी भोसड़ी वाली एक से एक बेहतर लण्ड अपनी बेटी की चूत में पेलती है ? बड़ी हरामजादी है तेरी खाला और तेरी खाला का भोसड़ा ?

इस मस्ती का रिजल्ट यह है की पिछले कई सालों से हमारे घर में कोई परेशानी नहीं है। कभी कोई बीमार नहीं हुआ और कभी किसी डॉक्टर की जरुरत नहीं पड़ी।

नई बहू ने ससुर का गधे जैसा मोटा लंड लिया अपनी कुंवारी चूत में

नई बहू ने ससुर का गधे जैसा मोटा लंड लिया अपनी कुंवारी चूत में


ससुरजी का बुड्ढा लंड जवानों के लंड से भी बेहतरीन था वो कहते हैं ना "पुराने देसी घी और पिशौरी बादाम खाए हुए थे शमशेर सिंह ने अपने भतीजे रणधीर सिंह की शादी एक ऐसी लौंडिया से करवाई, जो कमाल की हसीना थी। लौंडिया का नाम बता देना सही रहेगा, उस हसीना जिसकी गरमागरम जवानी कमाल की थी, उसका नाम था बबिता।

नई बहू ने ससुर का गधे जैसा मोटा लंड लिया अपनी कुंवारी चूत में

जब बबिता अपने दूल्हे-राजा के घर आई तो उसके सपने काफ़ी रंगीन थे, वो अपने साथ बालीवुड के हीरो और हिरोइनों की तस्वीरें लेकर आई, लौंडिया को चुदाई और सेक्स के रंगीन ख्वाबों ने घेर रखा था।

हो भी क्यों न ! आखिर उसका हुस्न लाखों में एक था ! वह थी भी एक माल जैसा पीस।

मैं आपको जरा उसकी जवानी का नक्शा बता दूँ- कुछ लहलहाते हुए धान के खेतों के रंग का सुनहरा सा रूप, सावन-भादों के काले बादलों जैसे घने बाल और उनके नीचे सुराहीदार गरदन। चूचियों का विवरण देने के लिये शब्द नहीं हैं, लेकिन इतना तय है कि इन कुवाँरी चूचियों को देखकर बड़े से लेकर बुड्डे तक सबका दिमाग, इन्हें पीने को बेताब हो जाता था। ये मयखाने थे, जो अब तक किसी ने चखे नहीं थे।

शमशेर सिंह ने अपने भतीजे रणधीर सिंह की शादी करके उसके लिये एक खूबसूरत कामुक गरमा-गर्म बहू के रूप में अपने मतलब का माल ले आये थे।

शमशेर सिंह रिटायर्ड टीचर हैं और उनका लंड बड़ा ही घातक और प्रचंड है। उस पर तुर्रा यह कि उनकी बीवी की चूत एकदम सड़े हुए पपीते की तरह नाकाम हो चली है।

अब काम कैसे चलेगा, तो शमशेर सिंह ने अपने भतीजे की शादी एक गरीब बाप की खबसूरत बेटी से तय कर दी थी।

दुल्हन अपने पिया के घर आई, चुदाई के रंगीन सपने लिये। सुहागरात का नजारा, चलने से पहले बता दें कि रणधीर सिंह जी बड़े ही दुबले-पतले लंड वाले और हिले हुए पुर्जे टाइप के इंसान थे, जिनके बस का किसी गांड को मारना या, चूत की सील तोड़ना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन था।

सुहागरात की रात शमशेर सिंह ने यह नजारा देखने के लिये एक बड़ा ही चौकस जुगाड़ किया और जैसा कि पहले से ही सब तय था कि खुद का कमरा और सुहागरात वाला कमरा आजू-बाजू ही थे और एक ही दीवार दोनों को अलग करती थी। एक खिड़की थी जो सुहागरात वाले कमरे में झांकने का रास्ता थी। उसे उसने पहले से ही थोड़ा हिला-हिला के झिर्रीदार बना दिया था।

जैसे ही चूत की कहानी शुरु होती, शमशेर सिंह ने अपनी आँखें खिड़की से लगा दीं। रणधीर सिंह हिलते हुए अपनी दुल्हन के सामने खड़ा था, वो नीचे देख रही थी और वो ऊपर देख रहा था। कौन किसको चोदने वाला है, यही समझ नहीं आ रहा था लेकिन दुल्हन ने पहल की।

वो समझ गई थी कि ये लौंडा एकदम बकचोदू है और चिकलांडू है क्योंकि सामने चूत का मौका देख कर कोई बकलँड ही इस तरह कांप सकता है।

शमशेर सिंह को खिड़की से यह दृश्य दिखाई दे रहा था और उनका लंड धोती के अंदर डिस्को भांगड़ा करने लगा था। उन्होंने आंखें गड़ा दीं।

बहू ने रणधीर सिंह की शेरवानी खोल दी और पजामे का नाड़ा जल्दी में खींच के तोड़ डाला। कहानी उल्टी चल रही थी और शमशेर सिंह इतनी गर्म बहू देख कर एकदम बाग-बाग थे क्योंकि वो जान गये थे कि इतनी गर्म और कामुक बहू इस नादान और नामर्द लौंडे से संभलने वाली नहीं है, इसीलिए तो उन्होंने इसकी जल्दी ही शादी करवा दी थी।

बहू ने रणधीर सिंह को पूरा नंगा कर दिया। आज वो अपना हक अपने मर्द से छीन लेने वाली थी कि अपने पति का ‘टिंगू-लंड’ देख कर उसका दिल बैठ गया। एकदम दो इंच का लंड था और खड़ा होकर साढे तीन इंच का हो गया था। इसे तो चूसा भी नही जा सकता, हद है भई !

रणधीर सिंह जी हांफ़ रहे थे, दुल्हन के इस गर्मागर्म रूप को देख कर। उसने रणधीर सिंह को पटक कर उनके मुँह पर अपनी चूत रख दी और रणधीर सिंह की सांसें फ़ूलने लगीं

;साले लंड में नहीं था गूदा तो लंका में काहे कूदा !' गाली देते हुए बोली- काहे तेरे मास्टर चाचा ने मेरी शादी तेरे से की ! मादरचोद ले, अब चूस मेरी चूत और सुबह उस धोती वाले की धोती में आग लगा न दी तो मेरा नाम बबिता नहीं।

लगभग आधा घंटा अपनी चूत और गांड उसके मुँह पर रगड़ने के बाद उसने लाईट आफ़ कर दी और अपनी चूत पसार कर सोने चली गई।

शमशेर सिंह का दिल बागम-बाग हो गया, लंड को तेल लगा कर उन्होंने मोटा और नुकीला किया और अपनी धोती खोल कर सहलाते हुए सो गये। बहुत जल्दी सीन में उन्हें एंट्री मारते हुए अपनी बहू को कब्जा लेना था। सुहागरात में अपने भतीजे रणधीर सिंह का नाकाम फ़्लाप शो देख कर खुश हुआ कि अब तो मेरे लंड को चौका मारने का मौका मिलना तय ही है।

सुबह उसने अपने भतीजे रणधीर सिंह को किसी काम से 6-7 दिनों के लिये बाहर भेज दिया। अब घर में अकेले बहू बबिता और खूसट ठरकी बुढ़ऊ शमशेरसिंह ही बचे थे। खाना परोसते समय बहू का आँचल सरक गया, उसके ब्लाउज का मुँह बड़ा चौड़ा था, तो उजली चूचियों शमशेर सिंह के नजरों में चमक गईं। शायद यह बबिता की सोची समझी चाल थी। शाम को शौच के लिये उसे बाहर जाना था, खुले में।

बहू को डर लगा तो शमशेर सिंह के पास आई और पूछा- चाचाजी, मुझे बाहर जाना है, दो नम्बर के लिये ! लेकिन पहली बार इस गांव में निकलते हुए डर लग रहा है।

बुढ़ऊ का दिल बाग-बाग हो गया और उसने कहा- चिन्ता ना कर बहू, घर की चारदीवारी में ही खुले में इसी काम के लिए गड्डा बना रखा है, चली जा। मैं छत पर ही रहूँगा, कोई डरने की बात नहीं है।

बबिता चली गई और बुड्डा छत पर से उसे टट्टी करते देखता रहा। अचानक दोनों की नजरें मिल गईं। बबिता ने अपनी चूत पर टार्च जला कर बुड्डे को अपनी झांट वाली ‘बम्बाट’ बुर दिखा ही दी।

वहीं छत पर खड़े-खड़े बुड्डे की धोती में आग लग गई, लंड खड़ा होने लगा और बुड्डे शमशेर ने अपना सुपारा हाथ में लेकर रगड़ना शुरु कर दिया। अब वह चूत का मैदान मारने की तैयारी कर चुका था। जैसे ही बबिता अंदर आई, दरवाजे पर ही उसने उसे दबोच लिया।

वो बोली- अरे पापा जी रुकिये, गांड तो धो लेने दीजिए अभी टट्टी लगी है उसमें, इतने बेसबरे मत होइये।

शमशेर तुरंत हैंड्पंप के पास जाकर पानी चलाने लगा और बबिता ने लोटे से पानी लेकर अपनी गांड उस बुड्डे के सामने ही छप्पाक-छ्प्पाक धो डाली।

कहानी बुड्डे के अनुसार ही चल रही थी। बूढ़े को अपनी बहू की बड़ी गांड का छोटा छेद बड़ा प्यारा और नाजनीन लगा। वह समझ गया कि यही है मेरे लंड का अंतिम डेस्टिनेशन !

बबिता के खड़े होते ही शमशेर ससुर ने उसे दबोच लिया और उसकी साड़ी वहीं आंगन में ही खोलने लगा। घर में कोई नहीं था, चांदनी रात में भतीज-बहू का चीर-हरण, और दूधिया जवानी, दोनों का मेल गजब का था।

सारे कपड़े खोल बुड्डे ने बबिता के बड़ी चूचियों पर सबसे पहले मुँह मारा।

जैसे ही उसने मुँह मारा, बबिता गाली देने लगी- पी ले अपनी माँ के चूचे... बहनचोद बुड्डे ! कर दी शादी तूने मेरी नामर्द गांडू से?

शमशेर ने कहा- तो कोई बात नहीं बेटी, ये ले बदले में मेरा हल्लबी लौड़ा.. किसी भी जवान से ज्यादा सख्त और बुलंद है।

अपना लंड पकड़ कर वो खड़ा रहा और बबिता नीचे बैठ गई। लंड के सुपारे से चमड़े की टोपी हटा उसने लंड को सूंघा तो उसे उस गंध से समझ में आ गया कि यह पुराना चावल काफ़ी मजेदार है।

अपने मुँह में ढेर सारा थूक लेकर उसने लंड के ऊपर थूक दिया। मुँह में पेलने को बुड्डा बेताब हो रहा था लेकिन बबिता को अपनी ‘हायजीन’ का पूरा ख्याल था। उसने लंड को थूक से धोने के बाद उस थूक से लंड की मसाज चालू कर दी। बुढ़ऊ शमशेर गाली बक रहा था- हाय मादरचोद, मार डालेगी क्या ! साली जल्दी से मुँह में डाल ! इतना रगड़ती क्यों है... तेरी माँ का लौड़ा !! उफ़्फ़ चूस ना, चूस ना !

बबिता ने अधीरता नहीं दिखाई और आराम से लंड को थूक कर चाटती रही। जब पूरा लंड साफ़ चकाचक हो गया, अपने मुँह का रास्ता उस लंड को दिखा दिया। अब बुड्डे के लंड ने मुँह को चूत समझ लिया और उसमें अपना लंड किसी एक्सप्रेस की तरह घुसम-घुसाई करने लगा।

"आह… आह… ले… ले… ये ले… मादरचोद… तुम्हारा ससुर अभी जवान है... ये ले चूस तेरी माँ का लौड़ा।"

बबिता एकदम अवाक थी अपने बुड्डे ससुर की ‘परफ़ार्मेंस’ से। उसने अपना गला फ़ड़वाने की बजाय रात की प्यासी चूत की चुदास बुझाना बेहतर समझा।

अब बुड्डे का सपना सच हो गया था। बहू चोद ससुर शमशेर सिंह ने अपनी बहू बबिता को चोदने की सेटिंग कर ली। अब आप देखेंगे उन दोनों की चुदाई का भयंकर नजारा।

बबिता ने तुरंत उसका लंड ऐंठ कर शमशेर सिंह को नीचे गिरा दिया। बुड्डा अपनी बहू के इस कदम से भौंचक्का रह गया, लेकिन यह काम बबिता ने उसके अंदर गुस्सा जगाने के लिये किया था जिससे कि वह बदले की भावना से जबरदस्त पेल सके।

बुड्डे ने अपनी धोती खोल फ़ेंकी, उसके अंडकोष किसी पपीते की तरह आधा-आधा किलो के थे। बबिता को पटक कर उसने अपना अंडकोष उसके मुँह में दे डाले, कहा- ले चूस बहू, बहुत कलाकार है तू बे मादरचोद साली, लाया था बहू, निकली रंडी। अब तो मेरा काम सैट कर देगी तू !

बबिता ने उस अन्डकोष को शरीफ़ा की तरह अपनी जीभ से कुरेदना जारी रखा। बुड्डा अपने मोटे लंबे लंड से चूत उसके बड़े चूचों की पिटाई कर रहा था और अपनी ऊँगलियाँ उसकी झांटों पर फ़िरा रहा था।

जब पूरे अंडकोष पर उसने अपनी जीभ फ़िरा चुकी तो बुड्डे ने अपनी गांड का छेद अपनी बहू के मुँह पर रख दिया।

"ले कर रिम-जॉब !"

बुड्डा वाकई चोदूमल था, उसे रिम-जाब मतलब कि गांड को चटवाने की कला भी आती थी और वो इसका रस खूब लेता रहा था। वाकयी में जब भी वो सोना-गाछी जाता रंडियाँ उसे नया-नया तरीका सिखातीं और अब तो वह अपने घर में ही परमानेंट रंडी ले आया था।

बबिता ने उसकी गांड को चाट कर उसमें एक उंगली करनी शुरु कर दी। बुढ्ढा पगला गया, उसने तपाक बहू की झांटें पकड़ी और ‘चर्र’ से एक मुठ्ठी उखाड़ लीं।

"हाय !! मादरचोद बुड्डे !! तुझको अभी देखती हूँ !"

बबिता ने बदले में पूरी उंगली उसकी गांड में घुसेड़ कर कहा- मादरचोद पेलेगा नहीं सिर्फ खेलेगा ही क्या बे?

कहानी मजेदार होती जा रही थी। अब बुढ़ऊ की मर्दानगी जग चुकी थी, भयंकर रूप लिये बरसों से चूत के प्यासे मोटे लंबे लंड को, उसने अपनी प्यारी बहू की मुलायम चिकनी चूत में डाल देने का फ़ैसला कर लिया था।

उसने बबिता की टाँगें खोल दीं और अपनी उंगलियों से चूत का दरवाजा खोला।

बबिता मारे उत्तेजना के गालियाँ बक रही थी। वो खेली-खाई माल थी। बुड्ढे ने अपने लंड के सुपारे को चूत के मुहाने पर छोटे से छेद की बाहरी दीवार वाली लाल-लाल पंखुड़ी पर घिसना चालू किया।

बबिता की सिसकारियाँ गहरी होती चली जा रही थीं। ससुर शमशेर ने उसकी बाहर की ‘मेजोरा- लीबिया’ मतलब कि चूत की बाहरी दीवाल को ऐसे खींच रखा था, जैसे टीचर किसी छोटे बच्चे का कान खींच के सजा दे रहा हो। माहौल एकदम गर्म हो चुका था।दोनों तरफ़ की दीवालों को रगड़ने के बाद बुड्ढे ने अपना लंड का मुँह बबिता के थूक से दोबारा गीला करने के लिये बबिता के मुँह में हाथ डाल ढेर सारा थूक बटोरा और फ़िर अपने लंड के मुहाने पर लगा और अपना थूक उसकी चूत में चारों तरफ़ घिस कर अपना लंड धंसाना शुरु कर दिया।

बबिता की आँखें नाचने लगीं थी। उसकी कहानी ससुर के लंड से लिखी जा रही थी और वाकयी ससुर शमशेर का बुड्ढा लंड जवानों के लंड से भी बेहतरीन था वो कहते हैं ना "पुराने देसी घी और पिशौरी बादाम खाए हुए थे !"

वो रुका नहीं और चूत के पेंदे पर जाकर सीधा टक्कर मारी, बबिता चिल्लाई- अई माँ ! मर गई प्लीज पापा रुकिये ना !

लेकिन नहीं... शमशेर सिंह को चुदास चढ़ चुकी थी और सालों बाद कोई करारा माल और उसकी चूत की कहानी लिखने का मौका मिला था। लंड नुकीला करके उन्होंने उस चूत का सत्यानाश करना शुरु कर दिया था और फ़िर उसके सुनामी छाप धक्कों से चूत की दीवालें तहस-नहस हो रही थीं।

बबिता अध-बेहोश हो चली थी और शमशेर ने उसे पलट कर पेट के बल लिटा दिया। अब उसकी गांड फ़टने वाली थी, दो उंगलियों से पकड़कर उसकी गांड खोल दी शमशेर ने और अपनी जीभ अंदर डाल दी। ताजा-ताजा धुली गांड खूश्बूदार थी। गांड को गीला कर के ढेर सारा थूक अंदर कर दिया, गांड तैयार थी।

उसने अपना मोटा लंड एक ही बार में अंदर कर दिया और बबिता चिल्लाई- बचाओ !!

लेकिन कोई फ़ायदा नहीं। उसकी गांड खुल चुकी थी और लंड उसे छेदते हुए अंदर था। आधे घंटे तक यह गांड मारने के बाद शमशेर सिंह ने अपना वीर्य उसके पिछवाड़े पर निकाल कर लंड को चूचों में पोंछ दिया।

रात में यह कार्यक्रम तीन-चार बार उस खुली चांदनी में फ़िर चला। ससुर और बहू की यह कहानी अनवरत चुदाई के साथ चलती रही।

बेटी के साथ सामूहिक चुदाई

Beti Ke Sath Samuhik Chudai,बेटी के साथ सामूहिक चुदाई

मेरा नाम है माहिरा। मैं २५ साल की हूँ। मेरी शादी अभी पिछले साल ही हुई है। मेरी अम्मी आबिदा खातून हैं वह ४५ साल की हैं और बड़ी मस्त जवान हैं। अपनी बॉडी मैन्टन कर रखी है और वह ३०/३२ साल की ही लगतीं हैं। हां मन से वह २० साल से ज्यादा उम्र की नहीं लगती हैं।

बेटी के साथ सामूहिक चुदाई

खूब हंसी मजाक करतीं हैं गन्दी गन्दी बातें करतीं हैं और हमारे साथ बैठ कर पोर्न फिल्म देखतीं हैं। फिल्म देखते हुए भी बोलती रहतीं है इसका लण्ड मोटा है उसका पतला है इसकी चूत टाइट है उसकी ढीली हो चुकी है।

ये बुर चोदी चुदवाकर ही जाएगी वगैरह वगैरह ? हमारे साथ मेरी भाभी भी हैं समीना। उसकी शादी दो साल पहले हुई थी पर मेरा भाई विदेश में काम करता है . भाभी यहाँ हमारे साथ ही रहतीं हैं। मैं भी खूबसूरत हूँ और मेरी भाभी भी। हम दोनों के बूब्स बड़े बड़े हैं। चूतड़ उभरे हुए हैं और जांघें मोटी मोटी हैं। इत्तिफाक से हम तीनो ही लण्ड की जबरदस्त शौक़ीन हैं।

मैं १९ साल की उम्र में ही अम्मी से खुल गयी थी।बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया

एक दिन मैं अपनी सहेली से फोन पर बात कर रही थी। मैं बोली – हाय बोल साइमा, माँ की चूत, क्या हो रहा है ? ,,,,,,,,,,,, क्या बात करती है तू ,माँ की चूत, ऐसा भी कहीं होता है। उसने तेरी गांड मार दी और तू खड़ी खड़ी देखती रही, माँ की चूत।

मैं होती तो उसकी माँ चोद देती, माँ की चूत ? ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,? अरे यार मेरी सुन, उसकी गांड में मैं पेल दूँगी लण्ड, माँ की चूत ? ,,,,,,,,,,मेरी माँ की न पूंछो वो तो, लौड़े से, चुदवाती रहती है।,,,,,,,,,,,,? तेरी भी माँ भी यही करती है बाप रे बाप, माँ की चूत ,,,,,,,,,,,,,,,,? कोई बात नहीं मैं सब ठीक कर दूँगी माँ की चूत। अम्मी ने मुझे सुन लिया उसे पक्का यकीन हो गया की मेरा तकिया कलाम है माँ की चूत।

एक दिन मैं अपने दोस्त को चुपके से घर ले आयी। मैं समझी की अम्मी घर पर नहीं हैं। मैं उसे नंगा करके उसका लण्ड हिलाने लगी। फिर मैं भी नंगी हो गयी। वह मेरी चूँचियाँ और चूत सहलाने लगा। मुझे मस्ती चढ़ गयी तो मैं जबान निकाल कर लण्ड चाटने लगी। इतने में अम्मी आ गयी। उसे देख कर मेरी तो गांड फट गयी। उसका लण्ड सिकुड़ गया।

पर अम्मी मुस्कराते हुए बोली हाय दईया तू इतनी बड़ी हो गयी है भोसड़ी की अभी तक ठीक से लण्ड चाटना भी नहीं जानती ? मैं बताती हूँ, लौड़े से, की कैसे चाटा जाता है लण्ड ? इतनी बड़ी बड़ी चूँचियाँ और गांड लिए घूम रही है तू, लौड़े से, और इतने दिनों के बाद आज एक लौड़ा तुझे मिला है, लौड़े से ?

अभी तक क्या तू अपनी माँ चुदा रही थी ? मुझे देख मैं लण्ड चाट कर बताती हूँ तुझे की कैसे चाटा जाता है लण्ड ? अम्मी लण्ड चाटने लगीं। फिर अम्मी ने उससे पूंछा बेटा मेरी बिटिया की बुर लेते हो ? वह कुछ बोला नहीं। तब अम्मी ने कहा कोई बात नहीं बेटा, आज पहले मेरी बिटिया की बुर ले लो फिर उसकी माँ का भोसड़ा चोद लेना ?बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया

Beti Ke Sath Samuhik Chudai


तेरी बेटी की माँ चोदूँगी सासू जी

तेरी माँ की चूत, बहन का लण्ड

ऐसा बोल कर अम्मी ने लण्ड मेरे मुंह में घुसा दिया। मैं लण्ड चूसने लगी। अम्मी मुझसे इतना ज्यादा खुल जायेगीं यह मुझे नहीं मालूम था। अम्मी ने फिर आहिस्ते से लण्ड मेरी चूत में पेल ही दिया। मैं पहले चिल्लाई तो लेकिन फिर मजे से चुदवाने लगी। थोड़ी देर बाद अम्मी ने भी लण्ड पेल लिया अपनी चूत बोली देख माहिरा ऐसे चुदवाई जाती है बुर ? अब उसे क्या मालूम की मैं कई बार कई लड़कों से चुदवा चुकी हूँ। आज से तू अपनी बुर क्या अपनी माँ का भोसड़ा भी चुदाना सीख ले ? मैंने मन में कहा अब आएगा जवानी का असली मज़ा ?

अम्मी कुछ ज्यादा ही मस्ती में थीं। वह बोली माहिरा तेरी माँ की चूत बहन चोद आ गया न तुझे माँ चुदाना ? मैंने कहा हां आबिदा खातून भोसड़ी की तुझे भी आ गया बिटिया की बुर चुदाना। वह मेरे मुंह से गालियां सुनकर बहुत खुश हुई और मेरे गाल थपथपाकर बोली हां बेटी इसी तरह लिया जाता है चुदाई का पूरा पूरा मज़ा ?

एक दिन मैं जेसिका आंटी के घर चली गयी, माँ की चूत ? मैंने कहा अम्मी अरे वह तो बड़ी मजेदार हैं और बड़ी गहरी मजाक करतीं है, माँ की चूत ? अम्मी ने कहा – तुझे मालूम नहीं है लौड़े से की जेसिका बुर चोदी सेक्स की बहुत बड़ी खिलाड़ी है। उसकी बेटी भी उसका साथ देती है। जेसिका लण्ड अपनी बेटी की चूत में दानादन्न घुसेड़ती है और उसकी बेटी भी अपनी माँ के भोसड़ा में एक के एक बाद ठोंकती जाती है। दोनों खूब खुलकर गली गलौज करती है और खूब एन्जॉय करतीं हैं। मैंने मन में कहा एक मैं ही नहीं हूँ माँ चुदाने वाली बेटी और भी हैं बेटियां हैं जो अपनी माँ चुदवाती हैं।बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया

मेरी समीना भाभी बड़ी मजेदार भी हैं और खूबसूरत भी। एक दिन हम तीनो बैठी हुई बातें कर रहीं थी। मेरे मुंहसे निकला अरे समीना भाभी तुम तो बहुत शर्माती हो ? शरमाओगी तो फिर लण्ड का मज़ा कैसे ले पाओगी ? वह बोली हाय दईया नन्द रानी मैं लण्ड किसी ने नहीं शर्माती।

मैं तो सबके लण्ड से बड़ी मोहब्बत करती हूँ। मैं जब कॉलेज में थी तो खूब लण्ड पकड़ा करती थी। घर में लोगों के लण्ड पकड़ती थी। सबसे पहले मैंने मामू लण्ड पकड़ा फिर उसके दोस्त का लण्ड पकड़ा और एक दिन मैंने खालू का लण्ड पकड़ लिया।

इसी तरह एक दिन जीजू का लण्ड भी मेरे हाथ लग गया। मैं तो दिन रात लण्ड के सपने देखती थी और आज भी देखती हूँ। इसीलिए मुझे ‘लण्ड’ कहने की आदत पड़ गयी। मैंने मजाक में कहा समीना भाभी कभी अपनी माँ के भोसड़ा में लण्ड पेला तुमने ? वह बोली हां बिलकुल पेला।बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया

भाभी ने बताया की एक दिन की बात है। मैं जब कमरे में घुसी तो देखा की अम्मी पड़ोस के शब्बीर अंकल के पैजामे में हाथ डाल कर उसका लण्ड हिला रहीं हैं।

मैं वहां से घूम कर जाने लगी तो अम्मी ने कहा अरी भोसड़ी की समीना इधर आ तेरी माँ की चूत ? इतना शरमायेगी तो जवानी का मज़ा कैसे ले पायेगी ? इधर आ मरे पास। मैं जब पास में गयी तो अम्मी ने लण्ड बाहर निकाल लिया और मुझे लण्ड दिखाते हुए बोली लो बेटी समीना अंकल का लण्ड चाटो ?

अंकल का लंबा चौड़ा लण्ड देख कर मैं भी ललचा गयी। मेरा हाथ अपने आप बढ़ गया और मैं लण्ड पकड़ कर हिलाने लगी। लण्ड बहन चोद और सख्त हो गया। अम्मी ने पूंछा कैसा लगा लण्ड तुम्हे समीना ? मैंने कहा अम्मी ये तो बिलकुल खालू के लण्ड की तरह है। अम्मी ने कहा हाय दईया तो तू बुर चोदी खालू का लण्ड चूसती है। तेरे खालू का लण्ड खड़ा होने पर थोड़ा टेढ़ा हो जाता है न समीना।

मैंने कहा हां अम्मी तुम ठीक कह रही हो। वह बोली जानती हो समीना तेरा खालू तेरी माँ का भोसड़ा चोदता है। मैंने भी जोश में आकर कह दिया अम्मी मेरा खालू तेरी बिटिया की भी बुर लेता है। अम्मी ने मेरा गाल चूम लिया और बोली कोई बात नहीं बेटी ये चूत बुर चोदी चुदवाने के लिए ही होती है।

एक दिन समीना भाभी जाने किस मूड में थीं।

वह आई और बोली :- माहिरा, तेरी माँ की चूत, तेरी भाभी की बुर ?

मैं भी मूड में आ गयी तो मैने भी जबाब दे दिया।

मैंने कहा :- भाभी, तेरी नन्द की बुर, तेरी सास का भोसड़ा ? तब तक मेरी अम्मी भी आ गयी।

वह बोली :- बहू, तेरी नन्द की माँ का भोसड़ा, तेरी तेरी माँ की बिटिया की बुर ?

फिर हम सब बड़ी जोर से हंसने लगीं।बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया

उसी दिन शाम को मेरा ससुर आ गया और भाभी का जीजा भी। मैंने कहा हाय दईया लो दो लण्ड का

इन्तज़ाम हो गया है। आज मैं अपनी भाभी की बुर तो चोद लूंगी और चोद लूंगी उसकी सास का भोसड़ा ? तब तक भाभी बोली नहीं मैं चोदूँगी अपनी सास का भोसड़ा और अपनी नन्द की बुर ?

अम्मी ने कहा हाय दईया तुम सब लोग ऐसा क्यों कह रही हूँ। फिर तो मैं भी चोदूँगी बिटिया की बुर और बहू की चूत ? लेकिन तुम लोग परेशान न हो मैंने फ़ोन कर दिया है और आज ही मेरा देवर दुबई से आ रहा है। वो चोदेगा तुम दोनों की चूत ? तब आएगा चुदाई का घनघोर मज़ा ?

कुछ देर बाद सब लोग इकठ्ठा हो गये। मेरा ससुर तस्कीम आ गया उधर भाभी का जीजू सकीब मियां भी आ गया। मैं दोनों को जानती थी लेकिन लण्ड इनमे से किसी का नहीं जानती थी। मेरी इच्छा बढ़ने लगी की जल्दी से जल्दी इनके लण्ड पकड़ कर देखूं। तभी किसी ने घंटी बजा दी। अम्मी ने दरवाजा खोला और बोली हाय उस्मान आ जा जल्दी से हम लोग तेरा ही इंतज़ार कर रहीं हैं।

अम्मी ने उसे हम सबसे मिलवाया। मैं तो समझती थी की कोई ४५/५० साल का आदमी होगा पर वह तो मस्त जवान लड़का निकला उम्र शायद २५/२६ के लगभग होगी। मेरे दिल की धड़कने बढ़ने लगीं। यही हाल भाभी जान भी था। अम्मी ने फटाफट ड्रिंक्स का इंतज़ाम कर दिया और हम लोग मस्ती से दारू का मज़ा लेने लगे।

चुदाई के खेल के पहले अगर थोड़ा नशा वगैरह कर लिया जाये तो चुदाई एक मज़ा दुगुना हो जाता है।अब जब हमें अय्यासी करनी है तो फिर अच्छी तरह क्यों न की जाए ? दारू चालू हो गयी और नशा भी चढाने लगा। मस्तियाँ भी छाने लगीं और दिमाग में खुराफात भी चलने लगी। मेरी नज़र ससुर के लण्ड पर जैम गयी।

मैं सोंचने लगी की इसका लण्ड कैसा होगा, कितना बड़ा होगा, कितना मोटा होगा, कैसे चोदता होगा। मैंने कभी उसका लण्ड न देखा और मन पकड़ा ? मैंने फिर सोंचा की आज तो मौक़ा है। आज तो मुझे चूकना नहीं चाहिए। बस मैं ससुर के पैजामे का नाड़ा बड़े प्यार से खोलने लगी। उसने कोई ऐतराज़ नहीं किया। किसी ने कुछ कहा नहीं। बस मैंने हाथ अंदर घुसेड़ दिया। तब भाभी ने भी अपने जीजू के पैजामे के अंदर हाथ घुसेड़ दिया।

मैं तो बड़ी बेशर्मी से ससुर का लण्ड अंदर ही अंदर सहलाने लगी। लण्ड बहन चोद खड़ा होने लगा। तब मुझे अहसास हुआ की लण्ड बड़ा जबरदस्त है।बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया

सबसे पहले मैंने ही ससुर का लण्ड बाहर निकाल लिया, उसका सुपाड़ा चूमा और अम्मी को लण्ड दिखाते हुए बोली लो अम्मी मेरे ससुर का लण्ड पियो। अम्मी ने मुस्कराकर लण्ड मेरे हाथ से ले लिया। तब तक भाभी बोली अरे मेरी बुर चोदी नन्द रानी लो तुम मेरे जीजू का लण्ड पियो ? उधर अम्मी ने बहू को अपने पास इशारे से बुलाया और कहा बहू ले तू पी ले मेरे देवर का लण्ड ? ये भोसड़ा का तेरा ससुर ही है। फिर एक एक करके हम तीनो ने अपने अपने कपड़े खोल डाले और एकदम नंगी हो गयीं तो महफ़िल में आग लग गयी।

उधर मरद भी मादर चोद तीन के तीनो एकदम नंगे हो गए और उनके लण्ड टन टनाने लगे। अम्मी को मेरे ससुर का लण्ड पसंद आ गया। पसंद तो मुझे भी आ गया पर मैं चाहती हूँ की पहले वह मेरी माँ चोद ले फिर मुझे चोदे। मैं तो भाभी के जीजू के लण्ड में खो गयी। सकीब के लण्ड से मुझे भी मोहब्बत होने लगी। मैं जबान निकाल कर लण्ड का टोपा चाटने लगी। भी मस्ती से उस्मान का लौड़ा हिला हिला आकर पहले तो बड़ी देर तक देखतीं रहीं और फिर उसे मुंह में घुसेड़ कर चूसने लगीं।

एक ज़माना था की जब की मरद का लण्ड खड़ा होते ही चूत में घुस जाता था और वह थोड़ी देर तक चोद चाद कर झड़ जाता था। पर अब ज़माना बदल गया है। अब तो लण्ड खड़ा होते ही लड़कियों के मुंह खुल जातें हैं। लण्ड सीधे मुंह में घुस जाता है या यूँ कहें की लड़कियां सबसे पहले लण्ड मुँह में लेतीं हैं फिर कर कहीं। आजकल तो लण्ड चाटने, लण्ड चूसने का और लण्ड पीने का समय है।

झड़ता हुआ लण्ड पीना और मुठ्ठ मार कर लण्ड पीना आजकल का फैसन हैं।

थोड़ी देर में अम्मी ने लण्ड अपने भोसड़ा में घुसा लिया और यह भकाभक चुदवाने लगीं। अम्मी तो वास्तव में चुदवाने में बड़ी बेशर्म है। हम दोनों भी बेशर्म हो गयीं। मैंने भी सकीब का लण्ड घुसेड़ा अपनी चूत में और गचागच चुदवाने लगी। अब तक तो मुझे चुदवाने का अच्छा ख़ासा तज़ुर्बा हो चुका था। मेरी समीना तो ऐसे चुदवाने लगीं जैसे की वह एक मंजी हुई रंडी हों।

अम्मी को मस्ती सूझी तो वह बोली ;- हाय बुर चोदी समीना तू बहन चोद अपनी नन्द की माँ चुदवा रही है।

समीना भाभी बोली :- हां सासू जी मुझे अपनी नन्द की माँ चुदाने में मज़ा आ रहा है पर तू भी तो अपनी बिटिया की भाभी की बुर चुदवा रही है, हरामजादी।

मैंने कहा :- अरे भाभी तेरी सास भोसड़ी की अपनी बिटिया की बुर देखो न कितनी शिद्दत से चुदवा रही है और तेरी नन्द की बुर में लौड़ा घुसेड़ने के लिए कितनी बेताब हो रही है ? इसकी तो बहन की बुर ?

अम्मी ने फिर कहा – बहू, तेरी नन्द की बुर चोदी बुर बहुत टाइट है इसमें कोई मोटा लण्ड पेलना ?

इसी तरह की मस्ती करती हूँ हम तीनो धकापेल ऊपर से नीचे तक आगे से पीछे तक चुदवाने में लगीं थीं। अचानक लण्ड की अदला बदली होने लगी। मेरे ससुर ने अम्मी की बुर से लण्ड निकाल कर भाभी की बूर में घुसा दिया। उस्मान ने भाभी की बुर से लण्ड निकाल कर मेरी चूत में घुसेड़ दिया। सकीब ने अपना लण्ड मेरी चूत से निकाल कर अम्मी के भोसड़ा में ठोंक दिया। लण्ड बदलते ही चुदाई का मज़ा दूना हो गया।

एक दिन मेरी खाला जान आ गयी। उसकी शादी शुदा बेटी भी उसके साथ थी। रात को खूब झमाझम बातें हुईं। मैंने भी खूब खुल कर बातें की और अपनी कहानी सुनाई। अम्मी ने भी कुछ छुपाया नहीं और मेरी भाभी जान भी खुल कर बोलीं।बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया

तभी उसकी बेटी बोली :- अरे यार माहिरा, यह सब तो मेरे घर मे भी होता है। एक दिन मेरा अब्बू मेरी ससुराल आया और मेरी नन्द की बुर में रात भर लण्ड पेला। सवेरे जब वह जाने लगा तो नन्द बोली अरे अंकल कहाँ जा रहे हो ? आज तो मेरी माँ चोदो। मुझे चोदा है तो मेरी माँ चोद कर जाओ न प्लीज। उधर मेरा ससुर भोसड़ी का बड़ा हरामी है।

एक दिन लण्ड खोल कर मेरे सामने खड़ा हो गया बोला बहू एक बार इसे भी पकड़ कर देख लो न ? अच्छा लगे तो आगे भी पकड़ती रहना ? उसका साला ८” लण्ड देख कर मेरे मुंह में पानी आ गया। लण्ड का सुपाड़ा साला तोप का गोला लग रहा था। फिर क्या मैंने पकड़ ही लिया। उस दिन मैंने जब उससे चुदवाया तो पता चला की बड़ी लोगों से चुदवाने में कितना मज़ा आता है।

इस तरह एक बार हमने खाला और उसकी बेटी के साथ सामूहिक चोदा चोदी में हिस्सा लिया। खाला भी बहुत बड़ी चुड़क्कड़ औरत हैं।

कहा :- खाला जान तेरी बहन का भोसड़ा ? तू तो बिलकुल हम लोगों जैसी ही है।

वह बोली :- माहिरा, तेरी माँ की बिटिया की बुर ? तेरी खाला की बेटी भी बहन चोद लण्ड की बड़ी शौक़ीन है। जाने कहाँ कहाँ के लण्ड अपनी माँ की चूत में घुसेड़ा करती है ?

तब तक उसकी बेटी बोली :- अरे यार माहिरा तेरी खाला भी भोसड़ी वाली एक से एक बेहतर लण्ड अपनी बेटी की चूत में पेलती है ? बड़ी हरामजादी है तेरी खाला और तेरी खाला का भोसड़ा ?

इस मस्ती का रिजल्ट यह है की पिछले कई सालों से हमारे घर में कोई परेशानी नहीं है। कभी कोई बीमार नहीं हुआ और कभी किसी डॉक्टर की जरुरत नहीं पड़ी।


Author Name

Adult Stories

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.