Articles by "jija sali ki chudai ki kahani"

adult stories in hindi Antarvasna Story baap beti ki chudai ki kahani bahan ki chudayi balatkar ki kahani behen ki chudayi bhabhi ki chudai bhai bahan ki chudai bhai bahan sex story in hindi bollywood actress ki chudai ki kahani bollywoos sex stories in hindi chacha bhatiji ki chudai ki kahani chachi ki chudai ki kahani chhoti bahan ki chudai chhoti ladkai ki chudai chudai ki kahaniya dehati chudai ki kahani devar bhabhi ki chudai ki kahani Didi ki Chudai Free Sex Kahani gand chudai gand chudai ki kahani gangbang ki kahani Ghode ke sath desi aurat ki sex story girlfriend ki chudai gujarati bhabhi habshi lund se chudai hindi sex stories Hindi Sex Stories Nonveg hindi urdu sex story jija saali sex jija sali ki chudai ki kahani Kahani kunwari choot chudai ki kahani Losing virginity sex story mama bhanji ki chudai ki kahani mama ki ladaki ki chudai marathi sex story mote lund se chudai ki kahani muslim ladaki ki chudai muslim ladki ki chuadi nana ne choda naukarani ki chudai New Hindi Sex Story | Free Sex Kahani Nonveg Kahani Nonveg Sex Story Padosi Ki Beti pahali chudai pakistani ladaki ki chudai Pakistani Sex Stories panjaban ladki ki chudai sali ki chudai samuhik chudai sasur bahu ki chudai sasur bahu ki sex story sasural sex story school girl ki chudai ki kahani seal tod chudai sex story in marathi suhagraat ki chudai urdu chudai ki kahani in urdu Virgin Chut wife ki chudai zabardasti chudai ki kahaniya एडल्ट स्टोरी कुंवारी चूत की chudai गर्लफ्रेंड की चुदाई गांड चुदाई की कहानियाँ जीजा साली सेक्स पहलवान से चुदाई बलात्कार की कहानी बाप बेटी की chudai की सेक्सी कहानी मामा भांजी चुदाई की कहानी ससुर बहु चुदाई सेक्स स्टोरी
Showing posts with label jija sali ki chudai ki kahani. Show all posts

सगी सालियों की चूतो का उद्घाटन किया मोटे लंड से

सगी सालियों की चूतो का उद्घाटन किया मोटे लंड से

बात उस समय की है जब मेरी शादी को 2 साल हो गए थे और मेरी बीबी को पहला बच्चा हुआ था.. वो उस समय अपने मायके में ही थी.... जब काफी दिन हो गए तो मै अपने आफिस से छुट्टी ले कर अपने ससुराल गया ताकि बीबी और बच्चे से मिल आऊं.. अभी मेरी बीबी का आने का कोई प्रोग्राम नहीं था.. क्यों कि इस समय दिसंबर का महीना चल रहा था और जाड़ा काफी अधिक पड़ रही थी..
जब मै अपने ससुराल गया तो मेरी खूब खातिरदारी हुई.. मेरे ससुराल में मेरे ससुर, सास, 1 साला और 2 सालियाँ थी.. मेरे साले की हाल ही में नौकरी हुई थी.. और वो दिल्ली में पोस्टेड था.. ससुरजी भी अच्छे सरकारी नौकरी में थे.. 2 साल में रिटायर होने वाले थे.. लेकिन अधिकतर बीमार ही रहा करते थे.. मेरी सालियाँ बड़ी मस्त थीं.. दोनों ही मेरी पत्नी से छोटी थीं..
मेरी पत्नी से ठीक छोटी वाली का नाम सीमा था.. वो 23 साल की थी.. उस से छोटी मधु की उम्र 21 साल की थी.. दोनों ही स्नातक कर चुकी थी.. यूँ तो दोनों दिन भर मेरे से चुहलबाजी करती रहती थी लेकिन कभी बात आगे नही बढी थी.. मैंने भी सीमा की एक - दो बार चूची दबा दी थी.. लेकिन वो हंस कर भाग जाती थी.. खैर मेरी बीबी नेहा खुद भी काफी सुन्दर थी.. इसलिए कभी कोई ऐसी वैसी बात होने कि नौबत नही आई..
इस बार मै ज्यों ही अपने ससुराल पहुंचा तो वहां एक अजब समस्या आन पड़ी थी.. दोनों ही सालियों ने बी..एड करने का फॉर्म भरा था और दोनों की ही परीक्षा होनी थी.. परीक्षा पुरे एक सप्ताह की थी.. समस्या ये थी कि इन दोनों के साथ जाने वाला कोई था ही नहीं.. क्यों कि मेरे साले कि अभी अभी नौकरी लगी थी और वो दिल्ली में था.. मेरे ससुर जी को जोड़ों के दर्द ने इस तरह से जकड रखा था कि वो ज्यादा चल फिर नहीं पा रहे थे.. सास का तो उनको छोड़ कर कहीं जाने का सवाल ही पैदा नही होता था.. मेरी दोनों सालियाँ तो अकेले ही जाने के लिए तैयार थी, लेकिन जमाने को देखते हुए मेरे ससुरजी इसके लिए तैयार नहीं हो रहे थे.. इस कारण मेरी दोनों सालियाँ काफी उदास हो गयी थी.. मुझे लगा कि यूँ तो मै 15 दिनों की छुट्टी ले कर आया हूँ और यहाँ 3 दिन में ही बोर हो गया हूँ क्यूँ ना मै ही चला जाऊं, लेकिन ससुरजी क्या सोचेंगे ये सोच कर मै खामोश था..
अचानक मेरी सास ने ही मेरे ससुर को कहा कि क्यों नहीं दामाद जी को ही इन दोनों लड़कियों के साथ भेज दिया जाये.. ससुरजी को भी इसमें कोई आपत्ति नजर नहीं आई.. उन्होंने मुझसे पूछा तो मैंने थोड़ी टालमटोल करने के बाद जाने के लियी हाँ कर दी.. और उसी दिन शाम को ही ट्रेन पकड़ कर रवाना हो गए.. अगले दिन सुबह पहुँच कर एक होटल में हमलोग रुके .. होटल में मैंने दो रूम बुक किये.. एक डबल रूम , दोनों सालियों के लिए तथा एक सिंगल रूम अपने लिए.. हम लोगों ने नाश्ता - पानी किया और मैंने उन दोनों को उनके परीक्षा सेंटर पर पहुंचा दिया..
हर तीसरे दिन एक परीक्षा होनी थी .. 12 बजे से 2 बजे तक .. उसके बाद दो दिन आराम .. दोनों ने परीक्षा दे कर वापस होटल आने के क्रम में ही भोजन किया .. मैंने दोनों से परीक्षा के बारे में पूछा तो दोनों ने बताया कि परीक्षा काफी अच्छी गयी है.. खाना खाने के बाद हम लोग होटल चले आये .. वो दोनों अपने कमरे में गयी तथा मै अपने कमरे में जा कर आराम करने लगा ..
करीब 5 बजे मुझे लगा कि उनलोगों को कहीं घुमने जाना है क्या? ये सोच कर मै उनके रूम में गया.. रूम का दरवाज़ा सीमा ने खोला .. रूम में मधु नजर नही आयी ..
मैंने सीमा से पूछा- मधु कहाँ है?
वो बोली- बाथरूम गयी है..
मैंने कहा - ओह..
मैंने देखा कि सीमा सिर्फ एक झीनी सी नाइटी पहने हुए है.. उसके चूची साफ़ साफ़ आभास दे रही है.. उसके चूची के निपल तक का पता चल रहा था..
मै बिछावन पर बैठ गया और मैंने सीधे बिना किसी शर्म के ही धीरे से कहा- क्या बात है ? ब्रा नही पहनी हो
उसने कहा - यहाँ कौन है जिस से अपनी चूची को छिपाना है?
सुन कर मै दंग रह गया, और कहा - क्यों , मै नहीं हूँ?
वो बोली- आप से क्या शर्माना? आप तो अपने आदमी हैं..
मै कहा- कभी ठीक से छूने भी नहीं देती हो और कहती हो कि आप अपने आदमी हैं ..
उसने मेरे गोद में बैठते हुए कहा - इसमें कुछ ख़ास थोड़े ही है जो आपको छूने नहीं दूंगी.. आप छू कर देखिये.. मै मना नहीं करूंगी..
मैंने धीरे से उसे पीछे से पकड़ा और अपने हाथ सीमा के एक चूची पर रख दिया.. उसने सचमुच कुछ नहीं कहा और ना ही किसी प्रकार का प्रतिरोध किया.. मै उसकी चूची को जोर जोर से दबाने लगा.. उसे भी मज़ा आने लगा.. जब मैंने देखा कि उसको भी मज़ा आ रहा है तो मेरा मन थोडा और बढ़ गया.. और मैंने अपना हाथ उसके नाइटी के अन्दर डाला और उसके चूची को पकड़ लिया.. उफ़ क्या मखमली चूची थी सीमा की .. मैंने तो कभी कल्पना भी नही की थी कि मेरी साली इतनी सेक्सी हो सकती है.. मै कस कर के उसकी चूची दबा रहा था.. वो आँख बंद कर के अपने चूची के मर्दन का आनंद ले रही थी.. मेरा लंड तनतना गया..
मैंने धीरे से कहा- ए, जरा नाईटी खोल के दिखा ना..
सीमा ने कहा- खुद ही खोल कर देख लीजिये ना..
मैंने उसकी नाईटी को अचानक नीचे सरका दिया और उसकी चुचियों के नीचे लेते आया.. ऊऊफ़्फ़्फ़्फ़ क्या मस्त चूची थी.. मैंने दोनों हाथों से से उसकी दोनों चुचियों को को पकड़ कर मसलना शुरू कर दिया.. वो सिर्फ आँखे बंद कर के मज़े ले रही थी..
उसने धीरे से कहा - जीजाजी, इसे चूसिये ना..
मैंने उसको बेड पर लिटा दिया और उसकी चूची को चूसने लगा.. ऐसा लग रहा था मानो शहद की चासनी चूस रहा हूँ.. मेरा लंड एकदम उफान पर था.. .. मेरा लंड पैंट के अन्दर ही अन्दर गीला हो गया था.. मैंने एक झटके में उसके बदन से पूरी नाइटी उतार दी.. और अपना शर्ट एवं पैंट भी.. अब वो सिर्फ पेंटी में थी और मै अंडरवियर में .. मैंने उसके बदन को चूमना चालु किया.. चुमते चुमते अपना दाहिना हाथ उसके पेंटी के अन्दर डाल दिया.. घने घने बाल साफ़ आभास दे रहे थे.. थोडा और नीचे गया तो कोमल सा चूत साफ़ आभास होने लगा.. पूरी गीली हो गयी थी.. उसने भी मेरे लंड पर हाथ लगा दिया और कहा - इसे भी खोलो ना जीजू.. मैंने बिना देर किये अपना अंडरवियर भी खोल दिया .. वो मेरा लंड को अपने हाथ में ले कर सहलाने लगी ..
मैंने उसके होठों को कस कर दबाया हुआ था.. मै उसके चूत में अपनी उंगली डालने की कोशिश करने लगा तो वो बुरी तरह से छटपटाने लगी.. तभी मैंने उसकी पेंटी भी खोल दी और उसके चूत को घसने लगा.. वो मछली की तरह तड़प रही थी.. मैंने किसी तरह से अपनी ऊँगली उसके चूत में डाल ही दी.. तभी बाथरूम के अन्दर से फ्लश की आवाज़ आयी.. मै हडबडा गया क्यों कि मधु निकलने वाली थी और सीमा नंगी पड़ी हुई थी.. मै झट उठ कर बैठ गया और अंडरवियर पहन लिया .. .. सीमा ने तुरंत ही अपनी पतली सी चादर अपने अपने नंगे बदन पर ओढ़ लिया.. मै सोच रहा था कि यहाँ से चला जाऊं.. लेकिन तभी बाथरूम का दरवाजा खुला और मधु बाहर आ गयी.. ये क्या ! उसने भी तो सिर्फ पेंटी ही पहन रखी थी.. ऊपर वो पूरी तरह से नंगी थी .. एक तो वो मुझे अचानक देख कर शरमा गयी और वो मुझे अंडरवियर में देख कर चौंक गयी.. मेरा लंड अभी भी 9 इंच के तनाव पर था..
फिर वो मुझे देख कर अपने हाथो से अपनी गोरी गोरी चूची को छिपाने का असफल प्रयास करते हुए हुए मुस्कुराई और बोली- आप कब आये?
मैंने कहा -अभी थोड़ी देर पहले..
मुझे पता नहीं था कि दुबली पतली सी दिखने वाली इस लड़की के चूची इतने बड़े होंगे.. मै सोचने लगा - यार इसके भी तो चूची अब हाथ लगाने लायक हो ही गए हैं..
अभी मै इसी विषय पर सोच ही रहा था कि मधु ने कहा- क्यों जीजू , क्या देख रहे हो?
मैंने कहा - देख रहा हूँ कि छोटी बच्ची अब जवान हो गयी है..
मधु ने कहा - आप को अभी तक पता ही नही चला था क्या?
मैंने अपने लंड को अंडरवियर के ऊपर से कस के दबाते हुए कहा- मुझे तो अंदाजा ही नही था कि आपका नीम्बू अब खरबूज बन गया होगा.. तेरी चूची तो तो तेरी बहन सीमा से भी बड़ा है.. तू तो उसकी बड़ी बहन लगती है..
ये सुन कर मधु बोली- धत, मेरी चूची तो अभी सीमा दीदी से छोटा ही है..
मैंने कहा - नहीं, तेरा बड़ा है..
वो बोली- नहीं, मेरा छोटा है दीदी से..
मैंने कहा- लगी शर्त? तेरा बड़ा है.. अगर तेरा छोटा हुआ तो 500 रुपये तेरे.. अगर बड़ा हुआ तो तू मुझे 500 रूपये देगी.. बोल मंजूर है?
वो बोली- हाँ , मंजूर है.. दीदी जरा खोल के दिखा तो अपनी चूची..
सीमा तो नंगी थी ही.. उसने अपना चादर हटाया.. मधु ने देखा तो कहा - अरे तू तो पहले से ही नंगी है?
सीमा ने कहा - जीजू , मेरे चूची का साइज़ और चूत की गहराई नाप रहे थे.. अच्छा , अब तू भी खोल के दिखा..
मधु ने बिना समय दिखाए अपने हाथ नीचे कर के अपनी चूची मेरे सामने ला कर खड़ी हो गयी.. यूँ तो वास्ताव में मधु की चूची सीमा के चूची से छोटी थी.. लेकिन मै तो सिर्फ उसकी चूची को देखने के लिए इतना ड्रामा कर रहा था.. उसकी चूची भी मस्त थी..
मैंने कहा - ऐसे तो पता नहीं चल रहा है.. हाथ से नाप कर ही पता चलेगा..
मधु मेरे पास आ गयी और बोली- तो ठीक है.. हाथ से नाप कर ही देख लीजिये और बताइए किसकी चूची बड़ी है और किसकी छोटी ?
मैंने उसे अपनी गोद में बिठाया और उसकी चूची को मसलने लगा.. मेरे लंड का हाल बुरा हो रहा था.. थोड़ी देर उसकी चूची मसलता रहा.. मधु की आँख बंद हो गई थी- उसे भी काफी आनंद आ रहा था..
उसने धीरे से कहा- जीजू अब बताइए न किसकी चूची बड़ी है और किसकी छोटी?
मै भी कम धूर्त ना था.. मैंने कहा - अंदाज़ ही नही मिल रहा है.. दोनों बहनों की चुचियों को एक साथ छूना होगा.. सीमा इधर आ, तू भी मेरे गोद में बैठ जा..
सीमा भी सिर्फ पेंटी पहन कर मेरी गोद में बैठ गयी.. अब मै दोनों की चूचियां को मसलने रहा था.. दोनों ही हलकी हलकी सिसकारी भर रही थी..
फिर मैंने कहा - ऐसे पता नही चलेगा.. मुह में चूस कर साइज़ पता चलेगा..
मैंने दोनों को बिस्तर पर सटा कर लिटा दिया.. और बारी बारी से दोनों की चुचीयां को चूसने लगा.. दोनों को अपनी चूचियां चुसवाने में बहुत मज़ा आ रहा था..
मैंने कहा - दोनों की चूची तो 19 - 20 है.. अच्छा ये बता तुम दोनों में से किसके चूत पर बाल अधिक हैं?
सीमा ने कहा - जीजू, खुद ही मेरी पेंटी खोल के देख लो न..
मैंने उस की पेंटी में हाथ डाला और उस की पेंटी खींच कर उतार डाली.. दोनों अब मेरे सामने नंगी थी.. दोनों के चूत पर घने बाल थे.. मै दोनों के चूत को सहलाने लगा.. दोनों की आँखे बंद थी.. दोनों की चूत गीली हो रही थी..
मैंने कहा - दोनों की चूत पर घने बाल हैं.. शेव नहीं करती हो क्या?
सीमा ने कहा - नहीं
मैंने पूछा - तुम दोनों में से मुठ अधिक कौन मरती हो?
मधु ने कहा - दीदी अधिक मारती है.. दिन में दो बार वो भी बैगन से..
मैंने कहा - तू मुठ नहीं मारती..
मधु ने कहा - कभी कभी.... वो भी दीदी को मुठ मारते देख कर..
सीमा मेरे लंड को पकड़ कर बोली - हाँ लेकिन ये इतनी डरपोक है कि पतले मोमबत्ती को चूत में डाल कर मुठ मारती है.. मैंने कितनी बार इसे बैगन से मुठ मारने को कहा है लेकिन ये मानती ही नहीं....
मैंने कहा - कभी तुम दोनों ने अपनी चूत चुसवाया है?
मधु ने कहा - हाँ
मैंने कहा - किस से?
सीमा ने कहा - हम दोनों अक्सर ही एक दुसरे की चूत चूसते हैं..
मैंने कहा - अरे वाह, दोनों तो बिलकूल एक्सपर्ट हो.. कहाँ से सीखा?
मधु ने कहा - बड़ी दीदी ने सिखाया.. दरअसल हम तीनो बहन एक दुसरे की चूत चूसते हैं..
मैंने कहा - वाव.... ये बात तो मुझे आज तक पता ही नहीं थी..
मधु ने कहा - जीजा जी, सिर्फ हमारी ही देखोगे क्या? अपनी भी दिखाओ ना..
मैंने बिना कुछ कहे अपने अंडरवियर को को भी खोल दिया.. मेरा लंड जो एक चूत और दो चूची को देख कर जितना बड़ा होता है आज दो दो चूत और चार चूची को देख कर डबल बड़ा हो रहा था..
अनु ने मेरे लंड को देखते ही पकड़ लिया और कहा - हाय राम, जीजू आपका जूजू कितना बड़ा है.. इतना बड़ा लुल्ली तुम दीदी के चूत में पूरा डाल देते हो? दीदी की चूत तो दर्द से बिलबिला जाती होगी..
ये सुन कर सीमा हँसी और कहा- धत पगली, ये लुल्ली थोड़े ही है, ये तो लंड है.. चूत में इसे डालने से दर्द थोड़े ही होता है? बल्कि मज़ा आता है.. इस को पीयेगी? सुना है बहुत मज़ा आता है..
अनु ने कहा - किसने कहा
सीमा - दीदी ने..
मैंने कहा - दीदी तुम्हे ये सब बातें बताती है?
सीमा ने मेरे लंड को मुह में लिया और थोडा चूसते हुए कहा- और नहीं तो क्या? वो मुझे अपनी चुदाई कि सब बातें बताती है..
मैंने कहा - सिर्फ थ्योरी से ही काम नहीं चलेगा, कुछ प्रेक्टिकल भी करना होगा..
दोनों ने कहा - हाँ जीजू, कुछ प्रेक्टिकल कीजिये ना..
मैंने कहा - पहले किस से साथ करूँ..
सीमा ने कहा - मेरे साथ, क्यों कि यहाँ मै बड़ी हूँ..
मधु ने कहा - हाँ ये ठीक है, तब तक मै देखती हूँ और जानूंगी कि कैसे क्या होता है..
मैंने कहा - ठीक है..
और मै सीमा के बदन पर लेट गया और मधु बगल में ही लेट कर चुचाप देख रही थी.. मै सीमा के नंगे मखमली बदन पर लेट कर उसके हर अंग को चाटने लगा.. वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी.. मैंने उसके बुर को चाटना चालु किया तो वो सिसकारी भरने लगी.. लेकिन मै उसके बुर के रस को छोड़ भी नहीं पा रहा था.. इतना नरम और रसीला बुर था मानो लग रहा था कि लीची को उसका छिलका उतार कर सिर्फ उसे चाट रहा हूँ.. उसके बुर ने पानी छोड़ दिया.. मै उसके बुर को छोड़ फिर उसके चूची को अपने सीने से दबाया और मैंने पूछा- अपनी चूत चुदवाओगी?
सीमा ने कहा- हाँ ..
मैंने कहाँ - ठीक है.. तो तैयार हो जा प्रैक्टिकल के लिए
मैंने उसके दोनों टांगो को अलग किया और चूत के छेद का मुआयना किया.. उसमे उंगली डाल कर उसे फैलाया फिर अपना लंड को उसकी चूत के छेद पर रखा और और धीरे धीरे लंड को उसके चूत में घुसाना चालु कर दिया..
ज्यों ही मैंने लंड डाला वो चीख पड़ी- आ .......... यी........आह...... मर गयी
मैंने कहा - क्यों री.. चूत में बैगन डाल के मुठ मारती हो और लंड लेने में तुझे परेशानी हो रही है..
सीमा ने कहा - हाय राम, आपका लंड किसी बैगन से कम मोटा नहीं है.. और ये काफी सख्त भी तो है.. बैगन तो नरम होता है..
मैंने कहा - हाँ वो तो है.. लेकिन सख्त लंड से ही तुझे मज़ा आएगा.. तेरी झिल्ली फटी है कि नहीं अभी तक?
सीमा ने कहा -- नहीं....
मैंने कहा - फाड़ दूँ तेरी झिल्ली?
सीमा ने कहा - अब देर ना करो जीजू.. जो भी करना है जल्दी करो.. चूत में बहुत खुजली हो रही है......आह …..मेरे चूत में अपना इतना मोटा लंड डाल कर इतने सवाल कर कर के मुझे यूँ ना सताओ..
उसका चूत एकदम नया था.. मैंने धीरे धीरे अपने लंड को उसके चूत में धक्के मारना शुरू किया.. मेरा लंड उसके चूत के गहराई में गया तो उसकी झिल्ली फट गयी तो वो पूरी तरह चीख पड़ी- आ ..........ह......जी..............जू हाय राम......
मैंने कहा - क्या हुआ सीमा ?
सीमा ने दर्द भरे स्वर में कहा - कुछ नहीं जीजा जी .. तेरे लंड ने मेरी झिल्ली फाड़ डाली.. आह......कितना मज़ा है इस दर्द में.. ..
मैंने सीमा को उसके दर्द कि परवाह किये बगैर जोर जोर से चोदना चालू किया.. थोड़ी देर में ही उसे आनंद आने लगा.. अब वो आराम से बिना किसी शर्म के जोर जोर से बोलने लगी- आह जीजा जी.. हाय जीजाजी.. जरा धीरे धीरे चोदिये ना.. आय हाय कितना मज़ा आ रहा है.. आआअ ........ह्ह्ह्ह........ वो साली ही क्या जिसने अपने जीजा के मज़े ना लूटे हों..
सुन के मुझे उसके हिम्मत पर ख़ुशी हुई और आराम से उसके अंग अंग को देखते हुए चोदने लगा.. वो भी जोर जोर से चिल्लाने लगी- हाय......आआअह्ह्ह्ह.......... ओह्ह माँ , ओह जीजू, हाय रे आःह्ह्ह ................
मै उसकी नंगे बदन पर लेट कर उसकी चुदाई कर रहा था.. मैंने चुदाई करते समय मधु कि तरफ देखा तो वो भी काफी खुश लग रही थी..
मै उसे चोदता रहा.. थोड़ी देर में सीमा के चूत से पानी निकलने लगा.. मेरे लंड ने भी पानी छोड़ देने का सिग्नल दे दिया..
मैंने सीमा से कहा - बोल कहाँ गिरा दूँ माल?
वो बोली- मेरे मुह में..
मैंने अपने लंड को उसके चूत से निकाला और अभी उसके मुह में भी नही डाला था कि मेरे लंड ने माल छोड़ना चालु कर दिया.. इस वजह से मेरे लंड का आधा माल उसके मुह में और आधा माल उसके गाल और चूची पर गिर गया.. फिर भी वो प्यासी कुतिया की तरह मेरा लंड चूसती रही..
उसने मधु को अपनी चूची दिखाई और कहा - मधु ले माल को चाट.. मज़ा आएगा..
मधु ने बिना देर किये सीमा के चूची को चाटना शुरू कर दिया और उस पर गिरे मेरे माल को चाट चाट कर खा गयी..
मुझे काफी मज़ा आ रहा था.. लेकिन मैंने गौर किया कि मधु भी काफी अंगडाई ले रही थी.. इसका मतलब कि अब उसके चूत में भी खुजली हो रही थी..
मैंने सीमा को कहा - अब तेरी छोटी बहन की बारी है.. देख तो कैसा अकड़ रही है?
सीमा अपनी चूत को साफ़ करती हुई बोली- इसकी तड़प को रोकने का एक ही उपाय ये है कि इसे भी अभी चोद दीजिये.. ..क्यों री मधु ? चुदवायेगी ना? बहुत मज़ा आएगा..
मधु बोली- लेकिन दीदी , तू तो अभी करह रही थी लग रहा था कि तुझे काफी दर्द हो रहा था ..
सीमा - अरी पगली , वो दर्द नहीं ....मज़ा था री .. तू भी चुदवा के देख ना
मधु ने कहा - लेकिन दीदी तुने ही तो एक दिन कहा था कि चूत पर पहला हक पति का होता है ?
सीमा - धत पगली .... साली के चूत पर पहला हक तो जीजा का ही होता है न.. चल अब ये सब छोड़ .. और लेट जा .... देख जीजू अभी तुझे जन्नत की सैर करायेंगे ..
अब मैंने मधु को अपने नीचे लिटाया और उसकी चूची को छूने लगा.. मुझे पता था कि ये लड़की अभी गरम है.. इसे काबू में करना कोई मुश्किल काम नहीं है.. मै उसकी मस्त चूची को दबाने लगा.. वो कुछ नहीं बोल रही थी सिर्फ मुस्कुरा रही थी.. .. मैंने एक हाथ उसकी चूत पर हाथ ले गया.. ओह उसकी चूत तो पानी बहा रही थी , बिलकूल गीली थी.. मैंने अब कोई तकल्लुफ नहीं किया अब वो पूरी तरह से मेरी गिरफ्त में थी.. मै उसके होठों को बेतहाशा चूमने लगा.. अब वो भी मुझे जोरदार तरीके से मेरे होठों को चूमने लगी.. अब वो मेरा साथ देने लगी थी.. वो भी दीदी कि चुदाई देख कर मस्त हो चुकी थी.. उसकी चूची तो सीमा कि चूची से भी नरम थी.. आखिर उसकी चूत का भी मैंने उद्धार किया और और उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया.. लेकिन जैसे ही मैंने डाला वो चीखने लगी .. उसकी चूत का छेद अभी छोटा था ..
सीमा ने कहा - एक मिनट जीजू .... ये क्रीम इसकी चूत में डाल दीजिये ना .. तब चोदिये .. तब इसे दर्द नहीं होगा ..
मैंने मधु के चूत से अपना लंड निकाल लिया .. सीमा ने वेसलिन क्रीम को मधु की चूत पर अच्छी तरह से माला.. मधु चुप चाप अपने चूत पर वेसलिन लगवा रही थी ..
मैंने मधु की चूची को दबाते हुए कहा - सीमा , तुने तो अपनी चूत पर वेसलिन नहीं लगाया ..
सीमा ने कहा - मुझे तो मोटे बैगन अपने चूत में डालने की आदत है ना .. ये मधु की बच्ची तो सिर्फ मोमबत्ती ही डालती है अपनी प्यारी सी चूत में.. इसलिए आपका मोटा लंड इसे चुभ रहा है .. लेकिन अब नहीं चुभेगा .. मैंने वेसलिन डाल दिया है इसके चूत में अब आप इसके चूत में अपना लंड बेहिचक डालिए.. ..
मैंने फिर से मधु के चूत में अपना लंड धीरे धीरे डालना शुरू किया .. इस बार भी वो थोड़ी चीखी लेकिन जल्दी ही अपने आप पर काबू पा ली.. 4-5 शोट में ही उसकी भी झिल्ली फट गयी और उसके चूत से बलबला के खून निकलने लगा .. लेकिन मैंने लंड के धक्के से उसकी चुदाई जारी रखी.. थोड़ी देर में ही उसकी चूत भी खुल गयी.. वो भी अपनी दीदी कि तरह जोश में आ गयी थी.... उसने अपने दोनों हाथो से मेरी गर्दन को लपेट कर मेरे होठो को चूमने लगी.. उसकी जम कर चुदाई के बाद मेरे लंड से भरपूर माल निकला जो कि उसके चूत में ही समा गया..
मै अपना लंड उसके चूत से निकाल कर उसके बगल में लेट गया..
तब सीमा ने मधु की चूची को दबा कर बोली- क्यों बहना, मज़ा आया ना?
मधु ने कहा- हाँ दीदी.. एक बार फिर करो ना जीजू..
सीमा ने कहा- नहीं पहले मेरी चूत में भी रस डालिए तब मधु की बारी..
सीमा मेरे बगल में लेट कर अपने दोनों टांगो को आजु बाजू फैला कर अपनी चूत मेरे सामने पेश कर मुझे छोड़ने का न्योता देने लगी.. मेरा लंड अभी थका नही था.. मै तीसरी बार चूत छोड़ने के लिए तैयार था.. मै झट से उसकी टांगों को अपने कंधे पर रखा और एक ही झटके में अपना लंड उसके चूत में प्रवेश करा दिया..
सीमा - हाय राम.... जीजू कितना हरामी है रे तू.. धीरे धीरे डाल न....
मैंने कहा - देख कुतिया.... अभी मै तेरी कैसी चुदाई करूंगा कि इस जनम में दोबारा चुदाई का नाम ना लेगी तू..
मेरी बात सुन के सीमा ने हँसते हुए कहा - जा रे हिजड़े.... तेरे जैसे दस लंड को मै अपननी चूत में एक साथ डाल लूं तो भी मेरी चूत को कुछ नही होने वाला..
मैंने भी हँसते हुए कहा - तो ये ले...... सभाल इसे कह कर मैंने काफी जोर जोर से उसके चूत में अपना लंड आगे पीछे करने लगा.. पहले तो वो सिर्फ अपने होठो को दांत में दाब कर दर्द बर्दाश्त करती रही.. लेकिन थोड़ी देर में ही उसकी चीखे निकलने लगी.... वो हलके हलके स्वर में चिल्लाते हुए कहने लगी - हाय रे.... मादरचोद.... फाड़ डाला रे.... साले जीजू.... कुत्ता है तू...... एक नम्बर का रंडीबाज है.. आदमी का लंड है कि गधे का लंड.. साले कुछ तो रहम कर मेरी नाजुक चूत पर..
मुझे उसकी गालियाँ काफी प्यारी लग रही थी.. उसकी गालियाँ मेरा जोश बढ़ा रही थी.. मै जानता था कि उसे काफी मज़ा आ रहा है क्यों कि इतने दर्द होने के बावजूद वो अपनी चूत से मेरा लंड निकालने का प्रयास नही कर रही थी..

इस बार मैंने सीमा के चूत को घमासान तरीके से 20 मिनट तक चोदा.. 20 मिनट कि घमासान चुदाई के बाद मेरे लंड से लावा फुट पड़ा.. और सारा लावा उसके चूत में ही गिराया.. सीमा की हालत देखने लायक थी.. वो इतनी पस्त हो चुकी थी कि बिना कोई करवट लिए जैसे की तैसी लेटी लेटी ही सो गयी..


कुंवारी साली को उसके कमरे में चोदा बंद करके

Kunwari Sali Ki Chudai Story,कुंवारी साली को उसके कमरे में चोदा बंद करके


हैल्लो दोस्तों, में आज आप सभी को अपनी एक सच्ची चुदाई की एक सच्ची घटना सुनाने के लिए आया हूँ। वैसे में पिछले कुछ सालों से की सेक्सी कहानियों को पढ़कर उनके मज़े लेता आ रहा हूँ। दोस्तों यह बात आज से करीब 6 साल पहले की है, जिसमें मैंने अपनी एक दूर के रिश्ते में साली को उसके कमरे पर जाकर बड़े मज़े लेकर चोदा। वो पहले तो वो मुझे बड़ा नखरा दिखा रही थी, लेकिन फिर वो धीरे धीरे शांत होती गई और अपनी चुदाई के मेरे साथ मज़े लेने लगी। दोस्तों कहानी को सुनिए कि मेरे साथ कैसे क्या हुआ?
कुंवारी साली को उसके कमरे में चोदा बंद करके (Kunwari Sali Ki Chudai Story)


एक दिन जब में अपने ऑफिस से अपने घर पर पहुंचा तो मैंने देखा कि मेरे घर पर मेरी पत्नी के दूर के कुछ रिश्तेदार आए हुए थे, जिसमें एक लड़का जो मेरी पत्नी का रिश्ते में भाई लगता था और एक लड़की जो रिश्ते से उसकी बहन लगती वो दोनों हमारे घर पर कुछ दिन रहने के लिए आए हुए थे, दोस्तों क्योंकि वो दोनों बाहर दूसरे शहर से आए थे, इसलिए वो इस हमारे पूरे शहर में केवल हम लोगों को ही जानते थे, लेकिन कुछ दिन निकल जाने के बाद में मुझे अपनी पत्नी से पता चला था कि अब वो लड़की हमारे शहर लखनऊ में अपनी आगे की पढ़ाई करेगी और वो लड़का बस उसको हमारे घर पर छोड़ने के लिए आया था।

अब मेरी आखों एकदम से चमक उठी, क्योंकि एक हॉट सेक्सी कुंवारी लड़की हॉस्टल में अकेली रहेगी और वो रिश्ते में मेरी साली लगती है और वो दिखने में कोई बुरी भी नहीं है, लेकिन वो चुदाई करने के लिए एकदम ठीक ठाक माल थी। दोस्तों उस दिन से मैंने उस पर डोरे डालने शुरू कर दिए थे और हम दोनों पति पत्नी शुरू के दिनों में उन दोनों भाई बहन के साथ बहुत बार इधर उधर बाहर घूमे और उनको बहुत कुछ दिखाया, जिससे वो हमारे साथ खुश रहने लगे, लेकिन कुछ दिनों बाद एक दिन वो लड़का हमको दोनों पति पत्नी को उस लड़की की पूरी ज़िम्मेदारी देकर अपने घर पर वापस चला गया। तब तक वो लड़की भी हमारे उसकी मदद करने पर एक कमरे में रहने लगी। हम दोनों मेरी पत्नी और में कभी कभी जाकर उसके कमरे में उसके हालचाल पूछ लिया करते थे। वो एक और दूसरी लड़की के साथ एक ही कमरे में रह रही थी। वो लड़की भी एक ही जगह की रहने वाली थी, लेकिन हम दोनों पति पत्नी उस लड़की को पहले से नहीं जानते थे।

हमारी उस लड़की से बातचीत मेरी साली ने ही शुरू करवाई और वो लड़की भी दिखने में बहुत मस्त पटाका थी, जिसको देखकर हर किसी का लंड पानी छोड़ दे और इस बीच ही मेरी साली और में एक दूसरे से बहुत खुल गये थे। हम दोनों जीजा साली एक दूसरे से बहुत ज्यादा हंसी मजाक और सभी तरह की बातें भी करने लगे थे और में बहुत सी बार उसका सही मूड देखकर उससे दो मतलब की बातें भी किया करता था, जिसका वो मतलब बहुत जल्दी समझकर मेरी तरफ मुस्कुरा देती थी। दोस्तों हमारी बातें अब मेरे ऑफिस के फोन पर भी हर कभी होती थी और जब भी मेरा दिल करता तो में उससे मिलने चला जाता, लेकिन मेरे मन में हमेशा बस एक ही ख्याल रहता था कि उसको कैसे चोदा जाए?

Kunwari Sali Ki Chudai Story


मेरा दिल हमेशा उसके लिए बड़ा बेकरार था, लेकिन मुझे तो उसको बस एक बार चोदना था, लेकिन मुझे ऐसा कोई सही मौका नहीं मिल रहा था जिसका में फायदा उठाकर उसकी चुदाई कर दूँ। में दिन भर उसी के बारे में सोचता रहता था। एक दिन मैंने अपने ऑफिस से छुट्टी होने के बाद अपने कुछ दोस्तों के साथ बैठकर शराब पी और फिर जब में अपने घर पर जाने लगा। तब अचानक से मेरा स्कूटर उसके हॉस्टल की तरफ घूम गया और में उसके कमरे पर चला गया। तो वो मुझे इस हालत में देखकर मुस्कराने लगी और फिर में उसके कमरे के अंदर चला गया, लेकिन तब मैंने देखा कि वो उस समय अपने कमरे में बिल्कुल अकेली है।

फिर मैंने उससे पूछ लिया कि तुम्हारी वो सहेली कहाँ गई है? तो वो मेरी बात को टाल गई और उसने कोई भी जवाब नहीं दिया, लेकिन मेरे बहुत बार वही बात पूछने के बाद उसने मुझे बताया कि वो अपने बॉयफ्रेंड के साथ रोजाना रात को कहीं जाती है और वो देर रात में वापस कमरे में आ जाती है और कभी कभी तो वो आती ही नहीं है। दोस्तों में उसकी बातों से तुरंत समझ गया कि यह उसके घूमने फिरने से बहुत ज्यादा जलती है, क्योंकि वो तो रात रातभर अपने बॉयफ्रेंड के साथ रंग रंगीलीयां मनाती है और वो कुछ नहीं कर पा रही थी। अब में झट से यह बात भी समझ गया था कि वो मुझे हर कभी फोन भी क्यों किया करती है? फिर मैंने उससे पूछा क्यों वो अभी तो नहीं आ जाएगी? तब वो बोली कि नहीं जीजाजी वो रात को दस बजे से पहले नहीं आ सकती और उस समय रात के 8:30 का समय हो गया था।

दोस्तों अब मैंने मन ही मन में पक्का ठान लिया था कि आज मुझे कैसे भी करके उसको जरुर चोदना है। अब वो उठकर खड़ी हुई और मुझसे कहने लगी कि जीजा जी आप बैठिए में आपके लिए चाय बनाकर अभी लाती हूँ, लेकिन तभी मैंने उसको रोककर उसका एक गोरा मुलायम हाथ पकड़ लिया और फिर उसको एक झटका देकर मैंने अपनी छाती से चिपका लिया। वो एकदम से बहुत डर गई और मेरी बाहों में आकर छटपटाने लगी और वो मुझसे कहने लगी कि प्लीज आप यह क्या कर रहे है, प्लीज छोड़ दीजिए मुझे, हमें मेरी मकान मालकिन देख लेगी, लेकिन मैंने उससे कहा कि यहाँ पर कोई नहीं आएगा, क्योंकि मुझे आते समय मकान मालकिन ने नहीं देखा।

अब में उसके माथे को चूमने लगा और उसके गाल को चूमने लगा। फिर मैंने उसके कान को थोड़ा सा काट दिया और चूसने लगा, वो दर्द की वजह से ज़ोर से चिल्लाई, लेकिन कुछ देर बाद सब कुछ पहले जैसा हो गया। अब में उसके बूब्स को दबा रहा था और सहला रहा था। वो धीरे धीरे गरम होने लगी थी जिसकी वजह से अब उसकी वो पकड़ थोड़ी ढीली हो गई थी और उसका वो विरोध भी अब धीरे धीरे कम होने लगा था, वो थोड़ी मस्त होने लगी थी।

फिर भी वो मुझसे कहती रही कि जीजाजी यह सब बहुत ग़लत है प्लीज आप मुझे अब छोड़ दो, लेकिन में अब कहाँ मानने वाला था? में लगातार अपना काम करता रहा तो मैंने उसको बिस्तर पर बैठा दिया और में उसके पास में बैठ गया। अब वो फिर भी ना नुकर करती रही, लेकिन में उसके बूब्स को मसल रहा था और उसके निप्पल को कपड़ो के बाहर से ही पकड़ रहा था और उनको मसल रहा था। अब मुझे उसकी तरफ से भी थोड़ा सा साथ मिलने लगा। अब वो भी मेरे साथ साथ बड़ी मस्त होने लगी थी।

फिर मैंने सबसे पहले उसके कमरे की सभी खिड़कियों को बंद कर दिया और में उसकी कमीज के अंदर अपना एक हाथ डालकर उसके बूब्स को दबाना लगा, लेकिन वो अब भी बिल्कुल भी तैयार नहीं हो रही थी, लेकिन मैंने ज़ोर ज़बरदस्ती करके उसके बूब्स को अंदर से पकड़ लिया और में उनको सहलाने लगा। फिर मैंने महसूस किया कि वो बहुत बड़े आकार के मुलायम थे। फिर मैंने सही मौका देखकर धीरे धीरे करके उसकी ब्रा के हुक को खोल दिए, लेकिन अब वो थी कि मुझे अपनी कमीज़ ही नहीं उतारने दे रही थी। वो मुझसे कह रही थी कि आप बस करो मेरी मालकिन आ जाएगी, लेकिन मैंने उसको बहुत बार समझाया कि यहाँ पर इस समय कोई भी नहीं आएगा और में उसके बूब्स को सहला रहा था।

अब वो भी अब जोश में आकर मेरे साथ साथ मज़े ले रही थी, लेकिन दोस्तों लड़कियाँ पहली बार में एकदम से पूरी तरह से खुलती नहीं है यह मेरा बड़ा पुराना अनुभव था, इसलिए में उसके लाख बार मना करने पर भी उसके बूब्स को सहलाता रहा। अब वो थी कि मान ही नहीं रही थी। अब में आगे बढ़ते हुए अपने एक हाथ से उसकी चूत को कपड़ो के ऊपर से ही मसल रहा था, जिसकी वजह से वो हिलकर अब कभी अपनी चूत को बचा रही थी और कभी अपने बूब्स को, लेकिन मुझे उसके साथ मज़ा बहुत आ रहा था।

दोस्तों अब तक मेरा लंड भी एकदम तनकर खड़ा हो गया था और में पूरे जोश में था, इसलिए मैंने बिना देर किए अब उसकी सलवार का नाड़ा खोलकर उसको एकदम नीचे सरका दिया और वो उसके लिए बिल्कुल भी तैयार नहीं थी। अब वो पेंटी में मेरे सामने थी और में कोशिश करने लगा कि में कैसे भी करके अब उसका वो कुर्ता भी उतार दूँ, लेकिन उसने मुझे नहीं उतारने दिया।

अब में उसकी पेंटी में अपना एक हाथ डालकर उसकी चूत को सहलाने लगा, जिसकी वजह से वो सिहर गई और मैंने अपनी एक उंगली को उसकी चूत में डाल दिया। तब मैंने महसूस किया कि वो अब बहुत गीली हो गई थी और धीरे धीरे करके मैंने उसको बहुत समझाया, लेकिन वो थी कि मान ही नहीं रही थी, लेकिन में अब अपने पूरे जोश में था और अब मैंने उसको बिस्तर पर ज़ोर ज़बरदस्ती करके लेटा दिया और में उसके ऊपर चड़ गया, लेकिन वो तभी एकदम से उल्टा लेट गई।

अब में क्या करता? फिर मैंने उसको उल्टा ही चोदने की बात सोची और मैंने उसको डॉगी स्टाइल में उल्टा ही दबा लिया और उसकी पेंटी को नीचे सरका दिया और उसकी चूत में अपनी ऊँगली को डालना शुरू कर दिया और तब मैंने छूकर महसूस किया कि उसकी चूत बहुत गीली हो चुकी थी। अब में उसको उसी तरह से पकड़े रहा और अपने एक हाथ से अपनी पेंट को मैंने खोल दिया। उसके बाद अपने लंड को बाहर निकाला और उसकी चूत पर रगड़ रहा था, लेकिन वो कहती रही थी कि जीजा जी यह सब ग़लत है आप मुझे छोड़ दो। अब मैंने अपना लंड उसकी चूत के छेद के ऊपर रखा और एक झटके में उसकी चूत के अंदर डाल दिया। थोड़ा सा ही लंड अंदर गया था कि वो एकदम से चिल्ला गई उफ्फ्फफ्फ्फ़ माँ में मर गई।

फिर मैंने उसके मुहं पह पर अपना एक हाथ रखकर बंद कर दिया, नहीं तो उसकी वो चिल्लाने की आवाज सुनकर सही में उसकी मकान मालकिन आ ही जाती, फिर मैंने उसको समझाया कि तुम्हे बस अब और दर्द नहीं होगा और में उसी पोज़िशन में धीरे धीरे अपने लंड को अंदर बाहर करने लगा। दोस्तों मैंने उसको इतनी देर से पकड़ा हुआ था कि अब मैंने महसूस किया कि अब उसको भी धीरे धीरे मज़ा आने लगा था, क्योंकि वो अब बिल्कुल ढीली पड़ गई है और में धीरे धीरे करके अपना लंड उसकी चूत में अंदर डालता गया और वो भी अब अपने कूल्हों को थोड़ा थोड़ा ऊपर नीचे करने लगी। अब में पूरे जोश में था, जिसकी वजह से हम दोनों ही बड़े मज़े ले रहे थे और उसकी भी हल्की हल्की सिसकियाँ आने लगी और वो भी एकदम से डॉगी स्टाइल में बैठ गई और में अपने दोनों हाथों से उसके बूब्स को मसलता रहा और उसकी चूत का आनंद लेता रहा।

फिर मैंने उससे पूछा कि साली जी अब आपको कैसा लग रहा है? तो वो बोली कि जीजा जी आप बहुत गंदे है। फिर भी वो मेरे साथ मज़ा ले रही थी। अब मैंने अपना लंड बाहर निकाला और उसको पलटकर सीधा लेटा दिया और में उसकी चूत को चाटने लगा। वो एकदम से बोली कि जीजाजी प्लीज मुझे अब और ना तरसाओ, प्लीज जीजाजी मुझे बड़ा मज़ा आ रहा है, प्लीज जल्दी से अपना वो डालो ना में मर रही हूँ जीजाजी प्लीज अब मत करो ऊऊईईइ प्लीज अपना वो डालो ना।

फिर मैंने उसके दोनों पैरों को पूरा खोल दिया और मैंने उसकी कमर के नीचे एक तकिया लगा दिया और उसकी चूत को सहलाया और उसकी चूत के मुहं को अपनी दोनों उँगलियों से फैलाया और अपना लंड उसकी चूत के छेद पर रखकर धीरे से अंदर डाल दिया, वो फिर से चिल्लाई जीजाजीइईईईईईई थोड़ा धीरे से डालो ना मुझे बहुत दर्द हो रहा है। फिर मैंने उससे कहा कि मेरी रानी तुम्हे थोड़ा सा दर्द तो होगा ही और में धीरे धीरे करके अपना लंड उसकी चूत के अंदर डाल रहा था और वो भी बड़ी मस्त होकर अपनी कमर को ऊपर उछाल रही थी और में दोनों हाथों से उसके बूब्स को मसल रहा था।

अब में भी हल्के धक्के मार रहा था और वो भी अपनी कमर को लगातार मेरे हर एक धक्के के साथ उचका रही थी और अब उसकी सिसकियों की आवाज़े आ रही थी, जीजाजी बहुत मुझे मज़ा आ रहा है, अब प्लीज थोड़ा जल्दी आईईईईईईईईईई करो ना वरना वो आ जाएगी ऊऊईईईईई और अब मुझे भी थोड़ा सा डर लग रहा था, इसलिए मैंने भी जल्दी ही निपटने की सोची और अब मैंने तूफान एक्सप्रेस की तरह उसकी कमर को पकड़ा और ज़ोर के धक्के देने लगा। वो भी अपनी कमर को उठा उठाकर मेरा साथ दे रही थी और अब हम दोनों मज़े ले रहे थे। वो कह रही थी जीजाजी आज अपने मुझे बहुत मज़ा दिया आईईईईईई अब में आपकी हो गई और अब उसने मुझसे कहा कि जीजाजी में बस आ रही हूँ और में भी झड़ने वाला था और मैंने अपना लंड उसकी चूत के अंदर ही रहने दिया।

फिर जैसे ही में झड़ा तो वो भी मेरे साथ साथ झड़ गई और उसने मुझे अपने दोनों पैरों से मेरी कमर पर इतनी ज़ोर से पकड़ा कि में एकदम छटपटा गया। में तुरंत समझ गया कि उसको मेरे साथ अपनी चुदाई में बहुत मज़ा आया है। फिर दो मिनट तक में उसके ऊपर ही लेटा रहा। वो भी मुझसे वैसे ही लिपटी रही और उसके बाद मैंने उससे कहा कि जाओ जल्दी से बाथरूम में जाकर तुम पेशाब कर लो, नहीं तो तुम मेरे बच्चे की माँ बन जाओगी। फिर वो मेरी बात को सुनकर तुरंत उठ खड़ी हुई और वो जल्दी से अपने कपड़े पहनकर बाथरूम में चली गई और कुछ देर बाद वो पेशाब करके वापस मेरे पास चली आई। तब तक में भी अपने कपड़े पहनकर वापस जाने की तैयारी में था और में उससे विदा लेकर अपने घर पर चला आया।

दोस्तों यह थी मेरी चुदाई की कहानी, जिसमें मेरी कुंवारी सेक्सी साली को अपनी पहली चुदाई में ही पूरी तरह से संतुष्ट कर दिया। उसको चुदाई के पूरे मज़े दिए और उसने भी मेरा उस चुदाई में अच्छे से साथ दिया।

Meri 13 saal ki Sali ki chudai

मेरी तेरह साल की साली की चुदाई,Meri 13 saal ki Sali ki chudai


Mai first time story likh raha hon. Mera naam imran hai aur mai shadi shuda hon aur age 28. Meri wife ki 2 sisters hain aur yeh unhi ke baray mai story hai. Ek meri Sali 13 saal ki jis ka naam fairy hai aur dosri sana jo 18 saal ki. Meri dono saliyan buhat he sexy hain. Aur dono ko mai ne shadi ke baad choda. ab mai story ki taraf aata hon.

Yeh aj se 2 saal pehlay ki baat hai jab meri shadi hui thi.shadi ke baad mai apni wife ke sath buhat hansi khushi reh raha tha.hum husband wife aksar bahir outing ke liye jatay to meri saliyan bhi hamaray sath janay ko kehti to hum un ko sath le jatay. Mai ne kabhi bhi apni saliyon ko buri nazar se nahi dekha tha. Lakin yeh start tab hua jab mujhay pehli baar meri choti Sali jis ka naam fairy hai us ne mera hath apni choti si breast pe rakha.

Hua yun ke hum sab beach peg aye thay aur hum pani mai naha rahay thay aur normal masti kar rahay thay.achanak meri choti Sali na pani ke andar mera hath pakar kar apnay 28 size ki breast pe rakha jo ke luckily kisi ne notice na kiya.pehlay to mai buhat heran hua lakin akhir tha to mard.Sali ki ankhon mai lust dekh kar aur us ke untouch chotay chotay breast ko touch kar ke pagal hona shuru ho gaya.mai ne apna hath pechay na kiya aur us ne meray hath pe apna hath pe rakh ke apni breast ko ahista ahista press karna shuru kar diya.mai samaj gaya ke who maza laina chah rahi hai.hum pani mai thay is liye mai asani se us ki breast daba sakta tha.mai ne fairy ki shirt mai hath daal diya aur us ke nipples ko dabana shuru kar diya jis se us ko moun se awaz nikali jis ke us ko maza de rahi thi.sab apna apna enjoy kar rahay thay aur mei meri choti Sali separate thay.aur Sali ke chotay honay ki waja se koi hum pe shak nai karta tha.lakin kisi ko kya pata tha ke Sali aur jija mai kya ho raha hai. Phir thori dair breast ke nipples dabanay ke baad mai ne apna hath us ki shorts mai dal diya..

jo ke elastic wali thi.is liye hath dalnay mai koi problem na hui.us ki chot bilkul choti aur baal nahi thay.mai ne apni ek finger us ki chot per phairna shuru kar di jis se us ke moun se awazain nikalnay shuru ho gaye.13 saal ki thi is liye us ki chot buhat tight aur choti thi.mai ne ek finger andar dali to us ne mujhay zor se pakar liya.mai apni Sali ko maza daina chahta tha to mai ne apni finger ahista ahista agay pechay karna shuru kar di.5 minute pe who farig go gaye.us ke baad us ne apna hath meray lun pe rakha aur us ko apnay hathon se rub karna shuru kar diya.mai ne apni shorts nechay kar ke apna 9 inch ka lun us ke hath mai pakra diya jis ko who pakar ke muth marnay lagi.thori dair ke baad mai ne apna pani nikal diya aur bas us din hum itna he kar paye aur phir sab loog ghar wapis aa gaye.lakin meri pyar na bhuji kyun ke ab mai apni Sali ki chot dekhna chahta tha.akhir who mouka bhi mil he gaya.


मेरी तेरह साल की साली की चुदाई


Ek din meri biwi ke ghar walay hamaray ghar aye thay.khanay ki tayyari honi lagi sab kitchen mai chalay gaye.mai rotiyan lainay bahir janay laga to meri choti Sali ne kaha ke bhai mai bhi ap ke sath chalti hon.fairy aur mai bahir gaye to stair se neechay jatay huay us ne mujhay pakar kar kissing shuru kar di.kising kartay huay mai ne us ke boobs dabanay laga to us ne apni shirt utar di .mai ne us ke chotay chotay nipples chosnay shuru kar diya.kuch dair baad us ne apni pent utar kar apni lega open ki aur mujhay apni choot chatnay ko kaha.wow kya chot thi.choti si bina baalon ke.mai apni zaban us ki kunwari chot mai dali to who maza se pagal ho gaye.mai paglon ki tarah apni 13 saal ki Sali ki choot chatna laga.thori dair mai us ne apna pani chor diya jo mai ne sara piya.phir mai ne apni pant khol kar apna lun us ke moun mai dal diya .mai dekh kar preshan ho gaya ke who 13 saal ki thi lakin lun aisay chos rahi thi jaisaykoi professional prostitute ho.us ke chotay se moun mai mera lun pora nai aa raha tha.par who mujhay maza dainay ke liye pori koshish kar rahi thi .us ne itni zoor zor se lun chosa akhir thori dair baad mai control na kar saka to apna pani us ke chotay se moun mai he nikal diya.us ka moun bhar gaya .par who sara pani pee gaye. Hum ne ek dosray ko kiss kar ke kapray pehnay aur rotiyan laina chalay gaye kyun ke ghar pe sab rotiyon ka intizar kar rahay thay.us din bas itna he ho saka.

 

Ek din kisi kaam se meri mother in law aur father in law ko out of city jana para aur dono saliyan ghar pe akeli thi.janay se pehlay meri saas ne mujhay saliyon ke pas rehnay ko kaha.mai khush tha ke ab zaror moqa milay ga Sali ki chot marnay ko.akhir saas aur susar chalay gaye aur raat ko hum sab so gaye.meri wife bhi so chuki thi.mai raat ko utha pani penay ke liye kitchen mai gaya to kya dekha ke meri choti Sali already wahan thi jaisay mera wait kar rahi ho.mai ne us se pocha to us ne kaha ke who janti thi ke mai aon ga kithen mai.bas aur kya tha.woh paglon ki tarah muj par toot pari.us ne patli si night suit pehna hua tha.mai ne us ke saray kapray utar diye aur us ne meray.hum kitchen mai nangay ho kar neechay lait gaye.mai ne us ki choot chatni shuru kar di aur us ne mera lun.thori dair mai who mera oper aa gaye aur mera lun pakar kar apni choot mai dalnay ki koshish karnay lagi.par us ki chot buhat choti thi mera lun andar nahi ghus raha tha.mai ne us ko moun mai moun dal kar kissing shuru kar di.aur kiss kartay huay ek zor ka jhatka mara aur mera adha lun us ki choot pharta hua anadar ghus gaya.us ko dard to buhat hua par yeh to karna he tha.phir mai ne ahista ahist lun andar bahir karna shuru kar diya aur who bhi normal ho gaye.aur thori he dair maim era pora lun us ki 13 saal ki choot mai ghus gaya.bas 15 minute mai us ko chodta raha aur us ke chotay chotay boobs chosta raha.mai ne apna pani us ki choot mai he chor diya. Aur hum kapray pehan kar wapis janay lagay to us ne mujhay kaha ke bhai ap se request hai.mai ne poch kya to us ne kahan ke sana baji bhi ap se chudwana chahta hain.mai maa gaya.to who mujhay sana ke room mai le gaye.

mai dekh kar heran ho gaya ke sana nangi so rahi thi.mai sana ke sath ja kar let gaya.sana 18 saal ki thi aur us ke boobs 32 size ke thay aur virgin thi.mai ne jatay sath he us ke boobs ko chosna shuru kar diya jis se who seduce honay lagi. Jab ke fairy ne mera lun chosna shuru kar diya.thori he dair mai mera lun tan kar khara ho gaya. Ab mai sana ki legs ke darmiyan aa gaya aur us ki legs khol kar dekhta he reh gaya. Sana ki choot ke hoont bilkul chotay chotay thay aur sath juray huay tha.mai ne apnay lun ko us ki choot ke lips par ragarna shuru kar diya. Fairy ne sana ke boobs chosnay shuru kar diya aur mai ne jhatka maar kar apna lun sana ki choot mai ghsa diya. Sana ki halki si cheekh nikli par fair ne us ka moun apnay hath se band kar diya.mai ne jhatkay marnay tez kar diya aur itna zoor zoor se maray ke sana ke boobs oper neechay honay lagay.dosra trip honay ki waja se mai farig nahi ho raha tha aur 30 minutes tak mai sana ko chodta raha.jab ke sana ki choot ka bura haal ho chukka tha.woh tarap rahi thi aur thak chuki thi. Akhir mera pani nikalnay laga to mai ne lun bahir nikal liya aur fairy ke moun mai daal diya.fairy ne mera lun ka sara pani pi liya.mai thak ke sana ke boobs pe sir rakh kar lait gaya.thori dair baad hosh aya to ab teesra round shuru ho gaya.

Ab mujhay dono ki gaand marni thi.jo ke virgin gaand thi.mai ne sana se cream mangwai.sana ne buhat sari cream meray lun pe lagai…mai ne sana aur fairy dono ko doggy style mai kiya aur pehlay sana ki gaand mai lun dalnay laga.sana ki gaand fairy se bari thi lakin surakh buhat tight tha kyun ke virgin thi.akhir mai ne jhatka maar ke us ki gaand mai apna lun ghusa diya aur who tarapnay lagi.mai ne lun thori dair andar he rakha aur phir bahir nikal liya.ab mujhay fairy ki gaand mai dalna tha.13 saal ki honay ki waja se us ki gaand sana se bhi zyada tight thi.is liye mai ne sana ko kahan ke fairy ke moun band rakhay.fairy ki gand ke surakh pe lun rakh ke mai ne zoor ka jhatka mara aur mera pora lun fairy ki choot mai.woh dard se pagal ho gaye thi. Par thori dair mai theek ho gaye.

Ab mei bari bari dono ki gand marnay laga. Aur 30 minutes tak farig ho gaya aur apna pani sana ki moun mai daal diya.


Hum ko 2 saal ho chukay hain. Dono saliyon ko chod chod kar un ki choot aur gaand buhat khuli ho gaye hai

Meri 13 saal ki Sali

साली की छोटी बेटी की कुंवारी चूत की चुदाई


नई चुत की एडल्ट हिंदी कहानी में पढ़ें कि मैंने अपने साले की बड़ी बेटी की मदद से उसकी छोटी बहन की चूत चुदाई का जुगाड़ किया.. उसे होटल में लेजाकर चोदा..

दोस्तो, मैं दर्शन सिंह फिर से अपनी नई चुत की एडल्ट स्टोरीज इन हिंदी लेकर आप सभी के सामने हाजिर हूँ..
आपको मेरी सेक्स कहानी के एक भाग
साले की बेटी की चुदाई
में इस बात की जानकारी होगी कि मैंने अपनी भतीजी मनु की चुदाई करते समय उससे अपनी एक इच्छा जाहिर की थी कि मुझे मनु की छोटी बहन रुबिका की शादी से पहले उसकी चुत चोदने का मन है..

इस बात पर मनु ने हंस कर हामी भर दी थी.. वो बात किस तरह से आगे बढ़ी इसका जिक्र मैंने अपनी इस सेक्स कहानी में किया है..

मेरी पिछली सेक्स कहानी
साले के दामाद ने कोरी चुत चुदवाई
में आपने पढ़ा था कि मेरे साले के दामाद विमल ने मुझे अपनी दुकान के पास की एक कमसिन लौंडिया की कोरी चुत चुदवाई थी..

अब आगे नई चुत की एडल्ट हिंदी कहानी:

सील पैक लौंडिया की चुत फाड़ने के बाद मैं फारिग हुआ और कपड़े पहन कर विमल दुकान पर आ गया..
उसकी दुकान पर आते ही मैं बोला- विमल मुझे घर जाना है..

चूंकि मैं बहुत टुन्नी में था, तो विमल ने अपने नौकर को मुझे घर तक भेजने की हिदायत दी और उसे मेरे साथ भेज दिया..
हम दोनों घर की ओर लौट आए..

घर आकर मैं अपने साले की बेटी मनु के ऊपर चढ़ गया और उसे एक बार हचक कर चोदने के बाद सो गया..

वीणा मौसी को अचानक जाना पड़ गया था.. इस बात की जानकारी मुझे तब हुई, जब मैं सोकर उठा..

मैं उठ कर बाहर आया तो देखा कि मनु और विमल दोनों बैठ कर पैग जमा रहे थे..
उसी समय मेरे घर से मेरे बेटे का फोन आ गया और उसने मुझे तुरन्त घर वापस आने को बोला..

मैंने जाने की तैयारी की, तो विमल मेरी तरफ लालसा से देखने लगा..

विमल के अकाउंट में मैंने दो लाख ट्रान्सफर कर दिया.. विमल खुश हो गया..

मैंने उसको एक कार टैक्सी लेने भेज दिया.. क्योंकि वो भी टुन्न था और मेरे साथ मुझे छोड़ने जाने से अच्छा था कि मैं टैक्सी से ही चला जाऊं..
फिर मुझे जाते वक्त एक बार मनु को और चोदने का मन भी कर रहा था..

विमल मेरे लिए टैक्सी लेने चला गया.. इधर मनु और मैंने जल्दी जल्दी अपना सामान पैक किया..

पता नहीं क्यों विमल को देर हो रही थी.. मैंने मनु की तरफ देखा तो उसने बताया कि मैंने ही उससे देर से आने को कहा था..

मैं समझ गया मेरा मन तो खुद ही मनु की चुदाई करने का था..

उसी समय मैं मनु के साथ एक जल्दी वाली छोटी सी चुदाई करने लगा.. मनु मेरे नीचे से अपनी गांड उचकाते हुए मुझसे बार बार खुद को मुंबई शिफ्ट करवाने को बोल रही थी..

मैं लंड चलाने में मस्त था.. चूंकि मैं जल्दी झड़ता नहीं हूँ … लेकिन जैसे तैसे मैं स्खलित हुआ..

अपनी भतीजी मनु की चुदाई के बाद मैंने एक सिगरेट सुलगाई और कश खींचने लगा.. कुछ ही देर में विमल टैक्सी कार लेकर आ गया..

मैं उधर से मनु और विमल को जल्दी मुम्बई बुलाने का वादा करके मेहसाणा से निकलने लगा.. जाने से पहले मनु ने पानी, कुछ नमकीन, दो शराब की बोतलें और सर्दी से बचने को एक कंबल कार में रख दिया था..

मैं सुबह मुम्बई पहुंच गया.. कुछ दिन ठहर कर एक मकान और दुकान देख कर मैंने मनु और विमल को मुम्बई बुला कर शिफ्ट कर दिया..

अब जब भी मेरा मन होता, तब मनु के घर चला जाता और उसकी मस्त चुदाई कर लिया करता..

विमल का भी बिजनेस इधर सैट करवा दिया था.. वो अपने काम के सिलसिले में ज्यादातर घर से बाहर रहने लगा था.. इसलिए मुझे और मनु को खुल कर चुदाई का खेल खेलने में सुविधा होने लगी थी..

मैंने एक दिन मनु को चोदते हुए उससे रुबिका की चुदाई की बात याद दिलाई..

मनु ने अपने वादे के मुताबिक अपनी छोटी बहन को अपने पास बुला लिया..

रुबिका के आने के बाद मनु के घर मेरा आना जाना कुछ ज्यादा ही बढ़ गया.. विमल, मनु और रुबिका के साथ रोजाना किसी अच्छे होटल में जाते, बियर मंगवा कर पीते हुए मौज करने लगे थे..

पहले दिन तो रुबिका ने बियर पीने से मना कर दिया था, मगर मनु रुबिका को साइड में ले जाकर उसे समझा बुझा कर ले आई..

पहली बार रुबिका को बियर पीने में कुछ कठिनाई हुई.. आधी बोतल पीने के बाद रुबिका बहकने लगी..

मनु ने मुझे सीट बदलने का इशारा किया.. मनु मेरी जगह आकर बैठ गयी और मैं मनु की जगह आकर बैठ गया..

सोफा की साइज छोटी होने के कारण मुझे रुबिका से चिपक कर बैठना पड़ा..

अब रुबिका कोई पत्थर की मूर्ति तो थी नहीं … उसे भी मेरा बदन अपने बदन से चिपका होने का अहसास था, परन्तु बियर का नशा होने के कारण उसमें भी मादकता आई हुई थी..

मनु ने बियर खाली देख कर और बियर का ऑर्डर दे दिया.. रुबिका धीरे धीरे डेढ़ बोतल डकार गई.. वो बियर पीने के बाद मुझसे और मनु से खुल कर बातें करने लगी..

हमारी बातें बड़ी सेक्सी हो रही थीं.. मैंने रुबिका के मादक बदन पर भी हाथ से टच करके मजा ले लिया था..

इस तरह कुछ देर हम सभी ने एन्जॉय किया.. फिर उसी होटल में खाना खाकर वापस आने लगे..

आते वक्त टैक्सी में बैठते समय मनु ने पहले खुद बैठ कर मुझे बीच में बैठा दिया.. मेरे पास रुबिका बैठ गई थी.. आगे ड्राइवर के पास विमल बैठ गया था.. इस तरह तीन चार दिन हम लोग इसी तरह से मजा लेते रहे..

एक दिन होटल से वापसी के समय मनु ने अपना बायां हाथ मेरे गले में डाल दिया.. कुछ देर रुबिका ने ये महसूस किया मगर वो उस समय कुछ नहीं बोली..

रास्ते में जहां कहीं सड़क पर अंधेरा आता, तब मनु मेरे लंड को सहलाने लगती.. रुबिका ये सब कनखियों से देख रही थी..
इस बात का पता दूसरे दिन मुझे मनु के फोन से मिला..

दूसरे दिन मनु ने सारी बात बताई और साथ में ये भी बोली कि उसने रुबिका को सच्चाई बता दी है कि किस तरह शादी होने के बाद भी वो प्यासी रह जाती थी.. यह तो संयोग हुआ था कि फूफाजी मिल गए थे.. वरना आज तक उसकी प्यास को बुझाने वाला कोई नहीं था..

मनु ने रुबिका को सब डिटेल में बताया था कि उसकी शादी के दो साल तक सब ठीक रहा था.. उसके बाद विमल नकारा हो गया.. इसलिए मुझे फूफाजी का साथ मिल गया था और हमारे रिश्ते के बारे में विमल को भी सब मालूम है..

मैंने मनु से ये सुना, तो मैंने उससे पूछा कि ये सब तो ठीक किया, मगर रुबिका को मेरे साथ सैट करने के लिए तूने क्या किया?

मनु बोली- मैंने रुबिका को अपना सुझाव दिया है कि जिस्म का सुख लेने में कोई बात नहीं होती है.. मैंने फूफाजी के बड़े लंड का खूब मजा लिया है.. मैंने उससे कहा कि मैं तेरी बड़ी बहन हूँ, तू भी चाहे तो ये सुख ले सकती है.. कहीं ऐसा न हो कि एक दिन तेरा भी मेरे जैसा हाल हो जाए..

मैं मनु की बात सुनकर खुश हुआ कि उसने रुबिका को मेरे मजबूत लंड के बारे में बता दिया है..

फिर मनु ने आगे बताया कि उसने रुबिका को कहा कि मान ले आज तेरी सगाई हो चुकी है, कुछ महीने बाद शादी भी हो जाएगी.. एक दो साल बात करते निकल जाएंगे, फिर मेरे जैसी तू भी तड़पती रहना.. अभी फूफाजी तुम्हारे ऊपर फ़िदा हैं.. एक बार तू फूफाजी को खुश कर दे.. तेरी शादी बाद तुझे मुम्बई में किसी मकान में शिफ्ट कर लेंगे..

इस तरह से मनु ने एक हफ्ते में किसी तरह से रुबिका को राजी कर लिया था..

रुबिका को मनाने के मनु ने मुझे फोन किया और खुशखबरी सुनाई..

उस दिन रुबिका और मैं दोनों ही होटल की और निकल पड़े, आज विमल और मनु को मैंने साथ नहीं लिया था..

हम दोनों एक फाइव स्टार होटल में चले गए.. उधर जाकर बियर पीने लगे..

कुछ देर के बाद मैंने रुबिका की जांघ पर हाथ रख दिया.. हम बार में कोने में बैठे थे, वहां रोशनी बहुत कम मात्रा में आ रही थी..
रुबिका की जांघ पर हाथ रखने से रुबिका ने एतराज नहीं किया.. इस दरम्यान बियर खत्म हो चुकी थी.. हम नई बियर मंगवा कर पीने लगे..

जब मैंने देखा कि रुबिका पूर्ण रूप से होश में नहीं रह गई है, तो मैं उठ कर काउन्टर पर गया और उधर एक कमरा बुक करवा आया..

मैं कमरे को देख कर कमरे की चाबी भी ले आया..

जब मैं वापिस बार में पहुंचा, तब तक रुबिका की जुबान लड़खड़ा रही थी.. मैंने रुबिका की कमर में हाथ डाला और रेस्टोरेन्ट में पहुंच कुछ खाया.. खाने के बाद मैंने रुबिका को निम्बू पानी पिलाया.. अब रुबिका की जुबान लड़खड़ा नहीं रही थी.. रुबिका के साथ बिल अदा करके हम तीनों होटल के उसी कमरे में पहुंच गए..

कमरे में पहुंचते ही मैंने अन्दर का दरवाजा बन्द कर लिया और रुबिका को लेकर बिस्तर में घुस गया.. उसके होंठों से होंठों को मिला कर मैं उस गर्म माल का चुम्बन लेने लगा..

कुछ ही देर में रुबिका भी काफी गर्म हो चुकी थी.. मैंने रुबिका के सारे कपड़े खोल कर उसको नंगी कर दिया..

कुंवारी रुबिका का मस्त जिस्म मेरे सामने खुला पड़ा था.. मैंने एक बार नजर भर कर उसकी जवानी को देखा और अगले ही पल उसी कमसिन बुर में जीभ डाल कर चुत चूसने लगा..

रुबिका को पहले से ही मस्ती चढ़ी हुई थी..
अब वो थोड़ा डरने लगी, मगर मैंने अपने सारे कपड़े उतारे और रुबिका के पैरों से चुंबन लेते लेते ऊपर तक पहुंच गया..

इस समय मेरा लंड उसकी नई चुत पर टकरा रहा था.. कुछ देर लंड को उसकी बुर पर ऊपर से नीचे तक फिराने लगा..

रुबिका की हालत जल बिन मछली की तरह हो गयी थी.. वो लंड अन्दर लेने के लिए मचल रही थी..
मैं उचित मौका देख कर लंड को उसकी बुर में धीरे धीरे पेलने लगा.. जब तक मेरा एक चौथाई लंड नई चुत के अन्दर पहुंचा, तब तक तो रुबिका ने आसानी से लंड सहन कर लिया..

फिर अचानक से रुबिका अपनी गांड को उठा कर ऊपर नीचे होने लगी.. मुझे मौका अच्छा दिखा.. मैंने उसके होंठों को होंठों से कस कर पकड़ कर लंड को जोर से धक्का दे दिया.. एक बार में ही लंड आधे से ज्यादा चुत चीरता हुआ घुस गया..

रुबिका की चीख निकल गयी.. वो छूटने के लिए मचलने लगी.. मगर में बलिष्ठ भुजाओं की कैद से वो नाजनीन अलग हो ही न सकी..

मैंने रुबिका की नई चुत का उद्घाटन कर दिया था.. मैंने एक पल के लिए बिस्तर की सफ़ेद चादर पर देखा … तो चुत फटने से उसका खून बिखरा हुआ था..

मैं कुछ देर रुक गया और रुबिका को विश्राम करने दिया.. जब रुबिका को दर्द होना कम हुआ, तो मैं फिर से धीरे धीरे लंड नई चुत में पेलने लगा..

कुछ ही देर बाद चुदाई अपनी मस्ती में होना शुरू हो गई.. रुबिका भी लंड को झेल चुकी थी और वो भी चुत चुदाई का मजा ले रही थी..

आधा घटा तक मैंने रुबिका को लगातार पेला.. फिर हम दोनों एक साथ स्खलित हो गए.. रुबिका ने स्वर्ग जैसा सुख पहली बार महसूस किया था.. इस कारण उसने मुझे अपनी बांहों में कस कर जकड़ लिया था.. वो अपने दोनों पैरों को मेरे पैरों से लपेट कर लेट गयी.. कुछ देर बाद आवेग समाप्त हो गया था..

रुबिका ने बहुत बढ़िया चुंबन मेरे होंठों पर दिए … फिर वो बताने लगी कि किस तरह मनु ने उसे राजी किया थ..

मुझे रुबिका को फिर से चोदने का हुआ तो मैं फिर से उसकी चुदाई में मग्न हो गया.. उस रात में मैंने रुबिका की चार बार चुदाई की सुबह हम दोनों ने बाथरूम में जाकर स्नान किया..

घर वापिस आकर रुबिका बोली- फूफाजी, जिस तरह आप मनु को रख रहे हैं … मेरी शादी के बाद आपको मुझे भी मुम्बई में रखना होगा..
मैंने वादा कर लिया..

सुबह के इस वक्त पांच बज रहे थे.. टैक्सी में बैठ कर मैंने रुबिका को बताया कि मेरी तुम्हारे साथ हनीमून मनाने की इच्छा है..
रुबिका बोली- मेरी भी है … आप प्रोग्राम बनाओ … किसी हिल स्टेशन चलते हैं..

तभी टैक्सी घर पहुंच गयी.. मैंने मनु को फोन पर रिंग दी और मनु ने दरवाजा खोल कर हम दोनों को अन्दर ले लिया, साथ ही वो मुस्करा पड़ी..

चाय के साथ हम तीनों कमरे में बैठ किसी हिल स्टेशन का प्रोग्राम बनाने लगे.. इसी दरम्यान सुबह के सात बज चुके थे..

तभी मेरे मोबाईल पर फोन आया..
मनु बोली- फूफाजी, मौसी का फोन है.. आप ही उनसे बात करो..
मैंने फोन लिया, तो वीणा मौसी ने पहले तो अपने मुँह से मुझे ढेर सारी गालियां निकालीं..

उसके बाद साली गिड़गिड़ाने लगी.. मौसी बोली- अब मैं तुम्हारे बिना नहीं रह सकती..
मैंने एक दो दिन में ही उसे मुम्बई बुलाने का आश्वासन दे कर फोन बन्द कर दिया.. इसके आगे की चुदाई की कहानी में मौसी, रुबिका और मनु को मैं एक हिल स्टेशन ले गया.. आप सभी को वो सेक्स कहानी जल्द ही पढ़ने को मिलेगी..

 भांग के नशे में साली की चूत फाड़ी

 

जीजू ने खेल खेल में तोड़ी सील- 2

जीजा साली सेक्स की कहानी में पढ़ें कि होली के दिन जीजू ने मुझे भांग पिला दी. फिर जीजू ने मेरी कुंवारी चूत की चुदाई करके उसकी प्यास कैसे शांत की?

 

हैलो फ्रेंड्स, मैं कीर्ति कुमारी अपनी कुंवारी चूत की चुदाई की स्टोरी आपको बता रही थी. इस जीजा साली सेक्स की कहानी के पहले भाग

बड़ी बहन की लाइव चुदाई देखी

में मैंने आपको बताया था कि कैसे रात को मैंने अपने जीजू को अपनी बड़ी बहन की चुदाई करते हुए देखा.

 

दीदी की चूत चोदने के साथ ही जीजू ने उसकी गांड भी चोदी. मैंने पहली बार दीदी की गांड चुदाई लाइव देखी थी. उसके बाद वो दोनों सो गये और फिर होली के दिन जीजू ने मुझे भांग पिला दी.

 

मुझे नशा हो गया और जीजू मुझे मेरे रूम में ले आये. जीजू ने मुझे बेड पर सुला दिया और खुद भी मेरे पास आकर लेट गये. फिर मेरी ओर देखने लगे.

 

अब आगे जीजा साली सेक्स की कहानी:

 

वो बोले- क्या हुआ अंजलि?

मैंने कहा- कुछ नहीं जीजू, सिर घूम रहा है बहुत तेज!

जीजू- कोई बात नहीं, भांग का असर दिमाग में चढ़ गया है, थोड़ी देर में सब ठीक हो जायेगा.

 

मेरी आँखें बंद होने लगीं और मैंने जीजू की गोद में सिर रख लिया और सोने लगी. मुझे अच्छा लगने लगा. जीजू की गोद में सिर रखने से मजा आ रहा था. फिर मैं जीजू से बातें करने लगी.

 

मुझे नशा हो गया था और मैं बड़बड़ाने लगी.

मैं बोली- जीजू, मैं आपसे बहुत नाराज हूं.

जीजू- क्यों, मैंने क्या कर दिया ऐसा?

मैं बोली- कल रात को मैं अकेली सोती रही और आप दीदी के साथ सोते रहे.

 jija sali ki chudai ki kahani

वो बोले- तो मैं तुम्हारी दीदी के साथ नहीं सोऊंगा तो फिर और किसके साथ सोऊंगा? मेरी बीवी है वो!

मैं बोली- तो क्या आपके साथ सोने के लिए आपकी बीवी बनना जरूरी है?

 

इस बात पर जीजू हंस दिये और बोले- हां, पति के साथ सोने का अधिकार पत्नी को ही होता है.

मैं बोली- और जो आप दीदी के साथ कर रहे थे वो भी क्या सिर्फ पति ही करता है?

 

वो बोले- तुमने देख लिया क्या?

मैंने कहा- हां, मैं देख रही थी.

वो बोले- वो एक गेम है, तुम उसके लिए अभी छोटी हो.

मैं बोली- नहीं, मुझे भी वो गेम खेलना है आपके साथ.

 

जीजू बोले- ठीक है, जब तुम्हारी शादी हो जायेगी तो तुम्हारा पति वो गेम तुम्हारे साथ खेलेगा.

अब मैंने देखा कि जीजू का लंड खड़ा होने लगा था. मगर वो मेरी चुदाई की बात नहीं कर रहे थे.

 

उसके बाद वो उठे और अपने रूम में चले गये.

 

मेरी चूत में जीजू के लंड से चुदने की आग लगी थी. इससे मेरा नशा भी ढीला पड़ गया था. इसलिए मैं भी पीछे पीछे चली गयी. उनके रूम का दरवाजा अंदर से बंद था.

 

मैंने खिड़की से देखा तो दीदी बेड पर नंगी पड़ी हुई थी. वो नशे में कुछ बड़बड़ा रही थी और जीजू मेरी नंगी दीदी के ऊपर चढ़ हुए थे. उनकी चूत में गचागच लंड को धकेलते हुए चोद रहे थे.

 

फिर मैं अपने रूम में वापस आ गयी. मैंने चूत को सहलाया और फिर मुझे उंगली करते करते नींद आ गयी.

 जीजा साली सेक्स की कहानी

दोपहर बाद करीब 3 बजे मेरी आंख खुली.

फिर हमने खाना खाया.

 

उसके बाद दीदी और मैं दोनों शॉपिंग करने गये. उसके बाद दीदी किसी लड़के से मिलने चली गयी और एक घंटे में लौटीं.

मुझे पता था कि वो चुदकर आई हैं. उसके बाद फिर हम घर आ गये.

 

हमने रात का खाना खाया और फिर सोने लगे.

 

मैं अपने रूम में थी. रात के करीब 12 बजे एकदम से किसी आहट से मेरी नींद खुल गयी.

 

मैंने देखा तो जीजू मेरे पास लेटे हुए मुझे देख रहे थे.

 

इससे पहले मैं कुछ बोलती वो बोले- देखो मैं तुम्हारे लिये गिफ्ट लाया हूं.

मैंने देखा तो उनके हाथ में चॉकलेट का डिब्बा था.

मैं चॉकलेट उठाने लगी तो वो बोले- ऐसे नहीं मिलेगी. तुम्हें एक गेम खेलना होगा.

 

मैं बोली- कैसा गेम? वही जो आपने दीदी के साथ खेला था?

वो बोले- नहीं, ये उससे थोड़ा अलग है. मैं तुम्हें नियम बता देता हूं.

 

नियम-1:- गेम के बारे में अपने दोनों के अलावा किसी को नहीं पता चलना चाहिए।

नियम-2:- ये पूरा चॉकलेट का डिब्बा खत्म करना है।

नियम-3:- एक चॉकलेट तुम खाओगी फिर एक मैं। चॉकलेट कैसे भी खा सकते हैं। कोई विरोध नहीं होगा।

नियम-4:- गेम बीच में नहीं रुकेगा।

नियम-5:- जो अंतिम चॉकलेट खायेगा वो विजेता रहेगा।

 

मैं मान गयी। फिर गेम शुरू करने के लिए जीजू ने मुझे पहली चॉकलेट खिलायी। फिर जीजू का नंबर आया तो जीजू ने अपनी चॉकलेट भी मुझे खिलायी जो मैं खा गयी।

 

फिर जीजू ने मेरे होंठों को अपने होंठों के पास लिया और मेरे होंठों को चूसने लगे। 5 मिनट तक वो मेरे होंठों को चूसते रहे।

 

मैंने जीजू से कहा- आपने मेरे होंठों को क्यों चूसा?

जीजू- मैंने अपने नंबर की चॉकलेट खायी है जो तुम्हारे होंठों पर लगी थी।

 

मुझे लिप किस में बहुत मजा आया क्योंकि मैंने पहली बार किया था तो मैंने अपनी चॉकलेट जीजू को खिलायी और उनके होंठों को चूसने लगी। हम दोनों एक दूसरे के होंठों को चूसते रहे।

 

हम दोनों गर्म हो गये थे. गेम का तो एक बहाना था. हम दोनों ही चुदाई करना चाह रहे थे.

 

फिर जीजू ने अपनी जीन्स और टीशर्ट उतार दी। मुझे भी जीन्स और टॉप उतारने के लिए बोला।

मैंने जीजू के कहने पर जीन्स और टॉप उतार दी।

 

अब हम दोनों अंडर गारमेंट्स में थे। जीजू ने 2 चॉकलेट मेरे हाथों पर और 2 चॉकलेट मेरी जांघों पर लगायी और मुझे बेड पर लिटा दिया।

 

जीजू ने मेरे हाथों और जांघों को चूसना शुरू कर दिया।

 

धीरे धीरे जीजू का लंड भी उफान मारने लगा था। जीजू ने मेरे हाथों से चॉकलेट चाटते हुए मेरी ब्रा उतार दी। फिर वो मेरी जांघों से चॉकलेट चूसने लगे।

 

वो खुद पर नियंत्रण नहीं कर पा रहे थे और जोश में मेरी पैंटी फाड़ दी।

मैं बिल्कुल नंगी हो गयी थी। मेरी चूत पर बाल नहीं थे इसलिए मेरी चूत बिल्कुल साफ थी।

 

जीजू मेरी चूत पर चॉकलेट लगाने वाले थे लेकिन मैंने उनको अपना नम्बर बताकर रोक दिया।

 

जीजू का अंडरवियर मैंने उतरवा दिया. उनका लंड पूरा तना हुआ था.

मैंने पूछा- जीजू ये क्या है?

जीजू- ये आइसक्रीम है।

 

तो मैंने अपने हिस्से की 4 चॉकलेट जीजू के लंड पर लगा दीं और जीजू के लंड को चूसने लगी।

मैंने लगभग 10 मिनट तक जीजू का लंड चूसा।

 

जीजू का लंड एकदम से फटने को हो गया था. वो पूरा मेरी लार में गीला था.

 

उसके बाद जीजू ने 4 चॉकलेट उठा ली और मेरे बूब्स पर रगड़ने लगे. फिर 4 चॉकलेट उठा कर मेरी चूत पर रगड़ने लगे. 1 चॉकलेट जीजू ने मेरी चूत में अंदर डाल दी।

 

फिर जीजू ने मुझे बैड पर लिटा दिया और मेरे ऊपर आ गए। उन्होंने मेरे होंठों को बहुत देर तक चूसा.

मैं भी जीजू के प्यार में खो गयी.

 

फिर वो मेरे बूब्स को मुंह में भर कर चूसने लगे।

मेरे मुंह से सिसकारियां निकलने लगीं. ओह्ह जीजू आह्ह उम्म ओह्ह …’ करते हुए मैं जीजू के सिर को अपने बूब्स में दबाने लगी.

 

जीजू भी जोर से सिसकारते हुए कामुक बातें कर रहे थे- ओह्ह मेरी अंजू क्या मम्मे हैं तेरे ऐसा लगता है कि ऐसे ही इनको हाथों से या होंठों से मसलता रहूं।

 

मुझे बहुत मजा आ रहा था।

 

जीजू ने बारी बारी मेरे बूब्स चूसे। मैं मदहोश होकर बेड पर पड़ी थी।

 

जीजू मेरे पेट को साफ करते करते मेरी चूत तक आ पहुँचे।

वो मेरी चूत को चूसने लगे. जो चॉकलेट मेरी चूत में थी जीजू उसको खाने लगे.

 

मैं तो पागल हो गयी. फिर वो बेड से उठे और मेरी टांगों को पकड़ कर अपनी तरफ खींचा।

 

फिर वो अपना लंड मेरी चूत के होंठों के बीच रगड़ने लगे।

 

मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था.

मैंने कहा- आह्ह जीजू बस अब डाल दो अपना लंड मेरी चूत में मेरी चूत को चोद दो जीजू मैं याशिका दीदी की तरह आपसे चुदना चाहती हूं.

 

जीजू ने हल्का सा धक्का मारा।

मेरे मुंह से हल्की सी चीख निकल पड़ी। मैं उम्म्ह अहह हय याह करके चिल्लाई।

 

लेकिन जीजू का लंड मेरी टाइट चूत पर से फिसल गया।

फिर जीजू ने मेरी चूत और अपने लंड पर नारियल का तेल लगाया और फिर से हल्का सा धक्का मारा।

 

जीजू का थोड़ा सा लंड मेरी कुँवारी चूत में समा गया।

मेरे मुंह से जोर की चीख निकली- आह्ह जीजू धीरेएए सेएए आह्ह मर गयी मम्मी आह्ह मेरी चूत फट गयी धीरे जीजू प्लीज।

 

जीजू ने थोड़ा रुक कर एक और झटका मारा और उनका आधा लंड मेरी चूत में समा गया।

मेरी चूत से खून की धारा बहने लगी।

 

मैंने जीजू को लंड बाहर निकालने को बोला. जीजू ने ये कह कर निकालने से मना कर दिया कि गेम को बीच मे नहीं रोक सकते.

 

ऐसा कहते कहते जीजू ने जोर का एक और झटका मारा। उनका पूरा लंड मेरी चूत में समा गया।

मैं दर्द के मारे पैरों को पटक रही थी। मगर जीजू मेरे ऊपर पड़े पड़े मेरे बूब्स दबा रहे थे और होंठों को चूस रहे थे।

 

5-7 मिनट बाद मेरा दर्द कम हुआ तो जीजू ने लंड थोड़ा बाहर निकाल कर अंदर डाला।

मुझे थोड़ा दर्द हुआ लेकिन मेरे मुँह से उम्म्ह अहह हय याह जैसे सीत्कार भी निकल गये.

मैंने अपने पैरों से उनकी कमर को जकड़ लिया।

 

जीजू भी सिसकारे- आहह्ह ओह्ह …. कितनी टाइट है तेरी चूत अंजलि देख मेरा लंड कैसे मचल रहा है तेरी चूत में ओहह तेरी चूत में लंड देकर मजा आ गया मेरी जान तेरी दीदी से भी मस्त चुदाई करूंगा तेरी आज आह्ह मेरी रानी!

 

फिर जीजू मेरी चूत को चोदने लगे और स्पीड बढ़ा दी.

दो मिनट के अंदर ही मैं झड़ गयी और बेसुध सी हो गयी.

 

वो मेरी गीली चूत को और तेजी से चोदने लगे. अब मेरी चूत से फच फच की आवाज हो रही थी.

 

पांच मिनट के बाद जीजू ने मेरी कमर को कस कर पकड़ लिया और पूरी ताकत से धक्के लगाने लगे.

शायद वो झड़ने वाले थे अब!

 

उसके कुछ ही पल बाद उन्होंने जोर का धक्का मारा और पूरा लंड अंदर ठूंस दिया.

 

उनका लंड उसी वक्त मेरी चूत में अपना रस उगलने लगा.

एक बार और मेरी चूत से झरना बह निकला और दोनों के वीर्य की बारिश होने लगी.

मजा आ गया.

 

फिर उसके दो पल बाद जीजू ने अपना पूरा लंड बाहर निकालकर फिर से एक जोर का धक्का दे दिया।

मैं इसके लिए बिल्कुल तैयार नहीं थी, उनके धक्के से मैं दर्द से चिल्लाई।

 

उस धक्के से उनके लंड के अंदर बचा सारा पानी मेरी चूत में निकल आया.

 

थोड़ी देर बाद उन्होंने अपना लंड बाहर निकाला और मेरी चूत में जमा हुआ हम दोनों का पानी मेरी जाँघों से बहते हुए जमीन पर गिरने लगा।

फिर हम दोनों बाथरूम गए और एक दूसरे को साफ़ किया. फिर बेडरूम में जाकर एक दूसरे की बांहों में लेट गये और कब सो गए हमें पता भी नहीं चला।

 

सुबह मैं अचानक जागी तो मैंने देखा जीजू फिर से मेरी चूत को चूस रहे थे।

मैं सोने का नाटक करती रही।

 

थोड़ी देर चूसने के बाद जीजू ने अपना लंड मेरी चूत में डाल दिया और मेरी चूत के साथ खेलने लगे।

 

मैं उनके धक्कों को सहन नहीं कर पायी क्योंकि इस खेल में नई खिलाड़ी थी इसलिए मैं जाग गयी। फिर मैंने जीजा साली सेक्स में जीजू का साथ देना शुरू कर दिया। मैंने अपने दोनों पैरों को जीजू पर लपेट लिया। जीजू मुझे पेले जा रहे थे।

 

लगभग 10 मिनट बाद जीजू झड़ने के करीब आ गए।

जीजू मुझसे पूछने लगे- क्रीम को कहां लोगी?

जवाब में मैंने मुँह खोल दिया।

 

जीजू ने अपना लंड मेरी चूत से निकाल कर मुँह में डाल दिया और मेरे मुँह को अपने लंड से चोदने लगे।

 

जब वो अंदर डालते तो उनका लंड मेरे गले तक चला जाता।

लगभग 5 मिनट तक मुँह को चोदने के बाद मुझे कुछ नमकीन सा स्वाद आया।

जीजू का माल मेरे मुंह में जा रहा था.

 

मैं जीजू का सारा रस पी गयी।

मजा आ गया उनका रस पीकर.

 

मैंने जीजू को बोला- आखिरी चॉकलेट मैंने खायी है इसलिए मैं इस खेल की विजेता हूं।

जीजू ने कहा- तो बताओ क्या चाहिये?

 

चूचे मसलते हुए मैंने मुस्करा कर कहा- स्कूटी।

जीजू भी हँस कर बोल पड़े- ठीक है। अगली बार मैं तुम्हारी ही स्कूटी से तुम्हें होटल में ले जाकर चोदने जाऊंगा.

 

फिर जीजू और मैं बाथरूम में फ्रेश होने चले गए।

 

जीजू ने कपड़े पहने और दीदी के जागने के पहले अपने रूम में चले गए।

 

कुछ ही दिनों बाद जीजू ने मुझे वादे के मुताबिक एक नयी स्कूटी लाकर दी.

 

मैं बहुत खुश हो गयी. मेरी चूत को एक दमदार लंड भी मिल गया था और साथ में एक नयी स्कूटी भी.

 

उसके बाद जीजू ने कई बार मेरी चूत मारी है.

 

मेरी दीदी को हम जीजा साली सेक्स के बारे में नहीं पता है.

दीदी भी अपनी चूत को अलग अलग लौड़ों से चुदवाती है इसलिए मैंने भी दीदी को नहीं बताया कि मैं भी जीजू का लंड ले चुकी हूं.

 

इस तरह मैंने अपनी कुंवारी चूत को जीजू के हवाले कर दिया था.

 

Author Name

Adult Stories

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.